डब्ल्यू डब्ल्यू इंडियन बीएफ

छवि स्रोत,सुहागरात बीएफ हिंदी

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी पिक्चर बाहुबली: डब्ल्यू डब्ल्यू इंडियन बीएफ, अब धीरे-धीरे उसे भी मजा आने लगा था और वो भी मेरा पूरा साथ दे रही थी.

बीएफ सेक्सी ब्लू ब्लू

जहाँ शायद दोनों ने मोबाइल नंबर एक्सचेंज किया और फिर वो लड़का चला गया. बीएफ वीडियो इंग्लिश वालीऔर एक मिनट बाद ही उसने पूरा लंड एक शॉट में ही मेरी माँ की गीली चूत में पेल दिया.

फिर मैं अपने चरम पर पहुँचने लगा तो मेरा निकलने वाला था, मैंने उससे पूछा- कहाँ डालूँ?उसने मुँह का इशारा किया. बीएफ बंगालऔर फिर रिया ने मेरी सास को पकड़ कर उन्हें बेड पर गिरा लिया और उनके होंठों को चूमने लगी, मेरी सास भी उस को चूमने लगी.

यह सुन कर मेरी हिम्मत बढ़ गई और मैं बोला- अनुष्का मेम, जो मुझे देखना है, वो आप दिखाओगी नहीं?ये सुन कर उसको थोड़ा गुस्सा आ गया और वो बोली- ऐसा क्या देखना है तुझे?मेरा लंड जो खड़ा था, वो भी उसने देख लिया था.डब्ल्यू डब्ल्यू इंडियन बीएफ: रिसेप्शन से होकर हम लोग सेकंड फ्लोर पर स्थित अपने कमरे में आ गए तो ओमार उतावला होकर मेरी पत्नी को मसलता हुआ कहने लगा- शानदार… हमारी छोटी सी नताशा को आज दो दो मोटे लंड मिलेंगे! दो दो लंड एकसाथ! एक सफ़ेद, एक काला! है ना, नताशा? तुम चाहती हो ना?आ हाँ.

अगर आपका प्यार मिला तो जल्द ही दूसरी कहानी भेजूंगा।मेरा मेल आई डी है:-[emailprotected].ये सब करते करते अचानक उसने एक ज़ोर का झटका लगाया और उसके लंड का टोपा मेरी चुत में पार हो गया.

बिहार के बीएफ पिक्चर - डब्ल्यू डब्ल्यू इंडियन बीएफ

जैसे मेरे को पूरी मस्ती चढ़ गई थी, वैसे ही दीदी का भी बुरा हाल हो गया था, वो पागलों की तरह मेरे लिप्स को काटने और चूसने में लगी हुई थी, ऐसा लग रहा था कि मैं दीदी को नहीं, दीदी मेरे को चोद रही थी.जैसे सिमरन लेटी थी, मैं उसकी उलटी दिशा में हो गया और मैं उसकी चूत चाट रहा था और वो मेरा लंड चूस रही थी.

मैंने अपने लंड की टोपी को उसकी चूत के मुँह पर रखा और धीरे से अन्दर डालने लगा. डब्ल्यू डब्ल्यू इंडियन बीएफ मेरे हर धक्के का जवाब वो पूरे लय ताल से अपनी कमर उचका उचका के देने लगी.

तभी मैंने भी जोर से पिचकारी मारी, फच्चच… से अपनी चूत का सारा पानी सास के मुँह में पेल दिया और मेरी सास ने चूत को चाट कर साफ किया.

डब्ल्यू डब्ल्यू इंडियन बीएफ?

वो आँख दबा कर बोली- तो ऐसे ही काम चला रहे हो?फिर मैं बोला- क्या बोला तूने?वो ‘कुछ नहीं. अब मैंने उससे कहा कि अब उसकी बारी है, वो मुझे बेड पर चित लिटाकर मेरे लंड को अपने मुँह में लेकर चूसने लगी. लेकिन प्रकृतिवश दूसरे लोगों से छिपकर सभी यह (कु)कृत्य करते हैं।सेक्स ना तो रहस्यपूर्ण है और न ही इसमें कोई पशुवृत्ति है। ना ही सेक्स पाप से जुड़ा है और ना ही पुण्य से।यह एक सामान्य कर्म है.

फिर मैंने एक तौलिया लाकर पूरा साफ किया और धो कर दूसरी पैंटी और लोअर पहन लिया. थोड़ी देर में काजल का दर्द कम हो गया तो वो अपनी गांड को नीचे से धीरे-धीरे उठा उठा कर रमेश को चोदने लगी. वो एकदम लाईट के नीचे ही बैठी, उससे लाईट का फ़ोकस उसकी चुत पर जा रहा था.

मैंने दोनों को बुलाया और बोला- देखो अब कल शाम तक हम तीनों घर में पूरे नंगे रहेंगे. उन्होंने लंड चूस चूस कर मेरा माल निकाल दिया पूरा माल अंदर गटक लिया और चाट कर पूरा लंड साफ़ भी कर दिया. एक दिन मैंने अपनी ननद से पूछा- शीतल ये बता, ननदोई जी इतना शरमाते हैं, रात को तेरे साथ भी ऐसा ही करते हैं?वो बोली- भाभी, उनके शरमाने पे मत जाओ… रात को मुझे खूब परेशान करते हैं.

उसने भैया को कॉल करके कहा- आज मिनी रात को मेरे यहाँ रुकेगी तुम इंतजार मत करना. तो उसने मुझे रूकने का इशारा किया, फिर खुद ही पैन्ट व अंडरवियर खोल कर धान के पुआल पर लेट गया.

मैं- तो क्या सोचा है क्या करोगे? सैटिंग करवाओगे कि नहीं?अमित- मैं क्या बताऊँ तुम जो भी कहो, जैसे बताओ.

बगीचे में एक कोने में जाकर वे दोनों रुक गए और उस लड़के ने मेरी मॉम को बाँहों में भर कर उनके होंठों पर अपने होंठ रख दिए.

दोस्त कहते थे कि ‘अबे एक जाएगी नहीं तो दूसरी कैसे आएगी, भूल जा उसे!’पर मैं उसको प्यार करता था. इधर रमेश ने अपनी बहन काजल को सोफे पर लिटा दिया और उसके बगल में बैठ कर उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिए. वे मेरे ऊपर चढ़ बैठे और अपना पूरा लंड फिर से गांड में अन्दर पेल दिया.

महेश- क्यों देख ली हिम्मत या तुम्हें और कुछ भी दिखाऊं?मैं- इसमें क्या था… कुछ ऐसा कर के दोखाओ ना कि जिसमें लगे कि हां हिम्मत वाला काम है. अब मेरे चूतड़ दिखने लगे थे, अगर इससे नीचे करती तो आगे बुर दिखनी शुरू ही हो जाती. काजल भी रमेश का लंड चूसना छोड़ कर पीछे पलट गई और मयूरी की तरफ देखने लगी.

आकाश ने यहाँ मेरे साथ धोखा किया और मेरी कोल्ड ड्रिंक में कुछ मिला दिया.

मुझे इस तरह देख कर रिया की आँखे चौड़ी हो गयी मगर अगले ही पल मैंने उसकी भी नाइटी खींच कर उतार दी. यह सेक्सी कहानी तब की है जब एक कंपनी में बात करने गया था, वहाँ की एच आर से मिल कर कुछ बातें करनी थी. झीनी सी नाइटी देख कर वो मेरी तरफ देख कर हल्के से मुस्करा उठी और वो उस कमरे को लॉक करके कपड़े चेंज करने लगी.

भाभी एकदम मेरे ऊपर भभकते कोयले की तरह बरस पड़ीं और बोलीं- भोसड़ी के… मैंने मना किया था कि तू अपना लंड किसी भी स्थिति में बाहर नहीं निकालना. मैंने अपनी तैयारी की और ट्रेवल एजेंसी में एक सीट बुक करा कर सुबह की बस से मैं जयपुर निकल गया. वो हंसती रही।मैंने उसे अंदर आने को कहा और उसे सोफे पे बैठाया और मैं कॉफी बनाने गया.

जैसे ही मैं उसे किस करते नीचे पहुँचा, उसने मेरा सिर पकड़ कर अपनी चूत पर लगा दिया और बोली- चूस इसे.

मेरी इच्छा तो उसे हवा में उठा कर फ्लाइंग पोज़ में चोदने की थी लेकिन एड्रिआना की हाइट और वजन काफी था, जो मुमकिन नहीं था. अदिति बेटा, नींद तो अच्छी आई ना?” मैंने अपना टूथपेस्ट ब्रश पर लगाते हुए पूछा.

डब्ल्यू डब्ल्यू इंडियन बीएफ सच में माया मुझे तुम सब कुछ देने को तैयार हो?”अमित के बात करने के तरीके से माया को सब समझ आ गया कि ये चोदने के चक्कर में है लेकिन इस वक्त उसे वो फाइल चाहिए थी जो कि कंपनी के लिए बहुत महत्वपूर्ण थी. मैंने टीवी चला दिया और हम लोग साथ में सोफे पे बैठ कर टीवी पर एक इंग्लिश फिल्म देख रहे थे.

डब्ल्यू डब्ल्यू इंडियन बीएफ चलो फिलहाल मुझे पसंद आई और फिर वो पैसे और ड्रेस, घड़ी आदि सब अपनी अल्मारी में रख के बंद कर दिए और आकर लेट गई. मैंने कहा- ये मेरे कजन की…पर तो वो बात काटते हुए बोला कि साले जब तेरे में ही दम नहीं थी, तभी तो ये बाहर तो मुँह मारेगी ही ना!वो बात मेरी ऐसे दिल पर लगी कि मैंने भी सोच लिया कि मैं एक बार इसे कह कर देख लेता हूँ, मान गई तो ठीक वर्ना अपना क्या जाता है.

मैं शाम को 4 बजे ग्वालियर से ट्रेन पर चढ़ा, मेरा रिजर्वेशन एस वन की सीट नंबर 51 पर था.

हिंदी भाभी का बीएफ

जब माधुरी कमरे में घुसी तो बोली- यह कैसी अजीब से गंध आ रही है कमरे से?मगर पुलकित और मंजरी दोनों मुकर गए- कैसी गंध? हमें तो नहीं आ रही, कहीं बाहर से आ रही होगी. मंजरी को हल्का पसीना भी आ रहा था, तेज़ तेज़ चलती सांस, तेज़ धक धक धड़कता दिल. मैंने भी अपना लंड साफ किया और शावर बंद करके एक दूसरे को टॉवेल से पौंछा.

मैं उसे फंसाने की सोच रही थी पर फंसने वाली थी खुद।तो एक बार हुआ यूँ कि मेरा ड्राइवर बीमार हो गया और पापा ने उसे मेरे साथ कॉलेज भेज दिया. मेरा लंड मोनिका की चूत पर रगड़ खाकर उस को सलामी दे रहा था और अन्दर आने की इजाजत मांग रहा था. मैं हर महीने के आखिरी 7 दिन जयपुर अपनी एक फ्रेंड के घर आकर रुकती हूँ.

उनको परवाह करनी चाहिए थी कि अब मोहनलाल (इन भाई-बहन का पिता और मयूरी का ससुर) घर आ चुका था और वो हॉल में दरवाज़े के पास खड़ा, ये दृश्य देख रहा था.

उसने चेन वाला टॉप पहन रखा था जो नीचे तक खुलता था और टॉप के नीचे कुछ भी नहीं पहन रखा था शायद जानबूझ कर!तो मैंने उसकी चेन खोल दी और उसकी चूची को हल्के से उजाले (नाइट बल्ब) में देखने का मजा ही कुछ अलग था. वो मुझसे उस कज़िन के बारे में पूछ रही थीं कि वो राहुल कहां है?मैंने बोला- मॉम, वो तो नशे में घूम रहा था. साथ ही साथ अपने हाथों से रेणुका भाभी के कूल्हों को भी मैं मसल रहा था.

ऐसी बातें मैंने अमित से की मतलब मैं अपने मन से अमित के सामने और उसे अपने सामने नंगा बिना कपड़ों के देखने का तरीका बता दिया था. ”हां संजू तुमने तो बूब्स पर काट काट के निशान बना दिए… नाख़ून मार दिए आआआह. सुमन मामी के मुँह से मादक सिसकारियां निकल रही थीं- ओह यस्स ओह्ह…मेरे लंड का साइज फूल कर तन चुका था.

अब मुझे कोई मौका नहीं देना तुम्हें… तुम जंगली हो… अच्छा हुआ यह मेरा पहली बार नहीं था वरना मेरी तो तुम जान ही निकाल देते. मैं उसे उसके नाम से ही पुकारता हूँ और वो मुझे भैया कह कर बुलाती है.

मैं भी हिम्मत न हार कर उनसे साफ साफ लहजे में बोलने लगा कि मैंने तो आपको पहले ही बोल दिया था कि मैं आपको प्यार करता हूँ. उतनी भी चिंता की बात नहीं है मैडम, आपकी कार में स्टेपनी तो होगी ही ना?”मेरा जवाब सुन कर मुझे उनमें थोड़ी राहत दिखी. सन्नी- सच में सर, आपने वीडियो बना ली उसकी?अमित- हाँ बना ली है, अब वो पिटारी में बंद हो चुकी है.

क्योंकि आप सभी जानते हो कि जो लड़के होते हैं, नॉर्मली नींद में उनका लंड ढीला ही रहता है.

वो जैसे ही पीछे मुड़ी, अपनी बहन की गांड देख कर मेरे मुँह से आह निकल गई. मैंने बोला- ठीक है आंटी, आप शाम को 4:00 बज़े बुक्स के साथ आने को कह दीजिए. घर में मॉम, मैं नानी और बहन ही रहते थे, मिलने वाले आते थे और दिलासा देकर जाते रहते थे.

मैंने उसे बताया कि मैं इंडिया से हूँ और यहाँ कांफ्रेंस के लिये आया हूँ. मैं उसे फंसाने की सोच रही थी पर फंसने वाली थी खुद।तो एक बार हुआ यूँ कि मेरा ड्राइवर बीमार हो गया और पापा ने उसे मेरे साथ कॉलेज भेज दिया.

अब मैंने हाथ फेरना शुरू किया और जैसे ही मैंने हाथ उसके सूट में घुसाया, उसने मेरा हाथ पकड़ लिया. नमस्कार दोस्तो, मैं मयंक, आपके लिए एक मजेदार हिंदी में देसी सेक्स स्टोरी लेकर हाज़िर हूँ. इतना कह कर मैंने शावर चालू कर दिया और उसे अपने पास खींचते हुए साथ में नहाने लगा.

एक्स एक्स एक्स सी बीएफ हिंदी

अंजलि थोड़ा मुस्कुरा कर बोली- मैं नहीं जा रही कहीं…अंजलि दीदी को मुस्कुराती देख मेरी जान में जान आई मैं कुछ बोल पाता कि वो फिर बोल पड़ी- देखो… घबराओ मत, मुझे भी आज किसी की जरूरत है… कितने समय से बस इस डिल्डो से मास्टरबेट कर रही हूँ.

मैंने पूछा- क्या किसी लौंडे की अब तक नहीं मारी? या कोई लौंडिया भी नहीं मिली? क्या ब्रह्मचारी हो?वह बोला- भैया सब काम किया. अमित- वो मान जाएगी, लेकिन तू बता तू तैयार है क्या इसके लिए… जो मैं बोलूं करेगा तू?सन्नी- जी अमित सर उसके साथ सेक्स करने के लिए मैं कुछ भी कर सकता हूँ. चटक लाल रंग का रीबॉक का लोअर जिसमें से उनकी पैंटी की इलास्टिक दिख रही थी.

बिस्तर पर नर्म गद्दा था, बिस्तर पे ए सी का रिमोट पड़ा था, अंजलि ने रिमोट से ए सी चालू किया और मुझे बिस्तर के ऊपर धक्का दिया. मैं हर महीने किसी न किसी बहाने से मामा के यहाँ जाने लगा और उससे मिलने लगा. सनी लियोन का देसी बीएफफिर उसने अपने लंड को मेरे मुख से निकाल लिया, मैं बाथरूम के फर्श पर लेट गयी, फर्श मुझे बहुत ठंडा लगा लेकिन चूत की कमुकतावश सब सह गई.

कुछ देर बाद वो वापिस चलने के लिए कहने लगा, मैंने उससे कहा कि मैं वापिस तभी वापिस चलूँगी जब वो मुझे अपना लन्ड दिखाएगा. फिर मैं उसे बोला- यार, चिंता मत करो तुम… कुछ नहीं होगा तुम्हें… बहुत मजा आएगा!तो उसने मेरा सर पकड़ कर अपने चूचों पर रख दिया और अजीब सी आवाज में बोली- चूसो इनको… सारा रस निकाल दो आज इनका!फिर क्या था मैं तो जंगली शेर की तरह उसके चूचों पर टूट पड़ा और जोर जोर से उन्हें चूसने लगा.

दीदी थोड़ा गुस्से और दर्द में मिलीजुली आवाज़ से मुझे हटने को बोल रही थी लेकिन मैं फुल स्पीड से चुदाई करने में लगा हुआ था. फिर मैंने लंड हिलाते हुए कहा- पायल डार्लिंग, इसको नहला तो दो… देखो कितना गंदा हो गया है. मैं उठा और उससे पूछा- क्या हुआ?तो एकदम सकपका गयी और अपनी चुची ढकने लगी लेकिन मैं बोला- डरो नहीं, बताओ क्या हुआ?वो मुझसे लिपट गई, मुझे किस करने लगी और बोली- ये ऐसे ही जल्दी से करके सो जाते है और मैं हमेशा अधूरी रह जाती हूँ.

मैं भी उसके निप्पल चुटकियों में भर के बड़े आराम से मसलने लगा और साथ में उसका निचला होंठ अपने होंठों से चूसने लगा. उसके दूसरे दिन भी जमकर चाची की चुदाई की, फिर चाचा शहर से आ गए तो दो दिन बाद मैं भी घर वापस आ गया. कोई भी लेखक अपनी लेखनी से कुछ भी लिखने को स्वतंत्र होता है या कोई भी कलाकार या मूर्तिकार अपनी पसन्द से अपनी कला को रच सकता है.

हमारे मम्मों की तरफ घूर कर देखते हुए उसने कहा- पैसे तो नहीं चाहिए हमें। बाकी तो आप समझ गयी होंगी।मैंने भी पागलों की तरह शक्ल बनाई और कहा- मतलब?तभी रिया ने मुझे करीब खींचा और ऐसे दिखाया कि कुछ कानाफूसी कर रही है.

आंटी बिल्कुल नंगी हो गई थीं। उनकी आँखों में मस्ती छाई हुई थी। मैंने भी अपने कपड़े उतारे और अपना लण्ड उन्हें चूसने को कहा।आंटी ने हिचकिचाते हुए कहा- मैंने ऐसा कभी नहीं किया. अगले दिन अपने घर में मैंने अन्दर खड़की के कांच से छुप कर देखा, जिसमें से अन्दर से बाहर का सब दिखता था, पर बाहर से अन्दर कुछ नहीं दिखता था.

मैं पहले से ही चुदी हुई थी, पर यकीन मानो मेरा कभी कोई आशिक़ या बॉयफ्रेंड नहीं था. गाड़ी के बाहर खड़े उसके लोगों ने देख लिया तो वो अपने आप ही अपना लंड पैंट के ऊपर से ही रगड़ने लगे. मुझे भी लगा कि मेरी ज़िंदगी किसी के काम आई।जो भी ये कहानी पढ़े प्लीज़ अपने विचार मुझे मेल से ज़रूर जरूर करना!मेरी मेल आईडी है[emailprotected]मुझे आप सब की मेल का बेसब्री से इंतजार रहेगा धन्यवाद….

मेघा कल सेक्स करने का मन है क्या?”क्यों क्या हुआ?”कल मन है तो कल संजय से करना, मैं सविता को बुलाऊंगा तो अलग अलग कमरे में सेक्स करेंगे. फिर मैंने उन्हें अपनी बांहों में उठा कर बिस्तर पर लेटा दिया और उन की ब्रा के हुक खोल कर उनके मम्मों को दबाने लगा और उन्हें मुँह में भर कर चूसने लगा, जिससे वो मचलने लगीं. 2 मिनट में वो खुद गांड हिला हिला के उछलने लगी और मुझे चुदने का मज़ा आने लगा.

डब्ल्यू डब्ल्यू इंडियन बीएफ दोस्तो मेरा स्कर्ट मेरे कूल्हों की दरार में घुस गया था और उसके ऊपर से उसका लंड भी अड़ा हुआ था. नौकर गंगाराम अन्दर आया और उसने महंगी शराब की कुछ बोतलें गिलास टेबल पर रख दिए.

मसाज सेक्स बीएफ

पहले तो सुमीना को डर था कि मैं एक कम उम्र के लड़के के साथ कैसी बातें कर रही हूँ. हमारी पोजीशन कुछ इस तरह थी कि मैं उसके पीछे खड़ा था और वो मेरी बांहों में थी, मैं रोटी बनाने की एक्टिंग करने लगा. मेरे लिये ये एकदम अनजाना रूट था मैं इस रास्ते पर पहले कभी नहीं आया था लेकिन ये बदला बदला माहौल सुखद लग रहा था.

सच में माया मुझे तुम सब कुछ देने को तैयार हो?”अमित के बात करने के तरीके से माया को सब समझ आ गया कि ये चोदने के चक्कर में है लेकिन इस वक्त उसे वो फाइल चाहिए थी जो कि कंपनी के लिए बहुत महत्वपूर्ण थी. दोस्तो, ये सब बताना जरूरी था ताकि आपको उसकी शक्ल सूरत और सीरत का पता लग जाए. सेक्सी बीएफ बुर में लंडपूनम अब और भी शर्मा गई और वो मेरी तरफ थोड़ा सा अपनी पीठ को घुमा कर बैठ गई और मूवी देखने लगी.

तुम रो क्यों रही हो?तो पूनम बोली- शेखर जो अभी हो रहा था, वो ठीक नहीं था.

बीच बीच में मेरा ध्यान बार बार सरिता की पारदर्शी नाइटी के अन्दर जा रहा था. वैसे तो उनकी चूत से बहुत पानी आ रहा था लेकिन जैसे ही मेरे होंठ उनकी चूत पे पड़े, ऐसा लगने लगा कि किसी ज़मीन से अपने आप पानी निकल रहा हो और मैं उस ज़मीन का किसान हूँ और मेहनत करके अपनी फ़सल तैयार कर रहा हूँ।मैं मौसी की चूत को जीभ और होंठों से चूसता रहा और वो आह…उमहँ… आह… आह… ऊह… आह… की आवाज़ निकलती रही.

करीब 20 मिनट की चुदाई के बाद मैं झड़ने वाला था तो मैंने लंड बाहर निकाला और पूनम के मम्मों के बीच लंड को सैट करके उसके मम्मों से लंड की मुठ मारना शुरू कर दी. फिर मैंने लंड हिलाते हुए कहा- पायल डार्लिंग, इसको नहला तो दो… देखो कितना गंदा हो गया है. इकलौती होने की वजह से मम्मी डैडी के लाड़ प्यार के कारण मैं बचपन से ही बिगड़ैल हो गई थी.

हमारा मकान जहां बन रहा था, वहां मैं चाय देने गई, वहां पर पांच मजदूरों के साथ में किशोर भी था.

मेरी रियल सेक्स स्टोरी में पढ़ें कि मैंने कैसे उसकी कुंवारी बुर की चुदाई की. मैं भी अब इतनी मदहोश हो चुकी थी कि पूरा जोर लगा कर उनको अपने अन्दर खींच रही थी. अमित- हाँ बोलो सन्नी, क्या काम है… कैसे याद किया मुझे?सन्नी- सर मुझे आपकी हेल्प चाहिए, अगर आप कर सकें तो बड़ी मेहरबानी होगी आपकी!अमित- क्या हेल्प चाहिए… कहीं तुम फिर से अपने दोस्त करण को बास्केटबॉल टीम में लेने की बात तो नहीं करना चाहते… अगर वो बात करनी है तो मैं अभी कॉल कट कर देता हूँ.

मालिक नौकरानी का बीएफमैंने भी वहाँ से निकलना ही उचित समझा, लेकिन पहले आकांक्षा को रोते और फिर पवन का मूड ख़राब देख कर मुझे पता लग गया कि दाल में कुछ तो काला है. उसने मुझे थैंक्स बोला, फिर उसने कोई नम्बर मिलाया और वो फ़ोन पर बात करने लगी.

जंगल वाला बीएफ वीडियो

उसकी पेंटी और ब्रा दोनों इम्पोर्टेड थी, गोर रंग पर काले रंग की ब्रा पेंटी बड़ी ही अच्छी लग रही थी. 10 साल पहले अंजलि दीदी 24 साल की खूबसूरत नैन नक्श और शरीर वाली, स्वाभाव से थोड़ा मुंहफट और कामुक लड़की हुआ करती थी. उमर हो गयी आपकी, बच्चों की शादियाँ हो गयीं लेकिन आपकी आदतें आज भी वही जवानी वाली हैं जैसे कल ही शादी हुई हो अपनी.

मैंने पूछा- क्या हुआ रे?तो वह बोली- बस ऐसे ही आपकी सेवा करना चाहती हूँ, आपको हँसते मुस्कुराते देखना चाहती हूँ. इस सेक्स स्टोरी में अभी तक आपने पढ़ा कि ठरकी ससुर दिनेश ने कामुकता की मारी बहू आरुषि की चूत चोद दी. शायद वो गाँव में जो मैंने आग जलाई थी, उसकी वजह से वो अन्दर ही अन्दर तड़प रही थी.

उसकी मम्मी ने मेरी मम्मी से बात की और मुझसे कहा कि रॉकी बेटा तन्नू भी तेरे साथ पढ़ना चाहती है. वैसे आप सोच रहे होंगे कि बहन से क्या पहले कभी मुलाकात नहीं हुई थी क्या?ऐसा नहीं है, हम बचपन से साथ खेले, बड़े हुए न… परंतु जब से जवानी में कदम रखा तो हमारे स्कूल अलग हो गये थे तो कभी कभी ही मिलना होता था वो भी घर के किसी उत्सव प्रोग्राम में ही. मैं भी जवानी में कदम रख रही थी और राघव के जादू भरे स्पर्श से अपना सब कुछ लुटाने को तैयार हो गई थी.

तभी सामने वाले अंकल ने चूत में डाल दिया, और एक अंकल ने मेरे मुंह में दाल कर मेरा मुख चोदन करने लगे!अन तीन तीन लोग मुझे चोदने लगे. इस नंगी वाली बात पर हम दोनों हंसने लगे और दिव्या ने एक बहुत ही सुन्दर वाइट कलर का सिंपल सूट निकाल कर दिया और कहा- जल्दी पहन के तैयार हो जा, वो बाइक से आता ही होगा, तो उसे कितना सा टाइम लगेगा.

उसकी आहें निकल रही थी पर वे अपने होंठ दबा कर अपनी सिसकियाँ दबा रही थी.

पर कैसे वो कुछ करने को तैयार होगी और लेगी कैसे?मैं- वो मैं कर दूंगी और कैसे देना है ये भी मैं बता दूंगी. चूत बीएफ चूत बीएफमैंने कहा- मामी अभी कुछ देर तो रुको! दम तो लेने दो!आधे घंटे तक हम दोनों नंगे ही लेटे रहे प्यार भरी बातें करते रहे. पाकिस्तानी बीएफ पाकिस्तानी बीएफउसने भी अपनी जीभ मेरे मुँह में डाल दी, जिसका मैं बेसब्री से इंतज़ार कर रहा था. मैंने टॉयलेट में जाकर अपने लंड को हिला कर बोला- बेटे, आज तुमको पंजाबी चूत दिलाता हूँ.

मैंने भी देर न करते हुए लास्ट झटका जोर से मारा और मेरा पूरा लंड उसकी नाज़ुक सी चूत ने समा लिया.

धीरे धीरे करके उन्होंने एकदम से अपने आधे से ज्यादा लंड को मेरी गांड में खोंस दिया. उसने पूछा- और सुनाओ भाई … क्या हाल चाल हैं?मैंने कहा- मैं तो मस्त हूँ लेकिन दिव्या यार, तुम भी तो खूब मस्त हो गयी हो. जब मैंने देखा कि उस लड़के ने अपना हाथ लड़की के कुरते में डाल दिया और चूची जोर जोर से मसलने लग़ा, तब पिंकी का चेहरा तमतमा गया.

अब मैं 5 मिनट तक ऐसे ही उसके होंठों को चूसता रहा, फिर मैंने एक और धक्का मारा और मेरा पूरा लंड उसकी चुत में घुसता चला गया. वैसे एक बात बताऊँ वो रेड कलर की ड्रेस मैंने ही दी थी, अवी ने नहीं और उसमें साइड में कुछ है भी नहीं. अब हम गेट पर आ गये और विनीत नीचे उतर गया लेकिन आरजू अभी भी मेरी बाहों में थी, ट्रेन ने हॉर्न दिया तो मैं बोला- अब जाओ!तो वो रोने लगी.

बीएफ हिंदी एक्स एक्स एक्स

फिर मैंने उसको टेबल से उतार कर टेबल को ही सटा कर घोड़ी बनाया और चोदा. अंशु यानि मेरी कट्टो को बहुत मजा आ रहा था, वो सिसकारियाँ भरने लगी थी- उम्म्ह… अहह… हय… याह…अब उसके मुँह से आवाजें आ रही थीं. मैंने उसकी गद्देदार गांड पर अपना हाथ लगाया और उसे सहलाना शुरू कर दिया.

इसी तरह मेरी लाइफ कट रही थी कि अचानक ही एक रोमांटिक मोड़ आ गया उसमें हुआ ये कि मैं एग्जाम देने दूसरे स्कूल गई थी तो वहां ड्रेस पहन के ही जाना था, तो मैं भी उसी ड्रेस में गई.

कहानी कुछ यूं शुरू हुई कि हमारा घर काफी बड़ा है, घर के पिछले हिस्से में एक और गेट है, जो एक गली की ओर खुलता है.

मेरी पिछली कहानी थीएक मस्त लड़की से मुलाकात फ़िर उसकी चूत की चुदाईये पोर्न स्टोरी मेरे अमेरिका में बिताये हुए कुछ दिनों की है. पर शाम को गले से भी लगेगा! मैं कैसे सब करूँगी, यही सोचते सोचते मैं सो गई. सेक्सी पिक्चर डाउनलोड बीएफयह कहते हुए मोहन लाल ने अपनी दो उंगलियां मयूरी की चूत में डाल दीं और और अन्दर बाहर करते हुए उंगलियों से उसकी चूत को चोदने लगा.

मैंने दीदी की पैंटी पूरी उतार दी और अपनी एक उंगली अंजलि की गांड के छेद पर रख दी और उसे दबाते हुए चूत को चाटने लगा. फिर जब मम्मी दूसरे कमरे में गयी तो बहन को गले मिला, मैं कभी गले नहीं मिलता था पर उस दिन मिला और अपनी बाहों में उठा लिया. मैंने अन्नू भाभी को अपनी गोदी में ले लिया और लंड फिर से अन्नू की चूत में डाल दिया.

[emailprotected]आप मुझे फेसबुक पर भी मिल सकते हैं मेरी फेसबुक आईडी है. मैं उनके चेहरे पर अपना चेहरा रखकर सो रहा था और जन्नत का सुख ले रहा था.

वो मेरे पड़ोस में रहती थी, दिखने में वो एकदम हीरोइन काजोल जैसी है और उसका शरीर तो ऐसा मस्त था कि बस देखते ही जान निकाल लेती थी.

वो भी मॉम से मस्ती में बातें कर रहा था तो मॉम का सारा ध्यान उस पर था मुझ पे नहीं. और देखते ही देखते एक ज़ोर का झटका मैंने लगाया, जिससे मेरा पूरा लंड एक साथ पूनम की चुत में उतर गया. फिर थोड़ा संभल कर उन्होंने मुझे पढ़ाना शुरू किया कि रिप्रोडक्शन का हिन्दी में अर्थ होता है प्रजनन.

हिंदी में बीएफ भेजना वो इतने जोर-जोर से धक्के मार रहा था कि काजल का पूरा शरीर इस चुदाई की वजह से आगे पीछे हो रहा था और उसकी कामुक सिसकारियों की आवाज़ भी काँप रही थी. अब आप अपनी कहानी को निःसंकोच लिखना शुरू कर दें, ये कभी न सोचें कि इस पढ़ कर कोई क्या कहेगा … बस लिखते जाइए, जो भी जैसे भी विचार मन में आयें लिखते जाइए; पीछे देखना मना है किआपने क्या लिखा है.

कुणाल ट्रेन में अपनी बर्थ पर गया तो देखा कि वहां पर 5 लोग बैठे हैं. अब मेरे लंड का तो बुरा हाल हो रहा था तो अब मैंने ज्यादा टाईम बर्बाद ना करते हुए उसकी टाँगें खोली और कूल्हे के नीचे दो तकिये लगा दिए ताकि वीर्य अच्छी तरह से गहराई से अंदर जाये और उसे जल्दी प्रेग्नेंट करे. मैंने उसकी बांह के ऊपर तक आया, तभी उसको कुछ लगा और उसने मेरी तरफ देखा.

बीएफ पिक्चर सेक्सी बीएफ हिंदी

पूजा ने माला की ओर देख कर बाथरूम जाने का इशारा किया, लेकिन माला ने न का इशारा किया तो विकास उसे बाथरूम ले कर चला गया. दोस्तो, अन्तर्वासना पर ये मेरी पहली कहानी है, बीवी की सहेली की इन्दिना चुत की चुदाई की…मेरा नाम समीर है, उम्र 27 साल, लंड की साइज़ 7. ” बुदबुदाते हुए माया दरवाजे की तरफ बढ़ने लगी कि तभी अमित अन्दर आ गया और उसके पीछे था उस्मान.

साफ़ था कि भाभी की चूत बहुत गर्म हो चुकी थी और वो अपने पैरों से मेरे हाथ को अपनी चूत पर दबाए जा रही थीं. मुझे देखते ही दीदी चिल्लाई- ये क्या बदतमीज़ी है? नॉक करना नहीं आता तुम्हें?अपनी पैंटी ऊपर करते हुए बोली अंजलि दीदी.

उसकी पेंटी पूरी गीली हो चुकी थी मैंने अपनी जीभ निकाली और उसके चूत रस को चाटने लगा पेंटी के ऊपर से… इससे वो आउट ऑफ कंट्रोल हो गयी और कहने लगी- रवि प्लीज सताओ नहीं, बस अब डाल दो!फिर मैंने कहा- इतनी जल्दी कहाँ, अभी तो शुरुआत है.

अब हमें होश आया तो जल्दी से कपड़े पहने और उसके बाद हमने मेज को साफ़ किया. तो मैं भी अपने कपड़े पहन कर घर जाने के लिए कह कर भाभी का एक लंबा चुम्बन लेकर अपने घर आ गया. उसने अपना वीर्य मेरे मुँह पर फैला दिया, कुछ मेरे मुँह के अन्दर भी चला गया.

मैंने कहा- बहुत देर बाद आई हो?उसने कहा- काम था!मैंने कहा- अच्छा!फिर वो बोली- थोड़ा सामान दे दो!मैंने कहा- बताओ?उन्होंने एक रेड कलर की लिपस्टिक, क्रीम, पाउडर वगैरा लिया, मेरे मन में आया कि लगता है प्लान फेल हो गया, वो ब्रा और पैन्टी नहीं ले जाएँगी!इतना सोच रहा था कि रज़िया आपा बोली- जोड़ दो, टोटल कितने पैसे हुए हैं?यह सुन कर तो मैं अन्दर ही अन्दर उदास सा हो गया. शिखा दीदी अब तक पूरे गुस्से में थी, अगर अमित अभी उनके सामने होता तो दीदी सच में उसका खून कर देती!अमित- हाँ क्यों नहीं, वैसे मेरे और भी 2 दोस्त हैं जो उसकी चूत लेने को बेकरार है, तेरा भी नंबर लगवा दूँगा, लेकिन पहले तू सपना से मेरा काम करवाना उसके बाद तेरी बारी आएगी…सन्नी- ठीक है सर मैं कोशिश करता हूँ, और जैसे ही कुछ होता है मैं आपको फोन करता हूँ. वो जैसे खुद से बात करते हुए ऐसे ऊपर छत पर देख कर बोली- हे भगवान मुझे तूने लड़की क्यों बनाया.

मैं उठा और उससे पूछा- क्या हुआ?तो एकदम सकपका गयी और अपनी चुची ढकने लगी लेकिन मैं बोला- डरो नहीं, बताओ क्या हुआ?वो मुझसे लिपट गई, मुझे किस करने लगी और बोली- ये ऐसे ही जल्दी से करके सो जाते है और मैं हमेशा अधूरी रह जाती हूँ.

डब्ल्यू डब्ल्यू इंडियन बीएफ: बाथरूम में ब्रांडेड क्रीम, हेयर रेमूवर्स, मसाज क्रीम और कई तरह के परफ्यूम थे. शिशिर ने अपने लंड को उसकी चुत पर लगा कर धक्का लगाया तो लंड उसकी चुत में चला गया.

वो ऐसे ही मेरे लंड पर बैठी रही और देखने लगी कि खून की एक पतली सी लकीर मेरे लंड के ऊपर से मेरे पेट पर आ रही थी. वहां कमरे में धान का पुआल रखा था, चाचा ने मुझे उस पर लिटा दिया, औंधा किया. मैंने बहुत ही मेहनत से पढ़ाई की और अपनी 11 वीं की परीक्षा बहुत ही अच्छे नंबर से पास की.

ऐसा मैंने इसलिए कहा कि सच में ये इते पैसे देगा भी या नहीं?अमित- मैं दे दूंगा.

मैंने कहा- टैलिपैथी से तुम्हारा संदेश मुझे पहले ही मिल गया था!अब प्रेरणा और फफक कर रो पड़ी और मुझसे लिपट कर कहने लगी- ओह संदीप, तुम नहीं होते तो मेरी जिन्दगी का मकसद पूरा नहीं हो पाता और मैं भी जिंदा नहीं होती।उस वक्त माहौल भावुक हो उठा था, फिर धीरे धीरे सभी सामान्य होने लगे. मैं पेंटी के ऊपर से ही उस की चूत चाटने लगा और वो मेरा सर पकड़ कर अपनी चूत में ऐसे दबाने लगी, जैसे वो मुझ पूरे के पूरे को चूत के अन्दर डाल लेगी. मेरी मम्मी ने उस नीग्रो के लंड को अपने उंगलियों से धीरे से पकड़ा, उसकी आगे की चमड़ी को पीछे को किया, तो फूला हुआ.