हिंदी बीएफ सेक्सी देहाती एचडी

छवि स्रोत,सेक्सी व्हिडिओ चौधरी

तस्वीर का शीर्षक ,

लड़की चोदने वाला: हिंदी बीएफ सेक्सी देहाती एचडी, वो जब भी बच्चे को दूध पिलातीं, तो मैं उनके चूचों से खेलता रहता था। वो भी मुझे प्यार से खुद के चिपका लेती थीं। चाची कहती थीं- मेरा प्यारा बेटा बहुत सुन्दर है.

सेक्सी वीडीये

मैंने अब अपना लंड चुत से बाहर खींचा और दीदी की गांड में डाल कर 8-10 झटकों के साथ गांड को भी चोद दिया. एक्स एक्स ट्रिपल एक्स सेक्सीमेरे लंड में तनाव और बढ़ गया, मेरे मुँह से उईई सीईईईइ निकला और जोर सा झटका लगा.

पूजा थोड़ी हिचकिचाई पर मेरे लम्बे लंड को देखकर उसके मुंह में भी पानी आ गया और वो भी नंगी उठ कर ऋतु के साथ ज़मीन पर घुटनों के बल बैठ गई और दोनों ने एक साथ मेरे लंड को सताना शुरू कर दिया. गंदी गंदी शायरी वीडियोपहले ये बता तेरे पापा कब आते हैं?सुमन- वैसे तो वो 10 बजे आते हैं, कभी लेट भी आये हैं, मगर आज जल्दी आ गए और अर्जेंट में किसी काम से सूरत गए हैं।टीना- गुड… यानि आज मैं तुझे रस चखा सकती हूँ।सुमन- कैसा रस? दीदी मैं कुछ समझी नहीं.

मैं दीदी के होंठ चूमना छोड़ कर बोला- दीदी, आप अपना जीभ बाहर निकालो!सीमा ने तुरंत जीभ बाहर निकाल ली.हिंदी बीएफ सेक्सी देहाती एचडी: मुझे चाची की चुत के रस का टेस्ट अजीब सा लगा, पर जैसे चाची मेरा पी रही थीं.

ये मुझे कैसे मालूम होगा? तो तू ही उसके लिए अच्छे कपड़े पसंद कर दे।गुलशन जी की बात सुनकर एक बार तो सुमन को गुस्सा आया कि उसको तो पहनने नहीं देते और दूसरों के लिए उसी से शॉपिंग करवा रहे हैं। फिर उसने सोचा चलो इसी बहाने वो भी मॉर्डन कपड़े पहन कर देख तो लेगी कि उस पर जमते हैं या नहीं।सुमन- ठीक है पापा.कुछ अजीब लग रहा है।मैंने सुना तो अकचका गया। मुझे लगा जैसे वो जान जाएगी।मैं झट से गुप्ता जी को हटा कर वहां बैठ गया और बोला- कुछ नहीं डार्लिंग, तुम ज्यादा व्याकुल हो ना.

मौसी की सेक्सी वीडियो में - हिंदी बीएफ सेक्सी देहाती एचडी

’‘अरे अभी तो कह रही थी चोद दो!’‘प्लीज़ नहीं, अब और नहीं इतना से ही काम चलाओ… तुम और अंदर डालोगे तो मुझे बहुत दर्द होगा.तुम तो इतनी ब्यूटीफुल हो, लड़के तो तुम्हारे आगे-पीछे लाइन लगा के रहते होंगे।फ्लॉरा- हाँ बट मुझे कोई पसंद नहीं आया।वीरू- कभी सेक्स किया है?फ्लॉरा- वॉट डू यू मीन.

डॉक्टर को भी अच्छा लगा, वह उचक उचक कर मेरे लंड की सवारी करती रही और एक बार और झड़ गई. हिंदी बीएफ सेक्सी देहाती एचडी मैंने कहा- मुझे बहुत मजा आया।तो वो बोला- इससे भी ज्यादा मजा चाहिए?मैंने ‘हाँ’ में सर हिला दिया तो वो बोला- सबसे ज्यादा मज़ा जब आता है जब मज़ा, सजा जैसे मिले।मैंने कहा- क्या मतलब?तो उसने एक जोरदार पंच मेरे बोबे पर मारा.

मोना- अच्छा ऐसी बात है तो उसका बहुत ध्यान रखना पड़ेगा, कहीं गोपाल उसकी चुत ही न फाड़ दे और मेरी मेहनत बेकार चली जाए.

हिंदी बीएफ सेक्सी देहाती एचडी?

कुल मिलाकर वो मस्त माल दिखती हैं।लगभग 3 साल पहले की बात है, सर्दी का मौसम था, मेरे भैया और भाभी में कुछ झगड़ा हो गया था, मेरी भाभी अपने कमरे में सोने नहीं गई। भैया-भाभी छत पर बने कमरे में सोते थे। मैं एक तख्त पर कम्बल ओढ़कर सोया हुआ था। भाभी भी एक कम्बल लेकर आईं और मेरे बगल में सो गईं। हम दोनों अलग-अलग कम्बलों में सोए हुए थे. मैंने भी एक राह चलते अधेड़ उम्र के आदमी से पूछा- अंकल, मुझे रवि के घर जाना है. वो भी सिर्फ़ खानापूर्ति की।मैं- ओह हो तभी तुम इतनी टाइट हो मेरी जान.

ये तो शगुन का लाल रंग है। एक काम कर नीचे जाकर गर्म पानी से चुत को अच्छे से साफ कर ले, आराम मिल जाएगा। उसके बाद दोबारा भी तेरी चुत की ठुकाई करनी है. अब तक की इस हिंदी सेक्स स्टोरी में आपने पढ़ा था कि संजय ने अपनी भांजी पूजा की चुत की सील खोल दी थी और दोनों बिस्तर पर थे।अब आगे. रंडी कहो और अभी चिढ़ रही हो।टीना- अबे वो टाइम बात कुछ और होती है और अभी कोई सुन लेगा तो क्या कहेगा.

बाकी काम मैं जानता था और एक तेज धक्के से मैंने अपना सात इंच लम्बा लंड उसकी गर्म चूत में डाल दिया. नीचे से चूत उछाल उछाल कर मैं भी धक्के लगाने लगी… साथ में मेरे मुंह से आनन्द भरी आवाजे निकलने लगी… हाय. क्या आपको गोपाल ने यहाँ भेजा है या आप गोपाल की कुछ लगती हो?मोना ने दूध खुजाने के बहाने साड़ी का पल्लू हटा दिया जिससे सुधीर को उसके दूध साफ दिखने लगे.

बीच में ही वह मेरे मदनमणि को अपने दांतों से हल्का सा काटती तो मेरी सिसकारी छूट जाती. आ आओ ना प्लीज़!मैंने झट से नीचे होकर चड्डी निकाल दी। उन्होंने मुझे अपनी तरफ खींच लिया और मेरा लंड एक ही बार अपने मुँह के अन्दर लेकर गीला कर दिया। मैंने उनकी साड़ी को घुटनों के ऊपर उठाया और पेंटी के ऊपर से उनकी चुत को चाटने लगा।उन्होंने भी झट से नीचे हाथ लगा कर पेंटी निकाल दी। उनकी चुत से कमरस गिर रहा था। मैं चुत रस को चाटने लगा। आंटी अब बहुत एग्ज़ाइटेड हो गई थीं- प्लीज़ विशाल.

उसने अपने लंड को तेल से भिगो लिया और मेरी बहन की चुत के निशाने पर बैठ गया.

चाची की योनि में से निकले गर्म रस की ऊष्मा मिलते ही मेरे लिंग ने भी वीर्य रस की पिचकारी चला कर दी सात आठ बौछार से ही उनकी योनि को हम दोनों के मिश्रित रस से भर दिया.

मैंने सभी का धन्यवाद स्वीकार किया और कहा- यह क्या बड़ी बात है, अब पड़ोसी होने के नाते इतना तो कर सकता हूँ. 5 मिनट के बाद आंटी झड़ गयी और पूरा पानी मेरे मुख पर छोड़ दिया, मैं सारा पानी चाट गया. मैंने मौका देखा और बाल्कोनी के दरवाजे पर गई और अपने सीधे हाथ से उसके लंड को रगड़ मार के निकलने लगी.

कभी उलाहना भी देने लगती कि मुझसे दिल भर गया ना आपका; और कोई मिल गई होगीकमसिन कच्ची कली… उसी से खेल रहे होगे आप, तभी तो अब मेरी परवाह नहीं करते आप… इस तरह वो इमोशनल बातें करती रहती. ऐसा लगता है आज नींद पूरी हो गई, तभी आँख खुल गई और ये दीदी कौन है?टीना- हा हा हा देखा सुमन. फूफा जी भी पलटी मार के मेरे ऊपर आ गये…मैंने अपना चेहरा अपने बालों से ढक लिया था कि अगर फूफा जी की आँख खुल भी जाए तो वो मुझे पहचान नहीं पाएँ!फूफा जी के ऊपर आते ही मैंने अपनी दोनों टांगें ऊपर को उठा कर उनका लंड अपनी चूत में डाल लिया.

शुरू में तो उसने ना ना की लेकिन मैंने प्यार से लंड पर उसी के हाथों शहद लगवाया फिर उसे लंड से शहद चटवाया; इस तरह उसकी लंड मुंह में लेने की झिझक मैंने दूर की.

उसका पति किसी कंपनी में मार्केटिंग में था तो ऋषिका को अकेले रहने की आदत सी थी. एक दिन मैं बाजार कुछ सब्जी वगैरह लेने गया था तब वहाँ मुझे मेडम मिलीं. मैं जल्द ही इस वृत्तांत को आपके समक्ष प्रस्तुत करने की चेष्टा करूँगा.

ओह डार्लिंग आओ… जल्दी आओ तुम्हारे लंड में खुजली हो रही होगी… मैं भी तैयार हूँ. चूत के भूखे… बहन के लौड़े… माँ के लौड़े…आप खुद सुन कर मजा लें!अन्तर्वासना ऑडियो सेक्स स्टोरीज सुनने के लिए सबसे अच्छाब्राउज़र क्रोम Chrome है. सुमित ने मुझसे पूछा- क्या कहता है, शुरू करें?मैं पीछे को देखने लगा, सुमित गाड़ी से उतरा और पीछे जा कर कीकू के पास बैठ गया.

जिसमें किसी और के वीर्य से तुमको बच्चा हो सकता है।दीदी ने मुझे कसम खिलाई कि ये बात किसी को नहीं बताना।मैंने उससे अगले दिन फिर से डॉक्टर के पास चलने को बोला.

स्नेहा के मुंह से भी आनन्दभरी किलकारी निकल गई और उसकी उंगलियाँ मेरे सीने में धंस गईं. अब दोनों के लंड के टोपे एक साथ मेरी गांड के छेद पर लगे थे और संदीप ने कहा- चोद साले को!यह कहते ही दोनों ने अपने लंड मेरी गांड में अंदर घुसाने शुरु कर दिए.

हिंदी बीएफ सेक्सी देहाती एचडी मैं पहले एक बिना आर्म वाली चेयर पर बैठ गया और डॉक्टर को अपने लंड पर बैठा लिया. इस नज़ारे ने मेरे अंदर तूफान सा ला दिया, मैं बेशर्मों की तरह उनका खेल देखने लगा.

हिंदी बीएफ सेक्सी देहाती एचडी कितनी कोशिश कर ली, नींद आ ही नहीं रही है, बदन में जगह-जगह खुजली सी हो रही है, पता नहीं क्यों?टीना- ऐसा क्या हो गया तुझे. उसके बाद नींद मुझसे कोसों दूर हो जाती है। अगर आपको नींद आ रही है तो आप सो सकते हैं मैं यहीं ठीक हूँ।मैंने कहा- नहीं, मुझे भी नींद नहीं आ रही है.

ऋतु अपने एक हाथ से पूजा की चूत का दाना मसल रही थी और मैं पूजा की रसीली चूत को साफ़ करने में लग गया.

বাংলাদেশের এটেল ভিডিও

बात जनवरी 2011 की है, मैंने अपने जीवन की प्रथम हवाई यात्रा की गोवा से इंदौर, इंदौर पहुँचते ही मेरी एक अजीज मित्र अक्षिमा मुझे लेने इंदौर हवाई अड्डे पर आई. अब मैं पीछे से साइड में हो गया और एक हाथ से कोमल के कंधों और पीठ की मालिश करने लगा और दूसरे हाथ से ढेर सारा तेल कोमल के चूतड़ों पर डाला और एक हाथ से कोमल की गान्ड के छेद तक तेल रगड़ने लगा और दूसरे हाथ से उसकी पीठ पर… फिर मैं तेल कोमल की गान्ड के छेद पर गिरा कर उंगली से अंदर करने लगा. दोनों मस्ती में होने लगे… वो चुसवाने की और मैं चूसने की!5-7 मिनट तक उसके लंड को मैंने खूब चूसा, कभी उसके आँडों को और कभी उसकी झाटों को… लेकिन वो था कि झड़ने का नाम ही नहीं ले रहा था.

खैर, मैंने उनकी टाँगें नीचे उतारी और टांगों को चौड़ा करके चोदने लगा और एक बार फिर जबरदस्त चुदाई करने लगा. मैंने कहा- अम्मा, मैं तुम्हारी समस्या को समझता हूँ लेकिन मैं इस बारे में तुम्हारी क्या मदद कर सकता हूँ?अम्मा तुरंत बोली- साहिब आप ही तो सब से अधिक सहायता कर सकते हो. तभी अरमान कहने लगा- यार, क्यों न इस बार कुछ अलग किया जाये!मैंने कहा- अलग मतलब?वो बोला- अलग मतलब कुछ ऐसा करें जिस से हम सभी को अच्छा मज़ा भी आए और हमारी तीनों हिरोइनें भी खुश हो जाएँ!तो मनोज कहने लगा- यार ऐसा करो, ऐसे कल्पना से कुछ नहीं होने वाला, जब करेंगे, जैसे जैसे कंफर्टेबल होता जायेगा करते जायेंगे!मैंने मनोज की इस बात पर ही हामी भर दी.

सिर्फ़ दिक्कत अगर होती है भी तो सिर्फ़ प्राइवेसी और सेक्यूरिटी को लेकर ही होती है वरना कोई परेशानी नहीं होती.

मुझे दर्द तो हो रहा था मगर मजा भी आ रहा था।भैया ने अब अपनी स्पीड बढ़ा दी और अपने लंड को जोर-जोर से और जल्दी-जल्दी अन्दर-बाहर करने लगे। अब मुझे भी मजा आने लगा।थोड़ी देर बाद भैया बोले- प्रमिला मेरे लंड का रस निकलने वाला है. उसकी ओर देखते हुए मैंने मुड़ कर अपने शरीर की दिशा को उसकी तरफ कर दिया ताकि वह मेरे तने हुए लिंग को भी अच्छी तरह से देख ले. तो मैंने थोड़ी देर में हाथ भी रख दिया और दबा भी दिया।इस बार उन्होंने थोड़ा सा आह किया और मुझे किस करके खुद से और ज्यादा जोर से चिपका लिया।मैं ऐसे ही पूरी रात उनके चूचों पे हाथ रखके सोता रहा.

30 ही बजे थे, आधा घंटा और वेट करना था इसलिए सब लोग यहाँ वहाँ देखकर टाइम पास कर रहे थे, कोई अपने फोन में मूवी देख रहा था, कोई आईसक्रीम खा रहा था और कोई पानी पीने या पेशाब करने बाहर जा रहा था. कल ही पापा ने हमारे पुराने घर की चाभी मुझे दी और कहा है कि उसकी सफ़ाई करवा दूँ, उसका मेंटीनेंस करवा कर वो उसको माल का गोदाम बनाएँगे।वीरू- वाउ यार. मैं तैयार हूँ अब इस रिश्ते की शुरूआत अभी करोगे या रात को?अनिता की बात सुनकर गुलशन जी खुश हो गए और उसे गले से लगा लिया.

वैसे आज तो कोमल ने अपनी चूत और गान्ड में एक साथ लंड लेकर चुदवाई जैसे पोर्न मूवी में लड़कियां चुद वाती हैं। तुम चाहो तो हम सभी स्काइप पर ग्रुप चुदाई कर सकते हैं, राजेश कोमल की चूत चूस रहा है और कोमल हम दोनों के लंड चूस रही है।रफीक बोला- सच में? यार भाई रुको, मैं अपना लेपटोप ओन करता हूँ. तब कहीं जाकर संजय ने उसकी गांड में पानी की धार मारी और इधर वीरू के लंड ने उसके मुँह को रस से भर दिया था।उधर टीना ये सब अपने फ़ोन में रिकॉर्ड कर रही थी। हालांकि उसकी चुत भी जलने लगी थी.

मगर गोल-गोल संतरे जैसे थे और उन पे छोटे से निपल्स बड़े लुभावने लग रहे थे. कभी कभी मेरे निप्पल को काट लेता और मैं दर्द के मरे सिहर सी जाती मगर मुझे मजा भी आ रहा था।धीरे धीरे वो निचे की तरफ चला गया और मेरी चूत को चाटने लगा. मैंने रश्मि के दोनों चूतड़ों को पकड़ कर अपनी तरफ दबा लिया जिससे लंड एक झटके से चूत के अंदर समा गया.

वो देखने में बिल्कुल सीधी-साधी लगती थी पर उसके नैन नक्श बहुत तीखे थे.

’वो ऐसे बड़बड़ा रही थी, इससे मेरा जोश बढ़ रहा था। मेरा लंड वापस पूरा तन चुका था। मैं चूमते हुए उसकी नाभि पर रुक गया और उसके इर्द-गिर्द चाटने लगा। प्रिया को जैसे होश ही ना रहा. और मुझसे पूछा- कल कहाँ खोए हुए थे?तो मैंने डरते हुए कहा- मेरी नजर गलत जगह चली गई थी, सॉरी!तो वो बोली- गलत जगह कहाँ?मैंने कहा- आप पर! वो आप पूरी गीली हो गईं थीं तो कुछ थोड़ा ज्यादा ही…तो उन्होंने कहा- इसमें कोई गलत नहीं है. मैंने वक़्त की नजाकत को समझते हुए, नताशा को अपने हाथों से अपनी नितम्बों को फैला लेने का इशारा किया, तो हिरोइन ने इशारे को सही समझते हुए सफलतापूर्वक अपने पैरों को थोड़ा और चौड़ा कर लिया.

तो यह कहानी शुरू होती है मेरी स्कूल लाइफ से… कहानी मेरी और मेरे दोस्त की फ्रेंड की है. मामा ने लंड को चूत में घुसा छोड़ दिया और मेरी दोनों चूचियों के निप्पल को पीछे से सहलाने लगे, मेरी चुची में एक तरंग सी दौड़ने लगी जिससे मेरी चूत का दर्द धीरे धीरे कम होने लगा.

ऑफिस की छुट्टी होने के कारण मैं पूरा दिन घर पर आराम करता रहा और माला दिन भर रोजाना की तरह घर के काम में व्यस्त रही. तभी मामी जाग गई और मुझसे पूछा- तुम क्या कर रहे हो?मैंने जल्दी से उनके होंठों पर किस करना शुरू किया. ये दीदी बहुत अच्छी हैं तेरा बहुत ख्याल रखेगी, बस तू इनकी सब बातें मानती रहना और तुझे पैसे भी बहुत मिलेंगे.

देहाती बीएफ वीडियोस

जिस पर कुछ दाल गिर गई थी।अंकल के छूने मात्र से मेरी बुर की खुजली बढ़ने लगी। मैं देख रही थी वो मेरे मम्मों को दबा रहे थे।कुछ पल बाद मैं अन्दर जा कर उनके लिए थाली में भोजन लगा लाई और अभी थाली को टेबल पर रखा ही था कि बिजली चली गई।‘सत्यानाश हो इस बिजली का.

दिव्या चुपचाप मेरे पास आई और उसने मुझे गले से लगा लिया और मेरे होंठों को एक प्यारा सा किस करते हुए कहा- आई लव यू राज!मैं तो सोच भी नहीं सकता था कि आज ऐसा होगा. सबीना मुझे कल रुकने का वादा लेकर चली गई, वो उसी सोसायटी में दूसरे ब्लॉक में रहती थी, उसका पति दुबई में काम करता था जो 6 महीने में एक बार आता था. मेरा इशारा समझ कर माला मेरी कमर के दोनों ओर टांगें कर के नीचे हुई और मेरे लिंग को हाथ से पकड़ कर अपनी योनि के मुंह की सीध में कर के उस पर बैठ धीरे से दबाव दिया.

मेरी चूत में बिल्कुल जगह नहीं थी फिर भी वो मेरी चूत में अपना लंड घुसाने में तुला हुआ था. गुलशन- सुनो अनिता, मैं कल सुबह 11 बजे आऊंगा, तब तक तुम अपना फैसला मुझे बता देना. साउथ अफ्रीका वीडियो सेक्सीआपको मेरी हेल्प करनी होगी अगर गोपाल को बचाना हो तो!सुधीर- अब सब्र का बाँध टूट रहा है.

वह एक छोटा सा गाँव था… जब मैंने गाँव के बाहर से उसे कॉल किया कि मैं तेरे गाँव आ गया हूँ. तब मेरा एक हाथ उसकी चूची पर आ गया था, एकदम नरम और ऐसी कि हथेली में समा ही नहीं रही थी.

जिसको अपना साइज़ तक पता ना हो, अगर वो अपने मन से खुलकर सेक्स करें तो बड़ी-बड़ी रंडियों को पीछे छोड़ देगी. बस फिर क्या था उसका मूड खराब हो गया।सुमन- बस बहुत ले लिया, अब चलो यहाँ से चलते हैं. यह ऑडियो दो लड़कियों का है जो आजकल के लड़कों, बॉयफ्रेंड के बारे में अपने विचार बता रही हैं.

मेरा तो पहले ही बुरा हाल हो रहा था और उसकी कामुक सिसकारियाँ और गर्म साँसें मुझे और भी उत्तेजित कर रही थीं. इस काम में लड़कियों को उम्रदराज लोगों की यौन आवश्यकताओं को पूरा करना होता था और बदले में भरपूर पैसा मिलता था. इसलिए ये बात आप ना ही पूछो तो अच्छा होगा।काका- अरे ऐसे कैसे ना पूछू.

नीचे से चंगेज़ हौले-2 अपने लंड को जड़ तक गांड में चढ़ाता जा रहा था, तो ऊपर से रुस्लान छोटी सी झिर्री को चौड़ा – और – चौड़ा करते हुए अपने विकराल लंड को आधे से अधिक गांड में पेलने लगा था और मेरी पत्नी मेरी तरफ देखते हुए शानदार मुस्कराहट के साथ दो भारी-भरकम लंड अपनी गांड में पिलवाते हुए गर्व का अनुभव कर रही थी.

मैंने उनको तेल डालने को कहा तो उन्होंने मुझे तेल लाकर दे दिया, मैंने तेल को धीरे धीरे उनकी पीठ पर फैलाना शुरू किया. लेकिन हमने कुछ गलत नहीं किया है, शायद हमने एक दूसरे को और अच्छे तरीके से समझा लिया है। आप सच में बहुत अच्छे हैं, आज तक मैं जिस भी आदमी से मिली वो बस मुझे नोचना, खाना या अपने वासना का शिकार ही बनाना चाहते था, लेकिन आज से पहले मैंने आपके साथ पूरी रात बिताई, आपके साथ घूमने भी गई, मूवी भी देखी लेकिन आपने एक बार भी मुझे छुआ नहीं और मैं आपके साथ एक दो दिन में ही सुरक्षित महसूस करने लगी.

अक्सर सोचता हूँ, कोई लड़की मिले जिसे मैं चोद सकूँ, मगर ऐसा कोई मौका नहीं मिल रहा था. वैसे मैं एक बार झड़ चुकी थी, पर मैं दूसरी बार फिर उनके साथ अकड़ने और बड़बड़ाने लगी, शरीर में कंपन हो रहा था और गति किसी मशीन की तरह हो चुकी थी।‘ओहह आहहह क्या चूत है यार. मैंने उन सब प्रश्नों का उत्तर दे कर जब उनसे उनकी खैर खबर पूछी तब रुआंसी हो कर बोली- मुझे तीन माह तक आनन्द और संतुष्टि देकर तरसने के लिए छोड़ कर चले गए हो और अब पूछ रहे हो कि मैं कैसी हूँ.

चारू ने अपना लंड एक लय से पेलना शुरू किया और समान धीमी गति से लंड जड़ तक पेला. मेरी तो लॉटरी निकल गयी मानो… मैं भावना के पास गया और देखा तो वो गहरी नींद सो रही थी, मैंने हिम्मत करके उनके बूब्स को टच किया, उन्होंने कुछ किया नहीं. घर में कोई नहीं था, मेरा दोस्त कुछ काम के सिलसिले में पास के एक शहर में गया था.

हिंदी बीएफ सेक्सी देहाती एचडी अगले ही पल वो भी टांग घुमाता हुआ बाइक से नीचे था और उसकी जिप के बीच में से उसके काले से मोटे सांप जैसे लंड का तना हुआ डंडा चांद की चांदनी में बाइक की टंकी से से टकरा रहा था. हम साथ साथ एक ही क्लास में पढ़ते थे और एग्जाम टाइम में उसके घर ही पूरी रात रहता था.

हिंदी बीएफ एचडी फुल

मैं भाभी के सामने अपने दोनों पैरों को पूरा फैलाकर खड़ी हुई थी और वो अब नीचे बैठकर मेरी चूत के बाल बहुत प्यार से कपड़े से साफ कर रही थी।इस बीच उन्होंने मुझे खुलकर लंड और चूत की चुदाई की मजेदार बातें बताई, जिनको सुनकर मैं बहुत उत्तेजित हो गई थी और फिर मैंने उनसे भी पूरा नंगी होने के लिए बोला तो उन्होंने भी तुंरत खड़ी होकर अपनी पेंटी और ब्रा को उतार दिया. मम्मी ने मेरा गठीला शरीर देखा और बोली- ऐसे क्यों घूम रहे हो?तो मैंने कहा- मम्मी, अपने रूम में कसरत कर रहा था. तब तक तुम मेरे लिए चाय लेकर आओ।मोना चाय बनाने चली गई और काका पुराने ख्यालों में खो गया।ये दोनों कुछ सोचें.

अब मैंने देखा कि चाची कुछ नहीं बोली तो मेरी हिम्मत और बढ़ गई, मेरा लंड टाईट हो गया था, मैं उसे चाची के हाथ के पास सटा कर चाची की चूची को दबाने लगा. इसको तू चाहे तो फ्लॉरा की तरह कब का तैयार करके चोद सकता है, मगर तूने ये टास्क-वास्क का क्या नया चक्कर चलाया. गर्ल्स मोबाइल नंबरअब जमीला भी गर्म हो रही थी तो मैंने रफीक की गांड से मस्ताना निकाला और रफीक को बेड पर एक पलटी मारने को कहा तो दोनों ने पलटी मारी, अब रफीक नीचे और जमीला ऊपर आ गई और अब मैंने जमीला को कंडोम पैकेट पकड़ा कर कंडोम बदलवाया.

आजा मेरी रानी आ जा!राधा शुरू से ही काका को काका बापू कहती थी, मगर आज उसे काका में एक मर्द नज़र आ रहा था। उसने मन में कहा कि आज से आप काका बापू नहीं.

लेकिन हर एक नई चुदाई का अपना एक अलग मज़ा होता है। आज मैं आपको बताउंगी कि मैंने कैसे अपने देवर से चुदवाया।वैसे देवर भाभी का रिश्ता तो बहुत प्यारा होता है। अगर साली आधी घरवाली हो सकती है. अब उस दूध वाले की और उसके दोस्त के साथ तबेले में रंगरेलियां कैसे मनाईं.

चाची की योनि में से निकले गर्म रस की ऊष्मा मिलते ही मेरे लिंग ने भी वीर्य रस की पिचकारी चला कर दी सात आठ बौछार से ही उनकी योनि को हम दोनों के मिश्रित रस से भर दिया. वो जब भी हमारे घर आते तो अक्सर मुझे घूर घूर के देखते, कभी मेरी बड़ी सी मटक मटक कर चलती गांड को और कभी मेरे डीप गले से बाहर आते चुचों को. तो मेरी दोनों सालियां बैठ कर टीवी देख रही थीं। फिर हम तीनों ने बाहर जाकर चिकन तंदूरी और रूमाली रोटी खाई और वापस आ गए। मेरी बड़ी साली सोने चली गईं और छोटी साली जो 18 साल की है.

आजा मेरी रानी आ जा!राधा शुरू से ही काका को काका बापू कहती थी, मगर आज उसे काका में एक मर्द नज़र आ रहा था। उसने मन में कहा कि आज से आप काका बापू नहीं.

हर तरफ चुदाई का आलम था… तीनों जोड़े सिसकारियाँ निकालते हुए शानदारग्रुप सेक्स का मजाले रहे थे. आ आओ ना प्लीज़!मैंने झट से नीचे होकर चड्डी निकाल दी। उन्होंने मुझे अपनी तरफ खींच लिया और मेरा लंड एक ही बार अपने मुँह के अन्दर लेकर गीला कर दिया। मैंने उनकी साड़ी को घुटनों के ऊपर उठाया और पेंटी के ऊपर से उनकी चुत को चाटने लगा।उन्होंने भी झट से नीचे हाथ लगा कर पेंटी निकाल दी। उनकी चुत से कमरस गिर रहा था। मैं चुत रस को चाटने लगा। आंटी अब बहुत एग्ज़ाइटेड हो गई थीं- प्लीज़ विशाल. चाची कुछ नहीं बोली तो मेरी हिम्मत और बढ़ गई, मैं धीरे धीरे उनके मम्मे सहला रहा था, मैं दीवाना सा हो गया और मदहोश हो गया.

साड़ी वाली भाभी की सेक्सी चुदाई वीडियोमैंने ‘हाँ’ कह दिया तो ऋतु ने मुस्कुराते हुए कहा- तो ठीक है… फिर शुरू हो जाओ. मैं उसके हाथ को पकड़ा बोला- कोई बात नही आंटी, एक बार आप हाँ करो! देखो मैं पांच सौ रूपया दूँगा!मैं पांच सौ का नोट निकाल कर उसे दिखाते हुए बोला.

मारवाड़ी छोरियों की सेक्सी

उसने हां में सर हिलाया तो मैं बोली- मंज़ूर… अगली शर्त बोलिये?राजे- बोलिये नहीं बोल कह कुतिया. मेरा लंड ये सब देखकर दो मिनट के अन्दर ही अपनी चरम सीमा तक पहुँच गया और उसमें से मेरे वीर्य की पिचकारी निकल कर ऋतु के माथे से टकराई. मेरा ये सब करने का अब बिल्कुल मूड नहीं है और मुझे अभी बॉस के घर जाना होगा, कुछ दिनों की छुट्टी लेनी होगी।मोना- गोपाल तुम ये कैसी बातें कर रहे हो.

मुझे दर्द तो हो रहा था मगर मजा भी आ रहा था।भैया ने अब अपनी स्पीड बढ़ा दी और अपने लंड को जोर-जोर से और जल्दी-जल्दी अन्दर-बाहर करने लगे। अब मुझे भी मजा आने लगा।थोड़ी देर बाद भैया बोले- प्रमिला मेरे लंड का रस निकलने वाला है. ’ वो मेरे ऊपर लेट गई और मुझे अपने पैरों और हाथों से जकड़ लिया और धीमे से मेरे कान में फुसफुसा कर बोली- अंकल जी, मेरी चूत चाटो न फिर से!‘देखो स्नेहा. टीना ने उस रात की सारी घटना संजय को बताई कि कैसे उसने भिखारी के पजामे में रिंग डाली थी, फिर मॉंटी वाली बात भी बताई.

मैं उसे खींच कर दवाई की पेटियों की आड़ में ले गया और उसे पूरी नंगी कर दिया. अब तक आपने इस ससुर बहु सेक्स की कहानी में पढ़ा कि मोना ने राजू का मरियल लंड ये सोच कर चूसा था कि उसकी चुत की खाज किसी तरह मिट जाएगी. इतनी देर से चल रहे फोरप्ले से मेरा हाल पहले से टाइट था और अब तो जैसे मैं जन्नत में था.

उसके बाद मैंने अपनी झांटों को कैंची से कुतर कर नाखून जितना कर लिया. उस रात दस बजे जब हम सब घर पहुंचे, तब दोनों चाचा ने मम्मी पापा से कहा- भईया भाभी, सब काम तो ठीक से निपट गया है, अब हम चलते हैं, एक घंटे में वापिस गाँव पहुँच जायेंगे.

मैंने उनके कान में कहा- मैं तुम्हारी जरूरत पूरी कर दूँ?वो मुस्कुराई और बोली- हाँ?मैंने कहा- मेरे रूम में चलना पड़ेगा.

मैं वहाँ से उठी और सीधा सोफे पे पीटर के दोनों तरफ पैर करके बैठी और अपने हाथ से उसका मूसल अपनी चुत में डलवा लिया. काजल राघवानी का सेक्सी डांसमैं तो इसी मौके के इंतज़ार में था, मैंने झट से अपना हाथ उसकी दोनों जाँघों के बीच घुसा दिया, उसे शायद इस बात का अहसास हो गया था इसलिए फिर से अपनी टांगों को सिकोड़ने की कोशिश की… लेकिन अब बहुत देर हो चुकी थी… सेंध लग चुकी थी. इंडियन सेक्सी पोर्न फिल्ममैं कॉमर्स का छात्र हूँ और कॉलेज हॉस्टल में रहता हूँ जो दूसरे शहर में है. मगर चड्डी नहीं होगी तो आपके कपड़े गंदे होंगे ना?संजय- अरे मेरे होंगे तो होने दे.

दिख नहीं रहे?शारदा- क्या बताऊं आज पूजा स्कूल में गिर गई तो आरती उसके पास है।संजय- क्या कैसे गिर गई ज़्यादा चोट तो नहीं लगी ना उसको?दोस्तो, आप मुझे मेरी इस सेक्स स्टोरी पर संयमित भाषा में ही कमेंट्स करें.

महफिल अक्सर मेरे घर या मनोज के घर ही जमती है क्योंकि हमारे घर काफी खुले हैं और यहाँ किसी की डिस्टर्बेंस भी नहीं है. फिर एक दिन मैंने देखा कि तमन्ना के परिवार वाले कहीं जा रहे थे, उनके जाते ही मैंने झट से उसको मेसेज किया- क्या कर रही हो?वो बोली- कुछ भी नहीं… फ्री हूँ!मैंने सोचा कि क्यों ना इसको आज चोदने की कोशिश की जाए. दीदी अपने आपको छुड़ाने के लिए मुझे धक्का देने लगीं, पर मैंने उन्हें कसके पकड़ा हुआ था.

एक दिन मेरे अंकल की चुनावी ड्यूटी लग गई और आंटी मामा के यहाँ गई हुई थीं, उधर कोई बीमार था. मैंने पूछा- वो कौन है आपका?वो बोली- बेटा है मेरा!जब वह बोल रही थी तो उसका पल्लू उसके कंधे से सरक कर नीचे गिर गया तो मेरी नज़र उसकी चूचियों पर जा टिकी. मैंने कहा- मेरा निकलने वाला है।उसने कहा- मुँह में निकाल दो।मैंने अपना सारा माल उसके मुँह में डाल दिया.

डॉक्टर और नर्स का सेक्सी वीडियो

नीतू ने जैसे ही हाथ ऊपर किया, उसका हाथ सीधे खड़े लंड से टच हुआ और उसने जल्दी से हाथ बाहर खींच लिया. हालांकि उसका फोन नएम्बार मेरे पास था लेकिन मैंने उसे फोन करना ठीक नहीं समझा. यह सुनते ही रफीक ने पीछे मुड़कर देखा तो सबीना नंगी खड़ी है, उसकी चिकनी चूत बिना बालों के चमक रही है और उसके बड़े मम्मे कड़क हो रहे हैं.

यह सब कैसे संभव हुआ वह मोना रानी अपने ही शब्दों में बयान कर रही है.

‘साले, आज तेरी लंड चूसने की प्यास अच्छी तरह बुझाऊँगा मैं…’ कहते हुए उसने अपना लंड चुसवाना शुरु कर दिया और स्पीड तेज होने लगी, उसके दोनों हाथ मेरे सिर के पिछले हिस्से पर कस गए और वो अपनी गांड आगे की तरफ धकेलता हुआ पूरा लंड गले में फंसाने लगा, उसके अंडरवियर का कट मरे होठों में आकर लग रहा था- चूस साले… बहनचोद!उसकी स्पीड और तेज़ हो गई और लंड का तनाव अपने चर्म पर पहुंच गया.

इधर रिया ने मुझे इस तरह लिटाया कि पीटर हमें पूरा देख सके और बिना कोई वार्निंग दिए उसने मेरा निप्पल मुँह में ले लिया. कभी लंड को बाहर निकाल कर मेरे मुँह में दे देता। क्या बताऊं दोस्तो मुझे भी बहुत मज़ा आ रहा था।अपना लंड जब मेरी चूत से निकाल कर वो मेरे मुँह डालता. माता जी के गाने लिखे हुएउसके बाद जितना मर्ज़ी मज़े ले लेना।गोपाल कुछ बोलता या करता, तभी उसके फ़ोन की रिंग कमरे में गूंजने लग गई.

लेकिन थोड़ी देर बाद भैया न समझा कि मैं सो चुकी हूँ तो वो मेरे पेट को सहलाने लगे।मुझे उस टाइम अजीब सी फीलिंग होने लगी, लेकिन मैंने उन्हें कुछ नहीं कहा।फिर थोड़ी देर बाद उन्होंने अपना एक हाथ मेरे चूचे पर रखा और दबाने लगे। मुझे ये अच्छा तो लग रहा था लेकिन डर भी लग रहा था। मैंने सोचा इससे अगर ज़्यादा हुआ तो में भैया का विरोध करूँगी।जबकि हुआ इसका उल्टा, उनके चूचे सहलाने से मैं मस्ती में आ गई. कोई बंदर मोहल्ले में उसकी चाय की दुकान है।मोना- हा हा हा बंदर नहीं काका बांद्रा एक एरिया का नाम है. ’‘अरे नहीं… मौका तो मैं भी ढूंढ रही थी… मैंने तो दरवाजे के छेद से देखा था… तो सोचा कि अन्दर घुस जाऊँ… पर तुम्हें नंगा देख कर डर गई.

अब तक की इस नोनवेज स्टोरी में आपने पढ़ा था कि पूजा अपने मामू संजय के लंड से मस्ती से चुदाई करवा रही थी. मैंने समय न जाया करते हुए मानसी को अपने बाहुपोश में कुछ ऐसा जकड़ा कि हम एक दूसरे के बदन के ताप को महसूस कर सकते थे.

आपको कुछ तो लेना ही पड़ेगा।सुधीर के मन में तो था कि मोना के रसीले होंठों को पी जाए.

सोहन भैया ने अपने घर के पता दिया और उनके घर के पते पर पहुँचा तो भाभी ने दरवाजा खोला. मैंने पूछा तो वो बोली- तेरे सर में इतनी ताकत नहीं है कि वो रास्ता बना सकें!मुझे थोड़ी हंसी आई तो उन्हें थोड़ा दर्द हुआ और पूरा लंड उनकी चूत में…मुझे थोड़ा सुकून मिला दर्द से और उनके थोड़े आंसू…थोड़ी देर बाद सब सामान्य हुआ तो फिर चलाई मैंने असली चुदाई, दे दनादन दे दनादन… लगभग 20 मिनट के बाद वो और फिर मैं एक के बाद एक अंदर ही झड़ गए. डिल्डो अभी भी पूजा की बुर में धंसा हुआ था और पूजा का रस बुर में से रिस रहा था.

शेर और चीते की लड़ाई कोई बड़ी बात भी नहीं है।मोना- आप देखोगे या ये भी मुझे करना होगा?गोपाल- अरे नहीं नहीं. फिर उन्होंने मेरे लंड को पकड़ कर कहा- अशोक, अब मत तड़पा, जल्दी से घुसा दे, अपने मोटा लंड मेरी चूत में.

मैंने अपनी स्पीड बढ़ा दी और जब मैं झड़ने वाला था तो थोड़ा सा घूम कर अलमारी की तरफ हो गया और खड़े होकर अपनी धारें मारनी शुरू कर दी. आ पूरा मज़ा लेकर ही झड़ेगा।इधर काका के संग मोना की चुदाई चल रही है इसका आगे भी मजा लेते रहेंगे।मेरी इस ससुर बहु सेक्स की कहानी पर आप अपने मेल लिखिएगा।[emailprotected]कहानी जारी है. बेल की आवाज सुनकर मैं सिर्फ अपनी शोर्ट्स जल्दी से पहन कर नीचे आया और दरवाजा खोला.

बीएफ सेक्सी एचडी मूवी

कभी बाल धोने के बहाने कुर्ती को गीली कर के मुझे अपनी चूची के दर्शन कराती थी. अक्षिमा इंदौर के एक कॉलेज से MCA कर रही थी और वो कॉलेज शहर से तक़रीबन 10 किमी दूर था. अजय के साथ सभी हंसने लगे और फ्लॉरा तो कुछ ज़्यादा ही हंस रही थी।टीना- चुप करो सालों.

हम दोनों ने 15 मिनट तक चुदाई का मजा लिया और शालू झड़ कर मेरे ऊपर ही ढेर हो गई. तब चाची मेरे ऊपर आ गई और मेरे लिंग को अपनी योनि के अंदर डाल कर उछल उछल कर संसर्ग करने लगी.

मैं तो सीधा स्वर्ग में ही पहुँच गया… मैंने कहा- ये तो और भी अच्छा है.

मेरी बात सुन कर वह उठते हुए बोली- हाँ, यह ठीक रहेगा सभी समझेंगे कि तुम अपने कमरे में सो रहे हो. उसमें एक नंगा लड़का नंगी लड़की के बूब्स चूस रहा था और ज़ोर ज़ोर से दबा भी रहा था, फिर वो नंगा लड़का उसनंगी लड़की की चूतमें अपना लंड डालकर ज़ोर ज़ोर से चोदने लगा. दोस्तो, यह मेरी सच्ची चोद चुदाई कहानी है, कैसी लगी, मुझे मेल करें![emailprotected].

पसीने की बहती हुई धारें उनकी छाती से शुरु होकर उनके पेट से होते हुए नीचे लोअर की इलास्टिक को भिगा रहे थे. रात को 9 बजे हम दोनों गाड़ी ले कर घर से निकले और बजाए पीवीआर जाने के हम एक रेस्तरां के बाहर जा रुके. लगभग बीस मिनट तक लगातार धक्के लगता हुआ अपने लिंग को उनकी योनि के अन्दर बाहर करने के बाद मैंने उसे बाहर निकाल लिया और सीधा हो कर बिस्तर पर लेट गया.

कभी मारी नहीं क्या?मैंने ‘ना’ बोला तो बोला- आज शाम को ग्राउंड में आना.

हिंदी बीएफ सेक्सी देहाती एचडी: पर आप मर्यादित भाषा में ही कमेंट्स करें।[emailprotected]मामाभानजी की चुदाईहोगी या नहीं, कहानी के अगले भाग में पढ़ें!. यही सोचकर सबने फ्लॉरा की चुत बख्श दी। उसके बाद सबने एक राउंड बियर का लगाया और अपने-अपने घर चले गए। इधर संजय ने टीना और फ्लॉरा को घर छोड़ा और फिर अपने घर वापस आ गया।दोस्तो, वैसे तो संजय अक्सर बियर पीकर जाता था मगर तब तक सब सो चुके होते थे.

अब उसे भी मज़ा आ रहा था।कुछ देर के धक्कों के बाद वो झड़ गई और उसकी चूत रस से गीली हो गई। अब मैंने उसे चोदने की स्पीड बढ़ा दी और उसके झड़ने के कुछ मिनट बाद मैं भी झड़ने लगा।मैंने उससे पूछा- मेरा निकालने वाला है. मेरे लंड को देखते ही वो बोली- इतना लम्बा और मोटा? मुझसे नहीं होगा! अरे बाप रे… इतना बड़ा है. ऋतु- अरे कोशिश तो करते हैं ना… वो या तो हाँ करेगा या ना… और वो ये बात मोम डैड को भी नहीं बता पायेगा क्योंकि उसे ये बातें उन्हें बताने में बड़ी शर्म आएगी… मैं तो यह सोच रही हूँ कि उसको क्या देना पड़ेगा ये सब करवाने के लिए?पूजा- क्या मतलब?ऋतु- मतलब कि वो शायद कर सकता है अगर बदले में हम उसे कुछ ऐसा दें जिसकी उसे जरूरत है.

नौकरानी- तो क्या हुआ… मैं हूँ तो एक औरत ही ना… और औरत को भी तो तन की भूख लगती है, मुझे अपनी भूख मिटानी है बस!मैं- अरे… तो आपके पति?नौकरानी- वो साला गांडू निकला, उसे मर्द पसंद आते हैं, वो बस हिजड़ों के बीच में घूमता है!मैं- तो आपको चोदता कौन है?नौकरानी- तुम जैसे नए लड़के जिनको चूत चाहिए होती है.

सुमन- दीदी प्लीज़ बताओ ना आप पहली बार संजय सर से कैसे चुदी थीं?टीना- ये क्या सर सर लगा रखा है, अब संजय बोला कर. जो भी बात है खुल कर बताओ, चाहे कैसी भी बात हो?सुधीर- अब क्या बताऊं उसने तो सारे ही काम ग़लत किए हैं. अब किया तो मैं मर जाऊंगी।संजय- डर मत जानेमन मैं इतना बेरहम नहीं हूँ.