सेक्सी बीएफ मशीन वाली

छवि स्रोत,सेक्सी पंजाबी लड़कियां

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी फिल्म हिंदी के: सेक्सी बीएफ मशीन वाली, फिर जब शिल्पी अपने रूम में चली गयी तो जल्दी से नीता मेरे पास आई और कान में फुसफुसा कर बोली- मैं थोड़ी देर बाद नहाने जाऊंगी.

सेक्सी वीडियो तमिल तमिल

अम्मी ने सुनीता से फोन किया और कहा- तुमसे मिलने कोई आया है, घर पर आ जाओ. सीआईडी सेक्सी सीआईडीलेकिन इस बार चाची भी कुछ बदली हुई सी लग रही थी।ऐसे ही एक दिन मैं सुबह मेरी छुट्टी होने की वजह से चाची के घर चला गया.

दोस्तो, ये मेरी पहली कहानी है जो मैं अन्तर्वासना की अनेकों कहानियां पढ़ने के बाद लिख रहा हूं. कुत्ता और लड़की की सेक्सी बीपीअब तो उनका लन्ड खड़ा ही नहीं होता था।अब तो मैं सोच रही थी कि कैसे भी करके मेरे एक बच्चा हो जाये बस।मैं सोचने लगी कि क्या करूं … किससे कहूँ।अब मैं आपको बता दूं कि मेरे पति के विदेश जाने के बाद मैंने अपनी ननद के यहाँ गई थी।मैं अपने ननदोई के बारे में बता दूँ कि वो लखनऊ में जॉब करते थे, वहीं पर कमरा लेकर रहते थे.

मैंने उसका हाथ पकड़ा और अपने लंड पर रखवाते हुए उसके नंगे जिस्म से लिपटने लगा.सेक्सी बीएफ मशीन वाली: उसका पैर मेरे पैर से टच हो रहा था और मुझे पता ही नहीं चला कि कब मेरा हाथ उसके हाथों में आ गया था.

प्लीज यार!उस टाइम तो मैंने जोश में काजल की चूत चुदाई की इच्छा के बारे में बोल दिया पर उसका अंजाम बड़ा खराब हुआ.उसने मुझे आगे वाली सीट पर घोड़ी बना लिया और मेरी चूत में लंड को रगड़ने लगा.

सेक्सी चूहा - सेक्सी बीएफ मशीन वाली

उनका कोई नहीं था तो मेरे मम्मी पापा ने उन्हें हमारे घर में ही रख लिया था.तेल की शीशी से तेल हाथ पर लेकर मैंने उसकी गांड में अच्छे से तेल लगाया और उसकी गांड को अंदर तक चिकनी कर दिया.

संदीप के रोके वाले दिन ही उन्होंने भी चारू की गोद भराई की रस्म पूरी कर दी थी. सेक्सी बीएफ मशीन वाली वो एकदम से रुककर मेरे कान के पास आ गया और धीरे से बोला- सोनिया तेरी बड़ी मस्त गांड है … एक बार अन्दर डालने दे न यार प्लीज़!मैंने कोई जबाव नहीं दिया.

तब मैंने अपनी पैंट की जेब से कंडोम निकाला और उसे पकडाते हुए कहा- लो इसे मेरे लंड पर चढ़ा दो.

सेक्सी बीएफ मशीन वाली?

मैंने अभी सिर्फ दो मिनट तक चूत को चूसा था कि भाभी का शरीर अकड़ने लगा और भाभी गांड उठाते हुए झड़ गयी. अब मैंने अपना सना हुआ लौड़ा उसके मुँह में दे दिया और लंड चटवाकर साफ़ करवा लिया. उस दिन पूरे दिन होटल में उसने मुझे बहुत चूसा मेरे कामुक बदन को … उसके दबाने काटने से मेरा सारा बदन लाल हो गया था.

मोटा लंड लेने से उसे दर्द हो रहा था … लेकिन वो मुझे अहसास नहीं होने देना चाहती थी. वो मुझे किस करने लगे मेरी गालों पर … कानों पे!और मैं उनका लंड हाथ से आहे पीछे करके सहलाने लगी. मैं उसके पास तक गई और उससे बोली- क्या बोले तुम?उसने कहा- तुमने सुन तो लिया है.

तुम थोड़ा धीरे बात करो!इस पर शकील ने कहा- वह मेरी प्यारी मामी है, वह मुझे कुछ नहीं कहेगी. कमरे में आते ही सबसे पहले भाभी ने मुझे वह गोली खिला दी और उन्होंने भी खुद एक गोली खा ली. जब रात हो गई और भाभी नहा चुकी थीं तब मैंने भाभी को अपने कपड़े सूखने टांगने के लिए छत पर जाते देखा.

उसके साथ मैंने और क्या क्या किया वो सब मैं आप लोगों को फिर कभी बताऊंगा. फिर उसने मुझे सीट पर लिटा दिया और मेरी टांगें फैला कर अपना लण्ड मेरी चूत में डाल दिया.

जिस दिन मेरी ये इच्छा पूरी हो जायेगी उस दिन मैं उन दोनों बहनों की चुदाई की कहानी जरूर लिखूंगा.

मैम ने इस बार अपनी दोनों टांगें हवा में उठा दी थी और वो मेरे लंड का मजा लेते हुए अपनी आंखें बंद किये हुए सीत्कार कर रही थीं.

मॉम ने उसे हाथ से सहलाते हुए पूछा- ये उदास क्यों है?अंकल बोले- तुम पहले सोफे पर बैठो. मैंने बोला- ऐसा करो, तुम अपनी सहेलियों को बुला लो और उनसे बात कर लो. दो मिनट के बाद मैंने माही को अपने नीचे लेटा दिया और उसे फिर चोदना चालू कर दिया.

आप लोगों को तो पता ही होगा कि अकेले रूम में इंजीनियरिंग का स्टूडेंट रहता है, तो क्या होता है. भाभी जोर से आवाज देते हुए बोलीं, तो मैं जल्दी से लंड को बिना सैट किए ही बाहर आ गया. कुछ देर तक उनके निप्पलों को छेड़ने के बाद ननदोई जी ने ननद के लोअर में हाथ डाल दिया.

मैंने अपने दाएं पैर से उसकी मांसल जांघों को सहलाना शुरू कर दिया, वो मस्ती में तड़पने लगी.

वाह … क्या मजा आ रहा था दोस्तो … भाभी की चूचियां बहुत ही रसीली थीं. उसकी झांटें वगैरह साफ़ करके उसे नहलाया और अपनी बहन की चूत चोदने रेडी हो गया. इसके बाद मैंने मम्मी की चूत में अपना लंड डाला और बहुत देर तक चोदने में लगा रहा.

फिर मेरा भी पानी निकलने वाला था और मैंने धक्कों की स्पीड तेज कर दी. मैंने उसके दोनों पैर साइड में करके उसकी चूत को ध्यान से देखा और अपना लंड उसकी चूत पर सेट कर दिया. मैंने उसकी टांगों को पकड़ कर चौड़ी कर दिया और अपने लंड को उसकी चूत के ठीक बीच में लगाकर अंदर धकेल दिया.

मैंने कहा- इतना सब बता दिया, कर भी लिया और अब मैदान छोड़ कर भाग रही हो … लगता है तू डर गई है.

मुझे लगा कि बारिश तो नहीं होगी लेकिन दो मिनट बाद ही बूंदें गिरनी शुरू हो गयीं. और उसको अपने पास बुला ले। एक दिन तू मजे ले लेना और अगले दिन इस लड़के को मेरे हवाले कर देना ताकि मैं भी इससे मजे ले सकूँ।उसी समय हम दोनों ने यह डिसाइड किया कि कल सुबह ही हम दोनों रेलवे स्टेशन जायेंगी.

सेक्सी बीएफ मशीन वाली उसके बाद हम दोनों ने आइसक्रीम खाई और मैंने उसे उसके घर के पास उतार दिया. जैसे ही मैंने उसकी संगमरमर जैसी मुलायम जांघों को चूमना शुरू किया, उसने मेरे सर को पकड़कर अपनी चूत पर दबाना शुरू कर दिया.

सेक्सी बीएफ मशीन वाली थोड़ी देर में ही शनाज़ को नींद आ गई क्योंकि दिन भर की दौड़धूप से वह थकी हुई थी. वो चुदाई का भरपूर मजा लेते हुए अलग अलग किस्म की आवाजें निकाल रही थी- अह्ह ऊऊऊ ऊउईई आईईई आह … मेरी जन्मों की प्यास मिटा दी तुमने … आंह … कितना अन्दर तक जा रहा है … मेरी चुत की धज्जियां उड़ा दे … आंह!थोड़ी देर बाद उसने अपनी स्पीड ओर तेज कर दी.

उसे मालूम ही नहीं चला था कि उसका जीजा राजीव हम दोनों की चुदाई देख रहा है.

इंग्लिश सेक्सी ब्लू इंग्लिश सेक्सी ब्लू

मैं भी तगड़े जिस्म का हूं क्योंकि मैं काफी समय से जिम करता आ रहा हूं. मेरे लंड की गर्मी अभी शांत नहीं हुई थी तो मैंने उससे कहा, तो बोली- एक मिनट रुको … फिर मेरे ऊपर आकर चोद लेना. मुझे उसके बारे में ये सब बताते हुए शर्म आ रही है, पर मैंने खुद अपनी आंखों के सामने अपनी शादीशुदा बहन को कई गैर मर्दों के साथ चुदवाते हुए पकड़ा था.

सुबह मैं जल्दी उठ गया और मैंने मामी को जगाकर बहुत देर तक उनके होंठों को पीया और फिर वहां से चला गया. मैंने उसको उसके कूल्हों पर से पकड़ा और अपनी तरफ मुँह करके उसे अपनी जांघों पर बिठा लिया, जिससे वो बिल्कुल मेरे सीने से चिपक गयी. उसके बाद पिताजी ने दोनों को चुंबन किया और उनके कानों में कुछ कहने लगे.

ऊपर से मैं पिंकी की चूत में जीभ को अंदर तक डाल कर उसकी चूत को जीभ से चोदने लगा था.

इस पर अम्मी हंसती हुई बोली- उसे क्या पता तुम्हारी चुदाई का जलवा … तुम घोड़े जैसे चोदते हो! वो अभी नई-नई है, धीरे-धीरे उसे भी आदत पड़ जाएगी तुम्हारी चुदाई की! पर शकील तुम बहुत बहन के लोड़े हो. मैंने धीरे धीरे लंड के धक्के देते हुए चुत का रास्ता ढीला किया और पूरा लंड अन्दर बच्चेदानी तक पेलना और निकालना शुरू कर दिया. उसने मेरा पेंट खोल के अंडरवियर जैसे ही नीचे किया, मेरा तना हुए लंड सीधे उसके मुँह पर लगा.

ननदोई जी के लंड से मेरी चूत की प्यास बुझ रही थी … उनका मोटा लंड मेरी चूत को पूरा मजा देकर अंदर तक चोद रहा था. तभी नीता दरवाजे में से आई और जोर से हंसने लगी।मेरी तो कुछ समझ में नहीं आ रहा था. तेरे अंकल का तो खड़ा भी नहीं होता … और होता भी है, तो दो मिनट में खत्म हो जाता है.

मैं बोला- नहीं वो तो आप बच्चा होने के समय की बता रही हो, इसके अलावा कितनी बार चुदी हो और किस किस से चुदी हो, वो भी बता दीजिए. शायद वहां पर रोज अश्लील किताबें पढ़कर और अंकल की यौन इच्छाओं से वह भी उनके जैसी ही हो गई थी.

यह देख कर आइला घबरा गई और रोने लगी- मुझे मार डाला मेरे सगे भाई ने … मेरी चूत को फाड़ दिया … उउउउईल्ला उउउउई अम्मी मर गई!मैंने अपनी सगी बहन की चिल्लपौं को नजरअंदाज करते हुए उसकी ताबड़तोड़ चुदाई जारी रखी. जिसकी वजह से भाभी को और जोश आ जाता और वह फुल स्पीड में ऊपर नीचे होने लगतीं. दिनेश अंकल मॉम की चूत चोदने लगे और रमेश अंकल ने मॉम की गांड में लंड पेल दिया.

अब मेरा लंड उसके हाथ में था और वो उसको हाथ में लेकर मस्ती में आगे पीछे कर रही थी.

एक दिन मैंने मॉम को बाथरूम में नंगी देखा तो मैंने मॉम की चुदाई करने की सोची. एक बार फिर से अपना लंड उसके मुँह में दे दिया और माही ने फ़िर से लंड चूसना शुरू कर दिया. दूसरे दिन उसका मैसेज आया- बुआ घर पर नहीं है, वो शहर से कहीं बाहर गयी हैं.

मैं सोच रहा था कि वो भी शायद मेरे लंड के साथ ऐसा ही करेगी लेकिन उसने लंड नहीं चूसा. वो दोनों मेरी ओर ऐसी नजर से देख रही थीं जैसे भूखी लोमड़ियों को एक रोटी का टुकड़ा नजर आ गया हो.

जिसको जूही देख कर उस खेल में शामिल हो गयी।उस रात दोनों माँ बेटी एक ही लन्ड से चुदी और उस दिन सागर ने सपनी की चूत और गांड दोनों की सील तोड़ दी।उस दिन के बाद से मैं सागर ने इंस्टीट्यूट में ही चुद लेती और घर में कभी मम्मी कभी मामी और अब तो सपना भी सागर के लन्ड की दासी हो गयी।सागर ने सपना को चोद चोद कर औरत बना दिया।हम चारों एक ही लन्ड के सहारे हैं. फिर मैंने अपनी छोटी बहन की नाजुक चूत पर मुंह लगाया लगाया और उसकी चूत को चाटने लगा. उस दिन मेरी अम्मा पड़ोस में कहीं गयी हुई थी और अब्बा भी अपने किसी खास के पास गये हुए थे.

बिहारी सुहागरात बीएफ

मैं तुझे ऐसे नहीं छोड़ने वाली।मैंने कहा- ठीक है, तेरे लिये तो हमेशा हाजिर हूं मेरी जान।सोने की बारी आयी.

चाय के बाद सबने सत्यम का नंबर ले लिया और उसको भी अपना अपना नंबर दे दिया. वो मेरे ऊपर आ गयी और मेरी गर्दन से किस करते हुए छाती पर चूमते हुए वो नीचे मेरे अंडरवियर पर जा पहुंची. वो एकदम से चिल्लाई- आह्ह ओह्ह … पूरा डालो न… आह्ह।मैंने एक बार फिर से धक्का लगाया और उसकी चूत में पूरा लंड उतार दिया.

मैंने फिर से उसकी रस से भरी गन्दी कच्छी उसके मुँह में डाल दी … ताकि चीखने की आवाज ज्यादा जोर से नहीं आए. वो ऐसे बातें करने लगी जैसे वो हमारे परिवार का ही हिस्सा हो।तभी मुझे पता चला था कि मीनाक्षी की शादी को ढाई साल होने को आये थे लेकिन अभी तक भी उसके कोई औलाद नहीं हुई थी. वीडियो सेक्सी में भेजोइतना बोल कर मम्मी सागर के गले लग गयी और सागर ने भी उनके अपने से चिपका लिया.

उनकी बेटी शिल्पी 12वीं पास करने के बाद पढ़ने के लिए दूसरे शहर में रहती थी।उनके घर में अब उन दोनों पति पत्नी के अलावा उनके बड़े भाई की बेटी नीता ही थी. मैंने अब होंठों को छोड़ा और मौसी की चूचियों को मुंह लगाकर पीने लगा.

मैं रसोई से तेल ले आया और मैं मां से कहा- मां, आप अपने कपड़े थोड़े ऊंचे कर लो. वो उत्सुकता से मेरा बेल्ट खोलने लगी, जिसके तुरंत बाद ही उसने मेरी जीन्स और अंडरवियर दोनों एक झटके में उतार कर फेंक दी. राजीव एक हाथ से उसके दूध दबा रहा था और दूसरा दूध मुँह से चूस रहा था.

मुझे लगा कि वो नीता ही होगी क्योंकि वो ही मुझे ऐसे पकड़ सकती थी।मैंने अपने दोनों हाथ पीछे की ओर किए और उसे पीछे से ही पकड़ लिया. दोस्तो, ट्यूशन के साथ-साथ वह मेरे से बहुत सी अश्लील हरकत करते भी थे और करवाया करते थे. मैंने भाभी की चूचियों को पीना शुरू कर दिया तो भाभी ने मुझे धक्का देकर पीछे हटा दिया.

मैं यह देख कर बहुत उत्तेजित हो गया और यीशा को बहुत जोर से चोदने लगा.

मजा आ जायेगा।उसने हंसकर मेरे गाल पर एक चांटा मार दिया और बोली- बहुत कमीना हो गया है तू!मैंने कहा- तेरे बिना तो मैं कुछ नहीं जान … शिल्पी से कर न बात?वो बोली- ठीक है कमीने, मैं कुछ करती हूं. मैं अपने फोन को निकाला और चुपचाप उस झिरी में से झांक कर वीडियो रिकार्डिंग करने लगा.

मीनाक्षी भी काम पर आने लगी थी।अब जब भी कभी मेरी पत्नी सुषमा अपने मायके रहने जाती है तो मीनाक्षी भाभी खूब अच्छे से मेरा ख्याल रखती है।. उस वक्त मैं यही सोच रहा था कि सच में आंटी हॉट माल हैं, इनको पकड़ कर अभी चोद चोद कर ऐसी हालत कर दूं कि वो दो दिन तक चल ही ना पाएं. मैं रोज़ शाम को दोस्तों के साथ घूमने फिरने के बहाने लड़कियां ताड़ने शहर में घूमा करता था.

आपको मेरी इस डर्टी सेक्स कहानी पर क्या कहना है, प्लीज़ मुझे मेल करें. एक मिनट के अन्दर हम एक दूसरे को एन्जॉय करने लगे थे और मुझे भी काफी मज़ा आ रहा था. मैंने उसकी कमर पर हाथ रख लिया और ब्लाउज की नीचे वाली पट्टी से होकर आगे उसके पेट तक हाथ ले गया.

सेक्सी बीएफ मशीन वाली मैंने उनको तसल्ली दी- जीजा जी, मैं अवनीत को समझाने की कोशिश करता हूँ. मैंने उसे रोका और कहा- मेरी जान … ऐसी ही खा जाओगी क्या … रुको पहले … तुम्हारी गहराई का आनन्द तो ले लूं मैं!ये बोलकर मैंने उसे खड़ा किया.

हिंदी में बीएफ दे बीएफ

उसने अपनी गांड को हल्की सी ऊपर उठाया और फिर अपना पेटीकोट निकाल दिया और फिर ब्लाउज के हुक खोल दिए।मैं तो पागल की तरह देख रहा था कि क्या हो रहा है।ब्लाउज उतार कर उसने अपनी ब्रा भी उतार दी और लेट गई।मैंने धीरे से अपना हाथ उसकी पहाड़ जैसे चूची पर रख दिया और दबाने लगा तो वो मज़े लेने लगी. नींद का बहाना बनाकर मैं उनकी तरफ देखती रही।मेरी ननद के होंठों को ननदोई जी चूस रहे थे. उसकी चूत काफी गर्म हो गयी थी और चूत की फांकें मैं अपनी उंगलियों पर महसूस कर सकता था.

जब वो चलती हैं, तो उसकी चोटी नागिन जैसी लहराते हुए उनकी गांड पर मटकती हुई बड़ी हॉट लगती है. थोड़ी देर बाद शनाज़ बावर्चीखाने से बाहर आई और मुझे आंखों के इशारे से छत पर जाने को कहा. ब्लू पिक्चर बीपी ब्लू पिक्चर सेक्सीतभी बड़ी बुआ अपने पैरों को टैंक में ही जमीन पर टिका दिया और खड़ी होकर मुझसे आगे से लिपट गईं.

बेड पर बैठकर वो मेरे कंधे पर सिर रखकर मुझसे लिपट गयीं और बोलीं- लवजीत, मैं अंदर से बहुत अकेली हूं.

वो दूसरे कमरे में सो रहा था तो मैं अपनी बीवी की चूत चुदाई करने लगा. मैं फिर उसे देख कर मुस्कुराया और उसने शरमाते हुए दूसरी तरफ मुँह कर लिया.

ये बोलकर मैंने रमेश को बांहों में भर लिया और उसके लंड को सहलाते हुए उसके गालों पर चूमने लगी. अब मैंने शांता को कुतिया बनाया।लण्ड पर और उसकी चूत पर मैंने थूक लगाया और फिर उसकी चूत पर लंड को सेट कर दिया. मैं अपना सामान उठा रहा था और तभी उस लड़की ने एक कागज की पर्ची पर अपना नम्बर लिख कर मुझे दे दिया.

एक पल बाद मैंने उनकी पीठ के नीचे हाथ ले जाते हुए उनकी ब्रा का हुक खोल दिया और उनकी ब्रा को दोनों हाथों से निकाल दी.

अंकल को किसी बात की चिंता तो थी नहीं … क्योंकि मैं जो साथ था, इसलिए उन्होंने कुछ नहीं बोला. कुछ दिन बाद मेरी माहवारी के समय पर माहवारी नहीं हुई तो मैं बहुत खुश हो गयी. मैंने बाथरूम के दरवाजे की एक झिरी में आंख लगाई तो अन्दर का नजारा बड़ा गर्म था.

सेक्सी पिक्चर गांव रानीमगर न वो कभी मुझसे कह पायी … और न मैंने कभी उससे अपने प्यार का इजहार किया. मेरी बहन ने कहा- अब तुम दोनों एक साथ मेरी चूत में घुसाओ और अंदर गिराओ।दोनों ने वैसा ही किया।फिर सभी निढाल होकर नंगे ही एक दूसरे से लिपटे हुए बेड पर पड़े हुए थे।मेरी बहन की चिकनी चूत से मर्दाना रस बह रहा था.

देहाती देहाती सेक्सी बीएफ वीडियो

उसने फिर से लंड मुँह में दिया और दीदी के बालों को ज़ोर से पकड़ कर लंड चुसवाने लगा. अपने सगे भाई की ऐसी कामुक हरकत देख कर ज़ोहरा आपा की 24 साल की जवानी दहक उठी. फिर उसने मुझे पेट के बल लेटा कर क्रीम अपने लंड पर लगा कर मेरीगांड में लंडडाल दिया.

वो कह रहे थे कि अगर तुम रूम में अकेले परेशान हो रहे हो तो तुम उनके घर पर रह सकते हो जब तक लॉकडाउन ख़त्म नहीं हो जाता।अंकल मेरे पापा के दोस्त थे और मेरी स्कूल की दोस्त के चाचा भी थे। मेरी दोस्त का नाम नीता है और वो मेरे ही स्कूल में पढ़ती थी मगर वो मुझसे एक क्लास पीछे थी।नीता के अंकल और मेरे पापा दोनों पहले से ही दोस्त थे. मैं- क्यों?निशा भाभी- मुझे शर्म आती है और दुल्हन को सजा-धजा देख कर पहले घूंघट भी तो उठाओगे कि ऐसे ही सब कर लोगे?मैं- ओके जान. करीब दो मिनट तक मम्मों को सहलाने और मसलने के बाद वो ब्लाउज के बटन खोलने लगा.

मैंने बेसब्री में उन पर तुरंत अपना मुँह लगा दिया और उन्हें चूसना शुरू कर दिया. आई लव यू अन्नु।मैं- चारू मेरी जान … मैं नहीं बता सकता आज तुमने मेरी इस अभिलाषा को पूर्ण करके मुझ पर कितना बड़ा उपकार किया है. मैंने उसकी जालीदार पैंटी के ऊपर से ही उसकी चूत को रगड़ना शुरू कर दिया.

मैंने अपने धक्के मारने की स्पीड बढ़ा दी और एक हाथ से उसके बोब़े मसलने लगा ताकि उसे भी मजा आने लगे. तभी निशा आयी और मेरा हाथ पकड़ कर साथ में चलने लगी। अब मुझे बहुत से लोग जान चुके थे और मेरा सारा प्रोजेक्ट वर्क निशा का ही कॉपी होता था।अब हम पूरा दिन साथ ही रहते हैं और हर वीकेंड कहीं घूमने चले जाते हैं और खूब एंजोय करते हैं।दोस्तो, यह मेरी पूरी वास्तविक कहानी है.

मैंने एक हाथ साs की चूत पे और दूसरा हाथ उनकी चूचियों पे रख दिया और उनके मोटे मोटे मम्मे दबाने लगा।मेरी सास ने आँखें बंद कर ली और मज़ा लेने लगी।मैं भी पूरा नंगा हो गया और उनके ऊपर चढ़ गया।मैंने उनके होंठ चूसने शुरू कर दिये और अपना लण्ड सास की चूत के ऊपर घिसने लगा.

कभी होंठों पर तो कभी गालों पर, कभी उनकी चूचियों पर तो कभी गर्दन पर।वो भी अपने हाथों से मेरी पीठ को सहला कर मेरा हौसला बढ़ा रही थी. नोकर मलकिन सेक्सी व्हिडिओमैं हंस पड़ा और भाभी की चूची मसलते हुए कहा- सच में भाभी, आपकी चुत चुदाई के लिए मैं न जाने कब से तड़फ रहा था. टोंक जिला की सेक्सी वीडियोएक दिन मैं अपनी चचेरी बहन सोनल कि चूत चुदाई उसी के घर में कर रहा था तो मैंने मेरी कजिन से चुदाई के वक्त कहा- यार सोनल, मुझे तेरे मामा की लड़की काजल को भी चोदना है. इसी तरह पहले एक बार सत्यम ने बारी बारी से हम सब चुदक्कड़ों की चूत फाड़ी और अपना सारा माल हम सबको पिलाया.

मैंने उसकी जालीदार पैंटी के ऊपर से ही उसकी चूत को रगड़ना शुरू कर दिया.

लेखक की पिछली कहानी:मैंने अपनी मॉम की सैंडविच चुदाई देखीये उस वक्त की बात है जब मैं 19 साल का होने वाला था. आंटी मेरे सर को पकड़ कर अपने चूचों पर दबाए जा रही थीं और मैं उन दोनों रसीले आमों को जी भरके पी रहा था. पहले मैंने हाथ से सहला कर प्रिन्सिपल का लंड खड़ा किया, फिर सोफे पर झुक कर लंड चूसने लगी.

मेरे कहने पर उसने बैग फेंक दिया और मैंने उसे पर्फ्यूम निकाल कर दिया जो उसने अपने शरीर पर लगाया. मैंने एक पल की भी देर नहीं की और आंटी के स्तनों को बारी बारी से चूसना भंभोड़ना शुरू कर दिया. उसकी चूचियां एकदम मस्त उछल उछल कर उसकी उंगलियों की संगत कर रही थीं.

किनर का मतलब

तभी मेरे शौहर ने गला खंखारा और दोनों लड़के मुझे छोड़ कर झट से निकल गये. अम्मी की बात सीधी थी … पर ज़ोहरा और मैंने इस बात का उल्टा मतलब निकाला. मेरे दिल दिमाग में भी एकदम से कामुकता जागने लगी, लेकिन इस समय कुछ किया नहीं जा सकता था.

अपने दोस्त और उसकी बीवी के साथ शराब पीते हुए नशे में मैंने अपने दोस्ती की बीवी की चूचियां दबा दी.

तब मेरी बीवी शनाज़ ज़ोहरा आपा से बोली- आपा … अभी कुछ देर पहले तो आप बहुत खुश थी.

इससे उनकी सिसकारियां और ज़्यादा हो गईं- आह उओह ऊहम आऊं चीर दो … फाड़ दो … मैं कब से प्यासी हूँ … आज तुम मेरीचूत की प्यासबुझा दो. मैं- आंटी गांड में लंड लेने में सबसे ज्यादा मजा आता है … अगर आप कहें, तो मैं आपकी गांड मार दूं. सेक्सी वीडियोस बिग बूब्सफिर वो मेरे करीब आई और दोबारा से मेरे लंड को मुंह में भर कर चूसने लगी.

थोड़ी देर बाद मॉम आईं, तो उन्होंने मुझे पीछे होने को कहा और खुद मेरे पैरों के बीच में आकर बैठ गईं. उसके बाद मैंने लाल चूड़ियां पहनीं और लाल बिंदी, लिपस्टिक लगा कर बहुत अच्छे से मेकअ किया. तब उसने बोला- क्या हुआ?मैंने बोल दिया- अब आई हो … एक बार बताया भी नहीं कि तुम्हारा दर्द कैसा है? मैं तो यह सोच सोच कर परेशान हो रहा था कि पता नहीं तुम कैसी हो?वो कुछ नहीं बोली.

मैं बिना कोई जवाब दिए उसकी बुर में अपने लंड को आगे पीछे करता रहा और वो ‘उउऊई ऊउउउई मां मर गई अअअअआ. इतना सुनकर शनाज़ भी खिलखिला कर हंस पड़ी और बोली- मैं समझी कि आपने कहीं गलती से ज़ोहरा आपा को चोद दिया.

दोस्तो, आप लोग को तो पता ही है पेपर डांस में कितना चिपकना पड़ता है.

उठने के बाद अमित चेयर में बैठ गया, मैंने उसके रूमाल से उसकी आंखों को बंद कर दिया और मैंने अपने घुटनों पर बैठकर उसकी पैंट का बटन खोला, जिप खोली और उसके लंड को हाथ से सहलाने लगी. मैंने उसकी दोनों टांगों को हाथ में पकड़ कर लंड को चूत के मुँह पर रख दिया. एक दिन मैंने भाभी को चूत में उंगली करते देख लिया तो मैंने क्या किया?दोस्तो, मेरा नाम रहमान खान है और मैं उत्तर प्रदेश के बिजनौर जिले का रहने वाला हूं.

कठपुतली की सेक्सी वीडियो मेरा यह मानना है कि यह लगभग 80% लोगों के साथ उनके यौवनारंभ के दिनों में ही शुरुआत हो जाती है. मेरे दोस्त की बीवी की चुदाई की कहानी के पहले भागमैं हुआ दोस्त की दुल्हन की जवानी का दीवानामें मैंने आपको बताया था कि संदीप की नयी नवेली बीवी पर मेरा दिल आ गया था.

बस तू तैयार रहना।”मैं उनसे अलग हुई और अपने कपड़े ठीक करके बोली- अच्छा. तो परीक्षा से दो दिन पूर्व ही मैं अपनी बीवी को अपनी ससुराल छोड़ने के लिए गया. शाम को ही उसकी एक सहेली मिलने आ गयी थी, तो वो उसके साथ बाहर वाले कमरे में बैठ कर बात कर रही थी.

एक्स एक्स एक्स बीएफ मराठी

भाभी हंस दीं और बोलीं- नहीं यार, मन तो मेरा भी बहुत है मगर समझो जरा सब देख कर ही तसल्ली से करेंगे. ये बोलकर वो चले गए और मैं नीचे ही उनके हॉल में बैठ कर टीवी देखने लगा. अब मैं आपको अपने बारे में बता दूं … मेरी उम्र 22 साल है, हाइट 6 फिट, रंग गोरा, हट्टा-कट्टा शरीर है.

मैंने पल भर की देर किये बिना ही उसकी चूत पर जीभ रख दी और चाटने लगा. तब मैंने धीरे से अपने लंड का सुपारा उसकी चूत के मुंह में लगाया और धीरे से धक्का मारा.

यह थी मेरी शादी से पहले की चुदाई की कहानी मेरे बॉयफ्रेंड के साथ … जिससे मैं चुदवाती थी.

मैंने उसकी गन्दी कच्छी उसके मुँह में ठूंस दी … इसकी आवाज एकदम से घुट गई. हम लोगों को बहुत मज़ा आ रहा था, उसने अपने हाथ मेरी नेक से हटाये और मेरी कोमल और गोल गोल गांड को दबाने लगा। उसने अपनी चड्डी उतार दी और अपने लंड पर मेरा हाथ रखवा दिया. आखिर उन्होंने भी तो रात भर चुदाई की है।माँ तैयार होकर दोपहर का खाना बना रही थी, मैं वैसे ही नंगा कमरे से बाहर आया, पूर्वी सो रही थी।मैं रसोई में चला गया, माँ मुझे नंगा और मेरा खड़ा लण्ड देख चौंक गयी और बोली- बेटा पूर्वी घर में है, वो देख लेगी।मैंने कहा- वो सो रही है.

तब मैंने नोटिस किया था कि मेरे ननदोई जी का लंड बहुत बड़ा है और वो मुझको चोदने भरी नजरों से देखा करते थे. मैंने फिर से चूमना शुरू कर दिया और एक हाथ भाभी की फुद्दी पर ले गया. हमारा मिलना भी कम हो गया था लेकिन वो समय भी जल्द ही आ गया जब हम दोबारा मिले।उस दिन सुबह दस बजे के करीब उसका फ़ोन आया- चलो न घूमने चलते हैं?मैंने कहा- ठीक है।मैं झट से तैयार हुआ और निकल गया घर से उससे मिलने के लिए।हम मार्किट में घूमे, शॉपिंग की, खाया-पीया और मस्ती-मजा कर रहे थे कि तभी उसका फ़ोन बज उठा.

मेरे सब घर वाले वहां पर जा रहे थे और दुल्हन की विदाई तक वहीं पर रुकने वाले थे.

सेक्सी बीएफ मशीन वाली: मेरी चुदाई की कहानी के पहले भागअपनी सहेली की बॉयफ्रेंड से चुदीमें आपको मैंने बताया था कि कैसे अपनी सहेली का दोस्त रमेश मुझे पसंद आ गया और हम दोनों में प्यार हो गया. मैं उसकी चूचियों का काफी देर तक कस कस कर मर्दन करता रहा और वो दर्द और ठरक से तड़पती रही.

उन्होंने एक झटके से मेरी पैंन्टी में हाथ डाला और मेरी चूत को छूने लगी. उसी जगह पर जब मैं उससे मिलने के लिए पहुंचा तो वो दोनों पहले से ही एक दूसरे के साथ लेस्बियन सेक्स का मजा ले रही थीं. मैंने लंड हिलाते हुए पानी निकाला और लोटे से हाथ धोते हुए आवाज दी- बस हो गया आ ही रहा हूँ.

संदीप चारू से बोला- चारू … अनुराग को बढ़िया चाय बनाकर पिलाओ, मैं अभी थोड़ी देर मे आता हूँ।इतना कहकर संदीप ने एक शॉर्ट्स के ऊपर से एक लोअर डाली और टीशर्ट पहनकर बाहर जाने लगा.

फिर मैंने भाभी की ब्रा को निकाल दिया और मैं उनके दोनों गेंदों जैसे मम्मों के बीच में अपना मुँह लगा दिया. मां ने पेटीकोट घुटनों से पूरा ऊपर उठा लिया और मां सीधे लेटकर सो गईं. शांता 10 बजे काम पर आती थी।मैंने उसे एक दिन पहले ही बताया था कि रचना कल नहीं रहेगी और उसे काम पर जल्दी आना पड़ेगा.