प्रीति बीएफ

छवि स्रोत,सेक्स नंगी ब्लू फिल्म

तस्वीर का शीर्षक ,

किन्नर के बीएफ वीडियो: प्रीति बीएफ, सन्नो- क्यों वहां क्या काम है इसका?बिरजू ने पूरी बात बताई, तो गीता वहां से निकल गई और दोनों बाप बेटे अपने काम से खेतों में चले गए.

बीएफ वीडियो सेक्सी अंग्रेजी

नीचे से उसने ब्रा-पैंटी या पेटीकोट कुछ नहीं पहना था इसलिए साड़ी उतारते ही वो पूरी की पूरी नंगी हो गयी. ब्लू फिल्म्स वीडियोउनकी प्यारी बहू आधे हाथ की दूरी पर खड़ी होकर चापाकल चला रही थी। अभी सूरज की किरणों से पूरी तरह सुबह का आगमन नहीं हुआ था.

आपको कुछ आइडिया है कि ये सब कहां गए होंगे?मुखिया- अब क्या बताऊं बलराम जी. सेक्सी बीएफ भोजपुरी एचडी वीडियोमैंने उनसे भी कह दिया- अगर आपको ठंड लग रही है तो आप भी उतार लो अपने कपड़े और सुखा लो.

दोस्तो, गीता का कलर गेहुंआ था, नाक नक्शा तो अच्छा था ही, ऊपर से बला का फिगर था.प्रीति बीएफ: उसने भी बोल दिया- साले चुतियों, भैन के लौड़ों … आ जाओ मैं भी खेल ही लेती हूँ चुदाई का खेल.

अब मुझे कब जाना है?मुखिया- आज रात को जाना है … और उसको ना बताना कि तू चुदी हुई है.देसी आंटी के मुंह से निकला- आआ … आराम से!फिर मैं उतने ही लंड को आगे पीछे करने लगा.

सेक्सी बीएफ चोदी चोदा बीएफ - प्रीति बीएफ

वैसे तेरी कोई गर्लफ्रेंड है क्या … सच बताना मैं तेरी दोस्त ही हूँ ना!मैं- नहीं भाभी, सच में कोई गर्लफ्रेंड नहीं है.वो मस्ती में मेरे लंड को चूसने लगी और मैं जैसे जन्नत की सैर करने लगा.

फिर उसने बहुत सारा रंग हाथ में लिया और मॉम के सामने आया। मॉम की आंखें बंद थीं।सामने आकर वो बोला- आंटी, थोड़ा पैरों को और ज्यादा खोलो।मॉम ने पैर खोल दिये।मॉम की चूत बिल्कुल साफ दिखाई दे रही थी। वो मॉम के पास गया और अपना हाथ मॉम की चूत पर रख दिया। मॉम को झटका लगा और वो पीछे हो गयी।विक्रम ने तपाक से कहा- लो, आंटी मान गयी बुरा. प्रीति बीएफ दोस्तो, मेरी बहू की चुदाई की कहानी का ये पहला भाग यहीं रोक रहा हूँ.

मैं डर गई।मैंने जल्दी से अपना मुंह खोल दिया। उसने अपना लण्ड मेरी तरफ किया और एक लम्बी धार सीधे मेरे मुंह में आकर गिरने लगी। मैंने आंखें बन्द नहीं की थीं। मैं आदिल का मूत पीने लगी.

प्रीति बीएफ?

थोड़ी ही देर में सात-आठ पिचकारियां मेरे लंड से निकलीं, जो सीधे उनके गले के अन्दर चली गईं. और पिताजी के लिए अपने बैंकॉक के होटल इंचार्ज की नौकरी के लिए भी एक शानदार ऑफर दिया। उस समय से रमेश बाबू की निजी वैश्या के रूप में मेरी मां की यात्रा शुरू हुई थी. मामी को मजा आ रहा था इसलिए नींद से जागने के बाद भी उन्होंने कुछ नहीं बोला और वो धीरे धीरे सिसकारने लगी.

सन्नो- क्यों वहां क्या काम है इसका?बिरजू ने पूरी बात बताई, तो गीता वहां से निकल गई और दोनों बाप बेटे अपने काम से खेतों में चले गए. अब मैं स्मायरा आंटी के चूचों को जोर जोर से दबा रहा था और वो सिसकार रही थी. मैं होंठों के चुम्बन को बड़े अच्छे से करता हूँ और एक गुड किसर समझता हूँ.

फिर मैंने उसको कैसे पटाया और हमें चुदाई का मौका कैसे मिला?सभी पाठकों को मेरा नमस्कार!मेरा नाम हर्ष है और मैं 25 साल का हूं. मैंने सर से कहा- अब और न तड़पाओ, जल्दी से आ जाओ बस!पहले तो मैंने खूब शर्माने का नाटक किया जबकि मन तो कर रहा था कि सर को अपनी नंगी जवानी दिखा कर उन्हें जल्दी से जल्दी चोदने के लिए तड़पा दूँ. तूने कभी अपनी रसीली चूत की सफाई नहीं की क्या?मैं भाई के मुँह से चूत सुन कर शर्मा गई और चुप रही.

मैं घने जंगल में एक पेड़ के पीछे उन्हें ले गया, वहां सिर्फ झाड़ियां ही थीं. काल का चक्र कुछ ऐसा चला कि मैं किसी अन्य पुरुष से जानबूझ कर अपने जिस्म में धधकती वासना की आग बुझवाने लगी; ये सब बातें मैं आगे आप सब से साझा करूंगी.

अभि- तो तुम्हें सेक्स में क्या पसन्द है?मैं- दरअसल मैं सबसे ज्यादा लंड चूसना और गांड मारना पसंद करता हूँ … और तुम!अभि- मैं सब पसंद करता हूँ, मुझे सब पसंद है.

तभी मामी बोली- अरे रुक ना पूजा! जब ये कह रहा है तो जरूर कुछ मजेदार ही होगा.

मैं अपनी अम्मी की मदमस्त जवानी और चुदने की आग से भरपूर इस माँ की चुदाई की कहानी को अगले भाग में आगे लिखूंगा. मैं दोनों के मुँह में चूचे ठूंस ठूंस कर अपना दूध पिला रही थी और सिसकारियां भरते हुए बड़बड़ाये जा रही थी- आह्ह … कस कर मसलो … आह्ह काट लो मेरी घुंडियों को … चूस डालो इनको, सारा रस निचोड़ लो. फिर हम सब घर में शौहर बीवी की तरह रहेंगे और तेरी मां और दोनों बहनें तेरी और मेरी बीवी होंगी.

बलराम- जा … लेकिन कभी कभी चौकी पर भी आया करो, तुम्हारे गांव में नया आया हूँ. अब इस प्यास को कब बुझाओगे?मैंने कहा- अभी आ जाऊं?भाभी- अभी मरवाओगे क्या? अभी नहीं, मेरे साथ शादी में चलो, वहीं कोई जुगाड़ देख लेंगे. उस दिन मॉम ने एक लाल रंग की साड़ी पहनी थी जो काफी हद तक पारदर्शी थी और बारिश में भीगने के बाद तो और भी ज्यादा पारदर्शी हो गयी थी.

भाभी की चूत Xxx चुदाई कहानी में पढ़ें कि मैंने अपने अफसर की बीवी को सेट कर रखा था.

मैं सिसकारते हुए बोला- इस्सस … नहीं भाभी … मैं खुद को नहीं रोक पा रहा हूं. शाम को तय समय पर सुशी फिर से मौका देख कर घर से निकली और पीछे के रास्ते से मेरे मकान में आ गई. कालू ने हरी को बांध दिया और मुँह पर भी टेप चिपका कर उसे बंद कर दिया.

सुमन- आह सस्स आराम से जानू उफ … कौन सी गोली खा ली ये तो बहुत मोटा हो गया है. एक दिन मैं ऐसे ही ग्रिंडर पर सर्च कर रहा था, तो मुझे एक प्रोफाइल दिखी. मैं धीरे धीरे उनकी पैंटी को नीचे तक सरका ले गया और चाची की गांड पूरी नंगी कर दी.

सुरेश- देर मत कर मीता, जैसे मैंने तुम्हारी फुन्नी को चाटा, तू भी लंड को चूस … और देख कैसे मज़ा आएगा.

अरी सुलक्खी तू खड़ी क्या है, जा जल्दी से चाय नाश्ते का बंदोबस्त कर साहेब के लिए. मुझे बहुत दर्द हो रहा था, लेकिन उसकी पकड़ से खुद को छुड़ा पाना मेरे लिए नामुमकिन था.

प्रीति बीएफ उसने पूछा- फिर उसके साथ रिलेशनशिप का क्या हुआ?वैसे दोस्तो, मैं रिलेशनशिप में कभी नहीं रहा. मुखिया का ख़ास आदमी कालू, जब हवेली पर पहुंचा, तो सुमन एकदम तैयार होकर उसका इन्तजार कर रही थी.

प्रीति बीएफ भाभी ने जल्दी से अपनी साड़ी और ब्लाउज ठीक किया और आंखें बंद करके लेट गईं. मैंने उसकी जींस और चड्डी हटा दी और उसका फनफनाता हुआ 7 इंच लंबा और 3 इंच मोटा लंड सूंघने लगा.

जैसे ही पैंटी निकल गयी, उसकी चिकनी मक्खन जैसी मुलायम चूत राहुल के सामने आ गई.

दुल्हन की सुहागरात की सेक्सी वीडियो

ये सुनते ही मैं धकापेल उसे चोदने लगा और लगभग बीस शॉट मारने के बाद मैं उसकी बुर में ही झड़ गया और उसके ऊपर ही गिर गया. तब तक मीता वापस नहीं आई थी, वो बाहर किसी से बातें करने खड़ी हो गई थी. बस इसी बात का फायदा उठा कर मुखिया उसके करीब को हो गया और धीरे धीरे उसकी पीठ पर हाथ फेरने लगा.

थोड़ी ही देर में उसकी चूत ने पानी छोड़ दिया और उसका बदन जैसे टूट सा गया. दोस्तो, इस तरह से क्या बताऊं, वो भाभी बस फ़ोन पर एडल्ट सेक्सी चैट करती हुई ‘आह आह जानू …’ करते हुए कामुक आवाजें निकाल रही थी. तूने कभी अपनी रसीली चूत की सफाई नहीं की क्या?मैं भाई के मुँह से चूत सुन कर शर्मा गई और चुप रही.

उसके मेरे ऊपर आकर गिरने की वज़ह से और मेरे उसके हाथ पकड़ रखने की वजह से, मेरी उंगलियां उसके स्तनों को महसूस कर रही थीं.

शुरूआत के 1-2 साल तो हम दोनों बस ओरल सेक्स करके ही संतुष्ट हो जाते थे क्योंकि मैं नई नई जवान हुई थी. अब मैंने भाबी को झांसे में लेते हुए कहा- भाबी आप उस बात की चिंता मत करो, किसी को कुछ पता नहीं चलेगा. इस बात पर आयशा नाराज हो गयी और वो मुझसे भागकर शादी करने के लिए भी तैयार हो गयी.

वो धीरे धीरे पीठ से हाथ को गीता के चूतड़ों पर ले गया और उनको सहलाने लगा. मैंने उसको उठाना जरूर नहीं समझा क्योंकि रात भर उसने मेरी गांड चुदाई की थी. किससे चुसवाती हो इनको जो इतने बड़े किये हुए हैं?मॉम कोई जवाब नहीं दे रही थी.

ये सुनकर मुझे बहुत बुरा लगा क्योंकि मुझे तब लगा था कि वो मज़ाक कर रही है. जैसे ही मेरी जीभ उसकी योनि के अंदर तक जाती वो और जोर से चूसने लगती.

मैंने सोचा कि आज की रात मौका अच्छा है, जैसा मैंने सोचा था, वैसा हो जाएगा. मुझे पोर्न देख कर बगल चाटने, थूक अदला बदली जैसी फेटिश चीजें बहुत पसंद हैं. तभी एक दिन अंशुमन भैया ने बताया कि अगले 3 हफ्तों में उनके सेमेस्टर की परीक्षाएं खत्म हो जाएंगी और अगला सेमेस्टर शुरू होने से पहले एक महीने की छुट्टियां हैं.

मैं तो साला बिना पिए कभी किसी को नहीं चोदता … मगर आज उस मैडम को तो ऐसे ही चोदूंगा.

उसकी मादक आवाजें आने लगीं- आह जीजू अअअअ उईईई … और तेज पेलो अअ अअअ उईईई और तेज. आपकी पिंकी सेन[emailprotected]देसी लंड की कहानी का अगला भाग:गांव की चुत चुदाई की दुनिया- 3. मैं पहले तो समझ नहीं पाया लेकिन आंटी हर बार मुझे देखकर ऐसे मुस्कराती थी जैसे कि मैं उनका बॉयफ्रेंड हूं.

अब हमारे होंठ आ मिले और हम दोनों एक दूसरे के होंठों को रस अपने अपने मुंह में खींचने लगे. मेरी मेल आईडी है[emailprotected]जल्द ही एक नई सेक्स कहानी के साथ हाजिर होऊंगा, तब तक के लिए अलविदा.

करीब पांच मिनट तक उसके मुँह में पूरा लंड घुसा होने से सिर्फ ‘घुउन … घुऊंटट घुंट …’ की ही आवाज़ आती रही. शैलू- ना ना मैडम जी, मुझे नहीं जाना इस हवेली में … और आप भी मत रहो यहां भूत रहते हैं. अब आगे की वासना की कहानी:चूंकि सरजू खेतों में काम करके बहुत तक जाता है, तो उसको नींद भी गहरी आती है.

हिंदी सेक्सी स्टोरी हिंदी

सन्नो- लंड चूसने की बड़ी जल्दी है तुझको … चल तू भी क्या याद करेगी, मेरे रहते तुझे फ़िक्र की जरूरत नहीं है.

भाभी की चूचियों को देखकर मेरा मन मचल गया और मैं वासना की आग में जलने लगा. फिर भी उत्सुकतावश उसने हिम्मत करके कोने से परदा हटाया और अन्दर का नजारा देख कर उसकी आंखें फटी की फटी रह गईं. मैं- पर भाभी, यहां पर कैसे?भाभी- ये देखो, मैं अपना गद्दा लेकर आई हूं.

फिर मैं आपकी पूरी बॉडी पर किस करूंगा, आपके रसीले होंठों व गुलाबी गालों पर, सेक्सी आंखों पर, गले पर और मेरे फेवरेट आपके चूचों पर चुम्मी करूंगा. शुरू में तो उसने अपने मुंह को बंद ही रखा लेकिन 2-3 मिनट के अंदर ही मेरी जीभ उसके मुंह में घुसने लगी थी और उसके मुंह के अंदर घूम रही थी. रोने वाली बीएफमैं चूंकि बचपन से ही अपना लंड हिलाते आ रहा हूँ, तो इसकी देर तक टिके रहने की आदत पड़ गई है.

मैंने उसे बताया कि मैं होटल स्टाफ से हूँ और ये मेरी दूर की रिश्तेदार है. मैंने आंटी के सिर को पकड़ लिया और उसके मुंह में धक्के देकर लंड को चुसवाने लगा.

लेकिन मैं जहां इस खेल में नई थी, वहीं राहुल माहिर खिलाड़ी के तौर पर सब कर रहा था. पर वो मेरी चीख पुकार को नजरअंदाज करते हुए धीरे धीरे मेरी गांड मारने में लगे रहे. मैंने उसको डॉगी की तरह किया और पीछे से अपने लंड को उसकी चूत के मुँह पर रख दिया.

मौसी ने अपने दोनों पैरों को मेरी कमर पर कस कर लपेट लिया था और नीचे से अपनी गांड उचकाने लगी थी. ये सोच कर सन्नो हैरान हो गई कि मुखिया ने एक बार भी मुनिया के बारे में नहीं पूछा. मैंने पूछा- किस चीज की?भाभी हंस दीं और बोलीं- क्या समझ नहीं आया कि मुझे किस चीज की जरूरत है?मैंने कहा- मैं समझ तो गया हूँ, लेकिन आप अपने मुँह से साफ़ कहोगी, तो मुझे अच्छा लगेगा.

मुझे पूरा अंदाजा था कि आंटी अपनी चूत चुदवाने के लिए मुझे नीचे ही बुलायेगी.

धीरज के लंड ने लावा उगल दिया और उसने मेरी अम्मी के मुँह में ही अपने लंड का पानी छोड़ दिया. उस दिन मैंने अपने ऑफिस से तबियत खराब होने का बहाना बनाकर छुट्टी ले ली.

रघु ने पूछा- कोई आ गया तो गड़बड़ न हो जाएगी?तब सुरेश ने उसको समझा दिया कि क्लिनिक बंद करके ही मैं सब सिखाऊंगा. मैं बगल में बैठ कर मोबाइल चला रहा था, पर उन दोनों की सब बातें सुन रहा था. दोस्तो, मैं राज वर्मा एक बार फिर से आपके सामने अपनी हिंदी कहानी सेक्स की लेकर आया हूं जो मेरी पिछली कहानीपति के सामने उसकी बीवी चोद दी-1से आगे की कहानी है.

लंड पर हल्का सा तेल लगा कर हाथों को तेजी से चलाते हुए लंड को झाड़ने की कोशिश में लगा रहा. इस पर उसने तकिया मेरी कमर से निकाल कर मेरे मुँह पर रख दिया और ताबड़तोड़ दो झटके ओर दे दिए. कुछ ही देर मैं अपनी बहन की गांड में झड़ गया, तो मैं छोटा सा मुँह लेकर बैठ गया.

प्रीति बीएफ राज ने अम्मी को तख्त पर लिटा दिया और उनके ऊपर चढ़ कर उनके काले निप्पलों को पीने लगा. रात को सोते समय मेरी आदत थी कि मैं एक निक्कर और टीशर्ट पहन कर सोता था.

सेक्सी फिल्म भेजो सेक्सी फिल्में

राहुल ने धक्का मारने से पहले एक बार रूचि के चेहरे की तरफ देखा और अचानक वो ऊपर आ गया. तू कल योगी बाबा को बुला लाना, बहुत हो गया ये भूत वूत का चक्कर, अब उसका इलाज कर ही देते हैं. अम्मी के दूध मसलते हुए हल्के से कान में बोले- क्या बात मेरी जान, चूत के बाल कब साफ किए.

फिर मैंने आंटी को पेट के बल लिटा लिया और उसकी गांड में तेल की बूंदें डाल दीं. जब मैं ऑफिस से लौट कर 4 बजे वापिस आया, तो देखा समीक्षा बेड पर ही लेटी थी. ब्लू पिक्चर बताओ सेक्सीउसने मेरी छाती को चूमना शुरू किया और जल्दी ही उसका मुंह मेरे निप्पलों पर आ लगा.

फिर मैंने तेल की शीशी लेकर पहले उनकी पीठ पर तेल की मालिश करनी शुरू कर दी.

अब उसकी उत्तेजना चरम पर आ गई- आह उह बाबूजी … मेरी चुत में कुछ हो रहा है आह … और ज़ोर से चाटो आ उउऊँह. जब उसकी आवाज नहीं निकल पाती, तो वो जोश में कभी मेरे लंड को जोर से मसल देता, कभी मेरे टट्टे दबा देता.

राहुल बोला- आह बहुत तड़प रही है ना तू … ले फिर मेरा मूसल अपनी फुद्दी में. फिर उसने अपने हाथों से मेरी फ्रेंची को नीचे खींचा और मेरा लंड उछल कर बाहर आ गया. फिर मैंने मौसा जी के लंड की लम्बाई का अनुमान कर अपनी कमर को इतना ऊपर उठा उठा कर चुदाई की कि वो मेरी चूत से बाहर न निकलने पाए.

मैंने तुरन्त टी-शर्ट उतार कर अपनी ब्रा उतार दी और एक निप्पल को बेरहमी से खींचने लगी.

संध्या मौसी भी उनसे कुछ नहीं कहतीं थीं क्योंकि मौसा जी की यह पीने की आदत बहुत पुरानी थी. इस दोहरे हमले का असर मीनू पर बहुत जल्दी हो गया और वो फिर से जल बिन मछली की तरह तड़पने लगी. कुछ देर बाद उसकी चुत ने शायद पानी छोड़ दिया था और वो मुझे प्यार से चूमने लगी थी.

नर्स और मरीज का सेक्सतुमने कभी मेरे हुस्न को नहीं निहारा और तुम कहते हो तुम कई लड़कियों और औरतों को चोद चुके हो. वह जल्दबाजी करने की बजाए मेरी चुदास को बढ़ा कर मेरी सुहागरात को यादगार बनाने चाहता था.

सेक्सी वीडियो गलत

मैंने उससे पूछा कि तुमको मेरा नंबर कहां से मिला?तो बोली- क्यों मेरे कॉल करने से कोई दिक्कत हुई क्या?मैं बोला कि नहीं मुझे भला क्या दिक्कत होगी … फिर भी मैंने यूं ही पूछा. वो मुझे चूम कर मेरे ब्लाउज में दो हजार का नोट खौंस कर बोला- अपने लिए हॉट सी ड्रेस खरीद लेना. वो बोली- शर्म नहीं आई तुझे बहन के साथ ये सब करते हुए?मैंने उसको सॉरी बोला और कहा- गलती हो गयी दीदी.

मेरे पापा भी काम से बाहर गये हुए थे और खाना हम लोग मौसी के यहां पर ही खाकर आ गये थे. मैं इस हालत में इतनी मस्त हो गयी कि दिमाग समझ ही नहीं पा रहा था कि कौन सा मर्द ज्यादा अच्छी चुसाई कर रहा है. उसने मेरी चूत, हां मेरी चूत, मेरी कमसिन बुर, मेरी सील फुद्दी पर अपना पहला किस किया.

मेरी पिछली कहानी थी:मेरी हॉट बीवी की उसके अब्बू संग चुदाईसुहागरात की चुदाई कहानी शुरू करने से पहले मैं आपको अपने और अपने परिवार के बारे में कुछ बता देता हूं. शादी में से वापस आने के बाद सुजाता का ख्याल मेरे दिमाग से निकल ही नहीं रहा था. मेरा लंड भाभी के अंदर इतनी जोर से ठोक रहा था कि जैसे उनके पेट में घुस रहा हो.

इस तरह चुदाई का भरपूर आनंद लेने के बाद हम शाम होने से पहले ही घर लौट आये. अपने मोटे लंड से उस स्त्री को सुख दो।खाना खत्म करने बाद मुझे नींद नहीं आ रही थी इसलिए फिर से छत पर टहलने चला गया। अभी रात के करीब ग्यारह बज रहे थे। थोड़ी देर बाद देखा कि बहू अपने कमरे से निकलकर ससुर के कमरे में गई और दरवाजा लगा लिया।अब इतनी रात को ससुर के कमरे में जाकर अंदर से दरवाजा लगाने का क्या मतलब है भई? मन में शंका पैदा हुई तो मैं नीचे चला गया.

अचानक से संगीता का मुझ पर गिरना हुआ, तो मैं भी खुद को नहीं संभाल पाया और रवि को बेड पर धक्का देकर मैं संगीता को सम्भालने लगा.

राजेश ने भी फटाक से मेरी चड्डी उतार फेंकी और अपनी पैंट उतार कर वो भी नंगा हो गया. बिहारी एक्स एक्स बीएफमैं वहां पर उनके साथ चाय पीते हुए गपशप करता रहता और उनकी मदमस्त चूचियों को आंखों से चोदता रहता. एक्स एक्स एक्स राजस्थानी फिल्मतू स्कूल की जितनी पगार एक महीने में लाती है … वो तो तू एक दिन में कमा लेगी. मैं वहीं रुका रहा, मुझे नीचे कुछ गीला गीला सा लगा, तो उसके होंठों को छोड़ कर मैंने नीचे देखा.

तभी भाभी ने मुझे धक्का देकर दूर कर दिया और इशारे से किचन से बाहर जाने को बोलीं.

उसने घर फोन कर दिया और कह दिया कि वो दूसरे शहर में घूमने के लिए चली गई है और सुबह आएगी. कोरोना वायरस के प्रकोप के चलते मेरी जॉब से छुट्टी हो गयी थी और भाई वहीं मुम्बई में ही फंस गये थे. मेरी आंख खुली, तो देखा विक्रम मेरे ऊपर चढ़ा हुआ था और अपना लंड मेरी गांड पर रगड़ रहा था.

मैंने उसके बालों को पकड़े और अपना पूरा का पूरा लंड उसके मुँह में दबा दिया था … तो उस बेचारे को मेरे लंड का पूरा रस पीना पड़ा. वो भी यहां से 300 किमी पहले, लेकिन जिस स्टेशन से ट्रेन थी, वो गलती से उससे छूट गई. वो जैसे ही चीखने को हुई तो मैंने उसके मुंह पर हाथ रख दिया और दूसरे हाथ से उसकी चूची दबाने लगा.

सेक्सी विडियो सुहागरात

मुखिया कुछ बोलता, तभी बाहर से किसी की आवाज़ आई- अरे मुखिया जी घर पर हैं क्या?मुखिया- अबे कौन है, जो बाहर से ही गला फाड़ रहा है … तनिक भीतर भी आ जाओ. रोबीना मेरे लंड पर झुकी हुई थी और समीना उसकी चूत में उंगली कर रही थी. दूसरे राउंड के बाद हम दोनों थोड़ी देर ऐसे ही पड़े रहे। अब मैंने उनको उठाया और अच्छी तरह से साफ किया। उनकी गांड और पीठ पर बहुत ज्यादा भूसा चिपका हुआ था। पूरे जिस्म में चिपके हुए भूसे को मैंने झटकारा और बालों में फंसे हुए भूसे को भी साफ किया।फिर मैंने एक एक करके उनके सारे कपड़े वापस से पहनाये.

20 मिनट तक मैं उसकी चूत को पेलता रहा और फिर वो एकदम से झड़ गयी और मेरे से लिपट गयी.

मेरा मकसद होता था कि आज चाची ने किस तरह के कपड़े पहने हैं, उनका फिगर कैसा लग रहा है, चूचियों की घाटी कितनी दिख रही है? यही सब देखने के लिए मैं बार बार कोई न कोई बहाना बनाकर उनके पास पहुंच जाया करता था.

मैं भाभी को चूमते हुए उन्हें चोदने की सोच कर बहुत गर्म हुआ जा रहा था. वो बोली- सारा तुम ही पी जाओगे तो मैं अपनी बच्ची को क्या पिलाऊंगी?फिर मैंने दोबारा से उनके होंठों को चूमना शुरू किया और चूसता रहा. भोजपुरी बीएफ चुदाई वीडियोसोचा कि फिर से बोतल वाली मस्ती करते हैं।राजेश ने शरारती अंदाज़ में बोला- लगता है लौंडे की गांड की अच्छी तरह से सर्विसिंग करनी पड़ेगी.

अब रहा नहीं जा रहा है … मेरी चूत से पानी निकल रहा है जानू, जल्दी से कुछ करो. ये फ्लैट मैंने अपनी दीदी की शादी में आने वाले मेहमानों के लिए एक हफ्ते के लिए किराए पर ले लिया था. मैंने सोनू से कहा- अगर आपको कोई ऐतराज न हो तो हम नीरज को अपने साथ ही रख लेंगे.

वो दिन में दो तीन बार मुझे कॉल करके बातें भी कर लेती, रात को रोज हम वीडियो कॉल एक दूसरे को देखते और चुदाई की बातें करने लगे थे. मैंने कहा- सॉरी सिमरन, तुमने मुझे भैया माना था … और तुमने मुझे कितने गंदे काम करते हुए देख लिया.

पूरे लॉकडाउन में हम दोनों नए नए तरीकों से चुदाई का मजा लेते रहे थे.

मेरे लंड के धक्के उसकी चूत में लग रहे थे और हर धक्के के साथ उसके दर्द भरे शब्द बाहर आ रहे थे. फिर हम दोनों 69 की पोजीशन में हो लिये और दीदी मेरे लंड को मुंह में लेकर जोर जोर से चूसने लगी. तभी अम्मी जानबूझ कर अपना पेटीकोट और ऊपर करके चुदाई की मुद्रा में लेटी हुई हैं.

हिंदी बीएफ दिखाइए हिंदी बीएफ थोड़ी देर बाद उसको भी मज़ा आने लगा और वह नीचे से अपनी गांड उठा कर चुदने लगी और बोलने लगी- मामा और तेज … और तेज मामा … चोदो मुझे भी, जैसे आप अम्मी को चोद रहे थे, वैसे ही मुझे भी चोदो … मैं भी आपके लंड से चुदना चाहती थी. अब हरी होंठों से लेकर नाभि तक जीभ को घुमाता जा रहा था और सुमन खड़ी हुई मज़े ले रही थी.

पिंकी सेन[emailprotected]कहानी का अगला भाग:गाँव के मुखिया जी की वासना- 9. हल्के काले बालों से ढकी हुई उसकी गुलाबी चुत ऐसे खिल रही थी, जैसे कोई कीचड़ में कमल का फूल हो. फिर वो दिन भी आ गया जब आशीष सर मेरी चूत चोदने के लिए हमारे घर आने वाले थे.

सेक्सी भाभी के सेक्सी फोटो

मेरे लंड पर गोली का असर था इसलिए वो आंटी की गांड में जाकर पूरा फूल गया था. मैंने उससे सेक्स की बात नहीं बोली, बस यही कहा कि उसको कोई और पसंद आ गया था. वो मेरे माल को पी गई और उसका पेट मेरे वीर्य से बिल्कुल चिकना हो गया था.

इससे भाभी सिहर उठीं- राजा स्टॉप इट, इस सबके लिए यह सही समय नहीं है. रुक्मणी- कुणाल क्या देख रहे हो? जल्दी से मेरी सलवार झाड़ो और मुझे पहनाओ.

मेरी सास ने कहा- ज्यादा बकरचोदी मत कर भसोड़ी के, पहले मुझे संतुष्ट कर मादरचोद … मैं भी बहुत बड़ी खिलाड़ी हूँ.

वैसे आज पहली बार मीता को ऐसा महसूस हो रहा था, जैसे वो हवा में उड़ रही हो. वो मुझे चूम कर मेरे ब्लाउज में दो हजार का नोट खौंस कर बोला- अपने लिए हॉट सी ड्रेस खरीद लेना. भाभी चुदासी सी बोल पड़ीं- जब नीचे आग लगी होती है, तो तेज तो होना ही पड़ता है.

अगली बार गीता की कुंवारी चुत के सीलभंग होने की सेक्स कहानी को लिखूंगी. मैं उसकी चूत को चूसने लगा और वो मेरे लंड को मुंह में लेकर चूसने लगी. उन्होंने भाभी को बुला लिया और कमरे को बंद करके टीवी की वॉल्यूम बढ़ा दी.

समय समय पर मैं खुद तुम्हें चोदने आ जाया करूंगा और तुम्हें पूरा मज़ा दूंगा.

प्रीति बीएफ: मेरी माय बॉयफ्रेंड सेक्स स्टोरी के पिछले भागहोली की मस्ती में सेक्स का मजा- 1में आपने पढ़ा था कि मेरा बॉयफ्रेंड मुझे होली खेलने ले जाने के लिए मेरे घर आया था. मैं दीदी की ब्रा और पैंटी लंड पर लगाए अपनी मैडम से सेक्सी बातें कर रहा था.

ये आज पूरी तरह से चुदवाने के मूड में है, तभी इसने इतनी सेक्सी नाइटी पहनी हुई है. फिर ऐसे ही लंड को लगभग पूरा बाहर तक लाकर मैं पूरा अंदर तक घुसाने लगा. मेरे पिताजी ज्यादातर बैंकॉक में रहते हैं। मेरे पिता एक बड़ी मारवाड़ी कंपनी में काम करते हैं.

इसलिए मन ही मन ऊपर वाले से दुआ मांगी कि कुछ ऐसा कर दे कि ये खुद मेरे लंड के नीचे आ जाए.

मैंने और मेरे दोस्त ने नीला की गांड और चूत एक साथ लंड के पानी से भर दी. मैंने भाभी से कहा- मेरा बहुत खड़ा हो गया है, उसका इलाज तो कर दो भाभी. मैं पूर्णतः तृप्त, संतृप्त होकर मौसा जी के बाजू में लेट गयी और उन्होंने भी मुझे अपनी छाती से चिपटा लिया.