राजस्थानी देसी सेक्सी बीएफ

छवि स्रोत,सेक्सी गर्ल ग्रुप

तस्वीर का शीर्षक ,

देसी बीएफ चूत: राजस्थानी देसी सेक्सी बीएफ, मैंने कहा- कौन, देवेन्द्र …?मुकेश बोला- इसका मतलब आप जानते हो, मैंने उसका नाम कब बताया था, बस लड़के के बारे में पूछा था.

भाभी की सेक्सी पिक्चर दिखाओ

कम्मो के हिसाब से मुझे मोटोरोला का जी फाइव ज्यादा अच्छा लगा, बारह हजार के क़रीब कीमत थी. ब्लू पिक्चर सेक्सी हिंदी में चुदाईवो उठकर अपनी पैन्ट पहनने लगा तो मैंने कहा- करो न?वो बोला- नहीं होगा आज, किसी और दिन करेंगे.

तो मैं बोला- अरे आप अंकिता दी और प्रिया दी हो?तो बोली- हाँ…अब मुझे थोड़ा रिलॅक्स फील हुआ. गोपी सेक्सी पिक्चरमैं अपने लंड को अपने हाथ से छिपाने लगा तो मौसी ने कहा- क्या हुआ??मैंने बोला- कुछ नहीं मौसी.

पर हम लोग तो चुदाई करने में मस्त थे तो किसको डोर बेल की आवाज सुनाई देती!तब चाची ने अपनी चाबी से दरवाजा खोला और अंदर आ गयी.राजस्थानी देसी सेक्सी बीएफ: मैंने सोचा ‘बेटा आज मौका है चौका मार दे … नहीं तो अपना लंड हाथ से हिलाते रहना उसे कभी चुत नसीब नहीं होगी।’यह सोचकर मैं रसोई में गया और उसको पीछे से पकड़ लिया और गले पर चुम्बन करने लगा.

जब उसको लगा कि मैं नींद में हूँ तो वो मेरे बाजू में बैठ गयी और मुझे देखने लगी.कैसी लगी मेरी जवानी की प्यास की कहानी, अपनी प्रतिक्रिया दें[emailprotected]पर।.

एचडी हिंदी सेक्सी वीडियो एचडी - राजस्थानी देसी सेक्सी बीएफ

मैंने भी उसकी चूत की चुदाई और तेज कर दी और दोनों ही मस्ती के सागर में गोते खा रहे थे.मैंने कहा- शाम का टाइम है, देख लो?बोली- सब देख लिया… तो चल।हम चल दिये.

तुम्हारे लिए ही हूं आज!लेकिन मैंने उसकी आवाज को अनसुना करके पीछे से उसकी दोनों चूची पकड़ लिया, चूची को जोर-जोर से मसलने लगा. राजस्थानी देसी सेक्सी बीएफ उनके घर पहुँचते ही उन्होंने मुख्य द्वार बंद कर दिया और बोलीं- आज जैसी चाहो, होली मना सकते हो.

तभी तारा ने अपने पर्स से एक रेडियो निकाला और उसमें अंग्रेजी में कहा कि हम आ गए हैं.

राजस्थानी देसी सेक्सी बीएफ?

अब मैंने दोनों हाथों को उसके पीछे ले जाते हुए प्रिया की ब्रा को निकाल दिया. उसकी बड़ी-बड़ी विशाल चूचियाँ एकदम खड़ी थी, निप्पल टाइट थे और गांड भी बिल्कुल शेप में थी. जो मेरा पति तुम्हारे पास है, वो पहले इनका पति ही था, जिससे इन्होंने तलाक़ देकर मुझसे शादी करवा दी है.

देवरानी ने बड़े प्यार से विनती की कि कृपा करके ला देना, इधर मिलता नहीं ये सब … जो मैं इस्तेमाल करती हूं और आपके देवर ध्यान भी नहीं देते. और फिर अशोक ने मयूरी को अपनी बाँहों में उठाया और उसको उठाकर अपने कमरे में लाकर अपने बिस्तर पर पटक दिया. हनी के साथ खेलने के बहाने मेरी भाभी भी मेरे साथ मस्ती करने लगी थीं.

फिर जब मैंने अपना आधा सिकुड़ा हुआ लंड उनकी गांड से बाहर निकाला तो मैंने देखा कि उनकी गांड मेरे वीर्य से लबालब भरी हुई थी और थोड़ा थोड़ा करके उनकी गांड से वीर्य उनकी चूत की तरफ बहने लगा था. मेरी एक उंगली पैंटी की साइड से अन्दर जाकर उसकी कोमल योनि के दाने से खेलना शुरू कर चुकी थी. मेरी चूत पूरी गीली हो चुकी और बहने लगी तो अब वही चूत का रस अंकित निकाल कर मेरे पिछवाड़े में मेरी गांड में लगाने लगा मेरे कूल्हे फैलाकर मेरी गांड के सुराख में जहाँ छेद था वहाँ एक उंगली हल्के से डालने लगा.

या यूं कहिए मेरा ऐसा चरित्र हनन ऐसा हुआ कि फिर तो मैं हमेशा अपने आप पास सेक्स की तलाश करने लगा. आह।फिर मैंने दीदी के मुँह में लंड डाला और दीदी के मुँह में झड़ गया।रात को 2:47 मिनट हो रहे थे। इसका मतलब मेरा पहला सेक्‍स 1 घंटा से भी अधिक देर तक चला था।उसके बाद हम दोनों नंगे ही साथ में सोये। निक्की दीदी ने बाद में अपनी सहेलियों को भी मुझसे चुदवाया। वह कहानी बाद में लिखूँगा।तब तक के लिए विदा।कैसी लगी मेरी सच्ची सिस्टर सेक्स स्टोरी? मुझे ईमेल करिये.

नेहा बहुत सुन्दर थोड़ी सांवली दुबली पतली, लंबी करीब 5 फुट 4 इंच की थी.

मैंने कहा- कौन, देवेन्द्र …?मुकेश बोला- इसका मतलब आप जानते हो, मैंने उसका नाम कब बताया था, बस लड़के के बारे में पूछा था.

लेकिन रेस लगाते हुए क्या कोई धीमी रफ़्तार से भाग कर जीतने की सोच सकता है! कुछ धक्के लगाने के बाद मेरे लंड ने स्वतः रफ़्तार पकड़ ली और मैं दुबारा हुचक-हुचक कर चुदाई करने लगा. फिर उसने भी मुझे कसके पकड़ लिया और अपने होंठों को मेरे होंठों से मिला दिया. अगर वो बात कर के आपस में सुलह नहीं करते तो उनकी वो कामदेवी बहन उन्हें अपना चूत तो क्या … एक चुम्बन भी नहीं देने वाली थी.

उसके बाद में वो मेरी बॉडी पर साबुन लगाने लगे, मेरे लंड और गांड के छेद पर अच्छे से साबुन मल दिया. वे मेरी गांड मारते हुए बोलने लगे- वन्द्या, मैं तेरी गांड को आज बहुत चोदूंगा. वो अपने पति से वो सब पाना चाहती थीं, लेकिन पति के द्वारा समय न दे पाने के कारण वो हमेशा ही प्यासी बनी रहती थीं.

हमारी टैक्सी लाल किले के निकट पहुंच रही थी; किले की गुम्बदें साफ़ दिखाई देने लगीं थीं इधर कम्मो की जांघों के बीच छुपा लालकिला भी मुझे ही पुकार रहा था जिस पर मुझे चढ़ाई करके जीतना था पर सुरक्षित जगह की वजह से पता नहीं जीत भी पाऊंगा या नहीं.

पर अब मुझे उसकी गांड में अपना लंड डालना था, तो मैंने लंड को बाहर निकाल दिया और उसे डॉगी स्टाइल पोज में होने को बोला. क्योंकि यह रिश्ता दिल से दिल का है, जिसे समाज ने नहीं, हमने खुद बनाया है. मैंने मामी से पूछा- हथियार बाहर निकालूं या आपकी चूत में ही विजय पताका लहराएं रखूं?मामी ने मुस्कान के साथ मेरे माथे पर चुम्बन किया और कहा- तलवार को म्यान में ही रहने दो.

मैंने तारा से पूछा- इतना लंबा चौड़ा … क्या ये ही माइक है?उसने हंस कर बताया- हां माइक 6 फ़ीट 6 इंच का है … पर शरीर की सुडौलता के कारण इतना भयानक दिखता है. मैं- कहाँ झडूं … चूत के अन्दर ही या बाहर?चाची- अन्दर ही झाड़ दे … तेरा वीर्य अन्दर गिरेगा तब ही तो चूत की गर्मी शांत होगी. उसने चुदाई शुरू की और कमरे में दोनों की जाँघों की तकरने की थप-थप की आवाज़ गूंज रही थी, साथ ही साथ मयूरी की तेज़ चुदाई की वजह से आहें भी निकल रही थी.

कुछ देर बाद हिमानी से जब मेरी नजरें ही नहीं हट रही थी तो भाभी ने हिमानी से कहा- हिमानी! जरा अपनी मम्मी को ऊपर ही बुला लाओ, अभी आमने सामने ही बात कर लेते हैं.

30 बजे मैंने मेरे गालों पर कुछ महसूस किया और मैं अपनी दोनों आंखें बंद किए हुए कुछ देर उस स्पर्श को समझता रहा. अब मयूरी को अपनी गांड मरवाने में मजा आने लगा और उसका दर्द आनन्द की आहों में परिवर्तित हो गया- आ… ह… आह… पापा…अशोक झटके मारते हुए- हुम्म्म… हुम्म्म… हुम्म्म…मयूरी- मजा आ रहा है पापा… आह… मुझे पता नहीं था कि गांड मरवाने में इतना मजा आता है… आह.

राजस्थानी देसी सेक्सी बीएफ क्याआआ …” प्रिया के मुँह से ये सुनते ही, मेरे मुँह से हैरानी के कारण निकल गया और मैं चौंक कर उसकी तरफ देखने लगा. अब दीमा संग हमारे लंड और सरलता से रूसी सुन्दरी की गांड में अन्दर-बाहर होने लगे.

राजस्थानी देसी सेक्सी बीएफ जैसे ही मेरी बीवी के मुख से ये शब्द सुने तो कोमल भाभी के चेहरे पे मुस्कान आ गई. वो बोली- तुम बहुत कमीने हो!फिर मैंने कहा- तो चलो तुमको आज कमीनापन दिखाता हूँ।मैंने उसके पेट पर हाथ फेरना शुरू किया और धीरे धीरे से उसकी कमर पर हाथ फेरने लगा और पेट को सहलाने लगा और उसके बूब्स को चूमते हुए पेट पर आने लगा.

मैंने एक बड़ी लम्बी सांस ली और अपने आधे खड़े लंड से उसका मुँह चोदने लगा.

लाइव गर्ल

फिर मैंने उनका पज़ामा भी खोल दिया और अब वो मेरे सामने सिर्फ ब्रा और पेंटी में थीं. मैं तो जे देख री थी की आप कैसे लट्टू हुए जा रहे हो उसे देख देख के!” कम्मो ने मुझे उलाहना सा दिया. ”मैंने कहा- दीदी, मैं वादा करता हूँ, आप परेशान ना हों, मैं कुछ नहीं करूँगा और ना ही कुछ होने दूँगा.

मैंने रूमाल खोला तो उसमें तरह तरह के नोट बेतरतीब ढंग से उल्टे सीधे मुड़ेतुड़े हुए रखे थे; दस, बीस, पचास, सौ … सब तरह के नोट थे. एक दिन मैं क्लास में अपने मोबाइल पर गे सेक्स स्टोरी पढ़ रहा था, उस वक्त यही टीचर मुझे पढ़ा रहे थे. मुझे ये सुन के बहुत अच्छा लगा कि अब जब तक भाभी वापस नहीं आ जातीं, मेरी बहुत चुदाई हुआ करेगी.

फिर मैं नाश्ता की प्लेट लेकर अपने रूम में चला गया और ब्रेकफास्ट करने लगा.

उसने नाइटी को पीछे से अपनी गांड तक उठा कर कुछ इस तरह पीछे कर दिया कि अगर कोई चाहे तो नाइटी का कपड़ा अगर पीछे से उठा दे तो उसके बैठे होने के वावजूद उसकी गांड को नंगी किया जा सकता था. फिर जब मुझे लगा कि प्रिया अब ठीक हो गई है, तो वैसे ही मैंने लंड को थोड़ा सा बाहर निकाल कर एक और जोर से धक्का दे दिया. इस पोज में मैंने झट से अपना कड़क खड़ा हुआ लंड, जो उनकी गांड पर मसलने से पहले से ही तैयार हुआ पड़ा था.

शबाना आंटी लगभग 55 साल उम्र की शरीर से मोटी लेकिन मस्त गोरी चिट्टी!गेट खुलने के बाद उनसे हमने पानी पिलाने को बोला तो उन्होंने कहा- अंदर आ जाओ।हम दोनों अंदर गए. मेरे सारे कपड़े तो पहले से ही भीग रहे थे, अब डर भी था और चुदने का मन भी कर रहा था. वो अपने पति से वो सब पाना चाहती थीं, लेकिन पति के द्वारा समय न दे पाने के कारण वो हमेशा ही प्यासी बनी रहती थीं.

सब जगह देखने के बाद वो फर्स्ट फ्लोर पर एक रूम में किसी लड़की से बतिया रहीं थीं. मैंने बैठने के बाद उसका नाम पूछा, तो उसने अपना नाम आंचल बताया और पूछने लगी- तुम मुझे इतनी देर से क्यों घूर रहे थे?मैंने कहा- आप हो ही इतनी अच्छी कोई भी देखेगा.

आज उसने उसको डॉगी स्टाइल में चोदा और उसके पहले दोनों ने 69 भी किया था. हम दोनों अब चुदाई करना चाहते थे, लेकिन चुदाई करने का मौका नहीं मिल रहा था. छोरियों की ये कमसिन उमर होती ही ऐसी है न इन्हें उठते चैन न बैठते चैन और इनके बूब्स में हल्का हल्का मीठा मीठा दर्द हमेशा बना रहता है जिसे किसी मर्द के हाथ ही दूर कर सकते हैं और इनकी चूत का दाना पैंटी से रगड़ रगड़ कर चूत में खुजली किये रहता है और इन्हें चैन नहीं लेने देता.

मैंने भाभी के दर्द को देखते हुए अपने लंड को बाहर निकाला और लंड पर थोड़ी क्रीम लगाकर लंड को पहले से ज़्यादा चिकना कर लिया.

अगली सुबह अशोक अपने दफ्तर चला गया और दोनों लड़के पढ़ाई करने कॉलेज और कोचिंग. दोस्तो, आज मेरी कहानी एक मेरी अन्तर्वासना पाठिका की है, जिसने मुझे अपने घर बुला कर चुत चुदाई कराई. मैंने झट से एक उंगली उसकी चूत में डाल दी और उसको आगे पीछे करने लगा.

जैसे ही मैंने उसकी चूत में थोड़ी सी उंगली डाली, तो उसकी मादक सिसकारियां निकलने लगीं. उसने मुझसे पूछा- क्या हुआ?तो मैंने अपने रिलेशन के बारे में उसे बता दिया.

मैचिंग कलर का ब्लाउज नुमा टॉप, जो उसकी नाभि के थोड़ा सा ऊपर तक आ रहा था और उसके ऊपर ब्लैक जैकेट. साथ‌ ही उसे फिर से उत्तेजित करने के लिये मैं उसके होंठों व गालों को चूमते चाटते हुए उसकी चूचियों को भी सहलाने‌ लगा. विक्रम- अरे हाँ… कल तो तुम्हारा जन्मदिन भी है न… वाओ!फिर तीनों भाई-बहन ने आपस में खूब चुदाई की.

भोजपुरी सेक्सी चुदाई पिक्चर

मैंने देर ना करते हुए अपना एक हाथ उसकी सलवार की डोर की ओर बढ़ा दिया.

मैं साइड में खड़ा था तो पूजा ने छलनी में से पहले चांद को देखा फिर मुझे देखा और फिर चांद की आरती की फिर मेरी आरती की. मेरी मस्त सेक्स स्टोरी पर आप अपने विचार मुझे मेल करें! कमेंट्स गर्म होने चाहियें. तू तो मेरी प्यारी प्यारी गुड़िया रानी है न!” मैंने बहुत ही मीठी आवाज में उसे मक्खन लगाया.

बाद में मेरे भाई ने मुझे बताया था कि वो बहुत सारी लड़कियों को चोद चुका था और उसको सेक्स कर बहुत अच्छा अनुभव है. पर फिर भी मैं तो उसे एकदम घूर घूर के देखने लगा लेकिन वो इतना नहीं देख रही थी. भाई और बहन के सेक्सी वीडियोएक ही हफ्ते में हम काफी अच्छे दोस्त बन गए क्योंकि मैं अपने उम्र से बड़ा ही दिखता था और मेरे कांड भी वैसे ही थे.

मैं विद्युत की रफ़्तार से दरवाजे तक गया और सेकंड से भी कम समय में दरवाज़ा खोल दिया।दरवाज़ा खुलते ही मेरे चेहरे से सारी ख़ुशी ग़ायब हो गयी, सामने मेरी नौकरानी खड़ी थी।क्या हुआ साहब… आप ऐसे क्यों आंखें दिखा रहे हो?” नौकरानी ने हैरत से देखते हुए कहा।शीला… आज तुम्हें सफाई करने की जरूरत नहीं है… तुम घर जाओ. अब मैंने प्रिया की चूत में एक उंगली डाली तो प्रिया ‘ओह्ह … आह आआ आआह …’ करने लगी.

”आह… पापा आपका लंड मस्त अंदर घुस रहा है… उम्म… जैसे मानो अंदर गड्डा खोद रहा हो. ये देख कर वो मेरी तरफ देख कर मुस्कारने लगीं और बोलीं- आज तो तुम्हारी सुहागरात मन गई. मैं भी दिन में बोर हो जाती थी इसलिए दोपहर में हम दोनों लोग फ़ोन पर बातें करते थे.

कविता के माता-पिता तुम्हारे खिलाफ पुलिस में शिकायत करने को कह रहे थे. मैं शहर की रहने वाली हूँ तो आप लोगों को तो पता होगा कि मैं कितना फैशन में रहती हूँ. मैं अपने लंड को थोड़ा नीचे ले गया, जहाँ दीदी की चुत थी तो वह पूरी तरह खुली हुई और गर्म थी.

यह सुन कर मुझमें जोश आ गया और साली को दीवार पर चिपका कर उसकी ब्रा निकाल दी.

ऐसा कम्मो ने जानबूझ कर किया था या यूं ही उसका हाथ मेरे लंड पर पड़ गया था, मैं कुछ समझ नहीं पाया. मेरी चूत में से पानी निकलने लगा और उसके लंड में से भी पानी निकल रहा था.

किस मूड में थी यह जालिम औरत। मैं कशमकश का प्रदर्शन करता उसे देखता रह गया और वह उठ कर बाथरूम में घुस गयी।वैक्सिंग के सामान को हटा कर मैं उसी टेबल पर बैठ कर मसाज का वीडियो देखने लगा। यह कोई नयी चीज नहीं थी. जब भी मैं उसके कमरे में जाती तो इधर उधर भी देखा करती थी ताकि कुछ ऐसा उसके सामने मिल जाए, जिससे मैं उससे पूछूँ कि यह सब क्या है. इमरान भाई, आप अपनी छोटी बहन को चोदेंगे।” उसने शरारत से मुस्कराते हुए कहा।क्या हर्ज है.

उसने कहा- बोलो क्या कहना है?मैंने उससे कहा कि देखो तुम मुझे माँ एक बार नहीं सौ बार मत मानो. मुस्कान मुझे अपने पहले सेक्स की कहानी बता चुकी थी, मैंने उस से पूछा- मुस्कान जब तुमने पहले सेक्स किया था. उसके आगे की ओर गांड खिसकाने से लंड भी बाहर आ गया, बस टोपा भर अन्दर घुसा रहा था.

राजस्थानी देसी सेक्सी बीएफ सुबह उठकर वो गर्व से बोला- अगर कोई लौंडा भी होता तो भी तुम्हें इतनी बार ना चोद पाता. ’वो बस इतना ही बोली और अचानक से वो मेरी तरफ पलट कर मेरा लंड चूसने लगी.

सोनम भाभी सेक्सी वीडियो

वो फटाफट घर गयी और बाथरूम जा की अपने उंगलियों को अपनी चुत में डाल कर अंदर-बाहर करने लगी. खैर जैसे-तैसे शाम हुई, अशोक घर आया और अपने कमरे में आराम करने चला गया. लेकिन दूसरी ओर उसके अनछुए यौवन का भोगने की लालसा भी मुझे उकसा रही थी.

नमस्कार दोस्तो, मैं कमल राज सिंह आपका पुराना दोस्त एक बार फिर अपनी कहानी लेकर हाज़िर हूँ. वे अभी थोड़े जवान हैं और गांव में रहने से उनकी कद काठी भी बहुत अच्छी बनी हुई थी. सेक्सी वीडियो इंडियन ब्लू फिल्ममैंने उसे पूछा- तुम्हें कैसे पता?तो उसने कहा- मेरी सहेली ने अपनी सुहागरात के बारे में बताया था कि पहली बार की चुदाई में थोड़ी देर दर्द होता है … इसके बाद बहुत मजा आता है.

शायद आज से भाभी ही सब काम कर देंगी, पर डर के मारे मेरा पूरा बदन काँप रहा था.

मुझे चुदाई की कहानियां पसंद हैं, जब कभी भी मुठ मारने का मन करता है तो मैं अन्तर्वासना पर कहानियाँ पढ़ना शुरू कर देता हूँ और मुठ मार लेता हूँ. तब पूजा बोली- क्या हुआ रुक क्यों गए? 5-6 धक्के और मार देते तो मेरी चूत झड़ जाती.

मैं अपना कड़क लंड उनकी चुत पर घिसते हुए, उनकी गदरायी जाँघों पर अपनी जांघें घिसते हुए और ज्यादा गरमी पैदा कर रहा था. बस मेरी प्रमोशन होने वाली है क्योंकि जितनी भी रिपोर्ट मैंने लिखी है, वो सबकी सब बहुत ही अच्छी मानी गई हैं. पति ने कहा- मेरा लंड तुम्हारी चुत में अटक गया है, धक्के मारूंगा तो तुम्हें दर्द होगा.

मैं उसकी चूत को कभी चाटता तो कभी उसके चूत के दाने को अपने होंठों से दबा देता, जिससे प्रिया की सिसकारी और भी तेज हो जाती और वो जोर जोर से सांसें लेने लगती.

तुझे यहां दस से पंद्रह दिन रहना है मैं तुझे मालामाल करवा दूंगा। तू किसी ना किसी से तो चुदवाएगी ही और पहले भी चुदाई करवाती ही रही होगी, पर मेरी एक बात मान ले तू कभी भी किसी से फ्री में मत चुदवाना, सब करना पर उसके लिए कुछ पैसे बोल दिया कर, तुझे मजा भी मिलेगा और कुछ पैसे भी आ जाएंगे. मुझे उस टाइम पर कोई गे सेक्स का आइडिया नहीं था कि ऐसा भी कुछ होता है. उसको ठीक कराकर घर छोड़ने में रात हो गयी, जिसका धन्यवाद उसने मेरे होंठों पर किस करके दिया.

सेक्सी दीजिए वीडियो परमैंने कहा- क्या बात है मेरी रानी … आज बहुत रोमांटिक मूड में है?तो वह बोली- आज इस बारिश ने मूड रोमांटिक कर दिया!मैंने कहा- अच्छा ऐसी बात है तो आओ हम जन्नत में चलते हैं. मेरी ईमेल आइडी है[emailprotected]आपके कमेंट्स का इंतजार रहेगा, धन्यवाद।.

हिंदी बीपी सेक्सी भेजो

आंटी के ये कहते ही मैं उनकी गदरायी हिलती हुई गांड को देखते पीछे से घर में घुसा. मेरी यह बात सुनकर उसने मुझे सहारा दिए रखा और जब मैंने कमजोरी का सा दिखावा जारी रखा, तो उसने मुझे गोद में उठा कर कहा- चलो मैं तुम्हें वहाँ पेड़ के नीचे लिटा दूं. मैं इस तरह से बैठा था कि उसे मेरा फटा हुआ पजामा अच्छी तरह से नजर आए.

मुझे देख कर वो उठने को हुईं, तो झुकने की वजह से उनके चुचे गाऊन बाहर आने के लिए बेताब दिखे. एक रात खाना खाने के बाद मुझे अलमारी से दवा लाने को बोले और एक गिलास में पानी के साथ मिलाकर पीने लगे. क्योंकि मेरे घर के मुख्य दरवाजे की चाभी दो लोगों के पास रहती है, एक मेरी मम्मी के पास और एक मेरे पास.

जैसे ही उन्होंने अपनी चड्डी निकाली, उसका लंबा सा लंड मेरे आंखों के सामने था, मैं उसे एकटक देखे जा रही थी. शायद इस सबसे मौसी को भी मजा आने लगा था और उनके मुँह से धीरे धीरे ‘ओआह. देखना कहीं वो तुझे बिगाड़ न दे बेटी!मैंने मन ही मन कहा- बिगाड़ तो आप लोगों के रात वाली खेल ने दिया है मम्मी! क्या करूं मैं?मैं फिर फ्रेश होकर टीवी देखने लगी.

आख़िर मैंने ही फैसला कर लिया कि मैं अब इसके साथ नहीं रहूंगी और रोते रोते धीरज को अपनी बात कह दी। मगर इसका भी उस पर कोई असर नहीं हुआ।धीरज ने चुपचाप अपनी बदली भी शहर की दूसरी शाखा में करवा ली। अब मुझसे सिवा घर पर मिलने के अलावा और कोई समय नहीं मिलता था और घर पर वो मुझसे कोई बात नहीं करते थे। दुखी होकर एक दिन मैं ही अपने पिता के घर चली आई, उनसे कहा कि मैं कुछ दिन आपके साथ रहना चाहती हूँ. कई बार तो हमने बाहर होटल में जाकर भी खुब चुदाई की।और एक बात जो मैं सभी पाठकों को ख़ास तौर से बताना चाहूँगा कि संगीता में एक बहुत बड़ा गुण था कि वो लण्ड को चूसना बहुत अच्छे से जानती थी।आप लोगों को मेरी यह सेक्स कहानी कैसी लगी? प्लीज मुझे मेल करके बतायें और अगर कोई गलती हो तो मुझे क्षमा करें। मेरी कहानी पढ़ने के लिए धन्यवाद.

मैंने उसका हाथ पकड़ा और अपने कच्छे के ऊपर से अपने लिंग पर रख दिया और उसे सहलाने की इशारा किया.

दोस्तो, आपको मेरी चूत की हवस की स्टोरी कैसी लगी? मेरी इमेल आईडी पर मेल करके बताएं!आपकी रूपिंदर कौर[emailprotected]. गणपति का भजनचाची अपने मोटे चूतड़ उछाले जा रही थीं और मैं चुची चूसते हुए चाची की चूत में लंड पेल रहा था. ब्लू सेक्सी पिक्चर वीडियो दिखाइएमेरी पत्नि सहमति में सिर हिलाते हुए बेड पर लेट चुके दीमा के पेट के ऊपर पैर फैला कर घुटने अगल-बगल में टिकाए हुए बैठ गई. इतने दिनों का कॉलेज का काम भी बाकी था, तो उसने मेरे से नोट्स मांगे.

इस बात को लेकर मुझमें और सृष्टि में कभी कभी शर्त भी लग जाती थी कि किसकी मुस्कुराहट ज्यादा प्यारी है.

किसी पुरुष से शारीरिक संबंध के बाद उसका प्रेम और अपनत्व अत्यंत प्रगाढ़ हो जाता है. उन मेल में आप सबने मुझसे अगली कहानी लिखने के लिए भी बोला था, तो आज मैं अपनी दूसरी कहानी आप सभी के मजे के लिए लिख रही हूँ. इस बार मैंने उसकी एक नहीं सुनी और झटके से लंड को उसकी चूत में जड़ तक घुसा दिया.

मैं उनके चूचों को नंगा करके चाटने लगा और मौसी ‘आह्ह्ह ऊहह्ह्ह …’ करने लगीं. इसलिए मैंने उनकी आँखों में झांकते हुए कहा- अच्छा ये बताओ कि आपने उस औरत को देखा है, जिसके साथ आपके पति का चक्कर चल रहा है?आंटी बोलीं- हां देखा है. जब मैंने उससे पूछा कि घर में क्या बोला है?तो उसने हंस कर बताया कि वो सहेली की शादी का बहाना करके आई है.

मॉम एंड सन हॉट सेक्सी वीडियो

पहले तो मुझे प्राब्लम हुई, फिर मैंने सोचा कि भीड़ में क्या कर सकती हूँ. अगले कुछ दिनों बाद मुझे मुन्ना की माँ ने बताया कि वो 50 के करीब अपने रिश्तेदारों को बारात में लाएगी और शादी की तारीख भी बता दी. उसी की ये कहानी है, बहुत बार हम कहानी पढ़ते हैं कि कोई लड़की, भाभी मिली, जो सेक्स के लिए तड़प रही हो और उसके साथ सेक्स किया, मगर हमारे जिंदगी में ऐसा नहीं होता.

किसिंग फिर से शुरू हुई और इस बार मैं उसे एक स्मूच करते करते नीचे को आने लगा.

फिर उसने अपने हाथ से मेरा लंड पकड़ कर अपनी चूत के छेद पे लगाया और बोली- अब धक्का लगाओ!मैंने जोर लगाया तो मेरे लंड का सुपारा अंदर चला गया, मुझे ऐसे लगा जैसे मैं कोई जन्नत की सैर कर रहा हूँ.

शायद आज से भाभी ही सब काम कर देंगी, पर डर के मारे मेरा पूरा बदन काँप रहा था. यों तो कई बार मैंने उसकी चूत चूमी थी लेकिन आज एक अलग स्वाद आ रहा था और मैं उसकी चूत में मदहोश होने लगा और उसकी चूत के अंदर जीभ से कुरेदने लगा. रक्षाबंधन quotes in marathiकैसा लग रहा है?मामी जी- आज से पहले मुझे पता ही नहीं था कि गांड चुदाई में इतना मज़ा आता है.

इधर राजीव अंकल भी अपना लंड मेरी गांड में अन्दर बाहर जोर से करने लगे. मैंने भी थोड़ा सा गिरने का नाटक किया तो वे स्टूल के बजाय मेरी कमर को पकड़ के मुझे संभालने लगे. क्या यही समझा था तुमने मुझे आज तक?अगले दिन जब वो ऑफिस में आया तो मैंने उससे कहा- मुझे नहीं करनी कोई भी बात, तुमने मुझे बहुत रुलाया है.

इसके लिए मैंने उनके कमीज के अन्दर हाथ डाल दिया और मौसी की ब्रा के ऊपर से ही उनके मम्मों को दबाने लगा. वो भी मस्ती से लंड का अहसास करते हुए आराम से अपनी स्कूटी चला रही थी.

मनोहर का लंड मेरी जांघों के बीच में ऐसे चुभ रहा था, जैसे कोई लोहे का रॉड हो.

अब मैं समझ गई कि वो आदमी भीड़ का बहाना लेकर मेरी गांड के मज़े ले रहा है. अच्छा पहले बत्ती बुझा दो फिर जल्दी से!” वो अपना फैसला सुनाती हुई सी बोली. यह बात उन दिनों की है, जब मैं इंजिनियरिंग के फाइनल इयर में था और सेमेस्टर लीव के लिए चेन्नई से वापस अपने घर आ रहा था.

सेक्सी पिक्चर गुजराती मराठी उसके बूब्स मस्त लग रहे थे, एकदम कड़क मीडियम साइज के, न ही बड़े औऱ न ही छोटे …मैं तो उसको देखता ही रह गया. उसने फिर भी कोई तरस नहीं खाया और एक और धक्का दे मारा, जिसका नतीजा हुआ कि उसका लंड आधे से ज़्यादा गांड में घुस गया था.

तुम कैसे अपनी रातें काटती होगी, यहां तुम्हें सेक्स का सुख भी मिलेगा और सेफ्टी भी, ऊपर से वो तुम्हें 2 नाइट के लिए 1 लाख रूपया भी देंगे. मैंने अपने ऊपर से रज़ाई हटाई और दोनों तकियों के साथ सेक्स शुरू कर दिया. मेरे चाचा चाची और उनके बेटे, मतलब मेरा भाई और भाभी हमारे पुश्तैनी गांव में रहते हैं.

सेक्सी वीडियो चाहिए चोदी चोदा वाला

मैंने कोमल भाभी से पूछा- ये सब मेरे साथ ही क्यों?तो बोलीं- ये बहुत लंबी कहानी है…. क्योंकि मैं लड़की को पूरा गर्म करके बेकाबू करके अपने काबू में लेता हूँ. उसने घोड़ी बने हुए ही बिस्तर के सिरहाने रखे अपने हैंडबैग में से क्रीम की डिब्बी निकाल कर मुझे दे दी.

जैसे ही मेरी निगाहें नीचे गईं तो मैंने देखा सामने पान की दूकान पर सत्यम खड़े थे और वे ऊपर ही देख रहे थे. मेरे झड़ने के साथ साथ पूजा एक बार फिर से झड़ गयी और मुझसे लिपट गयी और मुझे चूमने लगी.

अब मयूरी को अपनी गांड मरवाने में मजा आने लगा और उसका दर्द आनन्द की आहों में परिवर्तित हो गया- आ… ह… आह… पापा…अशोक झटके मारते हुए- हुम्म्म… हुम्म्म… हुम्म्म…मयूरी- मजा आ रहा है पापा… आह… मुझे पता नहीं था कि गांड मरवाने में इतना मजा आता है… आह.

जिस वजह से मेरा लंड अब तेजी से एक पिस्टन की तरह उसकी चुत में अन्दर बाहर हो रहा था. तभी मनोहर ने अपना लौड़ा मेरे मुँह के पास लाकर बोला- साली छिनाल वन्द्या, चल आज मेरे लंड को इतना चूस. फिर सर ने मुझे सोफे पर पटक कर मेरे पैरों को अपने कंधे पर टिकाए और अपना लंड मेरे गांड में फिर से घुसा दिया.

जो मेरे बाप ने आपके नाम लिखा है उसे अपने नाम पर ही रहने दो और अगर कोई पूछे तो कह देना कि मनोज ने अपने नाम करवा लिया है. मेरी चुत के छेद को उनके लंड का सुपारा जाने कैसा गर्मागर्म सा लगा, उस फीलिंग को शब्द में बता नहीं सकती. एक सेक्सी डीवीडी और एक मूवी की डीवीडी ले कर आया था, मैंने सोचा था कि घर जाकर देखूंगा और मुठ मार कर मज़े करूंगा.

इधर मेरी रेशमा रानी मेरे लंड को चूस रही थी, चूस कर फिर से खड़ा करना चाह रही थी.

राजस्थानी देसी सेक्सी बीएफ: उस समय हम डॉगी स्टाइल में चुदाई कर रहे थे तो चाची को मेरा लंड पूरा का पूरा दिखाई दे गया. कम्मो के हिसाब से मुझे मोटोरोला का जी फाइव ज्यादा अच्छा लगा, बारह हजार के क़रीब कीमत थी.

मैंने एक बड़ी लम्बी सांस ली और अपने आधे खड़े लंड से उसका मुँह चोदने लगा. स्लैब पर चढ़ जाने के बाद अपने गाउन को और ऊपर ले लिया और गांठ बांध ली. इसके बाद हम लोग एक दूसरे को देखते भी हैं, तो एक दूसरे को देख कर स्माइल कर देते है.

लड़की वालों के यहां तक बारात पहुँचते पहुँचते कम से कम दो घंटे तो लगेंगे ही.

वो हंसते हुए अपने पल्लू को गिराते हुए और भी ज्यादा कामुकता दिखाने लगीं और बोली- वैसे सिर्फ़ बातें ही करता है या अब तक कोई शानदार काम भी किया है?इतना कह कर आंटी मेरे खड़े होते लंड की ओर देख कर हंसने लगीं. मैंने धीरे धीरे हाथ चलाना चालू किया और मैं ठीक उसके मुँह के पास आ गयामैंने उससे बातों में उलझाया और इस तरह से उसके दूध को मसाज करने लगा. मैंने सोचा कि मुझे देखने के लिए आया होगा, शायद मुझसे शादी की बात हो रही होगी.