ब्लू बीएफ सेक्सी एक औरत दो मर्द

छवि स्रोत,पति को प्यार से बुलाने वाले नाम

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी वीडियो में नेपाली: ब्लू बीएफ सेक्सी एक औरत दो मर्द, नाश्ता करने के बाद मेरी सास ने कहा- जाओ कमरे में आराम करो, कल रात नींद पूरी नहीं हुई होगी.

सेक्स करने की दवाई

मैं किसी का नाम खुलासा नहीं करना चाहूँगा लेकिन मुझे इतना प्यार और सत्कार मिला, इसका मैं आपका तहे दिल से आभारी हूँ. তেলেগু সেক্স ভিডিওइतनी रात को घर जाने के लिए कुछ साधन नहीं मिल रहा था, तो मेरे एक दोस्त विशाल ने कहा कि तुम लोग मेरे रूम पे चलो, पास में ही है, सुबह चले जाना, अभी काफी रात हो गई है.

मुझे रानी से जलन हो रही है, काश तू मेरा सगा भाई होता और मैं रोज़ तेरे लंड से चुदाई करवाती. बड़े लोगों का सेक्सइसके बाद अशोक और उसके दो दोस्तो को छोड़ कर बाकी के सबको वहाँ से भगा दिया गया.

दो दिन बाद मेरे मोबाइल में उसका फोन आया कि उसने मेरे लिए एक मस्त माल ढूंढ लिया है.ब्लू बीएफ सेक्सी एक औरत दो मर्द: धीरे धीरे करके वो नीचे की तरफ सरकता आया और अपने दांतों से मेरी पेंटी को मुँह में दबा लिया.

इतने में ही वो वापस आईं और उनके हाथ में 50 ग्राम का एक तोला(वजन तोलने वाला बाट) और एक सेलोटेप था.दीदी ने दो लड़कों के साथ भी दो वीडियो दिखाईं, जिसमें दीदी और वो लड़के नंगे थे.

डीजे बनाना - ब्लू बीएफ सेक्सी एक औरत दो मर्द

अब मेरी सांस रुकने लगी तो जैसे ही मैंने मुँह से सांस लेने की कोशिश की तो उसका सारा माल मेरे अन्दर चला गया.ऊपर से नीचे तक उसकी हाथ की पांचों उंगलियों को अपने मुँह में ले कर चूसा.

मैंने उनके पीछे से मेरा लंड दोबारा उनकी चुत में पेल दिया और ज़ोर ज़ोर से धक्के मारने लगा. ब्लू बीएफ सेक्सी एक औरत दो मर्द मैंने जब ये सेक्स वाली बात ऋतु को बोली तो वो भी घबरा गई, लेकिन बाद में मजबूरी में वो मान गई.

फिर मैंने कहा- चाची, थोड़ा हल्के से चूसो, जैसे किसी कुल्फ़ी को चूसते हैं.

ब्लू बीएफ सेक्सी एक औरत दो मर्द?

फिर मैंने जोर का धक्का लगाया, मेरे लंड के अन्दर घुसते ही उसकी चीख निकल पड़ी- उम्म्ह… अहह… हय… याह… अह्ह उई माँ मर गई… बाप रे कितना गरम लंड है ये अह्ह्ह प्लीज़ निकाल लो…मैंने कहा- अभी कुछ देर दर्द होगा फिर तुम्हें बहुत मजा आएगा. जैसे ही उसने मुझे हग किया, मेरा लंड अकड़ कर खड़ा हो गया, मेरा ईमान खराब होने लगा. तभी वो मुझसे बोली- आप कौन है?मैंने उसको कुछ नहीं बताया और सीधा घर आ गया.

उस दिन अर्पिता ने स्कर्ट पहनी हुई थी, जो पानी के कारण ऊपर हो रही थी. मैं अभी सो ही रहा था कि अचानक मैंने मेरे सर पर किसी का हाथ महसूस किया. सुबह जब मैं उठा, तो मेरे दिमाग में वही सब बातें चल रही थीं, जिस कारण मेरा लंड काफ़ी टाइट पोज़िशन में सीधा खड़ा हो रहा था और मेरे निक्कर के ऊपर से ही उभर कर दिख रहा था.

मैं- नहीं मेरी जान, सेक्स में नयापन कभी ख़त्म नहीं होता, हम हर बार कुछ नया करेंगे और हर आसन में चुदाई करेंगे, बस तुम मेरा साथ देती रहना!अर्पिता- धत! मैं सिर्फ तुम्हारी हूँ, तुम्हें चाहती हूँ, जो बोलोगे वो करुँगी, इस चूत के मालिक तुम हो, जैसे चाहो इस्तेमाल करना, यह देखो तुम्हारे नाम की जो मेहँदी लगाई थी उसका रंग अभी भी कम नहीं हुआ है. मैं बस उनकी बात को सुनकर मुस्कुरा कर रह गया और धीरे से मन में कहा कि हाँ रानी अबकी बार तेरी चूत में मेरी पिचकारी चल जाए तो ही लंड को चैन आ पाएगा. फिर धीरे धीरे उसकी जाँघों से किस करते हुए नीचे तक पूरे पैर पर किस किया, सभी उंगलियों को मुँह में ले कर चूसा.

और फिर मैंने पूनम की चूत में प्लास्टिक का लण्ड डाला तो पूनम और तेज आहहहह उम्म्ह… अहह… हय… याह… करने लगी और बोली- दीदी, आज तो बहुत मजा आ रहा है… इतना मजा तो मेरे पति नहीं दे पाये मुझे कभी यार! तुमने तो मेरी चुदाई की इच्छायें पूरी कर दी!और वो अपने चूतड़ उठा उठा कर अपनी चूत मेरे मुँह में पेलने लगी. कुछ देर के बाद वो थोड़ा तेज स्वर में चीखते हुए चुदाई करने लगा, मैं जान गई कि उसका पानी निकलने को हो गया.

अब वो और जोर जोर से गीता की चुत में अपने लंड के धक्के मारने लग गया.

वो झटके से सर उठा कर मेरी ओर देखने लगीं, मैं भी उनको देखने लगा; हम दोनों की आंखें मिलीं और उन्होंने कामुक अंदाज़ में अपने होंठों को दाँत के बीच काटा और ‘आहहह्ह्ह…’ किया.

मैंने जब जॉब शुरू की तो मेरी टीम में मेरे साथ एक भाभी थी जिसका नाम महक (बदला हुआ नाम) था. मैंने कहा- मेरी जान अब शरमाओ मत… ये तुम्हारा ही तो है, चलो अब इसे थोड़ा प्यार करो, जैसे मैंने तुम्हारी चूत को प्यार किया था. वो- तुम्हारे मन में चल क्या रहा है? कहीं ये चुदाई की बातें कर करके तुम्हारा मन भी कहीं…इतना कहकर उसने मेरा बेल्ट खोल दिया और मेरा लंड सामने आते ही आह कर के उसे हाथ में लेकर मसलने लगी.

उसके खरबूजे जैसे गोल गोल कसे हुए गुंदाज नितम्ब तो जैसे कहर ही ढा रहे थे. मैंने जब शीशे में अपनी चुत को निहारा तो मैं उसे देख कर एकदम हैरान रह गई. अब नीलम भाभी नीचे बैठ गईं और पूनम खड़ी हो कर अपनी चुचियां चुसवाने लगी.

आंटी पूरी तेज आवाज में ‘आ आ आ आ ई ई उ उ आ आ…’ की तेज आवाज कर रही थी.

भाभी के बदन से नाईटी को निकाल कर दूर फेंका तो देखा भाभी ने भी अन्दर कुछ नहीं पहना था. कम से कम आधा घंटा यह सब करने के बाद बिना कुछ कहे उसने अपना लंड मेरी चुत में घुसा दिया. भाभी ने अपना हाथ बढ़ा कर मेरा लंड पकड़ लिया, तभी मैंने झुक कर उनके होंठों को चूमा, फिर चूसने लगा.

अगले दिन कॉलेज में मिली तो मैंने पूछा- पट्टी करवाई?ऋतु- नहीं…मैं- क्यों?उसको घुटने के थोड़ा ऊपर चोट आई थी. मैंने बहुत अच्छे से मेकअप किया, आज मैंने रेड कलर की स्कर्ट और ऊपर व्हाइट टॉप पहना नीचे मैंने ब्रा नहीं पहनी, सिर्फ पैंटी पहनी और जल्दी सुबेरे 9:00 बजे मम्मी से झूठ बोलकर बहाना बनाकर मैं सतना गई।तभी वहां मुझे बस स्टैंड के पास काफी हाउस के सामने थोड़ी देर में सुरेंद्र जीजा अपनी बाइक लिए खड़े मिले, मैं उनके साथ बैठ गई. जब मैं लेडीज टॉयलेट में घुसा तो क्या देखता हूँ उसने अपनी सलवार उतारी हुई है.

इधर उसी वक्त जैसे ही मैंने धक्का लगाया तो मेरा लंड उसकी चुत से बगल में फिसल गया.

मैंने जगह देखकर गाड़ी साइड में लगा ली, वहां रोड की लाइट नहीं चल रही थी. लोगों के जागने का टाइम हो चला था इसलिए मैंने झटपट कपड़े पहने और अलका रानी की 8-10 चुम्मियाँ लेकर चुपके से पिछले दरवाज़े से निकल कर अपने घर चला गया.

ब्लू बीएफ सेक्सी एक औरत दो मर्द मैं उसको थूकना चाहती थी मगर अशोक मेरे को लंड का वीर्य पिलाना चाहता था. आंटी ने पूछा- कभी सेक्स किया है?आंटी को क्या पता कि मैं अपनी मौसी के साथ पूरे एक साल से सब करके आया हूँ.

ब्लू बीएफ सेक्सी एक औरत दो मर्द दोस्तों मेरा अपना अनुभव है, जो मज़ा एक नई लड़की नहीं देती, वहीं एक शादीशुदा चुदी चुदाई चूत देती है. यह सेक्स कहानी दो दोस्तों के बीच पहले प्रेम और बाद में आगे बढ़कर हुए संबंधों के बारे में चर्चा करती है!मेरा नाम नीरज समझ लो! उम्र 28 साल, दिखने में ठीक-ठाक हूँ! कॉलेज के दिनों से ही मैं बहुत शर्मीला था, कभी लड़कियों से गहरी दोस्ती नहीं की थी पर विज्ञान का छात्र होने के नाते बहुत सारी चीजें जानता था.

एक दिन मैं दफ्तर से जल्दी घर आया तो मैंने अपनी पुत्रवधू को पूर्ण नग्न बिस्तर में सोती पाया.

सेक्स बीएफ जबरदस्त

इस सेक्स स्टोरी में हुआ यूं कि मैं अपनी मौसी के घर से पूरे एक साल बाद अपने घर आया था. मेरे खड़े लंड को देख कर भाबी की दोनों आँखें बड़ी हो गईं और उनके दोनों हाथ मुँह पर आ गए. जैसे ही मैंने उँगलियों के बीच के भाग पर जीभ से टुकुर टुकुर की तो अलका रानी के सब्र का बांध टूट गया.

मेरी मौसी का परिवार गांव में रहता है, जबकि हमारी फैमिली यहां शहर में रहती है. मैंने फिर पूछा- भाभी, क्या हुआ?भाभी- देवर जी, तुम्हारी ये शु शु नहीं, अब लण्ड हो गया है तुम बड़े हो गए हो!इतने में भाभी ने लण्ड को पकड़ा तो उनके हाथ की मुठ्ठी में आधा आया और आधा बाहर ही था. उनके पति टीचर हैं, उनकी एक बेटी है 8 साल की… वो मुझे बहुत अच्छी लगती हैं.

रास्ता थोड़ा खराब था, इसलिए जब भी ट्रक किसी गड्डे में आने से हिलता तो मेरे मम्मों के काले निप्पल तक ब्लाऊज के बाहर निकल आते थे.

मौसी तो एक बार झड़ कर कुछ शांत सी हो गयी थी लेकिन मेरे लंड का तो बुरा हाल था, मैंने मौसी को मेरा लंड चूसने को कहा तो उन्होंने एकदम मना कर दिया. तीसरे दिन जब मैं खाना खा कर सोने के लिए गया तो मैंने देखा भाबी के कमरे से कुछ आवाज़ आ रही है. मेरे प्यारे पाठको, आपको मेरी सेक्स कहानी कैसी लगी, कृपया मुझे कमेंट्स में सूचित करें.

इसलिए उसके लंड को अन्दर जाने में ज़रा भी प्राब्लम नहीं हुई… बस मुझे जरा सा दर्द हुआ. मैंने आँख खोली तो केबिन में नाइट लैम्प रोशन था जिसकी हल्की रोशनी में मैंने देखा कि भाईजान खुद ही मेरे पास खड़े हैं और अपने एक हाथ को धीरे-धीरे मेरी एक चूची पर चला रहे हैं. भाभी भी उसी स्टेशन पर उतर गई मेरे साथ,मुश्किल से 4-5 लोग ही थे इस प्लेटफॉर्म पर भी.

मैडम को डबल मजा आने लगा और कुछ ही देर में मैडम एकदम से अकड़कर बोलीं- आह मयूर मेरी जान. मेरे इशारा मिलते ही दो तीन लड़कियाँ उसके साथ हमेशा ही खुल कर नंगी बातें करती थीं और उसको बताया करती थीं कि चुदाई में कितना मज़ा आता है.

वो बेड पर सीधी लेट गईं, उन्होंने पूरी तरह से खुद को मेरे हवाले कर दिया था. पूजा उठ कर बाथरूम में जाने लगी तो सुहानी बोली- यहाँ कोई और है जिसने तुझे देखा नहीं है क्या?यहीं खड़ी हो कर पूजा ने भी सूट पहन लिया और मैं भी अपना ट्राउजर पहनने को हुआ तो सुहानी ने मुझे पकड़ लिया- जीजू, तुम यूं ही अच्छे लग रहे हो. मैंने कहा- फिर आप डिस्को कैसे देखोगी?दीदी ने कहा- अगर तुम मेरा साथ दो तो काम बन सकता है.

मैंने झट से उसे बाँहों में उठाया और बेड पर पटक कर, उसकी टांगें चौड़ी करके एक ही झटके में पूरा लण्ड चूत में ठोक दिया.

पापा भी ये बात जानते हैं, पर पापा के बूढ़े होने के कारण, वो उनको मारपीट करके धमका कर रखता है और इसी कारण वो मेरी शादी भी नहीं होने देना चाहता है. एक बार उसकी चूत में लंड को डाल देता और अगली बार उसकी गांड में धकेल देता. मैंने देखा तो उसने मुझे आँख मारते हुए बोला कि ये भी ले लो, काम आता रहता है.

फिर उसने मुझसे कहा- मैं दिन में अच्छे से बात नहीं कर पाऊँगी, घर पे घर वाले रहते हैं, तुम रात में आना, तब बात करेंगे!मैं रात होने का इंतज़ार करने लगा. यह कह कर भाबी ने तौलिया खींच लिया और मैं कुछ समझ पाता, इससे पहले उन्होंने नीचे बैठते हुए मेरे लंड को पकड़कर कर अपने मुँह में भर लिया और चूसने लगीं.

ये सारी बात मैंने अपने पार्टनर को बताई और कहा- कल तू दीदी के यहाँ चला जा. मेरा सारा ध्यान टीवी देखने में था, मामा जी तो शराब के नशे में थे और बेड पे लेटते ही सो गये और बच्चे भी बहुत थके हुए थे तो वो भी सो गये थे. मकान मालिक मेरे पीछे आ गए और बोले- हाथ ऊपर करो वन्द्या!मैंने नहीं किये तो अपने आप करवाए और मेरे टॉप को नीचे से खड़े खड़े उतार दिया, जैसे ही मेरा टॉप उतरा… तब पीछे खड़े मकान मालिक सीधे मेरी पैंटी के ऊपर से ही मेरी पीछे गांड में अपना लन्ड रगड़ने लगे और पीछे से मेरे दोनों दूध कस के पकड़ लिए.

हिंदी हिंदी सेक्सी बीएफ वीडियो

मैंने पूछा- क्या शर्त है आपकी?इस पर उसने जो बोला, उसे सुन कर मैं थोड़ी देर के लिए सन्न हो गया.

अब मैंने पीछे देखा तो पानी का प्रेशर सीधा भाभी की गांड के बीचों बीच में लग रहा था तो उनकी आँखें बंद हो गई थीं और उनके होंठ कांप रहे थे. उधर उन्होंने आशीष को पूरी तरह से समझा दिया था कि आज तुमको इस मुर्गी को अच्छी तरह से चोद कर हलाल करना है और मैं सब कुछ देखने के लिए वहीं पर रहूंगी. पूजा ने मुझसे कहा- मेरी बहन की तो शादी होने वाली है, तुम तो अकेले हो जाओगे.

मैं बोला- मैं नहीं मानता, मैंने सब कुछ अपनी आँखों से देखा है, मैं तुम पर यकीन कैसे कर लूँ?वो बोली- मैं कसम से कहती हूँ. उम्म्मम्म…”अभी तो बॉल्स भी चूसूंगी मेरी जान…”हां जान चूसो मजा आएगा. लड़की दीवानी लगेतभी उसकी आवाज़ आई- ओ हेलो जनाब… कभी लड़की नहीं देखी क्या?तभी उसका हाथ पकड़ते हुए मन में सोचा कि लड़कियाँ तो बहुत देखी है पर तुम्हारे जैसी हॉट और बोल्ड आज तक नहीं देखी, तेरी फुद्दी (चूत) तो लेकर ही रहूँगा.

कुछ देर बाद वो मुझसे पूछने लगीं- बोलो मज़ा आया या नहीं असली लंड से. इससे पहले मेरी नियत खराब नहीं थी, लेकिन इस हरकत के बाद मेरा ख्याल बदल गया था.

इत्तेफाक से गेट खोलने मैं आई, तो देखा सुरेंद्र जीजा का मकान मालिक मेरे दरवाजे के सामने है, मैं उन्हें देख कर डर गई और बहुत ही घबरा गई, मुझे कुछ समझ नहीं आया, मैं उनके सामने हाथ जोड़ कर बोली- आप क्यों आए हैं?तो वे बोले- तुम्हारे पापा मम्मी से बात करनी है, चलो मुझे उनसे मिलना है।मैं उनके हाथ जोड़ने लगी, मैं बोली- प्लीज धीरे से बोलिए आप और यहां से चले जाइए. मुझे रानी से जलन हो रही है, काश तू मेरा सगा भाई होता और मैं रोज़ तेरे लंड से चुदाई करवाती. इससे पहले कि वो मुझे चुदाई की रकम देता, उस आदमी ने बुड्डे के कान में कुछ कहा.

विवेक सिसकारियाँ लेने लगा- आह्ह्ह ह्ह आआह्ह आह्ह…कामिनी पूरी चुदक्कड़ थी, वो विवेक का लंड दस मिनट तक चूसती रही. मेरी गांड में मुझे दर्द का एहसास होने लगा और मैं आह आह आह करने लगा. मैं सोफे की तरफ़ बढ़ा और उनके पास जाकर बैठ गया और उनको अपनी तरफ़ खींच कर उनको किस करने लगा.

प्रिया ने हौले-हौले अपनी आँखें खोली तो मुझे सीधे अपनी काली कज़रारी आँखों में झांकते पाया।झट से प्रिया ने मेरी ही आँखों पर अपना हाथ रख दिया- आप मुझे ऐसे ना देखो प्लीज़… मैं तो शर्म से ही पिघल जाऊँगी.

उसके बाद यह सिलसिला काफी समय तक चला।एक मैं उनके घर गया तो वो अन्दर खाट पे सोयी थी, मैं भी जाकर उनके कमर के पास उसी खाट पे बैठ गया, हमारी बातें शुरू हुई, कुछ बाद उन्हें खांसी होने लगी, वो अपने हाथ सीना दबाने लगी, इसी में उनके ब्लाउज का एक बटन खुल गया. मैं सीधा जिम में गया और दरवाज़ा बंद कर दिया और अपनी तैयारी करने लगा.

फ़िर धीरे से उन्होंने मेरी चूत को हाथ से सहलाया, मेरे मुँह से आनन्द भरी किलकारी निकल पड़ी. मैं जब रात को रूम पर आया तो मैंने टीवी पर एक ब्लूफिल्म चला दी, जिसे देख कर मुझे चुत चोदने का मन करने लगा. इसके बाद हम दोनों लोग उधर से दवाईयाँ और कंडोम लेने के बाद मकान मालिक की कार में बैठकर घर चल दिए.

यहाँ उसने अस्पताल में एक डॉक्टर का लंड कैसे लिया, पढ़ें मेरी चालू बीवी की चुदाई की कहानी में!पूरी कहानी यहाँ पढ़िए…यह कहानी जीजा साली की चूत चुदाई की है, मेरी उस साली की चुदाई के बारे में है जिसे मैं बहुत पसंद करता था. मैं एक साल से तुझे रोज़ देखता था और तुम्हारी इन खूबसूरत चूचियों को मसलना चूसना चाहता था, हाय आज दिल की मुराद पूरी हुई. तब आंटी ने मेरी पैन्ट की तरफ देखा, मेरी पैन्ट थोड़ी गीली हो गई थी क्योंकि इस वक्त आंटी बहुत सेक्सी लग रही थीं.

ब्लू बीएफ सेक्सी एक औरत दो मर्द वो जैसे ही बेड पर लेटने को हुई, मैंने उसे पकड़ लिया और कहा- ऐसे नहीं जान पहले पूरे कपड़े उतारो. अब वो एक दिन उन लड़कियों से पूछने लगी कि चुदाई में कितनी तकलीफ़ होगी और फिर कितने पैसे मिलेंगे?इस पर उनमें से एक ने कहा- तेरी चुत तो अभी चुदी भी नहीं है, इसलिए अगर तू कहे तो तेरे लिए में कोई ऐसे लंड खोज देती हूँ, जो तुमको 20000 दे देगा मगर उसके साथ तुमको पूरी रात भर चुदाना पड़ेगा.

सनी लियोनी के बीएफ वीडियो

चाची इस वक़्त 32 साल की होंगी जबकि मेरे चाचा की उम्र लगभग 40 साल की है. अचानक उसकी सांसें बहुत तेज होने लगी। मैं भी पहली बार सेक्स कर रहा था।अब हम 69 पोजीशन में ओरल सेक्स कर रहे थे, मेरा लण्ड उसके मुँह में था, क्या अहसास था मैं बयान नहीं कर सकता कि जैसे ही उसके गीले और मुलायम होंठ मेरे लण्ड को चूस रहे थे मैं कामवासना से आपे से बाहर हो गया, कुछ समझ नहीं आ रहा था कि क्या करूँ बस चूमे जा रहा था काटे जा रहा था. इसके बाद वो मुझसे लिपट कर मुझे प्यार करने लगी और हम दोनों साथ में मरने जीने की कसमें खाने लगे.

दरअसल इस घटना के बाद से मैंने बहुत मनन किया कि हम इस तरह की घटना से क्या सबक सीख सकते हैं. उसके गुंदाज बदन का वो पहला स्पर्श तो मुझे जैसे जन्नत में ही पहुंचा गया. पिक्चर फिल्म डाउनलोडक्योंकि वो पापा की सेक्रेटरी थी, इसलिए वो बहुत समय उनके साथ ही रहती थी.

ये थी मेरे पहले पुरुष के संगकामुकता भरे पलों को बिताने के सुखद अहसासकी कहानी, आपको कैसी लगी, जरूर बताइएगा.

आप अपनी इस रंडी को रोज क्यों नहीं चोदना चाहते?उन्होंने हंसते हुए कहा- मैं तो रोज चोदू दूँ. मैं कुछ नहीं बोल पाई तो बोला- आओ इधर और सीधी खड़ी हो जाओ और कुछ डांस करके दिखाओ जो कुछ देर पहले तुमको कुसुम ने सिखाया था.

ये थी मेरे पहले पुरुष के संगकामुकता भरे पलों को बिताने के सुखद अहसासकी कहानी, आपको कैसी लगी, जरूर बताइएगा. पहले मैं उससे पूछती हूँ कि उसे बालों वाली चुत पसंद है या शेव की हुई. सुबह भाबी ने एक टाइट सा टॉप निकाला और मुझे पहनने को दिया, मैंने पहन लिया… ये टॉप पूरा टाइट फिटिंग का था.

मेरे ओरल सेक्स से भाभी पूरी गरम हो गई थी और ‘अहह उफफफफ्फ़ ह्म्म्म्म.

मेरे घर में दो कमरे हैं तो एक कमरे में सब बात कर रहे थे और दूसरे कमरे में मैं टीवी देख रहा था और मुझे देर रात तक टीवी देखने की आदत थी. सहर ने मेरे लंड को मेरी पैंट के ऊपर से ही पकड़ लिया और उसको दबाने लगी. कुछ देर एक दूसरे के होंठों का रसपान करने के बाद जैसे ही उसका हाथ मेरे मम्मे पे आया, मानो एक करंट सा लग गया हो मुझे.

ब्लू सेक्सी नंगी फोटोबीच बीच में मम्मों को काटता भी जा रहा था, जिससे उसके दांतों के निशान भी पड़ गए होंगे, मगर मैं उन निशानों को अभी देख तो सकती नहीं थी सिर्फ महसूस कर रही थी कि क्या हुआ होगा इन बेचारे मम्मों के साथ. मैंने कहा- इस बार ये ऐसा नहीं करेगा; तुम पलंग पर जाकर जैसा कहा, वैसे लेट जाओ.

बीएफ एफ का मतलब

उसके मम्मों को अपने दोनों हाथों से जितना मसल सकता था, खूब मींजा और लंड को उसकी चुत के संग कबड्डी खेलने की छूट दे दी. मैंने उसकी गांड को खोला और उसकी गांड में लंड लगाने के लिए उसे कुतिया स्टाइल में आने को बोला. हम दोनों बहुत गर्म हो गए थे और एक दूसरे को पागलों की तरह चूमने और चाटने लग गए।फिर मैंने उसका लोअर खोल दिया और फिर उसकी पैंटी भी खोल दी और उसने मेरे सारे कपड़े खोल दिये.

कुछ ही देर में उसको मजा आने लगा और उसकी गांड ने मेरे लंड को जज्ब कर लिया था. तब तक भगवान ने मेरी प्रार्थना सुन ली, मेरी समस्या का समाधान कर दिया, मेरी वो मौसी मेरे पास आई और बोली- राजीव बेटा, क्या सोच रहे हो तुम?मैंने मौसी को अपनी रात बिताने की समस्या बताई तो वो बोली- बेटा, इसमें परेशान होने की क्या बात है? तुम मेरे साथ चलो, मेरे घर पर तुम आराम से सो जाना!मैं खुश हो गया और मौसी के साथ उनके घर की तरफ चल पड़ा. फिर मैंने आंटी को बेड पर लिटा लिया और उनकी पेंटी को उनकी चिकनी जांघों पर से सरका कर उतार दिया.

हम पैदल शहरियों की भीड़ से भरी त्वेर्स्काया स्ट्रीट पर चलते हुए बिग थिएटर तक आ गए. इस बात से वो लड़की मुस्कुराई और बोली- मुझे भाभी को बता कर जाना पड़ेगा. मैंने कहा- पर तुम कुछ भी कहो, तुम्हारी चूत अगर अनचुदी होती तो इतनी ढीली नहीं होती, मेरी उंगली आसानी से अन्दर बाहर हो रही थी.

हाय अंश कैसी लग रही हूँ?”बहुत सेक्सी…”चलो सीधे खड़े हो जाओ…”मैं उसे किस करने लगी और उसकी पैन्ट के उपर से ही लंड सहलाने लगी. उसने बताया कि उसे अब बहुत दर्द हो रहा है, ऐसे तो उसके पति ने भी कभी नहीं चोदा है.

चलो अब हम दोनों अन्दर चलें?”नहीं रूल इज रूल… पहले गेम खेलो उसके बाद चुत मिलेगी.

इस तरह से वो सारे रास्ते मेरे आमों को दबाता रहा और चूत में उंगली भी करता रहा. बिलु पिचारभगत के केबिन की रनिंग कमेंट्री नहीं बता लेती उसे चैन नहीं हो रहा था. अर्जुन सेक्सी वीडियोमुझे बहुत पसंद आया!” नताशा ने तुरंत कहा- और अब तुम्हारी कामचोरी नहीं चलेगी, तुम्हें अपने दोस्त का साथ देना पड़ेगा!उसकी इस बात पर सब हंस दिए, और नताशा शर्मा गई. मैंने भी देर नहीं की और अपने पूरे कपड़े खोल कर अपने लंड को चाची की चूत में घुसा दिया.

आपने मेरी पिछली सेक्स स्टोरीभाभी जी की जम कर चुत चुदाई की स्टोरीको बहुत पसंद किया.

जब तक पूजा मामी ने मुझे सच नहीं बताया था, आपको यह बात कहानी में पता चलेगी. बस यूं समझ लो कि एक रस्सी थी जो निप्पल तब दिखती थी, जब उसको कसके अपने निप्पलों पर रखूं. उसने किचन में आने के बाद भी अपने कपड़े नहीं पहने थे और नंगा ही बैठ कर दारू पी रहा था.

तभी दीदी ने रानी दीदी को फोन किया और उससे कहा- कमल को बता दे तू इससे क्या चाहती है. इस कहानी के पिछले भागसरकारी अस्पताल में मिला देसी लंड-1अभी तक आपने पढ़ा कि मैं सरकारी अस्पताल में किसी देसी लंड की तलाश में था, एक लंड मुझे पसंद भी आया था लेकिन उसने मुझे पहले तो दुत्कार दिया था लेकिन फिर वो मेरे पास आया. चूंकि उसकी चुत कसी हुई थी और पानी निकलने के कारण काफी फिसलन ही रही थी.

सेक्सी बीएफ पिक्चर नंगी

इसके बाद उसने मुझसे कहा- मजा आ रहा है?मैंने कहा- हां राजा, चोदते रहो बहुत मजा आ रहा है. मैं चुप हो गई तो उसने मुझसे पूछा कि क्या तुम ड्रिंक करती हो?मैं उससे बोली कि नहीं मैं ड्रिंक नहीं करती हूँ. रश्मि ने उसी वक्त ब्यूटिशियन को बुला कर अपना फेशियल, बिकनी वैक्सिंग वगैरह करवाया और दरवाजे पर ही चुदने को तैयार खड़ी थी.

मैंने उनमें से एक बंदी से पूछा- कामिनी नहीं है ऑफिस में?वो बोली- सर उनका प्रमोशन हो गया है, वो तो अब विवेक सर की पर्सनल सेक्रेटरी हो गई हैं.

भैया जी ने नए घर में शिफ्ट होते समय पूरा एक माह घर में बिताया था और आज काम पर निकल पड़े.

जैसे ही रात के 12 बजते थे तो टीवी पर केबल वाला ब्लू फिल्म भी दिखाता था, तो उस रात भी मैं ब्लू फिल्म देखने का वेट कर रहा था. दस मिनट की ताबड़तोड़ चुदाई में मैं थोड़ा थक सा गया था तो मैंने उसे अपने ऊपर आने को कहा. मेघा रे मेघा रे गानाउसी समय मैंने मौका पाकर अपने हाथ से भाभी के चुचे दबा दिए और धीरे से भाभी के कान में बोल दिया कि मकान के बाहर चलो, मैं आ रहा हूँ.

उसने एक बार फिर मुझे किस किया और कहा- प्लीज दिल्ली में जरूर मुझे कॉल करना जब भी तुम्हारे पास टाइम हो. उसने रगड़ रगड़ करअन्दर तक मेरी चुत में उंगलीडाल कर धोया और फिर पता नहीं कौन सा सेंट लगा दिया, जिसकी खुश्बू से सारा रूम महक गया. उस वक़्त मेरी रजामन्दी न देखते हुए वो हट गया और हम लोग वहां से अपने अपने घर आ गए.

फिर मैंने नीचे जाकर उसके नंबर पे मिसकाल किया और फिर उसके कॉल का इंतजार करने लगा. मेरे दिमाग में चल रहा था कि काश कोई मेरी ऐसी ही फोटो खींच ले…क्या नज़ारा था वह…वह मुझे इस तरह वीर्य चाटते हुए देखकर बड़े कामुक अंदाज़ में बोला- चिंता मत कर लंड के पुजारी… यह तो अभी शुरुआत है, अभी तो टेंकर भरा हुआ है, दिल भर के पिलाऊँगा आज तो तुझे अपना जूस… बहुत माल है अपने पास… और स्टेमिना भी बहुत है… ये तो ओवरफ्लो था जो अभी निकल गया.

मैं- क्या हुआ?फिर जो उन्होंने बताया वह सुन के तो मुझे बस मजा आ गया- सोनल के हस्बैंड को 2 महीनों के लिए दूसरे शहर के आफिस ट्रांसफर कर दिया गया है अब वह भी आ जा सकती है हमारे पास आराम से।अब कोई दिक्कत भी नहीं थी, बस मैं तो अब उनके आने का इंतजार कर रहा था.

मेरी लाडो को बाद में छेड़ने के मकसद से उसने मुझे अचानक ही पीछे की ओर धकका दे दिया. मतलब ये कि एजेंसी को इस बात से कोई लेना देना नहीं होता कि जिगोलो बनने को उत्सुक युवक किस तरह का है. दूसरे दिन सुबह दस बजे रवि दूसरे खेत में काम पर गया था और मैं आज छिनाल जैसी नई साड़ी और कट ब्लाउज पहन कर मोहन के खेत की ओर निकल पड़ी.

girlfriend बनाने का तरीका दो चार कोशिशों में उसने अपना फनफनाता हुआ लंड रूसी बाला की गांड में घुसेड़ दिया. मुझे देख कर चंदर बोला- क्यों बिंदु रानी… क्या पति चोद कर गया या सूखी ही छोड़ गया है तेरी चूत को?मैं बोली- उनके पास आज टाइम नहीं था वो जल्दी में थे.

मैं बार बार उसे देखता था, वो मेरे सामने ही बैठा था, 5-6 खाना छोड़ कर. अन्दर से एक करीब 30 साल का आदमी निकला और तेज़ी से हमारे पास आके बोला- बोलो भाई. मैं तो अभी जवान हूँ अगर तुम्हें कोई शक़ हो तो मेरे टेस्ट भी ले सकते हो.

बीएफ वीडियो देहाती देसी

अब मेरी हालत बहुत खराब हो गई थी, मुझे भी चूत में डालने के लिए एक लंड चाहिए था, जो नहीं मिल पा रहा था. भाभी ने ताला खोलने की आवाज सुनते ही आवाज दी- भाईसाहब, लगाया था फोन?मैं वापस खिड़की के पास गया तो भाभी खिड़की में ही खड़ी थीं. मुझे आते देख कर वो उस लड़के से बोला- मुझे यहाँ पर अब अपनी जवानी का जोश इस लड़की के साथ दिखाओ.

तभी भाभी मुझसे बोली- वीशु जी, कल मैं और ये राजकोट शादी में जायेंगे तो दिशा घर में अकेली रह जायेगी, इसलिये कल आप सुबह और शाम को समय से खाना खा जाना! ओ के?मैंने हाँ में अपना सिर हिला दिया. यह कहकर उन्होंने अपने होंठ मेरे होंठों पर रख दिए, हम दोनों की जिह्वा आपस में मिली और दोनों को ही मज़ा आने लगा, उनके हाथ मेरी चुचियों पर दबाव डालने लगे.

मैंने भी 69 में आकर भाबी की टांगों को फैला दिया और उनकी झांट रहित गुलाबी चुत पर अपने होंठ रख दिए.

मुझे ऐसा लग रहा था जैसे आज ही मेरा जन्म हुआ हो और मैं इस घर की अन्दर की दुनिया को समझने की कोशिश कर रहा हूँ. मैं ये सुन कर बहुत खुश हो गया और मैंने उससे पूछा कि कब मिलना है?उसने कहा कि कल मेरे एरिया में नाइट का प्रोग्राम है, तुम कल रात 8 बजे पहुँच जाना. भाभी के मुँह से सेक्स की बात सुनते ही मेरा लंड तन कर खड़ा हो गया और मेरा मन सेक्स करने को उत्तेजित हो गया.

पापा को भी एक चूत की ज़रूरत थी क्योंकि उनकी पत्नी (मेरी माँ) भी संसार छोड़ कर जा चुकी थीं. मैंने तुरंत रानी को उठा कर पलटाया जिससे उसके मुंह मेरी तरफ हो गया, और फिर धड़ाम से लंड चूत में दिए दिए दीवान पर लेट गया. सेक्स ही सब कुछ नहीं होता स्त्री पुरुष की फीलिंग्स भी मायने रखती है। और मेरा नमन है हर उस पुरुष को अपनी बीवी को उसके शाररिक सुख के लिए किसी और से चुदवाने में पीछे नहीं रहते जिससे कि उनकी बीवी नये नये लिंग के मजे ले सके और उन्हें चुदती देखकर खुद को संतुष्ट कर लेते हैं.

वो मेरी इस हरकत से पागल हो गई- आहहहह इश्स… आह… उहह… चोद से साले मुझे… वरना मैं तेरा रे.

ब्लू बीएफ सेक्सी एक औरत दो मर्द: अब मॉम का गाउन बीच से खुल गया था और गाउन के अन्दर तक दिखाई देने लगा. उस दिन मेरा मूड थोड़ा ऑफ था क्योंकि उस दिन मेरे 18000 रुपये खो गए थे.

हम दोनों सीधे हुए और उन्होंने मेरी बनियान और पैन्ट भी उतार दी, शर्ट मैंने खुद उतार दी थी. बहनचोद निप्पल अकड़े हुए थे मानों कह रहे हों कि आओ मसल मसल के, कुचल कुचल के हमारी अकड़न दूर कर दो. [emailprotected]कहानी का अगला भाग :बेटी ने मम्मी के यारों का लंड शेयर किया-2.

वो थोड़ा डर गई, मैंने कहा- रुको मुझे ठीक से देखने दो शायद थोड़ा अन्दर सील हो.

मुझे देखते हो वो बोला- यारो, आपका माल आ गया है, अब जाम कर इसकी चुत की सिकाई करो. वो फिर बोली कि वो और राहुल भी (उसका पति और उसका बेटा) अपनी दादी के यहां गए हैं. आंटी बोली- चलो मेरे साथ मेरे घर पर!मैं बोला- नहीं आंटी, मैंने बस की टिकट नेट से बुक कर रखी है तो मैं नहीं जा सकता.