हिंदी बीएफ सेक्सी एचडी बीएफ सेक्सी

छवि स्रोत,करीना कपूर का सेक्सी चाहिए

तस्वीर का शीर्षक ,

संपर्क चुदाई: हिंदी बीएफ सेक्सी एचडी बीएफ सेक्सी, वो अंडकोष पर मलहम लगाते लगाते मेरी गांड के छेद पर अपनी उंगलियां ले जा रही थी.

सेक्सी फिल्म अमेरिका वाली

उसने अपने ऊपर से हटाने की जितनी कोशिश की, मैं उतने ही तेज झटके मारने लगा. एक्स एक्स एक्स वीडियो राजस्थानी सेक्सीइतने में मैंने उसकी छोटी सी गांड पर जोर से एक चमाट मारा और बोला- देख क्या रही है रंडी … अब चूस ना लंड.

हर बार मेरा लिंग-मुण्ड वसुन्धरा की योनि में गर्भाशय के मुंह पर हल्की सी चोट करता और उधर वसुन्धरा के मुंह से ‘आह … ह … उफ़्फ़्फ़ … उम्म्ह… अहह… हय… याह… हाय … सी … इ … ई … ई’ की ऊँची-ऊँची सीत्कारें निकल रही थी. मामा लोगों की सेक्सी पिक्चरमैं बोली- आशीष तू बहुत बड़ा कुत्ता गांडू है … और जोर से मार मेरी चुत … पूरा लंड अन्दर घुसा भोसड़ी के … आशीष और तेज चोद … चोद आशीष … अहहभ ऊंहह आशीष और अन्दर लंड डाल उंहहह और जमकर चोद आशीष!मैं उसके नाम की माला जपने लगी और उसके जीभ को मैं अपने होंठों से निकाल कर चूसने लगी.

पहले गले पर, फिर और भी नीचे और फिर उसकी उभरी हुई छाती पर चूमने लगा.हिंदी बीएफ सेक्सी एचडी बीएफ सेक्सी: जब मैं शाम को छह बजे वहाँ गया और मैंने जाकर वहाँ देखा तो वो पहले से ही मौजूद थी.

पहले ही झटके में मैं बहुत जोर से चिल्लाई उम्म्ह… अहह… हय… याह… और लगा कि मर जाऊंगी, मैं इतना दर्द हुआ कि बेहोश होने की हालत में हो गई.मैंने कहा- मस्ती से करें, डरे नहीं … अब मरा ही रहा हूं, तो झटकों का क्या डर.

मारो सेक्सी - हिंदी बीएफ सेक्सी एचडी बीएफ सेक्सी

देसी सेक्सी गर्ल चुदाई कहानी मेरे घर के सामने आयी एक लड़की से दोस्ती करके उसके साथ सेक्स की है.उसके बड़े बड़े बूब्स देखकर मेरे मन में भी चुदाई का कीड़ा कुलबुलाने लगा.

मैंने उससे कहा कि मैं सीरियस बात कर रहा हूँ यार … और तुम हो कि मजाक कर मूड में बैठी हो. हिंदी बीएफ सेक्सी एचडी बीएफ सेक्सी मैं उस दर्द में भी आनन्द महसूस करते हुए और जोर से चिहुँक उठी और नाखून और चुभा दिया.

माँ ने मुझसे घर की देखभाल करने के लिए कह दिया और माँ बाहर बाजार में चली गयी.

हिंदी बीएफ सेक्सी एचडी बीएफ सेक्सी?

उसने चूची को ब्रा के ऊपर से मेरी ओर कर दी, तो मैं उसकी कड़क चूचियों को मसलने लगा. मैंने चुपके से उसकी चूत पर लंड को लगा दिया और उसको बांहों में भर लिया. एक दिन हम दोनों कॉलेज से आ रहे थे तो मैंने हिम्मत की और फूलों की दुकान के पास गाड़ी रोक कर एक गुलाब का फूल ले आया.

मैंने जैसे ही धक्का लगाया लंड बिना किसी रुकावट के सीधा माया भाभी की चूत में ऐसे घुस गया, जैसे मक्खन में छुरी घुस गई हो. राधिका- राज, मैं चाहती हूं कि तुम अपनी बहन का कुरता अपने हाथों से निकाल कर मुझे दे दो. ज़रुर वसुंधरा ने साइडों से अपना लहँगा ढीले हाथों से पकड़ रखा होगा, नाड़ा कटते ही लहँगा वसुंधरा के पैरों में ऐसे गिरा जैसे किसी मूर्ति के अनावरण समारोह में मूर्ति का पर्दा नीचे गिरता है.

आशीष मेरे होंठों को अपने होंठों से चूमने लगा, मेरी सांसें उसकी सांसों से. मैं इंतजार कर रहा था कि कब मौसी सीधा होकर सोएं ताकि मैं अपना प्लान आगे बढ़ा सकूं. मुझे देख कर उन्हें थोड़ा शॉक लगा और हड़बड़ाते हुए उन्होंने मुझसे कहा- अरे सोनू, तुम कब आए?मैं- अभी 5 मिनट पहले ही आया, कोई दिखा नहीं, तो यही रुक कर इंतजार करने लगा.

मेरी इस बात से वो चौंक गयी और उसने कहा- तुम ऊपर आए थे?मैंने कहा- हां मैं ऊपर आया था और जब देखा कि कोई नहीं है, तो नीचे आ कर बैठ गया. फिर 2-3 बार पूछने के बाद उसने बताया कि वह यहाँ बिल्कुल अकेला है और कोई दोस्त या साथी नहीं है, कोई उससे ठीक से बात भी नहीं करता है.

पहले तो मैंने मना कर दिया, पर फिर उसके दबाव देने पर मैं उसके साथ जाने के लिए तैयार हो गया.

मेरी तो जैसे मन की मुराद पूरी होने वाली थी तो मैं अंकल जी के पीछे पीछे बिन डोर से बंधी खिंची उनके पीछे पीछे चली गयी.

सोते समय मम्मा सिर्फ गाउन पहन लेती थीं जो मम्मा के टखनों तक भी नहीं पहुंच पाता था और सोते टाइम तो और ऊपर हो जाता था. भाभी ने मस्त स्माइल देते हुए कहा- कोई बात नहीं, आप परेशान नहीं हों. अच्छा, गुड़िया तेरा नाम तो बता क्या है?” अंकल जी ने मेरे सिर पर प्यार से हाथ फेरते हुए पूछा.

अंकल का रंग एकदम गोरा, मोटा सा शरीर, बड़ी बड़ी काली मूछें, चेहरा बिल्कुल फूला हुआ और चमकदार था और वो बहुत प्यारे लग रहे थे. वो वही स्टूल पे बैठ गया और मैं भी बेड से पैर लटका के बैठ गयी।मैंने कहा- घर तो बहुत अच्छा है, अच्छा सजाया हुआ है. अब आगे चीटिंग वाइफ Xxx कहानी:बाहर वाशरूम में आकर सनी और रोज़ी ने अपना चेहरा ठीक किया और फुकेट की नाइट लाइफ की मस्ती के लिए निकल गए।घूमघाम कर दोनों देर रात तक वापिस आए.

उसी दिन उन्होंने मुझे ऐसे ही मिलने को बुलाया लेकिन मैं इतनी जल्दी मिलने से डर रहा था.

वहां पहले वे उसी से लिपटे और उसके तो अन्दर अपना सामान तक डाल दिया था, लेकिन जब मैं चिल्लाई कि मेरी बहन को छोड़ो. मैंने सरिता का एक पैर उठाकर बेड पर रखा तो सरिता ने अपने दोनों हाथ मेरे गले में डाल दिए. मैंने देखा कि उससे अब रहा नहीं जा रहा है, तब मैंने उसकी सलवार निकाल दी और अपने कपड़े निकाल दिए.

प्रिया- आआअहह!फिर मैंने प्रिया के निप्पल पर जीभ फिराई तो वो मचल गई- उम्म्म्म!फिर मैंने प्रिया के दोनों मम्मों बारी बारी से मुँह में लेकर खूब चूसे. चार पांच झटके के बाद मैंने अपना पूरा माल उसके मुंह में छोड़ दिया जिसे वो पी गयी. मौसी ने हमारी फ़ैमिली को भी बुलाया था, पर मैं अकेला ही मौसी के घर चला गया.

करीब 10 मिनट बाद उसका शरीर ढीला होने लगा, उसने तुरंत लंड निकाला और मेरे मुँह में ठूँस दिया और अपना पूरा माल मेरे मुँह में डालने लगा.

उन्होंने बोला- अच्छा तुम आराम करो, मैं तुम्हारे लिए खाना बना कर आती हूँ. मैंने लंड निकाल लिया तो प्रिया उठी और अपनी एक टांग उठा कर नलके के ऊपर रख कर उसने पोजीशन ले ली.

हिंदी बीएफ सेक्सी एचडी बीएफ सेक्सी उसके बाद मैंने उसे ओर भी बहुत बार चोदा, वो मैं अगली कहानी में बताऊंगा. भैया स्लैब पर भाभी की चूत चाटने में लगे हुए थे और मैं अपनी चूत को शांत करने की नाकाम कोशिश कर रही थी.

हिंदी बीएफ सेक्सी एचडी बीएफ सेक्सी करीब 10 मिनट तक दोनों एक दूसरे से दंगल लड़ते रहे और फिर एकदम से ही वह ढीली और सुस्त हो गई. उसने दबा कर मेरी चूत को चोदा, कभी मुझे लंड पर चढ़वाया और कभी खुद चूत पर चढ़ा, कभी गोद में ले कर चोदा तो कभी खड़ा करके चूत में लंड को पेला.

टीवी में एक लड़का लड़की के ऊपर चढ़ा हुआ था और वो दोनों सेक्स कर रहे थे.

फुल सेक्सी झवाझवी

इस बार मैं उनकी तरफ सरकते हुए अपना हाथ और पैर फिर से उनके ऊपर रख दिया, हाथ मैंने ऐसा रखा कि मेरे हाथ की कोहनी का हिस्सा मौसी के पेट पर था. मैं सोचता था कि यदि मुझे ऐसी मशीन मिल गई तो मैं सबसे पहले अपने भूतकाल में जाकर अपनी मम्मा को पटाऊंगा और उन्हें बहुत मजे से चोदूंगा. अब आगे:सोमवार को गांव से बीस किलोमीटर दूर बाजार लगता है, उस दिन मैं मम्मी के साथ वहां चली गई तो सोनम के घर नहीं जा पाई.

मैं एक फ़िल्मी गाना गा रहा था- तुम अगर मिल जाओ तो जमाना छोड़ देंगे हम. उस कहानी में मैंने जरा सा झूठ लिखा है कि कमलेश सर पहले मर्द है, जिन्होंने मुझे छुआ था, जबकि सच यह है कि कमलेश सर से पहले मुझे सोनम की दीदी की शादी में झाड़ी के पीछे दो लड़कों ने जबरदस्ती छुआ, फिर उसी रात जहां मवेशी बंधते हैं, वहां वो सोनम के मामा जी छू चुके थे. फिर मैंने उनकी चूत को और देर तक चाटा, जिससे वो फिर से चुदासी हो गईं.

और मैं भी तुमसे बहुत प्यार करता हूँ और इससे मेरा प्यार कम नहीं होगा। यह मेरी फेन्टेसी है जो दिलो दिमाग पे छायी हुई है.

लेकिन वो दर्द के कारण अपनी आंखें बंद करके मुझे जोर से पकड़कर चुपचाप पड़ी रही और कहने लगी- और जोर से चोदो मुझे … कर दो आज मुझे पूरा … दो मुझे आज चुदाई का पूरा मजा. उसने मेरा लंड अपने हाथ में लिया और थोड़ी देर खेलने के बाद उसे मुँह में लेकर चूसने लगी. मैंने वॉर्डरोब से कैंची उठायी और सुधा के एक सूट की सलवार में से नया नाड़ा खींच कर अपने कंधे पर लटकाया और वसुंधरा के सामने आ खड़ा हुआ.

वो हर धक्के में लंड को पूरा अंदर तक पेल रहा था, उसकी हर चोट में लंड बच्चेदानी से टकरा रहा था, उसने मेरी जांघों को इतना जोर से दबाया हुआ था कि वहाँ से नीला पड़ गया था. वो बोली- पापा और बड़े भाई तो काम पर गए हैं और वो दोनों छोटे वाले कहीं घूम रहे होंगे. मैं कपड़े प्रेस नहीं करती हूँ, क्योंकि मेरे हाथ से एक बार मेरी साड़ी जल गई थी.

मैंने फिर से चूत में उंगली डाली और खुद भी उसकी चूत की रबड़ी को चख लिया. नीतू आज हमें ड्रिंक लेने की इजाजत दो, आज नितिन को एक गुड न्यूज देनी है … चलेगा ना?” उन्होंने पूछा.

एक रात मैंने देखा कि उसका गाउन टांगों से हट गया था, उसकी नाजुक चूत दिख रही थी. उनके लिए ये एक नई फ़ीलिंग थी और वो समझ ही नहीं सकी थीं कि वो कैसे रियेक्ट करें. मैंने उसका मुँह दबा लिया और फिर अपना उतना सा लंड ही आगे-पीछे करने लगा.

दरअसल यह वह जगह होती है, जहां झिल्ली होती है, झिल्ली तो फट चुकी थी, लेकिन चूत में वहाँ थोड़ी टाइट जगह होती है, इसलिए लगता है कि अंदर रास्ता नहीं है.

हमारी जीभें एक दूसरे के मुँह में एक दूसरे के रस का मजा लेने लगी थीं. दस मिनट तक चुत चूसने के बाद मैंने उसे अपने लंड को मुँह में लेने को कहा पर उसने मना कर दिया. मेरी समझ में आ गया कि इसे पहली चुदाई में बहुत दर्द होना है और ये समय अभी ठीक नहीं था.

मैंने वॉर्डरोब से कैंची उठायी और सुधा के एक सूट की सलवार में से नया नाड़ा खींच कर अपने कंधे पर लटकाया और वसुंधरा के सामने आ खड़ा हुआ. मैंने सरिता का एक पैर उठाकर बेड पर रखा तो सरिता ने अपने दोनों हाथ मेरे गले में डाल दिए.

अब मैंने उसे अपने ऊपर लेटने को कहा, तो वह मेरे ऊपर लेट गई और मेरे लंड को प्यार से सहलाने लगी. कुछ मिनट में बाद उन्होंने अपने शरीर को खूब टाइट कर लिया था और जोर जोर से अपनी कमर हिलाने लगी थीं. तो रोज़ी ने डबल मीनिंग जवाब दिया- क्या फायदा ऐसे लंड को छूने का, जो अंदर न जाये।चारों हंस पड़े।आगे एक गली पूरी मसाज पार्लर्स की थी।बाहर ही लड़कियां बैठी थीं, उनके रेट लिखे थे।डेविड ने सनी से मज़ाक किया- यार, तेरे तो बहुत पैसे बच जाते हैं.

रागिनी सेक्सी

मैंने बोला- भाभी दे दे न!तो भाभी हंस कर बोलीं- क्या?मैंने बोला- चुत.

मैं आकर नया नाड़ा और आपका लहंगा उठा कर ले जाऊंगा, बच्चों के कमरे में जा कर लहंगे पर सुइंग मशीन से दो सीधी सलाईयां मार कर, नया नाड़ा लहंगे में पिरो कर, लँहगा बैडरूम में रख कर कर वापिस बाहर चला जाऊंगा. न जाने कितनी बार मेरे मन में विचार आया कि मैं भी अपनी कहानी अन्तर्वासना पर सबके साथ शेयर करूँ, पर कभी हिम्मत ना कर पाया. तभी स्नेहा ने अपना पैर मेरे ऊपर किया और मेरे लंड को स्पर्श करते हुए रगड़ने लगी.

मेरा लिंग वसुन्धरा की योनि में करीब डेढ़ इंच प्रवेश कर चुका था कि वहीं अटक गया. फिर मैंने उसकी टी-शर्ट को थोड़ा खिसका कर अन्दर हाथ डाल दिया और उसकी कमर को धीरे-धीरे सहलाने लगा. फिल्म का गाना सेक्सीजब अंकल ने मेरे शरीर पर हाथ फेरा, तो मैंने इस बात का थोड़ा विरोध किया.

मैंने पूछा- भाभी, जब मैं विशाल भाई को छोड़ने के लिए आपके घर पर आया था तो आपने बहुत टाइम लगा दिया था दरवाजा खोलने में. थोड़ी देर बाद आंटी जी चाय बना कर ले आई और बोलीं- निशा, मैं पड़ोस में जा रही हूँ थोड़ी देर बाद आ जाउंगी, कुछ चाहिए तो फ़ोन कर देना.

उसने मेरे टॉप के अन्दर अपना हाथ डाल दिया और वो मेरे पेट को सहलाने लगा. मैंने पोजीशन बनाई और उसकी दोनों टांगों को फैला कर अपने लंड को बुर में सैट कर दिया. दूसरे दिन सुबह चुत को अच्छे से साबुन लगाकर साफ किया और उस पर भी डीओ लगाया, अंकल को अच्छी खुशबू आए इसलिए.

मैंने उनसे पूछा कि क्यों झड़ गईं … औरत तो इतनी जल्दी नहीं झड़ती है?उन्होंने कहा- अगर तेरे जैसा कोई चूत चाटने वाला मिले तो मैं क्या कर सकती हूँ. मैं उसको देखता रहा। वो जैसे-जैसे साँस ले रही थी उसके चूचे ऊपर नीचे हो रहे थे जो मुझे अपनी ओर खींच रहे थे. तभी अन्दर से सोनम ने आवाज लगाई- आशीष भैया पानी लोगे?उसकी आवाज पर आशीष और मैं जल्दी से अलग होकर दूर हो गए.

आप सबको तो मालूम ही है कि शादी में कैसा माहौल होता है, हर कोई अपने में ही बिजी होता है, किसी के पास किसी के लिए टाइम नहीं होता.

तो मैंने जल्दी से अपने मुँह पर साबुन लगा लिया ताकि उनको लगे कि मुझे कुछ पता नहीं चला है. दोस्तो, मैं संजू आर्यन कुमार एक बार फिर से आप लोगों के लिए एक नई और सच्ची कहानी के साथ हाजिर हूँ.

कुछ देर में उसका दर्द कम हुआ तो वो भी अपनी कमर हिला हिला कर चुदवाने लगी. मैंने कहा- क्या घुसा दूँ?वो बोली- अपना लण्ड मेरी बुर में घुसा कर फाड़ दो. अब मैं करवट लेकर अपनी बीवी की तरफ मुँह करके हो गया अपना दांया पैर पूजा की कमर के बाजू में रख दिया.

कुछ ही देर में उसकी चुत पानी छोड़ने वाली थी, मैंने अन्दर तक जीभ पेली तो चुत ने रस छोड़ दिया. [emailprotected]हॉट भाभी Xxx चुदाई कहानी का अगला भाग:भाभी की प्यासी चूत और बच्चे की ख्वाहिश- 4. चूचों की मिंजाई से दिशा मोन करने लगी और उसने अपनी आंखें बंद कर लीं.

हिंदी बीएफ सेक्सी एचडी बीएफ सेक्सी फिर मैंने भी खुद को ढीला छोड़ पैर ऊपर उठा दिए मैं भी उल्टा घूमने लगा. जैसे जैसे संभोग और धक्कों की अवधि बढ़ती जा रही थी, वैसे वैसे हम दोनों की सांसें तेज़ और जोश आक्रामक रूप लेती जा रही थीं.

कान की बाली गोल्ड

भाभी ने एक पारदर्शी नाइटी पहन रखी थी जिसमें अंदर गुलाबी रंग की ब्रा थी और लाल रंग की पैंटी जो साफ-साफ नजर आ रही थी. मैंने पूरे जोर से अपना लंड उसकी तपती चूत में घुसाया और दे घपाघप, दे घपाघप चोदने लगा! फच-फच … फच-फच … की आवाजों से और राशि की सिसकारियों से पूरा कमरा गूँज रहा था. मैंने उसे तसल्ली दी- अब हम लोग एक दूसरे को जान समझ चुके हैं तो जब भी तुम्हें मेरी जरूरत पड़े या मन हो तो मुझे याद कर लेना.

जैसे जैसे मेरा लन अंदर बाहर हो रहा था वैसे वैसे मुझे आनंद आ रहा था और सरनी नीचे पड़ी बहुत कामुक आवाजें निकाल रही थी. मुझे गुस्सा भी बहुत आ रहा था, पर नितिन के बॉस होने की वजह से ग़ुस्से पर काबू करना पड़ रहा था. बफ सेक्सी वीडियो हॉटउसने सारे रास्ते अपनी बाइक को ब्रेक मार मार कर पिंकी को अपनी पीठ से चिपकाने का कोई मौक़ा नहीं छोड़ा था.

शर्म भी नहीं आती इसको! जिससे तिलक लगवाया, उसी की चूत में घुस कर पानी छोड़ता है.

गांड के छेद पर उंगली का स्पर्श पाते ही नीरजा इस डर से घोड़ी बनी हुई ही आगे को भाग गई कि मैं उसकी गांड में लंड डालूँगा. मैं वापस मुड़ कर तीसरे स्टोर की तरफ गया तो देखा कि वो अंदर से बंद था.

मेरे होंठ का स्पर्श अपनी चूत पर पाकर कल्पना मचल उठीं और सिसकारियां भरने लगीं. जब वो पूरी तरह गर्म हो गयी, तो मैं अपना एक हाथ उसके चूचे पे रख कर सहलाने लगा. अन्दर से मेरे पता नहीं कैसी आग सी लगी कि मैं खुद अब अपने होश गवां बैठी.

सोनल- दिशा, अब तुम्हारी बारी अपने मम्मे दबवाने की है, जा बैठ जा अपने जीजाजी के लौड़े पर.

कुछ देर ऐसे ही जवान भाभी की चुदाई करने के बाद मैंने भाभी को आंगन के फर्श पर लिटा दिया और खुद उनके ऊपर लेट कर अपना लंड उनकी चूत में घुसा दिया. मेरी देसी गर्लफ्रेंड की Xxx कहानी अच्छी लगी या नहीं? आप मुझे मेल करें. मैं- अभी तो ये शुरुआत है मेरी जान … अब आ जा, तेरी चूत को लंड से मजा देता हूँ.

कुत्तों की लड़कियों की सेक्सी फिल्मआशीष बोला- बहुत ज्यादा मत एक्साइटेड हो बंध्या … अभी तेरी सील टूटेगी. वो मेरे स्तनों को मुँह में भर कर मेरा दूध पीने लगा और चूतड़ पकड़ कर मुझे उछालते हुए संभोग में सहारा देने लगा.

चोदा चोदा चोदी वीडियो

पर उन्होंने ये सब करने से मना कर दिया क्योंकि उनको इसकी आदत नहीं थी. मेरी योनि भी अभी काफी टाइट है क्योंकि उसका अभी तक ज्यादा इस्तेमाल नहीं हुआ है, उसने ज्यादा लंड नहीं लिए हैं. मैंने फिर पूछा- रात को ऐसा क्या देखकर आई हो?सोनू कहने लगी- पापा ने मम्मी की बहुत जबरदस्त चुदाई की.

कॉफी लेकर बाहर आने ही वाला था कि राशि भी किचन में आ गई और उसने पीछे से मेरी पीठ पर अपने नर्म होंठों का चुम्बन देते हुए मुझे बांहों में भर लिया. फिर धीरे धीरे नीचे करते हुए, उसने थोड़ा सा पल्लू गिरा कर मुझे अपने एक मम्मे का नजारा कराया. उसके बाद हम लोगों ने कॉफी पी जो रश्मि ने सीमा के किचन में जा के खुद मेरे लिए स्पेशली बनाई और कहा कि अगली बार वो खुद के घर में मुझे बुलाएगी और मेरे साथ अपनी फैंटेसी को पूरा करेगी.

शिखा अपनी चूत को बेडशीट से पोंछने में लगी हुई थी और बीच-बीच में मेरी तरफ देख कर मुस्करा देती थी. उसमें चुम्मा चाटी और सेक्स के सीन आने की वजह से हम दोनों गर्म हो गए. फिर आए दिन कोई भी ये सब करने लगेगा … इसलिए भूलकर कभी ऐसी गलती नहीं करना.

फिर मैं अपने होंठों से सरिता के दोनों मम्मों के आस-पास किस करने लगा और फिर दोनों दूध बारी बारी से चूसकर मैं उसके पेट पर अपनी जीभ फिराने लगा. मेरी बहन ग्रेजुएशन के पहले साल में थी। मैं अपने घर कभी-कभी जाता था। मेरा और मेरी उस चचेरी बहन का घर थोड़ी दूरी पर ही था।मैं घर जाता तो मेरे घर पर मन नहीं लगता था, तो मैं अपने घर से ज्यादा उसके घर पर ही रहता था। मैं उसको देखकर बहुत खुश हो जाता और मैं उसको अपनी बाँहों में भर लेता था।एक दिन ऐसे ही जब मैं उसके घर पर गया तो मैंने उसको जाते ही हग कर लिया और उसको अपनी बांहों में कस कर भर लिया.

मुझे अब क्या करना चाहिए और क्या नहीं … यही सब सोचते सोचते मैं देर तक जागती रहती.

वो कुछ समझ पाती, इससे पहले ही मेरा हाथ उसके लोअर के अंदर डाल दिया!उसने अपनी चूत को किसी दूसरे मर्द से न छूने देने की एक कोशिश फिर से की किन्तु इस बार मेरा दांव अनुभव से किया गया था. सेक्सी सेक्सी फोटो दिखाइए’कुछ देर बाद उसे भी मजा आने लगा और हम दोनों जोर जोर से चोदन में लग गए. गुजरात की सेक्सी भाभीजब मैंने उसकी चूत पर लंड सेट कर दिया तो मुझसे रुका नहीं गया और मैंने उसकी चूत में लंड को धकेलना शुरू कर दिया. लेकिन नम्रता मेरी तरफ हाथ बढ़ाते हुए बोली- और मिस्टर सक्सेना कैसे हैं आप?मैं- ठीक हूं और आप कैसी हो?वो बोली- बस पीरियडस खत्म, दर्द भी खत्म.

ऊऊऊ ऊऊ हम्मम्म हम्मह उउम् उउम …मैं भी उसका पूरा साथ दे रहा था और वह मजे से अपनी चूत को चुदवाने लगी.

तीन मर्दों से एक साथ चुदने में इतना मजा हो सकता है मैंने कभी सोचा नहीं था. रंग काला पर आँखें भूरी, लंबी सी नाक, सुराही सी गर्दन, पतली कमर मगर कूल्हे थोड़े ज्यादा थे. उनका लंड तो बहुत छोटा है और खड़ा भी कुछ टाइम के लिए ही होता है, मुझे प्यासी ही छोड़ कर सो जाते हैं इसीलिए मैं तुम्हारे पास भागती हूँ चुदवाने के लिए.

अब जब मैं खुद को शीशे में देखती तो मुझे अपने मम्मे भी नज़र आने लगे जो दिन दूनी रात चोगुणी तरक्की कर रहे थे. मैंने अपने मम्मों को ढकने की भी नाकाम कोशिश की, पर अंकल को पता चल गया था कि मेरी क्या इच्छा है. दोस्तो, सभी लड़कियों को मेरे खड़े लंड का नमस्कार और सभी भाइयों को लड़कियों की चूत की तरफ से नमस्कार.

जूही चावला का सेक्स

डायरेक्टर उससे बोल कर चला गया … लेकिन उसने बेचारी आन्या को ऐसे गर्म करके छोड़ दिया. अपने पापा के जबरदस्त लंड से चुदने के बाद मेरी चूत आज बहुत दिनों के बाद शांत हो गई थी. मम्मी हंसने लगीं- मुझे पक्का प्रेग्नेंट कर दोगे? तो कभी आपको आजमाऊं?तभी मैं कमरे में आ गया.

फिर सरिता मेरा सर बाहर खींचकर बोली- हर्षद बस करो अब … और नहीं सह सकती मैं … अब डाल दो अपना लंड मेरी चूत में … आंह जल्दी से चोदो मुझे!मैं खड़ा हो गया और सरिता को जोर से अपनी बांहों में कसकर उसके होंठों को चूसने लगा.

तब उसने कहा- सारिका जी क्या आप ऊपर आकर धक्के मारोगी? मैं अब थकने लगा हूँ प्लीज.

अब वो भी आगे पीछे होकर चुदने लगी और कामुक सिसकारियों भरी आवाजें निकालने लगी- आह … ह्म्म्म … हम्मम्म ओह … अअअअअ चोद दे … आई माँ. उधर विलियम ने भी अपने अंडरवियर और पैन्ट को ऊपर खींच कर पहन लिए और मैं भी अपने कपड़ों को व्यवस्थित करने लगी. बड़ी चूची सेक्सी वीडियोप्रिय मित्रो, आपने मेरी पिछली कहानीमम्मी को दीदी के ससुर ने चोदापढ़ी और पसंद की.

इसी तरह पूरा महीना निकल गया, मैं उसकी चूत पर अपना लंड रगड़ कर ही पानी निकाल पा रहा था या कभी उसके मुँह में लंड डालकर पानी छुड़ा देता था. अब मैं उसको किस करने लगा और उसके बूब्स चूसने लगा, जिससे उसका दर्द कुछ कम हुआ. मैंने देखा कि उसके होंठों पर भी एक गुलाब की पंखुड़ी लगी हुई थी पर मुझे समझ नहीं आया कि उसके होंठ ज्यादा अच्छे हैं या वो पंखुड़ी.

मुझको गुस्सा आया और मैं ये सोच कर नीचे आ गया कि और क्या तेरा अचार डालूँगा मैं. मैंने उसकी दोनों जांघों को पकड़ लिया और उसकी चूत के अन्दर अपने जुबान से उसको चोदने लगा.

लंड है कि आफत, लम्बा मोटा लोहे सा सख्त और क्या चुदाई, कैसे भूल सकता हूं.

कुछ देर के बाद मैंने उसको गोद में उठा लिया और उसको बेडरूम तक लेकर गया. मेरा पति तो खैर यही समझता है कि हम दोनों सगे भाई बहन की तरह से हैं और जब वो आता है तो उस को उसी तरह से मिलता है जैसे कोई अपने साले से मिलता है. ऐसा ही एक मेल मुझे मिला अजय का जो अपनी वाइफ के साथ पंजाब में रहता है, एक प्यारी सी बच्ची का बाप है.

सेक्सी वीडियो गीत सेक्सी में ही देखा था।अब रोहित का लंड शांत हो गया था और वो मेरी बीवी की चूत को छोड़ कर अलग हो गया।सन्जू को अभी भी मजा आ रहा था, मैंने अब सन्जू को रिलेक्स करने के लिए पूरी तरह से बेड पर लिटाया. लेकिन जब भी कभी कभार हमारा सामना होता था तो भाभी मुस्कुरा देती थीं.

मेरा हाथ अपने हाथों में ले कर बोली- एक तो तुम्हें गुस्सा बड़ी जल्दी आता है. मीना मचल पड़ी और बोली- अजय देखेगा तो क्या बोलेगा? ऐसा मत करो!मैं मीना की बात को अनसुनी करते हुए उसके चेहरे पर किस पर किस करने लगा!मीना फिर बोली- राज प्लीज़ मुझे बहकाओ मत, छोड़ो मुझे!लेकिन मुझे आभास हो चुका था कि उसकी ‘ना’ बस जज्बाती है, अंदर से तो वो भी तैयार हो गयी है. उसने मेरे लंड को अपने हाथ में पकड़ लिया और बोली- इसको मैं शांत कर देती हूँ.

पिल्लू फिल्म सेक्सी

अब हम दोनों ही बेकाबू हो चुके थे और चुदाई आग में बुरी तरीके से जल रहे थे. पापा ने मेरे चूचों को अपने दोनों हाथों पकड़ लिया और नीचे से मेरी चूत में धक्के देना चालू रखा. उसका दर्द देखकर मैंने उससे यूं ही कह दिया- अगर कहो तो मैं कुछ करूँ.

मेरा रूप देख कर नितिन ने इरादा बदला और मुझे बांहों में भर लिया, पर मैंने उसे रोका, नहीं तो बहुत देर हो जाती. कुछ दिन हमारी ऐसे ही बातें हुईं, फिर अगली बार बातों बातों में मैं उसको आप आप करके बात कर रहा था.

रंग को लेकर काफी दुखी सी महसूस हुई।वह बोली- शायद मैं सबसे काली लड़की थी अपने स्कूल कॉलेज की और हर लड़का गोरी, खूबसूरत लड़की को अपना साथी बनाना चाहता है.

NRI भाभी X हिंदी स्टोरी में पढ़ें कि कैसे सऊदी में रहने वाली एक इंडियन भाभी ने अन्तर्वासना पर मेरी कहानी पढ़ कर मुझे मेल किया तो हमारी दोस्ती हो गयी. लेकिन जब मैं सुबह जब उठा तो मैंने देखा कि मैं पैन्ट पहने हुए था और सब कुछ साफ था. उनकी सलवार से मुझे और भी ज्यादा असुविधाजनक लग रहा था क्योंकि मेरा लंड सीधा मम्मा की गांड को टच कर रहा था और मुझसे कंट्रोल छूट रहा था.

मैंने भी देरी ना की और उसके आंसू पौंछे और हल्के से उसके गाल पर हाथ फिराते हुए अपने हाथ को उसकी गर्दन पर ले आया. नफीसा- आज मैं तुम्हारी बांहों में हूँ और तुम्हारे हवाले मैं अपना जिस्म सौंप रही हूँ. फिर शारदा चाची ने मुँह घुमा कर लंड को देखा और बोली- सच में तुमने मुझे बहुत सुख दिया.

उसकी बात मान कर मैंने अपने लंड पर थोड़ा थूक लगाया और फिर से उसकी चूत पर लंड को सेट कर दिया.

हिंदी बीएफ सेक्सी एचडी बीएफ सेक्सी: उसने पूछा- क्या?मैंने कहा- आपको वो सब देखने के लिये मेरे घर आना पड़ेगा. उसने वैसा ही किया और हम दोनों के संयुक्त प्रयास से मेरे लंड का सुपारा उसकी चूत को चीरता हुआ अन्दर घुस गया.

जब से मैंने उसको देखा था तभी से मैं उसको चोदने के सपने देखने लगा था. कुछ देर रगड़ने पर निशा बोली- यश अब डाल भी दो यार … कितना तरसाते हो तुम!मैंने निशा की चूत पर अपना लंड रख कर हल्के से धक्का मारा. उसकी बुर अभी भी टाईट थी, जिसके कारण रूपा फिर से बोलने लगी- दर्द हो रहा है भैया, प्लीज़ धीरे धीरे से चोदो.

‘ओह …’ मैं कहकर मैं चुप हो गया, जबकि नम्रता लगातार अपनी कमर को दबाये जा रही थी.

अजय बोला- बस राज भाई, आज मेरा सपना साकार कर दो, बहुत तमन्ना है मेरी अपनी बीवी को किसी और से चुदवाते हुए देखने की! उसकी मस्त सिसकारियाँ सुनते हुए अपना लंड हिलाने का मेरा सपना आज पूरा कर दो. मैंने कहा- तो गेट बंद कर दूं?उसने कहा- अब तक तो तुम्हें बंद कर देना चाहिए था. वात्सायन के अनुसार ऐसे पैरों वाली स्त्रियां बौद्धिक रूप से अत्यंत विकसित, प्राकृतिक तौर पर संकीर्णयोनि अर्थात तंग योनि वाली, पति को सुख देने वाली प्राण-प्रिया और उत्तम संतान को जन्म देने वाली होती हैं.