मां बेटा की बीएफ

छवि स्रोत,सेक्सी पिक्चर उत्तर प्रदेश

तस्वीर का शीर्षक ,

डॉक्टर वाली बीएफ हिंदी: मां बेटा की बीएफ, विवेक बोला- राहुल से सुबह चटवा लेना, सूजन कम हो जाएगी मेरी जानउसने बिना रुके लंड पेलना चालू रखा.

काजल जी का सेक्सी वीडियो

उसके चुचे भी जोर जोर से ऊपर नीचे हो रहे थे, जो मादकता को और बढ़ा रहे थे. चाची भतीजे की सेक्सी मूवीफिर एकाएक मुझसे बोली- मैं आपसे बात कर रही हूँ और आप कहाँ देख रहे हैं?मैंने उससे बोला कि मैंने तो आपको नहीं बोला था देने के लिए, मैंने तो आपसे पूछा था कि आप किसी को जानती हैं, जो देगी और बदले में पैसे लेगी.

अब दीदी सिर्फ़ पैंटी में थी, मैं दीदी के बूब्स चूसते हुए पैंटी के ऊपर से दीदी की चूत को सहलाने लगा. विधवा भाभी की सेक्सी फिल्ममैंने अपनी बाँहें पसार दीं और उनसे कहा- दीदी, मैं आपके साथ सीडी वाला सेक्स करना चाहता हूँ.

फ़िर मैंने पीछे से लंड को बहन की लपलप करती चूत पर लगा दिया, वो एकदम से मस्त हो गई थीं.मां बेटा की बीएफ: लेकिन उन्होंने बताया कि बिना डॉक्टर की पर्ची के वो दवा नहीं बेच सकते.

पानी के गिरने से उसके टॉप से शरीर का उभार स्पष्ट दिखाई दे रहा था, उसकी ब्रा चमकने लगी थी.मैंने अपने सभी कपड़े उतार फेंके और पूरी तरह से नंगा होकर ममता के ऊपर जाकर चढ़ गया.

ब्लू फिल्म सेक्सी सेक्सी ब्लू - मां बेटा की बीएफ

हमारी चुदाई के 10-15 मिनट बाद बहन की सासू माँ चिकन ले कर आ गईं और बहन से बोलीं- जल्दी से पका दे, सब मिलकर खाना खायेंगे और फ़िर तुम लोग चले जाना.मैंने अपनी जीभ को जैसे ही उसकी बुर पर लगाया, वो सिहर उठी और मेरे सर को पकड़ कर बुर की ओर करने लगी.

वो- नहीं चाची उतारो प्लीज़।कह कर वो मेरे पीछे आकर मेरी कमीज़ की जीप खोलने लगा। मैंने उसे हटाया और कहा- रुक. मां बेटा की बीएफ जय लक्ष्मी जी, जो हमारे बैंक में एक महीने के लिए इंटर्न के लिए आई थी मतलब पोस्टिंग से पहले ट्रेनिंग के लिए.

मेरा लिंग प्रिया के नितम्बों की दरार के साथ साथ बाहर की ओर से प्रिया के नितम्बों के साथ रगड़ खा रहा था, प्रिया की दोनों टांगें मेरी साइडों से मेरे पीछे सीधे फैली हुई थी.

मां बेटा की बीएफ?

मैंने उठकर क्रीम की डिब्बी ली और ढेर सारी क्रीम उनकी गांड के छेद पर लगा दी और अपने लंड पर भी लगा ली. फिर उस दिन जान बूझ कर नखरा कर रहे थे, कर रहे थे कि नहीं? बाद में तो लंड की ठोकरों से ढीली हो ही जाती है. अब मै ज़ोर ज़ोर से चाची को चोद रहा था और चाची के चूचे किसी बॉल की तरह ऊपर नीचे होते जाते थे.

मैं भाभी की चुत के दाने पर जीभ फिराते हुए बुरी तरह से चॉकलेट चाट रहा था और पायल भाभी मेरे लंड को पागलों की तरह चूस रही थीं. जैसे जैसे मैं ऊपर उचक कर कंधे पर तेल लगाता, वैसे वैसे मेरा लंड उनकी चूत में चुभता जाता और चाची की सिसकारियाँ बढ़ती जातीं. उस दिन शाम में मीना आंटी ने अपने पड़ोसी को मेरी ट्यूशन क्लास के बारे में बताया कि कैसे मैंने पिंकी और रोशनी को पढ़ाने के साथ साथ उनकी बॉडी लैंग्वेज भी विकसित कर दी है.

मैं फिर हर एक बन्दे के गले लगी, जिसका मन किया, उसने एक बार फिर मेरे होंठ चूसे।आखिर में मैं सिराज के पास गयी, मुझे एक लंबा सा किस करने के बाद उसने पूछा- फिर मिलोगी कभी?मैंने पलट कर जवाब दिया- सच कहूं तो नहीं”. मैं राहुल अपनी कामवासना से भरी कहानी आपके लिए पेश कर रहा हूँ, पढ़ कर मजा लें!मैं 19 साल का हूँ. फिर बुआ बोलीं- चलो देखते हैं कि संगीता भाभी को गुरप्रीत ने चोदा कि नहीं.

इसके बाद उन तीनों ने दीदी की बुर को चूम कर और जूते चाट कर थैंक्यू कहा और फिर दीदी अपने कपड़े पहनने लगीं. मैंने जरा भी देर न करते हुए तौलिए को उस मखमली बदन से दूर किया और अब मेरे सामने पूरी तरह से नंगी चाची थीं.

मैं उन्हें सोफा पर से उठा कर बेडरूम में ले गया और बेड पर लिटा दिया.

मैंने बहुत सोच विचार किया, आखिर यही सूझा कि कोई भली महिला ही इसमें नेहा की मदद कर सकती है.

फिर हम काफी देर ऐसे ही पड़े रहे। थोड़ी देर बाद मेरी कामवासना फिर से जोर मारने लगी, मैं उनकी गांड पर हाथ फेरने लगा तो वो मुझे अजीब सी नजरों से देखती रही।मैंने भाभी से पूछा- भाभी, सरसों का तेल कहाँ रखा है?तो भाभी ने बताया कि रसोई में स्लैब पर ही सरसों के लेट की बोतल राखी है. फिर मुझे पता ही नहीं चला और वह सिसकारियाँ लेने लग गयी, मैंने उसके बदन को गर्दन से लेकर नाभि तक चूस चूस के उसे मदहोश कर दिया और वह मेरा पूरा साथ दे रही थी. वो कुछ बोले, उससे पहले मेरे भाई ने कहा- हां हां चलो, मुझे तो झूला झूलना है.

”वो हल्के से मुस्काई और बोली- अच्छा चलो मैं ही तुम्हारी पार्टनर रहूँगी, तो तुम कैसे मुझे मनाओगे?”मना लूँगा, जब तुम सच में तैयार हो जाओगी. उसने अपने रूम में ज़ीरो वॉट का बल्ब जला दिया, कमरे में हीटर उसने पहले से ही चला कर छोड़ा हुआ था तो कमरे में ठंड नहीं थी. मैं समझ गया था कि दीदी झड़ चुकी हैं, पर मैं नहीं रुका और एक मिनट बाद मैं भी झड़ गया.

वो अपना काम खत्म कर जब जाने को हुई तब उसने मुझे आवाज़ लगाई, लेकिन मैं चुप रहा.

अपनी चूत पर मेरी जीभ का अहसास पाते ही वो बहुत उत्तेजित हो गई और उछल उछल कर चूत चटवाने लगी. मैंने मौके का फ़ायदा उठाते हुए थोड़ा सा ज़ोर लगा कर सुपारा अन्दर किया तो भाभी छटपटा गई और कहने लगी- आराम से पेल भैनचोद. मैंने भी उस सुकुमारी भौजी की मोटी गांड के चैलेंज को हाथों हाथ लिया और इतनी जोरदार ठुकाई की कि सुकुमारी भौजी की बिलखने की आवाज़ आधे मील तक सुनी जा सकती थी.

रोशनी ने प्यार से मेरे पास आकर सॉरी कहा और मेरा कंडोम उतार कर कचरे में फेंक दिया. मैंने अपने आप को ढीला छोड़ दिया और जैसे मक्खन में छुरी घुसती है, वैसे उसका लंड मेरी गांड में जड़ तक दाखिल हुआ. फिर जल्दी ही मेरा दोस्त रुक गया और बिल्कुल आराम से लंड आगे पीछे करने लगा, शायद उसका माल छूट गया था.

मैंने पूछा- क्या हुआ?तो मीना जी ने कहा- गुदगुदी होती है और आपकी आवाज क्यों इतनी कांप रही है?अब इस पर मैं क्या बोलता सो मैंने इतना ही कहा कि कुछ नहीं, सुबह से कुछ खाया नहीं है, इसलिए शायद होगा.

पहले उन्होंने मेरे लंड को हिलाया, फिर सुपारे को ऊपर नीचे करके लपक लपक चूसने लगीं. पापा बहुत नशे में और बहुत एक्साइटेड थे, उनकी बात सच निकली और करीब 5 मिनट बाद ही सच में दर्द धीरे-धीरे गायब होने लगा मेरा, अब मैं एंजॉय करने लगी.

मां बेटा की बीएफ जब अगले दिन मैंने अपनी मेल खोली तो आरती की 2 मेल और आई हुई थीं, जिसमें उसने लिखा था कि हैलो आलोक क्या आप अपनी ‘पड़ोसन भाबी सेक्स के लिए तैयार थी’ की तरह मेरी भी मदद कर सकते हो. थोड़ी देर जीभ चुसाई करवाने के बाद किड ने दोबारा अपना खड़ा हुआ बैंगन जैसा लंड नताशा की मुंह रूपी सुरंग में घुसेड़ दिया, जिसे वो जोर जोर से कराहते हुए चूसने लगी.

मां बेटा की बीएफ मैंने उसका चेहरा ऊपर उठाया और उसके होंठों पे अपने होंठ रख दिए और उसे चूमने लगा. वो मेरे होंठों चूस रही थीं, मैं उनकी लिपस्टिक की महक से लेकर उनकी जीभ तक की मिठास को अपने मुँह में महसूस कर रहा था.

मैं समझ गया कि स्वाति बहन की चूत का पानी निकलने वाला है, मैंने भी अपनी गति बढ़ा दी.

इंडियन चुदाई की बीएफ

अपने हाथ से उसकी बुर के छेद को खोला और अपने लंड को उसके छेद पर सैट कर दिया. मैंने उसको बेड पे लेटा दिया, तो वो फटाक से बैठी होकर बोलीं- जान, हम शुरू करें उससे पहले एक गेम खेलते हैं. फिर ऐसे ही वीडियो देखते वक्त उनके शादी की वीडियो आई, तो मैं उनसे पूछने लगा- आपकी शादी कब हुई और आपके बच्चे किधर हैं?इस सवाल से मधुरा का थोड़ा मूड खराब हुआ और वो बोलने लगीं कि उनके पति मुझसे प्यार नहीं करते, वो बस अपने जॉब और पैसों से प्यार करते हैं.

लेकिन माधुरी जिद कर रही थी कि दो तीन चक्कर लगा कर सब लोग शादी में जा सकते हैं. तभी ब्रायन ने भी मेरा एक स्तन अपने मुँह में ले लिया और दूसरा उरोज स्टीव के मुँह में था. पापा को चुप पाकर मैं घबरा गई, मन में डर सा लगने लगा कि तभी पापा बिल्कुल मेरे ऊपर लेट गये, उनका सीना मेरे सीने से चिपक गया, उनकी कमर मेरे कमर के ऊपर और पापा का मुंह मेरे चेहरे पर और सीधे पापा मेरे होंठों को चूमने लगे.

ये एक सच्ची घटना है जो मेरी सग़ी चुत चुदाई की प्यासी चाची के साथ हुई.

थोड़ी देर ऐसा करने से वो वापिस गरम हो गई और बोली- अब मैं तुम्हें अपने हाथ की कला दिखाती हूँ. यूं ही खाना खाते खाते हमारी नजरें एक दूसरे से टकरा गईं और हमने एक दूसरे को स्माइल पास कर दी. अब तक हम चारों नंगे हो गए थे, तभी मैंने अपने चुच्चों को रगड़ना शुरू कर दिया, इसे देख कर मम्मी बोलीं- कमीनी, साली कुतिया.

उसकी आवाज सुनकर मैंने जल्दी से अपना हाथ लुंगी से निकाल लिया और कहा- ठीक है. मैं उन दोनों के लिए एक अच्छा सा गिफ्ट और फूलों का गुलदस्ता खरीद कर उसके घर पहुंच गया. मैंने उसे देखा तो देखता ही रह गया, क्या फिगर था उसका!और फिर ट्रेन आ गई, उसे भी मेरे वाली ट्रेन की प्रतीक्षा थी.

वो बोली- तुम्हारे जैसे मुस्टंडे सांड से चुदने के बाद कोई औरत कहीं नहीं जा सकती मेरी जान. इतना कह कर मीना जी ने मेरे दोनों हाथ पकड़ कर, अपने मम्मों के ठीक नीचे, कमर पर रख दिए और कहा- यहां पर भी करो जनाब.

मैं समझ गया था कि दीदी झड़ चुकी हैं, पर मैं नहीं रुका और एक मिनट बाद मैं भी झड़ गया. फिर वो मेरे बूब्स पर आ गया और उसने मेरे बूब्स भी मसाज करना शुरू कर दिया. ”ये बात नहीं है राहुल उन्होंने तो मुझे छुआ तक नहीं, कल रात मेरी मम्मी आपके जाने के बाद फिर से रूम पर आई, दोनों ने मुझे बाथरूम में दो घन्टे बंद कर दिया और मेरी मम्मी और तुम्हारे भैया हंस हंस कर आपस में चुदाई करने लगे.

मैं भी अब इतनी मदहोश हो चुकी थी कि पूरा जोर लगा कर उसको अपने अन्दर खींच रही थी.

अब मुझे अपनी बेबकूफी और उसकी चालाकी पर हँसी आने लगी, यानि उसने इशारे में ही मुझसे चुदवाने की बात बोल दी थी. मैं उनसे जब भी मिलता तो उन्हें कहीं भी पकड़ कर किस कर लिया करता और उनकी गांड में हाथ फेर देता. मैंने भी उनका दिल रखने के लिए हाँ बोल दी और हम दोनों खाना खाने लगे.

प्लीज़ चाची।मैं मचलने लगी कि यह तो सैट ही हो गया। हालांकि मुझे पता था कि गाण्ड की कसावट चूत से भी ज्यादा टाइट होती है। अब उसे खुश करने के लिए. यह सुन कर वे काफी खुश हुईं और फ़िर मुझसे कहने लगीं कि वैसे तो मैं ज्यादा लोगों से बातें नहीं करती, मगर तुम अच्छी तरह समझा रहे हो, इससे मुझे बड़ा अच्छा लग रहा है.

विनोद स्वाति को रूम में ले गए, उनके बीच कुछ बातचीत हुई, फिर विनोद मेरे पास आए, उन्होंने मुझसे हाथ मिलाया और मुझसे बोला कि जो सुख मैं स्वाति को नहीं दे पाया, वो आप जरूर देना. मैंने कान में पूछा- क्या जल्दी करूँ?कल्याणी बोली- वही जो मम्मी पापा का खेल होता है. मैं तो बस यही सुनना चाहता था और मैं समझ भी गया कि अब ये पूरी तरह से गर्म हो चुकी है.

पाकिस्तान बीएफ सेक्स

आखिर उसने नीचे हाथ ले जा कर मेरे लंड को पकड़ा और अपनी चूत पर लगाने लगी.

हमने शावर लेकर एक दूसरे के बदन को पौंछा और ननगे ही एक दूसरे से चिपक कर बेडरूम में आ गए. कुछ ही पलों में वो सिर्फ ब्रा और पैंटी में ही रह गई थी और मैं अंडरवियर में था. उन्होंने मेरा सिर ऊपर खींचते हुए बोला- बदमाश थोड़ा आराम तो करने दे.

मैं परेशान हो गया, मैंने अन्दर डालने से मना किया, तो उन्होंने मुझे नीचे लेटने को बोला. अमित- अगर मुझे माफ़ कर दिया है तो आज 4 बजे मेरे घर आ जाना और अपनी पार्टी ले लेना. सेक्सी व्हिडीओ खचाखचसलवार और पैंटी के ऊपर से ही पता चल गया कि दीदी की चूत में पानी आ गया था, सलवार और पैंटी गीली हो गई थीऔर चूत का पानी मेरे हाथ की उंगलियों में लग गया था.

फिर जब वो अपनी सीट पर बैठ गई तो हमारे सर ने सारी क्लास को उसके बारे में बताया कि उसका नाम प्रिया है और वो हमारे साथ ही पढ़ेगी. मैं घंटों अपनी गर्ल फ्रेंड से फोन पे बातें करता रहता पर उसके साथ भी मैंने किस से ज्यादा कभी कुछ किया नहीं था क्योंकि साली नखरे बहुत करती थी.

अब कल्याणी खटिया पर दोनों टाँग फैला कर चित्त लेट कर बोली- अब तुम लंड चुत पर रखो और पेलो. आंटी के चूतड़ों पर जोर से चमाट मारते हुए उन्हें एक तरह से भंभोड़ने लगा. और अंकल मेरे शर्ट के ऊपर से ही मेरे बूब्स दबाने लगे दोनों हाथों से!ऊं उहहहह उंहहह…” मैं करने लगी.

मैंने बहुत कोशिश की कि उसके लिए ऐसा न सोचूँ, पर वो थी कि मेरे दिमाग़ से उतरती ही नहीं थी. लेकिन अनन्या को उसके पति के बड़े भाई ने पीछे से पकड़ लिया और उसके गाल पर चुम्बन करने लगे और बोलने लगे- अनन्या, मैं तुमको बहुत पसंद करता हूँ. इतने में सोनी ने गुस्से से मेरी तरफ देखा और बोली- मुझे कहीं नहीं जाना, मुझे चक्कर आ रहे हैं, घर चलो.

तो उसने मेरे हाथ में पकड़ा दिया और कहा- चलो तुम ही अपनी मर्जी से जितना साफ करना है, कर लो.

वो एग्जाम का आखिरी दिन था, मैं और दिव्या कॉलेज से एग्जाम दे कर वापस आ रहे थे. फ़िर मैंने उनके बाजू में रखी क्रीम की शीशी उठाई और अपने लंड के साथ साथ उनकी चूत पे भी क्रीम लगा दी.

किस लिए?शहजाद- अरे कुछ नहीं, बस ऐसे ही… मेरे ऑफिस में एक नया लड़का आया है. सुबह मैं जब अस्पताल के लिए जाने लगा, तो भाभी के हस्बैंड का कॉल मेरे पापा के पास आया और भाभी को दिखवाने के लिए कहा कि आप जैस को बोलो कि वो ज़ायरा को दिखवा दे. मेरा भी इतना मन कर रहा था कि बस अभी जाऊं और ब्रायन को बोलूँ- इस रंडी को बाद में चोदना.

अब तो भाभी मस्ती से काँपने सी लगीं और सिसकारिया भरने लगीं- आह… छोड़ दो मुझे… मत करो… आह… प्लीज़… रुक जाओ… म्म्म्म… आह…जब तक पूरी बर्फ नहीं पिघल गई तब तक मैं यह करता रहा. तो मैंने भी भाभी की कसम की मजबूरीवश केवल 2000 रुपये ही लिए और 8000 उन्हें वापिस कर दिए. अंकित माया को चूमते हुए बोला- क्या बात है जान, आज जैसे तो तुमने कभी लंड नहीं चूसा?माया ने इठलाते हुए जवाब दिया- तुम्हें कोई शिकायत है क्या?अंकित माया की गांड दबाते हुए बोला- शिकायत तो तब भी नहीं की, जब तुमने मेरी गांड में उंगली डाल दी.

मां बेटा की बीएफ कुछ देर के बाद रुबीना होश में आई और बोली कि ये सब शादी के बाद करना. यहां तक कि उन्होंने अपने बखिया (फसल काटने वाले औज़ार) से प्रहार तक कर दिया मगर मैं सावधान था सो बाल-बाल बच गया.

बीएफ ब्लू सेक्सी भोजपुरी में

करीबन पांच मिनट में भाबी ने ढेर सारा पानी मेरे मुँह पर छोड़ दिया और भाबी शांत हो कर पसीने से लथपथ बेड पर पड़ी रहीं. चाची कान में लीड लगा कर अपनी चुत में उंगली करके अपनी कामवासना शांत कर रही थीं. अब किशोर ने उसे कमर से उठा कर घुमा दिया और उसके छोटे से चूतड़ दबाने लगा.

कन्धे पर तेल लगाने की वजह से मेरे हाथ उनके चूचे जो आधे से ज्यादा खुले थे, उनपे टच हो रहे थे और नीचे मेरा लंड उनकी चूत में घुसने को बेकरार था. मैं उम्मीद करता हूँ कि आप लोगों को मेरी इंडियन सेक्स स्टोरीज पसंद आई होगी. सेक्सी फिल्म भेजो सेक्सी हिंदी मेंबुआ की उम्र लगभग 42 साल है, उनकी एक बेटी अंजलि जिसकी उम्र लगभग 20 साल और एक बेटा माणिक है जो करीब 23 साल का है.

मेरा विश्वास है कि इस हिंदी सेक्स कहानी को पढ़ कर लड़के अपना लंड हिलाएंगे और लड़कियां अपनी चूत में उंगली किए बिना नहीं रह पाएंगी.

मैंने अपनी ताकट बटोर कर खुद को थोड़ासा ऊपर उठाया, उठ कर सिराज की मजबूत बांहों का सहारा लेकर उसकी गर्दन के ऊपर अपने हाथों की माला बना कर सहारा लिया और सीधे अपने होंठ उसके होंठों पे रख दिए. चाची बहुत गर्म हो गई थीं, अब उनसे बर्दाश्त नहीं हो रहा था, वो बोलीं- चलो बेडरूम में चलते हैं.

यह टाइम तो नागपुर पहुँचने का था और जल्दी ही ट्रेन स्लो होती चली गई फिर रुक गई. बहुत मजा आ रहा है… बस ऐसे ही मुझे चोदते रहो… आज मिटा दो मेरी चुत की गरमी… मिटा दो इसकी सारी खुजली…. ईश्वर का दिया सब कुछ है हमारे पास… वैसे भी बेटा तो बाहर जॉब करता है शादी के बाद अपनी दुल्हन को ले के निकल लेगा इसलिए फैसला हमने अपने इकलौते बेटे पर और उसकी माँ पर ही छोड़ दिया.

मेरा लंड एकदम से टाइट हो गया और निक्कर से बाहर आने को कोशिश करने लगा, मैं अपने हाथों से उसे दबाने लगा.

फिर रोज योग का सेशन होने लगा और एक दिन मुझे रात को ऑफिस जाने का आईडिया आया और मैंने मोना को बताया तो वो थोड़ी नाराज हुई पर बाद में समझाने पर मान गई. मैंने अपने लंड को अन्दर बाहर करना शुरू किया, बड़ा आसानी से मेरा लंड उसकी चूत में रगड़ रहा था. फिर घर पर इस तरह से डरी डरी और चुपचाप क्यों रहती हो?दो मिनट नीचे देखने के बाद उसने कहा- नवीन मैं भी खुल कर रहना चाहती हूँ, पर मम्मी के नियम और सोसाइटी में लोगों की सोच की वजह से मुझे दब कर रहना पड़ता है.

घड़ी सेक्सी दोमैं- ऐसा क्यों?अमित- अरे यार वो बाहर के लोग हैं ना तो तुम उनके सामने अच्छी लगो. मैंने भी यही ठीक समझा और हम दोनों ने मुंह हाथ धोए और कपड़े पहने और फिर से मिलने वादा करके वह निकल गई.

बीएफ देहाती गांव

मैंने कहा- अभी कैसे बुला सकती हूं उसे? वो पापा का मोबाइल दिखा कर बोली- अभी कॉल करके बुलाओ प्लीज दीदी. आप सब लोग जानते है कि मारवाड़ी भाबियां एकदम मस्त और स्लिम, बन ठन कर अपनी पारम्परिक ड्रेस में रहती हैं. गुरप्रीत ने हंसते हुए कहा- जी हां आज तो पूरा मजबूत वाला रिश्ता बना कर ही रहूँगा.

मेरा टोपा उसकी चूत के मुँह पर था और पानी की चिकनाहट से फिसल रहा था. कामिनी से जब बर्दाश्त के बाहर हो गया तो उसने अपनी टांगें बिल्कुल धनुष की तरह फैला दीं और बोलने लगी- आह डालो न विवेक. वो भी मुझे देखता पा कर वहाँ से चला गया।फिर रात को मैंने उसे अपने कमरे में बुलाया.

उसने कहा कि जैसे आपने अपनी पड़ोस वाली भाभी का साथ उनके बिस्तर पर दिया था, तो क्या आप मेरा भी मेरे बिस्तर पर साथ दे सकते हो?दोस्तो, सच पूछो मेरी ख़ुशी का कोई ठिकाना नहीं था. हम जैसे लेटे थे, हमसे अच्छे से नहीं हो पा रहा था तो मैंने उसको बिस्तर के किनारे लगा के उसकी गांड के नीचे तकिया लगाया और खुद नीचे बैठ करके अच्छे से चूत चाटने लगा।अब पूरा मजा आ रहा था उसको भी और मुझे भी… उसकी चूत का स्वाद खट्टा सा था. मैंने अंकल से बहाना मार दिया कि किसी सहेली के घर पार्टी है तो रात वहीं रुकूंगी और वो मान गए.

क्योंकि बाल गीले होने के कारण उनकी नाईटी हल्की भीग सी गई थी और शरीर से चिपक गई थी. मुठ मारने के बाद लोगों की वासना वैसे ही कम हो जाती है मगर मेरे भीतर की आग उस मोटी गांड को देखकर चार गुने उत्साह से धधक रही थी.

मैंने नाइट गाउन को रुबीना के शरीर से अलग किया, रुबीना ने अपने दोनों हाथों से अपने शरीर को ढकने की नाकाम कोशिश की.

उसकी फ्रेंड भी दिखने में एकदम मस्त थी, पर पता नहीं क्यों उस दिन मुझे अपनी बहन के अलावा दूसरी कोई लड़की अच्छी ही नहीं लग रही थी. सेक्सी हिंदी वीडियो ऑनलाइनमेरी बात सुन कर वो मुस्कुरा दी और हाँ में गर्दन हिलाई उसने, तो मैं भी सक्म्जः गया कि से भी पटा है कि पहली चुदाई में दर्द होगा. हिना डिजाइनइस फंसी सी स्थिति में लंड इतना अच्छा तो नहीं आ रहा था लेकिन एक चालू गाड़ी में अपनी सगी बहन को चोदने का मजा ही कुछ और था. मैं भी मामी की चूत में हाथ फेरने लगा और वो भी मादक सिसकारियाँ भरने लगीं.

जब मेरी भी छुट्टियाँ खत्म हुई तो मैं भी पेपर नागपुर चला आया और अपने पेपरों की टेंशन में रहता तो हमारी कई कई दिन बात नहीं होती.

वो तो मोना को किस करे जा रहा था और मोना के जिस्म को सहला भी रहा था. उनके जाने के बाद मैं छुप छुप के उसके घर आ गया और जब घर के अन्दर गया तो उसको गले लगा लिया. फिर आनन्द ने मोना को दीवार के सहारे खड़ा किया और उसके स्तनों को पकड़ लिया.

उसके बाद मेरे दोस्त ने उसे घोड़ी बना दिया और पीछे से लंड उसकी चूत पर रख दिया और लंड अंदर बाहर आगे पीछे करने लगा, वो प्रियंका बस आह आह की आवाज ही निकाल रही थी. मैं परेशान हो गया, मैंने अन्दर डालने से मना किया, तो उन्होंने मुझे नीचे लेटने को बोला. सिराज कस कस के मेरी गांड मारते हुए हंस कर बोला- कोई नहीं! ये रांड है ना! इसे बजाएंगे सब मिलकर सुबह तक!यह सुन कर मेरे तो सारे पुर्जे पुर्जे ढीले हो गए.

बीएफ चला वाला

पिंकी बहुत जोर से चीखी, मैंने अभी एक भी धक्का नहीं दिया, पर पिंकी क्यों रो रही थी. हम दोनों को ही मिसमिसी छूट रही थी लेकिन खुद पे काबू किये हुए जैसे तैसे एक दूसरे की हथेलियों में हथेली फंसाए होंठों को चूस रहे थे. दस मिनट के बाद उसने मेरे निप्पल को चूसा, मुझे बहुत ज्यादा ही मज़ा आने लगा.

मैंने अमित को एसएमएस किया- हाँ अमित, अवी ने हाँ कहा है अब बताओ मुझे क्या कब और कैसे करना है?अमित- एक लड़का है सैम तुम्हें उसकी गर्लफ्रेंड 15-20 दिन के लिए बनना है बस.

कुछ दिनों बाद ये सिलसिला बंद हो गया क्योंकि भैया का तबादला दूसरे शहर में हो गया और वो लोग वहां शिफ्ट हो गए.

दरअसल मुझे ये सोफासैट उसकी जगह पर लगवाना है, जिसके लिए तुम्हारी मदद चाहिए. टाइट भी हो गए थे। मेरी गोरी टांगों पर छोटे-छोटे बाल आने शुरू ही हुए थे. इलियाना की सेक्सी वीडियोमैंने तुरन्त सुकुमारी भौजी के मुँह तरफ अपना तना हुआ लंड किया और उनकी चूत पर अपना मुँह रखा.

मैं उसे मना कर रही थी, पर मेरी आंखें उसे साफ साफ हां में जवाब दे रही थीं. कुछ देर तक उंगलियों को उसकी चूत में अन्दर बाहर करने के बाद उसका पानी निकल गया. फिर मयूरी खुद ही दरवाज़े की तरफ बढ़ी और ऐसे झुकी जैसे पीछे से मोहन लाल को अपनी गांड के दर्शन करवाना चाहती हो और दरवाज़े को अन्दर से बंद करने की कोशिश करने लगी.

अंजलि का कद कोई 5 फीट 3 इंच, एकदम गोरी अपनी मम्मी की तरह, दुबली पतली फीगर होगा कोई 32-26-30, वो अपने शहर में बी ए की पढ़ाई कर रही थी. वो भी अन्दर मेरे लंड पर पर जीभ नचा रही थी और फिर 5-10 झटकों में मैंने सारा का सारा माल उसके मुँह में निकाल दिया.

उन्होंने फिर अपनी आँखें बंद कर लीं और मैं आगे बढ़ कर उनको किस करने लगा.

मैं भी बड़ा जोश में था, तो अपनी एक उंगली उसकी चूत के दाने पर रगड़ने लगा. मैंने कहा- तुम ब्रेसिअर नहीं पहनती?उसने कहा- नहीं…कल से पहननी पड़ेगी!” मैंने कहा. मैंने अपने दोस्त से कहा- अब तू जा इन्हें छोड़ने!वो उन्हें लेकर चला गया और मैंने उनके जाने के बाद कमरा बन्द किया और गांव की तरफ आ गया।यह कहानी बिल्कुल असली है.

सेक्सी पिक्चर दिखाओ ओपन और वह भी मेरा साथ दे रही थी… मैं उसके होंठों को चूसता और वो मेरे होंठों को चूसती. थोड़ी देर तक ऐसे ही करते रहने से मेरा लंड फिर से अपने बड़े रूप में आ गया था और वो भी गरम हो चुकी थी.

मैं तो बहूरानी के कमनीय बदन में जैसे खो सा गया था कि पापा जी, कहाँ खो गए आप?” बहूरानी की आवाज ने जैसे मुझे नींद से जगाया. उसे थोड़ी देर पहले जो मयूरी ने सिखाया था, उस ज्ञान का वो सम्पूर्ण उपयोग कर रहा था. मेरी चूची बहुत बड़ी हैं, मैं जब भी चाचा के साथ कार में जाती थी तो वो मेरी बड़ी बड़ी चुचियों को देखते थे और मजे लेते थे.

सेक्स वीडियो हिंदी सेक्सी बीएफ

मैंने कह- भाभी, आप इसे मुँह में लेकर प्यार करोगी?वो बोलीं- नहीं ये सब मुझे पसंद नहीं है जानू. दो पल बाद मैं नीचे को आया, दूसरा टुकड़ा मैंने भाभी के पेट पर फिराते हुए अपनी जीभ उनकी नाभि में घुसड़ते हुए कोल्ड ड्रिंक चाटने लगा. इतने देर में बॉस ने मुझे टेबल पर झुका दिया और पीछे बैठ कर मेरी गांड का छेद चाटना शुरू कर दिया.

लेकिन मैंने लंड को बाहर निकाला और उसकी चुत के मुहाने तक ला कर ज़ोर का लगा कर फिर धक्का मार दिया, जिससे लंड चुत में फिर से दाखिल हो गया. वो मुँह ऊपर करके जोर से हंसने लगीं और फिर जब मुँह नीचे करके मेरे लंड को देखा तो कुछ बोली नहीं.

मेरी गर्मी के आगे वो टिक नहीं पाया और उसने मेरी चुत अपने पानी से भर दी.

मैं अन्दर गई और एक एक करके सारी ड्रेस पहन कर देखीं, पर अवी को नहीं दिखाया और बाहर आकर बताया कि जो सबसे पहले अवी ने पसंद की थी, वो और जो मैंने पसंद की थी वो. कुछ देर शांति से बैठने के बाद, गपशप करने के बाद, मैंने उठ कर कपड़े पहने, कार के पास जा कर देखा तो रिया पिछली सीट पे आराम से सो रही थी. इसलिए उसने अंकित को नहीं रोका और अपनी गांड को पीछे की तरफ धकेलने लगी.

उनकी चिंता कैसे दूर हुई और फिर क्या क्या हुआ ये सब बातें मैंने बड़े ही विस्तार से अपनी पूर्व की कहानियों में लिखीं हैं उन सब बातों को यहाँ दोहराना उचित नहीं है. मैं भी मामी की चूत में हाथ फेरने लगा और वो भी मादक सिसकारियाँ भरने लगीं. मैं हंसा और बोला- आज से तुम्हें मेरा हर कहना मानना होगा, तभी मैं तुम्हें छोड़ूँगा.

संजय शर्मा, वो अमृतसर से है, उसका ट्रान्सफर दिल्ली में हुआ है और बेचारे के कोई रिश्तेदार भी यहां नहीं हैं, तो वो मुझसे रहने के लिए कोई ठिकाने लिए पूछ रहा था.

मां बेटा की बीएफ: उनमें से दो ने मेरी भी मारी है और एक जो चिकना सा था, उसकी शकूर भाई ने ही मुझे दिलवाई थी. अब मुझे वो आदमी काफ़ी भला और शरीफ लगा, तो मैंने कहा- मैं बहुत थक चुकी हूँ, मुझे आप आगे किसी भी ऐसे स्टैंड पर छोड़ दीजिएगा, जहां से मैं पब्लिक ट्रांसपोर्ट ले सकूं.

फिर उसने मेरे गालों को थपथपाते हुए अपना लंड मेरे मुँह में देना शुरू कर दिया था. अब मैं भी किसी औरत के जिस्म को मिस कर रहा था, आखिर मेरे पास भी लंड है, कब तक मनाता या हाथ से काम चलाता. यह घटना आज से 2 महीने पहले की है, जब मैं जयपुर में कम्पीटीशन के एग्जाम की तैयारी कर रहा था.

ममता जी अब बिल्कुल नंगी मेरे नीचे लेटी हुई थी और मैं उनके मखमली बदन के स्पर्श का मजा ले रहा था.

उन्होंने मुझे देखा और हंटर लहराते हुए कहा- चल बहन के लंड, आज तेरी माँ चोदती हूँ. तभी कमल ने यकायक अपने लंड को मेरी चूत से निकाल लिया और मैं झट से आगे की तरफ होकर बैठ गई. चाचा कुछ देर रुक गए और उसके बाद वो मुझे धीरे धीरे चोदने लगे, मेरा दर्द थोड़ा कम हुआ था तो चाचा मुझे थोड़ा तेज तेज चोदने लगे और जोर के धक्के मेरी चूत में मार मार कर जल्दी जल्दी चोद रहे थे और मैं सिसकारियाँ ले रही थी.