बीएफ वीडियो खुल्लम खुल्ला

छवि स्रोत,सेक्सी चुदाई जबरदस्ती वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

work सेक्सी वीडियो: बीएफ वीडियो खुल्लम खुल्ला, तभी वो पीछे को घूम गई और अपने चूतड़ कैम के सामने कर दिए, अपनी दो उंगलियाँ पीछे से पेंटी में फंसाई और 2-3 इंच पेंटी नीचे सरकाई लेकिन तभी वो घूम कर सीधी हो गई…वो मुझे तड़पा रही थी.

राजस्थानी रोमांटिक सेक्सी

बस फिर क्या था, मैंने अपने घुटनों को थोड़ा सही किया और वंदु की दोनों जाँघों को सहलाते हुए उसकी टांगों को उठा कर अपने कंधों पे रख लिया और फिर शुरू हुआ मेरे लंड का प्रलयंकारी प्रहार!‘आऽऽह्ह… आह्ह ह्ह… उम्म्म… ओह्ह्ह्ह… स्स्स्स्मीर…’ वंदु की तेज़ चलती सांसें और सिसकारियों का दौर शुरू हुआ. गोवा सेक्सी शॉटफाइनली उसकी चूत से लंड निकाल लिया और बाहर झड़ गया। मैं उसकी गर्दन पर चूम रहा था, साथ ही अपनी चौड़ी छाती को उसके मम्मों पर रगड़ता हुआ ऊपर-नीचे हो रहा था.

यह तू मुझे क्या करने को बोल रही है?और मैं गुस्से से दूसरे रूम में चली गई. मधु शर्मा का भोजपुरी सेक्सी’‘हा हा हा, रमा ये असली मर्द का लंड है… पर आज तुम्हें देख ये कुछ अधिक ही तन गया है अब मुझसे और सब्र नहीं होता अब तुम्हारा चोदन करना ही होगा… तुम तैयार हो न?’‘जी गुरूजी आप जो करेंगे, वही ईश्वर की कृपा होगी.

थोड़ी देर बाद मैंने उसे बुलाया, कहा – आ जा xxx मूवी देखते हैं!वो आ गई और हम भी बहन xxx मूवी देखने लगे.बीएफ वीडियो खुल्लम खुल्ला: वाकयी जैसी शिवानी सेक्सी है वैसी ही इसकी मॉम भी ग़ज़ब की सेक्सी है। जो भी इन दोनों को देख लेगा.

लेकिन एक लड़की जरूर पसंद आ गई थी, जिसके घर हम कल गए थे और मैंने तुमसे उसका जिक्र भी किया था।लकी ने मुझे बताया- उसका नाम अनु है और उसने मुझसे तुम्हारा नंबर लिया है।यह जान कर मेरे तो होश ही उड़ गए।दोपहर को मुझे एक मिस कॉल आया तो मैंने पलट कर कॉल किया, सामने से एक लड़की बोली- कौन?मैंने कहा- जितेंन्द्र.यह बात पंकज ने सिर्फ भाभी को मज़ाक में कही थी, तो सुनीता भी कौन सा कम थी, वो बोली- तो देवर जी, सिर्फ बांहों में ही लेते हैं न, इसके आगे तो नहीं कुछ होता, अगर इसके आगे कुछ हुआ तो बता देना!वो हंसने लगी.

हरियाणवी status - बीएफ वीडियो खुल्लम खुल्ला

फिर मैंने उसे अपने नीचे लेटाया और धीरे से अपना लंड उसकी चूत में डाला.बैठ कर बातें करते हैं।मैंने एक छोटी से टी-स्टाल पर बाइक रोकी और हम चाय पीते-पीते बातें करने लगे।फिर भाभी ने मुझसे कहा- दीप सच में तुम बहुत क्यूट हो.

रात को वो मेरे साथ ही सोती थी, मैं सोई नहीं और इंतजार करने लगी कि वो कब बात करेगी. बीएफ वीडियो खुल्लम खुल्ला फिर भूमि को चरम प्राप्त हो गया और उसका चूतरस निकलने लगा जिसे मैंने चाट कर देखा और बाकी दोस्तों को भी चटवाया।अब हम पांचों बिस्तर पर नंगे लेट गए, कोई भूमि की चूत पर हाथ रख कर कोई बूब्स पर, कोई गांड में.

उस वक्त वो पढ़ती थी।मैंने उसका नाम पता वगैरह कहीं से हासिल किया। पर उसके पास मोबाइल नहीं था.

बीएफ वीडियो खुल्लम खुल्ला?

मैं जहाँ रहता हूँ उसी कॉलोनी में मेरे पिताजी के पुराने मित्र रहते हैं, उनके 3 बेटे और एक बेटी है. ’मैंने बोला- अभी तो काम चालू हुआ है मेरी जान।मैंने लंड के झटके मारने की स्पीड तेज कर दी और उनको किस भी करने लगा।दो मिनट बाद मैं झड़ने को हुआ और मैंने कंडोम में ही अपना रस निकाल दिया। बहुत अधिक रस निकला था, कंडोम पूरा भर गया था।मैंने कुछ देर अपना लंड भाभी की चुत में ही पड़ा रहने दिया। भाभी भी मुझे कसके पकड़ कर लेट गईं। कोई 5 मिनट बाद मैं चुत में ही लंड डाले पड़ा हुआ रहा था कि फिर से तैयार हो गया. यह देख सुमन को भी मस्ती आ गई और बोली- मैं तेरी शर्म कर रही हूँ और तू मेरे माल पर ही डोरे डाल रही है?और नेहा को हटा के खुद मेरा लंड चूसने लगी.

गुरुजी के लौड़े को देख उसे डर लग रहा था लेकिन उसके अंदर की प्यास उसके डर से कहीं ज्यादा थी. बहुत दिन हो गये थे मुझे भी सेक्स किए हुए तो मुझे भी अच्छा लगने लगा था, मैं भी उसकी जीभ को अपनी जीभ से छूने लगी, दोनों एक दूसरे के मुँह को चूसने लगे. काफ़ी दिनों तक उसकी चुदाई करने के बाद मुझे उसमें कुछ बदलाव होते दिखने लगे, उसकी चुची अब 36 की हो गई है और पिछाड़ी भी मोटी हो गयी है.

पर अब मेरा मन मूवी में लग नहीं रहा था, बड़ी मुश्किल से मैं मूवी देखने का नाटक कर रहा था, कभी कभी मेरा हाथ उसके हाथ से छू जाता पर मैं फ़ौरन अपना हाथ हटा लेता. फिर वह खड़ा हुआ और मेरे पीछे सट गया, उसका लिंग मुझे अपने चूतड़ों पर महसूस हो रहा था।वह अपने दोनों हाथ सामने लाकर मेरे पेट को सहलाते हुए ऊपर की ओर ले गया और मेरे उरोजों पर ले जाकर रोक दिए. मैं दर्द से तड़प गई पर आवाज़ बाहर ना जाए इसलिए मैंने उसका हाथ अपने मुँह पर रखवा लिया.

अपने हाथ को टॉप के अंदर डाल के उसके दायें स्तन को अपनी हथेली में भरा तो मानो लगा स्माईली बाल हाथ में आ गई हो, मुलायम और नाज़ुक।चूँकि हम अभी भी चुम्बन में लगे हुए थे पर मेरी उत्सुकता अब उसके गोर नंगे बदन को निहारने में थी, मैंने धीरे से उसके टॉप को ऊपर किया और मेरे सामने दुनिया की दो सबसे हसीन गेंदें थी, गुलाबी निप्पल मुझे अपनी ओर खींच रहे थे. फिर भी आप कहेंगे तो मैं पूरी चुदाई की कहानी भी लिखूंगा।ये मेरा अपनी चुदाई की कहानी लिखने का पहला अनुभव है.

फिर कुछ देर बाद उसने अपना पानी मेरी चुची पर निकाल दिया हमने साफ किया.

खैर थोड़ी कोशिश करने के बाद लंड उसकी चूत में जा चुका था।सुहाना अपनी आँखें बन्द करके हर पल का आनन्द लेने को तैयार थी। मैंने लंड उसकी चूत में डाला और उसके ऊपर झुककर उसके मम्मे को बारी बारी से चूसने लगा.

मानो जन्नत मिल गई हो।फिर मैंने उसका हाथ अपने मुँह से हटा दिया।मैं आँखें बंद करके मादक सीत्कार करे जा रही थी ‘अहह. तो मैं उन्हें कॉल करता।शुरूआत में मैं उनसे फोन पर पहले यह कहता कि प्रिया का फ़ोन नहीं लग रहा है. घर पर आकर आंटी के मम्मों को और उठी हुई गांड की तस्वीरें मेरे सामने बार-बार आ रही थीं। मैं पागल हुआ जा रहा था, एक दिन में दो खूबसूरत माल देखे थे, एक अंजलि और दूसरी नम्रता आंटी!रात को यही सब सोचते-सोचते सो गया, सुबह उठा और जल्दी फ्रेश होकर बैठ गया क्योंकि आज मुझे आंटी के साथ मार्केट जाना था।तभी बेल बजी और मैंने दरवाजा खोला.

मैं उसके सामने खड़ी होकर दोनों हाथों से लिंग हिला रही थी इसलिए स्पीड बहुत कम थी. मैं घर जा कर लेट कर कल वाली बात सोचने लगा और मेरा लंड एकदम से खड़ा हो गया मेरा लंड उफान मारने लगा. बहुत मजा आ रहा था। उसके आँखें बंद कर रखी थीं।मैंने कहा- अनु आँखें खोलो।लेकिन उसने आँखें नहीं खोलीं।मैंने कहा- अनु तुम्हें मेरी कसम है.

जो तू मेरी भतीजी को पेलने में लगा था।यह कहते हुए आंटी ने मेरे लंड को और तेज दबा दिया।मेरे मुँह से कराह निकल गई- आह्ह.

’दरअसल अब मुझे समझ आया था, मुदस्सर शुरू से ही गांड मारने का शौकीन था. पूछताछ करने पर पता चला कि नदी के ऊपर बना हुआ पुल पानी के बहाव से टूट गया था. ‘हाय राम, कितना मूसल लंड है!’ शेफाली के मुंह से ये निकल गया।‘दीदी आपको मेरा लंड अच्छा लगता है?’ राहुल ने मासूमियत से पूछा‘अच्छा नहीं बहुत अच्छा लगता है!’ शेफाली ने जवाब दिया।‘अच्छा ये बता राहुल दुद्दू पियेगा?’ शेफाली ने अपनी नाइटी उतार के अपने मम्मों को हिलाते हुआ पूछा.

वो शाम में 4 बजे तक आते हैं।मैं भाभी को सरप्राइज देना चाहता था। वैसे भी मैं भाभी के साथ सोने के लिए बहुत लालायित भी था. हग कर के मैंने उनके माथे पर चुम्बन किया और उनकी दोनों आँखों पर किस की, फिर चुप कराया. पहली बार ही लिख रहा हूँ, इससे पहले बस मैं आप सबकी स्टोरी पढ़ कर मुठ मारता रहता था, साथ ही मैं सोचता था कि मैं भी अपनी स्टोरी लिख डालूं।इसी प्रेरणा से आज मैं लिख पाया हूँ। मुझे कोई ग़लती हो जाए, तो माफ़ करना साथियो!मेरी हिंदी चुदाई स्टोरी मेरी चाची की चुदाई की है.

दोपहर का टाइम था तो मेरे दवाई लगाने का टाइम हो गया था। माँ ने दवाई बना के रखी थी, लेकिन उसको कहीं बाहर जाना था तो उसने प्रिया को दवाई लगाने कहा।मैंने माँ से कहा- माँ, मैं दीदी से दवाई नहीं लगवाऊँगा, मुझे शर्म आती है।इस बात पर माँ और प्रिया दीदी जोर जोर से हंसने लगी.

मैंने अपने लंड की रफ़्तार अब थोड़ी सी बढ़ा दी और झटकों का प्रहार भी तेज़ किया. मेरे पैरों तले ज़मीन खिसक गई, मैं लंड को पाजामे के अंदर करते हुए बाथरूम की तरफ भागा.

बीएफ वीडियो खुल्लम खुल्ला घर पर आकर आंटी के मम्मों को और उठी हुई गांड की तस्वीरें मेरे सामने बार-बार आ रही थीं। मैं पागल हुआ जा रहा था, एक दिन में दो खूबसूरत माल देखे थे, एक अंजलि और दूसरी नम्रता आंटी!रात को यही सब सोचते-सोचते सो गया, सुबह उठा और जल्दी फ्रेश होकर बैठ गया क्योंकि आज मुझे आंटी के साथ मार्केट जाना था।तभी बेल बजी और मैंने दरवाजा खोला. वहाँ से घर के अन्दर दो आदमी दिखे, मुझे समझ नहीं आया कि कौन लोग हैं।तभी मॉम की खनकती हुई हँसने की आवाज आई- प्लीज़ प्लीज़ अब ये नहीं करो.

बीएफ वीडियो खुल्लम खुल्ला थोड़ा और नीचे जाने पर उसका गीलापन मेरी उंगली में लग चुका था। मैंने अपनी एक उंगली उसकी चूत के अन्दर डालना चाही तो वो अन्दर नहीं गई क्योंकि सुहाना ने पैर सिकोड़ कर रखे थे. तो उसने कहा- वीर यार प्लीज मुझसे आगे से सेक्स मत करो, कहीं बच्चा वच्चा ना हो जाए।मैंने कहा- अरे पगली कंडोम यूज कर लेते हैं ना।वो कुछ नहीं बोली तो मैंने पहले से कंडोम कर रखा हुआ था, उसे निकाल लिया। अब उसके साथ फिर वही सीन शुरू हो गया। उसने शरीर से चादर लपेट लिया था। मैंने उससे अपना लंड चूसने के लिए कहा, लेकिन उसने मना कर दिया।मैंने कहा- चलो यार.

और मुझे बाहर तक छोड़ने आई। मैं अगले दिन आकर भाभी की चुदाई करने का वादा करके अपने घर चला गया।तो दोस्तो यह मेरी भाभी की चुदाई की सच्ची कहानी आपको कैसी लगी.

ससुर बहु का रोमांटिक सेक्सी वीडियो

जिससे मेरे चूतड़ उठे हुए साफ़ नज़र आ रहे थे और पेंटी लाइन भी साफ़ दिख रही थी।मेरी पेंटी पिंक कलर की थी।हम जैसे ही कमरे में घुसे. उसने थोड़ी ही देर बात की और फोन रख दिया। तब मैंने सोचा कि मौका अच्छा है, अपना जाल बिछाना चाहिए. और उठ कर जाने लगीं।मैं भी उनके पीछे खड़ा हुआ और सीधा उनको पकड़ लिया। इसी पकड़ा-धकड़ी में मेरे हाथ में उनकी एक चुची आ गई.

जब लंड बाहर निकाला तो उसने चूस कर और चाट कर मेरा लंड साफ किया और बोली- यह मेरी लाइफ का सबसे बेस्ट सेक्स था. ‘नहीं… और नहीं रुक सकता, सुम्मी… आह… मैं छूट रहा हूँ… ये ले मेरा बीज… आह!’भैया ने सारा माल भाभी की चूत में डाल दिया. उसका घर बहुत ही शानदार था, उसके बारे में मैं आपको पहले बता ही चुका हूँ लेकिन सबसे ज्यादा सेक्सी उसकी नशीली आँखें थी जो बेहद खूबसूरत थी.

और इतना कहते ही उसने अपना पानी छोड़ दिया, अब उसकी चूत और ज़्यादा चिकनी हो गयी जिससे मेरा लंड अब और स्पीड से अंदर बाहर होने लगा.

ऐसा लग रहा था जैसे आज दो साल बाद मेरी हर एक ख्वाइश पूरी हो रही हो।सुदीप ने बिना देर किए मेरी साड़ी निकाल दी. यह सुनकर दोनों हंस पड़ी, मामी की बहन शीतल बोली- अरे पगले, तू हमारे बच्चों की तरह है, ऐसी हालत में हम तुझे बाहर भजेंगी? हम तीनों इसी बिस्तर पर एडजस्ट करते हैं. मैंने उसकी शर्ट ऊपर की हुई थी और चुची चूस रहा था। वो बहुत गर्म हो रही थी.

क्या यह मुझसे सच में प्यार करता है, मैंने सच्चा प्यार खो दिया या पा लिया…यही सब सोच-सोच कर मेरा बुरा हाल था. एकदम गरम माहौल था।फिर उसने कहा- अब तो घर छोड़ आओ।मैंने कहा- पक्का जाना है?कहती- हाँ यार. ’फिर मैंने नोटिस किया कि दीदी अपनी चुत रगड़ रही थीं।मैं बोला- दीदी क्या कर रही हो.

उसने कहा- बस अब और मत तड़पाओ मुझे…मैंने अपना लंबा लंड उसकी चूत में घुसा दिया, वो चीख पड़ी- ऊओ माआ, फाड़ दी मेरी चूत…थोड़े दर्द के बाद वो भी साथ देने लगी… वो अपनी गांड हिला हिला कर मेरा साथ दे रही थी. आप पहली बार घर आए हैं, चाय पी कर जाइएगा।उस समय उनका बेटा बगल के घर में वीडियो गेम खेलने गया हुआ था। उस दिन वो लाल रंग की साड़ी में एकदम कयामत लग रही थीं।कुछ पलों बाद भाभी चाय लेकर आईं। मैं उनके मम्मों को घूर रहा था। जब चाय देने के लिए भाभी थोड़ा झुकीं.

अब मैं तेरा ही मजा लूँगा। जाकर बोल देना सबको मैं किसी से नहीं डरता।आंटी डर गईं और बोलीं- राहुल मत कर ऐसा प्लीज़. !मैंने कहा- किस खेल की बात कर रही हो भाभी?उन्होंने कहा- तुम मुझे कपड़े बदलते देख रहे थे. उसके चूमते ही सांप में हल्की सी हरकत हुई ‘उई माँ काटता है…’ रमा चिल्ला उठी.

सुनीता कुछ ही देर में चाय लेकर सुनील के पास आई और सामने टेबल पे चाय की ट्रे रख कर फिर बोली- ‘ओह, आपके तो कपड़े भी काफी भीग चुके हैं!सुनीता ने इसी बात का फायदा उठाते हुए उसे कहा कि अगर वो चाहे तो वाशरूम में जाकर उसके भाई की लोअर टी शर्ट पहन ले.

अब मोनिका सेफ थी… उसकी प्रेगनेंसी पर कोई शक नहीं था।हफ्ते में दो तीन रात अनिल के साथ जबरदस्त चोदन कर के अपनी चूत की खुजली मिटा लेती थी. उस दिन के बाद से हम दोनों परवीन पर नज़र रखने लगे तो पता चला कि परवीन घर वालों से छुपकर कालोनी के कई लड़कों से चुदवा रही थी. तो मैं आपके पास आ जाया करूँगी।‘और अगर मेरा मन करेगा तो?’इस पर शीनम बोली- जब दिल करे.

तो वो हंस पड़ा- लंड बोल इसको, बोल! क्या चूसती है तू?’‘लंड…’ मैं जैसे तैसे बोली, पर मुझे बहुत उत्तेजक लगा. तो उसने कहा- मैं तो निशा को कहूँगा नहीं… तुम खुद उसे पटा लो तो चोद सकते हो।फिर तो मैंने निशा को पटाने का काम चालू कर दिया क्योंकि मुझे मालूम था कि मैं उसके सामने कुछ भी करुँगा तो वो गुस्सा हो भी गई तो अपने पति को बतायेगी और पति उसका मुझे कुछ नहीं कहेगा।बात तो मेरी निशा से अच्छी होती ही थी, कभी कभी मजाक करते हुए उसके यहाँ वहाँ छू लो, तब भी कुछ नहीं कहती थी.

मैं उसके सामने खड़ी होकर दोनों हाथों से लिंग हिला रही थी इसलिए स्पीड बहुत कम थी. डराइंग रूम में फर्श पर गद्दे डाल कर सोने का कार्यक्रम बना हम तीनों का… देखने में चाहे वो कमाल थी पर तब तक उसको लेकर मन में कुछ भी गलत नहीं था. कुछ पल को रुक कर मैंने अपनी स्थिति को एडजेस्ट किया और कोमल को भी संभालने का मौका दिया.

देहात की सेक्सी मूवी

!मैंने कहा- किस खेल की बात कर रही हो भाभी?उन्होंने कहा- तुम मुझे कपड़े बदलते देख रहे थे.

उतार के देख लो ना।मैं आंटी के शब्द सुनकर एकदम सुट्ट हो गया थाफिर बोलीं- मसाज कैसे करोगे. उसकी जीभ ने मेरे मुख में दस्तक दी, मैंने स्वागत किया और उसकी जीभ को होंठों में दबा कर चूसने लगा… अपनी जीभ उसके मुँह में अपनी जीभ डाल दी और कोमल उसको दबा दबा के चूसने लगी. और इस बार भी जब वो कुछ नहीं बोलीं तो मैं समझ गया कि रास्ता क्लियर है। मुझे मेरा इंतज़ार खत्म होता दिखाई दे रहा था। उस समय मेरा कॉलेज बैग मेरे पास था तो मैंने बैग को आंटी और अपनी जाँघों पर रख लिया और बैग के नीचे से आंटी की जाँघों पर हाथ घुमाने लगा।अब पहली बार आंटी ने मुझसे पूछा- तू किधर रहता है?मैं बोला- दादर.

मैंने कहा- ऐसा कैसा भाई है यार?वो उदास हो उठी थी।मैंने उसके साथ बिस्तर पर लेट कर उसे गले लगा लिया।फिर वो बोली- मैं बहुत थक गई हूँ।मैंने कहा- यहीं सो जाओ।वो लेट गई. तो वैभव ने उसे पलंग पर पटक दिया और अपने दोनों हाथों से भूमिका के पैरों को उठा कर उसकी चड्डी को उतार दिया।उफ़. पंजाबी कुंवारी लड़की की सेक्सी वीडियोजोर से दबा दिया, झुक के चुम्बन किया, चूस लिया उसके मस्त भर भरे चूतड़ों को.

वही बता सकता है कि कितना अच्छा लगता है।इसी बीच वो जंगली हो उठी और तेज-तेज लंड चूसने लगी थी। मेरा लंड तो भरा बैठा ही था. भाभी ने मेरे बाल खीचें और बोली- साले… चूत चाटने को बोला था… मेरा पेट क्यों चूम रहा है?‘भाभी, प्लीज़… आप नहीं जानती हो कि आपके पेट और नाभि का मैं कितना दीवाना हूँ… दुनिया की सबसे खूबसूरत चीज़ है ये… आपका गुलाम बनके रहूँगा हमेशा, बस मुझे इसे प्यार करने दो!’भाभी ने मुझे अपने पेट और नाभि को खूब प्यार करने दिया.

मैं सब संभाल लूँगा।बोली- नहीं यार, फिर वो कहेगा कि अब इससे चुद रही है तू!मैंने कहा- तुम पहले ही कह देना कि मैं तुम्हारी टीम में हूँ. !’‘तुम्हें बहुत मजा आएगा।’वो अपना लंड मेरी गांड में धीरे-धीरे डालने लगा। जब मुझे दर्द हुआ तो थोड़ा रुका और फिर डाला।‘आह. सुमन अब हँस कर बोली- मैं तुझे छोटी समझती थी पर तू तो मुझसे भी आगे निकली!अब मैं नेहा की चुदाई करने में लग गया, मैं तेज़ी से धक्के लगा रहा था… नेहा मस्त हो रही थी.

मैंने वो उतार दी, उसकी बिना बालों वाली बुर मेरे सामने थी, उसमें से कुछ चिपचिपा सा निकल रहा था। तभी उसने मेरा मुंह अपनी बुर पर लगा दिया. ‘मैंने हाथ आगे किया, मेरे कांपते हुए हाथों ने उसका लिंग मुट्टी में पकड़ लिया और फिर मुट्टी टाइट कर ली. मैं एकदम पागल सी हो गई थी।मुझे इससे पहले अपने चूचे दबवाने में कभी मजा नहीं आया था।हालांकि मुझे ये कहने में कोई गुरेज नहीं है कि मेरी चूत की सील खुली हुई थी जिसको मेरे पहले ब्वॉयफ्रेंड ने खोली थी.

किसी लकड़ी की चीज़ के सरकाने की आवाज़ हुई और कुछ देर बाद गुरूजी ने रमा को अपने हाथ आगे करने को कहा.

वो हाजिर हो जाएगा।लेकिन उन्हें नहीं पता था कि मुझे क्या चाहिए। वो तो ये सब नॉर्मली कह रही थीं। उन्हें क्या पता था कि मेरे मन का शैतान क्या करना चाहता था। थोड़ी देर में भाभी को क्या-क्या सर्व करना पड़ेगा।थोड़ी देर में गर्मी बढ़ने लगी. ‘रुक मैं सिखाती हूँ कि कैसे पहनते हैं… नुन्नु को ऐसे पकड़ के कच्छे की टांग वाली तरफ कर देते हैं.

’‘फिर झूठ बोल रही है तू… तुझे ये भी पता नहीं होगा कि आज तेरे साथ क्या हो गया है. ‘बेटा, हमारी दिव्य आँख से कुछ छिपा नहीं रहता… जैसे हमें यह भी पता है कि यह नन्हा बालक जो तुम्हारी पत्नी की गोद में है, इसे तुमने गोद लिया है. मेरा हाथ अपने लंड से छूट गया लेकिन तब तक बहुत देर हो चुकी थी, मेरा मुठ मेरे लंड से बाहर निकल कर फर्श पर गिर रहा था.

आप भी मुझे वैसी ही बातें कीजिएगा।मैंने देखा कि भाभी भी आज मूड में हैं तो मैंने भी सोचा कि आज भाभी के साथ चुदाई करने का सही समय है।मैं भाभी से बोला- भाभी एक बात बोलूँ?भाभी बोलीं- हाँ, बोलिये ना देवर जी।मैंने कहा- भाभी आप मुझे बड़ी सुन्दर लगती हो. मैंने पूछा तो बोले- अभी और पीनी है!दोनों बाजार गये और लाक़र पीने लगे!जब दीपक आया तो ऐसा लगा कि अब यह घर जाने की हालत में नहीं है, मैंने अपने पति बोल कर उसे यहीं सोने को कह दिया!अब हम सोने लगे, तब दीपक ने दूसरे कमरे से आवाज़ दी कि उसे पानी चाहिये. मैंने पूछा तो उन्होंने मुझे चुप रहने का इशारा किया और मैं भी अंदर देखने लगा.

बीएफ वीडियो खुल्लम खुल्ला बात आज से एक साल पहले की है, एक दिन मुझे मेरे फेसबुक अकाउंट पर एक महिला की फ्रेंड रिक्वेस्ट आई, मैंने ऐड कर लिया. और आपका फोन नहीं मिल रहा है तो मेरा ले लीजिए।थोड़ा सोचने के बाद उसने मेरा फोन ले लिया.

रोमांटिक सेक्सी फिल्म दिखाओ

मैं पहले तुम्हारी गांड की गहराई को नापना चाहता हूँ।उसने बोला- प्लीज़. काफी लम्बी चुदाई के बाद हम दोनों थक गये थे लेकिन मैं झड़ नहीं रहा था. फिर उनकी जांघें खोल दीं। उनकी चुत बिल्कुल ऐसी थी, जैसे कभी चोदी ही नहीं गई हो।मैंने भाभी से पूछा- क्या आपने कभी सेक्स नहीं किया है?तो उन्होंने बोला- मेरी तो फर्स्ट नाइट भी नहीं हुई थी.

मैं बोलता- तुझे इन सब बातों से क्या काम है?तो वो शर्मा कर चली जाती. जैसा कि आपको मालूम होगा कि मुम्बई में ज्यादातर डोर ऑटो लॉक होते है इसी वजह से हम दोनों एक दूसरे की चाभी अपनी पास रखते हैं. सेक्सी वीडियो गैंगरेप’ करने लगी और मेरे लंड को जोर-जोर से दबाने लगी।मैं भी मस्त हो चला था.

उसकी हो ज़ा।लेकिन मैंने कहा- हमारे रिश्ते का अंजाम नहीं है।उसको भी पता है लेकिन कहती- कोशिश करके देखा जाए?मैंने कहा- जितना साथ लिखा है, उतना समय अच्छे से बिताएँगे। इस रिश्ते को लोग नहीं समझ सकते.

तुम रोहन के साथ काम कर लो और घर का भी ध्यान रखना।नेहा ने ‘ठीक है मम्मी. ‘रमा… रमा क्या हुआ? किन विचारों में खो गई?’ बाबा जी अपने शिथिल लेकिन भारी और बड़े लंड से रमा के चेहरे पर एक चपत मारते हुए पूछा.

मैंने उससे कंडोम निकालने को कहा, मेरी बहन ने कंडोम निकाला तो मैंने उससे लेकर अपने लंड पर कंडोम चढ़ा लिया. तो वह अपना लंड जरूर मसलता है।मैं बहुत दिनों में अपनी सच्ची घटना लिखना चाहती थी, यहाँ मेरा लिखा हुआ एक-एक शब्द सच है. मेरे क्लास की हर लड़की मुझपे मरती थी लेकिन मैं उनको ज्यादा भाव नहीं देता था!मैं अब MBBS की पढ़ाई कर रहा हूँ.

मैं उम्मीद करता हूँ कि आप लोगों पसंद आई होगी। मुझे आपकी राय जरूर ईमेल करें.

मैंने जब पूछा तो कहा- तुम्हारे पति को मैंने ज्यादा पिला दी, वो सो जाएं तो मेरे कमरे में आ जाना!मैं ‘ठीक है. एक लड़का है, वो घर में है।वो बोलीं- चलो दुल्हन वाले कमरे में चलते हैं।मैं बोला- मैं तो किसी को पहचानता नहीं हूँ, कोई पूछेगा तो?वो बोलीं- मैं बोल दूँगी कि तुम मेरे साथ हो।हम दोनों अन्दर गए. प्रिया बोली- शक्ति निकाल लो!‘बस हो गया!’ मैं भी उसको ढांढस बंधाते हुए बोला.

इंग्लिश हॉट सेक्सी ब्लू फिल्मसीढ़ियों पर चढ़ते समय भाभी और भी कयामत लग रही थी।हम ऊपर पहुंचे तो वहाँ भी एक हाल था उससे लगे हुए कुछ कमरे थे. तब नहा कर आई थी तो आप बहुत खूबसूरत लग रही थीं।उन्होंने बोला- मुझे ये सब बातें पसन्द नहीं है।यह कह कर आंटी ने फ़ोन काट दिया। इससे मुझे लगा कि अब वो प्रिया को न बता दें.

बर्दाश्त सेक्सी वीडियो

अब वो एक हाथ से चुची दबा रहा था, एक हाथ नीचे मेरी चुत पर रख कर उसको मसल रहा था और एक चुची मुँह से चूस रहा था. मैं भी बेशर्म होकर बोल पड़ा- मैं कुछ मदद करुं?वो बोला- आ जा फिर ज्वार के खेत में अंदर…उसके कहते ही मैं खेत में अंदर चला गया. उनकी 18 साल की एक लड़की और 12-13 साल का लड़का है। उनके पति किसी मार्केटिंग जॉब में हैं.

मैं जा रही हूँ।ये बोल कर वो जाने लगीं तो मैंने उनका हाथ पकड़ लिया और अपनी तरफ़ खींच लिया। वो सीधे मेरे गोद में बैठ गईं और बोलीं- सॉरी बाबा. और इसी वजह से मैं वापिस नॉर्मल हो गया।लेकिन इसके बाद अब जब भी कभी कोई आंटी दिख जाती हैं. एक और बात बता दूँ मेरे यारों मैं जल्दी गिरता नहीं हूँ। मुझे नेचुरली बहुत टाइम लगता है।मैंने उसको सीधा लेटा दिया और अपने लंड को उसकी चुत की फांकों में सहलाया। फिर उसका इशारा मिलते ही मैंने अपना लंड उसके चुत में गाड़ दिया।‘आआहह ह.

उम्मीद है आप सबको इस कहानी को पढ़ने के बाद उसका भी बेसब्री से इंतज़ार होगा, जल्दी ही उस आख़िरी पड़ाव को भी आपके सामने पेश करूँगा फिर किसी और दास्तान की तरफ़ बढ़ेंगे. वो आग की तरह गर्म थीं।मैंने आंटी का टॉप उतारा और हुक पर टांग दिया, फिर ब्रा उतारी। उनकी ब्लैक कलर की ब्रा थी और उनके निप्पल खड़े दिखने लगे।अब वो थोड़ा शरमाई. तुम मुझसे प्यार करती हो, मैं भी!वो इठला कर बोली- मिस्टर मैं अभी भी शादीशुदा हूँ.

मुझे अकेले डर लगता है।मैं- ठीक है भाभी।फिर हम दोनों यूं ही बात करते रहे और कुछ देर बीतने के बाद सोने की तैयारी करने लगे।भाभी ने बोला- तुम दूसरे कमरे में सो जाना।जब उन्होंने कहा कि तुम दूसरे रूम में सोना. मुझे कह देना, मैं आ जाऊँगा या जब मेरे घर कोई नहीं होगा तब मैं तुम्हें बुला लूँगा।इस तरह हम दोनों ही ऐसे मौके का वेट करने लगे। इस बीच हम दोनों की सेक्स को लेकर खूब चैट चलने लगी थी।फिर वो दिन भी आ ही गया। मेरी कज़िन के घर वालों को किसी की शादी में 2 दिन के लिए एक नजदीक के गाँव जाना था। सोनिया ने जाने से मना कर दिया था.

’दरअसल अब मुझे समझ आया था, मुदस्सर शुरू से ही गांड मारने का शौकीन था.

कि टेढ़ा है पर मेरा है।ये बात कुछ महीने पहले की है जब मैं इंजीनियरिंग का बैक पेपर देने ट्रेन में जा रहा था। उसी समय मेरे पास वाली सीट में मुझे एक लड़की अकेली दिखी, पर मैंने उससे कोई बात नहीं की और मैं सो गया।जब मैं सो कर वापस उठा और बाथरूम गया तो आर्मी वाला मेरी सीट पर आकर बैठ गया। जब मैंने उससे हटने को कहा तो उसने मना कर दिया और मैं उस लड़की की सीट पर जाकर बैठ गया।ऊप्स माफ़ करना मित्रों. बाप बेटी की सेक्सी वीडियो दिखाइएटेक कर रहा था तो हममें काफी कुछ कॉमन था।उसने अपने कॉलेज के बारे में बताया जो मेरे कॉलेज के पास था। अब तो मैं बस प्लानिंग कर रहा था कैसे इसे समझ लें. वीडियो सेक्सी वीडियो भोजपुरी मेंउसने मुझे धीरे से धक्का दे कर लिटा दिया और मेर ऊपर आकर लेट गई… दो निवस्त्र जिस्म आपस में मिल गए थे. मौसी ने कहा- तू तो बहुत बड़ा खिलाड़ी है… मौसी को एक बार में ही ठण्डी कर दिया.

लेकिन उसके पास पैसे कम हो गए तो वो एक टॉप नहीं ले पा रही थी।मैंने वो टॉप उसको दिला दिया वो बहुत खुश हो गई और फिर हम दोनों ने खूब बातें की और मस्ती की।आज उसने अपना नंबर दे दिया और मेरा नंबर ले लिया था।मैंने घर जाकर उसको कॉल किया तो उसने बोला- मैं भी आपको ही कॉल करने वाली थी।फिर हम दोनों ने काफी देर तक बात की। अब मुझे कहीं न कहीं उससे लव सा हो गया था।एक दिन मैंने उसे ‘आई लव यू.

’मैं उन दोनों की चुदाई देख रहा था, मेरा दिल हो रहा था कि मैं अन्दर घुस जाऊं. फेर मैं ओन्नूँ वाशरूम च लै गया ते ओन्ने अपना मुँह धोया ते फुद्दी साफ़ कित्ती!वापस आके मैं फेर ओन्नूँ चुम्मण चट्टण लगा पया. तब भी वो ऐसे नहीं चोदते थे, जैसे तुमने चोदा है।फिर मैं और वो बाथरूम गए और पहले एक-दूसरे को अपने मूत से साफ फिर हमने एक-दूसरे को मस्त साबुन लगा कर नहलाया।बाथरूम में ही फिर से एक बार और चुदाई हुई। जब दोनों की तबियत मस्त हो गई.

मैंने डेस्कटॉप को बंद कर दिया।इतने में दरवाजे की घन्टी बजी तो देखा कि वैभव और भूमिका वापस आ गए थे। मेरे दिमाग में वही सब घूम रहा था और वो दोनों मुझे नंगे ही दिख रहे थे।वैभव बोला- कल जाने की तैयारी कर लो।मैं बोला- हाँ तैयारी करनी है. उस दिन मैंने पहली बार इस हॉस्टल में कदम रखा था। मुझे अजीब सा लग रहा था, सब मुझे यूँ देख रहे थे जैसे खा जाएँगे। मुझे ऊपर वाले रूम में रुकने मिला था, मीता मेरी रूममेट थी। वो देखने में बहुत सुंदर थी. पर मुझे पता है कि क्या करते हैं।इतना बोलकर मैंने उनको किस कर लिया।उन्होंने झट से बोला- तुम काफ़ी चालू हो.

देहाती सेक्सी हिंदी में वीडियो

के आने पर पता चली।मुझे पहले से ही बुर्के वाली लड़कियां बहुत पसंद हैं, बुर्के में वे कमाल दिखती हैं। यह लड़की भी मुझे पसंद आ गई थी. क्या मस्त फ़ीलिंग थी, अभी भी याद आता है तो पेंटी गीली हो जाती है।फिर हम लोग कुछ देर यूं ही मस्ती करने के बाद वहाँ से अपने-अपने घर को चले गए. क्योंकि हम सबसे उपर वाले कमरे में थे इसलिए किसी का कोई डर नहीं था।मेरा लंड भी खड़ा हो चुका था, अचानक से उसने मेरी पैंट की जिप खोली और ब्लू फिल्म वाली लड़की की तरह मेरा लंड चूसने लगी.

यह बात गर्मी के दिनों की है, उस दिन मैं घर पर बहुत बोर हो गया था, शनिवार को मैंने एक प्लान बनाया कि सनडे के दिन फ्रेंड आलोक रंजन, हम काफी अच्छे फ्रेंड हैं, के यहाँ इलाहाबाद घूमने जाऊँगा.

नहीं तो मैं पन्नी इस्तेमाल कर लूँगा।उन्होंने हंसते हुए बोला- तुम्हारे भैया 5 कंडोम लाए थे.

देखो तो तुम्हारा गुलाम कैसे फड़फड़ा रहा है!कहते हुए उसने अपने लिंग पर मेरा हाथ पकड़ कर रख दिया… मैंने लिंग को दबा दिया पर तुरंत छोड़ भी दिया और शरमा कर अपने हाथों से चेहरा ढक लिया।फिर कुछ पल मुझे किसी के भी पास ना होने का अहसास हुआ. अचानक रुक गए प्रेमियों ने दुबारा अपने हथियार उठाए, इस बार रूसी दढ़ियल ने पहले मौका पाते ही अपने लंड को अपनी रशियन बहन की गांड में ऊपर की ओर चढ़ा दिया. हिंदू का सेक्सी वीडियोहमारे पास कोई तेल वगैरा तो था नहीं… पूस्सी पर पेनिस टिका कर फिर से ट्राइ किया.

उसके बाद क्या हुआ, मैं कैसे एक पर्फेक्ट कॉल गर्ल बनी, उस फोटोशूट में क्या हुआ, जानने के लिए मेरी अगली कहानी का इंतज़ार करें. ‘ले ले जल्दी से, शरमा मत!’ वो अब आप से तू पे आ गया था, वो अब उतावला हो गया था. मुझे क्या छिनाल समझता है?मैंने उसके गुस्से को दरकिनार करते हुए पूछा- मे आई डिज़र्व फॉर यू?वो घमंड से भर कर बोली- साले तू अपनी औकात देख.

थोड़ी देर बाद वो थक गई तो मैं नीचे से कमर उठा कर उसकी चूत चुदाई करने लगा. मैंने उसे ब्लाउज उतारने को कहा तो वो शरमा गई लेकिन फिर धीरे धीरे अपने ब्लाउज के हुक खोलने लगी.

जो बिना ‘आई लव यू’ कहे बिना इजहार के और बिना सेक्स के हो गया था।मैं मन ही मन सुधीर को चाहने लगी थी.

तुमने मुझे अच्छा दोस्त समझा पर मेरे मन में तुम्हारे लिए पाप उमड़ा उसके लिए माफी चाहता हूँ। तुम अपनी जिंदगी में हमेशा खुश रहना, तुम्हारा सुधीर!मेरे पैरों तले जमीन खिसक गई. मैंने अपना लौड़ा उसकी बुर के ऊपर सेट किया, जैसे ही धक्का दिया, मेरा लौड़ा फिसल गया, दुबारा सेट किया, वो भी फिसल गया. बाद में उन्होंने मेरा लंड अपने मुख में लिया और लॉलिपोप की तरह चूसने लगी.

अंग्रेजी फिल्म सेक्सी दिखाइए और मैं जल्दी ही ये फ्लैट छोड़ कर जा रहा हूँ।इतना कहकर मैं आगे निकल आया. नेचर से हम दोनों गे नहीं थे लेकिन जैसा अक्सर होता है कि चूत की कमी ने हम दोनों को धीरे धीरे गांडू बना दिया था.

लंड एकदम साँप की तरह फन उठाने लगा।आंटी आँख मारते हुए बोलीं- देखा मेरे हाथ का जादू. मैं भाभी के नाम की मुठ भी मार लेता था कई बार!एक दिन जब भाभी अपने सुखाए हुए कपड़े लेने आई तो उन्होंने मुझे उसकी ब्रा के साथ पकड़ लिया और वहाँ से मुस्कराती हुई चली गई, पर मेरी तो फट रही थी कि भाभी किसी को बता ना दें!. तो मैं एक कामसूत्र का साक्षात दर्शक बनता।मैंने आवाज़ दी- मैडम मैडम.

रेखा का वीडियो सेक्सी

उसके बाद अमृता ने मुझे नीचे लिटा दिया और खुद उपर बैठकर लंड अपनी चूत में लेकर मेरे लंड पर कूदने लगी. हमें तीन दिनों में स्कूल में रिपोर्ट करना था पर वो वह किसी को नहीं जानती थी तो उसके घरवाले भी काफी सिक्योर फील नहीं कर रहे थे. तभी 18-19 साल की एक लड़की आई, उसने पूछा- मैं अंदर आ सकती हूँ क्या?मैंने उसको अंदर बुला कर बिठाया.

पर मैं अब भी चुत चाट रहा था।थोड़ी देर बाद भाभी फिर से मूड में आ गईं और बोलीं- अब मेरी बारी है।मैंने भी तुरंत अपना लौड़ा निकाला और भाभी के मुँह में लगा दिया। भाभी भी एकदम किसी लॉलीपॉप की तरह मेरे लंड को चूसने लगीं। कुछ ही देर में मेरा भी पानी निकल गया और मैं थक सा गया।भाभी मेरी मलाई चाटने के बाद भी मेरे लंड को चूस रही थीं. सुधीर ने अपने होंठों से ‘मैं भी…’ शब्द निकाले और मेरे वाटर कलर लिपस्टिक लगे गुलाबी होंठों से सटा दिया.

’ की मदमस्त आवाज़ों के साथ मुठ मारने लगा।मामी को मेरा मुठ मारना देखना बहुत पसंद था। मैंने मुठ मार कर सारा माल कटोरी में जमा कर लिया।इसके बाद मामी ने मुझे उठाया और मामी नहाने जाने की कहते हुए बाथरूम की तरफ चल दीं। वे मुझे दिखाते हुए अपनी गांड हिलाती हुईं.

उसकी जवानी तो बिल्कुल एक कामुक औरत सी है और वासना की देवी लगती है,जोहा का कद 5’5″ है, रंग गोरा है, जिस्म तो पूरा गदराया हुआ है, जो भी देखे उसे, मुठ मारे याद करके… इतनी ही कामदेवी ओर वासना की पुजारी लगती है. यह हिंदी चुदाई की कहानी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!मेरा नंबर भी आ चुका था, मैं अपने लंड को पकड़े दो आदमियों के वीर्य से सने चेहरे और मुंह वाली अपनी पत्नी के सामने आकर लंड को उसके मुंह में घुसेड़ दिया. हसीन भाभी के साथ सुहाना सफ़र और चोदा चोदी-1अब तक आपने सुहाना भाभी संग चोदा चोदी की कहानी में पढ़ा कि सुहाना भाभी मेरे ऑफिस में मेरे साथ थीं और अब मैं उनको चोदने की तैयारी में था।अब आगे.

कुछ देर बाद मैंने उसे कहा- अगर तुम कहो तो मैं अपना अंदर डालूं?तो उसने कहा- नहीं!तो मैं फिर से अपनी बहन की चुत चूसने लग पड़ा. उधर सभी पानी में मौज मस्ती कर रहे थे और एक दूसरे के ऊपर पानी उड़ेल रहे थे. ?’‘उसने मुझे अपने भाई के बारे में आईडिया दिया और मैंने वैसे ही किया। जैसे अंजलि ने बताया।दोस्तो, इस सेक्स स्टोरी में अब संदीप का आंटी के संग चुदाई का रिश्ता कैसे बना वो आने लगा है। अब इधर से इस हिंदी सेक्स स्टोरी में कुछ टर्न आएगा। आप मुझे लिख सकते हैं।[emailprotected]कहानी जारी है।.

असल में अब हम दोनों भाई पूर्ण उत्तेजना की अवस्था में हमारी साझी बीवी के मुंह को अपने लंडों पर कस कर रगड़ रहे थे और कामुकता में उसे इधर से उधर खींचे फिर रहे थे.

बीएफ वीडियो खुल्लम खुल्ला: तुम बहुत भावुक हो इसलिए मुझे यह बात चिट्ठी के सहारे करनी पड़ रही है।मैं यह सोच कर कि कोई मुझे इतने अच्छे से समझता है मैं और जोरों से रो पड़ी!आगे लिखा था- तुम चिट्ठी पढ़ रही हो इसका मतलब तुमने मेरी तलाश की, मेरे लिए तुम्हारे दिल में इतनी ही जगह काफी है. थोड़ी देर बाद मैंने छेद से झाँक कर देखा तो भैया सो गये थे, ख़र्राटों की आवाज़ आ रही थी.

पूरी कहानी यहाँ पढ़िए…बगल वाले कमरे में एक खूबसूरत लड़की रहने आई… बाथरूम के रोशनदान से उसे नंगी देखने का मौक़ा मिला तो मेरी लालसा और बढ़ गई. पर साला वो कमीना निकला, उसकी एक गर्लफ्रेंड और भी थी, तो मैंने उसे ‘भाड़ में जा. क्या मैं जान सकता हूँ कि आपकी फिगर का क्या साइज़ होगा?भाभी ने मुस्कुराते और सीना उभारते हुए कहा- देख लो पूरी 34-26-36 की फिगर है।यह बोल कर वो वहां से अपनी गांड मटकाते हुए चली गईं।इसके बाद मुझे मेरे दोस्त का फोन आया.

तो मैंने भी लाइट बंद कर दी और लेट गया, मुझे लगा मेहमानों की भीड़ भाड़ में थक गई होगी… कोई बात नहीं.

सोचा आपको दे दूं।मैंने कहा- आपने बिल्कुल ठीक सोचा!मैंने उनसे टिकट ले लीं. कुछ देर बाद भाभी आई- हाँ… तो देवर जी… बताइए आपकी क्या सज़ा होनी चाहिए?‘कुछ भी भाभी… बस प्लीज़ भैया को मत बताना. तो उसने हाँ कहते हुये मुझे और जोरो से जकड़ लिया।ऐसे ही खड़े खड़े बहुत देर हो गई, तभी हवा चलने से दरवाजा तेजी से हिला और टकराया तब मुझे दरवाजा खुला होने का अहसास हुआ, और मैं उसे बंद कर आई, फिर सुधीर का हाथ पकड़ के अपने कमरे की ओर बढ़ी और कहा- आओ सुधीर अंदर बैठते हैं, अभी घर पर कोई नहीं है.