पंजाबी बीएफ भेजिए

छवि स्रोत,इनका चोपड़ा के सेक्सी फोटो

तस्वीर का शीर्षक ,

ब्लू डब्लू सेक्सी बीएफ: पंजाबी बीएफ भेजिए, लेकिन ये क्या मैं ज्योति के पास जैसे ही पहुंचा, उसने मुझे पकड़ कर चूमना शुरू कर दिया.

महाराष्ट्रीयन बीपी सेक्सी व्हिडिओ

फिर मेरी सास मुझे चाय देने आईं, उन्होंने मुझे ऐसे झुक कर चाय दी कि उनका पल्लू गिर गया, मुझे तो मानो जन्नत मिल गयी हो. हिंदी सेक्सी चाची की चुदाईउसने नायरा को चिपकाया और उसके कान में पूछा कि क्या वो उसके साथ कम्फर्ट नहीं फील कर रही?नायरा अब तक चारों ओर का नजारा भांप चुकी थी कि सब ओर चूमा चाटी हो रही है.

ये वाला घर गांव से थोड़ा बाहर भी था, तो वहां ज्यादा लोग नहीं दिखते थे. आरती भाभी की सेक्सी वीडियोफिर मैंने उसकी ब्रा और टी-शर्ट को बिल्कुल ही निकाल दिया और वो ऊपर से पूरी नंगी हो गई.

हम घर पहुँच गए, हर्ष अपने घर चला गया और मैं जल्दी से बाथरूम में घुस गई.पंजाबी बीएफ भेजिए: दस मिनट बाद डोरबेल बजी, मैं हाथ में चार कागज और पेन पकड़े पकड़े बाहर गया और देखा डॉली खड़ी है और गुप्ताइन अपने गेट पर.

पहले तो उसने थोड़ा सा विरोध किया फिर बाद में वो सारा चाट गयी।अब हम दोनों ही पस्त होकर एक दूसरे के अगल बगल लेट गए और एक दूसरे के शरीर से खेलने लगे।इतने के बाद मैंने सोचा क्यों ना थोड़ा रोमांच लाया जाए।मैंने फ्रिज से आइसक्रीम निकाली और बेड पर चला गया.”क्यों?” मेरी झुंझलाहट बढ़ती जा रही थी।वो … वो मुझे घल पल ताम तलने ता पूछ लही थी.

ब्लू सेक्सी दिखाई जाए - पंजाबी बीएफ भेजिए

मैं जानबूझकर दीदी के सामने बार-बार अपने खड़े हुए लंड को हाथ लगा रहा था.मेरे मुंह से हां सुनकर वो हल्के से मुस्कराई और बोली- आइये न, अंदर बैठिए.

फिर उन्होंने मेरे मुंह में लंड को दिये रखा और व्हिस्की को लंड पर गिराने लगे. पंजाबी बीएफ भेजिए मैंने मौका देखते ही उनके होंठों को अपने होंठों में दबा लिया और हम एक दूजे में खो गए.

दोनों सर्वेन्ट्स इन्हें खाना खिला कर चले जाते थे तो उनके जाने के बाद सभी जोड़ियाँ और बेतकल्लुफ हो जाती.

पंजाबी बीएफ भेजिए?

मगर अचानक नीलम को अपने चूतड़ों पर अपने ससुर के हाथों का स्पर्श महसूस हुआ. तो वो आँख दबा कर बोली- क्या लाए हो इसमें?मैंने कहा- ख़ुद खोल कर देखो. हिना- अगर उसने जो भी किया, ये सब तुम्हारे साथ करता, तो तुम दोनों मर जातीं.

मैंने मजाक में बोल दिया- आंटी फिर तो ऐसा लगेगा कि मैं आपको डेट कर रहा हूं. मैंने कहा- मेरी चूत को क्या होना था?वो बोली- देख मैं लंड लेने की पूरी खिलाड़ी हूँ. घर जाने के बाद संजना ने सब बताया कि वो मुझे फ़ोन क्यों नहीं कर सकी इतने दिनों से.

उसके बाद मुझे घर आना पड़ा क्योंकि मेरे कॉलेज की छुट्टियां खत्म हो गई थींघर आने के बाद भी मैं प्रशांत और सुमन से फोन पर सेक्सी बातें करते हुए अपनी चूत में उंगली करती रहती थी. मैंने तेजी के साथ उसकी चूत को चोदना शुरू किया तो वो भी मजे लेने लगी और फिर मेरा पूरी तरह से साथ देने लगी. उसके मूसल लंड को लेते हुए मेरा हाल बेहाल होने लगा लेकिन मजा भी बहुत आ रहा था.

मैंने लोअर पहनी हुई थी जिसे मैंने नीचे करके अपनी चूत को नंगी कर लिया. स्प्रे करने के बाद मैंने आंटी को उठने के लिए कहा क्योंकि गर्म खून में उठना आसान होता है.

इससे उसके शरीर में एक सिहरन सी दौड़ गयी उम्म्ह… अहह… हय… याह…उसने अपनी टांगों को पूरा खोल कर मुझे आमंत्रण दिया कि हाँ उसे ये सब बहुत अच्छा लग रहा है.

[emailprotected]कहानी का अगला भाग:जुदाई चार दिन की फिर लम्बी चुदाई-2.

उसने मुझे ठिठोली करते हुए कहा- अरे मामा आज हम लोगों की याद कैसे आ गयी?मुझे उसके बात करने का अंदाज कुछ अलग सा लगा. तभी रीना के मुँह से आवाज निकली- ओह गॉड … आहआ … करते रहो … उम्म्ह… अहह… हय… याह… और तेज करो!मैं भी उसे और तेजी से चोदने लगा. रजनी अभी भी बाहर ही खड़ी थी, उसने राहुल को चाय पीने के लिए आमंत्रित कर दिया, जिसे राहुल ने बेबाकी से मान लिया.

दोस्तो, जब लड़का लड़की से 5-6 साल बड़ा हो, तो वो उसे ज्यादा प्यार देता है. मेरी आंख खुली, तो मैंने पाया कि वेरोनिका मेरे लंड के साथ खेल रही थी. अनीता ने मुझे कस कर अपनी बांहों में भींचते हुए मेरा मुंह अपने चूचों में दबाना शुरू कर दिया.

इस पर मैंने कहा- अरे नहीं मम्मी जी … आज तो हम आपके साथ मूड बनाने के मूड में हैं.

ऋतु के जवाब के बारे में सुनकर अनिल ऋतु की तारीफ करते हुए कहने लगा कि वाह … तुम्हारी वाइफ तो बहुत ही समझदार है आकाश। लेकिन इतनी मॉडर्न लड़की इतनी समझदार कैसे हो सकती है. अब समझ में आ रहा है कि तू मुझे और हिना को भी क्यों फार्म हाउस बुला रहा था. धीरे धीरे हमारी बातें प्यार में बदलने लगीं और फिर थोड़े दिन बाद हम दोनों सेक्स चैट करने लगे थे.

उफ़्फ़ … क्या बला की खूबसूरत लग रही थीं वो नंगे बदन …मैं भी पूरा नंगा हो गया और उनके ऊपर चढ़ गया. फिर मैंने थोड़ा सीरियस होकर कहा- आपको बुरा लगा क्या मेरी बात का?वो बोली- नहीं, बुरा तो नहीं लगा लेकिन थोड़ा अजीब लगा क्योंकि मेरे साथ किसी ने ऐसा मजाक किया नहीं था इससे पहले. मैं बोला- मेरी ऐंजल ने वो जो किया था, उसका ब्याज मिला कर वापस कर दिया है.

सारिका अब बड़बड़ा रही थी- जानू और तेज … और तेज मेरी जान …राहुल अब ऊपर हुआ और सारिका के होंठों से अपने होंठ मिला दिए.

और जब वो मेरे मम्मों को ताड़ने के बाद मेरी आँखों में देखते तो मैं मुस्कुरा देती।बल्कि एक दो बार तो मैं जानबूझ कर उनकी गोद में भी बैठी ताकि वो मेरी नर्म गांड का और मैं उनके कड़क लंड को महसूस कर सकूँ।और फिर एक दिन मेरी मेहनत रंग लाई, मैं अरविंद सर के सामने जानबूझ कर झुक कर लिख रही थी. वो उठा कर अपने बैग से कपड़ा ले आयी, उस कपड़े से उसने अपनी चूत और मेरा लंड को साफ़ किया.

पंजाबी बीएफ भेजिए अब राहुल का पानी भी निकलने वाला था और उसने एकदम से मेरी चूत से लंड को निकाल कर मेरी गांड पर अपना माल गिराना शुरू कर दिया. मेरी सहेली इस बात से अनजान थी कि मैं उसके बॉयफ्रेंड के साथ बाहर घूमने के लिए जाती हूँ.

पंजाबी बीएफ भेजिए मैंने पूछा- कैसे?वो बोला- महीने के आखिर में मैं हिसाब-किताब करने के लिए तुम्हारे घर पर आऊंगा. लंड का कठोर रूप अब उसके सामने था और वो रूप उसके तन बदन में आग लगा रहा था.

मैंने उसे थैंक्स कहा और एक भूखे कुत्ते के तरह उसके बदन को चाटने लगा.

रेखा की चूत

मैं बोला- आपका बेटा कहां है?‌वो बोली कि वो आज सुबह दादा दादी के पास जाने के लिए अपने पापा के साथ मुम्बई गया है. सर ने पूछा- आशना, क्या तुम्हें ऐसा पसंद है?मैंने भी हां में जवाब दिया तो सर ने धीरे से अपना लंड मेरी चुत के अन्दर पेल दिया. मैसेज पर बात करते करते गलती से मैंने उसको बोल दिया कि सेल्स जॉब में हमेशा ही एल लग जाती है.

मैंने उनकी चूत चाटने के बाद अपना लंड चूसने के लिए इशारा किया, जिस पर उन्होंने झट से मेरा लंड मुँह में ले लिया और अच्छे से चूसने लगीं. कुछ देर तक मैं उनके लंड के सुपारे वाले गुलाबी हिस्से को जीभ से चाटता रहा. मुझसे कहने लगे कि आप तो बहुत किस्मत वाले हो जो आपके ऋतु जैसी वाइफ मिली है.

कुछ मिनट बाद ही उसकी एक लंबी गर्म पिचकारी मुझे अपने अंदर महसूस हुई फिर तो बहुत सी पिचकारियाँ मुझे अपने अंदर महसूस हुई.

लेकिन मेरी चूत में फिर से प्यास जगने लगी और अब मैं कोई नया लंड ढूंढने लगी. फिर मैंने दोबारा से उसको छेड़ने के इरादे से कहा- मुझे पता चल गया था कि आज आपके चेहरे पर ये चमक कैसे आई आप इतनी खुश क्यों लग रही थीं!वो तपाक से बोली- क्या पता लग गया आपको?मेरी साली की कहानी अगले भाग में जारी रहेगी. इसीलिए तो मैं तुमसे यह सब नहीं कहना चाहता था। बेवजह तुम्हारी नज़रों में मेरी इज्ज़त और कम हो गयी.

इसी दौरान मैंने उससे उसक़ी मैक्सी निकालने को कहा, उसने शर्माते हुए अपनी मैक्सी निकाल दी. मुझे पता चला कि रिंकी इंदौर की ही रहने वाली है और वो अपने भाई के यहां दिल्ली जा रही है. मैं जैसे ही वहाँ पहुंचा तो संजना मुझे ऋषि (संजना का बेटा) के साथ दिखाई दी.

कुछ देर में सीमा ने मुश्ताक की जीभ से अपने को अलग किया और मुश्ताक को बेड पर लिटाया और ऊपर बैठ कर उसका लंड और छाती चाटने लगी. हालांकि मुझे उसको चोदने का बड़ा मन हो रहा था पर बिना उसकी मर्जी के सेक्स करने की कैसे सोच सकता था.

पूरे दिन इंटरव्यू के बाद सभी लड़कियों को बोल दिया गया कि यदि आप सेलेक्ट होती हैं तो आपको एक या दो दिन में कॉल करके बता दिया जाएगा. ग़लती से उन्होंने अपना दुपट्टा, जो कि मूतते समय उतारा होगा, उसे वही टंगा छोड़ कर ले जाना भूल गईं. वो बोला- ये सब क्या है?मैंने कहा- सॉरी भैया … मैं फिर कभी ऐसा नहीं करूंगी.

सबने फटाफट अपने अपने पेग ख़त्म किया और अपने अपने पार्टनर्स के साथ थिरकने लगे.

वो चिल्लाने लगी उम्म्ह… अहह… हय… याह…फिर मैंने बाहर करके धीरे धीरे अन्दर बाहर किया. दोस्तों वो मेरे साथ रजाई में घुस गयी और बोली- लाओ मोबाइल इधर को करो … मुझे भी फिल्म दिखाओ. मुझे बाद में शिवानी से ही पता लगा कि उसने सागर का लंड एक बार नहीं तीन बार लिया और उसको कैसे पटाया.

उसने अपनी बहन की टांगों को घुटनों तक मोड़ते हुए उसके चूतड़ों के नीचे एक तकिया रख दिया। ज्योति की चूत अब बिल्कुल खुल कर ऊपर उठ गयी थी और उसकी चूत का छेद खुला हुआ था जिसमें से पानी निकल रहा था।समीर अपनी छोटी बहन की टांगों के नीचे बैठते हुए अपने लंड को ज्योति की चूत पर रगड़ने लगा।आह्ह भैया … आराम से डालना 8 बरसों से यह बंजर है. मैं आराम से लेटा हुआ था, तभी अचानक वह उठी, अपनी पैन्टी उतारी और ताजा ताजा शेव की हुई चूत मेरे मुंह पर रख दी, उसकी चूत की मादक गंध मुझे मदहोश कर रही थी.

यह थी एक भाई की कहानी। कहानी पर अपनी राय देने के लिए कमेंट जरूर करें।धन्यवाद।. दोस्तो, कैसी लगी मेरी ये पहली सच्ची कहानी? अभी आपको बहुत कुछ बताना है कि कैसे मैंने और रुचि ने चुदाई का मजा लिया. नीता ने काम देख कर उन्हें जाने को कह दिया कि जब जरुरत होगी बुला लेगी.

मुंबई सेक्सी फोटो

उधर धीरज और सीमा … सीमा के दिमाग में तो ग्रुप सेक्स चढ़ा था तो वो तो बस इन्तजार ही कर रही थी कि कब धीरज बेकाबू हो… उसने धीरज को पागल करने में कोई कसर नहीं छोड़ी.

मैं उसकी पैंटी साइड में करके उसकी चुत चाटना चाहता था, परन्तु उसकी चूत पर बड़ी बड़ी सुनहरी झांटें उगी थीं, जिस वजह से मैं ठीक से चूत नहीं चाट पाया और वापिस उसके चुचे चूसने लगा. मैंने अपनी जीभ की नोक बना कर चुत के होंठों को चूम के अन्दर की ओर डाल दी, जिससे अनिता रानी का जिस्म अब फड़कने लगा. मैंने फिर से उससे पूछा- अब कहां निकालूं?उसने बोला- मैं आपका दही पीना चाहती हूं, प्लीज़ मेरे मुँह में निकाल दो.

मैंने कहा- कोई देख लेगा, यहां रोड पर …वो बोली- प्यार भी करते हो और डरते भी हो?मैंने कहा- कहीं और चलें?वो बोली- कहाँ?मैंने कहा- जहां मैं कुछ पल तुम्हारे साथ अकेले में बिता सकूँ!मैंने दिमाग दौड़ाया. फिर मैंने पति की जांघों पर अपने हाथों का सहारा लेते हुए अपनी गांड को उनके लंड पर उछालना शुरू कर दिया. മലയാളം സെക്സ് vedeosअभी भी जब आप ब्लू साड़ी पहन कर बाहर निकलती हो, तो दुनिया में कोई देखे ना देखे, मगर मेरी नज़र तो आप पर से हटती ही नहीं है.

सारा दिन ऑफिस में भी बेचैनी बनी रही, मेरा किसी काम में मन नहीं लगा. मैं और भाभी बहुत अच्छे से घुल मिल गए थे, पर उनको लेकर मेरे दिमाग में कभी कोई गलत बात नहीं आई थी.

वो तो खुशी से फूल कर कुप्पा बन गई और करण के हर धक्के का जवाब नीचे से उछल कर देने लगी थी. उसने दर्द के मारे चीखने की कोशिश की, लेकिन मैंने उसे होंठ बंद कर रखे थे … जिससे उसकी चीख ज्यादा जोर से नहीं आ पाई. मैंने उससे कहा- जब तुम सामान लेकर कपार्टमेंट में आयी थी ना, तभी ऐसा लग रहा था कि अभी खड़े खड़े ही तेरी चुत चोद दूँ … लेकिन किसी के साथ जबरदस्ती का सेक्स मुझे पसंद नहीं है.

मैं कभी कभी घर के काम के लिए बाजार चली जाती हूँ अपनी सहेली के साथ … क्योंकि मम्मी चाची को बाजार जाने की अनुमति नहीं है. मैंने मौके का फायदा उठाते हुए उसे अपनी तरफ खींच लिया और उसके गाल पर एक चुम्मा जड़ दिया। मौके का फायदा उठाते हुए मैं उसके होठों को चूसने लगा और उसके शरीर में झनझनाहट सी उत्पन्न हो गई। लेकिन मैं क्लास रूम में था यह मुझे याद था।इस प्रकार मुझे जब भी मौका मिलता, मैं उसका चुम्बन ले लेता, उसके दूध को मसल देता है।यह सिलसिला लगभग 1 महीने चला. तीनों ही फिर से मजा लेने लगे और पूरा कमरा कामुक सिसकारियों से गूंजने लगा.

मैंने कहा- हां यार …फिर चयन ने मेरे अंडरवियर में हाथ डाल कर मेरे लंड को बाहर निकाल लिया.

उसने मुझे बिस्तर पर धकेल दिया और अपने कपड़े उतार मेरे ऊपर आकर मेरी ब्रा भी उतार फेंकी. उन्होंने चूस-चूस कर मेरा लंड और उसके नीचे के बॉल्ज़ बिल्कुल गीले कर दिए.

जब उसकी बेटी को अपने पिता की नियत का पता चला तो …मेरी नॉनवेज स्टोरी के पिछले भाग में अपने पीया महेश के साथ अपनी पत्नी को नंगी लेटे हुए देख कर समीर सोच में पड़ गया. अगले हफ्ते जब मैं ससुराल गया, तब मैं फिर से मेरी बीवी को चुदाई के लिए मना रहा था. अब मैं कभी उसकी पेंटी में हाथ घुसा देता, उसकी चुत के दाने को सहला देता, कभी दो उंगलियां उसकी चुत में डाल कर अन्दर बाहर करने लगता.

मेरा लंड पहले ही एक बार बाथरूम में पानी छोड़ चुका था, इसलिए काफी देर तक चुदाई चलने वाली थी. लड़कों को अभी पन्द्रह मिनट बाद जाना था ताकि इस बीच में उनकी दुल्हन सुहागरात की तैयारी कर ले. उसकी चूत मेरे वीर्य से लबालब भर गई और मैं काफी हल्का महसूस करने लगा.

पंजाबी बीएफ भेजिए जब मुश्ताक से बर्दाश्त नहीं हुआ तो उसने सीमा को खड़ी किया और बेड पर धक्का दिया. दीदी मेरी तरफ कुछ ऐसी नजरों से देखने लगीं, जैसे वो मुझसे जानना चाह रही हों कि वो कैसी लग रही हैं.

रोमांटिक सेक्सी गाना

मैं भी उनके पीछे चल रहा था और ज्योति को चलते हुए देखकर जैसे आहें भर रहा था. उसके कानों में फुसफुसायी- मैं तुम्हें बहुत पसंद करती हूं अंकित … और मुझे पता है कि तुम भी मुझे चाहते हो. मुझे समझ आ गया कि काफी देर से मन तो इसका भी कर रहा था लेकिन बस ये शुरूआत मेरी तरफ से चाह रही थी.

मैं ये तो नहीं जानता था कि काजल की तरफ मेरा ये झुकाव प्यार था या महज आकर्षण के पीछे छिपी हुई वासना! मगर जो भी था, बड़ा ही बेचैन करने वाला अहसास था जो हर दिन प्रबल होता जा रहा था. अब मैं तुम्हें मेरे बेटे का मूसल जैसा लंड देकर शुक्रिया अदा कर दूंगी. सेक्सी फिल्म व्हिडिओ गाणेइसी बीच मेरा रज छूट गया था जो मेरी चूत से होता हुआ नीचे टांगों तक आ रहा था.

वहां जाकर पड़ोसियों से मुझे ये पता चला कि संजना अपने बेटे को लेकर हॉस्पिटल गयी है.

उसके कहने पर मैं झुक गई और उसने पीछे से मेरी प्यासी, चुदासी और गीली चूत में अपना लंड घुसा दिया. मैंने पूछा- स्मायरा जी उठ गईं क्या?भाभी बोली- उसको ही तो देख रही हूँ … पता नहीं कहां गई है.

इसी बीच में मैंने अपने लंड को थोड़ा और अंदर खसका दिया था। लेकिन अब भी लंड आधा ही गया था और हम दोनों ही ठण्ड के मौसम में भी पूरी तरह पसीने पसीने हो गए थे।वो बार बार यही बोल रही थी- मुझे दर्द हो रहा है, मेरी सहेली मेरा इंतजार कर रही होगी, मुझे घर जल्दी पहुंचना है. उसमें एक व्हिस्की की बोतल, बिकनी सैट, नाइटी और मेकअप का सामान था, जिसे देख कर चाची ख़ुश हो गयी. लेकिन हमारा रिश्ता इतना गहरा था कि हम नजरों ही नजरों में एक दूसरे से बात कर लिया करते थे.

यह वही पैंटी थी जिसे मैंने कई बार बाथरूम में सूंघा और लंड पे रगड़ा था।आखिर पैंटी को भाभी के शरीर से जुदा होना पड़ा। इस दौरान मेरा तौलिया जाने कब मेरा साथ छोड़कर फर्श पे पड़ा था.

धीरे-धीरे लिंग को कसने वाले फोर्स के साथ हाथ की पकड़ मेरे तने हुए लौड़े पर बढ़ती जा रही थी. दोस्तों के साथ बाहर घूमने में तो इस तरह की संभावनाएं और भी ज्यादा हो जाती हैं. थोड़ी देर बाद उन्होंने खाँसने की आवाज की, तो हम दोनों ठीक होकर बैठ गए.

नंगी सेक्सी बढ़ियामैं औंधा था, वह मेरा लंड पकड़ने की जिद पर उतारू था, मैं उसके मजे ले रहा था।खैर उसने हाथ डाल कर मेरा लंड पकड़ ही लिया, बोला- यह तो बहुत मोटा है, दिखा तो!मैं औंधा लेटा था, वह भी मेरे से चिपका था. मैं सुबह उठ कर बाथरूम में गया, तो पीछे से यशिमा आ गई और मेरे गले लग कर रोने लगी.

ब्लू पिक्चर सेक्सी सेक्सी सेक्स

मेरी उम्र 21 साल है, लन्ड का साइज 6 इंच है। मेरी स्किन फेयर है और हाइट 5 फीट 6 इंच है। मैं जिम भी करता हूं और मुझे लड़कियां, भाभी और आंटी सब पसंद हैं। मुझे बड़ी उम्र की औरतों के साथ और भी ज्यादा मज़ा आता है।यूं तो मैं हर किस्म की चूतों के साथ मजा ले लेता हूँ लेकिन लेकिन बड़ी औरतों की चूतों से मुझे खासा लगाव रहता है. फिर मैंने उससे कहा- वैसे तू अभी किसके साथ बात कर रही थी और मुझे देखकर कॉल कट कर दिया?वो बोली- एक नया मिला है. मैंने उसके पीछे आकर अपने लंड को पकड़ कर पीछे से उसकी चूत में डाल दिया.

मैंने कहा- लेकिन बिना कंडोम के क्यों?मीनू बोली- मैंने बहुत दिनों से लंड नहीं लिया है. आज मुझे इतना अच्छा लगा कि मैं बता नहीं सकता … क्योंकि पहली बार मेरा वीर्य इस तरह से पिया गया था और लंड को चूस चूस कर बचा हुआ रस भी निकाल लिया था. मैं यानि अनुज, पंकज और श्रेयस। हम तीनों ही अच्छे दोस्त हैं लेकिन तीनों ही एक नम्बर के चोदू भी हैं.

उन्होंने सिर नीचे गिरा दिया, जिससे मैं और जोश में उनकी फुद्दी ठोकता रहा. इसके लिए आपने मुझे जो मेल भेजे और सेक्स कहानी को लाइक किया, उसके लिए आप सभी का धन्यवाद. मैंने अपना बैग खोला और अपने नाईट में पहनने के कपड़े निकाले और नहाने के लिए चला गया.

मैंने उसके पीछे आकर अपने लंड को पकड़ कर पीछे से उसकी चूत में डाल दिया. जब बहुत देर तक यह सब हो चुका, तब वो बोली कि चलो आज तुमको लड़के से चुदाई कैसे करवाई जाती है, दिखलाती हूँ.

शुरू में तो उसे थोड़ा दर्द हुआ, लेकिन बाद में उसे भी मजे आने लगे और वो जोर जोर से गांड उठाते हुए चुदवाने लगी.

मुझे बहुत जलन हो रही थी … पर सर थोड़ी देर बाद अपना लंड मेरी गांड के अन्दर हिलाने लगे. एसएस सेक्सी ब्लूमेरे चूचे नंगे हो गये जिनको उसने अपने मुंह में भर लिया और फिर उसने उनको एक-एक करके अपने मुंह में लेते हुए चूसना शुरू कर दिया. குரூப் xxx போட்டோइसलिए आज मैंने सोचा कि मैं भी अपनी वो कहानी लिखूं, जिसने मुझे सिर्फ कुछ समय के लिए ख़ुशी दी थी. परवीन- ये क्या कर रही है? और हो क्या रहा है ये?चाची- कुछ नहीं … तुम अच्छे से मज़े लो.

मैं चौंकते हुए बोला- तब तो बहुत दिक्कत थी, इसका मतलब ससुरजी शुरू से इस मामले में ढीले रहे हैं.

नित्या- तो फिर क्या प्रॉब्लम है?मैं- प्रॉब्लम ये है कि अगर किसी वजह से हमारी शादी नहीं हो पाई, तो हम दोनों एक दूसरे को बेवफ़ा समझेंगे और मैं नहीं चाहता ऐसा हो. मैंने उससे कहा- मुझे ठीक से पकड़ लो, अन्यथा तुम्हारे गिरने की सम्भावना हो सकती है. कल तक जिस लड़की के ख्यालों में जाकर मैं उसके नाम की मुट्ठ मार रहा था, आज उसका कोमल हाथ खुद ही मेरे लंड की मुट्ठ मार रहा था.

वो मान गई।मैंने अपनी कार उनकी पार्किंग में लगाई और भाई की पल्सर लेकर मार्किट जाने लगे। अब भाई की गाड़ी और बीवी दोनों मेरे पास थे।मुझे थोड़ा संकोच लग रहा था पर भाभी मेरे पीछे दोनों पैर डाल के बैठ गई। मैं बहुत खुश था। लेना तो कुछ था नहीं … ऐसे ही टाइमपास कर रहे थे हम लोग बाजार में घूमते फिरते।इतने में बारिश का मौसम हो गया और हम लोगों ने घर लौटना ही ठीक समझा. आपको मेरी टीचर सेक्स कहानी पसंद आई या नहीं … मुझे इस ईमेल पर ज़रूर बताइए. मैंने मना किया तो उसने मुझे पैरों से जकड़ लिया और मेरा वीर्य उसकी चूत में ही गिर गया.

सेक्सी वीडियो सील तोड़ने वाला

अन्तर्वासना पर कहानियां पढ़ने में मुझे बहुत ही आनन्द प्राप्त होता है. मोहिनी बोलीं- आप दोनों अपना इंतजाम बेडरूम में ही क्यों नहीं लगा लेते. सबसे पहले राहुल और शबनम ने नजदीकी बढ़ाई और लगभग चिपट कर धीरे धीरे हिल रहे थे.

मैंने यही बात मनु को बताई, तो उसने कहा कि वो तुमसे दोस्ती करना चाहता होगा और कुछ नहीं.

मैंने उससे ऐसे ही पूछा कि अगर तुम जॉब पर लगोगी, तो क्या मेरा लंड देखना चाहोगी?इस पर उसने झट से हामी भर दी.

आशा सुमिना के चूचों को दबा रही थी और काजल मेरी बहन की चूत पर चूत रगड़ कर इतनी आनंदित हो रही थी कि जैसे उसको सबसे ज्यादा सुख इसी में मिल रहा है. पूरे गर्म होने के बाद हम मिशनरी पोजिशन में आ गए और मैंने अपना लन्ड तैयार कर लिया. देसी मारवाड़ी सेक्सी वीडियो एक्स एक्समैं दिखने में गोरा और जिम रोज जाता हूँ, तो बॉडी भी अच्छी खासी बनाई हुई है.

उसने मेरी चूत पर हाथ फेरना शुरू कर दिया और फिर नीचे झुक कर मेरी चूत पर एक किस कर दिया. मुझे कुछ पता नहीं था, वो मेरा मुँह खोलकर उसमें लन्ड अंदर बाहर करता रहा, मेरे मुंह के किनारों से थूक रिसता रहा. मैं चाय की चुस्कियों के साथ टीवी पर क्रिकेट मैच देख रहा था, तभी डोरबेल बजी.

मेरी यह सेक्स कहानी बिल्कुल सच्ची है, जो मेरी किसी जान पहचान वाली के साथ घटित हुई. मैंने अपनी सासू माँ से कहा कि आप इतनी दूर क्यों बैठी हो?वो बोलीं- नहीं आपका कोई भरोसा नहीं … मैं आपके पास बैठूं और कहीं आपने नशे में मेरी बेटी के सामने कुछ ग़लत हरकत कर दी तो!मैंने कहा- आप टेंशन मत लो, आपकी बेटी समझदार है.

एक दिन करण ने मुझसे मूवी देखने चलने के लिए पूछा तो मैंने तुरंत हां कर दी क्योंकि मुझे उम्मीद थी कि मेरी चूत की नए लंड की प्यास शायद मिटने वाली है.

मैं अपनी दोस्त को पिक करने बताई हुई जगह पर पहुंच गया और और करीब 20 मिनट के बाद हम दोनों मेरे दोस्त के घर पंहुच गए. ”और फिर गौरी ने मेरी आँखों और चहरे पर पानी के थोड़े छींटे और डाले।मेरा मन तो कर रहा था काश! गौरी मेरे चहरे पर इसी तरह अपनी नाजुक हथेली और अँगुलियों को फिराती रहे और मैं अभिभूत हुआ इसी तरह उसकी नाजुकी को महसूस करता रहूँ।लाओ आपते हाथ भी धो देती हूँ. तभी ममता बोली- तुम आज इसको ही मज़ा दे दो … मैं बाद में करवा लेती हूँ.

தமிழ் ஆடியோ செஸ் फिर उस लड़के ने बताया कि अनु की मम्मी कोमल के पापा से खूब चुदती हैं. ऐसे ही एक दिन की बात है, मेरी मॉम कुछ काम के लिए घर के बाहर जाना पड़ा.

एक दिन सोनिका और उसके बॉयफ्रेंड मोहनीश में किसी बात को लेकर झगड़ा हो गया. मेरी चड्डी में मेरे गुर्राते हुए शेर को देख कर उसने झट से मेरे अंडरवियर के अन्दर हाथ डाल दिया. मॉम हंस कर झिड़की देकर बोलीं- पागल हो गए हो क्या … इतनी चुत चुदाई करने के बाद तुम्हारा मन नहीं भरा.

हिंदी फिल्म आई मिलन की रात

मैंने फिर से उससे पूछा- अब कहां निकालूं?उसने बोला- मैं आपका दही पीना चाहती हूं, प्लीज़ मेरे मुँह में निकाल दो. बच्चे तो घर पर हैं नहीं इसलिए मेरा मन भी नहीं किया खाना बनाने के लिए. मैंने बोला- उसके लिए तो तेल की जरूरत होगी … वरना तुमको बहुत दर्द होगा.

हम लोगों ने उस रात चार बार चुदाई की, जिसमें मैंने देसी भाभी की गांड भी मारी. कैब से उतरकर घर चला गया और दूसरे दिन का इंतज़ार करने लगा कि कब शाम हो और उससे मुलाक़ात हो।पहली ही मुलाक़ात में उसका ऐसा नशा मुझपे चढ़ा था कि मुझे कुछ भी अच्छा नहीं लग रहा था। बस उसी की याद आ रही थी.

मैंने बोला कि अभी तुम्हारी इस हरकत के बारे में मैं मॉम को सब बताता हूं.

उन्होंने पूछा- आपने खाना खा लिया क्या?मैंने कहा- नहीं, बस अब खाने के लिए जा ही रहा था. मैंने कहा- जान, हम लोग यहां सोने थोड़ी आये हैं … सोना ही होता, तो घर ही ना रहते. ये बात उन दिनों की है, जब मैं 19 साल का था और 12 वीं पास करके इंदौर आया था.

मैंने अर्पित से कहा- पर यार … मैं नहीं कर सकूँगी … आख़िर वो सर हैं मेरे!उसने कहा- तुमको पास होना है? तो सब भूल जा और उसे खुश कर दे … बस और कोई रास्ता नहीं है. मैं पीठ को चूमता हुआ ब्रा की पट्टी पर आया और अपने दांतों से उसकी ब्रा का हुक खोल दिया. उसके छोटे छोटे चूचे मेरे पेट पर छू रहे थे और उसकी चूत की खुशबू पूरे कमरे को महका रही थी.

उसकी बीवी ने अपने पति का लंड पकड़ा और मेरी बीवी की चूत पर रगड़ने लगी.

पंजाबी बीएफ भेजिए: दोस्तो, यहां मैं आप लोगों को बताना चाहूँगा, जिन महिलाएं की चूत के मुँह के ऊपर दाने से जो बंधी हुई नसें होती हैं और किन्हीं कारणों से किसी महिला की बच्चेदानी की नस चिपक जाती है, तो उसका गर्भ धारण नहीं हो पाता है. जब हमारा 12वीं का पहले छमाही का रिजल्ट आया, तब उसने मुझसे प्रॉमिस किया कि अगर वो इंटर में पास हो गयी तो मुझसे मिलेगी.

नीता ने सबको अपने अपने कमरे में जाने को कहा और अपना गाउन पहन कर रानी को फोन करके आने को कहा जिससे खाने की तैयारी हो सके. एक हाथ से मैं बहन की चूत को सहला रहा था।थोड़ी देर मम्मे सहलाने के बाद मैंने खड़ा होकर अपनी पैंट निकाल ली. जब भाभी बेड पर लेटी थीं, तब पहली बार मुझे भाभी की चूत के दर्शन हुए.

अब भाभी भी गरम होने लगी थीं और उनकी चूत गीली हो रही थी, जिसकी भीनी भीनी खुशबू मुझे पागल बना रही थी.

लाइट ऑन होते ही वो डर गई और उन्होंने पता नहीं क्यों मेरा विरोध करना शुरू कर दिया. आंटी मेरा लंड आगे पीछे करने लगीं … मैंने उसी वक्त चाची को मिस कॉल कर दिया. मुझे अपने यहां के सब लंड एकदम मरियल से लगने लगे थे, जो मेरी चूत की खुजली को मिटा ही नहीं पाते थे.