एक्स एक्स एक्स सेक्सी बीएफ चुदाई

छवि स्रोत,सलमान खान सेक्सी

तस्वीर का शीर्षक ,

डॉट कॉम चुदाई: एक्स एक्स एक्स सेक्सी बीएफ चुदाई, उन्होंने लंड के सुपारे पर चढ़ी चमड़ी को पीछे किया और गुलाबी सुपारे को आजाद किया.

नया ब्लू पिक्चर

मैंने कहा- आप मुझे बता रही हैं या इनवाइट कर रही हैं?भाभी हंस कर बोलीं- राज मैं तुमको बुला रही हूँ. मसानी क्या होती हैतो इस बार थोड़ी सी हिम्मत जुटा कर मैं अपना हाथ उसकी गांड के पास ले गया.

कॉलेज में जब भी तीन चार दिन या अधिक की छुट्टी होती तो संगीता अपने घर चली जाती. लड़का चोदा चोदीवो मेरी चूत चाटने लगा और मैं पागलों की तरह उसका लंड।जब वो ज़ुबान घुसा देता और हिलाता जिससे मैं उसके लंड को ज़ोर से चूसती.

कमरे में आने के बाद मम्मी ने अपनी तौलिया भी मम्मों से नीचे उतार कर कमर से बांध ली.एक्स एक्स एक्स सेक्सी बीएफ चुदाई: मैंने जोर से दूध दबाना बंद कर दिया और सीधे उसके स्तनों को ब्रा से अलग कर दिए.

मैंने उनसे पूछा- भाभी, फिर आप अपना पूरा टाइम अपना कैसे व्यतीत करती हो.चूंकि उत्सव चल रहा था इसलिए मैं थोड़ा रूक गई कि भीड़ छंट जाए, तब निकलूंगी.

बावन गज का दामन पर मटक चलूंगी गाना - एक्स एक्स एक्स सेक्सी बीएफ चुदाई

उसके बाद जब वो लड़की वापस आ गयी तो मैं अन्दर डॉक्टर साहब के पास आ गयी.पिछले भागमौसी की जेठानी को दुल्हन बनायामें आपने पढ़ा कि मैंने मौसी की जेठानी नीतू को दुल्हन बनने को कहा था.

उन लड़कियों के साथ वाले एक लड़के ने कहा- चलो, हम सब कैंटीन में चल कर बात करते हैं. एक्स एक्स एक्स सेक्सी बीएफ चुदाई ये चैट होते होते सेक्स चैट पर आ गई।नियाशा ने बताया कि उसका शौहर बिज़नेस के चक्कर में उसे ठीक से चोद नहीं पाता और उसमें चूत चुदवाने की बहुत आग भरी है।तब मैंने उसे अपने लंड की फ़ोटो भेजी.

अब न उसे सब्र था न मुझे; सो चुदाई का वो द्वन्द्व युद्ध सात आठ मिनट से ज्यादा न चल पाया और मेरे लंड से रह रह कर वीर्य की पिचकारियां से छूटने लगीं.

एक्स एक्स एक्स सेक्सी बीएफ चुदाई?

जिस पर वो हंस कर मेरी गोद में लेट जाती थीं और मेरे लंड को सहला देती थीं. मेरे अलावा दो जूनियर लड़कों के नाम विवेक और नवीन थे और लड़कियों के नाम लवली व निगार. समय ऐसे ही गुजरता गया और मेरी बहन की शादी भी हो गयी और मैं शहर में एक कारखाने में नौकरी करने लगा.

मैंने देखा कि जिसे मैं चुदी चुदाई आइटम समझ रहा था, वो तो वर्जिन निकली. पापाजी, वन्स इज नॉट एनफ …यू नो, फिर पता नहीं कब ये समय अपने जीवन में लौट कर आये!” बहूरानी मेरा चेहरा अपने दोनों हाथों में लेकर बोली. अन्दर मेरी बेटी रुबिका और मुझे चोदने वाला लड़का दोनों एक दूसरे को बेतहाशा चूम और चाट रहे थे.

मैंने उसके होंठों पर किस करना शुरू किया और फिर से एक जोरदार धक्का दे दिया. मैं अक्सर बिना कपड़ों के ही सोने लगी थी कि कहीं किसी के तो अरमान खड़े हो जाएं और वो मुझे रगड़ कर चोद दे. फिर अमित ने कंडोम निकाल कर डस्टबिन में फेंक दिया और हम दोनों नंगे ही लिपट कर लेट गए.

सुबह जल्दी उठकर मैं अपने रूम में आ गया ताकि मेरे दोस्त को मेरी गांड चुदाई के बारे में शक न हो. मेरी कोशिश थी कि मैं पूनम बुआ के निप्पल को एक बार टच करूं, पर उससे पहले कि मैं वहां तक पहुंच पाता, पूनम बुआ ने मेरा हाथ पकड़ लिया और मुझे सवालिया नज़रों से देखने लगीं.

कुछ देर बाद लंड को चुत के मुँह पैर रखकर बोली- ले अब मैंने तेरे चाकू को अपने खरबूजे पर रख दिया है … पर अन्दर आने से पहले उस लड़की का नाम बता … जिसको तू बहुत दिन से चोदना चाहता है … और जिसे याद करके मुठ मारता है.

अब यह बताओ कि हम आगे इनकी चुदाई की बात कहां करेंगे, यहां हम बात नहीं कर सकते क्योंकि यहां बहुत सारे लोग हैं और कोई भी हमारी बातें सुन सकता है.

मैंने पास रखी तेल की कटोरी में उंगली डाल कर भिगोई और उसकी गांड में डाल दी. मां ने मुझे समझाया- बेटा तू परेशान ना हो, मैं रात को तेरे पास छत पर आ जाऊंगी. अच्छा होता कि तुम्हें एक और भाभी मिल जाती … तो मैं तुम्हें उनका दूध पिला देती.

मैंने कहा- तो मैं इसमें क्या कर सकती हूँ?वो बोले- अगर तुम मेरी लवर होतीं, तो आज मैं तुम्हें जन्नत दिखा देता. सबसे पहली शर्त तो ये है कि आज से राजेश और तेरे पति का तुझ पर कोई हक़ नहीं रहेगा. मॉम- क्या बात है पापा जी?दादा जी- देखो, एक काम मिला है, महीने में 20000 सैलरी मिलेगी.

तभी सामने से महारानी कृति तीसरा मुकुट ले कर नजदीक आ गई और उसने पूजा के सर पर ताज सजा दिया.

भाभी ने मुझसे पूछा- गर्मी ठीक से शांत हुई थी कि नहीं?मैंने कहा- भाभी मेरी तो आत्मा तृप्त हो गई थी. थोड़ी देर बाद चाची सिसयाने लगीं- आहहह इस्स आह आह ऊऊ आआ आअह्ह!मैंने चाची के मम्मों को निचोड़ना शुरू कर दिया और चुदाई की स्पीड बढ़ा दी. वो आंख बंद करके बोलने लगी- आह मादरचोद क्या कर दिया … भोसड़ी वाले आग लग गयी है माँ के लौड़े.

मेरे हस्बैंड को भी चुदाई में सबसे ज्यादा मजा, किसी तीसरे की उपस्थिति की कल्पना करने में आता था. कुछ देर बाद रमेश ने दीदी के पैर फैला दिए और उनकी सफाचट चुत को चाटने लगा. अदिति बेटा, तेरा ये रिवर्स काउगर्ल आसन तो मस्त है, जब तू लंड को चूत से जकड़ कर आगे पीछे होती है तो क्या मस्त आनंद आता है.

अपनी मामी जी को इस तरह मस्त होता देख कर मैं और भी जोर जोर से मामी जी की चुचियों को चूसने लगा.

रमेश को दीदी से कुछ कहना ही नहीं पड़ रहा था, वो खुद अपनी मादक अदाओं के साथ अपनी नंगी जवानी का का फोटो शूट करवा रही थीं. तभी मालिक की पत्नी कार से निकल कर आई, पूरी बात सुनी और पंप मैनेजर से कहा- साहब की बाइक में तेल कम डाला गया है या ज्यादा, भूल जाओ.

एक्स एक्स एक्स सेक्सी बीएफ चुदाई मैं उन्हें सब बता दिया कि डैड अब मॉम के सिर्फ पति भर हैं वो उन्हें सेक्स में संतुष्ट नहीं कर सकते हैं और घर में दादा दादी जी भी हैं. तभी हुर्रेम फिर से मेरे पास आकर घुटनों पर बैठ गई और मेरे लंड को पकड़ कर चूसने लगी.

एक्स एक्स एक्स सेक्सी बीएफ चुदाई मैंने शर्माने की एक्टिंग करते हुए कहा- अब्बू, अंदर के कपड़े लेने हैं. इस बार भाभी ने फिर से मेरे दोनों हाथों को दोनों किनारों से रस्सियों से बांध दिए.

करीब 1 बजे मेरी आंख खुली और मैं मां के मम्मों से खेलने लगा जिससे मां की नींद भी खुल गयी.

सेक्सी 5 सेक्सी सेक्सी

ट्रेन में भीड़ अधिक होने के कारण हम दोनों एक साथ थोड़ी सी जगह में जगह बैठे थे और दोनों एक दूसरे से सटे हुए थे. गोविन्द का लंड मोटा तो राजेश जैसा ही है, किन्तु लंड टेढ़ा होने से चूत में लंड थोड़ा कम जाता है. ” बहूरानी ने दायें बाएं देखा और मेरा लंड पैंट के ऊपर से ही सहला दिया फिर मेरे हाथ को दबा कर उसे अपनी जांघ पर से हटा दिया.

मेरी उससे नजरें मिलीं, मैंने उसको गुड मॉर्निंग बोला और रोज मेरा पानी भरने के लिए धन्यवाद भी कहा. चाची इतना गर्म हो गयी थीं कि उनके नाख़ून मेरी पीठ पर गड़ कर मुझे दर्द दे रहे थे. वह मेरी चूचियों का मज़ा लेने लगा और मैंने अपना पेटीकोट ऊपर करके उसके लंड को हाथ से पकड़ कर अपनी गीली चुत पर रगड़ना शुरू कर दिया.

मिहिका ने अपने होंठ को छुड़ाने के लिए थोड़ा जोर लगाया, तो मैंने भी होंठ छोड़ दिए.

फिर भाभीजी से टिकटॉक वीडियो के लिए कपड़ों की बातें होने लगीं।वो बोलीं- राजा, तुम बताओ कि कौन सी ड्रेस सही रहेगी?मैं- आप वेस्टर्न ड्रेस टाई कीजिये, आप देखने वालों के दिल में आग लगा दोगी भाभीजी. मैंने मां से पूछा- आज मटन, क्या बात है मां!मां बोलीं- तू दिन भर इतनी मेहनत करता है तो थक जाता होगा न. ”चित्रा पूरी बात बताने लगी:दरअसल जब मैं कक्षा 12 में पढ़ती थी तो अपने स्कूल की तरफ से खोखो खेलती थी.

मैं आगे बढ़ कर भाभी के एक मम्मे के निप्पल को अपने होंठों के बीच दबाया और चूसने लगा. वह जैसे लंड चुत से बाहर निकालने को तैयार हुआ, मैं सोचने लगी कि अफ़रोज़ अब मेरी चुत में लंड के धक्का लगाना शुरू करेगा, लेकिन यह तो ठीक उल्टा कर रहा था. इसी के साथ कांपते हुए पूजा झड़ गई और 5-6 धक्कों के बाद मेरा भी वीर्य स्खलन हो गया.

उसी दौरान उसने मेरे लोअर में हाथ डालकर मेरे लंड को सहलाना शुरू कर दिया. अभी बुआ मेरे लंड को देख नहीं सकती थीं, पर उसको अंडरवियर के ऊपर से हाथ में पकड़ने से ही उनकी आंखों में एक चमक नज़र आने लगी थी.

ऐसे ही मैंने पहले दो, फिर अपनी तीन उंगलियों को गांड के अन्दर डाल कर चलाया और मां की गांड का छेद थोड़ा खोल दिया. तभी फटाफट भाभी ने दूसरा पैग भी वैसे ही बनाया और जल्दी से दौड़ के बाथरूम गईं. इससे मेरी मम्मी एकदम से चिहुंक पड़ीं- आह आआह … यार ये तू क्या कर रही है साली कुतिया … वैसे ही मेरी चुत में बहुत खुजली मची है और तू मेरी आग को और भड़का रही है.

मैंने जब रिप्लाई दिया- जाग रहा हूँ, बोलो!तो उसने कहा- कल मेरा एग्जाम है और मुझको कुछ दिक्कत हो रही है … वो क्लियर करने के लिए क्या आप अभी मेरे घर आकर मुझे कुछ समझा सकते हैं?मैं थोड़ी देर बाद उसके घर गया, तो घर में सब लोग थे.

कुछ देर राजेश ने अपना लंड मेरी चूत के मुँह पर रखा और मुझे चूमने लगा. मैं- बात तो आप बिल्कुल ठीक कह रही हैं, लेकिन भाभी आपको नहीं लगता है कि आप यदि शादी कर लेतीं … तो आपको लाइफ थोड़ी सुधर जाती, आस पास के लड़के आपको बुरी नजर से भी देखते हैं. वो और जोश में आ गई और तेज़ी से लंड पर कूदने लगी।अब थोड़ी देर बाद उसकी रफ़्तार कम होने लगी और उसने लंड को अपनी चूत में कस लिया; उसकी चूत ने पानी छोड़ दिया और गीला लंड सटासट सटासट अंदर बाहर होने लगा।मैंने उसको लंड से उठाकर सोफे पर झुका दिया और पीछे से चोदने लगा.

चाची- और एक बात बता, मेरी ब्रा में भी गिराया था ना तूने!मैं- सॉरी चाची जी. मेरे पापा का एक बार एक्सीडेंट हो गया था, जिस कारण से उनका लिंग अब खड़ा नहीं हो सकता था और वो मेरी मॉम के साथ सम्भोग नहीं कर सकते थे.

अब उनके घर हर रोज़ लड़ाई होती है। लगता है जल्द ही वो मेरी बात मान जाएगी और आपसे दोस्ती कर लेगी। मैं उसकी लड़की को भी लाइन पर ला रही हूँ, एक दिन आप उसको भी चोदना।तोमर साब बोले- अरे अभी तो वो छोटी है, अभी उसको कैसे चोद सकता हूँ।चाची बोली- अरे पूरी छिनाल है वो … 19 साल की हो गयी है. वो एक तरफ मेरी दीदी की चूचियों को भींचे हुए था और दूसरी तरफ दीदी की गांड में लंड रगड़ कर मजा ले रहा था. देसी लड़की की सेक्सी कहानी मेरे मकानमालिक की बेटी के साथ मेरी दोस्ती और सेक्स की है.

सेक्सी नंगी वीडियो बताएं

अब मेरे सवाल का जवाब आप लोग दें कि आखिर मेरे बेटे का बाप इन आठों में कौन है.

पिछले भागमौसी की जेठानी को दुल्हन बनायामें आपने पढ़ा कि मैंने मौसी की जेठानी नीतू को दुल्हन बनने को कहा था. जब उनको लगा कि उनका कहीं मुँह में ना छूट जाये तो लंड को उन्होंने बाहर खींच लिया और बोले- सीधी लेट कर टाँगें उठा मेरी जान!उन्होंने अपने होंठ मेरी चूत पर टिका दिए. कहां डालूं?मैंने सोची कि यार अभी तो मैं अपने होने वाले बच्चे के मिशन पर हूँ.

जल्दी ही वो खर्राटें मारने लगे।मुझे मौसी पर और किस्मत पर गुस्सा आ रहा था। मैंने ज़ोर ज़ोर से चूत को उंगली से रगड़ रगड़कर खुद को ठंडी किया. इस चूत में लंड सेक्स कहानी के अगले भाग में आपको डॉक्टर के साथ मेरी चुत चुदाई की कहानी का लुत्फ़ मिलेगा. मामा शायरी मराठीलगभग 20 मिनट किस करने के बाद मैंने अपने कपड़े उतारे और अपना लंड उसके मुँह के पास रख दिया.

वो अपने दोस्त के साथ एक मैडम से पढता था और उसे दो घंटे लग जाते थे क्योंकि दोनों दोस्त ट्यूशन के बाद बाहर ही खेलने लगते थे. भाभी समझ गईं और वो घुटने के बल पर बैठ कर मेरा लंड मुँह में लेने लगीं.

‘आह … आह … आराम से इस्स … ओह … हांआं …’इन तेज मदभरी गर्म आवाजों को सुनकर मेरा ध्यान टूट गया. जब भी चूत में घुसता है तो पूरी तरह संतुष्टि करवा के ही बाहर आता है. जब भाभी की चुत का पानी मुँह में गया, तो मेरे मुँह को भी कुछ अच्छा टेस्ट लगा.

मैं अपने एक हाथ से उसके मोटे और रस भरे दूध को बेरहमी से दबा रहा था और दूसरे हाथ से उसके एक कूल्हे को मजबूत पकड़ के साथ लंड के झटके पूरी तेजी से मारता जा रहा था. ऐसे ही मैंने पहले दो, फिर अपनी तीन उंगलियों को गांड के अन्दर डाल कर चलाया और मां की गांड का छेद थोड़ा खोल दिया. फिर मैं रात होने का इंतज़ार करने लगा क्योंकि रात में हम दोनों फोन पर बात करते थे.

पूनम बुआ बहुत धार्मिक थीं और बृज फूफा के स्वास्थ्य को लेकर भी परेशान रहती थीं.

नेहा- क्या करती रहती है तू, तेरी चूत का भोसड़ा बना हुआ है?ममता- जब मेरी इस चूत में लंबा चौड़ा लंड जाएगा तो इसका भोसड़ा तो बनेगा ही. मैं भी पूरे ज़ोर से अपने लंड को पूरा बाहर निकाल कर ज़ोर-जोर से अन्दर पेलने लगा.

ये चैट होते होते सेक्स चैट पर आ गई।नियाशा ने बताया कि उसका शौहर बिज़नेस के चक्कर में उसे ठीक से चोद नहीं पाता और उसमें चूत चुदवाने की बहुत आग भरी है।तब मैंने उसे अपने लंड की फ़ोटो भेजी. आपको कल रात का बुरा तो नहीं लगा ना?मेरी मां शर्माती हुई बोलीं- अरे इसमें बुरा मानने वाली कौन सी बात है बेटा, मैंने तो बचपन में तुझे पूरा नंगा देखा है और मैं समझती हूं कि तू अब जवान हो गया है. मन में तो मेरे भी बहुत था क्योंकि मुझे भी चुदे हुए कई महीने हो गए थे.

एक दिन पूनम बुआ को कहीं जाना था, तो उन्होंने मुझसे मेरी कार में लिफ्ट मांगी. मैं हंसने लगा और बोला- चल भोसड़ी के … तू भी क्या याद करेगा कि कोई चेला मिला था. साथियो, ये मेरी पहली रियल ऑफिस गर्ल Xxx कहानी है, जिसे मैंने अन्तर्वासना के लिए पेश की है.

एक्स एक्स एक्स सेक्सी बीएफ चुदाई उसने मुझे झट से पहचान लिया क्योंकि शुरू के दिनों में गुलाब के साथ वही लगा हुआ था।वो बोला- मैडम आप यहाँ?मैं- वो … वो … गुलाब से मिलना था मुझे।जवान- आइए अंदर!वो मुझे अंदर ले गये और बैठने को कहा. उसके बाद दीवार के सहारे मां को खड़ा करके उनका एक पैर मैंने अपने हाथ में ले लिया और उनको चोदने लगा.

मारवाड़ी न्यू सेक्सी

जब मैं तुम्हारी नंगी बुर को चाटूंगा और उसमें अपना लन्ड घुसाऊंगा, तब देखना तुम्हें कितना मजा आएगा. प्रिय साथियो, आपको मर्द के पहले स्पर्श वाली मेरी ये जीजा साली सेक्स स्टोरी कैसी लगी … प्लीज़ मेल जरूर करें. चुदाई के बाद अंकल ने पूछा- मेरा लंड कैसा लगा?मैंने कहा- मेरे पति से डबल था.

वो बोला- देखो अरुणिमा जी, आज घर जाकर अपने पापा से मेरा नाम पूछ लेना. भाभी- राज मैंने पहली कभी ऐसी चुदाई नहीं कराई, जैसी तुमने मेरी आज की है. पोर्न रेपहालांकि हमने विधिवत विवाह करने के बाद पति पत्नी बनकर एक दूसरे को मजे दिए हैं.

उसकी 38 साल की कातिल जवानी, भरी हुई चुचियों को देखकर कोई भी उसे अपनी बांहों में लेने को तड़फ सकता था.

वक़्त की नजाकत समझते हुए मैंने मामी जी के स्तनों को छोड़ा और अपनी कोहानियों के सहारे से थोड़ा सा उठ गया. ये कह कर वो अपने कमरे में गया, तो रीमा निखिल के कमरे पहुँच कर बेड पर लेटी उसके आने का इंतज़ार कर रही थी.

[emailprotected]फैंटेसी सेक्स स्टोरी का अगला भाग:मॉम की गदरायी जवानी की काल्पनिक कहानी- 2. मेरी चुत इस तरह से फड़क रही थी कि जैसे किसी भूखी कुतिया को हड्डी चूसने को मिल गई हो. कारण ये कि विगत वर्ष में मुझे आप सब चहेते पाठक पाठिकाओं के दसियों ई मेल मिले जिनमे सिर्फ अदिति बहूरानी के संग कोई नया कथानक लिखने का आग्रह किया जाता रहा है.

मैंने भाभी को अपनी गोद में बिठाया और हम दोनों ने एक दूसरे को खाना खिलाया.

उनका लंड मेरे और अंदर तक घुसने लगा था और मेरी गांड की प्यास अब बुझने लगी थी जिससे मुझे बहुत मजा आ रहा था. चेयर को थोड़ा पीछे किया मैंने और यामिना का हाथ पकड़ कर उसे पीछे मोड़ा और स्कर्ट उठा कर, थोड़ा उसकी पैंटी को साइड में करके, लण्ड को चूत में डाल कर अपने ऊपर बैठा लिया. मिशनरी पोजीशन में लंड को रगड़ते हुए मैंने एक ज़ोरदार धक्के के साथ अपना आधा लंड उसकी चूत के अंदर डाल दिया.

का चोपड़ा सेक्सीपुलिस गर्ल Xxx कहानी में पढ़ें कि एक शाम मुझे एक पुलिस वाली का फोन आया. मेरे स्खलन से पिघला नहीं और ठोकता गया।मस्ती में सिसकारते हुए मैं झड़ गई.

आर्केस्ट्रा सेक्सी वीडियो ओपन

वो मुझे पीछे से चोदने लगा और मेरा मजा और बढ़ गया।बीस मिनट तक चुदने के बाद मैं छूटने वाली थी. मेरे साथ ऐसा पहली बार हुआ था क्योंकि किसी भी महिला मित्र ने अब तक मेरे आंड मुँह में भरकर नहीं चूसे थे. हर बार की तरह वो मामी जी के उठे हुए चूतड़ मुझे अलग ही और भी कामुक लग रहे थे.

वो बोला- हां मेरी रंडी, अभी तेरी गांड भी मारना चाहता था, पर थक गया हूँ. मेरी वासना भड़कने लगी और कामुकता की वजह से मेरी आंखें बंद होने लगीं. नेहा के होंठ चूसती हुई ममता अपना एक हाथ नेहा की गांड में चलाती हुई दूसरे हाथ से उसकी चूत सहलाने लगी.

वो बोली- कोई बात नहीं जान, मैं तुम्हारा भी कुछ देखती हूँ … कुछ जिससे तुम्हारी भी रुपए की प्रॉब्लम कम हो जाए. ऊपर दीदी अपने हाथों से मम्मों को मसल रही थीं और गर्म आवाजें निकाल रही थीं- आआह … आआइ ईई उउफ्फ रमेश साले आग लगा दी आह और जोर से चुत चाटो. मेरे ये कहते ही अचानक से चाची ने अपना हाथ आगे किया और मेरे लंड पर रख दिया.

फिर अचानक वह लड़का भाभी की चुत से लंड निकाल कर बेड पर नीचे आकर खड़ा हो गया और अपने हाथ से मुठ मारने लगा. पटकती भी क्यों नहीं … मुझे ये सब करते करते करीबन चालीस मिनट हो गए थे.

अगर मैं अफ़रोज़ से बहस में जीतना चाहती तो आसानी से जीत जाती लेकिन मेरा वह कजिन क़रीब 6 महीने से नहीं आया था इसलिए मैं भी किसी से मज़ा लेना चाहती थी.

मैंने उसकी चूचियों को पकड़ लिया और मसलते हुए लंड चुत में अन्दर बाहर करने लगा. हिंदी कामसूत्रमगर मेरी अदिति बहू के शालीन स्वभाव पर हमारे इन सेक्स संबंधों का असर कभी नहीं हुआ. सैनिक वीडियोमेरे लंड के हर वार से केवल नीतू के मुंह से चीखें ही निकल रही थी।मैं जितना जोर से हो सकता था, उतनी ताकत से नीतू की गांड को चौड़ी कर रहा था. मेरी बिना पैंटी की गांड देख कर वो खुश हो गए और फिर से गांड सहलाने लगे.

आज उसके दोनों छेदों को सील टूटने की वजह से वो दो राउंड के बाद सो गई.

लेकिन मैंने अपनी होने वाली वाइफ से उसका नम्बर ले लिया था तो मेरी उसके साथ बात होने लगी. उसके बाद मैंने मां को कुतिया बना दिया और पीछे से उनकी चूत में लंड पेला कर उनको चोदा. इस बार जानबूझ कर मीतू जोर जोर से चिल्लाने लगी और मैं भी उसे उतने ही जोश के साथ चोदने लगा.

थोड़ी देर में दो लड़के आ गये।इनाया ने उनका परिचय कराया बोली- ये है भोसड़ी का शेखर … और ये है इसका दोस्त मादरचोद सूरज। ये दोनों साले लड़कियां खूब चोदते हैं। आज पहली बार मेरी पकड़ में आये हैं।फिर हम सब लोग दारू पीने लगे. मम्मी पहले नानुकुर करती रहीं … मगर पापा ने मम्मी की चुत में अपना लंड डाल दिया और उनके ऊपर चढ़ गए. इस देसी सेक्स कहानी के पिछले भागबहन ने भाई को मुठ मारते देखाhttps://www.

सेक्सी चुदाई ब्लू फिल्म सेक्सी चुदाई

‘आप … इतनी रात को यहां!’मैंने कहा- नींद नहीं आ रही थी इसलिए आ गया, थोड़ी देर में चला जाऊंगा. ‘अब लंड का मजा चख रंडी …’ऐसा कहकर मैंने झट से अपना लंड उसकी चूत में एक ही झटके में उतार दिया और वो ज़ोर से चिल्ला पड़ी. पर इसके लंड से चुदवाने के बारे में मत सोचना, वो मेरा देवर है और बस मुझे ही चोदेगा.

सुम्मी बेड पर जोर जोर से सिसकारियां भर रही थी और हरीश का नाम ले लेकर चिल्ला रही थी.

मैंने भी अब देर करना ठीक नहीं समझा, मैंने फिर से उसकी गांड के नीचे तकिया लगाया और उसकी टांगें खोल कर चौड़ी कर दी.

लौटते समय देखा कि अफ़रोज़ के कमरे की लाइट ऑन थी और उसके कमरे का दरवाज़ा भी थोड़ा सा खुला था. मैंने आंटी की दोनों टांगें फैलाकर उनकी चुत को गौर से देखा और अपनी जीभ से चुत चाटने लगा. सेक्स ऐप डाउनलोडउसके पति ड्यूटी गए थे और दोनों बच्चे अपने मामा के घर गए हुए थे।जैसे ही हम घर पहुंचे वो जल्दी से रजिस्टर लेकर आ गई और डरते हुए बोली- सर लीजिए।मैंने मुस्कराते हुए कहा- मैडम आपके घर आए हैं.

मेरे घर पर सभी लोग होली मनाने के लिए गांव चले गए थे और लॉकडाउन लगने से पहले वापस न आ सके. अब वो मेरी नाभि के छेद में अपनी जीभ की नोक से मुझे गर्म करने लगा था. कुछ ही देर में मिहिका अपनी टांगों को हवा में उठाने लगी तो मैं समझ गया कि वो झड़ने को है.

अब दीदी ने भी मुझे और अपनी तरफ खींच लिया और अपने होंठों से मेरे होंठों को खींचने लगीं. भाभी- तो सुन मैं भी तुम्हें बहुत प्यार करती हूँ और मैं तुम्हें दूध के लिए ऐसा तरसते हुई नहीं देख सकती.

लेकिन मुझसे इससे क्या … मेरे लंड के लिए दीदी की मस्त चुत चुदने को रेडी थी.

जैसे तैसे ये पैग भी पिया और करीब दस मिनट तक भाभी की चूत को खूब जबरदस्त तरीके से पूरे अन्दर तक जीभ डाल कर चूसा. गीत मेरे शरीर पर हाथ फेर रही थी और मैं उसके एक एक अंग को फिर से चूम रहा था. अदिति बेटा, मैंने तो अभी तक कुछ किया ही नहीं फिर तू ऐसे कैसे अपनी पैंटी भिगो बैठी?” मैंने सिर झुका कर उसके कान में धीमे से हंसी करते हुए कहा.

ब्लू फिल्म धकाधक फिर सागर ने अपना हाथ मेरे चूचे पर रखा और उसे दबाने लगा।मेरी सिसकारी निकल गई।फिर वो उठा और मेरी नाइटी को निकाल दिया। मैं अब बस ब्रा और कच्छी में उस के सामने लेटी हुई थी।मेरे शरीर को वो देखता ही रह गया और बोला- भाभी सच में आप कयामत हैं। मैंने ऐसा शरीर आज तक नहीं देखा। आपके चूचे आपकी ब्रा को फाड़ के बाहर आ रहे हैं. मैंने उसकी तरफ मुस्कुराते हुए कहा- देखिए कामिनी जी, अगर आप चाहें तो कुछ बात बन सकती है।वो झिझकती हुई बोली- सर बताइए वो कैसे?मैं खिसकते हुए उसके पास गया, उसकी जांघ पर हाथ फेरने लगा और बोला- अगर आप चाहें तो कुछ भी हो सकता है।वो बोली- सर, आप क्या बोल रहे हैं।मैंने कहा- गलती तो हुई है.

5 मिनट बाद उर्वशी की मम्मी का कॉल आया, तब उन्होंने पहले उर्वशी से बात की. उन्होंने किसी एग्जाम के लिए तीन दिन तक रायपुर में अपनी सहेली के घर रुकने की कह दी और अपनी सहेली से कह दिया कि घर से कोई फोन आए, तो बता देना कि मैं तेरे घर पर ही हूँ. आज की कहानी प्रकाश और अनीता की है।प्रकाश की सर्राफ़ा बाज़ार में पुरानी शॉप थी.

कुंवारी छोरी की चुदाई सेक्सी

वो मेरी तरफ मुड़ी और उसने मुझे देखकर कहा- लेकिन तुम यहां क्या कर रहे हो और तुमने मेरे साथ ऐसा क्यों किया?मैंने बोला- मैं बस तुम्हारे साथ सेक्स करना चाह रहा था … मगर तुम्हारा मन नहीं है तो सॉरी. आप लोगों ने मेरी सेक्स कहानीसुधा के साथ वो रातऔरहोस्टल गर्ल की चुदाईपढ़कर मुझे आपके हजारों की तादाद में मेल किए और सेक्स कहानी की तारीफ की, उसके लिए आप सभी का दिल से धन्यवाद और आभार. जब मां का दर्द थोड़ा कम हुआ, तो मैंने धीरे धीरे धक्के मारना चालू कर दिए.

वो बोलीं- मुझमें ऐसी भी कौन सी चीज है, जो तुमको पसंद आ गई?मैंने शर्माते हुए कहा- मैंने अभी तक आपके जैसी कोई भी लड़की नहीं देखी. चूत की दीवारों से घिस घिसकर लंड फिसल रहा था।तभी मैं सिसकारी- उफ सुरजन … मुँह में दे दो अपना मोटा लंड!उसने मेरे मुंह में लंड दे दिया और सिसकारते हुए चुसवाने लगा।अब नीचे से सुन्दर चूतड़ उठा उठाकर पेलने लगा.

उन्होंने मेरे बदन को अपनी बाँहों में दबोच लिया और मेरे मम्में पकड़ कर दबाने लगे। उन्होंने लंड मेरी गांड में घुसा दिया और तेजी से मेरी गांड मारने लगे.

कसम से मैंने आज तक इतनी फूली और चिकनी चूत नहीं देखी। मुझे लगा था बाल होंगे. वो बोली- वाह मेरे सरताज … ऊपर वाला तुम्हारे लौड़े को ताकत दे … तुम और चूतों को अपने लंड से जन्नत की सैर कराओ. इसी लिए तीसरे दिन अंकल ने मुझे आधा घंटे पहले काम पर आने की बात कही थी.

अब वो चारों बोलने लगे थे- भैया हमें माफ़ कर दो प्लीज़, अब हम कभी आपको ऐसा नहीं बोलेंगे, प्लीज़ भैया किसी को मत बताना … वरना हमें कॉलेज से निकाल दिया जाएगा. उसे बेड पर लिटाया तो बोली- तुमने तो ऐसे उठा लिया जैसे रबर की गुड़िया हो, सुधीर तो तब भी नहीं उठा पाये थे, जब मैं इससे आधी थी. हम लोग नई नई जगह जाते, वहां की आंगनबाड़ी आशा की मदद से जानकारी लेते और आसपास घूम भी लेते।ऐसे काम करते करते पता नहीं चला कब एक महीना बीत गया।एक बार हम काम के लिए एक नगर गए तो वहां की आशा छुट्टी पर थी.

मैंने हिना के करीब जाकर उसके होंठों पर किस किया और बाहर आ कर बैठ गया.

एक्स एक्स एक्स सेक्सी बीएफ चुदाई: चाची बोलीं- वाह सोहेल, तू तो अपने अहमद चाचा से आगे निकला, इतनी देर तो तेरे चाचा चोद ही नहीं पाते हैं. अगली सेक्स कहानी में मैं आपको बताऊंगा कि कैसे गीत जान ने मुझे 3 कुंवारी और अपने जैसी दो मस्त चूत वालियों के साथ जन्नत की सैर करवायी.

अन्दर की कामुक आवाजों को सुनते ही मेरा हाथ अपने आप लंड पर आ गया और मैं लंड हिलाने लगा. मुझे खुद पर गुस्सा आ रहा था कि चोदने में तो नहीं शर्माया और अब शर्मा रहा हूँ. फिर तो अभय ने ममता का सिर पकड़ा और धीरे धीरे उसके मुँह में लंड के धक्का लगाने लगा.

आह नीचे मामी जी आपकी चूत मेरे लंड को कैसे निचोड़ रही है … उईईई … मेरी प्यारी मामी जी.

दस मिनट बाद शन्नो की चूचियां टाइट होने लगीं और वो उछल उछल कर लंड लेने लगी. उसकी हरकतों से मैं भी जाग गया और जैसे ही लंड खड़ा हुआ, मैंने लंड को उसकी चुत में पेल दिया. मैं शीना को दवाई देते हुए बोला- चलो चूत में ना सही, अपने मुंह में तो ले लो!शीना- हां अंकल, ये कर सकती हूं अभी!ये बोलकर शीना मेरे लोअर में से लन्ड निकाल कर नीचे बैठ कर चूसने लगी.