एचडी बीएफ फुल सेक्सी

छवि स्रोत,తెలుగు బిఎఫ్ సెక్స్ వీడియో

तस्वीर का शीर्षक ,

मारवाड़ीxx: एचडी बीएफ फुल सेक्सी, यह देख मेरी हिम्मत थोड़ी बढ़ी, फिर मैंने उसे घोड़ी बनाया और उसके बाल खींचने लगा और उसकी मस्त गांड पर हाथ से थपकी मारनी शुरू कर दी और बोलने लगा- देखो जान, जब तुम किसी और से चुदोगी तो वो तुम्हें ऐसे घोड़ी बना के चोदेगा और तुम्हारे बाल खींचेगा, ऐसे तुम्हारी गांड पर मारेगा!मंजू बेचारी पर हवस इतनी हावी हो चुकी थी कि वो न तो मना कर पा रही थी न ही कुछ बोल पा रही थी, बस सुन कर मजे लिए जा रही थी.

16 साल की लड़कियों की सेक्सी फिल्म

” राखी बोली।मैं शर्त नहीं हारूँगी, अभी तक तुमने खोल कर कहाँ देखा है. आदिवासी सेक्सी पिक्चर हिंदीमैंने कहा- हाँ मेरीरंडी बहनआज से ये लंड तेरा गुलाम है, जो तू बोलेगी, वही होगा.

मैंने जानबूझ कर सबसे पीछे वाली दो सीट वाली तरफ की एक सीट बुक करवा ली. पाली की सेक्सी फिल्मजैसे ही मेरे लंड का सुपारा चाची की गांड में घुसा, चाची की चीख निकल गई और साथ ही मेरी भी.

मैंने उसकी ठोड़ी के नीचे हल्के से हाथ लगाया और उसके चेहरे को अपने होंठों के पास ले आया.एचडी बीएफ फुल सेक्सी: मैंने उस रात काले रंग की ब्रा और पैंटी पहनी और ऊपर से वन पीस पहन के कॉलेज गई.

मैं मोहन के साथ की मेरी दूसरी सच्ची हॉट कहानी लेकर जल्दी आऊंगी, तब तक के लिए मेरी गर्म चुत से आप सभी के लंड को बाय बाय.फ़िर पता नहीं उनको क्या हुआ, उन्होंने धक्का देकर मुझे बेड पे गिरा दिया.

সেক্সি গার্ল - एचडी बीएफ फुल सेक्सी

मैं कभी उसकी चूची को चूसता तो कभी उसके गोल चूतड़ों को अपने हाथों से भींचता.उस रात कामिनी और विवेक ने डिनर किया और कामिनी उसी मास्टर बैडरूम में चली गई.

कुछ ही देर मैं भाभी के मम्मों का मीठा दूध मेरे गले को तर करने लगा, मैं दबा दबा कर भाभी के मम्मों का रस निचोड़ने में लगा हुआ था. एचडी बीएफ फुल सेक्सी मैं भाभी को लिटा कर उनके होंठों पर अपने तप्त होंठ रखकर उनको चूमने लगा.

बीच बीच में मैं मुंह से प्रिया का अंगूठा पकड़ने की कोशिश भी करता, लेकिन प्रिया अंगूठा किसी तरह छुड़ा लेती.

एचडी बीएफ फुल सेक्सी?

उसने कामिनी से कहा कि देखा तुमने इसको?कामिनी बोली- यार ये तो बहुत बड़ा कमीना है, आज इस हरामजादे की गांड मारो. सुबह जब चुत पूरी फूल कर लाल ना हो जाए और मम्मों पर मेरे दांतों के निशान ना पड़ जाएं. पहले मैंने उसे होंठों पर किस किया, फिर उसकी गर्दन पर किस करते हुए मैं नीचे आने लगा.

यहाँ कोई आने का साधन मुझे नहीं मिल पा रहा है, इसी बहाने तुम्हारे साथ वक़्त भी बिता लूंगा. इस बार चाचा चाची के बुलावे पर मैं होली के दो दिन पहले ही पटना पहुँच गया. उसके बाद उनके बलिष्ट शरीर को हर जगह पर चूमा, उनकी छातियों में अपनी चुचियाँ गड़ा दी और जोर से उनको अपने साथ सटा लिया.

वो इतनी खूबसूरत थीं कि मुझसे रहा नहीं गया और मैंने उनका हाथ पकड़ते उनसे बगल के नक्षत्र वन चलने को कहा. भाईजान कुछ देर तक मेरी दोनों चूचियों को देखते रहे, फिर दोनों मम्मों पर अपने हाथ फेरने लगे. एक वीडियो मेंदीदी एक लड़के का लंड चूस रही थींऔर दूसरे में वो एक और लड़के की गोद में बैठी मस्ती कर रही थीं.

वो बेड के कोने में खड़ी थीं, मैंने उनको पीछे से पकड़ लिया और उनकी गर्दन को चूमने लगा और उनके पेट को सहलाने लगा. तभी नाईटी पहन कर नीलम भाभी भी आ गईं, उन्होंने हम दोनों को इस तरह बैठे देखा तो बोलीं- अरे वाह… आप लोग तो शुरू हो गए.

कम्बख्त समझ गई कि मैं उस पर लट्टू हो गया हूँ क्यूंकि जब हमारी आँखें चार होतीं तो एक शरारत भरी मुस्कान उसके चेहरे पर खेल जाती जैसे मुझे बता रही हो कि चूतिये मुझे पता है कि तू मेरे ऊपर फ़िदा है.

कामिनी कामुक सिसकारियां लेने लगी- आअहह आअहह ऊऊहह…वो विवेक के सीने पर और गांड पे हाथ फेरने लगी.

दरअसल मेरी मम्मी ने मौसी को अपने तरीके से समझा दिया था और अब सोनिया मेरे घर पर ही रहने लगी थी. फिर मैंने कोल्डड्रिंक खत्म करके बात करना चालू किया तो उसने मेरे लबों पे हाथ रख कर कहा कि अब और बातें नहीं. फिर उसने मुझ से कहा- जीतू, तुम्हें मेरे लिए अपनी गर्लफ्रैंड को छोड़ना पड़ेगा और मुझ से फ़्रेंडशिप करनी पड़ेगी.

फिल्म के दौरान उसका खड़ा लंड मेरी गांड और चुत में हरकत करता रहा मेरी मुनिया फिर से लिसलिसी हो उठी थी. दोनों मरमरी बाहें सर के नीचे, रेशम-रेशम रोमविहीन साफ़ सुथरी त्वचा, तन का ऊपरी भाग लगभग आवरणहीन, दो अपेक्षाकृत गोरे उरोज़ जिन पर एक ढीली सी ब्रा के कप पड़े हुए, सपाट किसी भी दाग-धब्बे से रहित पेट के बीचोंबीच एक बायीं ओर विलय लेती हुई गहरी नाभि. मैंने उनकी आँखों में देखते हुए लंड की तरफ इशारा किया तो भाभी ने मेरे लंड पर अपना हाथ रख दिया और वे मेरी पैन्ट के ऊपर से ही मेरे लंड को मसलने लगीं.

मैंने पड़ोस के बहुत से लंड लिये हैं लेकिन तुम्हारा लंड बहुत मजा दे रहा है.

इस बार चाची ने कई बार मेरे सामने अपने आँचल को ढुलक जाने दिया और मुझे उनकी गोरी चूचियों की शानदार हसीन वादियों को निहारने का अवसर मिला. फिर मैंने अपनी पैंट का हुक बंद किया और हम उनके फ्लैट पर पहुंच गए, जहां वह रहते थे. लेकिन फिर कुछ सोच के बोली- ज़रा ध्यान से… किसी ने आपको मेरे घर में जाते देख लिया तो गज़ब हो जायगा.

ऐसा पहली बार था, जब एक भीगा हुस्न मेरी बांहों में था, उसके चेहरे से टपक रहा पानी, वो भीगी भीगी जुल्फें, बदन पर चिपके हुए कपड़े पानी में आग लगाने को काफी थे. अब मॉम का गाउन बीच से खुल गया था और गाउन के अन्दर तक दिखाई देने लगा. मगर मैंने उनसे इस जंगली चुदाई की चाहत की वजह जानने की कोशिश की तो उन्होंने मुझे अपनी आपबीती की बात कही.

सुबह भाबी ने एक टाइट सा टॉप निकाला और मुझे पहनने को दिया, मैंने पहन लिया… ये टॉप पूरा टाइट फिटिंग का था.

”राज जी… आप तो हज़ारों में एक हैं… भाभीजी बहुत लकी हैं जो उन्हें आप जैसा क़दरदान पति मिला… सबके नसीब ऐसे तो नहीं न होते. फिर वो बाजू हो गया और अपना अंडरवियर उतार कर उसने अपना लंड बाहर निकाला.

एचडी बीएफ फुल सेक्सी क्योंकि उसका पति मेरा पापा के पास काम करता था, इसलिए उन्होंने उसकी विधवा को अपने ऑफिस में काम पर रख लिया. सब कुछ इतना सामान्य लग रहा था, जैसे कि सुबह इन दोनों के बीच कुछ हुआ ही न हो.

एचडी बीएफ फुल सेक्सी वो क्या है कि मैं यहाँ पर तुर्की कंस्ट्रक्शन कम्पनी में काम करता हूँ, और ये मेरा जूनियर फेलो है. सभी गांव वाले शादी देखने में व्यस्त थे क्योंकि वो दिन की शादी थी और शादी देखने कमला भी आई थी.

उस दिन मेरा मूड थोड़ा ऑफ था क्योंकि उस दिन मेरे 18000 रुपये खो गए थे.

सनी लियोन सनी लियोन के बीएफ वीडियो

हम एक दूसरे को उकसा रहे थे और करीब 20 मिनट की लगातार गांड ठुकाई के बाद मैं उनकी गांड में झड़ गया. उस दिन बहुत तेज बारिश हो रही थी जिसके कारण मुझे बस स्टैंड जाने के लिए कोई ऑटो नहीं मिल रही थी, मैं रोड के ऊपर खड़ा ऑटो का इंतज़ार कर रहा था. उसने कहा- ठीक है!तो सबसे पहले मामी गई बाथरूम में, फिर मैंने अपने घर का चक्कर लगाया और देखा कि सब सो रहे हैं या कोई जाग भी रहा है.

चूंकि हम दोनों ही जॉइंट फॅमिली में रहते हैं इसलिए किसी के भी घर पर चुदाई का नो चांस! और चूंकि मैं और वो दोनों ही शहर के संभ्रांत घरों से थे, तो किसी होटल में जाने का रिस्क नहीं ले सकते थे. मैंने उसे गाली देकर बोला- बहनचोद, अब यही काम बचा है… जब मैं छोटा और नासमझ था, तब से अपनी गांड बचाता आ रहा हूँ, आज जब समझदार हो गया तो इसे लुटा दूँ… बहन के लंड… सही नहीं बोलना है तो मत बोल. चूत क्योंकि बहुत रसा रही थी, इसलिये लंड घुसने में बिल्कुल भी दिक्कत न हुई.

भाभी ने काली लेगी और रेड कुर्ता वी गले का पहना हुआ था, उनके बूब्स देख कर फिर मेरा लण्ड अंगड़ाई लेने लगा.

मेरी इस बात पर ममता दी सीरियस हो गईं और उन्होंने मुझसे कहा- तुम मेरे बारे में जानते क्या हो? बड़े आए मुझसे शादी करने वाले. बात पिछले साल की सर्दियों की है, दोपहर में मैं धूप का मज़ा लेने के लिए छत पे गया और वहीं चटाई बिछा कर अपनी पढ़ाई भी कर रहा था. दूसरी अपना प्रोमिस याद रखना, एक बार पूरा डाल कर निकाल लेना!मैं- जी भाभी!मैंने धीरे से धक्का लगाया, भाभी की चूत बहुत टाइट थी, सुपारा अंदर गया, भाभी को थोड़ी दिक्कत हुई,भाभी- देवर जी, आपका बहुत मोटा है!मैं- मैंने बोला था न कि नहीं जाएगा.

शावर से ठंडा पानी निकलते ही कामिनी विवेक से चिपक गई और बोली- बहुत बद्तमीज हो यार. मुझे बहुत मज़ा आ रहा था क्योंकि आज कुछ सालों बाद ही यह मज़ा मुझे नसीब हुआ था. तुम भी अकेले हो, मैं भी अकेला हूँ, सुबह जब हम उतरेंगे तो तुम अपने रास्ते जाओगे, मैं अपने रास्ते.

उसको देखते ही मेरे दिल ने कहा ‘हे भगवान… काश आज ये ही मुझसे मिलने आई होती…!’कार से उतर कर शायद वो भी किसी को ढूँढ रही थी, तभी वो वापिस कार में बैठते हुए मुझे दिखी, और तभी मेरे फोन की घंटी बजी और देखा तो आरुषि का ही काल था,आरुषि- कहाँ हो आप संचित…??मैं- जहाँ आपने बुलाया था. जैसे ही मैंने अपना अंडरवियर निकाला और उसने मेरा 8 इंची लौड़ा देखा, उसने भागकर बेड पर छलांग लगा दी.

उस दिन मेरी सहेली का मकान मालिक ने भी बोला कि उसको भी शॉपिंग करनी है, तो वो भी अपनी वाइफ के साथ हम दोनों लोगों को भी अपने साथ लेकर शॉपिंग करने के लिए ले गया. अब मैं भाई बहन वाला रिश्ता भूल चुका था, मुझे सामने एक चुदाई के मतलब का हसीन माल दिख रहा था. बहनचोद मर्दों पर बिजलियाँ गिराने के लिए उसने साड़ी नाभि के नीचे बांध रखी थी.

मैंने भाभी की जाँघों पर तेल लगाने के बाद उनकी चूत में उंगली डाल दी, तो पायल भाभी और जोर जोर से सिसकारियां लेने लगीं.

और सुनो जैसे ही लंड का पानी लगे कि निकलने वाला है, उसे चुत से बाहर निकाल कर गीता के मम्मों और मुँह पर झड़वा देना. फिर क्या था धीरे धीरे हमारी दोस्ती वाली बातचीत प्यार और सेक्स की चैट में बदलने लग गयी, क्यूंकि जिसको एक बार लंड का चस्का लग जाए वो फिर ज़्यादा दिन तक लंड लिए बिना नहीं रह सकती. मैंने इसका अर्थ यह लगाया कि वो कहना चाहती तो है चूत निवास मगर शर्म से पूरा चूत निवास ना बोल कर सिर्फ निवास कह रही थी.

कामिनी की चूत तो पहले ही विवेक से चुदने के लिए पानी छोड़ने लगी थी, विवेक बोला- मेरी जान तुमको तो बहुत गुस्सा आता है. उसने मेरा एक जोरदार चुम्बन लिया और एकदम से मेरे होंठ चूसने लगा… और जोश में आ गया.

पर इस टाइम जब उन्होंने बोला तो ऐसा लगा वो मुझ से बोल रहे हैं, मैंने पीछे मुड़ के देखा, मुझे एक आदमी दिखा, कुछ छह फ़ीट के आस पास लंबा, क्लीन शेव्ड, गोरा, ब्लू शर्ट पहने हुए, तंदरुस्त, एकदम हैंडसम. विवेक बोलता जा रहा था- आह… क्या चिपक चिपक कर चूत देती हो मेरी जान…कामिनी कह रही थी कि तुम भी तो एंगिल बदल बदल के चूत लेते हो मेरे राजा…काफी देर ऐसे ही वो मेरी बीवी की चुत में धक्के देता रहा. मैं कुछ नहीं बोला तो वो एक पेटीकोट देते हुए बोली- इसी से पौंछ लो… या ये भी मुझसे ही करवाओगे?मैं बोला- आप ही पौंछ दो न!तब मैं बिछावन से नीचे उतरा और मेरी पैंट नीचे सरका दी और भाभी मुझे मजाक में ताने मारते हुए पौंछने लगी.

सेक्सी चाइना बीएफ

प्रिया को इसका बराबर एहसास था और वो अपनी आँखें बंद कर के इस स्वर्गिक आनन्द के अतिरेक की अभिलाषा में बेसुध सी हो रही थी.

लंड को अन्दर लिए लिए मैंने उसे अपने ऊपर कर लिया, वह मेरे ऊपर चढ़ कर जोर जोर से लंड को अन्दर बाहर करने लगी. उसने बताया कि वो अब कन्डक्टर से ड्राइवर हो गया था, उसने ड्राइवरी सीख ली थी, सर्टीफिकेट और लाईसेंस भी बनवा लिया था. मैंने चाची से कहा- चाची, ये आप क्या कर रही हो?चाची ने कहा- साले अंजान मत बन… चल उठ और मेरे पैर दबा.

उन्होंने बिस्तर पर अपना सर पटका और जोर जोर से लेफ्ट राइट मूव करने लगीं. मुझे उस अस्पताल का हर कोने का पता था क्योंकि मैं लंड की तलाश में पहले ही पूरा अस्पताल घूम चुका था. ब्लू पिक्चर सेक्सी फिल्म भेजोदो साल बाद मेरा मौसी से मेरा मिलना हुआ किसी अन्य रिश्तेदार के घर में किसी उत्सव में तो मैंने अपने बेटे को देखा, मेरी आँखें गीली हो गयी थी, मैं बहुत भावुक हो गया था लेकिन मैंने किसी तरह अपने पर काबू रखा.

उसका लंड जब पूरा लौड़ा बन गया तो वो मुझको विक्रम से भी मोटा और लंबा लंड लगा. फिर इसी प्रकार मैंने उंगली से बाकी का भी सारा माल मत्ता इकट्ठा करके रानी को चुसवा दिया.

उसे लगा कि मैं अधूरा रहा गया हूँ तो वो मुझे खुश करने के लिए मेरा लंड चूसने लगी. हम दोनों प्रेमी-प्रेमिका बन कर जाएंगे और वहां मुझे दीदी नहीं जानूं बुलाना और मैं तुझे जानेमन कहूंगी. इसलिए उसके लंड को अन्दर जाने में ज़रा भी प्राब्लम नहीं हुई… बस मुझे जरा सा दर्द हुआ.

कुछ देर बाद मैंने उसके लंड को मुँह में ले लिया और मस्त होकर चूसने लगी. पिंकी ने रोशनी की नाजुक जाँघों को कसकर पकड़ा और मुँह से एक जोर की सांस ली. मुझे तुमने मेरे बेटे के साथ चुदवा दिया, उसका पूरी जिंदगी भर मुझे बहुत बड़ा गम रहेगा.

उनकी पतली कमर को अपने मजबूत हाथों में पकड़ा और एक ज़ोरदार झटका मारा.

अब आगे:मैंने जैसे ही दरवाज़ा खोला, भाभी नाश्ते की बड़ी सी प्लेट और जूस के साथ बाहर खड़ी थीं, अपने पुराने स्टाइल में ऊपर से नीचे तक ढकी हुईं. दूसरा बूब खाली करके मुँह ऊपर किया तो उनकी गुलाब की पंखुड़ियों जैसे होंठ का रसपान करने लगा.

भाभी अपना हाथ अपनी चूत पर ले जा कर बोली- इसमें जाता है लण्ड!मैं अनजान बनते हुए- भाभी, इतनी सी जगह में कैसे जाएगा?भाभी- जाएगा देवर जी, पूरा जाएगा! आप बस देखते जाओ, आप घुटने पर खड़े हो जाओ!मैं घुटने पर खड़ा हो गया, भाभी मेरा लण्ड हाथ से पकड़ कर उसकी चमड़ी को आगे पीछे करने लगी. यह सब सुरेंद्र जीजा देख रहे थे और फिर सुरेंद्र जीजा बोले- अंकल, मुझे भी ड्रिंक करना है। मैं आपकी दारू पी सकता हूं क्या?अंकल बोले- हां बिल्कुल सुरेंद्र, तुम ले लो, सामने रखी है!सुरेंद्र जीजा गए और उन्होंने पूरा ग्लास दारू का भरा और पीने लगे. फिर मैंने उसे नीचे लिटाया और अपनी चूत उसके मुंह पर रख दी और अनुज को इशारा किया कि अब इसकी चुदाई शुरू कर दे.

कामिनी फ्रूट्स उठा कर ले गई और उसकी गोद में बैठ कर अंगूर खाने लगी और विवेक को खिलाने लगी. फिर मैंने डाइवरटर को ओपन किया और भाभी को डाइवरटर पे हाथ रखने को बोला कि आप हाथ लगाना, मैं पानी शुरू करता हूँ. मगर अबकी बार आंटी होंठों पर किस करने लगीं और मेरा मुँह को दबाकर मेरी जीभ को चूसने लगी, जिससे मुझे भी मस्ती आने लगी.

एचडी बीएफ फुल सेक्सी जैसे तैसे मैंने अपनी आँखें खोलीं, तो देखा कि मॉम मेरे बेड पे बैठी हैं और मुस्कुराते हुए मेरे सर पे अपना हाथ फेर रही हैं. मैं भी उनकी चुत के रस से भीगी अपनी उंगली को चूसता हुआ अपने घर चला गया.

सेक्सी पिक्चर ब्लू वीडियो बीएफ

मेरी चुत से खून जो निकला था, वो शायद बंद हो गया था मगर दर्द बहुत हो रहा था और मैं तड़फ रही थी. फ़िर रमन ने मेरे सर को पकड़ा और लंड को मेरे मुँह में डाले हुए ही मुझे फर्श पे लेटा दिया और वो मेरे ऊपर लेट गए. उसके जिस्म के पसीने में जर्दे की खूशबू मिक्स थी जिसने मुझे दीवाना बना दिया था.

तो वो मुझसे कहने लगी कि आप जो बोलोगे मैं वो करूंगी, पर आप प्लीज़ ये बात हम दोनों तक ही रखना. उसके हटने के बाद मैंने उसे पकड़ा और उसका एक हाथ मेरे चुचे पे रख कर उसके बाल पकड़ कर उसका मुँह मेरी बुर पे ले लिया और उसे चाटने को कहा. ಕ್ಸ್ ವಿಡಿಯೋहम दोनों चौंक गए और दूसरे की तरफ़ देखने लगे और फ़िर हम दोनों हँसने लगे जैसे कि भाभी की चूत में डोरबेल का स्विच लगा हो और मेरे चूत छूने से बेल बज उठी हो!सेजल भाभी- मैं खाना लेकर आती हूँ.

दोस्तो और सहेलियो भाभियो… बताओ न… कैसी लगी मेरी देसी सेक्स स्टोरी… जल्दी से मुझे मेल करके बताओ[emailprotected].

उस दिन मैंने एक काली रंग की छोटी ड्रेस पहन रखी थी, जो मेरी जांघों तक ही आती थी और उसे कमर पे लगी हुई चैन से खोला जा सकता था. हम लोगों ने बातें करना शुरू की, उन्होंने मुझे बताया कि आज उनका बर्थडे है और उनके पति को उनकी कोई फिक्र ही नहीं है.

अब वो ऊपर से और उसकी माँ नीचे से गांड उछाल उछाल कर धक्के मार रही थी. इधर उसी वक्त जैसे ही मैंने धक्का लगाया तो मेरा लंड उसकी चुत से बगल में फिसल गया. ”ठीक है…”उन दोनों ने मेरे मम्मों को बाहर निकाल लिया और एक एक चूचा चूसने लगे.

भाबी चौंक गईं- आकाश छोड़ो मुझे… तुम ये क्या कर रहे हो?पर मैं कहां सुनने वाला था.

उधर पूनम ने अपनी चुत को साफ किया और मेरे ऊपर झुक कर अपनी चुचियां चुसवाने लगी. जैसे ही हम घर पहुँचे, मैंने देखा मेरे घर पर ताला लगा है, मेरी माँ और पापा मेरे किसी रिश्तेदार के घर गए थे और मेरे पास घर की दूसरी चाभी नहीं थी. फिर मेरा पेंट निकाल कर उसने साइड में फेंक दिया और चड्डी के ऊपर से ही मेरे लंड को मसलने लगी.

भाभी की चुदाई सेक्सी साड़ी मेंआप दूर क्यों चली गईं?मैं- तू तो मम्मी को बता रही थी, अब क्यों पास बुला रही है?काम्या- दीदी मुझे माफ़ कर दो पर अब रहा नहीं जा रहा मुझसे. सोनिया- भैया आपको पता भी है कि आप क्या बोल रहे हो? मैं बहन हूँ आपकी?मैं- हां पता है.

हिंदी सेक्स बीएफ बीएफ बीएफ

फिर मैंने जोर का धक्का लगाया, मेरे लंड के अन्दर घुसते ही उसकी चीख निकल पड़ी- उम्म्ह… अहह… हय… याह… अह्ह उई माँ मर गई… बाप रे कितना गरम लंड है ये अह्ह्ह प्लीज़ निकाल लो…मैंने कहा- अभी कुछ देर दर्द होगा फिर तुम्हें बहुत मजा आएगा. होली के एक दिन पहले चाची ने मुझे अपने साथ लिया और दिन भर शॉपिंग करती रहीं. वो एकदम फिर तड़प गईं लेकिन इस बार मैंने उन्हें किस करके नॉर्मल किया और लंड अन्दर बाहर करता रहा.

मेरा लंड भी सख्त हो गया था और मामी के चूतड़ों पर चुभ रहा था वो भी पीछे से अपनी गांड को मेरे लंड पर दबा रही थी फिर मुझसे कहा- नीचे का घोड़े का लिंग मुझे ऊपर कैसे चुभ रहा है… ओह ये तो मेरे प्यारे भांजे का… अरे नहीं मेरे चूत के पति का है।मैं- हाँ मेरी जान, अब बेड पर चल कर करते हैं!मामी जी- मेरी जान, यहीं खड़े खड़े चुदाई कर लेते हैं, मुझे भी उस घोड़ी की तरह चुदवाना है. हाँ, वेरा-माइना, वेरा-माइना, वेरा-माइना, वेरा-माइना, वेरा-माइना…” आर्थर दुगने जोश के साथ सफ़ेद परी को अपनी कलाइयों पर उछालता हुआ अपने लंड पर पटकने लगा. मैं ज़ोर से झटके लगाने लगा, फिर मैंने एक ज़ोर से झटके के साथ पूरा लंड अन्दर घुसा दिया और भाभी से चिपक गया.

जबकि उसकी उम्मीद थी कि मैं शादीशुदा होने की वजह से उसकी नहीं हो सकती थी. वन्द्या की नाक बहुत सेक्सी है, उसको भी मुंह में भर लेना चूसना, बहुत परफेक्ट है इसका एक एक अंग, अंकल आप वन्द्या को आज सटिस्फाई कर दो, अंकल ऐसे ही आप दोनों को देखकर मुझे बहुत मजा आ रहा है. वो दस मिनट में दो बार डिस्चार्ज हो गईं; भाभी बोलीं- पंकज, अब मेरी गांड को भी थोड़ा मज़ा दे दो.

अंकल- मुझे आप पर शक तो वहीं चाय वाले के पास हो गया, जब मैंने आपकी गांड देखी थी. उसके साथ काफी देर तक चूमा-चाटी करने के बाद मैंने उसको रोका तो उसने मेरी तरफ सवालिया निगाहों से देखा.

”मैं अब मज़बूरी में अपने घुटनों के बल बैठ गया और रोशनी के खट्टे मीठे अंगूर चूसने लगा.

मेरा लंड भी सख्त हो गया था और मामी के चूतड़ों पर चुभ रहा था वो भी पीछे से अपनी गांड को मेरे लंड पर दबा रही थी फिर मुझसे कहा- नीचे का घोड़े का लिंग मुझे ऊपर कैसे चुभ रहा है… ओह ये तो मेरे प्यारे भांजे का… अरे नहीं मेरे चूत के पति का है।मैं- हाँ मेरी जान, अब बेड पर चल कर करते हैं!मामी जी- मेरी जान, यहीं खड़े खड़े चुदाई कर लेते हैं, मुझे भी उस घोड़ी की तरह चुदवाना है. हिंदी सेक्सी फिल्म खुलेहम मर्दों ने एक घूँट में ही अपने बियर कैन ख़त्म कर दी और मैंने फ्रिज से एब्सेल्यूट वोडका निकाल कर तीन जाम बना दिए. सेक्सी दिखाइए वीडियो में ब्लू पिक्चरवो बोला- हां बोलेगा?मैं फिर कुछ नहीं बोला तो वो बोला- कामिनी फ़ोन दो जरा मेरा!मैंने कहा- हां, मैं छोड़ दूंगा. कुछ देर बाद मैंने अपनी स्पीड बढ़ाई और ज़ोर ज़ोर से उनकी गांड में लंड डालने लगा.

मैं मदहोश होकर टांगें चौड़ी करके अपने भतीजे का लंड अपनी चुत में अन्दर तक ले रही थी.

”ओके…”चलो तुम दोनों ने मुझे नंगी तो कर ही दिया है, अब मैं कपड़े पहन कर अन्दर चली जाती हूँ. मैं अपनी सहेली से बहुत बार ये बात सुनी थी कि मकान मालिक अपनी नौकरानी को चोदता है और अपनी किरायेदारों की औरतों को भी चोदता रहता है. मेरी बात सुनकर वो मुस्कुरा देती थी और मुझे दिलासा देते हुए कहती थी कि वक्त का इन्तजार करना सीखो.

उसने किचन में आने के बाद भी अपने कपड़े नहीं पहने थे और नंगा ही बैठ कर दारू पी रहा था. फिर मैंने पढ़ाई के साथ साथ जॉब करने की सोची और काफी ढूँढने के बाद मुझे एक जॉब मिली, लेकिन उसमें भी मेरा खर्च पूरा नहीं हो रहा था… क्योंकि ये जॉब मुझे मात्र 15000 ही दे रही थी. दोनों ने एक दूसरे की चुत और लंड को मज़े से चूसा, जो पूरी तरह से कैमरा में रिकॉर्ड हो चुका था.

हिंदी में हिंदी में सेक्सी बीएफ

मुझे लगा शायद पेमेंट देने आ रही होंगी, इसलिए मैं वही सोफे पर बैठ गया. भैया ने मेरा हाथ अपने लंड पर सरका दिया तो मैंने भी भैया का लंड भी टच किया. मैंने हंसते हुए कहा- ओके पर कहां करानी है?भाभी बोलीं- मेरे रूम में चलो.

मैं थोड़ा सवालिया सा हुआ, तब उसने बताया कि अब मेरे पति बच्चा करने की बोल रहे हैं.

चुदाई के बाद चंदर बोला- बिंदु जी, जिस दिन आपका पति कहीं आउट स्टेशन हो, तो आपको मुझसे चुदाई के लिए पूरी रात के लिए आना होगा.

मेरी पिछली कहानीडॉक्टरनी के साथ पहाड़ी पर मस्तीमें आपने पढ़ा कि कैसे मेडिकल कॉलेज में एक डॉक्टरनी से मेरी दोस्ती हुई और हमने दो साल तक पति पत्नी की भांति चुत चुदाई का सुख भोगा. मैंने कहा- यह तो होता ही है!मैं उसकी गांड भी मारना चाहता था तो मैंने अपनी इच्छा व्यक्त की लेकिन वो बोली- नहीं आर्यन, गांड में करने से दर्द होगा और मुझे दर्द से डर लगता है!मैंने भी अपनी बात पर जोर नहीं दिया क्योंकि आप जिससे प्यार करते हैं, उसको तकलीफ में नहीं देख सकते।उसके बाद उसने मुझे एक अच्छा फोन गिफ्ट किया, मैं मना नहीं कर पाया. भोजपुरी वीडियो जानामैं उससे फिर बात करने लगा- सोनिया जग रही है या सो गई?सोनिया- जग रही हूँ भैया बोलिए?मैं- सोनिया मुझे कुछ चाहिए है.

उसें आगे बताया कि वो अपनी कामवासना की अग्नि में जलती रहती है और इसे शांत करने का कोई उपाय खोज नहीं पा रही है. दोस्तों क्या बताऊं उनकी गांड इतनी गोरी और गोल गोल थी कि मन करने लगा कि अभी खा जाऊं, पर नहीं खा सकता था. मैंने पहले तो उसकी योनि पर धीरे से अपना हाथ रखा और फिर धीरे धीरे अपना पूरा पंजा खोलकर उसकी छोटी सी योनि को अपनी हथेली में भर लिया जिससे उसके बदन ने झुरझुरी सी ली.

कुछ देर बाद वो मुझसे पूछने लगीं- बोलो मज़ा आया या नहीं असली लंड से. लेकिन अगले ही पल मैं खुश हो गया था कि आंटी ने मुस्करा कर मेरी और देखा था.

मेरी जरा सी चूत में कैसे घुसेगा ये?मैंने बोला- सब हो जाएगा तू टेंशन मत ले.

जब सामने बैठ कर टांगों को ज़रा सा भी ऊपर करती थी तो चूत पूरी नज़र आती थी क्योंकि स्कर्ट के नीचे भी कुछ नहीं था. थोड़ी देर बाद मैंने जब उंगली निकाली तो मैडम की थोड़ी सी टट्टी मेरी उंगली पर लग गई थी. कुछ पांच मिनट की चुदाई में के बीच में ही भाबी ने अपना सारा पानी मेरे लंड पर छोड़ दिया.

सेक्सी भेजो सेक्सी हिंदी में सेक्सी जैसे ही रात के 12 बजते थे तो टीवी पर केबल वाला ब्लू फिल्म भी दिखाता था, तो उस रात भी मैं ब्लू फिल्म देखने का वेट कर रहा था. भाभी- देखो आर्या, वो एक एक्सिडेंट था, तुम्हारे लिए उसे भूल जाना ही बेहतर है.

मैं वहीं बेड के पास घुटनों पर बैठ गई और उनके पजामे को थोड़ा नीचे करके उनके लंड को अपने मुंह में ले लिया और उसे प्यार से चूसने लगी. मैं ऐसे ही सो जाती हूँ, कोई आएगा तो नहीं?भाईजान मेरी बात सुन खुश होते बोले- नहीं जूही कोई नहीं आएगा तू ठीक कह रही है, तुम ऐसे ही सो जाओ. उस चैट को पूरा पढ़ कर पता चला उसके बहुत सारे नंगे फोटोज उसने सर को भेजे हुए थे.

बीएफ सेक्स फिल्म हिंदी वीडियो

आप दूर क्यों चली गईं?मैं- तू तो मम्मी को बता रही थी, अब क्यों पास बुला रही है?काम्या- दीदी मुझे माफ़ कर दो पर अब रहा नहीं जा रहा मुझसे. आंटी ने कहा- वो तो मैं तुमको देख कर समझ गई थी, जब तुम मुझे अपनी छत से देख रहे थे. मैंने नताशा को नर्म गद्दे पर बिठा दिया और स्वयं खिड़की के सामने की सोफा चेयर पर बैठ गया, बोला- जाइए दोस्तो, हमारी रानी को खुश कीजिए!आर्थर और एरिक नताशा के नजदीक आ गए और नताशा बेड पर बैठ कर अपनी लाल कच्छी को एक साइड खिसकाती हुई उन्हें अपनी सुन्दर गुलाबी, बालरहित, क्लीन शेव्ड चूत के दर्शन कराने लगी.

यह मौका पाकर मैंने जो अलका से संवाद का सिलसिला शुरू किया था उसको सिरा फिर से पकड़ लिया. जैसे तैसे मैंने अपनी आँखें खोलीं, तो देखा कि मॉम मेरे बेड पे बैठी हैं और मुस्कुराते हुए मेरे सर पे अपना हाथ फेर रही हैं.

मैंने कहा- पूजा यार, मेरी लुँगी निकाल के पकड़ लो… अब क्या शरमाना! अगर हमने चूत चुदाई करनी ही है तो खुल के करें ना!मेरी बहू पूजा ने फौरन मेरी लुँगी निकाल दी और मेरा लंड पकड़ कर मसलने लगी, वो बोली- आपका तो बड़ा कड़क मोटा है, किसी जवान से क़म नहीं है.

मैंने भी झटके के साथ नीलम की ब्रा फाड़ दी, अब नीलम भाभी बिल्कुल नंगी हो गई थीं. फिर लगभग 20 मिनट की चुदाई के बाद आंटी 2 बार झड़ चुकी थी और मैं पहली बार झड़ने वाला था तो मैं बोला- आंटी, मैं होने वाला हूँ, कहाँ निकालूँ?तो आंटी बोली- मेरे मुँह में डाल दो!मैंने अपना पूरा माल आंटी के मुँह में डाल दिया और आंटी बड़े प्यार से सारा माल पी गई. मैंने सुमन भाभी को जोर से पेलना शुरू किया तो सुमन भाभी भी स्पीड के साथ रिप्लाइ करने लगीं.

उहह… स्सस्स…”फिर मैं नीचे लेट गई और मेरी टांगें पीछे करके उसने मेरी फिर से चुदाई शुरू कर दी. मेरा लंड उस टाइम पर सो रहा था और मुझे मालूम ही नहीं था कि वह क्या करने वाले हैं. तभी दीक्षा बोली- पागल, लंड तो चूत को फाड़ कर ही अंदर घुसता है।फिर प्रीति को पेशाब लगी लेकिन उससे बिस्तर से उठा नहीं गया तो मैंने उसे अपनी गोद में उठाया और बाथरूम में ले जाकर उंगली डाल कर उसकी पानी से चूत साफ की और अपना भी लंड धोया।करीब आधा आधा घंटे के रेस्ट के साथ मैंने दीक्षा और दिशा की चुदाई भी बिल्कुल उसी तरह से की.

वो चिल्लाने लगीं और बोलीं- ये क्या कर रहे कमीने!पर मैं उनकी क्लिट को ज़ोर ज़ोर से खींचते हुए चाटता रहा.

एचडी बीएफ फुल सेक्सी: मैं जहां किराए पर रहता हूँ, वो दो मंज़िला बिल्डिंग है, जिसके ऊपरी मंज़िल पर मैं और निचली मंजिल में मकान मालिक का परिवार और एक पड़ोसी रहता है. तो छुट्टी लेकर मैडम के साथ हो लिया।नीना को सजते संवरते दो घंटे लग गए और हम लोग हॉस्पिटल करीब एक बजे पहुंचे। डॉक्टरों के हर केबिन में खचाखच भीड़ थी.

ऊपर की तरफ थोड़े कम और मोटे चूचों की वजह से हल्के से लटकने का आभास देते हुए उसके गोल गोल बोबे. फिर नवीन ने अपने हाथ से मॉम का सर पकड़ लिया और अपने लंड पे ऊपर नीचे करने लगा. और जरा अपने साहब को खुल्ला करो, कब से इस टाईट फिट पेंट में कैद करके रखा है.

तो मॉम अपने घुटनों को ज़मीन पर रखकर नवीन के ऊपर झुक गईं और अपने दोनों हाथों से नवीन की लुंगी.

इसी चक्कर में मेरे दोस्त आपका खड़ा हो जाता है कि साली चुत भी चुदाई के लिए मिलेगी और पैसा भी मिलेगा. मेरी इस बात पर थोड़ी देर वो चुप रहीं और अचानक उन्होंने पूछा कि क्या तुम देखना चाहोगे??मैंने पूछा- क्या??उन्होंने अपने मम्मे तानते हुए कहा- मेरे ये बूब्स. जब वहां वो मूतने गया तो मैं भी उसके पीछे पीछे चला गया ताकि उसका लंड देख सकूं, पर मैं उसका लंड नहीं देख पाया.