डब्लू बीएफ सेक्सी

छवि स्रोत,औरत कुत्ता सेक्सी

तस्वीर का शीर्षक ,

ब्लू फिल्म हिंदी चुड़ै: डब्लू बीएफ सेक्सी, मैं उनकी इस बात को समझती थी तो कभी कभी मैं उनके जिस्म को छेड़ कर उन्हें खुश करने की कोशिश करती रहती थी.

xzxx سكس عربي2020

उधर वो भी लगातार मेरे लंड को अपने थूक से सराबोर करके चूसने में लगी हुई थी. बाल काटने का डिजाइनआसिफ बोला- तूने मेरी बहन पर क्या जादू किया है साले, उसका पीछा छोड़ दे.

फिर वो कराहती हुई बोली- प्लीज़ रहने दो … बहुत दर्द हो रहा है … मुझसे पीछे से सहन नहीं हो पाएगा. सपना संगीतातब उसने मेरे को अपने बॉयफ्रेंड और उसके साथ सभी रिश्तों के बारे में बताया, जो मैं आपको फिर कभी और बताऊंगी.

उसकी जुबान मेरी गांड का छेद ऐसे चाटने लगी कि मेरे लौड़े में भयंकर आग लगने लगी.डब्लू बीएफ सेक्सी: अब आ जाओ और मुझे चोद दो!मैं अभी भाभी को और गर्म करना चाहता था इसलिए मैं उनकी चूत में उंगली और जुबान दोनों डालने लगा था.

मैंने लाल चूड़ी पहनी, सिंदूर और लाल बिंदी और एकदम लाल रंग की लाली लगाई और हाथ पैरों के नाखूनों पर लाल नेलपैंट.ऑटो भरी हुई थी तो मैंने पति से बोला- आप आगे बैठ जाओ, मैं पीछे बैठ जाती हूँ.

सेक्सी वीडियो चोदी चोदा दिखाएं - डब्लू बीएफ सेक्सी

वो कपड़े पहनना चाहती थी पर मैंने उसको रोक दिया और उसे नंगी अपनी जांघ पर बिठा लिया.रूना ने इस बार मेरे लंड को हाथ में थाम लिया और आगे पीछे करते हुए फैंटने लगी.

मुझे झड़ता देख हीरा बाबू से भी नहीं रहा गया और उसने भी अपने लंड का सारा पानी मेरी बुर में निकाल दिया. डब्लू बीएफ सेक्सी कभी मैं उसके सुपारे के छेद को अपनी जीभ से कुरेदने लगती, तो कभी उसके अंडकोष चूसने लगती.

मैं थोड़ी देर वहीं खड़ा रहा, तभी तो मैंने देखा कि वह औरत खिड़की के पास आई.

डब्लू बीएफ सेक्सी?

हमें कार यहीं कहीं पार्क करनी होगी और मैं तुम्हें अपनी बाइक से तुम्हारे घर ड्रॉप कर देता हूँ. और उन दिनों इंटरनेट पर एमएमएस बनाए जाने की खबरों की बाढ़ भी आई हुई थी, जो हमारे डर को और भी ज्यादा बढ़ा रही थी. अजय के बताए दिन और समय पर मैं उस होटल में आ गया जहां अजय रुका हुआ था.

माउथ सेक्स विद हॉट गर्ल का मजा मैंने अपने दोस्त की मैरिड सिस्टर के साथ उसी के घर में लिया. मुझे पकड़ने के चक्कर में मेरी स्कर्ट पीछे से पूरी उठ गई और मेरी नंगी गांड सर ने देख ली. मैं सटासट सटासट अपना लंड उनकी टाइट गोल गांड में अन्दर बाहर अन्दर बाहर करके चोद रहा था.

शाम हुई तो मामी जी ने मुझसे कहा- बेटा तुम अपनी भाभी के साथ खेत वाले घर में रुक जाओ. मॉम ने मेरे लंड को मुँह में लेकर चूसना शुरू किया और थोड़ी देर में वो गपागप गपागप लॉलीपॉप के जैसे मेरे लंड को चूसने लगीं और मौसी ने मॉम की चूत चाटना शुरू कर दी. बहुत दिनों से खुजला रही थी ये साली आह!मैंने अपना लंड निकाला और उसके पीछे से आसन सैट कर लिया.

छुट्टी खत्म होने के बाद जिस दिन स्कूल का पहला दिन था उस दिन किस्मत को कुछ और ही मंजूर था. उसकी दीवानगी अभी भी चालू है … उसको हर हफ्ते में लन्ड चाहिए।आपको मेरी पागल सेक्स कहानी कैसी लगी? कमेंट्स में बताएं.

ये देख कर मैं गनगना गया था कि मेरी बीवी ने अपनी चूत के लिए मेरे बॉस के लंड को पसंद कर लिया था.

हमारे सबके पापा नौकरीपेशा थे तो वो सब दिल्ली में अपनी नौकरी करने निकल जाते थे.

अञ्जलि के मुँह से ‘आआहह … आह … फट गई आह …’ दर्द-ए-चुदाई का संगीत निकलने लगा. मुझे उस दिन मुझे कोई ऐसा मौका नहीं मिला जिससे मैं चाची की जवानी को अपने लंड से शांत कर सकूँ. अचानक मेरे फोन पर मेरी ऑफिस की एक साथ काम करने वाली महिला सुमैत्री का कॉल आया- अरुण तुम कहां हो?मैंने उत्तर दिया- मैं टोंक रोड पर हूँ और घर जा रहा हूँ.

मैंने आपको पहले भी बताया है कि जब से मेरा मेरे भाई के साथ चुदाई का सिलसिला शुरू हुआ है तबसे मैंने पैंटी पहनना बंद कर दिया है. साबिरा- आह उफ् या मेरे शौहर … चोदो अपनी इस बेगम रंडी को मालिक, फाड़ दो मेरी भोसड़ी को … अम्मी बना दो अपनी औलाद की आह क्या मूसल लौड़ा है … आआह अम्मीईई धीरे पेलो … उफ्फ. मैं पहली बार अपने लंड का माल अपने मॉम के मुँह से लेकर स्वाद ले रहा था.

भाभी की पतली कमर देखकर मेरा लंड उफान मार रहा था और भाभी के बड़े बड़े गोल स्तनों को देखते ही लंड में भाभी को चोदने की बेचैनी हो रही थी.

और तभी अचानक से रूपा का बदन अकड़ने लगा और एक तेज धार सीधे मेरे चेहरे पर आकर पड़ी. जब मैं ब्लू फिल्म देख रहा था तो भाभी के आने से मैंने फ़िल्म बन्द नहीं की थी. मैं उसके दूध को जोर जोर से चूस रहा था और वो कामुक सिसकारियां ले रही थी- आह आंह भैया आंह और चूसो … आंह बहुत अच्छा लग रहा है और चूसो जोर से चूसो … बहुत मजा आ रहा है.

अब मैं फिर से उसके ऊपर लेट गया और उसकी बुर को पैंटी के ऊपर से चाटने लगा. कुछ कहानियां तो ऐसी कामुक होती हैं कि उसे पढ़कर मैं खुद गर्म हो जाती हूं. सभी मर्दों की तरह मेरे अन्दर भी सेक्स की प्यास जागती है जिसे पूरा करने के लिए मुझे कालगर्ल का सहारा लेना पड़ता है.

बड़ी बड़ी आंखें, उभरी हुई चूचियां, बड़ी सी गांड और उसकी गोरी जांघें देखते ही मेरा लंड सलामी देने लगा.

बीच बीच में मैं उसकी गांड पर जोर से चपत लगा देता, जिससे उसके दोनों चूतड़ों में मेरी उंगलियों के निशान छप गए. मैं Xxx चाची चुदाई कहानी में आगे बढ़ने से पहले अपने बारे में बता देता हूँ.

डब्लू बीएफ सेक्सी होटल और लॉज हम दोनों के लिए नया था, तो स्वभाविक डर भी हमारे मन में था. देविका के मुँह से मादक सिसकारियां निकल रही थीं- उफ्फ उई उई ऊह हा हा स् स् स्ह स्ह!मैं और जोश में आकर लगातार धक्के देते हुए अपने मोटे लंड से उसकी चूत का भोसड़ा बना रहा था.

डब्लू बीएफ सेक्सी जैसे ही पाटिल साहब ने रेशमा को देखा तो मुझे उनकी आंखों में भी वासना की झलक दिखाई दी. मैंने भी देर ना करते हुए अपना लंड बाहर निकाला और उसके मम्मों पर मुठ मारने लगा, अपने लंड का सारा पानी उसके मम्मों और पेट पर निकाल दिया.

मेरी कार रुकते ही वो पास आकर बोली- मुझे आई आई टी के पास तक जाना है, क्या तुम मुझे छोड़ दोगे.

मुठ मारने का फायदा

मैंने आंटी को वापस घोड़ी बनाया, एक झटके में पूरा लंड सनसनाता हुआ अन्दर डाल दिया और झटके लगाने लगा. देविका ने शर्माकर पूछा- तुम कब आयी सरिता?सरिता ने मुस्कुराकर कहा- बहुत देर से आयी हूँ और मैंने सब कुछ देख भी लिया है. मैं बोला- क्या हुआ भाभी?भाभी बोलीं- अबे साले … गांड किससे पूछ कर मारी?मैंने कोई जवाब नहीं दिया तो भाभी कुछ पल बाद नॉर्मल हो गई और मुझे गले लगा कर किस करती हुई बोलीं- जान … तुम केवल मेरी चूत चोदो.

मैं मना करती रही, पर ससुर जी नहीं माने और अपना थूक छेद में लगाकर लंड डालने लगे. तुमने जिस तरह आज मेरी चुदाई की है, आज पहली बार चुदाई का असली मजा मुझे मिला है. मैंने उन्हें मुझे हिंदी में गालियां देने को कहा।साली छिनाल, तू भी कल रात चुदना चाहती थी, नखरे कर रही थी बेकार के, आज तेरे सारे नखरे निकालूंगा।” यह कहकर उन्होंने मेरी एक टांग हवा में उठा दी और उसी तेजी भरे झटकों से चोदना जारी रखा।रमन में गजब का स्टैमिना था, वो मुझे एक घंटे से लगातार पेले जा रहे थे.

मेरे सामने ही रेशमा ने मेरा शेविंग किट उठाया और नंगी होकर अपनी चूत पर बाकी बचे बाल भी साफ कर दिए.

मैं जल्दी से अपने कमरे में आई और अपनी एक रात वाली सेक्सी नाइटी निकाल कर पहन ली. पहले तो मैं ज्यादा उसके घर पर नहीं जाता था पर चूत का स्वाद मुझे भी उनके घर खींच कर ले गया. साबिरा की चूत नई थी, कभी इस चूत की लौड़े से पिटाई नहीं हुई थी इसी लिए साबिरा की जोर से चीख निकल गयी.

मैं फिर भी अनजान बनते हुए बोला- बड़ा तो मैं भी हुआ हूं लेकिन मेरे तो ये इतने बड़े नहीं हुए हैं. मैं भी उसके बदन को अपने आप से जुदा ना कर सका और वैसे ही उससे चिपककर सो गया. जब कमरे में एसी चालू देखा, तो नंदा रुचिका से मेरे साथ लेटने का कहने लगी.

वो दोनों किसी जंगली भेड़ियों की तरह मुझे हर तरफ से चूम और चाट रहे थे. बहन ने कहा- एक मैं भी पी लूं!मैंने कहा- अगर पापा को नहीं बताओगी … तो पी लो.

मैंने उसके हाव भाव से भाम्प लिया कि लड़की मेरे साथ वक्त बिताने में नहीं हिचकेगी. मैं- पर रात को सोनी ने तो मना कर दिया था!सुची- एक दो बार करने से थोड़ा दर्द होता है, फिर तो मजा ही मजा आता है. मेरा लंड अब अंदर ही हिलने लगा।भाभी बोली- ये तंबू क्यों लगा दिया?मैंने कहा- ये आपकी ही देन है।उन्होंने कहा- अच्छा!और हंस दी.

खाली डिब्बी जमीन पर फैंक कर अब मैंने अपना लंड गांड के छेद पर रखा और रेशमा को दर्द न हो, इस हिसाब से दबाव बढ़ाने लगा.

वो एक भारी भरकम शरीर वाला आदमी है, जिसका वजन कम से कम 90 किलो होगा. मैं आप लोगो को क्या बताऊं कि मैं उस समय शर्म से जमीन में गड़ी जा रही थी. गलती से हो गया।मेरे डरे और घबराए हुए चेहरे को देखकर जोर जोर से हंसने लगी.

इतने में सरिता भाभी आ गयी और बोली- देवर जी सोहम को भूख लगी होगी और उसे नहलाना भी है. फिर मेरे चूतड़ को फैलाकर अपनी एक उंगली को गांड के छेद पर रगड़ते हुए नीचे चूत तक ले जाते और उंगली को चूत में डाल देते.

Xxx सिस फक़ स्टोरी में पढ़ें कि मैं यही सोचता था कि कब मुझे मौका मिले और मैं अपनी बहन को चोद डालूँ. अब भैया और मैं बहुत थक गए थे, तो थोड़ी देर आराम करने के बाद हम दोनों अपने अपने घर के लिए निकल गए. जब घर मैं सब सो गए तब मैंने धीरे धीरे से अपना हाथ उसकी चूचियों पर रखा और उसकी चूचियां मसलने लगा.

दोस्त की मां की चुदाई

साबुन लगाते लगाते मैं अपने हाथ चाची के मम्मों की तरफ भी ले जाता और उनको भी टच कर लेता था.

दोस्तो आज की कहानी ऐसे ही मेरे एक मित्र ने मुझे भेजी है, जिसे मैं आपके समक्ष प्रस्तुत कर रही हूं. नंदा मेरे पैरों के बीच बैठ कर मेरे मुरझाए हुए लंड को मुँह से आक्सीजन देने लगी. सेक्स कहानी पूरी तरह से उनके द्वारा ही लिखी गई है और मेरे द्वारा किसी भी प्रकार का बदलाव नहीं किया गया है.

मेरा बर्थडे जुलाई महीने में था और उस समय सोनी का कॉलेज भी शुरू हो चुका था. गर्मी की छुट्टी खत्म होने के बाद पापा ने मेरा एडमिशन गांव के ही एक स्कूल में करवा दिया. मुस्लिम लॉ बुक इन हिंदीसंगीता की शादी 7 साल पहले हो चुकी थी, उसको कोई बच्चा नहीं था; देखने में वो अब भी 18–20 साल की लग रही थी.

खैर अब तो लगभग रोज ही मैं मोहन बाबू सेचूत चुसाई का मजाऔर चुदाई का मज़ा लेने लगी. मैंने भी पूनम की गांड को अपनी तरफ़ घुमाया और 69 की पोज़िशन में आकर एक दूसरे को चूसने लगे.

अब धारा ने हंटर की नोक को जाँघों के ठीक बग़ल से फिराते हुए शेखर के खड़े लंड के ऊपर पेडू पे फिराना शुरू किया और 5 से 6 बार वहीं फिराती रही. भाभी- एक बार मिलना चाहते हो या चोदना चाहते हो?मैं भाभी की इतनी बेबाक बात से एकदम डर सा गया कि भाभी तो एकदम लाइन पर आ गई. तो देविका चिल्ला दी- आंह हर्षद मत करो ऐसा … बहुत आग लग रही है चूत में … अब तुम पाना मूसल जल्दी से मेरी चूत में डाल दो … अब मैं नहीं रुक सकती हर्षद!मैंने उठकर एक तकिया लेकर देविका की गांड के नीचे रख दिया.

उस दिन से मेरे ऑफिस से घर आने के बाद मेरा भाई मुझे कपड़े ही नहीं पहनने देता है और न ही खुद पहनता है. मैंने भी अपनी दोनों टांगें फैलाईं और उनकी कमर में टांग डालकर उनके गले में अपनी बांहें डाल दीं. जल्द ही मेरे हाथों पर गर्म गर्म पानी महसूस हुआ, मैंने सोचा कि शायद वो झड़ गई है, लेकिन उसकी चूत से पेशाब निकल गया था.

मैंने फातिमा के बारे में सोचा और बिना कुछ बोले उसके साथ बाइक पर बैठ गया.

Xxx सेक्सी हिंदी कहानी एक ऐसी लड़की की है जिसके जिस्म की भूख मिटती ही नहीं थी. वो नंदा का हाथ पकड़ कर बाहर ले गयी और बोली- ओके मॉम जैसी तुम्हारी इच्छा … पर मेरा एक सवाल है.

तो अब मैं और मिहिरा मेरे लॅपटॉप पे लस्ट स्टोरीस का विकी कौशल और कियारा आडवाणी वाला पार्ट देख रहे थे. तभी उसने मेरे मम्मों को कसके पकड़ा और एक जोर का धक्का देकर सुपारे को मेरी बच्चेदानी में घुसा दिया. लेकिन मुझे अहसास हो गया था कि शायद मेरे भाई को पता चल गया कि मैं उनकी बीवी नहीं बहन हूँ.

मैं गीता की कोमल और पतली कमर को हर जगह चूमता हुआ नीचे रस टपकाती हुई उसकी चूत की तरफ बढ़ गया. मैं अपनी घोड़ी बनी मॉम की सवारी करने लगा और उसे घोड़ी के जैसे चोदने लगा. मेरे लंड का चिकना सुपारा सट से चूत में चला गया और नीता की कराह निकल गई.

डब्लू बीएफ सेक्सी मैं अपना गुस्सा छोड़ मुस्कुराते हुए अन्दर गया और बोला- मुझे भी खेलना है. मैं मुस्कुरा कर बोला- ठीक है भाभी, मैं एक वीडियो लगा देता हूं, आप देख लो.

पेला पेली सांग लिरिक्स

फिर अपने लंड को हिलाते हुए मेघना के ऊपर चढ़ गया और चूत में लंड सैट कर दियामेघना बॉस के भारी भरकम शरीर के नीचे बकरी सी दबी हुई थी. अपने भाई के मुँह से लंड निकालते हुए उसने भी मेरा लौड़ा मुँह में भर लिया और दोनों भाई बहन मिलकर मेरे लौड़े की मालिश करने लगे. हर धक्के के साथ देविका का सर ऊपर नीचे हो रहा था, साथ में उसके स्तन भी झूल रहे थे.

जल्द ही मेरा शक और भी मजबूत हो गया क्योंकि एक दिन सुबह सुबह मैं अपनी नाइट ड्यूटी करके वापस आया था और बिस्तर पर लेटा हुआ था. वो चूचियां उछालती हुई और आंहें भरती हुई मेरे लंड की सवारी कर रही थी. घोड़ा कुत्ता सेक्सी फिल्मवो जोर जोर से कामुक सिसकारियां भरने लगी ‘उफ़ भाई … बड़ा मजा दे रहा है … आ अम्मी मर गई … आंह भाई ओर जोर से चोद दे अपनी बहन को आंह और जोर से पेल बहन के लंड.

मेरे डैड का अपना बिजनेस है और वो हमेशा अपने काम में लगे रहते हैं, मॉम को ज़्यादा टाइम नहीं देते हैं.

कुछ दिन बाद मैंने एक एडल्ट सोशल नेटवर्क पर अपना एक नया अकाउंट बनाया. श्वेता- तुम्हारे साथ कौन है?मैं- एक लड़की है!श्वेता- अच्छा है, मज़े लो। कल सुबह तुम्हें बस स्टॉप पे लेने आ जाऊंगी। ओके बाय, गुड नाईट!मैं- गुड नाईट.

कोमल बोली- अंकित, तू क्या कह रहा है तू पागल तो नहीं है, उसकी अभी शादी हुई है. वो मेरे कान में कहने लगी- वो सर सही बोल रहे थे, आज मैं आपकी बीवी हूँ … सुहागरात मना लो और चोद दो अपनी बहन को. ललिता भाभी बोलीं- ठीक है, लेकिन अगर मुझे दर्द हुआ तो फिर मैं कभी नहीं करने दूंगी.

देर से दाखिला लेने की वजह से वो पाठ्यक्रम में मुझसे थोड़ा पीछे थी, इस हिसाब से मैं उसका सीनियर हुआ.

क्यों … तुमको अच्छा नहीं लगा क्या?मैं बोली- नहीं भैया, ऐसी कोई बात नहीं है. बहन ने बोला- उनका क्या फंस गया था?भाई ने बोला- कुछ नहीं, तुम अब आराम करो. अब जब तक वो वापिस नहीं मुड़ जाती, तब तक मेरे पास कोई रास्ता नहीं था.

ఫారెస్ట్ సెక్స్ వీడియోमैं क्या देखता हूं कि मेरी बड़ी साली साहिबा बिना वस्त्रों के बेड पर लेट कर अपनी चूत में उंगली आगे पीछे कर रही थीं और अपनी मस्ती में मस्त होकर उस पल का मज़ा ले रही थीं. एक दिन बाजार जाते समय एक प्रचार वाले ने मुझे एक पर्चा पकड़ा दिया, जिसको घर आकर मैंने देखा.

मोहब्बत की चुदाई

उसने लंड बाहर निकालना चाहा लेकिन मैंने उसका सर थाम लिया और पूरा पानी उसके मुँह में भर दिया. धारा ने थोड़ी देर उसी जगह हरकत करते हुए हंटर की नोक को अब उसकी बायीं जाँघ से लेकर नीचे पैरों के पंजों तक फिराना शुरू किया. मैंने भैया से कहा- आप ऐसे चुपके से मत आया करो, मेरी जान निकल जाती है.

मैंने कहा- भाभी, बड़ा मस्त लंड चूसती हो … भैया ने सिखाया है क्या?भाभी- बोली- तुम्हारे भैया ने नहीं सिखाया है, ये तो मेरी मजबूरी हो गई थी कि मुझे लंड चूसना सीखना पड़ा. चाचा ने पहली पत्नी के मर जाने के बाद इन चाची से दूसरी शादी की थी इसलिए उन दिनों की उम्र में ज्यादा फर्क था. अब वो मुझसे बिल्कुल भी नहीं शर्मा रही थी और बिंदास होकर लंड सहलाए जा रही थी.

हवस का जोश रेशमा के बदन में ऐसी लहरें पैदा कर रहा था कि अब उसको ख़ुद को रोकना मुश्किल होने लगा था. देविका ने मुझे लिटा दिया और मेरे दोनों पैर फैला कर बीच में खड़ी हो गयी. कहानी के पिछले भागपापा के दोस्त ने मेरी गांड मार लीमें अब तक आपने पढ़ा था कि मेरे पापा के ख़ास दोस्त राजेश अंकल ने किचन में ही मेरी गांड में लंड पेल दिया था और भकाभक पेलने लगे थे.

थोड़ी देर बाद मैंने गति बढ़ाई और तेजी से अपना लंड सुपारे तक बाहर निकाल कर तेजी से धक्के देकर चूत की दीवारें चीरकर देविका की गहराई में उतारने लगा. उसने आगे जाकर सन्नाटे में मुझे नंगी करके चोदा और मुझे मेरे घर छोड़ गया.

घर से पापा का फोन आया कि मौसी की लड़की की शादी है, तो तुम दोनों घर आ जाओ.

मैंने वन्दना को अपनी गोद में खींचा और नंदा से साफ कह दिया कि सुबह उठाना मत, अपने आप आंख खुलेगी, तब उठ जाऊंगा. सनी लियोन की सेक्सी 2020अब भैया भाभी जी की एक चूची को एक हाथ से मसलने लगे और दूसरी को मुँह से चूसने लगे. चावला की सेक्सी फिल्ममुझे शर्म आ रही थी, पर फिर भी मैंने एक एक करके अपने कपड़े उतार दिए और सिर्फ कच्छे में बैठ गया. मैंने कहा- साली फटी हुई चूत में लंड लिया है तूने … दुबारा चूत कैसे फट सकती है.

अब मैंने अपने लंड को उसके सामने कर दिया और उसे लंड चूसने के लिए तैयार किया.

[emailprotected]चुत गांड Xxx सैंडविच सेक्स कहानी का अगला भाग:प्राइवेट सेक्रेटरी की अदला बदली करके चुदाई- 4. उसके दोस्त का घर उसके अपने फ्लैट से बेहतर था, साफ सुथरा, और हर चीज मानो अपनी सही जगह पर थी. जैसे ही वो अन्दर आयी, नंदा ने टॉवेल हटा कर अंडरवियर को नीचे करके वन्दना के हाथ में मेरा लंड देकर कहा- देख, ऐसा तेरे किसी फ्रेन्ड्स के पास है क्या?इस समय मेरा लंड फनफना रहा था.

चाची Xxx अन्तर्वासना कहानी में पढ़ें कि एक रात मैंने चाची चाचा की चुदाई देखी. मैंने एक झटका दे दिया तो वो चिल्ला पड़ीमैं एकदम से डर गया और साला लंड भी चूत के अन्दर नहीं गया. अब मैंने उससे पूछा- तुम्हारा कोई ब्वॉयफ्रेंड है?बहन ने बताया- नहीं, मेरा कोई नहीं है ….

गेन यूट्यूब डौन्लोडिंग

उसको पूरी नंगी करते हुए मैंने अब अपना हाथ पैंटी के ऊपर से ही उसकी चूत पर रख दिया. अपने चूचे पर मेरे हाथ का अहसास होते ही सोनी ने एक बार आंखें खोल कर देखा और फिर से अपनी आंखें बंद कर लीं. मैंने मौका मिलते ही उसका ब्लाउज के बटन खोल दिए और ब्रा के ऊपर से ही और तेजी के साथ उसकी चूचियों को दबाने लगा.

पर तभी मेरी नजर किरण पर गयी जो दारू पीती हुई हमारी चुदाई देख कर अपनी चूत मसल रही थी.

मैंने अपने दोनों हाथों से देविका का सर पकड़ लिया और आगे पीछे करने लगा.

लगभग 10 मिनट तक चुदाई के बाद मुझे लगा कि अब मैं झड़ने वाली हूँ, तभी वो भी बोले कि अब मैं छूटने वाला हूँ. मुझे क्या … मैंने वैसलीन की डब्बी निकाली और उसका पर्स वैसे ही रखकर फिर से रेशमा के पीछे जाकर खड़ा हो गया. मोनालिसा सेक्सी वीडियो भोजपुरीमैं लगातार उसकी चूचियों को दबाते हुए बदल बदल कर एक दूसरे का रस पीता रहा.

उसने मेरे मुँह में अपना लंड भर दिया और अपना हाथ मेरी सलवार में घुसा दिया. अंग टकराने की आवाज़ तेज़ होने लगी और आंटी मस्ती से लंड की सवारी करने लगीं. किरण तो जैसे चुदने के लिए तड़प रही थी, तो उसने झट से मेरी गोदी में आकर अपनी फूली हुई गांड रख दी.

ये कह कर वो और जोर लगाने लगा और उसका लौड़ा मेरी चिकनी गांड के छेद में समाने लगा. अब ये सोच करके मेरी हालत खराब होने लगी कि सोनी को घर के अन्दर लेकर आऊं कैसे? अगर मना भी करता हूँ तो उसे बुरा लगेगा.

मैं अन्दर बैठा था तो मैंने देखा कि वो बाथरूम में गई और उसने बाथरूम से कपड़े उठाए.

लेकिन आज तक जिससे भी मिली, उसने बस अपने मन की की और मुझे बस एक हाड़ मांस की चीज़ की तरह बर्ताव किया. ज्योति मैम बोलीं- आशीष, आज यहीं रुक जाओ न … वैसे भी बहुत रात हो गई है. नीले रंग की पारदर्शक साड़ी में रेशमा का गोरा बदन साफ दिखाई दे रहा था और मुझे यकीन था कि कैब चालक जरूर शीशे में से रेशमा को घूर रहा होगा.

लड़कियों की चुदाई वीडियो सेक्सी नंदा बोली- मैं कुकर में रख आती हूँ, सीटी आएगी, तब गैस बंद कर देंगे. धारा को शेखर की हालत का अहसास था शायद … उसने शेखर को तड़पाने में कोई कसर नहीं छोड़ी थी; उसे पता था कि शेखर कितना प्यास था उस वक्त.

मेरी चूत में बहुत दर्द हुआ लेकिन मैं भी सारा दर्द झेल कर चुदती रही. लम्बी-लम्बी साँसें लेती हुई धारा यह सोचने लगी कि कहीं जोश में आकर जल्दबाज़ी तो नहीं कर दी. हाथ से बेल्ट को छोड़ कर मैंने उसका मुँह उसी हाथ से दबा दिया ताकि उसकी चीखें होटल के कमरे से बाहर ना जा पाएं.

सोनाक्षी सिन्हा की सेक्सी पिक्चर

विलास भी हमारे बेटे जैसा ही है ना!उन्होंने अपने रूमाल से सरिता के आंसू पौंछ दिए. रूम में जाते ही मैं भाभी को पकड़ कर किस करने लगा और वो भी साथ देने लगीं. मैंने बिना बताए अपना वीर्य उसके मुँह में भर दिया, जब तक उसके गले में नहीं उतरा, तब तक मैंने लौड़े को उसके मुँह में डाला रखा.

उनकी बड़ी-बड़ी चूचियां 36 इंच की ही होंगी, गांड बाहर को निकली हुई थी और एकदम गोल गोल थी. कुटिल मुस्कान से उसको चिढ़ाते हुए उसने अगले ही पल मेरे लौड़े को मुँह में लेकर चूसना चालू कर दिया.

मैंने अपने हाथों से उसके चूतड़ों को थामा और उसकी चूत के होंठों को चूसते हुए, उसकी चूत में अन्दर तक अपनी जीभ घुसाने लगा.

हॉट न्यूड गर्ल साबिरा को घूर घूर कर देख रहे शिराज से मैं बोला- साले मादरचोद, खुद की बहन को ऐसे देखने में शर्म नहीं आती तुझे भड़वे?तो साबिरा ने भी उसकी तरफ देख कर बोला- देखने दो इसे मानस, आज इस गांडू को पता चलेगा कि कैसे एक मर्द औरत के जिस्म को भोगता है. अब वो मेरे लंड का चिकना सुपाड़ा अपनी चूत की दरार में रखकर ऊपर से दबाने लगी थी. अब ललिता भाभी की रफ्तार अचानक से तेज होने लगी और वो आहह आहह करके जल्दी जल्दी लंड पर कूदने लगी.

मेरे मुँह से गर्म आहें निकलने लगीं और मैंने अपनी टांगों को फैला दिया. गोरे-गोरे हाथ, मासूम सा चेहरा और सीने के उभार देख कर जरूर पाटिल साहब रेशमा को चोदने की मंशा बना रहे होंगे. मैं जमकर झटके लगाने लगा और वो भी अपनी गांड आगे पीछे करके मस्ती से चुदाई का भरपूर आनन्द ले रही थीं.

घर के अन्दर घुसते ही मैंने दरवाजा बंद किया और पीछे घूम कर उसे स्मूच करने लगा.

डब्लू बीएफ सेक्सी: मन ही मन मैं भी यही तो चाहती थी।तीनों लड़के आपस में आंखों के इशारों से कुछ बात कर रहे थे जो मैं समझ नहीं पा रही थी. अपनी राय माय वाइफ एंड बॉस सेक्स कहानी के कमेंटस और मेल से जरूर दीजिए.

मेरे लंड की लंबाई औसत है लेकिन मोटाई अच्छी होने के कारण आज तक मैंने अपनी बीवी के अलावा जितनी भी लड़कियों को चोदा है, वो सब मेरे लौड़े की फैन हैं. दारू का नशा और लौड़े की चुसाई से मैं अब भूल गया था कि पाटिल साहब मेरे क्लाइंट हैं और मुझे उनके बारे में ऐसी आपत्तिजनक बातें नहीं करनी चाहिए. थोड़ी ही देर में सबका खाना खत्म हो गया और हम लोग बाहर बैठकर बातें करने लगे.

मैं कोमल मिश्रा जी को दिल से शुक्रिया कहना चाहता हूं, जिन्होंने मेरी कहानी को आप तक भेजने में मेरी मदद की.

इतने में सरिता भाभी आ गयी और बोली- देवर जी सोहम को भूख लगी होगी और उसे नहलाना भी है. कुछ देर बाद मैंने कपड़े उतारे और अपने कमरे में ही छोड़ कर चाचा की चड्डी को एक बार फिर से धोने लगा. वो मेरा वापस आने का इंतजार कर रही थी कि मैं कब ताऊ जी के यहां से वापस आऊं और वो मुझे देखे, फिर से मुझे नजरें चुरा कर पल्ला कर सके.