भाभी का चुदाई बीएफ

छवि स्रोत,सेक्सी खून वाला वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

न्यू गर्ल्स: भाभी का चुदाई बीएफ, वह लेट गए, मैं भी उनके बराबर में जाकर लेट गया- मजा आ गया मेरी रानी!मैंने कहा- हां मेरे राजा.

देहाती भाभी के साथ सेक्सी वीडियो

तभी भाभी अकड़ गईं और वो मेरे सिर को पकड़ कर चुत के अन्दर दबाने लगीं. বাংলায় বিএফसुमन भाभी मदहोशी में मेरे कान में बोलने लगीं- प्लीज़ जल्दी करो, मुझे अब और सहन नहीं हो रहा है.

करीब दस बजे अलका का फोन आया- राज जी, आप सोने की तैयारी में तो नहीं हैं ना?आवाज़ में मैंने कम्पन भांप लिया; यह भी भांप लिया कि उसकी थोड़ी सी साँस चढ़ी हुई थी; पक्का था कि कहानियां पढ़ के अलका पर कामभूत सवार हो गया था और शायद चूत पर उंगली रगड़ रगड़ के शांति लेने की कोशिश में थी. बीपी सेक्सी 2020वो सोनल चौहान जो जन्नत मूवी में एक्ट्रेस है, बिल्कुल वैसी लग रही थी.

मैं भी उनके लंड को स्पर्श करके दबा रहा था, फिर मैंने अंकल के लंड को चूसना शुरू कर दिया.भाभी का चुदाई बीएफ: इसके साथ ही मैंने अपने हाथ को नीचे ले जाकर उसकी सलवार को नाड़ा खोलना चाहा.

अब तो रात में छिप छिपा कर हम दोनों चुदाई का खुल कर मजा लेने लगे थे.वो अपने मकान में किराये से रहने वाली औरतों के बारे में भी बातें करने लगा कि कौन कैसी है और किसका स्वभाव कैसा है.

एक्स एक्स एक्स हॉट सेक्सी वीडियो एचडी - भाभी का चुदाई बीएफ

उसकी जांच नहीं करानी है क्या?उसका जवाब था- उसमें तो बस तुम्हारा लंड ही जाता है रोज़ रोज़ और कुछ नहीं है.यह कहते हुए उन्होंने मेरे लंड पर हाथ रख कर लंड को अपनी मुट्ठी से मसल दिया और बोलीं- देखो ये है मेरा नसीब… अपनी मांद में जाने के लिए फूल रहा है.

मौसी को भी मजा आ रहा था, वे भी नीचे से अपने चूतड़ उछाल कर मेरे साथ सहयोग कर रही थी. भाभी का चुदाई बीएफ जब वीरू ने अपना लंड मेरी चूत में डाला तो मुझे दर्द भी हुआ था और ये लग रहा था कि भाबी अन्दर ना आ जाएं… और खेल न बिगड़ जाए.

हमारे बीच सच कहूँ तो सिर्फ चुदाई वाली प्यास थी और चुदाई की चाहत थी, जिससे हम एक दूसरे से सिर्फ आँखों में देख कर महसूस कर लेते थे.

भाभी का चुदाई बीएफ?

मैंने अपने आपको रोक कर रखा कि कहीं भाभी को शक नहीं हो जाये!क्या गोरी चिकनी टाँगें थी. मैं बेड पर खड़ा हुआ, अंडरवियर उतार कर लंड बाहर निकाला और लंड को पकड़ के धीरे से ऊपर नीचे करने लगा. मुझे लगा अब मुझे उसे सबूत देना ही पड़ेगा तो मैंने उसे बोला- अभी तुम्हें सब दिखाता हूँ.

काफी दिनों तक तो मैं उनको टालता रहा, पर फिर वो मुझे जान से मारने की धमकी देने लगे थे. मैंने थोड़ा सा और आगे बढ़ने की सोची, मैं बोला- अलका जी सच कहूं तो आपके हाथ इतने खूबसूरत हैं कि इनको वैसे ही हर वक़्त चूमने का दिल करता रहता है. कि तभी बोली- दीदी, आपकी चूत का टेस्ट बहुत अच्छा है, मन कर रहा है कि बस चाटे जाऊँ!मेरे भी मुँह से अहहह हहहह… की आवाजें निकलने लगीं और पूनम भी आहहहह अअ अअअआहह हहहह उउहह हहहह कर रही थी.

अपने लंड का पूरा पानी पिलाने के बाद वो फिर से अपना मुँह मेरी चुत पर मारने में लग गया. यह सब देख कर मुझे उस के ऊपर बहुत गुस्सा आया और मैंने उसको बहुत कुछ सुनाया. ये मेरी पूरी जिम्मेदारी होती है कि मेरे साथ कोई भी लड़की, आंटी या भाभी दोस्ती करती हैं, उनकी निजता बनाए रखूं.

मैं उसको फोन करने ही वाला था कि महक का खुद फोन आ गया, वो मुझसे चुदने के लिए कहने लगी. मकान मालिक मेरे पीछे आ गए और बोले- हाथ ऊपर करो वन्द्या!मैंने नहीं किये तो अपने आप करवाए और मेरे टॉप को नीचे से खड़े खड़े उतार दिया, जैसे ही मेरा टॉप उतरा… तब पीछे खड़े मकान मालिक सीधे मेरी पैंटी के ऊपर से ही मेरी पीछे गांड में अपना लन्ड रगड़ने लगे और पीछे से मेरे दोनों दूध कस के पकड़ लिए.

मुझे नेहा ने कोई बारह बजे उठाया और बोली- यह क्या हाल बना रखा है बिंदु?मैं बुरी तरह से चौंक उठी और बोली- क्यों क्या हो गया?नेहा मुझसे बोली- यही तो मैं पूछ रही हूँ, इस तरह से नंगी क्यों पड़ी हो.

मैंने झट से उसे बाँहों में उठाया और बेड पर पटक कर, उसकी टांगें चौड़ी करके एक ही झटके में पूरा लण्ड चूत में ठोक दिया.

ब्रा उतरते ही उसके चूचे ऐसे बाहर आए, जैसे किसी कबूतर को पिंजरे से आज़ाद कर दिया हो. गांड में बहुत जलन हो रही थी, तो मैंने उसे पीछे को धक्का दे दिया, लेकिन अब वो कहां मानने वाला था. सभी मेम्बर लेडीज ही थीं, जो अपने ब्वॉय फ्रेंड साथ में लाई थीं या अकेले ही आई थीं.

कुछ देर बाद शिखा ने मेरे गाल को चूम कर मुझे उठाया- मेरे प्यारे मैगी इधर कहां सो गया? चल इतना बड़ा बेड है, उधर चल. इस्स्स् करने लगे जिनमें हल्के मीठे दर्द का भाव भी था।उसकी ये हालत देखकर मैं ज्यादा देर खुद को संभाल नहीं पाया और 4-5 धक्कों के बाद ही मेरे लंड ने उसकी चूत में थूकना शुरु कर दिया।ये क्या हुआ…मैंने मन ही मन कहा. तभी एक बिजली का करंट जैसा मेरे टट्टों में लगा, मैंने एक सुपर पावरफुल शॉट ठोका और एक विस्फोट के साथ मैं अलका रानी अलका रानी की चीख मारता हुआ झड़ गया.

भाभी- जाएगा… पूरा जायेगा! तुम मेरी चिंता न करो, बस धीरे धीरे पूरा उतार दो!मैंने एक धक्का दिया और 3 इंच गया.

पहली बात की मुझे आंटी ना बोला करो, मेरा नाम बिंदु है और इसी नाम से बुलाया करो, आंटी सुन कर ऐसे लगता है कि मैं बूढ़ी हो गई हूँ. मैंने आज तक चार आदमियों के लंड अपनी गांड में लिए हैं और कम से कम 10 आदमियों का लंड चूस भी चुका हूं. भाभी के मुँह से सेक्स की बात सुनते ही मेरा लंड तन कर खड़ा हो गया और मेरा मन सेक्स करने को उत्तेजित हो गया.

वो बोली- मैं ज़रा बाथरूम से होकर आती हूँ, आप तब तक टीवी पर डीवीडी चला कर मूवी देखिए. मैंने अंश से गांड बजाने के लिए कहा- चलो अब तुम मेरी गांड की ओपनिंग कर दो. मैंने उसका कामरस जो मेरे हाथों में था पहले सूंघा, जिसकी गंध बिल्कुल 25 साल की लड़की के कामरस के समान थी.

मैंने उनसे पूछा कि कंडोम किधर है?तो उन्होंने आँखें बंद किए हुए ही उंगली उठाते हुए अलमारी की तरफ इशारा कर दिया.

फिर भाभी ने बड़े प्यार से मेरे गालों पर हाथ रख के मेरा चेहरा सीधा किया और रुई से भी कोमल अपने होंठ मेरे होंठों पर रख दिए. उस दिन हमने डेढ़ दो घंटे सेक्स लिया जिसमें अनामिका ने तीन बार पानी छोड़ा था और मैं दो बार झड़ चुका था, एक बार मैंने अपना माल उनकी चूत में छोड़ दिया था और दूसरी बार उनकी गांड में।और फिर थोड़ी देर बाद हम किस करने लगे और मैं अपने बदन को साफ कर के मेरे कपड़े पहन कर मेरे घर वापस आ गया.

भाभी का चुदाई बीएफ जिन्हें पढ़कर वाकयी बहुत निराशा हुई, परन्तु कुछ इमेल्स के चलते अपने प्रिय पाठकों को छोड़ना मुमकिन नहीं है. मैं उनके इस रूप से एकदम से सहम गया और मैं बहुत डर गया था, मैंने हाथ जोड़ कर सॉरी बोला और तुरंत वहां से भाग गया.

भाभी का चुदाई बीएफ जैसे ही मेरे हाथ उसके मम्मों पर लगे एक तेज़ कंपकंपी उसके बदन में आयी. मैंने अपने कमरे में जाकर दरवाजा बंद किया और मिरर में देखा तो जो हालत में कुछ समय पहले शीशे में देख चुकी थी, उससे कहीं ज़्यादा और खराब हो गई थी, ऐसा लग रहा था जैसे चुत पूरी बाहर निकल कर आ गई हो.

उसको चोदते हुए बहुत देर हो गई थी, पर मेरा पानी निकल ही नहीं रहा था.

लड़की चूत दिखाओ

वो जोर जोर से कामुक सिसकी भर रही थी और मुझे कह रही थी- अह्ह्ह्ह अह्ह्ह्ह चूसो इसे… और जोर जोर से… साली ने बहुत परेशान किया है आदेश… फाड़ दो इसे. दीदी ने कहा- रानी सच बोल रही थी, तेरे जितना लंबा और मोटा लंड मुझे आज तक नहीं मिला. उसे किसी ने बताया था कि पीरियड के बारह दिन के बाद चुदाई करने से बच्चा ठहरने सबसे ज्यादा चांस होते हैं!बात भी सही थी तो मैंने भी उसकी हां में हां मिला दी और उसे अपने फ्लैट पे ले गया.

वो काफी अन्दर तक मेरे लंड को लेने की कोशिश कर रही थी, पर ले नहीं पा रही थी. उनके पति इंडियन आर्मी में थे, जिनकी कश्मीर में आतंकवादियों द्वारा हत्या कर दी गई थी. हमें एक दूसरे से प्यार हो गया था लेकिन कोई इजहार नहीं… कोई कुछ बोला नहीं बस मूक अनकहा सा सच्चा प्यार!बहुत मजा आ रहा था इस प्यार का…एक दिन वो बोली- आर्यन, तुम मुझे कुछ गिफ्ट नहीं दोगे?मैं बोला- क्यों जिया? आज बर्थडे है क्या आपका?जिया बोली- तुम आज शाम को मेरे घर पर आना, मैं सब बताऊंगी।उसने मुझे अपने फ़्लैट का पता बताया और कहा कि शाम आठ बजे मैं तुम्हारी प्रतीक्षा करूंगी.

मैंने गुर्रा कर कहा- अच्छा… तो बिल्कुल भी सबर नहीं हो रहा हराम की चुदक्कड़ पैदाइश… चल तू भी क्या याद करेगी अब ठोक ही देता हूँ तेरी मलाई वाली चूत को… भोसड़ी वाली रांड, अब हो जा तैयार इस लौड़े को झेलने!जीजा साली सेक्स की कहानी जारी रहेगी.

उसने पूछा- क्या मुझे नंबर मिल सकता है?तो मैंने अपना नंबर दिया, उसने नंबर सेव किया और हेल्लो मैसेज कर के अपने सीट पर चला गया. आज मैं भी शरारत के मूड में थी- क्या बात है जनाब, आज आप चूमेंगे नहीं हमें?मुझे क्या पता था कि वो तो तैयार है. हम जैसे वहां पहुंचे, दी ने मुझसे कहा- आज मैं तुमसे बहुत सारी बातें करूँगी.

मैंने उसे फिर तैयार होने को बोला और वो मस्ती में एकदम से मुझे लिपट गई. यह घटना आज से करीब 2 साल पहले जब मैं अपने चाचा के घर भोपाल मध्यप्रदेश में एग्जाम के सिलसिले में गया था. धीरे से मैंने अपना लंड उसकी मुलायम गांड से छुलाया, वो पहले से तैयार खड़ी थी.

तभी दीदी ने रानी दीदी को फोन किया और उससे कहा- कमल को बता दे तू इससे क्या चाहती है. मौसी की चूत काफी गीली थी तो मेरे लंड पर कोई खास रगड़ नहीं लग रही थी.

सुमन भाभी की जांघें एकदम भरी हुई गोरी केले के तने सी एकदम मांसल थीं. फिर थोड़े टाइम बाद मैं उनसे और चिपक कर सो गया और मेरा लंड जो अब फुल टाइट हो गया था, वो भाभी की गांड पर चिपका कर सोने का नाटक करता रहा. मैं उठा और मामी की गांड की तरफ आगे बढ़ा और अपने हाथ से उसकी गांड सहलाने लगा.

पर मैं नहीं रुका, मैं घर आ कर सीधा रूम में घुस गया और अन्दर से लॉक करके बिस्तर में लेट गया.

हम पैदल शहरियों की भीड़ से भरी त्वेर्स्काया स्ट्रीट पर चलते हुए बिग थिएटर तक आ गए. अंकल पूछने लगे- मजा आ रहा है मेरी रानी?हां आ रहा है…”मैं सिसकारियां भरने लगा. उस रात को बिंदु माँ मेरे रूम में आईं और उन्होंने ही अपने हाथों से रूम का दरवाजा खोल दिया.

जैसे ही मैंने साड़ी ऊपर करनी चालू की, तभी नीचे से मम्मी ने मुझे आवाज लगाई और मैं सब कुछ छोड़ छाड़ कर वहाँ से भाग गया. तभी आर्थर ने अपने दाहिने हाथ से लंड को मेरी बार्बी डॉल की गांड से बाहर निकाल कर उसकी चूत में ट्रान्सफर कर दिया और चुदाई जारी रखते हुए अपने दोस्त से पीछे जाकर फ्री की वेश्या की गांड मारने को कहा.

तत्काल प्रिया बेचैन हो उठी और अपनी उंगली मेरे मुंह में इधर उधर मोड़ने-तोड़ने लगी. सफ़ेद कसी हुई ब्रा में प्रिया का कुंदन सा सुडौल शरीर मेरे सामने दमक रहा था. मैं 4:45 पर ही बस स्टैंड पहुँच गया, तब तक बस भी स्टैंड पे लग चुकी थी.

चुदाई लड़की की चुदाई

वो जिस स्थिति में सोई हुई थी, उसमें उसके नितम्ब और उनके बीच में छुपी उसकी गांड दीख रही थी.

मैं शाम को ऑफिस से निकलने के बाद सीधा कामिनी के ऑफिस गया और अपनी बाइक खड़ी करके ऑफिस के रिसेप्शन पे गया. भाभी आगे चल रही थी और मैं उनके पीछे… कि तभी मुझे सॉरी वाली बात याद आई और मैं तेज चल कर उनके पास गया और कहा- जरा सुनिए, वो मेरा हाथ गलती से आपकी कमर पर आ फिसला था… उसके लिए सॉरी!उन्होंने कहा- कोई बात नहीं!और हम दोनों साथ साथ दूसरे मेट्रो स्टेशन की तरफ जाने लगे. इधर मेरी गांड फट रही थी कि उसको हिडन कैमरे के बारे में न मालूम चल जाए, पर किस्मत को क्या करता.

फिर एक दिन एजेंसी से एक कॉल आता है कि बधाई हो, आपका पहला ग्राहक तैयार है. फिर वो उठ कर मेरे साथ अपने कमरे में चली आईं और मुझसे बातें करने लगीं. वर्क साडीपूनम चिल्ला रही थी- आगहहह उउ उउउउहह हहह हहह दीदी… प्लीज चोद दो! और तेज से मेरी चूत को चोदो… फाड़ दो मेरी चूत को! कुछ और डाल दो इसमें मोटा सा प्लीज दीदी!और इतना कह कर पूनम ने मेरे मुँह पर जोर से फच्च च्च्चचचच से पिचकारी छोड़ दी और मेरा सर पकड़ के अपनी चूत में पेलने लगी और वो झड़ गई.

उम्हह…अचानक से नीतू मैडम का शरीर अकड़ने लगा और वो अपने चूतड़ उछाल उछाल कर ओरल सेक्स का मजा ले रही थी. ”उसने मुझे जल्दी से अपनी बाँहों में ले लिया और किस करना शुरू कर दिया उम्म्मम्म आज तो खा जाऊंगा बहुत हॉट माल है यार तू…”उम्म्मम्म धीरे थोड़ा…”उह… अब रुका नहीं जा रहा जान… मुझे तो बस चोदना है तुमको…”तो चोद लो न… इसी लिए तो आई हूँ…”उम्म्मम्म… अहह… क्या मस्त चुचे हैं मेरी जान के…”तो इनको खा जाओ ना जान…”आआआह…”मेरी जांघें चूसो न…”हां… अभी चूसता हूँ.

और मैंने भी धीरे धीरे करके ही लगभग 2 मिनट में पूरी तरह मेरा लंड उसकी चूत में घुसा दिया. चिंता मत करो, मर्द और घोड़े अपनी खुराक जानते हैं!” मैंने हँसते हुए जवाब दिया. मैंने जानबूझ कर सबसे पीछे वाली दो सीट वाली तरफ की एक सीट बुक करवा ली.

मैंने मैडम के साथ बैठ कर खाना खाया, खाने के बाद केसर का दूध का गिलास पिया. मरता क्या न करता… मैं कामिनी के पास गया और उसकी चूत से विवेक का माल निकल रहा था, पिचकारी भी उसने लम्बी वाली छोड़ी थी. आंटी ने मना कर दिया तो मैंने फिर से कहा, तो उन्होंने इठला कर कहा- तुम्हें सोना हो तो सो जाओ मगर मुझे इतना जल्दी नींद नहीं आती है.

इस कहानी में मैंने एक भाभी के बारे में लिखा है, जो कि मुझे पिछले महीने अहमदाबाद के बोपल एरिया के गोटिला गार्डेन में मिली थीं.

मैंने उसे बांहों में भर लिया और वैसे ही जमीन पर लिटा कर चूमते हुए फिर से धीरे धीरे उसकी छोटी सी चुचियां दबाने लगा. भाभी ने काली लेगी और रेड कुर्ता वी गले का पहना हुआ था, उनके बूब्स देख कर फिर मेरा लण्ड अंगड़ाई लेने लगा.

वो ‘उम्म… उम्म…’ करने लगीं और मैंने पूरा माल सीधा उनके गले में उतार दिया. मैं भाभी से बात करने का कुछ बहाना चाह रहा था, पर मौका नहीं मिल रहा था. मैंने उठकर अपने कपड़े पहने और बाहर आया तो देखा दीदी खाना बनाने की तैयारी कर रही थी.

मैंने शीशे में देखा कि मेरी पूरी की पूरी चुत तो बाहर ही निकल कर आ गई है. इस टीचर स्टूडेंट की सेक्सी स्टोरी के पिछले भागकोच को पटा कर चूत चुदवायी-2में आपने पढ़ा कि मैं अपने कोच पर मोहित हो चुकी थी और अपने तन बदन को उनको समर्पित करने का मन बना चुकी थी, मैंने उनसे अपनी चूत की पहली चुदाई करवाने उनके घर में थी. तब तक आंटी… नहीं नहीं… बड़ी दीदी से ज्यादा थोड़े लग रही थी, खूबसूरत गदराया शरीर साक्षात स्वर्ग की अप्सरा लग रही थी, उनके सामने तो मैं उनकी दासी लग रही थी.

भाभी का चुदाई बीएफ इस तरह उन सास बहू की चुदाई चलती रही और उसके बाद मैंने और भी बहुत सारी आंटी और भाभी लोगों की चुदाई की है. क्या एजेंसियां इस बात की जांच करती हैं कि सिर्फ उन पुरूषों को आपका फ़ोन नंबर मिले, जो युवक सुन्दर हैं और अच्छी तरह से बात करने में माहिर हैं? नहीं.

सेक्सी पिक्चर नंगी में

तो उसने कहा- तुम घर जा रहे हो तो मुझ से मिलकर जाना!उसका घर रास्ते में ही पड़ता है. मेरा लंड आज कल बिंदु की चूत से मज़े ले रहा था और उसकी चूत मेरे लंड से अपनी भूख मिटा कर मजे ले रही थी. अब मैं थोड़ी देर तक उसे किस करता रहा और जब वो सामान्य हुई तो उसके बाद मैं अपने लंड को उसकी चुत में धीरे धीरे अन्दर डालने लगा.

क्या मैं अकेले में ज़्यादा खूबसूरत दिख रही हूँ?”भाईजान की हिम्मत मेरी बातों से बढ़ रही थी. जब रात को हम सोने गए तो भाबी ने मुझे बीच में खिसका दिया और खुद साइड में सो गईं. डिस्कवरी चैनल जानवरमैंने अपना मुँह खोल दिया और लंड को प्यार करने लगी, भैया का लंड चूसने लगी.

अब उसके मुँह में खून लग चुका है, अब जब भी उसका दिल करेगा, वो आपको चोद देगा.

मैंने देखा वहां पहले से ही भाबी थीं और अपनी चुत की झांटें साफ़ कर रही थीं. मैंने सोचा कि अगर अब और कुछ कहूँगी तो फिर से ये चुत को चाटने लग जाएगा और मेरी बच्चेदानी को भी बाहर तक ना निकाल कर रख दे.

जिम बिल्कुल पैक और लॉक करके रखा था क्योंकि मूड हुआ तो यहीं चालू हो गए, हल्का हल्का म्यूजिक चल रहा था. 10 मिनट की चुदाई के बाद मेरा भी झड़ने वाला था, मैं मामी से बोला- मामी, मैं झड़ने वाला हूँ. मेरे पति अब बिल्कुल बेकार हो चुके हैं और काफी समय के बाद मेरी अच्छे से किसी मर्द के बच्चे ने चुदाई की है.

जब मेरा दोस्त मुंबई से आ गया, मेरे दोस्त ने मुझे बताया- मेरी एक गर्लफ्रेंड यहीं पास के गाँव की है.

वे अपनी जुबान से लंड के सुपारे को सहलातीं और थूक डाल कर मुँह में अन्दर तक लेकर लंड चूसतीं. उसकी चुत ने भी मेरे लंड से दोस्ती कर ली थी और वो भी हचक कर चुदाई का मजा लेने लगी. हर इंसान की जिंदगी में कोई ना कोई शख्स ऐसा होता है, जिससे वो बेइंतेहा मोहब्बत करता है, परन्तु हर रास्ते की मंजिल हो, ये जरूरी नहीं.

नौकरानी और मालिक का सेक्सी वीडियोमैं उनको मना नहीं कर पाया और खाना खा कर अपने घर आकर दिल्ली के लिए तैयारी करने लगा. मैंने चाची से कहा- चाची, ये आप क्या कर रही हो?चाची ने कहा- साले अंजान मत बन… चल उठ और मेरे पैर दबा.

xxx.iii फिल्म

तभी मेरी बहन मेरे पास आई और मेरे आंसू पोंछते हुए मुझसे बार बार सॉरी बोले जा रही थी. जूसी रानी को भी ऐसी अचानक की जाने वाली चुदाई में बड़ा आनंद आता है तो उसने भी तुर्की ब तुर्की मेरा साथ दिया. दीदी कहने लगी- आह आज अपनी बड़ी बहन की चुत को छोटा भाई चोद रहा है… आह कितना मजा आ रहा है आह्ह… और चोद दे… अपनी दीदी की चुत चोद दे…यह सुनकर मुझे भी जोश आ गया और मैं दीदी को जमकर चोदने लगा.

मैं अन्तर्वासना का नियमित पाठक हूँ, मैं दिखने में गोरा और 5’10” गठीला और छरहरा शरीर का हूँ, स्मार्ट और डैशिंग हूँ. वह अपना सिर दाएं बाएं हिला रही थी जिससे उसके लम्बे बाल इधर उधर झटक रहे थे. मैं उदास सा एक बैंच पर बैठा था कम रोशनी थी… कि तभी एक व्यक्ति मेरे करीब से गुजरा, उसने मुझे पहचान लिया.

ऐसा नहीं था कि मैंने किसी को पटाने की कोशिश नहीं की हो, लेकिन मेरे से ये सब न हो सका. अब पूनम पूरे जोश में थी… इतने जोश में कि पूनम मेरी चूत दांतों से खाये जा रही थी जिससे मैं अपनी चूत उसके मुँह में पेले जा रही थी और पूनम भी मेरी चूत को बहुत मजे से चाटे जा रही थी, ऐसा लग रहा था कि पूनम बहुत पहले से लेस्बीयन सेक्स करती रही हो!और उसे मजा भी बहुत आ रहा था मेरी चूत चाटने में!फिर मैं उठी और बैठ गई. वो एक झटके में अपनी पारदर्शी नाईटी को सम्भालती हुई सामने टेबल की तरफ गई, जिस पर फ्लावर पॉट रखा था.

तभी भाभी ने अपनी चुत का पानी छोड़ दिया और मैंने उनकी चूत का सारा पानी मुँह में ले लिया. मैं उदास सा एक बैंच पर बैठा था कम रोशनी थी… कि तभी एक व्यक्ति मेरे करीब से गुजरा, उसने मुझे पहचान लिया.

हम एक दूसरे की बाँहों में लिपट कर कुछ समय तक लेट कर प्यार की बातें करते रहे.

मैं उसके मम्मों को चूस रही थी और बीच बीच में काट लेने पे उसकी ‘आअह्ह्ह. स्कूल की लड़कियों की सेक्सी फोटोउसके इस हमले से हम सब चौंक गए तो वो अनुज से बोला कि वो मेरे साथ सेक्स करना चाहता है।अनुज कुछ नहीं बोला तो उसने अपनी सेक्टरी को अनुज के पास जाने का इशारा किया। उसके सेक्टरी जाकर अनुज की गोद में बैठ गयी और उसे किस करने लगी. सेक्सी लोडिंग वीडियोमैं भी सोने का नाटक कर रही थी और मुझे पूरा यकीन था कि अब मोहन कुछ भी नहीं कर सकता. रास्ते में वह मेरे शरीर से ऐसे लिपटी हुई थीं, जैसे चंदन के पेड़ से सांप लिपटा हुआ होता है.

मुझे भी तेरा लंड बहुत पसंद है और मैं भी जान बूझकर तुम्हारे सामने झुककर अपने चूचे दिखाती हूं.

जब फोन किया तो उधर से आवाज़ आई कि बहन बताओ क्या हुआ?मैंने उससे अपने पर जो बीती थी, बताई तो उसने कहा- ठीक है, मैं तुमसे कल सुबह बात करता हूँ. जो अपने आप खुल जाते हैं और ज़ारबंद तो अक्सर सोते में खुल ही जाता है. इस तरह से वो सारे रास्ते मेरे आमों को दबाता रहा और चूत में उंगली भी करता रहा.

फिर मैं नीचे बैठ गया और उसके लोअर और अंडरवियर को एक झटके में ही नीचे कर दिया. तेरे नीचे दब के चुदना चाहती हूँ… मादरचोद आजा ऊपर… कुचल दे मुझको अपने बदन से… जल्दी प्लीज़ज़्ज़… बस अब ज़्यादे देर नहीं बची. अब कुछ दिन ऐसे ही चलता रहा, जैसे ही हमें थोड़ा सा मौका मिलता, वो होंठों में होंठ डाल देती थी.

सविता भाभी मराठी

जब पापा उसके जाल में ना फँसे तो एक दिन उसने पापा को अपने घर पर यह कह कर बुलाया कि उसके बेटे का जन्मदिन है, आपको ज़रूर आना होगा. उसके मोटे लंड को झेलते ही मेरी तो सांस ही रुक गई और मुझको चक्कर आने लगा. भाई ने भी फ्री की चूत मिलते देख मंजरी को सब्जबाग दिखाए और एक दिन उसकी चूत की सील उसी के घर में तोड़ दी.

मेरा लंड लोहे की गरम रॉड की तरह हो गया और उसका सुपारा एक बड़े मशरूम की तरह फूल गया और टमाटर की तरह लाल हो गया।तभी प्रीति बोली- वीशु जी, अब मुझसे बरदाश्त नहीं हो रहा है, अब अपना लंड मेरी चूत में डाल दो!चूँकि तीनों की चूत अनछुई थी, मतलब तीनों की चूत सील बंद थी, इसलिये मैंने किसी भी तरह की कोई जल्दबाजी नहीं दिखाई और सब्र से काम लेना उचित समझा.

पकौड़े बहुत अच्छे थे और फ्रूट चाट में मसाला बहुत अच्छा था; बहुत ही स्वादिष्ट.

रास्ते में हम आर्थर और एरिक को मास्को की मशहूर स्थान दिखाते-बताते जा रहे थे: मायकोवस्की स्क्वायर, गार्डन रिंग, सेंट्रल गाई, फ्लावर बुलेवार्ड, ओल्ड सर्कस, सिनेमा थिएटर फोरम, कल्खोज्नाया, आदि. पूजा बोली- पापा, मैंने अन्तर्वासना पर कई सेक्स कहानी पढ़ी हैं और तब मुझे ये लगता था कि ये सब कहानियां काल्पनिक हैं, रिश्तों में चुदाई कैसे संभव है. घोड़ा और लड़की सेक्सी वीडियोथोड़ी ही देर में मेरी चूत ने उनके मुँह में योनि रस की बरसात कर दी जिसे सर ने अपने मुँह में ले लिया.

बिंदु ने मुझसे कहा- कल तेरे पापा तुम्हारा पक्का काम करने के लिए बोल रहे थे. क्या आप समझती हैं कि आपकी उम्र वाली औरतों की यही दशा होती है?वो सुन कर बहुत घबरा गई और इधर उधर देखने लगी. कमरे से निकल कर सामने चाय की दुकान पर बैठ के चाय ऑर्डर की और मोबाइल में गेम खेलने लगा.

वह अपनी गोरी, मोटी और चिकनी टांगों को फैला कर मेरी और मुंह कर के मेरी गोद में, मेरे लंड को अपनी चूत में लेकर बैठ गई. मैंने जानबूझ कर इसे शब्द का प्रयोग किया था क्योंकि मैं उससे थोड़ा खुलना चाहता था.

इसके अलावा अस्पताल की तीसरी मंजिल नयी बनी थी और वहाँ पर पूरा फ्लोर खाली पड़ा था और रात का काला अँधेरा होने लगा था, लेकिन फ़िर भी मैंने कमरों की अपेक्षा टोयलेट को ज्यादा सुरक्षित माना.

लेकिन नंबर देने से पहले उसकी एक शर्त ये थी कि मैं कभी भी अपनी तरफ से पहले फोन कॉल या मेसेज नहीं करूँगा और ना ही कभी उससे उसकी फोटो देने को लेकर ज़िद करूँगा, हालाँकि इस से पहले मेरी फोटो मुझसे ले ली थी उसने. मैं दर्द से चीख पड़ी लेकिन मेरी चीख उनके मुंह में ही दब गई कुछ देर ऐसे ही रुकने के बाद मुझे दर्द कम हो गया और मज़ा आने लगा. अंत में जब मैं झड़ने को हुआ तभी मैंने प्रीति से पूछा- प्रीति, अब मैं झड़ने वाला हूँ, इसलिये बताओ कि मैं अपना बीज कहाँ निकालूं?प्रीति ने कहा- वीशु जी, अभी कोई खतरा नहीं है इसलिये आप अपने लंड की पिचकारी मेरी चूत में ही छोड़ दो।उसके बाद मैंने करीब 3 मिनट तक धक्के और मारे होंगे कि मेरे लंड ने प्रीति की चूत में अपनी पिचकारी छोड़ दी और मैं उसके ऊपर धम्म से गिर पड़ा.

ஸ்ஸ்ஸ்த்தமிழ் अब मैंने हल्का हल्का सा उसे सहलाना शुरु किया, वह दोबारा से हल्की हल्की आहें भरने लगी. वो लपक कर उठी और लंड देख कर बोली कि ये इतना मोटा कैसे हो गया?जबाव देने की जरूरत न समझते हुए मैं उसे अपने नीचे दबाए हुए रगड़ने लगा, मैं कभी उसकी गर्दन चूमता, कभी दूध चूसता और साथ ही एक हाथ से उसकी चूत में उंगली करने लगा.

मैं अपनी इन तस्वीरों को देखकर दंग रह गई कि इतनी सारी फोटो उसने कब खींची. फिर मैंने उसकी ब्रा पैन्टी भी उतार दी, अब वो पूरी नंगी थी उसकी गांड और बूब्स बहुत गोरे थे और मस्त लग रहे थे. जिगोलो की परिभाषा क्या है? इसमें कोई भी गैरकानूनी काम का जिक्र नहीं है.

हिंदी+सेक्स+onsporn

वो फ्रेश होकर जब आई तो पूरी नंगी ही बाथरूम से निकली थी और मुझको अपनी चूत दिखाने लगी. दीदी ने नई दुल्हन की तरह शर्मा कर अपना मुँह दूसरी और कर लिया, उसका गोरा चेहरा एकदम गुलाब सा चमक रहा था. तो साथियो, आपको कैसी लगी मेरी जान की चुत चुदाई की कहानी… अपनी राय मेल कर जरूर बताइएगा.

यह कह कर मनोरमा ने उसकी पैन्ट की जिप नीचे कर दी और उसका पूरे 7 इंच का लंड बाहर निकल कर सलामी देने लगा. मैंने हमारी वाली सीट के पर्दे अच्छे से बंद कर दिए ताकि बाहर से कुछ ना दिखे.

मैं भी अपनी पत्नी के देहांत के बाद लंड का पानी किसी भी चूत में नहीं निकाल पाता था.

मेरी महान पत्नी ने फ़ौरन आर्थर का ‘बदमाश’ लंड अपने मुंह में भर कर चूसना शुरू कर दिया. सुबह उसने मुझसे कहा- तुम अपना पासपोर्ट बनवा लो, फिर मैं तुम्हारी पूरी हेल्प करूँगा, जिससे तुम इस दलदल से पूरी तरह से निकल जाओगी. सर ने अपनी नाक से पहले मेरी फुद्दी को सहलाना शुरु किया, सांसों की गर्म हवा से मेरी चूत पिघलने लगी थी, फिर जीभ से फुद्दी को सहलाने लगे.

हालाँकि मुझे भी लग रहा था कि मेरे लंड को कोई चाकू से छील रहा हो, बहुत तेज जलन हो रही थी।मैं अपनी ताकत लगाता रहा और रेशमा की चीखें निकल रही थी। रेशमा की चीखों को सुन कर सोनी भी डर गयी और वो रेशमा से अलग हो गयी।मेरी सेक्स स्टोरी इन हिंदी जारी रहेगी. मैं उसको 15 मिनट तक लगातार चोदता रहा। फिर मेरा वीर्य निकलने वाला था तो मैंने कहा- मेरा निकलने वाला है, कहाँ निकालूँ?तो उसने कहा- अंदर ही डाल दो!फिर मैंने तेज़ तेज़ धक्के दिए और अपने पूरा माल उसकी चूत में निकाल दिया. उनके सभी साथ मैंने अपने ईमेल रिलेशन को अभी तक बनाए रखा है, लेकिन मुझे लड़कियों से ज़्यादा आंटी और भाभी में इंटरेस्ट है.

अब मेरा मंजू की गांड के बीच में सटा हुआ था, मैंने मंजू की गर्दन में किस करना शुरू कर दिया, मंजू उतावली हो गयी, अपनी गांड को हिलाने लगी.

भाभी का चुदाई बीएफ: तेरे नीचे दब के चुदना चाहती हूँ… मादरचोद आजा ऊपर… कुचल दे मुझको अपने बदन से… जल्दी प्लीज़ज़्ज़… बस अब ज़्यादे देर नहीं बची. मैडम को डबल मजा आने लगा और कुछ ही देर में मैडम एकदम से अकड़कर बोलीं- आह मयूर मेरी जान.

वो हँसने लगीं और बोलीं कि ऐसा क्या खास है मुझमें?तो मैंने कहा कि आपकी स्माइल, आपका फिगर और. मैं भी वासना के नशे में मदमस्त हो चुका था, सो भाभी की चुत के रस को चाटता गया और चूत के रस की आखिरी बूंद तक चाटता रहा. पर बदले में मुझे भी उसे ओरल की परमिशन देनी पड़ीजब आप प्यार में होते हो आप कुछ भी गलत या सही का अंदाजा नहीं लगा सकते.

मेरी रसायन विज्ञान काफी अच्छी होने के कारण उसने मुझसे कुछ सवाल पूछे, बस फिर क्या था.

उसके बाद उन्होंने अपना लंड बाहर निकाला और मेरे हाथ में दे दिया और मैं अंकल का लंड चूसने लगा. ऋतु- ओके रवि!ऑफिसर- तुम लोग कहीं मेरा स्टिंग ऑपरेशन तो नहीं कर रहे हो ना? क्योंकि बहुत आसानी से तुम मान गईं, भाई इतनी सुंदर और सेक्सी लड़की, जो हम जैसे से बात भी ना करे, वो चुदने को रेडी हो गई. मेरी मॉम मान गईं, आंटी और मैं मार्केट गए आंटी कुछ शॉपिंग की और घर आ गए.