इंग्लिश बीएफ डॉट कॉम

छवि स्रोत,तब्बू की नंगी सेक्सी फोटो

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी चूत चोदते हुए: इंग्लिश बीएफ डॉट कॉम, मेरी क्या, वहाँ मौजूद सभी की आँखें भाभी के चुचों पे और गांड पे टिकी थी.

ब्लू सेक्सी जोरदार

”यह क्या कह रही है तू बहू? मुझे ट्रेन से बंगलौर आने में पच्चीस छब्बीस घंटे लगेंगे और फिर हम दोनों बंगलौर से दिल्ली जायेंगे ट्रेन से. सेक्सी पिक्चर गांड मारने कीमैं दूर को हुई और कहा- विक्की, ये क्या कर रहे हो आप?वो बोले- मैं अपनी मिनी को चैक कर रहा हूँ कि पक गई है या कच्ची है?हम पार्टी में पहुँच गए.

फिर 2-3 जोरदार की झटके के बाद वो शांत हो गई क्योंकि वो झड़ चुकी थी. सेक्सी खाताविशेष रूप से रिश्तों में चुदाई की कहानियों का बड़ा प्रशंसनीय रहा हूँ.

यह सेक्सी कहानी तब की है जब एक कंपनी में बात करने गया था, वहाँ की एच आर से मिल कर कुछ बातें करनी थी.इंग्लिश बीएफ डॉट कॉम: मैं उसके बारे में आपको बता दूँ उसके दूध 32 इंच के थे, कमर 28 की और गांड 30 की थी.

मैंने पलट कर देखा तो एक निहायत ही दिलकश महिला थी, उसकी उम्र शायद 35 के आस पास लगती थी.यहाँ पर आपको अपने विवेक से काम लेना होगा, मेरी इसमें कोई राय नहीं है.

जींस टॉप वाली लड़की की सेक्सी वीडियो - इंग्लिश बीएफ डॉट कॉम

अगले ही पल मैंने भाभी की चुत में लंड डाल दिया और जोर जोर से चोदने लगा, लेकिन अति उत्तेजना की वजह से मैं 2 मिनट भी टिक नहीं पाया और भाभी की चुत में ही बह गया.उस दिन उसे मैंने तीन बार चोदा और अब जब भी मन करता है तब उस को मेरे फ्लैट या होटल में बुलाकर चोदता हूँ.

मैं भी हिम्मत न हार कर उनसे साफ साफ लहजे में बोलने लगा कि मैंने तो आपको पहले ही बोल दिया था कि मैं आपको प्यार करता हूँ. इंग्लिश बीएफ डॉट कॉम आज पूनम कुछ ज़्यादा ही सेक्सी लग रही थी क्योंकि उसने आज रेड कलर की साड़ी पहनी हुई थी.

उस दिन भाभी जब मुझे बायोलॉजी पढ़ा रही थीं, तो एक चैप्टर था रिप्रोडक्शन.

इंग्लिश बीएफ डॉट कॉम?

मैंने उसे थोड़ा फ़्लर्ट करते हुए कहा- आज तो हमारे ऑफिस में ब्लैक डायमंड है!तो मेरे इशारा समझते हुए उसने हल्की सी मुस्कान दी और फिर काम की बात करने लगी. मैं आज भी उसका मेरे लंड को इस पेशन के साथ चूसना मिस करता हूँ और एक बार वो मिल जाए तो सिर्फ उसी से ज़िन्दगी भर चुसवाना चाहता हूँ, क्या पता वो मुझसे शादी कर के मुझसे चुदना भी चाहे. मैं वापस लौट कर उसे अपने साथ फिर से बाइक पर बैठा कर अपने घर की तरफ चल दिया.

फिर थोड़ी देर बाद मैंने सोने का नाटक करते हुए एक हाथ उनके पेट पे रख दिया और जब उन्होंने कुछ विरोध नहीं किया तो मेरी हिम्मत और बढ़ गई. मामी ने कहा- ऐसी क्या बात है मुझमें कि मैं तेरे को अच्छी लगती हूं?मैंने कहा- आप हो ही इतनी सेक्सी फिगर वाली… हर कोई आपको पसंद करेगा. अकीरा- तो यह बात है… अच्छा यह बताओ लंच किया या नहीं?विक्रांत- नहीं समय ही नहीं मिला, फिर आज मेरा बावर्ची भी छुट्टी पे चला गया तो लंचबॉक्स भी मैं ला नहीं सका.

हालाँकि सामने उसकी अपनी पत्नी खड़ी थी, जिसके सामने वो कई बार नंगा हुआ था, उसको अपना लंड चुसवाया था, उसकी चूचियों के साथ खेला था, उसकी चूत चाटी थी, गांड भी मारी थी और कई बार उसकी घनघोर चुदाई भी की थी. उनको परवाह करनी चाहिए थी कि अब मोहनलाल (इन भाई-बहन का पिता और मयूरी का ससुर) घर आ चुका था और वो हॉल में दरवाज़े के पास खड़ा, ये दृश्य देख रहा था. दोस्तो उसके बाद ना तो मैंने आकाश से कभी बात की और ना ही उसने मुझसे.

वो नीचे की तरफ देखने लगी और फिर कहने लगी- मेरी चुत में बहुत दर्द हो रहा है!यह कह कर अपनी चूत से मेरे लंड को दबाने लगी. चचा जान ने मेरे कंधों को पकड़ के मुझे खड़ा किया, जिस से मेरा दुपट्टा पलंग पे गिर गया.

अब उन सर ने कस के मेरी कमर को पकड़ा, मैं इतनी छोटी थी कि मेरी कमर उनके दोनों हाथ में आ गई थी.

फिर वो 9 बजे स्टैंड पर मिली, मैं उसे लेकर कुछ दूरी पर नहर के किनारे एक अरहर के खेत में ले गया.

अब मुझे सेक्स अच्छा लगने लगा था और किस और बूब्स दबवाना भी मजेदार लगने लगा था. दोस्तो, ये सब बताना जरूरी था ताकि आपको उसकी शक्ल सूरत और सीरत का पता लग जाए. मैंने क्रीम लेकर उसकी गांड में भर दी और अपना लंड उसकी गांड में डालने लगा.

रिया ने मेरे बूब्स दबा दिये, मैं कुछ नहीं बोली कि तभी मेरी सास बाथरूम में चली गई फिर रिया ने मुझे पकड़ा और मेरे होठों को चूमने लगी, मुझे किस करने लगी और मेरी साड़ी ऊपर उठा के मेरी चूत को रगड़ने लगी. ये सब इस घर में मेरे लिए अनएक्सपेक्टेड था इसलिए मैं सोच में पड़ गई थी. अगर हो सके तो मुझे मेरी भाभी को किसी गार्डन में, किसी ट्रेन में, बस में, फिल्म थियेटर में चोदना है.

सुमन मामी के मुँह से मादक सिसकारियां निकल रही थीं- ओह यस्स ओह्ह…मेरे लंड का साइज फूल कर तन चुका था.

मेरे हाथ एक एक नीचे सरक गये और मैं अपनी चुत को सहलाने लगी जो गीली और चिपचिपी हो चली थी. थोड़ी देर तक उनके चूचे दबाने लगा, जब दर्द कम हुआ… तो मैं फुल स्पीड में उसे डॉगी स्टाइल में चोदने लगा और साथ में उनके मम्मों भी जोर जोर से दबाने लगा. वो इधर उधर देख रही थी तो उसकी नजर मुझ पर पड़ी, मुझे उसकी ओर देखते हुए देख कर वो मुझ से बोली- मेरे फोन में नेटवर्क नहीं आ रहा… आप मेरी मदद करेंगे क्या?मैंने कहा- कोई जरूरी फोन करना है तो मेरे फोन से कर लो.

मैंने आकाश को तेज़ी से धक्का देकर बेड से नीचे गिरा दिया और मैं भी बेड से उठने की कोशिश करने लगी, लेकिन मुझसे खड़ा नहीं हुआ गया. जी हां… मैंने अपनीमॉम की चुदाई देखीकुछ दिनों पूर्व, गर्मियों में हम लोग मेरी एक दूर के रिश्ते में मौसी की शादी में जयपुर, राजस्थान गए थे. मेरा लंड उसकी गांड में फँस गया और वो मेरी तरफ देख देख कर रोने लगीं कि मैं कब उन्हें छोड़ूँगा.

क्या लंड इतने मजे और इतने अच्छे से भी चूसा जाता है, मैं तो अवाक रह गया।तभी आंटी ने एक और हरकत की, उन्होंने मेरी गोलियों को सहलाया और लंड के आसपास के हर हिस्से को चूमा चाटा, ऐसा शायद वो मुझे जल्दी झड़ाने के लिए कर रही थी।आखिर मेरा पाला भी एक अनुभवी औरत से पड़ा था और उन्होंने अपने अनुभव का लोहा मनवा दिया.

”उनके जाने के थोड़ी देर बाद मैंने मेघा को कॉल कर दिया कि वो संजय को बाय बोल कर आ जाए तो मेघा आ गई. उसी दिन ऑफिस में मेरे इण्टरकॉम पर मेरी बहन सरिता का फ़ोन आ गया कि भैया आज मुझे ऑफिस के बाद रास्ते में घर पर ड्राप कर देना.

इंग्लिश बीएफ डॉट कॉम मैं- याद है मुझे, मिनी वाली बात है ना?मैंने ये सोच कर कि अमित अभी कुछ और बताएगा ऐसा जानबूझ कर लिखा. तभी मोना ने पीछे दरवाजे की ओर देखा, उसकी नजर पर्दे के पीछे खड़े में जूतों पर गई.

इंग्लिश बीएफ डॉट कॉम फिर अवी ने मुझे बेड पर गिरा कर लिटा दिया और मेरी पैंटी निकाल कर फेंक दी और मेरी बुर, चूत, भोसड़ा. मैंने सोचा ज़्यादा वक़्त नहीं गंवाना चाहिए बड़ी मुश्किल से मौका मिला है.

सागर मीना को बोला- दीदी, अब तुम अपने हाथों से अपने भैया का लंड अपनी प्यारी भाभी की चुत में डालोगी.

ब्लू पिक्चर ब्लू फोटो

यह मेरा पहला अनुभव था… जब मैं किसी लड़की के हाथों अपने लंड की मुठ मरवा रहा था. वैसे मुझे पता था कि ये अमित का दोस्त होगा, पर मैंने जानबूझ कर कोई जवाब नहीं दिया और सो गई. मैंने आकाश से बोला- आकाश प्लीज़ अब मुझसे तू बात मत कर और मुझे घर छोड़ दे.

लेकिन फिर मुझे एहसास हुआ कि मैं अभी बहुत छोटी मासूम सी हूँ जिस कारण सीनियर लड़कों का मुझे चोदने के अलावा किसी बात में कोई इंटरेस्ट नहीं है. महेश- क्यों देख ली हिम्मत या तुम्हें और कुछ भी दिखाऊं?मैं- इसमें क्या था… कुछ ऐसा कर के दोखाओ ना कि जिसमें लगे कि हां हिम्मत वाला काम है. मेरी बहन को अबोध होने के ये मालूम ही नहीं चला था कि ये बच्ची कौन है, जिसे हम लोग पाल रहे हैं.

और मैं उसे लेकर किचन में कॉफ़ी बनाने चली गई और वहीं खोल कर देखा तो एक प्यारा सा जीन्स टॉप था.

क्यों ना ऐसे ही किया जाए कि पैसे वाले लड़कों को पटाया जाए और उनसे पैसा कमाया जाए. मैंने लंड मेघा के मुँह में दे दिया, मेघा ने मेरा लंड लेकर चूसना शुरू कर दिया. जैसे ही मैंने भाभी की चुत में लंड झाड़ा वो फिर से गलियाँ देने लगीं- साले हरामी मादरचोद मेरी चूत में क्यों झाड़ा.

अब मैं भी छूटने वाला था, मैंने रश्मि को बोला- लंड मुँह से निकाल दो, मेरा छूटने वाला है. वो कुछ सोचने लगी, मैंने उसका हाथ अपने हाथों में लिया और पूछा- क्या हुआ? कोई प्रॉब्लम है क्या?उसने मुँह ऊपर किया और आँखों मैं आंसू लिए बोलने लगी- मैं प्यासी हूँ, मेरा पति ज्यादातर बाहर रहता है और जब आता है, तब भी कुछ नहीं करता. ननदोई जी तेजी से मुझे चोदने लगे, वो भी मुझसे बोले- आह रंजना तुम्हारी चूत बहुत मस्त है.

अब सुबह के 4 बजने वाले थे, मुझे नींद आ रही थी तो मैं दूसरे कमरे में जा कर सो गई. मैंने गौर से देखा कि उन्होंने ब्रा नहीं पहनी हुई थी और पसीना आने के कारण उनके ब्लाउज गीला हो गया था और उनके मम्मे साफ़ दिखाई दे रहे थे।जब मैं उनके कमरे में गया.

उन्होंने गुलाबी रंग की साड़ी पहनी हुई थी और उनका ब्लाउज लगभग आधा खुला था, जिसके कारण उनके उभार साफ साफ दिखाई दे रहे थे. मैं मूतने लगा, लेकिन लंड खड़ा होने के कारण मूतने में दिक्कत हो रही थी तो मैं लंड को सहलाने लगा और बस मुठ मारने ही वाला था कि तभी भाभी की आवाज आई- विशाल!मैं जल्दी से फ्री होकर बाथरूम से निकला और भाभी के पास चला आया. उसके बाद चाची बच्चों को सोने के लिए लेकर गईं और थोड़ी देर बाद मेरे साथ में आकर बैठ गईं.

नीचे देखा तो एकदम क्लीन गोरी सी चूत देख कर मेरा लण्ड फनफना गया। दोनों नंगे जिस्म मिलने को बेक़रार होने लगे।मैंने उसके पूरे बदन पर किस करना चालू कर दिया, एक हाथ से चुचे दबाता और दूसरे से चूत सहला रहा था।मैंने पूछा- तुम्हें मालूम था क्या कि तुम आज चुदने वाली हो? तुम अपनी चूत शेव कर के आई हो।वो बोली- नहीं… मुझे क्या पता था कि यहाँ मुझे कोई नहीं मिलेगा, आप अकेले होंगे.

बस 2-3 बार ऐसा करने के बाद उसने लंड के सुपारे को अपने मुँह में ले लिया और लॉलीपॉप की तरह चूसने लगी. भाभी का फिगर बड़ा मस्त है, लगभग बतीस इंच के चूतड़, तीस इंच कमर और छत्तीस इंच की चुची होंगी. वो चिल्लाने लगी- बंद करो इसे! बाद में चला लेना!मैंने उसे शांत करते हुए कहा- पगली आ कर तो देख मैं तेरे लिये क्या लाया हूँ!वो चली आयी और आकर मेरे गोद में बैठ गयी और मजे लेने लगी! जब तक एक पूरी वीडियो खत्म नहीं हुई तब तक मैंने बूब्स और किस के अलावा कुछ नहीं किया क्योंकि घोड़ी कभी भी लात मार सकती है.

मैं बेड से नीचे आ गया और उसे बेड के नारे करके उसके पैर ऊपर हवा में उठा दिए, मैं वहीं से उसकी चूत चाटने लगा. मैं तुम्हारे पापा की उम्र का हूँ?”बेबी दिखती हूँ लेकिन मैं तो बेब हूँ… मस्त बेब… अंकल, आपसे पहले ले चुकी हूँ कई दोस्तों का.

वो चाचा का लंड मेरी गांड में अन्दर बाहर होते बड़ी तल्लीनता से देख रहा था. भाभी ने मेरी बात को हंस कर मान लिया और कमरे में आकर भाभी मेरे साथ नंगी ही लेट गईं. मेरी इन हरकतों से रुचि की कामुकता जानने लगी, वो बेचैन होने लगी, उसके मुख से ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ जैसी आहें निकलने लगी.

कटरीना का सेक्स

उन्होंने मेरे पेटीकोट का नाड़ा खींच कर ढीला कर दिया, पेटीकोट जमीन पे आ गिरा.

मैं समझ गया कि अब वो पूरी गर्म हो गई है और मेरा लंड अपनी चूत में लेने को तैयार है. मैं बाथरूम में गयी और चूत में उंगली करने लगी और मेरी आवाजें निकलने लगी. तभी मेरे सब्र का बांध टूट गया और मैंने पिंकी को अपनी ओर खींच लिया और उसे चूमने लगा.

वो भी मुझे देख क़र मुँह घुमा लेती और दूसरे लड़कों के संग बात करती और सबके साथ घूमती. इसलिए बेकार की जिद मत कर और तू प्लेन से ही चली जा दिल्ली; मैं यहां से ट्रेन से आ ही जाऊंगा. जानवरों सेक्सी सेक्सीउसने मुझे सीधा किया और अपने लंड का जो वीर्य बचा था, वो उसने मेरी क्लीवेज में भर दिया.

मैंने अपना हाथ उसकी टी-शर्ट और ब्रा के अन्दर डाल कर उसके मम्मों को सहलाया और दबाने लगा. काजल भी रमेश का लंड चूसना छोड़ कर पीछे पलट गई और मयूरी की तरफ देखने लगी.

उसके बाद जब भी मुझे मौका मिलता तो मैं भाभी के घर में आ जाता और हम दोनों चूत चुदाई के मजे करने लगते. उस की गांड इतनी प्यारी है कि हर कोई बस उसे चोदने के बारे में सोचे और उसके चूचे मानो ब्लाउज से बाहर निकलने को बेताब रहते हैं. उसने मुझे अपनी बांहों में इस कदर कस लिया कि मेरी चूचियां मसली जा रही थीं.

मैं समझ गया कि मैं ही था वो!लेकिन मैं परेशान सा हो गया था और खड़ा खड़ा सोचने लगा था कि यह मेरे साथ क्या हो रहा है. मैं उसके लंड को बहुत जोर से दबा कर नीचे ले जाने लगी, तो ऊपर की खाल हटने लगी. अब मेरी सास ब्रा पैन्टी में थी वो भी काली ब्रा और काली पैन्टी मस्त लग रही थी.

इस बीच एक बार उसने मुझसे ये पूछा कि आपका लंड इतना मोटा कैसे हो गया.

और मैं उसे लेकर किचन में कॉफ़ी बनाने चली गई और वहीं खोल कर देखा तो एक प्यारा सा जीन्स टॉप था. फिर वो लंड पर बैठने लगी, उसकी चूत से अब भी हमारा पुराना माल निकल रहा था.

फिर बहन को बोर्डिंग स्कूल के हॉस्टल में डाला और हम दोनों सूरत के इस घर में रहने लगे. पर अब मैंने अपने हाथ उनके मम्मे तरफ बढ़ाए और उनको धीरे धीरे दबाने लगा. फिर मैंने पूछा- भाई साब 6 महीनों में आते हैं, तो आप कैसे करती हो?उसने कहा- कुछ नहीं.

मैंने शीतल की ब्रा खोली और उसके मम्मों को दबाने लगा और निप्पल चूसने लगा. लेकिन मेरा ध्यान ही नहीं था कि मैंने कमर के ऊपरी भाग में उसको जहाँ पकड़ा था तो मेरी हथेली उसको एक चूचे को दबा रही थी. और भाभी ने मेरे साथ, मैंने भाभी के साथ चुत और गांड की चुदाई करके सुहागरात मनाई.

इंग्लिश बीएफ डॉट कॉम मंजरी ने वैसे ही किया, तो पुलकित ने मौज में आ कर अपनी कमर को आगे को धकेला तो उसके लंड की चमड़ी पीछे हट गई और उसके लंड का टोपा मंजरी के मुँह में और आगे घुस गया. इन दो अंडर गारमेंट्स में उनके मोटे मोटे चूचे और बड़े बड़े चूतड़ देख के लंड खड़ा होने लगा.

सेक्सी वीडियो बीएफ सेक्सी इंग्लिश

तभी बड़े वाले अधिकारी मेरे चूतड़ों को फैला कर मेरी गांड चाटने लगे, मुझे अजीब सी गुदगुदी होने लगी, मैं होशो हवास खोने लगी, तभी वो बोला- आरती मेरी जान आज तक मैंने बहुत गांड मारी पर तेरे जैसी चिकनी लाल मस्त गांड नहीं मारी!और फिर अपनी जीभ को मेरी गांड में डाल दिया और उसे चूमने चाटने लगे. मुझे डर लगता था कि कहीं कुछ गलत न हो जाए, इस तरह मैं अपने प्यार को अपने आपसे भी छुपाने लगा. मैंने रानी के दोनों बूब्स पकड़ के लंड को बाहर तक खींच के एक पावरफुल शॉट उसकी चूत में मार दिया जैसे कि मैं अदिति बहूरानी को चोदता था.

मैं पहली बार लिख रहा हूँ तो कोई ग़लती हो जाए या बोरिंग लगे तो भी पूरी घटना पढ़ना ज़रूर. तभी वो आई, मैंने देखा कि उसने अपने सारे कपड़े निकाल दिए थे… और वो सिर्फ़ ब्रा और पेंटी में थी. जापानी सेक्सी वीडियो भेजोफिर गर्मियों की छुट्टियां आई, मैं फिर मामा के घर गया, खुशबू की छुट्टियाँ एक दिन बाद से शुरू होने वाली थी, मैं उसके कॉलेज से आने से पहले ही उसके घर पहुँच चुका था.

अंकित उसका पहला प्यार था और शादी के बाद माया अंकित के अलावा किसी भी मर्द से नहीं चुदी थी.

मैंने जल्दी से हाथ को दीदी की गान्ड से उठा कर दीदी के बूब्स पर रखा और ज़ोर से मसलने लगा. उस पूरे घर में बस हम दोनों ही अकेले थे और मेरा शायद सालों का सपना अब पूरा होने वाला था.

मेरी उम्र 30 साल है और मैं एक मल्टिनेशनल कम्पनी में अच्छे पद पर हूँ. मैं रायपुर के एक मॉल में ऐसे ही एक दोस्त के साथ यह सोच कर गया था कि कुछ कुछ खाना पीना हो जाए, सैर सपाटा हो जाएगा. खाते खाते उसकी नज़र टेबल पर रखी हुई बैलेंटाइन की स्कॉच पर गई जो मैं दिल्ली एयरपोर्ट से लेकर गया था.

कहां निकालूँ मेरी जान?वो बोली- मेरे मुँह में निकालना, मुझे टेस्ट चैक करना है और प्रेग्नेंट भी नहीं होऊंगी.

जब वो पूरी तरह गर्म हो गयी तो मैं अपना एक हाथ उसके बूब्स पे रख कर सहलाने लग गया. मैं मौका देखकर उनके कमरे में चला गया और जाकर भाभी जी के बेड पर बैठ गया. उसने मेरे स्कर्ट को खोलते हुए मेरी छोटी सी लाल चड्डी नीचे सरका दी और फिर मेरे छोटे छोटे चूतड़ों को विपरीत दिशा में खोला और मेरी गांड पर अपने लंड के टोपे को रगड़ने लगा.

हिंदी जानवरों की सेक्सीकुछ देर बाद जब याद आया कि चाचा और चाची आते होंगे, तो उठ कर खुद को साफ़ किया और किताब को भी उसके पहले वाली जगह पर रख दिया. आख़िर वो दिन आ गया, उसी दिन मेरी पहली परीक्षा थी और दूसरी तीन दिन बाद.

सेक्सी वीडियो बीएफ ब्लू फिल्म

सीमा- ये लंड मुझे दे चूसने को, हरामी साले क्या मस्त लौड़ा ले कर बैठा है. मैं उसके ऊपर लेट गया और उसके होंठों को चूसने लगा, अपने हाथों से उसके उभारों को दबाने लगा. उसने मुस्कुरा कर कहा- हेल्लो जी, क्या देख रहे हो?मैंने कहा- कुछ नहीं.

मैंने अन्नू भाभी से पूछा- तुम थक तो नहीं गईं जान?अन्नू भाभी बोलीं- आज इतना मजा आ रहा है. मुझे ये सब नोनवेज कारनामे देख कर मजा आ रहा था, लेकिन पिंकी की वजह से मैं उसे ठीक से नहीं देख पा रहा था. मैंने लंड बाहर निकाला और दीदी के चेहरे को देखा, उनकी आँखों में संतुष्टि के भाव थे और मैं तो खुश था ही अपनी दीदी को चोद कर!कुछ देर ऐसे ही बिस्तर पर लेटे रहने के बाद अंजलि बोली- यार, बहुत दिन बाद चुदाई की आज… मजा आ गया… तुझे भी मजा आया ना?मैंने हाँ में सर हिला कर दीदी की बात का जवाब दिया और वहीं नंगी दीदी के बगल में लेट गया.

पहले प्रॉमिस करो?”ओके बिटिया रानी… आई प्रॉमिस!”मेरे कहने से बहूरानी ने अपने पैरों के बंधन से मुझे आजाद कर दिया और अपने घुटने मोड़ कर ऊपर की ओर कर लिए. मैंने वो पानी पेटीकोट के ऊपर से ही चूसना शुरू किया, तो पूनम के मुँह से अजीब सी सिसकारी निकलने लगी. इसके तीसरे दिन भाभी बोलीं- भाई साहब, मुझे मार्केट लेकर चलो, मुझे कुछ खरीद कर लाना है.

मैं उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद का रहने वाला हूँ और मैं अन्तर्वासना का पिछले 5 साल से पाठक हूँ. मैं समझ गया कि इस बार उसे क्या गिफ्ट देना हैं, उसी दिन से मैंने अपना काम शुरू किया और फोन पे ही कुछ अलग तरह की बातें शुरू की, जैसे तुमने अभी क्या पहना है, नहाने के बाद क्या पहनोगी, नहाने में इतना समय क्यों लगाया, आज साबुन लगाया था या नहीं!ऎसी बातें से क्या होता है कि आपका मनोबल भी बढ़ता है और लड़की की वासना भी बढ़ने लगती है!अब मैं रक्षाबंधन के एक दिन पहले ही घर चला गया था, मेरा प्लान तैयार था.

उसके ऐसा बोलते ही मैंने अपना लंड उसकी गांड से निकाल कर उसकी चुत में पेल दिया और दो चार धक्के मारते ही झड़ने लगा.

मैंने कहा- अच्छा हुआ आपका टायर पंक्चर हो गया, मेरे ऑटो के पैसे बच गए. सेक्सी वीडियो फिल्म की चुदाईअब मैं उसके सामने आ गया और बोला- जान स्टार्टिंग में थोड़ा दर्द होगा, सहन कर लेना. हिंदी सेक्सी देवर भाभी वीडियोभाभी ने मुझसे कहा- तेरे जैसी उम्र में तो अब तक गर्लफ्रेंड बन जानी चाहिए. इस बार जब मैं घर गया तो अपनी ताई के भी घर हो कर आया अपनी बहन से मिलने के बहाने से.

दो मिनट ही लगे होंगे उन्हें मुझे पूरी नंगी करने में!उन दोनों के लंड पूरे खड़े हुए थे जिन्हें देख कर मेरी जीभ भी लपलपाने लगी और चूत पानी से गीली होने लगी.

वो वॉशरूम में जाने लगी तो मैं भी पीछे वॉशरूम में घुस गया वो सूसू करने लगी मैंने पीछे से उसकी चुत पर हाथ रखा, जिससे उसको सूसू नहीं हुआ. इसलिये पहले तो मैं खिसक कर ममता जी के नजदीक हो गया और फिर धीरे से अपना एक हाथ ममता जी की रजाई में घुसा दिया जो सीधा ही ममता जी के शर्ट के ऊपर से उनके मुलायम अनारों पे रखा गया. इतना कहकर मैं बाथरूम में भाभी के सामने ही मूतने लगा… भाभी भी मूतने लगीं.

अब हम थक चुके थे तो बांहों में बांहें डाल कर नंगे ही सो गए!अगले दिन हमने फिर से सेक्स किया और बहुत किया. भाभी बोलीं- तेरे भैया में तो दम ही नहीं है क्योंकि उसका लंड तो खड़ा ही नहीं होता है. इस बार अन्नू भाभी बहुत तेज चीख पड़ीं ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’लेकिन मैंने अपनी स्पीड चालू रखी, कुछ ही धक्कों में अन्नू भाभी को भी मजा आने लगा था.

एचडी में बीएफ सेक्स

मैंने भी अपने होंठों को वहाँ से हटाया नहीं और अपने होंठ उनके होंठों पर ऐसे ही रखे रहा। हम दोनों के होंठ एक दूसरे के ऊपर बिल्कुल स्थिर थे…ना तो मैंने अपने होंठों से कोई हरकत कर रहा था और ना ही ममता जी। हम दोनों बस एक दूसरे की सांसों की गर्मी को महसूस कर रहे थे।ममता जी के होंठों में अब थोड़ी हरकत सी हुई, उनके होंठ अब थरथराने लगे और उन्होंने अपने होंठों को मेरे होंठों पर हल्का सा रगड़ दिया. मैं वहाँ पर अच्छा महसूस नहीं कर रहा था क्योंकि वहाँ बहुत गर्मी थी तो मैंने कहा- चलो अंदर कमरे में चलते हैं. मैंने उसे कहा- जानू रोको मत, मुझे दूसरी जन्नत के दरवाज़ा को चूसने दो, इसे मैं जी भर के चाटना चाहता हूँ.

इतने में मेरी नज़र कांच पर पड़ी तो हम दोनों ने देखा कि ऑफिस का चपरासी अंदर के तरफ आ रहा था तो मैंने सोनी को फिर से बैठा दिया और मैं भी अपनी जगह बैठ गया.

मेरी बात सुनकर दीदी के होश उड़ गये- क्या किसी और ने? क्या कोई और भी शामिल है तेरी इस हरकत में, कौन है वो जल्दी बता?दीदी गुस्से में बोल रही थी.

उसकी चूत देखकर मेरी आह्ह निकल गई, उसकी चूत एकदम लाल सूज कर पावरोटी जैसी हो गई थी. दोनों लड़कियाँ एक रोल प्ले कर रही है, स्वाति ऑफिस में बॉस और उसकी सेक्रेट्री बनी है निकिता…बॉस स्वाति अपनी सेक्रेटरी निकिता को मासिक हिसाब किताब की फाईल लेकर आने के लिए कहती है. अरे सेक्सी पिक्चर नंगीमीना- नहीं भैया मैंने बहुत इन्जॉय किया, भैया एक बात पूछू आपसे, अगर आप बुरा ना माने तो?सागर- अरे डरो नहीं, खुल के कुछ भी पूछो.

वे बोले- यहां एक आधा किलोमीटर सड़क पर चलो, तुम शहर के लोग हो, उधर खेत में लेट्रिन बनी है. और हम रेडी हो गए।मैंने आज ऑरेंज रंग की साड़ी और डीप नैक ब्लाउज पहना था. मेरा भाई रात में सोते वक्त बेल्ट नहीं पहनता और जीन्स के बटन खोल कर सोता है.

जैसे ही लंड अंदर घुसा मैंने पिंकी का मुँह बंद करने के लिए हाथ आगे बढ़ाया लेकिन तब तक बहुत देर हो चुकी थी और सारा घर आआईयईईईई. पर एक दिन चाची और चाचा दोनों कहीं बाहर गए थे और मैं घर पर अकेला ही था.

उसने मेरे पैरों को देख कर बुदबुदाया कि देखो इसको इतने सेक्सी और साफ पैर हैं.

रात में करीब 1 बजे वो ऊपर आई तो मैंने पूछा कि क्या हो गया एकदम से तेरे को?वो बोली कि इधर सिर्फ़ बात ही करने आया है?ऐसा सुनते ही मैं उसके ऊपर ऐसे टूट पड़ा. और मैं धीरे धीरे लंड डालने लगा।काफी देर कोशिश करने के बाद लंड उस की गांड में गया और मैं उस की गांड मारने लगा। मैं धीरे धीरे लंड उस के गांड में अंदर बाहर करने लगा, बड़ी गांड में लंड अंदर बाहर होते देख बहुत मजा आ रहा था।मैंने देखा कि उसे दर्द हो रहा है, शायद उस ने गांड ज्यादा नहीं मरवाई होगी।मैंने लंड निकाल लिया।फिर मैंने उसे बेड पर लिटा दिया और उस की चूत में लंड पेल दिया और धक्कम पेल चुदाई करने लगा. उसे तुम्हें सहन करना होगा, तुम्हारा वो दर्द ही आगे जाकर तुम्हारा मजा बन जाएगा.

हिंदी फिल्म सेक्सी सेक्सी हिंदी फिल्म लेकिन इस वक्त समय नहीं था और भाई कभी भी आ सकता था तो मैंने ये सब अगले दिन पर टाल दिया. अन्नू भाभी मेरा लंड चूसने लगीं और कुछ मिनट तक लंड चूसने के बाद मैं अपना लंड अन्नू भाभी की चूत पर ले गया और भाभी की चूत टटोलने लगा.

बेडरूम रानी की चूत से निकलती फचफच फचाफच की मधुर ध्वनि से गूँज रहा था, उनकी चूत से जैसे रस की नदिया सी बह रही थी. वो मस्त हो के मुझे अपनी बांहों में भर रही थीं और नीचे से चूतड़ उछाल उछल कर चुत चुदाई करवा रही थी. सिराज ने शायद ये भांप लिया तो उसने अपना लंड बाहर खींचा और मुझे नीचे पड़ी बिछावन पे पीठ के बल सुला दिया, अगले ही पल मेरी टांगों के बीच घुसकर उठने अपना लंड फिर से मेरी चुत के अंदर कर दिया।अब उसने इतना तेज ठोकना चालू किया कि मुझे सांस लेने में भी दिक्कत होने लगी.

नई क्सक्सक्स वीडियोस

बहुत ही रसीले चूचे थे उसके जैसे पके हुए कलमी आम हों!वह कामवासना से बहुत ही ज्यादा पागल होती जा रही थी और मैं तो उससे भी ज्यादा पागल हो गया था. हमारे घर के साथ वाले घर में एक परिवार रहता था, जिसमें रहने वाली एक भाभी मुझे बहुत पसंद थीं. कुछ देर के बाद मैंने सोचा कि बस अब बह्बुत हो गया ये चूसना चाटना… अब असली काम पर आते हैं… मैंने आंटी को बिस्तर पर चित लिटाया और लण्ड उनकी चूत पर रगड़ने लगा.

अब आगे:रात के लगभग 3 बजे मुझे अपने लंड पर किसी गीली चीज का अहसास हुआ तो मेरी नींद खुल गई. अब उनके चेहरे पर जो खुशी थी, उस वक्त वो खुशी मैं भी महसूस कर रहा था.

मैंने जल्दी से सलवार पहनी और एकदम तृप्त होकर ख़ुशी से सीधे घर की तरफ जाने लगी.

भैया एक कंपनी में मार्केटिंग जॉब करते थे जिस कारण से उन्हें कभी कभी जयपुर से बाहर भी जाना पड़ता था. भाभी बोलीं- अब सर ही हिलाता रहेगा या अब मुझे गरम भी करेगा?मैंने भाभी से कहा- मुझे नहीं आता आप ही बताओ?भाभी ने अपना माथा पकड़ लिया और बोली कि मैं किस अनाड़ी के चक्कर में पड़ गई?मैं उनकी तरफ चूतियों सा मुँह बाए खड़ा था. चूँकि उनको प्रेग्नेंट होने का कोई डर नहीं था इसलिए मैं पांच सात धक्के मार कर उनकी चूत में ही झड़ गया और उनके ऊपर ही लेट गया.

अमित- तो मैं क्या हेल्प कर सकता हूँ इसमें?सन्नी- सर आप तो माहिर हो इस काम में… हर रोज नई गर्लफ्रेंड होती है आपकी. अचानक मेरे दिमाग में भाभी के बारे में याद आया कि मैं और भाभी नीचे अकेले हैं, तब मैंने सोचा कि क्यों ना आज अपनी किस्मत को आजमा कर देखा जाए. मंजरी को भी पता था कि वो उसका रिश्ते में भाई लगता है तो दोनों की शादी होना मुश्किल है.

सलमा चूतड़ तेजी से उठाने गिराने लगी और शिशिर भी ज़ोर ज़ोर से धक्के देने लगा.

इंग्लिश बीएफ डॉट कॉम: मैंने मस्ती करते हुए कहा- उसको मैंने बाहर भेज दिया क्योंकि तुम्हारे साथ थोड़ा अकेला टाइम चाहिए था. फिर सागर ने मीना को अपनी और खींचा और अपने बदन पर उसका बदन लेकर पीछे हाथ डाल कर ब्रा का हुक निकालने लगा.

मगर ये तो कम से कम अस्सी किलो की थी और मुझे अपनी कमर तुड़वाने का कोई शौक़ नहीं था. मैंने वो ब्रा भी उतारी और अपने मम्मों को देखा तो मेरे बूब्स हद से ज्यादा लाल लाल हो गए थे. अब उनकी आपबीती कहानी के खत्म होते होते शाम होने लगी थी और उनके सवाल छोटे किंतु गंभीर थे। इसलिए मैं बिना कुछ कहे उठ कर चला आया, ये सोचकर कि सही जवाब सही समय पर दूंगा। और छोटी के इलाज का उपाय सोचने लगा, साथ ही दुनिया के बारे में भी सोचने लगा कि दरिंदगी की हदें पार करने में भी लोग पीछे नहीं रहते।सेक्स भी क्या अजीब चीज है ना.

मैं एकदम से खड़ी हो गई और अपने मम्मों को अपने दोनों हाथों से छिपाने लगी.

जब हम चिपक कर सो रहे थे, तो मैंने महसूस किया कि अंकल के दूध बहुत बड़े बड़े और एकदम मुलायम थे, जो मेरी छाती पर गुदगुदा रहे थे. पश्चिमी समाज में ऐसा होता है लेकिन हमारे समाज में इसको अच्छा नहीं मानते. मैंने उसको बैठा कर उसकी साड़ी को कुर्सी से निकाला और वो जाने के लिए खड़ी हो गयी और मैं भी उसके साथ ही साथ बाहर जाने लगा उसको छोड़ने के लिए!लेकिन अचानक दरवाज़े तक भी नहीं पहुंची और पीछे पलटी तो वो फिर से मुझ से टकरा गयी और इस बार उसके चूचे मेरे छाती से टकरा गए और फिर से इससे पहले उसका संतुलन बिगड़े, मैंने उसकी कमर पर हाथ रख दिया.