भोजपुरी बीएफ खुल्लम खुल्ला

छवि स्रोत,नंगी फिल्म भेजो

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी बीपी भेजो बीपी: भोजपुरी बीएफ खुल्लम खुल्ला, वो बैठी बैठी मुझसे बातें कर रही थीं … लेकिन उनको देख देखकर मेरी हालत खराब हो रही थी और मेरा लौड़ा पूरी तरह से तनकर सख्त, मजबूत हथियार बन गया था.

हेलो काजल

और तब से अब तक वो अपनी बीवी की चूत मुझसे ही मरवाता है।वर्षा भी मेरे साथ बहुत खुश है औरचुदाई में पूरा मजादेती है।दोस्तो, आपको माय फ्रेंड वाइफ हॉट कहानी कैसी लगी मुझे अपने कमेंट्स में जरूर बताना।मुझे आप लोगों की प्रतिक्रियाओं का इंतजार रहेगा।[emailprotected]. घड़ी वाला वॉलपेपरतो उसने मेरा मुंह खोलकर अपना लंड मेरे मुंह में डाल दिया और जोर-जोर से लंड को हिलाने लगा.

मैं उठ ही रही थी कि अंकित ने अनिकेत का लंड फिर से मेरे मुँह में दे दिया और मेरे चूचों को दबाने लगा. शुक्रिया गूगलमैं अपनी चिकनी जांघों और मदमस्त कमर और मटकते हुए कूल्हों पर पानी डालकर नहाकर आयी.

रात में जब हम सोने लगे तो मेरे शौहर ने मुझे अपने करीब बुलाया और मेरे मम्मों को दबाने लगे.भोजपुरी बीएफ खुल्लम खुल्ला: मैं तकिये पर लेट गया और उसको ऊपर आने को कहा।वो मेरे लंड पर एडजस्ट करके बैठने की कोशिश कर रही थी कि मैं अचानक उठा और उसकी कमर से उसको अपने होंठों की तरफ खींचने की कोशिश करी.

इधर मेरी बीवी नाचने में इतना मगन थी कि उसे पता ही नहीं चला कि अमित अन्दर आकर उसे देख रहा है.ये बात उन गर्मियों के मौसम की है जब मैं, मेरी मौसी मौसा और उनकी बेटी किसी रिश्तेदार की शादी में 3-4 दिन के लिए गांव गए हुए थे.

सेक्सी वीडियो गाना वाला - भोजपुरी बीएफ खुल्लम खुल्ला

थोड़े समय बाद मॉम को भी मज़ा आने लगा था और वो अपनी गांड उठा उठा कर मज़ा लेने लगी थीं.मुझे डिल्डो की आदत थी तो लगा कि इस पोज में दर्द नहीं होगा पर मुझे पता नहीं था कि वह साला कुछ अलग ही सोच रहा था.

तो मैंने कहा- साले जसवंत, तेरी माँ चोद दूंगा … बहन के लोड़े … तेरी हिम्मत कैसे हुई मेरी नसरीन आपा के बारे में ऐसा बोलने की?लेकिन मैंने देखा नसरीन आपा सर झुकाए रो रही थी. भोजपुरी बीएफ खुल्लम खुल्ला फिर अब्बू रूम में चले गए और अम्मी ने दूध लेकर जैसे ही रूम में पहुंच कर दरवाज़ा बन्द किया, मैं अपने रूम से बाहर आ गया और की-होल से झाँका तो मेरे होश उड़ गए.

उन सबने अपनी अपनी तरफ से 1-1 लाख रूपये और 1 लाख मेरे और नीरज की तरफ से हैं.

भोजपुरी बीएफ खुल्लम खुल्ला?

पर ऐसा होना नामुमकिन था … सो मैंने अपने ध्यान को वहां से हटाया और अपने कंप्यूटर में काम करने लगा. थोड़ी देर में ही मेरे लौड़े ने हल्की सी पिचकारी दे मारी जो संगीता मैम के चेहरे पर जा पड़ी. उनकी स्खलन सीमा नजदीक आ गई थी और वो तेज तेज आवाजें निकालती हुई लंड पर कूद रही थीं.

फिर शुरू हुआ चुदाई का एक जोरदार राउंड!15 मिनट की घमासान चुदाई के बाद आपा मेरे बाँहों में नंगी लेटी हुई थी तो मैंने आपा से पूछा- आपा, आज जसवंत से चुदाई कैसी लगी?तो आपा शर्म की वजह से मेरे सीने में अपना चेहरा छुपा कर बोली- पहले तो मेरी चूत में लंड जाते ही मेरी जान निकल गयी क्यूंकि उस कुत्ते का लंड बहुत बड़ा था. सामने बारात आई हुई थी, सब मस्ती कर रहे थे और मेरे मन में बहन की नंगी चूत दिखाई दे रही थी. उससे बाद मुझे ऐसा लगा कि मैं झड़ने वाला हूँ तो मैंने उसे घुटनों के बल बिठाया और उसके मुँह के ऊपर अपना सारा माल निकाल दिया.

चूंकि हमारा ये घर बने अभी कुछ टाइम ही हुआ था तो पापा ने काम रोक दिया था. मेरे नीचे के होंठ को दांतों में भर कर तान सा लिया और अपने लंड पर लिक्विड चॉकलेट लगा कर उसे पूरी तरह से ढक दिया. वो तो इतनी मदहोश हो गई कि पूरे कमरे में उसकी ‘आ आह आह आह आह …’ की आवाज गूंज रही थी.

मैम की पैंटी निकल गई तो मैंने बिना देर किए अपना लौड़ा बाहर निकाल लिया. पर मैं डर गया कि अम्मी अपने इतने छोटे से छेद में इतना लंबा मोटा लंड कैसे लेंगी, इनकी तो गांड ही फट जाएगी.

मेरी बीवी प्रियंका मेरे लंड के लिए अपनी कमसिन भतीजी की बुर लेकर हाजिर थी और मुझसे कह रही थी कि ‘हम दोनों को एक साथ चोदिये.

फिर थोड़ी देर बाद वो बंगले की तरफ आती दिखी तो मैं वहीं दीवार के पीछे छिप गया.

और बुर वालियो, अपनी पैन्टी को उतारकर उंगली करने के लिये तैयार हो जाओ।क्योंकि आपका प्यारा शरद एक बार फिर आपके सामने एक नई कहानी के साथ प्रस्तुत हो रहा है।वैसे दिल की बात बताऊँ तो कोई जबरदस्त कहानी नहीं है मेरे दिमाग में … इसलिये कहानी लिखने का मन नहीं करता. तीन बार की चुत चुदाई और एक बार की गांड चुदाई में ही उसे मेरा लंड पसंद आ गया था और वो मेरी पर्सनल रंडी बन गई थी. उस आदमी ने मेरे घर गुप्त कैमरा लगा दिया, उसमें वीडियो के साथ आवाज़ भी रिकॉर्ड होती थी.

वो मेरे कड़क लंड का लाल सुपारा देख कर घबरा गई मगर छिपी नजरों से मेरे लंड को देखने लगी. मैंने सोचा कि इतनी देर में तो उसको झड़ जाना चाहिए था लेकिन वो झड़ ही नहीं रहा था. उसकी चुदाई की स्पीड देखकर मैं भौचक्की रह गयी कि एक 50 साल का आदमी इतनी जोशीले तरीके से कैसे चुदाई कर सकता है.

मैं दरवाजा बंद करके उसके पास आ गया और उसके होंठ चूसने शुरू कर दिए, साथ ही उसके चूचे भी दबाने भी शुरू कर दिए.

मैंने भी उनके मम्मे को मुँह में लिया और अपनी उंगली उनकी चूत में डाल कर चुत गीली कर दी थी. मगर कमाल की चुदास भरी हुई थी मालविका में; उसे तो अभी कभी न खत्म होने वाली चुदाई चाहिए थी।रवि को मालविका ने नीचे किया और उसकी ओर कमर कर के उसके लंड पर बैठ गयी।मालविका उकड़ू बैठी, अपने दोनों हाथ अपने घुटनों पर रखे हुए थी और अब उछल उछल कर चुदाई कर रही थी। मालविका के बाल बिखरे हुए दे, मुंह से लार निकली पड रही थी, उसकी आँखों में वासना का नशा था. बच्चा जैसे ही बाहर गया, उसने दरवाजा अन्दर से बंद कर लिया और मुझे देखने लगी.

लेकिन क्षिति मुझे बोल रही थी- पहले घर चलो!हम लोग रात करीब बजे क्षिति के घर पहुँच गए. मैदान के एक कोने में मैं पेशाब करके आ ही रहा था, उसी वक़्त अचानक चार हट्टे-कट्टे जवां मर्द लड़के अन्दर आते दिखाई दिए. मैंने उन्हें बहुत जोर से पकड़ रखा था तो वो मेरी पकड़ से छूट ही न पाईं.

मैं दंग रह गया कि चाचा आज ही पूरी चुदाई कर देंगे क्या?मैं फिर से सो गया.

कुछ दस मिनट बाद हम दोनों मर्दों ने मौसी के मुँह में एक साथ लंड डाल दिए और मौसी ने हम दोनों के लंड को चूस कर रस पी लिया. मेरी गर्दन बेड के अंतिम छोर पर नीचे हो चुकी थी और मेरे बाल अब नीचे जमीन तक झूल रहे थे.

भोजपुरी बीएफ खुल्लम खुल्ला निशा के दोनों हाथ फैलाकर उसके हाथ दीवार पर लगे दो खूँटों से बांध दिया और निशा की आंखों पर पट्टी बांध दी. जैसे कि मेरे हाथों में रूचि के मियां पवन का लौड़ा गुर्रा रहा है।रूचि बोली- यार, इधर भी ज़रा देख ले भोसड़ी की अर्चना … तेरे हसबैंड का लण्ड मेरे हाथों में आकर गुर्रा ही नहीं रहा है बल्कि दहाड़ रहा है बहन चोद! लगता है कि मेरी चूत नहीं बल्कि मुझे ही खा जायेगा.

भोजपुरी बीएफ खुल्लम खुल्ला हम दोनों ने 7 दिन तक लगातार सेक्स किया, हर बारअलग-अलग तरीके से सेक्सकिया. अगर मैं बाहर चली जाऊंगी तो शक होगा।मैं बोला- ठीक है!प्रिया के चेहरे पर तो सिर्फ हवस थी।जैसे ही अंदर गया, प्रिया जोर से कमरे का दरवाजा लगा कर मेरे ऊपर टूट पड़ी।मैंने प्रिया से कहा- थोड़ा सब्र तो कर लो।वो बोली- नहीं मुझसे इंतजार नहीं होगा। रात मैंने किस तरह काटी है, मैं ही जानती हूं.

गांड में लंड जाते ही आपा की जोर से चीख निकली जिसे सुनकरमेरी गांड फट गयी.

देसी सेक्सी मूवीज

मैंने अनायास ही मिताली के नैकलेस को देखा और देखता ही रह गया क्योंकि वो उसके बूबलाईन पर झूल रहा था. वो मस्त होकर अपनी गांड उठाने लगी और लंड चूत में खाने की कोशिश करने लगी. शुरूआत में तो मेरी उस लड़के से कुछ बात नहीं हुई, लेकिन धीरे धीरे हम दोनों में बातें होने लगीं.

अब मैंने उसकी चुत को खोल कर देखा, उसकी चूत अन्दर से बिल्कुल पिंक कलर की थी. मेरी बात खत्म होते ही नसरीन आपा ने मेरे गाल पर एक तमाचा मार दिया जिससे कि मैं हिल गया. मैंने उससे पूछा- पहले कभी ये सब किया है?तो उसने कहा- नहीं, आज पहली बार आपने ही मुझे छुआ है.

मधु- जीजा जी, आप सब एक साथ सो गए थे क्या?अंकित- हां वो हम लोग रात को देर तक बात कर रहे थे, तो साथ में ही सो गए थे.

वो टाइम देख कर बोला- हां नंबर भी मेरे लैंडलाइन का है, जहां तक मुझे याद है इस टाइम में तो मैं दुकान से चला गया था, मेरा बेटा बैठा था. क्षमा के साथ ये किस मुझे इतना अधिक सेक्सी लग रहा था कि मैं अपने लंड की चुसाई करवाना भूल चुका था. उनको ये भी ख्याल नहीं था कि उनका एक बेटा बाजू के कमरे में सो रहा है.

मेरी बात सुनकर वो खुश हो गई मगर तब भी वो बोली- लेकिन फूफाजी आपका हथियार बहुत बड़ा है, मेरी फट जाएगी. उसकी टांगें हवा में ऊपर की तरफ हो चुकी थीं और मैं तेजी से झटके लगा रहा था. इतना बड़ा ग्यारह इंच लंबा और मोटा लंड चूत और गांड में मैंने कभी नहीं लिया था.

कुछ देर बाद मैंने अपना एक हाथ से नीचे करके उसकी पैंटी के ऊपर से उसके चूत के दाने को मसल दिया. गरम लड़की की गोरी चूत की पहली चुदाई करने का अवसर मुझे मिला ट्यूशन मैम के घर में! उस दिन मैम नहीं थी, मैं उस लड़की को गणित पढ़ा रहा था.

अच्छा तो इसका मतलब तू अपनी बुर चुदाने आयी है यहाँ तू माँ की लौड़ी!”हां यार हां बस तुम यही समझ लो!”अरे यार … बुर तो तू वहां भी चुदवा सकती थी?”वहां तो बहुत लोग थे। आज़ादी थी नहीं … यहाँ गोवा में हमारा कोई नहीं है हम जो चाहे करें! यहाँ कौन भोसड़ी वाला हमें देख रहा है! अब मैं जम कर गोवा में सुहागरात मनाऊंगी. अमित मेरे मुँह के पास आया और घुटनों के बल बैठकर लंड मेरे मुँह में दे दिया. पूर्णिमा जी दर्द के मारे बिलबिलाने लगीं- ओह रोहित जी … बाहर निकालो … नहीं तो मैं मर जाऊंगी.

मैंने कहा- आपा आप अपने बॉयफ्रेंड से रूपए मांग लो ना … वो दे देगा क्यूंकि आपने बताया था उसके पास बहुत पैसा है.

मॉल में अंकित कभी मेरे कंधे पर हाथ रखता तो कभी मेरी गांड पर हाथ फिराते हुए मजा लेता. शाम को जब मैं उठा तो देखा कि मैं नंगा लेटा हुआ था और सनोबर अपनी अम्मी के साथ चली जा चुकी थी. हॉट सेक्स चैट कहानी में पढ़ें कि एक शादीशुदा लड़की से मेरा सम्पर्क अन्तर्वासना कहानी साईट के माध्यम से हुआ.

मैं उसके दूध चूसने के बाद उसके पेट पर किस करते हुए उसकी चूत की तरफ जाने लगा. तो उसने मेरा मुंह खोलकर अपना लंड मेरे मुंह में डाल दिया और जोर-जोर से लंड को हिलाने लगा.

वो मेरे इस हमले के लिए तैयार ना थी, जब तक क्षिति कुछ सोचती तब तक उसका सारी का पल्लू मेरे हाथों में था. पहले दिन मेरी और मंजू भाबी की साधारण बात हुई और मैंने उनके पति के बारे में उनसे पूछा. मैंने अपनी एक उंगली भी उसकी चुत में डाल दी और उसे फिंगर-फक मतलब उंगल चोदन का मजा देने लगा.

हिंदी मूवी सेक्सी चुदाई वीडियो

उसके मुँह से कारण सुनने के बाद मैंने उससे नाम पूछा, तो उसने अपना नाम पारुल बताया.

मैं देख रहा था कि पूर्णिमा जी की आंखें मेरे लौड़े के बाहर निकलने का इन्तजार कर रही थीं. फिर मैंने पंकज को इशारा किया तो वो उछलता हुआ आया और एक झटके में आपा ने जिस चादर से अपना जिस्म ढाका हुआ था उसे खींचकर हटा दिया. उधर अमित मेरी बीवी के होंठ चूसने लगा और मेरी बीवी के मम्मों को दबाने लगा.

शायद इसकी वजह यह थी कि हानिया बहुत बार चुदी हुई थी और वह रंडी का रोल निभा रही थी. मैं कहीं भागी नहीं जा रही हूँ, तुम्हरी बहन हूँ, जो करना है, आराम से करो. हाय सेक्सीफिर पिचकारी के साथ पूरा माल मीनू की बिखरी हुई लिपस्टिक और नाक पर फैल गया.

उस दिन मैंने उसको चार बार चूत की तरफ से चोदा और एक बार गांड भी मारी. ये सुनकर मैं खुश हो गया और हम दोनों फिर से चुदाई की तैयारी में लग गए.

फिर उस व्हाट्सैप ग्रुप से लेफ्ट होने के बाद भी अमित से मेरी बात होती रहती थी. तब मैंने उससे पूछा- अब कैसा लग रहा है? क्या ज्यादा दर्द हो रहा है?वो अपने चेहरे पर पीड़ा और मुस्कान दोनों के मिश्रित भाव लाती हुई बोली- इतना मोटा लंड चूत में जाएगा तो क्या दर्द नहीं होगा. उसने मेरी दोनों चूचियों को जोर से मसलना शुरू कर दिया और बीच बीच में वो मेरे चूचुकों को भी मसल देता था.

बीच बीच में वो बड़बड़ा भी रही थी- आहा … आहहह … ऐसे ही … ओहह … चोदो … ज़ोर से … चोदो मुझे! जोर लगा कर! ओहहह रजत … चोदो मुझे … और ज़ोर से … आहह … फक हार्ड … फाड़ दो आज मेरी चूत!धकापेल चुदाई के बीच भूमि का शरीर अकड़ने लगा. अब मैं भी उसके लंड से सुख लेने लगी और अपनी गांड उठा उठा कर रोहित से चुदवाने लगी. मैं बस का इन्तेजार कर ही रही थी कि वो लड़का, जो मेरा रोज पीछा करता था, मुझे दिख गया.

मेरे काले बाल, नशीली आँखें और 34B 28 34 का फिगर किसी का लंड भी खड़ा करने के लिए काफी हैं।आप लोगों ने मेरी पिछली सभी कहानियों को बहुत प्यार दिया हैं उसके लिए आप सभी का बहुत बहुत धन्यवाद।आपका प्यार ही मुझे नई कहानी लिखने के लिए प्रेरित करता है.

[emailprotected]कहानी का अगला भाग:फुफेरी बहन की रात भर चुत चुदाई- 2. मैंने उसकी चुत पर अपना लंड रखा और चुत के दाने को लंड के सुपारे से घिसना चालू कर दिया.

वो मेरे होंठों को चूसते हुए बोले- कैसा लगा?मैंने भी मुँह बनाते हुए उनके सर पर बालों को सहलाते हुए कहा- बहुत खराब … भला कोई इतनी बुरी तरह अपनी पुत्रवधू को चोदता है. दोस्तो, जो लोग दिल्ली में रहते हैं, वो ये बात जानते होंगे कि फ्लैट में रहना कितना आरामदायक होता है. वो सीधा होकर अब मेरे मम्मों को चूसने लगा और मैं उसका लंड पकड़ कर आगे पीछे करने लगी.

रात के वक्त हमें कोई देख तो सकता नहीं था, क्षिति ने आंखें मटका कर अपना बायाँ हाथ बाहर निकाला. मेरी बीवी पूनम ने मुझे फ़ोन किया और कहा- आप यहां चले आइए, हम लोग यहां अकेले हैं. अम्मी मुस्कुरा कर बोलीं- अच्छा बाबा मैं समझ गयी … तुम्हें मां बहन की गाली देते हुए मुझे चोदने में मज़ा आता है न … दे लेना.

भोजपुरी बीएफ खुल्लम खुल्ला मैंने फिर से कहा- पक्का ना?उसने मेरी आंखों में आंखें डालकर बोला- हां ठीक है … हम बाद में जरूर करेंगे. मैंने उसकी दोनों टांगों को अपने दोनों कंधों पर रख लीं और उसको इस पोजिशन में चोदना शुरू कर दिया.

सेक्सी मूवी कॉलेज की

फिर मुझसे चटवा साफ करवा के बोला- मजा आ गया पूजा रानी!लंडखोर लड़की बनने की राह पर यह मेरा पहला कदम था।देखते ही दिनों में ही मेरे शरीर में तेज़ी से बदलाव आने लगे, स्तन भी विकसित होने लगे. मैंने कैसे चाची की भाभी की चुदाई का जुगाड़ बिठाया?सभी चूत की देवियों और लंड के महाराजाओं को मेरा सादर प्रणाम. जसवंत जोर-जोर से उनके होंठों को चूसे जा रहा था और उनके बूब्स दबा रहा था.

इतने में ज़ाकिरा और सनोबर कमरे में आ गईं और जाकिरा मुझसे लिपट चिपक कर चुम्मी करती हुई प्यार से फरहीन से बोली- बेटी फरहीन, यह तेरे चाचा नहीं … असली अब्बू हैं. कंपनी की कर्मचारी प्रीत, मुझको बताती थी कि किस ग्राहक को क्या अच्छा लगता है. सेक्सी गाना भेजोउसने पूछा- वो कैसे?मैंने उसे बताया कि मैंने अपने मकान का बेसमेंट डॉक्टर को किराए पर नहीं दिया था.

एक रात में मैंने अपने बेटे को जल्दी सुला दिया और मैं भी अच्छे से तैयार हो गई, अपने शौहर का इंतजार करने लगी.

वो मेरे कान की लौ को चूमता हुआ मेरे चूचों को मसल रहा था और नीचे से हल्के हल्के झटके मार कर मेरी चुत को कुरेद रहा था. हॉट कॉलेज सेक्स स्टोरी के अगले भाग में मैं आपको आगे की कहानी लिखूँगा.

मैं अपने रूम के बाथरूम में होने की वजह से दरवाजा को बंद करने के बजाए सिर्फ़ भिड़ा कर नहाने लगी. मेरे पूरे शरीर का दबाव पूर्णिमा जी के गदराए सांवले नशीले बदन पर था. वो लंबी लंबी सांसें लेता हुआ मेरी तरफ आ गया और अपने लंड को मेरे सामने हिलाने लगा.

इतने में नसरीन आपा ने मेरी टीशर्ट उतार दी और मेरे सीने को किस करने लगी.

उधर भाभी फिर से अपने दाएं हाथ से भैया के लिंगमुण्ड को नीबू की तरह निचोड़ने के लिए तैयार थीं और जबरदस्त तरीके से ऊपर नीचे कर रही थीं. उस रात को मैंने अपनी दोनों बेटियों और जाकिरा को दम से चोदा और हम सब नंगे ही सो गए. फिर पूर्णिमा जी ने कहा- आपने ऐसा सोचा भी कैसे रोहित जी कि मैं आपके साथ ऐसा कर सकती हूँ.

ब्लू पिक्चर बताएं वीडियो मेंउसके बाद मेरी सहेली मेरे घर आयी। मैंने उसे हमारी चुदाई वीडियो दिखाई। वो भी मेरे भाई से चुदने के लिए मचल गयी. फिर देखा कि मेरी बहन वहां से घर के पीछे चली गयी थी और वो तीनों लड़के भी मेरी बहन के पीछे जा रहे थे.

हिंदी मुसलमान सेक्सी वीडियो

दूसरी तरफ मेरी आपा 23 साल की हो गई थी लेकिन उसके साथ शादी के लिए सब लोग मेरी अम्मी की रांडपने की आदत की वजह से मना करने लगे. लेकिन मुझे लगता है कि अगर मुझे उससे दोबारा चुदाई करवानी पड़ी तो तब वो मेरी गांड मारे बिना मुझे जाने नहीं देगा. कुसुम- मैं प्रैग्नेंट हो गई तो?मैं- नहीं होगी, उसके लिए मुझे तेरे छेद में अपने शुक्राणु छोड़ने होंगे … और मैं ऐसा नहीं करूंगा … पक्का.

भाभी हर हाल में यह प्रतियोगिता जीतना चाहती थी। तो सविता ने इस प्रतियोगिता के जज को कैसे खुश किया?इसके बाद की घटनाओं के बारे में जानने के लिए पूरी वीडियो देखें. भाभी जी- क्या कहना चाह रहे हैं … क्या वो सीधे मुझसे नहीं कह पा रहे हैं?कलावती जी- भाभी जी, बात कुछ ऐसी है कि मैं भी आपसे सीधे सीधे कहने में हिचक रही हूँ. मैंने पूछा- बड़ी जल्दी में हो गया? अपने पास बहुत समय है, जरा मजा ले लेकर करते हैं न!इस पर उसने बोला- वो सब बाद में … पहले तुम एक बार मुझे चोद दो … बाद में जो चाहे कर लेना.

वो अपने लंड के टोपे को मेरी चूत के होंठों के बीच लहराने लगा और मेरा रुका हुआ बांध फूट पड़ा. चूँकि अभी मेरा मन चुदाई का नहीं था तो मैंने मेरी चूत टाइट कर ली जिससे सलीम का पानी जल्दी निकल जाये. चूत में फुहारा निकलते ही संगीता ने मुझे अपनी ओर खींचा और मुझसे लिपट कर कहने लगीं- आंह मजा आ गया योगी … अभी अपने लंड अन्दर ही रहने दो और मुझे इसका अहसास लेने दो.

अब्बू आप आज मेरी बुर फाड़ ही डालो … और मेरी बिल्कुल कुंवारी कोरी प्यासी बुर को फाड़ फाड़ कर इसमें से खून निकाल दो अब्बू … आप मेरे गर्भ में अपना एक बच्चा भी डाल दो. मेरी पहली गर्लफ्रेंड के जाने के बाद मेरे दिन बस एक नई लड़की की तलाश में गुजर रहे थे कि तभी मेरे मोबाइल पर एक अनजान नंबर से मिस कॉल आई.

उसका हुस्न गजब का ऐसा निखर रहा था मानो आज जन्नत की हूर धरती पर उतर आयी हो.

मैं- अच्छा ये बात है … तो तू उसकी गलतियों की सज़ा अपने आपको क्यों दे रही है?कीर्ति- यार, वो मुझसे प्यार करे या ना करे … पर मैं तो उससे प्यार करती हूँ ना!इतना कह कर वो फिर से रोने लगी. ब्लाउज गला डिजाइन imageनसरीन आपा ने पूछा- क्या कहा?तो मुझे अब होश आया कि मैंने अपनी आपा से ये क्या कह दिया. desi पिक chut में land ka paniरात को आपा मेरे कमरे में आ गयी और हमारे बीच फिर से धुआंधार सेक्स हुआ. कमरे में पहुँचकर हम दोनों ने देखा कि मीना और दीपक बेड वाले गद्दे से उठकर पलंग पर सो रहे थे.

बाकी सभी 2 दिनों से जगे होने के कारण थकान से सो रहे थे … या सभी सोने की तैयारी में थे.

मैंने उसके ब्लाउज को खोला तो वो लाल ब्रा पहनी हुई थी, जिसमें फंसी हुई उसकी बड़ी बड़ी चूचियां बहुत मस्त दिख रही थीं. कुछ पल बाद मेरा एक हाथ उनकी चूचियों पर चला गया और मैं भाभी के मम्मों को जोर जोर से मसलने लगा. थोड़ी देर बाद उसका दर्द कम हुआ तो वो आह आह करके पूरा मज़ा लेने लगी.

मुझे लगा कहीं अमन ना जाग जाए इसलिए मैं गगन को यूं ही अपनी गोद में उठाकर बाथरूम में ले गया और लंड को बाहर निकाल दिया. मैंने अपने आप को रोकने की कोशिश की और आपा को भी रोकना चाहा लेकिन वह नहीं मानी, मेरा लंड सहलाती रही. कुछ देर बाद भाबी थक गईं तो वो बिस्तर पर पेट के बल लेट गईं और अपनी टांगें चौड़ा दीं.

सेक्सी भेजो पंजाबी में

मैंने अमित के कान में धीरे से बोला- ले चल अपनी रंडी को बेड पर!अमित ने मेरी बीवी को गोद में उठा लिया और उसको बेड पर पटक दिया. काफी देर के बाद आखिर मेरी ठरक मेरे डर पर हावी हो गई और मैं वापस मुड़ गया. मैंने अपनी पिछली गरम सेक्स कहानीभाभी की चाची चुदी सरसों के खेत मेंhttps://www.

जैसे ही वो मेरे पास आई तो मैंने उससे कहा- आपने कल अपना नाम तो बताया ही नहीं था.

उनकी गुलाबी ब्रा और भरे हुए चुचे मुझे आमंत्रित कर रहे थे कि आ जाओ और इन्हें पी लो.

क्यूंकि आज नसरीन आपा ने ज्यादा कपड़े नहीं पहने थे और उनका नाईट सूट बहुत हल्का था तो ऐसा लग रहा था जैसे मैंने नसरीन आपा नंगी हैं और मैंने उन्हें गले लगा रखा है. मैं समझ गया कि नसरीन आपा को मज़ा आ रहा था क्यूंकि उनके हाथ भी मेरी कमर पर बेतहाशा घूम रहे थे. डब्लू डब्लू सेक्सीमैंने दो उंगलियां एक साथ अपनी बहन की गांड में डालीं और अपनी बहन की गांड के छेद को चौड़ाने लगा.

मैंने उसको अपना नाम बताया और उससे पूछा तो उसने अपना नाम दीपा बताया. कल तो तुमने मुझे उससे माफी मांगने को कहा, यह बात मैं बर्दाश्त नहीं कर सका. मैं तड़पने लगी बिस्तर पर- आह काका उई ईई!वो बोले- साली काका मत बोल … पूरण बोल!आह पूरण करो उफ … बहुत मजा आता है।”पूरण ने झुकते हुए चूत को चूम लिया।कहते हैं ना चुदाई के करतब कोई सिखाता नहीं … खुद आते हैं। खुद वो सब होंने लगता है जो नहीं भी सीखा होता!मैंने उनके लंड को पकड़ लिया.

पर थोड़ी देर बाद बोली- जब भी जरूरत लगे, तुम मुझसे कह देना … मैं अपने प्यारे भाई के लिए इतना तो कर सकती हूँ. फिर लंड निकाल कर उसकी गोरी गुलाबी फटी हुई खून से लथपथ चिकनी चूत को चाटने लगा.

ससुर ने अपने हाथ आगे लाकर अपनी बेटी के दूध पर हाथ रखे और धीरे धीरे से मम्मे दबाने लगे.

हॉट टीन गर्ल चुदाई स्टोरी में पढ़ें कि मैंने अपने पड़ोस में रहने वाली अपने से आधी उम्र की जवान गर्म लड़की की चूत चुदाई कैसे की. तब मैंने कहा- उसके साथ मेरे फोटोज तो और भी हैं, लेकिन आप वो देख नहीं पाएंगी. मौसी ‘आ ऑश …’ कर रही थीं और बोल रही थीं- आंह राजा … आज तो तेरी वजह से मेरे दोनों छेदों को एक साथ डबल मजा मिल गया.

चाइनीस ब्लू फिर मैंने वहीं एक चबूतरे पर बैठ कर उसे अपनी गोद में बिठा लिया और उसके होंठों को चूसने लगा. फिर मामा की छोटी लड़की झोपड़ी से निकल गई और केवल हम दोनों ही अन्दर रह गए.

फिर मैंने सोचा कि आजकल इंटरनेट का जमाना है इसलिए छोटी उम्र में ही इसे गुदा-मैथुन का मजा मिल गया हो या इसने खुद ही अपनी गांड में उंगली या खीरा मूली डाली हो. वो इतनी ज्यादा गर्मा गई थी कि पिचकारी मारती हुई मेरे बालों में झड़ गई. आप सभी इस हॉट लड़की चुदाई स्टोरी पर अपने विचार[emailprotected]पर मेल के जरिये भेज सकते हैं।सभी मुझसे फेसबुक पर Fehmina.

जानवरों वाली सेक्सी जानवरों वाली

दस मिनट बाद भाभी झड़ने को हुईं तो उन्होंने अपनी टांगें कस लीं और पूरी ताकत से मेरे मुँह को अपनी चूत पर दबाने लगीं. मीनू अपने पति के लंड से ही खलबला गई और ऊपर को उठ कर पूरा साथ देने लगी. फिर भी ससुर जी ने मेरे मम्मों को जोर से दबाते हुए झटके मारने जारी रखे.

मैंने सोचा कि इतनी देर में तो उसको झड़ जाना चाहिए था लेकिन वो झड़ ही नहीं रहा था. मुझे इसी वजह से वो लड़कियां ज्यादा अच्छी लगती हैं जो लड़कों की गलतियों को हंस कर माफ़ कर देती हैं.

मैं भी समझ गई थी कि ससुर जी जग चुके हैं क्योंकि उन्होंने अब अपने हाथ मेरे सर पर रखकर दबाव बनाना चालू कर दिया था.

मैं और हिमानी मोहिनी भाभी को उनके कमरे में ले गए और भैया बाहर अपने दोस्तों के साथ बातचीत में व्यस्त थे. उसकी आंखों में प्यास बढ़ती दिख रही थी तो मैंने उसकी टी-शर्ट को हटा दिया. मेरे हथियार का सुपाड़ा पूर्णिमा जी के किले को भेदने के लिए तैयार था.

आ जा … तू भी इनके साथ चुदवा ले और अभी ही अपने अब्बू के साथ प्यार वाला सेक्स कर डाल. मुझे इस समय अपने दिमाग में डॉक्टर का कैरेक्टर घूम रहा था और उस मराठी नर्स के साथ डॉक्टर की चुदाई की कल्पना मस्त किए हुए थी. दस मिनट राजन की चुदाई के बाद मैंने अपना लंड राजन की गांड से निकाल लिया.

मैंने सोचा ये क्या है … अभी तो कलावती जी के भोसड़े के रस में तरबतर मेरा लौड़ा सूखा भी नहीं था और अब ये भाभी जी फिर से मेरे लौड़े को खड़ा कर रही हैं.

भोजपुरी बीएफ खुल्लम खुल्ला: मैंने उसकी चुत चूसने के साथ साथ उसकी चूचियां मसलना भी शुरू कर दिया था. मैंने कभी नहीं सोचा था इस पल के बारे में!सौम्या मेरी दोनों टांगो के बीच थी और जिस तरह से वह मेरा लंड चूस रही थी, उसका आनंद शायद शब्दों में बयां करना थोड़ा मुश्किल है।लंड को चूसते हुए वो मेरे नीचे लटकते अण्डों को अपनी हथेली की गर्मी देते हुए सहला रही थी.

उसकी आज की हंसी से मुझे समझ आ गया कि लौंडिया लंड की भूखी है और थोड़े से प्रयास से लंड के नीचे आ जाएगी. अचानक तभी मैंने जोर से अपने उभरी हुई गांड को उछाला और अगला धक्का ऐसे दे मारा कि मेरे जिस्म से जैसे लावा फूट पड़ा. वो तो जैसे कूदने को हो गई, उसकी आंखें बड़ी हो गईं … उसने अपनी चीख उस घास के बिस्तर में दबा दी और बहुत रोने लगी.

वो बोले कि लिपस्टिक और सिंदूर जो तुमने लगाया है, वो तो बता ही रहा है.

फिर उसने एक झटके में आपा को सीधा खड़ा किया और उनका बुर्का उनके जिस्म से अलग कर दिया. सनोबर रोती चीखती चिल्लाती तड़पती हुई मेरे जिस्म पर पूरा जिस्म रगड़ रही थी. उसने मुझसे पूछा- क्या तुम्हारी कोई गर्लफ्रेंड नहीं है?मैंने कहा- जी नहीं, अभी तक तो नहीं.