साधु सेक्सी बीएफ

छवि स्रोत,मोटे दूध वाली

तस्वीर का शीर्षक ,

इंग्लिश मारवाड़ी सेक्सी: साधु सेक्सी बीएफ, मैंने उससे लंड मुँह में लेने को कहा, वो कहने लगी कि पहले ऐसा कभी नहीं किया है.

हॉट भाभी की चुदाई

सोचते सोचते बहुत गर्म हो जाती, मेरी पैंटी भीग जाती गीली हो जाती थी।यह कोई मेरी कहानी नहीं है, एक एक शब्द एक एक बात पूरी सच लिख रही हूं, यह मेरे जीवन की सच्चाई है, इसे झूठ कोई मत मानिएगा।मैं अपनी मम्मी की कसम खाती हूं और गॉड कसम… सब कुछ बिल्कुल एक-एक शब्द सच लिखा है।यह बात सच है कि मुझे खुद भी बहुत ही ज्यादा मजा आया, यह कैसा सुख और इंज्वाय है मैं इसे नहीं जानती थी। पर बहुत ही बेस्ट अनुभव रहा है. गंड की चुदाईअचानक भाभी जी की आँख खुल गई और मैं डर के मारे सोने की एक्टिंग करने लगा.

लेकिन क्योंकि इतनी गहराई तक यह मेरा पहला अनुभव था इसीलिए मुझे काफ़ी डर भी लगने लगा. हिंदी की ब्लू पिक्चरतब मीशा ने लंड को पकड़ के अपनी चूत के छेद पे रखा और मुझे ज़ोर लगाने को कहा.

रोशनी मैं जानता हूँ कि हम एक दूसरे को दिल में प्यार करते हैं, हां या ना?”उसने आँखें नीचे करके सर हिला के हां” कर दिया.साधु सेक्सी बीएफ: मैंने उसके दोनों गाल पर हाथ रखे हुए थे और धीरे धीरे उसके मुँह में धक्के मार रहा था.

अन्तर्वासना के पटल पर एक और कहानी का समापन।कैसी लगी मेरी प्रेमिका की चुत चुदाई कहानी?आप मुझे मेल कर सकते हैं![emailprotected].मैं अपनी रौ में कहे जा रहा था- अभी हम दोनों को केवल एक शरीर की जरूरत है.

पंजाबी चुदाई सेक्सी - साधु सेक्सी बीएफ

मुझे उसकी बात सुनकर गुस्सा तो बहुत आया था क्योंकि उससे 70000 उससे लिए थे, जो कि उसने मुझे बता दिया था कि 20000 अड्वान्स में ले गई थी.पिंकी ने झट से अपने बैग से स्केल निकाल कर मेरे लंड को नापा, लगभग 8 इंच का मोटा ताजा, बिल्कुल तगड़े लम्बे बैगन जैसा खड़ा था.

राजेश ने कहा कि वो अन्दर जाकर वो बैग ले आएगा, जिसमें मेरी ड्रेस और बाकी सामान था. साधु सेक्सी बीएफ जिसमें से ब्रा मैंने निकाल दी और उनके बोबों को किसी छोटे बच्चों की तरह चूसने और दबाने लगा.

मेरी बीवी बोली- पहले खाना खा लीजिएगा जनाब!खाना खाने के बाद हम तीनों रेडी थे.

साधु सेक्सी बीएफ?

फिर मैंने उस लैपटॉप में एक सेक्सी मूवी की सीडी डाल दी और उसको बंद कर दिया. मेरा भाई काम के सिलसिले में गाँव छोड़ कर भाभी के साथ शहर चला गया है. जैसे ही उसने मेरे चूतड़ों को हाथ से पकड़ा, मेरी सिसकारियां निकलने लगीं.

कुछ देर बाद दीदी की चुत का दर्द खत्म हो गया और वो चिल्लाने लगीं ऊऊ. विनय- नेहा, एक बात बोलूं?मैं- हां विनय, हम दोनों फ्रेंड्स हैं तो तुम कुछ भी बोल सकते हो. मैं तुम्हें पूरी मालामाल कर दूंगा, अगर तुम मुझसे जब तक चुदवाती रहोगी.

वो कभी मेरा एक चुचा दबाता तो दूसरा चूसता और अगर दूसरा दबाता तो पहला चूसता. मैं अपने रूम में आ गया, आंटी भी मेरे पीछे मेरे रूम में आ गईं और मेरे पास सोफे पे बैठ गईं. कुछ ही देर में चाची फिर से गरम होने लगीं और कहने लगीं- चोद दे मुझे.

उस अधिकारी के पूरी तरह से काबू में आ जाने के बाद अब मुझे अपने कैमरों की कोई ज़रूरत तो नहीं थी मगर फिर भी उसके साथ की चुदाई को रिकॉर्ड कर लिया. वो मेरे लिए खाना लाया, मेरी इच्छा नहीं थी तो उसने अपने हाथों से थोड़ा खिलाया.

मेरे राजा।ऐसा बोल कर वो मेरे सर चूत में दबाने लगी। मुझे समझ आ गया कि इसे चोदने का टाइम आ चुका है।मैंने अपना मुँह उसके चूत से हटा लिया। वो बिन पानी की मछली की तरह तड़प उठी।बोली- रुक क्यों गए और करो न प्लीज!मैंने कहा- मेरे को भी तो मज़ा चाहिए।उसने- और क्या करोगे तुम.

फिर मैंने ड्रेस के नाम पर एक ब्लैक कलर का वन पीस निकाल लिया और उसे पहन लिया, वो मुझे एकदम टाइट फिट आया और वो मेरे कूल्हों से थोड़ा सा नीचे तक आ रहा था.

पता चला कि वहाँ कभी कोई नहीं जाता और जब फर्नीचर टूटता है, तो ही रखने जाता है और अभी कॉलेज में नया फर्नीचर था. मैंने उसे अन्दर खींच लिया और दरवाज़ा लगा कर मैं उसको वहीं पागलों की तरह चूमने लगा. पूरा रूम में उनकी मादक कराहों और सीत्कारों से गूँज उठा- आह… फक्कक… मी… आह… बहुत मजा आ रहा है… आह…उनकी आवाजें आ रही थीं.

मेरा लंड अपनी बहन की चूत के बारे में सोच सोच कर पूरा खड़ा हो गया था तो मैंने सोचा कि बाथरूम में जाकर एक बार मुट्ठ ही मार लेता हूँ!और मैंने बाथरूम में जाकर अपनी सेक्सी बहन को ख्यालों में नंगी करके उसके नाम की मुट्ठ मारी. मैं झाँसी जाता था, मस्ती करता था और वापस आता था तो क्या कभी किसी ने मुझे टोका नहीं?तो इसका जबाब है- हाँ टोका ना, और टोकने वाला था कौन? तो वो थीं मेरी पुरानी स्कूल टीचर जिन्होंने अपनी मर्जी से कभी भी शादी ना करने का फैसला ले रखा था. वो चिल्लाने को हुई मगर मैंने पहले से ही उसके दोनों होंठों को अपने मुँह में भर लिया था.

मैंने उसको बेड पर लिटाया, वो बोली- राजेश, प्लीज़ मैं बहुत प्यासी हूँ, इनको अपने बिजनेस से फ़ुर्सत नहीं है और मैं यहाँ तन्हाई में मरी जा रही हूँ.

तेरे लिए… कुछ भी! जान मांगे तो जान भी!!” कहते-कहते जाने क्यों मेरी आँख भर आयी. कुछ देर बाद मां सिसकारी भरने लगीं- उम्मआहह आआहह आअहह उफ़ उईई उफ्फ उफ्फ…चुदाई का यह नजारा देख कर मेरा मन भी हो रहा था कि मैं भी अपनी चुदक्कड़ मां को चोद दूँ. कुछ देर बाद आंटी रूम में आईं और बोलीं- तुम कुछ देर वेट करो, मैं अपने हज्बेंड को चाय मैं नींद की गोली मिला कर दे दूँ फिर तुम्हारे पास आऊंगी.

पंकज ने रेखा को उल्टा किया और उसकी टांगें पकड़ कर बेड के नीचे लटका दीं और अपने लंड के सुपारे को रेखा की मस्त गोरी चिकनी भरी हुई गांड के छेद पर रख कर एक ही बार में लंड उसकी गांड में डाल दिया. फिर जहाँ पर उसका थूक लगा था, उधर से मेरी चूत में अपने लंड को डालना शुरू किया. पंखे की हवा का प्रेशर इतना तेज था कि उनकी साड़ी उड़ कर उनके पेट पर पहुंच गई.

मेरा कद 5 फुट 10 इंच है, मैं दिखने में काफी ताकतवर और स्मार्ट ब्वॉय हूँ.

मैं शाम को आऊंगा, लेकिन मेरी एक ख्वाहिश है कि आज रात तुम मेरे लिए दुल्हन जैसे सजो और मैं तुम्हारे साथ सुहागरात मनाऊं. मैं समझ गया था कि दीदी को अपनी चुत में डालने के लिए ककड़ी जैसा स्मूद नहीं करेला जैसा डॉटेड सरफेस चाहिए.

साधु सेक्सी बीएफ मैंने अन्तर्वासना पर आप सबकी कहानी पढ़ी तो मुझे अपनी कहानी लिखने का मन हुआ, जो मैं आपके साथ शेयर कर रहा हूँ. हां, कभी कभी जीजा साली सेक्स के बारे में सोच कर उसके नाम की मुठ जरूर मार लिया करता था क्योंकि मेरी बीवी को सेक्स में ज्यादा रूचि नहीं है और जबरदस्ती करना मेरा स्वभाव नहीं है.

साधु सेक्सी बीएफ मैंने पूछा- क्या हुआ?भाभी ने कहा- आज मैं काफी दिनों बाद इतना हंसी हूँ. उसका एक हाथ मेरी साली के चूचे सहला रहा था और एक हाथ से उसने मेरी साली की सलवार का नाड़ा खोल दिया.

अरे कहाँ?” पीछे से मैं चिल्लाया- अभी तो एरिक संग हम भी बाकी हैं… हमारा क्या होगा?विदेशी लड़की की गांड और चूत की चुदाई स्टोरी जारी रहेगी.

क्सक्सक्स सेक्सी हॉट वीडियो

अब मेरा एक हाथ उसकी पीठ पे घूमते हुए उसे सहला रहा था, दूसरा हाथ उसकी कमर को अपनी तरफ खींचे जा रहा था. दो मिनट ऐसे ही रहने के बाद मैंने धीरे धीरे धक्के लगाने शुरू किए तो उसे कुछ आराम मिला. फिर मैं उसकी जालीदार पेंटी को भी धीरे धीरे उतारने लगा तो वो इसमें भी मान गई और उतार दी.

पूजा अब ‘आ ऊह आ ऊह…’ करने लगी उसकी गांड चोदने के बाद मैंने लंड निकाल कर सीधे उसकी चूत में डाल दिया, पूजा इस अचानक के हमले से फिर से चिल्ला पड़ी ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’मैंने पूजा की खूब चुदाई की, कभी गांड में लंड डालता, कभी चूत में और थोड़ी देर बाद मैंने झड़ कर लंड का पानी पूजा की चूत के हवाले कर दिया. मैंने भी कपडे पहने और उसे उसके घर के मोड़ तक छोड़ कर आया क्योंकि उससे ठीक से चला नहीं जा रहा था. और उस घर में अकेले होने की वजह से मेरा मन कंप्यूटर में कम और जमीला में ज़्यादा लग रहा था.

मैंने ऐसे ही उसके उभारों को चूमने लगा, तो उसने नंगा होने का कह दिया.

मैंने चिंटू को लेटने को कहा और मैं उसके लंड के ऊपर झुक गया, लंड को एक हाथ से पकड़ कर उस पर अपने होंठ रख दिए. अचानक मैंने गौर किया कि प्रिया की काँखें एकदम रोमविहीन हैं, वहाँ एक भी बाल नहीं था और बग़लों के नीचे की त्वचा एकदम नरम और मुलायम थी. दीदी इसी तरह झुके हुए एक हाथ में फोन पकड़ कर कान पे लगाए हुए बात कर रही थीं और दूसरे हाथ से किचन काउंटर पर उंगलियों से यूँ ही कुछ लिखे जा रही थीं.

तभी चिंटू ने परीक्षित से कहा- मुझे भी तो इसकी गांड का मजा लेने दो, तुम अकेले ही इसकी गांड का मजा ले रहे हो. मैंने सोचा अब तो मेरी बैंड बज गई, घबरा गया मैं… मुझे लगा कि ये भाई और भाभी को सब बता देगी. उसने मेरे लंड का माल मॉम के सामने थूका और मॉम को बोला- भैया ने ऐसा किया, मेरे मुँह में लंड डाला और अन्दर ये वाइट पानी निकाल दिया.

एमडी बोले- अच्छा मैं तुम्हारी सेलरी 50000 करता हूँ मगर अब तुम जो काम ऑफिस के बाहर करती हो, वो नहीं करोगी. ऐसे में उसको भी मजा आने लगा और वो नीचे से गांड उठा उठा के साथ देने लगी.

इस तरह मेरी इस कमजोरी को समझ कर मुझे एक लड़के ने प्यार के जाल में फंसा लिया. विक्रम ने ड्राइवर को फोन किया कि मेमसाब को अभी उनके घर पर छोड़ कर आओ और वो कुसुम के दूध दबाते हुए मुझसे बोला कि आप ड्रॉइंग रूम में जाएं, ड्राइवर आपका वेट कर रहा है. मैंने कहा- साली अगर तेरा मुझसे चुदने का इतना मन करता था तो पहले क्यों नहीं कहा, मैं भी कब से यही चाहता था.

आंटी साड़ी पहनती हैं इसलिए आंटी की सेक्सी कमर और मम्मों के मजे सबको देखने मिलते थे.

चूंकि उसके साथ मेरा खुल कर हँसी मजाक होता रहता था तो मुझे कभी कभी साली की जवानी को चखने का जी करने लगता था. वो मुझे दूध पिलाते हुए बड़बड़ाने लगी- आह मेरी जान, साले पी जा, मेरी चूचियों को खा जा कमीने… कितने दिनों से मन होता था कि तुझे अपना दूध पिला दूँ… आह निचोड़ ले साले… मजा आ रहा है…मैंने भी उसकी एक चूची को अपने मुँह में पूरा भर लिया और दूसरी चूची को अपने हाथ से मसलते हुए उसकी जवानी के रस का मजा लेने लगा. तो वो हँसने लगी और बोली- तुम्हें यकीन नहीं तो अपने दोस्त से पूछ लेना!मैंने कहा- अरे नहीं भाभी, अगर मैंने उससे आपके बारे में पूछा तो मारेगा, बोलेगा ‘मेरी भाभी पे लाइन मार रहा है साले?’तो वो हँसने लगी और बोली- अरे अब मुझे कौन लाइन मारेगा? तुम लोगों को तो जवान जवान लड़कियाँ पसंद आएँगी.

अगले दिन फ़ोन लगाया तो उसने रिसीव नहीं किया और अगले कुछ दिन नम्बर बंद बताता रहा और फिर और कुछ दिन बाद उसका नम्बर गलत बताने लगा. तो सोचो दोस्तो, मेरे लंड का क्या हाल हुआ होगा?खैर मैं मिंकी से लिपटते हुए किस करने लगा और नीचे की ओर खिसक कर मैं उसकी नाभि पर आ गया और उसमें जीभ डाल कर घुमाने लगा तो मिंकी सिसकारी भरने लगी.

उन्होंने बिना कुछ कहे अपनी गांड मेरी तरफ कर दी और मैंने बिना देर किए उनकी गांड को अपने मुँह में भर लिया और चूत में उंगली करने लगा. मैं उसे अपने बेडरूम में ले गई और ड्रॉवर से कंडोम निकाला, तो वो भी जोश में आ गया. अन्तर्वासना के पाठकों को मेरा नमस्कार, मैं राजेश आपके लिए एक सच्ची हिंदी पोर्न स्टोरी लेकर आया हूँ.

सील पैक एचडी बीएफ

भाईसाहब बोले कि रूम में तो चलिए फिर दिखाते हैं कि साठा कितना पाठा है.

करीब बीस मिनट के बाद जब मुझे लगा कि अब मैं झड़ने वाला हूँ तो मैंने उसको बताया. वो भी मजे से ‘आआह्ह्ह ओह्ह्ह ह्म्म्म…’ की आवाजें निकालने लगीं, मुझे भी अब बहुत मजा आ रहा था. चूंकि उस वक्त घर में कोई नहीं था मुझे लगा कि मौका अच्छा है, मैं उसकी गांड मारने की सोचने लगा.

मैं रात के 3:30 तक उसको ऐसे ही चोदता रहा, फिर मैंने उससे एक बार फिर से लंड चुसवाया और गांड मारने के लिए बोला. आप कहानी पढ़ कर अपनी प्रतिक्रिया मुझे मेरे ई-मेल[emailprotected]अवश्य दें. ब्लू सेक्सी चाहिएउसी तरह कब हम दोनों अपने अपार्टमेंन्ट पहुँच गए, पता ही नहीं चला और वही मुद्रा आपके सीसीटीवी में कैद हो गई.

अब देखो कब ऐसा मौका मिलता है कि मैं किराएदारन आंटी अपनी मॉम और बहन तीनों को एक साथ एक ही बिस्तर पर कब चोद पाता हूँ. एक दिन मैंने डॉक्टर से बात की कि क्या इसका कोई इलाज़ है?उसने कहा- हां है.

हम दोनों के साँसों की गति निरंतर बढ़ती जा रही थी लेकिन इस से आगे ना वो बढ़ रही थी न मैं…लेकिन मैं पुरुष था… पहल तो मुझे ही करनी थी!आखिरकार आहिस्ता से मैंने अपना दायाँ हाथ ऊपर उठा कर प्रिया के बायें गाल पर रख दिया. करीब पांच मिनट की ज़ोरदार चुदाई के बाद मॉम चिल्लाने लगीं- ओह माय गॉड. उनके द्वारा एकदम से लंड पेल देने से मां की चीख निकल गई और वे एकदम से चिल्लाने लगीं- हाय मर गई… मेरी चूत फट गई आह… निकला लो प्लीज़ तुम्हारा बहुत मोटा लंड है.

लगभग दस मिनट के बाद उसका शरीर अकड़ने लगा और वो तेज आवाजें करते हुए झड़ गई. मैं बड़ी ही तन्यमयता से उसको अपने मुंह के अन्दर लेता रहा, मैं उसके रस की एक एक बूंद को चाटता रहा और वो मेरे बालों पर अपने हाथ को फेरती रही। जब उसके रस की एक एक बूंद को चूस कर मैं उससे अलग हुआ तो बोली- सर मुझे बहुत मजा आया. हां जो मैंने पैसों के साथ लिफ़ाफ़े में लेटर रखा है, तुम उसे जरूर पढ़ लेना.

मैंने अपना हाथ उसके हाथ के ऊपर रख कर उसको ट्रेनिंग देना लगा, तो कुछ ही देर में उसकी साँस तेज होने लगी.

लेकिन कुछ देर बाद मैंने घर जाने की जिद की और ताई जी से घर की चबी मांगी, तो ताई मुझे चाबी देने के लिए मान गई पर शरारत न करने की सलाह देकर चाभी दे दी. इस बीच मैंने उसकी कोमल पतली जांघों और सुंदरता से भरे आकर्षित करते कूल्हों पर भी कई चपत लगाये।मुझे प्रेरणा की चूत से रस बहने का अहसास हुआ, तो मुझसे रहा नहीं गया, मैंने उसकी चूत के अंदर अपनी जीभ लगा दी, और हर एक बूंद को खा जाने का प्रयास किया.

मुझे लगा कि वो मेरी चुदाई से संतुष्ट नहीं हुई थी और शायद जॉब के कारण उसने शहर भी छोड़ दिया है, तभी कॉल नहीं लग रहा था. मैंने अपनी बीवी से पूछा- क्या हुआ यार, मज़ा नहीं आ रहा क्या?वो बोली- हां यार, मजा नहीं आ रहा है चुत चुदाई का…मैंने पूछा- क्यों क्या हुआ?मेरी बीवी बोली- मैं नहीं जानती. तब वो बोली- चलो मैं ही तुम्हें बताती हूँ, जिसे तू उसका बोल रही हो, वो लंड होता है और खड़ा होकर पूरा लौड़ा बन जाता है.

उस अधिकारी के पूरी तरह से काबू में आ जाने के बाद अब मुझे अपने कैमरों की कोई ज़रूरत तो नहीं थी मगर फिर भी उसके साथ की चुदाई को रिकॉर्ड कर लिया. मजा ले ले मेरी जान…फिर जोर जोर से भाभी के मम्मों को दबाते हुए उनको चोदने लगा. वो मुझे हमेशा कहा करती थी कि रानी क्या रखा है इस जिंदगी में, जिन्दगी के असली मज़े लो.

साधु सेक्सी बीएफ मैंने देखा कि दोस्त का लंड भी खड़ा हो गया था, वो जल्दी जल्दी ड्रिंक खत्म कर के बोला- यार, अब मैं चलता हूँ. उस लंड को देखकर मेरे मुँह में पानी आ गया क्योंकि मुझे गुलाबी टोपे वाले लंड बहुत पसंद हैं और ऊपर से उस स्किन ने लंड पर चार चाँद लगा दिए थे!मैंने झट से फोन नीचे रखा और दोनों हाथों से लंड को पकड़ लिया और बस यही दुआ करने लगा कि अब ये पकड़ कभी ढीली ना हो!बस उसी समय मैंने वो शानदार लंड अपने मुँह में ले लिया.

मोटी औरत का सेक्सी वीडियो बीएफ

उन्होंने मेरा लंड पैंट से बाहर निकाला और लंड देखते ही चाची की आँखें फटी की फटी रह गईं. बरहराल… दीदी चलकर किचन काउंटर के पास आकर खड़ी हो गईं और फोन पे बात करे जा रही थीं. भाभी ने काफी टाइम पहले ही सोच रखा था कि वो भी लंड चूस कर देखेगी, आज उनकी हर ख्वाहिश पूरी हो रही थी और मैं तो एकदम हवा में उड़ने लगा मेरी भी सेक्सी भाभी को चोदने की इच्छा पूरी होने वाली है, मैं बहुत ही प्यार से भाभी की चुत चाटने लगा और भाभी मेरा लंड मजे से चूस रही थी जैसे कि कितने सालों बाद मिला है.

प्रिया का दिल तेज़ी से धड़क रहा था, उसकी जलती गर्म सांसें मेरी कलाई झुलसाये जा रही थी. मनन- ठीक है, मेरे लंड की दीवानी और कोई आई तो मेरा लंड उसका भी होगा?रीमा- ठीक है. एक्स बीडीओ”तौबा तौबा! क्या खुराफाती सोच थी… लड़की की!अच्छा! अब बता… मैं पास हुआ या फेल?”आप को क्या लगता है?”तू बता?”मुझे ख़ुशी है कि जिसे मैंने देवता माना, वो सच में एक देवता ही है.

मैं विनय की बातों से उत्तेजित होने लगी और मैंने देखा विनय का लंड भी वासना से खड़ा हो गया है.

और फिर मैं मैं उसको अपने साथ बाथरूम में नहाने के लिए ले गया, वहाँ जाते ही मैंने हम दोनों के कपड़े उतार दिए. बाद में मनन का लंड मुँह में लिया, उसका वीर्य भी निकाला और उसका रस भी पी गई.

मैं उठ कर मेरी पिंक ब्लाऊज और पेटीकोट में शीशे के सामने खड़ी हुई, जमाई जी मेरे पीछे आकर खड़े हो गए, पीछे से मेरी बालों को खोल कर मेरे ब्लाऊज के ऊपर से मेरी चूचियों को मसलने लगे. मैंने अन्दर आकर दरवाज़ा बंद कर दिया, फिर कुछ इधर-उधर की बात के बाद मैं उसको कंप्यूटर के बारे में कुछ कुछ बताने लगा. उस लंड को देखकर मेरे मुँह में पानी आ गया क्योंकि मुझे गुलाबी टोपे वाले लंड बहुत पसंद हैं और ऊपर से उस स्किन ने लंड पर चार चाँद लगा दिए थे!मैंने झट से फोन नीचे रखा और दोनों हाथों से लंड को पकड़ लिया और बस यही दुआ करने लगा कि अब ये पकड़ कभी ढीली ना हो!बस उसी समय मैंने वो शानदार लंड अपने मुँह में ले लिया.

ओके तुम पहले मेरी झांटों की डिजायन देखना चाहोगी?”उसने धीरे से हाँ कहा.

मेरा उसे चोदने का उस दिन का प्लान तो फेल हो गया, पर उस दिन से फ़ोन सेक्स होना स्टार्ट हो गया. अब आगे:मम्मी अजय को कंधों से पकड़ कर खींच कर बोली- साले अनीता के पीछे पीछे भागता रहता है, आज मुझे भी अपना दम दिखा।यह बोल कर मम्मी ने अपने होंठ अजय के होंठों से लगा दिए और चूमने लगी. बीच बीच में वो सिसकारियां ले रही थी ‘आह… उह्ह… उम्म्ह… अहह… हय… याह… ओहह… उम्म्म्म…’अब मैंने उसे जोर से अपनी बाँहों में जकड़ लिया और चूमना शुरू कर दिया.

किन्नर किन्नर का सेक्ससर्दियों की छुट्टियों में भी सिर्फ़ लड़की बन कर अपनी गांड में फिंगरिंग कर लेता, मम्मों को दबा लेता. मैं कहा- ओके मुझे लगता था कि शायद तुम भी मुझे उतना ही प्यार करती थीं जितना मैं तुमको प्रेम करता हूँ.

बीएफ एचडी में चुदाई

लंड थोड़ा ढीला हो गया था लेकिन मैं सोच रहा था कि दुबारा चुसाई से मेरा लंड जल्द ही खड़ा हो जाएगा. बिंदु ने उसको लैपटॉप पर उसका बाथरूम वाला सीसी कैमरा से रिकॉर्डेड क्लिप दिखाया और बोला- क्या यह सब करोगे यहाँ पर? पुलिस को बुलाना पड़ेगा. उसके मम्मे तो कपड़े फाड़ दें कुर्ती के ऊपर से ऐसे टाइट दिखते रहते थे.

मैंने नैना के मम्मों को खूब चूसा और दबाया और साथ में ही अपना एक हाथ उसके दोनों पैरों के बीच में ले जाकर उसकी चूत को जींस के ऊपर से ही दबाने लगा. मैंने अपने होंठ उनके होंठों पर रख दिए और अगला धक्का मार कर अपने मोटे लंड को भाभी की चूत की गहराई में बैठा दिया. मेरा दायाँ हाथ प्रिया की पीठ पर ऊपर-नीचे गर्दिश करता करता अब नितम्बों पर से होता हुआ, पैंटी-लाइन नापता-नापता योनि-द्वार तक जा रहा था.

वो- वेट…मैं- वेट क्यों?उसने मुझे फोन पर भी एक चुम्मा दिया और फोन कट कर दिया. मेरे पेट में हाथ डाल कर मुझसे बातें किया करता और कभी कभी मेरे बोबों पर मुँह रखके सो जाता. उसका ब्लाउज खुलते ही उसकी मदमस्त चुचियां बाहर आ गईं, क्योंकि उसने ब्रा नहीं पहनी हुई थी.

उस दिन भी शाम को मैं रोज की तरह से ऑफिस से निकला और ऑटो लेने के लिए रोड पर आकर एक ऑटो में बैठ गया. वहीं दूसरी ओर मैं अपनी चूत में रोज़ नए नए किस्म के लंड, छोटे मोटे लम्बे मोटे पतले हर तरह के लंड डलवाती थी.

मैं थोड़ा और तेज हो गया तो अब चाची झड़ने वाली हो गई थीं… उनकी थिरकन से मैं समझ गया कि चाची का काम बजने वाला है.

एक के बाद एक धीरे धीरे मैंने उसकी टांगों को चूमा और धीरे धीरे फिर से मैं उसकी चुत की तरफ आ गया, जिससे उसकी सेक्स की इच्छा फिर से जाग गई. एक्सएक्सएक्स तीनफिर मैं उसकी जालीदार पेंटी को भी धीरे धीरे उतारने लगा तो वो इसमें भी मान गई और उतार दी. हिंदी में ब्लू फिल्म दिखामैंने पूछा इस कंडोम का क्या करने वाली हो, जो इसे पैक कर रही हो?पहले तो हंस कर बोली- इसका अचार डालूँगी. पहले तो मैंने इन दोनों के लंड को चूमा और तुरन्त ही लॉलीपॉप की तरह चूसने लगी क्योंकि मुझसे अब सब्र नहीं हो रहा था.

मैंने भी उनको दोनों हाथों से पकड़ लिया और दूध पिलाने लगी- पी लीजिये साहब… आप मेरे मस्त मस्त आम पी लो… पर मयूर के पक्ष में बयान देना कि गलती से ऐसा हो गया.

उसके तने मम्मे और उभरी हुई गांड इतने शानदार लग रहे थे कि मैं उसी को देखे जा रहा था. सुबह जल्दी ही हमारी नींद खुल गई, जब हम गोवा पहुंचे, उस समय सुबह बज रहे थे. फिर वो उठे, मेरे सीने के अगल बगल दोनों टांगें करके मेरे बूब्स को दोनों हाथों से जम के पकड़ लिया और फिर अपना लन्ड मेरे बूब्स के बीच में घुसा दिया और थूक लगा के लंड से बूब्स को चोदने लगे.

थोड़ी देर में डिम्पल झड़ गई और मेरा भी झड़ने वाला था तो मैंने अपना लंड बाहर निकाल लिया और मुठ मार कर बाहर झर गया. वैसे रोशनी मुझे भैया ही कहती थी, पर अचानक सर बोलने का मतलब ये है कि वह मुझसे शरीर के अंग इंग्लिश में सीखना चाहती है. मेरा सर उस दूध की वजह बहुत जोर से दर्द कर रहा था और मैं थोड़ा थोड़ा होश खोने लगा था.

वीडियो बीएफ हिंदी में

माँ- और सेक्स कितनों के साथ किया है?मैंने माँ को गरम किया- तीन को चोदा है. मैंने कहीं पर पढ़ा था कि लड़कियों को सेक्स से ज्यादा किस अच्छी लगती है, तो मैं उसको बार बार किस कर रहा था. अरे कहाँ?” पीछे से मैं चिल्लाया- अभी तो एरिक संग हम भी बाकी हैं… हमारा क्या होगा?विदेशी लड़की की गांड और चूत की चुदाई स्टोरी जारी रहेगी.

फिर मैंने उनकी जर्सी उतारनी चाहा तो उन्होंने मेरे हाथ पकड़ लिए और बोलीं- क्या मैं ये सही कर रही हूँ.

रात को 10 बजे उसने बहन को सोते हुए देखा और पक्का करके कि वो सो गई है, मेरे पास आ गई.

अगला रविवार भी आ गया और हम लोग पटना में बोरिंग रोड के एक साइबर कैफ़े में आ गए. वो बोली- तुम क्या खाना पसंद करोगे?मैं- कोई स्पेशल पसंद नहीं है बस जो तुम चाहो. हिंदी आंटी सेक्स वीडियोमैं उंह उंह उंह हूँ… हूँ… हूँ… हमम मम अहह्ह्ह्हह… अई… अई… अई…” चिल्ला रही थी.

वो भी शर्माते हुए हां में सर हिला देती है और मैं उसे बांहों में भरके क्लिनिक के पिछले कमरे में ले जाता हूँ और उसे चूमता चाटना शुरू कर देता हूँ. मैंने उन्हें चूमा तो उन्होंने बैठ कर मेरे लंड को ब्लोजॉब देना चालू कर दिया. हां ड्रॉइंग रूम में ड्राइवर तुम्हारा इंतज़ार कर रहा होगा तुम उसको जहाँ बोलोगी, वो वहीं छोड़ कर आएगा.

मेरी दो महीनों की प्यास भी बुझा दो, बहुत तड़पी थी तुम दोनों के लंड के लिए. हाय मेरी माँ मैं भोले राजा पर सड़के जॉन… राजे देख यह मिस्टर तो तन तना गए… फूल के कुप्पा हुए पड़े हैं महाशय… पुच्च पुच्च पुच्च पुच्च पुच्च पुच्च पुच्च पुच्च पुच्च.

उसने एक पल की भी देर नहीं की, मेरे लंड को अपने मुँह में भर कर चूसने लगी.

अच्छा तो ऐसा करते हैं कि ताश खेलते हैं, जो पहले जीतेगा, वो ही करेगा. अब तो मानो मेरे दिल के अरमान की पतंग की डोर कट सी गयी थी और मेरा काम खत्म हुए डेढ़ घंटा हो चुका था. मैं एक दिन अपनी बीवी को चोद रहा था, तो मैंने देखा कि मेरी वाइफ को अबसेक्स में मज़ानहीं आ रहा है.

मरठी सेकस यह स्टोरी मेरी चाची की है, वो बहुत ही सुडौल और सेक्सी शरीर की मालकिन हैं. अह… स्स्स… स्स्स…”कुछ देर चुत को रगड़ने के बाद उन्होंने मेरी चूत से लंड निकाल कर मेरी गांड में लंड पेल दिया.

मैंने भी उनको दोनों हाथों से पकड़ लिया और दूध पिलाने लगी- पी लीजिये साहब… आप मेरे मस्त मस्त आम पी लो… पर मयूर के पक्ष में बयान देना कि गलती से ऐसा हो गया. फिर पंकज ने अपने पूरे कपड़े उतार दिए और रेखा को भी पूरी नंगी कर दिया. उस वक़्त हमारे घर में काम करने एक काम वाली आती थी, वो काफ़ी चालू थी.

ब्लू सेक्सी मूवी सेक्सी

उन्होंने कहा- ठीक है लेकिन अभी मैं नहाने जा रही हूँ और तुम थोड़ी देर आराम करो. मैंने पूछ ही लिया- कहाँ से हो?उसने बताया- मैं नागपुर से हूँ और ग्रॅजुयेशन के बाद पुणे में आई हूँ, यहाँ पे मेरे अंकल रहते हैं. करीब दो तीन मिनट में मेरी चूत में अंकल का लन्ड रस समा गया, मेरी चूत अंकल के गर्म गर्म वीर्य से लन्ड रस से भर गई, एक अजीब पर बहुत मस्त सा अहसास होने लगा, ऐसा लगा जैसे मुझे बहुत कुछ मिल गया हो।पांच मिनट तक अंकल मुझसे चिपक कर मेरे ऊपर लेटे रहे, उसके बाद उठे मेरी चूत को अपने रूमाल से पौंछने लगे और फिर अपने जीभ से भी चाट कर मेरी चूत साफ कर दिया.

मज़ाक मज़ाक में मैंने कहा- पर जब तुमको देख लेता हूँ, तो मेरी लाइफ कुछ दिन अच्छी नहीं चलती. सच कहता हूं दोस्तो, आज तक मुझे सेक्स करने में इतना मजा कभी नहीं आया था जो मजा उस दिन आ रहा था।अब मैं पारुल की नाभि को किस करने लगा तो पारुल तड़फ उठी और अपनी कमर को ऊपर नीचे करने लगी और लम्बी लम्बी सांसें लेने लगी.

मुझे बीच में ही रोक कर उसने कहा- राजा आज की पूरी रात मैं तुम्हारी हूँ, धीरे धीरे से करो न…फिर से उसने मुझे चूमना शुरू किया.

मैं दीदी को धीरे धीरे चोदने लगा, वो भी अपना बड़ी सी गांड को उठा उठा कर मेरे लंड से चुदवाने लगीं. तभी सुहानी की माँ आईं और उन्होंने सुहानी को बोला कि वो पहले नहा ले. उसके मम्मे तो कपड़े फाड़ दें कुर्ती के ऊपर से ऐसे टाइट दिखते रहते थे.

बहुत माथा पच्ची करने के बाद ये हल निकाला कि एक रूम में मम्मी, सोनी मैं और मेरा छोटा भाई सो जाएँगे और दूसरे रूम में मामा मामी और उनके दोनों बच्चे सो जाएंगे. विनय ने मेरी चूत में लंड घुसा कर मेरे होंठों पर किस किया और मेरे मुँह में अपने जीभ को डाल दिया, जिससे उसके मुँह की लार मेरे मुँह में आने लगी. बहुर साल पहले से ही मैंने अन्तर्वासना की गर्म कहानियाँ पढ़ना शुरू कर दिया था और आज तक पढ़ रहा हूँ.

मैं हमेशा से ही शौक़ीन मिज़ाज़ का रहा हूँ और चूत से ज्यादा औरतों की गांड में दिलचस्पी रखता हूँ, जो कि मुझे काफी बार मिली भी है.

साधु सेक्सी बीएफ: तो रेहाना मेरा लंड देख कर बोली- हाय दैया, इनका लंड बहुत बड़ा और मोटा है. वो मुस्कुरा दी और बोली कि मैं पहले भी बता चुकी हूँ कि प्यार व्यार कुछ नहीं होता.

मैंने अंदर जाकर पूछा- आप सोई नहीं अभी तक?तो बोली- तुम्हारा वेट कर रही थी!मैंने कहा- अच्छा जी, तो क्या हुक्म है मेरे आका? आपका गुलाम हाजिर है!तो वो हँसने लगी और बोली- बियर पी ली तुम लोगों ने?मैंने कहा- नहीं पी, अरुण कह रहा था कि कोई पूजा होनी है. इसी तरह नीचे भी बिल्कुल छोटी सी स्कर्ट थी, जो इतनी बारीक़ और झीनी थी कि पैंटी दिखती रहती थी. फिर इतना मज़ा आएगा कि आज जो भी हुआ, उससे कई गुना ज्यादा मज़ा आएगा।उसको मेरे जाल में फंसते देर न लगी।‘और मज़ा…’ का सुन कर वो खुश होते हुए तुरंत बोली- आज का मज़ा तो वैसे भी मैं कभी नहीं भूलूंगी। लेकिन अब अगर ‘और मज़ा.

स्मिता ने अपने दोनों हाथ बाउंड्री पर रखे और मेरी तरफ पीठ करके खड़ी हो गई और कहा- राहुल उठाओ मुझे.

जब उसने साथ देना शुरू किया तो मैंने दो धक्कों में पूरा लण्ड उसकी चुत में डाल दिया।हमें बहुत मज़ा आ रहा था. कुछ समय बाद उस लड़की की शादी हो गई और मैं फिर से किसी चूत के वियोग में तड़पने लगा. प्यार हो रहा था… कोई लड़ाई नहीं जिस में किसी के जीवन-मृत्यु का सवाल हो!आओ न…!” प्रिया कसमसाई और उस ने बिस्तर पर अपनी टाँगे खोल दी.