मां बेटी का बीएफ दिखाओ

छवि स्रोत,செஸ் வீடியோ கன்னட

तस्वीर का शीर्षक ,

बीएफ चुदाई अंग्रेजी: मां बेटी का बीएफ दिखाओ, तेल से शायद उनकी साड़ी ख़राब हो रही थी जिसे उसने उतार दी, अब पेटीकोट से उभरी हुई गांड को मैं देख सकता था.

बीपी पिक्चर ब्लू पिक्चर

अंडरगार्मेंट्स उसको चुभते थे मगर पीरियड्स के चलते उसने सिर्फ़ पेंटी पहनी हुई थी. की चुदाई सेक्सीमुझे आज ये चुदाई बड़ी भयंकर लग रही थी क्योंकि दूधवाले का मूसल लंड मेरी बच्चेदानी तक जा रहा था और आगे से उसके दोस्त का लंड मेरे गले तक ठोकर मार रहा था.

तू हर बार उल्टी बात करता है।सुमन- अरे आप अब झगड़ो मत, और चलो टाइम हो गया है।यहाँ भी ऐसा कुछ नहीं हुआ जो बताऊं तो जाने दो। गोपाल घर आ गया होगा उसी के पास देख आते हैं शायद कोई काम की बात मिले।मोना तो पूरी रात की चुदाई से थकी हुई थी तो मस्त सो रही थी। जब गोपाल आया तो उसे जगाया और पूछा कि क्या हुआ।मोना- कुछ नहीं. सेक्सी बिनाफिर उसने हिला-हिला कर मेरा पानी निकाल दिया और उसको हाथ में लेकर चाट गई.

फिर थोड़ी बाद शालू लंड के साथ खेलने लगी और मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया.मां बेटी का बीएफ दिखाओ: मैं चुपचाप उठा और अपना पायजामा उतार कर खड़ा हो गया और अपने लंड के ऊपर हाथ रखकर आगे पीछे करने लगा.

चल मजे करते हैं। दो-तीन दिन की बात है, तू नहीं भी मानेगी तो मैं तुझे छोड़ने वाला तो हूँ नहीं.‘अंकल जी, वो उस दिन आप वेजाइना लिकिंग के फायदे बता रहे थे न जैसे उस विडियो में दिखाया था आपने…’‘अच्छा अच्छा वो वाला वीडियो जिसमें वो लड़की दादा जी से चटवाती है… हाँ हाँ तो?’‘अंकल जी, मैं तीन दिनों तक दिन में अकेली रहूँगी.

सेक्सी वीडियो भाभी देवर - मां बेटी का बीएफ दिखाओ

मैं स्ट्रेचर पर लेट गया, डॉक्टर ने मेरा अंडरवियर भी खींचकर नीचे कर दिया और मेरे लंड को पकड़ कर देखने लगी.हमने कृष्णा को उसके मामा के घर छोड़ा, घर के लिए निकले तो मैंने मोहन को बोला- यार, गिफ्ट की दुकान पर रोकना!मोहन बोला- किस लिए?मैं बोला- फेसमास्क मिल जाये तो चेक करते हैं, कैम शो करते समय चेहरा नहीं दिखेगा लोगों को।गिफ्ट शॉप पे फेसमास्क नहीं मिला, हम घर आ गए.

मैं मामी को गोद में उठा कर अपने रूम में ले आया फिर उनके पूरे शरीर को चाटने लगा. मां बेटी का बीएफ दिखाओ पर मैं तो जैसे अपनी ही दुनिया में था मुझे सिर्फ़ अपने मोटे लंड पे एक टाइट बुर का अहसास हो रहा था.

मुझे नहीं पता था कि लुल्ला चुसवाने से इतना मज़ा आता है और मेरा लुल्ला भी अकड़ कर पूरा लंड बन चुका था.

मां बेटी का बीएफ दिखाओ?

फिर मैं पीठ के बल बिस्तर पर लेट गया और माला को मेरे लिंग के ऊपर बैठने का इशारा किया. मैं चिहुंक उठी…क्या कर रहे हो…?उसने कुछ नहीं कहा और मेरे बूब्स धीरे धीरे सहलाने लगा. उसे क्या कहूँ कि तू 2-3 दिन बाद खड़ा होना। उसे तो अभी एक रसीला मुँह चाहिए जो उसे अपनी लार से भिगा-भिगा कर चूसे और एक मस्त चिकनी टाइट गांड चाहिए.

मैं बेड पर दीवार से पीठ लगा कर बैठ गया और टाँगें फैला ली और रफीक मेरे आगे टांगों के बीच में पेट के बल लेट के मस्ताना के टोपे को चाटने लगा और फिर पूरे लण्ड पर जीभ फिराने लगा और उसके बाद नीचे गोलियों को चाटते हुए चूसने लगा और फिर नीचे जीभ ले जाकर मेरी गांड के छेद को भी चाटने लगा. यह समझ ही नहीं रहा है।फिर 5 मिनट में वो तेल लेकर आ गया और मेरे पैरों पर तेल लगाने लगा और उसने हिम्मत करके मुझसे कहा- भाभी नाइटी थोड़ी ऊपर उठा लो. मैंने ऐसे ही इसको डाल दिया मगर इसकी वजह से आपको एक्सट्रा मज़ा मिल जाएगा बस और कुछ नहीं।शाम तक मोना इसी सोच में रही कि अब वो क्या करे। फिर उसे याद आया कि साधु बाबा ने उसकी पुरानी जिंदगी के बारे में कुछ बताया था, शायद वहीं से कुछ मिल जाए। मगर उसकी लाइफ के बारे में किसको पूछूँ.

राजे ने मुझे सुमित की बाँहों से अपनी बाँहों में ले लिया और हँसते हुए बोला- बेफिक्र रहो मेजर साहिब… आपकी पत्नी को ऐसा चोदूंगा कि इसकी तो आत्मा भी तृप्त हो जायगी और आपको देखने में बेहद मज़ा आएगा. मैं थोड़ी देर बैठा रहा और फिर मैंने अन्दर जाकर देखा तो वहां कोई नहीं था. ऋतु हाँफते हुए मुझे गाली देती हुई बोली- साआआअले बड़े मजे ले रहा था!वो शायद दोपहर वाली बात कर रही थी.

इतने में बबिता भाभी बोली- सैम हेलो सैम, सो गया क्या?मैं बिल्कुल शांत पड़ा रहा. उसके बाद तो मैं दिन भर उसको चोदने का सपना देखता रहा और दो बार उसके नाम की मुठ भी मारी.

ये सब देखकर मेरी अन्तर्वासना भड़क उठी और फिर मैं नंगा होकर पहली बार मुठ मारने लगा, फिर मैं सो गया.

जब तक वो पानी छोड़ रही थी तब तक उसका बदन इतना अकड़ गया कि पीटर को भी अपना लंड उसके अंदर बाहर करने में दिकत आई.

मेरा हाथ अब पिंकी की छोटी सी योनि‌ पर था जो अभी तक प्रेमरस से भीगी हुई ही थी‌, पिंकी ने मेरे हाथ को अपनी योनि पर से हटाने की एक बार कोशिश तो की, मगर कामयाब नहीं हो‌ सकी‌।मैं अब उसकी कच्ची कुंवारी योनि को हथेली से सहला रहा था, मसल रहा था… मेरी उंगलियाँ भी योनि की दोनों फांकों के बीच योनिद्वार पर गोल गोल घूम रही थी तो कभी योनि की फांकों को सहला रही थी. आपको कुछ तो लेना ही पड़ेगा।सुधीर के मन में तो था कि मोना के रसीले होंठों को पी जाए. इसलिए सोचा पहले उससे मिल आऊं तो बाकी का दिन अच्छा गुजर जाए।सुमन भी सुबह की बात को लेकर शरमिंदा थी और टीना की सिखाई बात भी उसको याद थी। वो एकदम से उठी और भाग कर गुलशन जी से लिपटते हुए एकदम ज़ोर से उनसे चिपक गई। उसके कड़क चूचे गुलशन जी साफ महसूस कर रहे थे। उन्होंने मौके की नजाकत को समझते हुए सुमन को अपने से अलग किया तो देखा उसकी आँखों में आँसू थे।गुलशन- अरे अरे क्या हुआ.

उसकी चूची भी जमीला की तरह 38 इंच की, कमर 32 की और गांड तो शायद 40 की होगी. मेरे साथ ही मनोज भी सुलेखा को घोड़ी बना कर चोद रहा था, अरमान भी नेहा की चूत को चोदने में व्यस्त था. 10 मिनट के बाद वो झड़ गयी पर मैं अभी झड़ा नहीं था, मैं लगातार शॉट लगा रहा था.

मेरा नाम रजत है, मैं 25 साल का हूँ और मेरी बहन शालू 22 साल की है, अब उसकी शादी हो गई है.

किसी तरह मैंने खुद को संभाला और उठकर चला तो चक्कर आ गया, एक-एक कदम चलना जैसे घायल गांड में जैसे नमक छिड़के जाने का अहसास करा रहा था. उसके बाद चाची वहाँ से चली गई और मैं तैयार होने के लिए बाथरूम में घुस गया. अब यार मैं भी जवान था और वो आंटी पंजाबन थीं, जो कि मुझे बाद में पता चला.

’ कह कर चल दी!फिर हमारी मुलाकात होने लगी और वो जब भी मिलता, हज़ार, दो हज़ार, पांच हजार खर्च देता. अन्दर से अज़गर जैसा भयानक लंड बाहर निकल पड़ा… जो पूरा तना हुआ किसी घोड़े के लंड जैसा लग रहा था. मैं तड़प गई, मैंने दीदी को कहा- मत करो ना दीदी!पर दीदी रुक नहीं रही थी.

स्वान ने बेसब्री के साथ अपना हाथी जैसा लंड खाली हुए नाता के मुंह में घुसेड़ दिया.

कुछ सीनियर्स को मेरी गोरी छरहरी बॉडी पसंद भी आ गई। पूछा भी गया कि क्या एक्सरसाइज करते हो।एक सीनियर तो रात को मुझे अपने कमरे में ले गए. यह देखते ही सुलेखा ने ताली बजाई और बोली- रवि को मेरे से तूने ही पास बुलाया था न, ले अब सबसे पहले कर दिया तुझे बेशर्म मेरे पार्टनर ने ही…और हंसने लगी तो रुचिका एक दम सुलेखा की तरफ भागी और बोली- अच्छा साली, तुझे मैं बताती हूँ!कह कर उसने मनोज की गोद में बैठी सुलेखा जिसकी ब्रा पहले ही मनोज ने खोल दी थी, की पैंटी में हाथ डाला और जोर से खींच कर उतार दिया.

मां बेटी का बीएफ दिखाओ उसके बाद तो मैं दिन भर उसको चोदने का सपना देखता रहा और दो बार उसके नाम की मुठ भी मारी. और मैं दोनों हाथों से कभी जमीला के बूब्स दबाता कभी उसकी बड़ी गांड को सहलाता.

मां बेटी का बीएफ दिखाओ लो अब बताओ और मैंने हाथ को दबा के उसको गाल पर और होंठों पर किस करने लगा।वो मेरी पकड़ में कसमसा रही थी. इस प्रक्रिया में एंड्रयू का लंड पूरा तो नहीं, लेकिन आधा-अधूरा गोरी रुसी लड़की की गांड के अन्दर-बाहर होने लगा.

और जैसे ही मैंने उसकी पेंटी पर हाथ रखा तो मैंने देखा कि उसके पास मेरे से भी लंबा नकली लंड बंधा हुआ था। उसने झट से बाज़ी उल्टी की और अपना लंड मेरे मुँह में दे दिया। मैं साँस भी नहीं ले पा रहा था, मेरे मुँह में उसका लंड फंस गया था।उसने मुझे उल्टा करके मेरी गांड में लंड डाल दिया और बोलने लगी- भोसड़ी के… बहुत चोदने की सोच रहा था ना मुझे.

एक्स एक्स हॉट सेक्सी फिल्म

उन्होंने मुझे बताया कि उनके हस्बैंड भी आर्मी में मेजर हैं और अभी उनकी असम में पोस्टिंग है। आर्मी वालों की पोस्टिंग अलग- अलग जगहों पर होती रहती है इसलिए हम साल में 3 या 4 बार ही मिल पाते हैं। बस 1 शराब ही सहारा है तन्हाई को दूर करने का!दोस्तो मैं जिंदगी में पहली बार शराब पी रहा था, तो मैंने बस 1 पेग ही लेना ठीक समझा, फिर भी शराब ने अपना असर दिखाना शुरू कर दिया. नाश्ता करते हुए ऋतु ने सबको बता दिया कि आज रात उसकी फ्रेंड पूजा रात को यहीं रुकेगी. पानी में भीगने के कारण उसके गीले कच्छे में उसका लंबा मोटा लंड दाएं से बाएं और बाएं से दाएं डोलता हुआ अगल से दिखाई दे रहा था.

लंड मेरी चूत की दीवारों से चिपका हुआ था इसलिए अंदर बाहर करने में भी मुझे दर्द हो रहा था. मैंने अपने मुंह पर पूजा के रस का सैलाब महसूस किया और उसे पीने में जुट गया. मैं धीरे-धीरे लंड चूसती रही और भाई का लंड देखते ही देखते 7 इंच लम्बा और काफी मोटा हो गया। भाई ने एक बार फिर मेरे पूरे शरीर पर किस किया और मेरी बुर को चूसने लगे।मैं फिर से पागल होने लगी। भाई ने अपने थूक से मेरी बुर को एकदम गीला कर दिया। फिर भाई ने अपने लंड के ऊपर भी थूक लगा लिया और मेरी बुर के ऊपर अपने लंड को रगड़ने लगे।मुझे बहुत मजा आ रहा था लेकिन तभी भाई ने अपना लंड मेरी बुर में डालने की कोशिश की.

फिर ऋतु ने एक झटके से अपना गाउन उतार फेंका… उसने कल की तरह अन्दर कुछ भी नहीं पहन रखा था, एकदम नंगी… मैंने अपने बेड के साइड का बल्ब जला दिया.

मैंने मुड़ कर रोने जैसी सूरत बना कर राहुल को देखा… उसने तुंरत ही लंड निकल लिया. और फिर मेरी नाईटी उतार फेंक कर वो मेरी टाँगें हवा में उठा कर जैसे पूरा ही चूत में घुस गया. बस आधा मिनट ही और बीता होगा कि वो मुझ पर हाँफते हुए ढेर हो गई और मुझे अपनी बाहों में कस लिया साथ में अपनी चूत मेरे लंड पर पूरी ताकत से दबा दी उसने!मैंने एक बात नोट की कि वह झड़ने में ज्यादा समय नहीं लेती थी, बस पांच छः मिनट की रगड़ाई या चूत चुसाई और वो एक्सट्रीम पर आ जाती थी.

रोहन!मैंने उसकी रसीली चूत से अपना मुंह ऊपर उठाया और बोला- गुड मोर्निंग!हमेशा की तरह उसकी चूत में से ढेर सारा रस बहने लगा और मैं चटखारे लेकर उसे पीने लगा. गुजराती कोमल भाभी से मस्ती के बाद मैं सोमवार को पहले अहमदाबाद आया जहाँ हिम्मत मुझे कार से लेने आया। हिम्मत ने मुझे एक होटल में रोका, बोला- अभी आप यहाँ रेस्ट करो रात को 9. वहीं की एक लाईट जलाए हुए थे। मैं इस रोशनी में उनके बदन को आसानी से देख पा रही थी।मेरा मन मचलने लगा.

मैंने देखा कि चाची की आंखें बंद थी, मैंने अपने पैन्ट की चेन खोल कर लंड बाहर निकाल लिया और चाची के हाथ में सटा दिया. बहन को ऐसा करते हुए देख कर उस आदमी का जोश एक तो ऐसे ही बढ़ रहा था और दूसरी तरफ़ मेरी बहन के पैर में जो पायल की झनकार सुनाई देती थी, वो उसके जोश को और ज्यादा बढ़ा रही थी.

दस बजे रात को सभी स्टाफ को छुट्टी मिल जाती थी, मुझे पूरी रात रहना पड़ता था. साली क्या मस्त है रे तू उहहा ले आज तेरी गांड और चुत दोनों मारूँगा।इतना कहकर अजय ने लंड गांड से निकाल कर चुत में डाल दिया और चोदने लगा। कोई दस मिनट बाद वो झड़ गया।अब फ्लॉरा की चुत ने भी थोड़ा सा पानी फेंका. आप मुझे यहाँ लाए हो, अब जिसके लिए ये सब लिया है ये तो उसी को पता होगा ना।अनीता- किसके लिए शॉपिंग हो रही है.

अब तक की इस सेक्स स्टोरी में आपने पढ़ा था कि पूजा की छोटी सी बुर संजय का मोटा लंड सहन नहीं कर पाई और वो चिल्ला पड़ी.

हम दोनों के मुंह से ‘गूंन्न… गूंन…’ की आवाज निकली और मैंने नीचे से धक्के लगाने शुरू कर दिए. जैसे ही उसके चूतड़ मेरी जाँघों पे लगे और मैंने उसे गोद में अच्छे से ले लिया और नीचे से झटके लगा कर पूरी तरह से लंड उसकी चूत में डाल दिया, मेरा लंड पूरा उसकी चूत में फिट हो चुका था और टट्टे उसकी चूत से सटे पड़े थे. मेरी दोनों चुची और भी उभर कर मामा के मुँह में समा गयी, मामा जी का एक हाथ मेरी कमर को पकड़े था और दूसरा हाथ मेरी गांड के पीछे से मेरी चूत सहला रहा था, मुझे बहुत ही ज़्यादा मज़ा आने लगा था.

तब तक नीचे सब सो भी जाएंगे ओके!पूजा को वहीं बैठाकर संजय बाथरूम चला गया। उसका लंड तो पहले ही अधूरा था, अब पूजा की बात सुनकर उसको लगा कि फ्लॉरा की कमी अब पूजा पूरा कर देगी।अरे अरे अभी ग्रुप सेक्स का मज़ा लेकर आए हो. नर्म और गोल, जिस पर बड़ा सारा निप्पल खड़ा था, मैंने उसका निपल छुआ तो उसने अपने हाथ से अपना बोबा पकड़ कर मेरे मुँह से लगा दिया, मैं किसी छोटे बच्चे की तरह उसका बोबापीने लगा.

उसकी हवस इतनी बढ़ गई थी मानो वह कह रहा हो कि मैं आज तुझे अपना लंड खिला ही दूंगा. मैं फूफा जी के ऊपर आ गई और दोनों तरफ़ टांगें करके लंड को अपनी चूत के बीच में रख लिया. मैंने उनसे पूछा- क्यों?तो उस समय मुझे अपनी बाजू दिखाते हुए वो मुझसे कहने लगी- मुझे वैक्सिंग करानी है, देखो मेरे बाल बहुत ज्यादा बड़े हो गये हैं।मैंने उनको कहा- क्या मैं आपकी कुछ मदद कर दूँ?वो पूछने लगी- तुम क्या मदद करोगी?मैंने कहा- आप जो भी कहोगी मैं आपकी उस काम में मदद कर सकती हूँ.

एचडी सेक्सी मूवी एक्स एक्स एक्स

मेरे हाथ पीछे उसकी गांड पर चले गए और वो मेरी कमर को पकड़ के खड़ी हुई थी.

मैं बोला- क्या रफीक को पता है कि तुम भी घर में हो?तो जमीला बोली- नहीं उनको पता नहीं है और इसलिए तो मैंने कहा कि आज दिनभर इतना मजेदार होगा की पूरी जिंदगी नहीं भूलोगे. मैं हंसते हुए झुक गई, दूधवाले ने पीछे से अपने लंड को मेरी चुत पर सैट किया और घचाक से अन्दर डाल कर मेरी चुदाई शुरू कर दी. मैंने उसके लंड को पकड़ कर रगड़ना जारी रखा और लगभग 2 किलोमीटर के बाद बाइक ने सीधे जाखोद खेड़ा का रोड छोड़कर दाहिने हाथ की तरफ नेवली खुर्द गांव की तरफ कट मार दिया और हम रात के अंधेरे में सुनसान गांव की तरफ अंधेरे में गुम हो गए.

वो चूत पर थोड़ा सा थूक देता और फिर जीभ से उसे चूत पर फ़ैलाने लगा!इस प्रक्रिया में मेरी जानेमन को बहुत मजा आने लगा, वो जोर-जोर से सिसकारी भरने लगी. साथियो, आप मुझे मेरी इस हिंदी पोर्न स्टोरी पर मर्यादित भाषा में ही कमेंट्स करें. मोटे लंड वाली सेक्सी वीडियोतभी तो संजय ने अपने इस घर में पार्टी की थी और फ्लॉरा की जमकर चुदाई की थी.

मेरे बालों को पकड़े हुए उसने मेरा मुँह आगे किया तो मैं भी अपनी जीभ रिया के चुत में घुसाने लगी. फिर मैंने सीमा दीदी की कुर्ती उतार दी और ब्रा का हुक भी खोल दिया और सीधे कर उसकी ब्रा से उसके चूचों को आज़ाद कर दिया.

क्या बात है खाना तो बाद में खा लूँगा, तू बात बता?सुमन- पापा वो कॉलेज में सब कहते हैं कि मैं ओल्ड फॅशन के कपड़े पहनती हूँ. पर मैंने उनको पकड़ लिया। कुछ देर की पीढ़ा के बाद भाभी ने मेरे लंड को अपनी चुत में ले लिया. उनको परवाह ही नहीं थी।फिर वो आंटी के ऊपर आ गए और दोनों टांगों के बीच आकर बड़ा सा लंड आंटी की चुत में दे मारा।आंटी चिल्ला उठीं ‘उइइ.

क्या शानदार नजारा था…एंड्रयू का भारी भरकम लंड मेरी जीवनसंगिनी की बच्चेदानी को चोदने में लगा हुआ था, मेरा छोटा लंड उसकी गांड में किसी पिस्टन की तरह घुस-निकल रहा था, तो स्वान के गर्दभ लंड ने मेरी छोटी सी गुड़िया का मुंह फाड़ कर रख दिया था. वहीं की एक लाईट जलाए हुए थे। मैं इस रोशनी में उनके बदन को आसानी से देख पा रही थी।मेरा मन मचलने लगा. उसने अपनी कमीज़ के बटन खोले और मेरा पूरा पाँव अपनी कमीज़ के अंदर डाल लिया.

आज तक ऐसा नहीं हुआ कि हम किसी को बिना रैंगिंग के जाने दें और दूसरी बात उसको ग्रुप में शामिल भी कर लिया, ये बात कुछ समझ नहीं आ रही?संजय- मेरी जान इसी लिए तो आई एम द ग्रेट संजय.

जब लंड एकदम लोहे की रॉड जैसा सख्त हो गया तब मैंने मुँह से लंड बाहर निकाला और कहा- मार डालोगे क्या?तब उसका दोस्त बोला- जी नहीं. मगर अब उनके खड़े लंड को देखकर वो समझ गई इनसे बहस करना बेकार है और वो उनके हवाले हो गई- ठीक है कुत्तों.

मैं तो मामा जी की चुदाई की दीवानी हो गयी थी इसलिए हर बात मानने को मैं तैयार थी, मैं बोली- ठीक है रोक कर रखूँगी. मैंने सोचा कि मुझे चलना चाहिए… मैं उठकर चलने के लिए पीछे मुड़ा तो देखा कि दो लड़के मुझसे थोड़ी सी दूरी पर मेरी तरफ ही बढ़े आ रहे थे. मैंने अपने हाथ मानसी के चूचों पे रख उनको मसलना चाहा पर उसने मुझे पीछे धकेलते हुए अपना विरोध जाहिर किया.

मैं दर्द से रोने लगी।फिर उसने मुझे पेलना चालू किया। अपने दोनों हाथों से मेरे मम्मों को दबा कर उसने ज़ोरदार झटके देना शुरू किए।‘उफ्फ्फ. ब्रा की इलास्टिक चाची की कमर और बगल पर लगे, तो उनके मुँह से जोर से चीख निकल गई. थोड़ी देर मेरी चुत को और चाट लेते।संजय- चुत चाटने से इसका दर्द नहीं जाएगा.

मां बेटी का बीएफ दिखाओ मैंने अपने कपड़े उतारने शुरू किये और कुछ ही देर में अपनी बहन के सामने बिल्कुल नंगा खड़ा हो गया. वो अपने मुँह से ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ की हल्की आवाजें निकाल रही थीं। मैंने भाभी को बेड पर लेटा दिया और उनकी चूत के दाने को मुँह में लेकर चूसने लगा। वो उत्तेजित होकर अपनी गांड उठा कर मुझसे अपनी चूत चुसवा रही थीं।भाभी बोलीं- आज पहली बार मेरी चुत किसी ने चूसी है.

बिहारी सेक्सी चूत की चुदाई

क्या गजब की गोरी और चिकनी गांड थी उसकी… मैं ताबड़तोड़ पीछे से चोद रहा था कि अचानक लंड फिसल कर बाहर आ गया और उसकी गांड में घुसने लगा. शायद फूफा जी को पता नहीं था कि उनकी बगल में मैं हूँ, नहीं तो वो मेरे कंधे को नहीं सीधा मेरे चूचे पकड़ते. वो अब सिर्फ ब्रा में थीं और उनके मोटे-मोटे चूचे बाहर आने को बेताब हो रहे थे.

फिर मुझे देख कर क्यों हटा लिया था?वो उठ कर बेड पर लेट कर बोलीं- तुझे हर बात खुल कर समझानी पड़ेगी क्या? मैं भी चाय का कप टेबल पर रख कर बेड पर उनके पास बैठ गया।मैं- मतलब?भाभी- तू मतलब बहुत पूछता है।अब भाभी ने मेरा हाथ पकड़ कर मुझे अपने ऊपर खींच लिया और मेरे होंठों को चूम लिया।भाभी- अब आया मतलब समझ में?मैं तो सातवें आसमान में उड़ने लगा. मैं दवा लेकर बाहर आया, इंजेक्शन बनाया और चाची से पूछा- चाची बांह पर दे दूँ?चाची ने मना कर दिया, बोली- बेटा, बांह पर दर्द हो रहा है. स्कूल गर्ल xxx वीडियोजैसे उनको शहद का मज़ा मिल रहा हो।आंटी ने लंड को चाट-चाट कर पूरा चिकना कर दिया और मुझे किस करके बोलीं- तूने तो आज बहुत मज़ा दिया साहिल!मैं बोला- मज़ा तो आपने मुझे दिया थैंक्स आंटी।उसके बाद हम अपनी-अपनी जगह पर जाकर सो गए।तब से दोबारा कोई और आंटी नहीं मिलीं.

‘पक्का प्रॉमिस और मुझे भगवान की कसम अगर तुम्हारी मर्जी के खिलाफ मैंने कुछ भी किया तो!’ मैंने वादा किया.

मैंने अपनी पति से कहा- ज्योति को बोलती हूँ राजे से बात करवाये!सुमित उछल पड़ा और बोला- यह बिल्कुल सही है. अब तू भी मुझे प्यार कर मेरे लंड को सहला, उससे खेल… क्योंकि आज के बाद तुझे उसी से सुकून मिलेगा.

एक दिन अपने बरामदे में अपनी चारपाई पर लेटा हुआ था और उसी पर 2 आंटी भी बैठी थी और मुझसे कुछ बातें कर रही थी. काफी चुसाई के बाद जमीला बोली- राजेश डार्लिंग, अब तुम रफीक की गांड चोदो और मैं तेरा मस्ताना और गांड दोनों चाटूँगी. क्योंकि मैं उसकी आंख पर पट्टी बांधकर उसे आपसे चुदवाऊँगा।गुप्ता जी तो जैसे रुआंसे से हो गए और बोले- सच में जय आप बहुत अच्छे इंसान हो, संजना सीकमसिन लड़की से सेक्स करकेमेरी जिंदगी तर जाएगी। वैसे भी मैंने 6-7 सालों से सेक्स नहीं किया है।मैंने उनका हाथ पकड़ कर उन्हें आश्वस्त किया।गुप्ता जी बोले- तो आज ही फिक्स कीजिये ना।मैं बोला- नहीं.

रयान और निष्ठा अभी बच्चा नहीं चाहते अगले तीन साल तक… सेक्स लाइफ उनकी भरपूर रंगीन है.

मैं सबीना की चूत चूसता हुआ एक हाथ से उसके मम्मे दबा रहा था और दूसरे हाथ से जमीला की चूत सहला रहा था. राकेश- तो अभी तक घर पहुंची या नहीं?मैं- क्या मतलब?और राकेश ने काल काट दिया।मैं समझ गया कि राकेश ही जान बूझ कर ही मुझे वहाँ मेरी मॉम के पास ले गया था।आपको कैसी लगी मेरी माँ की चुदाई की यह स्टोरी?मुझे बतायें![emailprotected]पर अपनी किसी भी प्रकार की राय दें!. प्रयास करूंगा कि जल्दी ही समय निकाल कर इसे भी लिख कर यहाँ अन्तर्वासना पर उपलब्ध करा सकूं!यह कहानी यही समाप्त होती है.

सेक्स सेक्स सेक्सी सेक्ससही बोल रहे हैं तुमने वादा किया था तुम हम जैसी बिंदास बन जाओगी, मगर अभी तक तुम्हारे अन्दर एक भी बदलाव नहीं आया।अब सुमन का क्या होगा. क्या भोर कर देगा।शायद वह पॉने घंटे लगा रहा, मुझे तो वह समय दो घंटे सा लगा। मुझे पसीना आ गया.

गूगल पर सेक्सी वीडियो दिखाओ

उसने पीछे हाथ लाकर लंड को पैन्ट के ऊपर से ही पकड़ लिया और दबाने लगी. उसको अच्छा लग रहा है ये देखते हुए मैंने उसके मम्मों पर हाथ रख के सहला दिया. पीटर ने बैठे बैठे ही तूफानी धक्के लगाने शुरू किये, वो भी देर से हिला रहा था और मैं भी कुछ ज्यादा ही चुदास हो उठी थी तो पांच ही मिनट में हम दोनों ने लगभग साथ ही पानी छोड़ दिया.

आज पहली बार मैं किसी की चुदाई होते देख रही थी।मेरी अनचुदी बुरभी गीली हो चली थी, निप्पल कड़े हो चुके थे। मेरे हाथ मेरे स्कर्ट में जाकर बुर को सहलाने लगे।तभी आंटी की नजर मेरे पर पड़ गई और उन्होंने अंकल को धक्का मार कर अलग कर दिया।मैं भाग कर अपने घर आ गई।वो कुछ देर बाद घबराई हुई सी मेरे घर आईं। मैंने उन्हें देखा तो उनकी नजरें नीचे थीं, आंटी बड़े प्यार से पूछने लगीं- कुछ काम था बेटी?‘नहीं आंटी. रफीक सबीना की चूत से मुँह हटाकर चीखते हुए- बहन की लौड़ी सबीना, क्यों अपने भाई की गांड के चीथड़े इस हब्शी लण्ड मस्ताना से करवाना चाहती है, फाड़ दी मेरी गांड मादरचोद भोसड़ी वाले अहःहःहः…जमीला- देखा तेरी चुदक्कड़ बहन को कैसे भाई की गांड फड़वा रही है, अब गण्डवे तुम भीअपनी बहन की गांडको फड़वाने के लिए तैयार करो. अब उसने चोदने का स्पीड और बढ़ाई, जैसे जैसे उसने स्पीड बढ़ाई, वैसे वैसे मेरा दर्द बढ़ता गया.

उसने कुछ देर बाद कहा- धीरे धीरे डालो!मैंने धीरे धीरे जोर लगाया और रश्मि कीछोटी सी चूत में पूरा लंडपेल दिया, रश्मि अपने दांत भींचे रही. मैं जोश में जोर-जोर दबाने लगा तो भाभी मादक सिसकारियाँ लेने लगीं और गर्म होने लगीं. मैं चाची के घर गया, चाची कुर्सी पर बैठी हुई थी, मैंने चाची को पूछा- अब कैसी तबीयत है?चाची बोली- अब आराम है.

दूसरे दिन मैं अंदर गया तो वो चाय बना रही थी, मुझसे बोलीं- बाहर नोटिस नहीं देखा? आज छुट्टी है, तुम्हारे सर बाहर गए हैं. टीना के साथ सब हंसने लगे और अजय चिढ़ गया और गुस्से में उसने लंड पेंट के बाहर निकाल लिया।अजय- क्या मूँगफली बोलती है साली.

हाँ मामू बहुत मज़ा आ रहा है उफ़ लेकिन नीचे कुछ गीला-गीला अजीब सा लग रहा है।संजय- अरे मेरी भोली पूजा, तुम ज़्यादा ध्यान मत दो बस मज़ा लो।संजय बातों में उलझा कर उम्म्ह… अहह… हय… याह… अब पूजा के संतरे भी सहला रहा था।पूजा को समझ आ रहा था या नहीं ये तो पता नहीं मगर मज़े से उसकी आँखें बंद हो गई थीं.

मैंने भी जवाबी हमला करते हुए चाची की पेंटी में हाथ डाल दिया, चाची की चूत एकदम सफाचट थी. मारवाड़ी आंटी का सेक्सी वीडियोमगर मैं समझ गई थी कि फूफा जी अब मेरे ऊपर आना चाहते हैं इसलिए मैं खुद ही फूफा जी के साथ चिपके चिपके एक साइड को हो गई और फूफा जी को भी खींच कर अपने ऊपर लाने की कोशिश करने लगी. बिग बूब्स इंडियनतो वो बोलीं- प्लीज़ तुम्हें जलन हो रही है।मेरे टी-शर्ट निकालने के बाद वो मेरे कसे हुए शरीर को घूरने लगीं और जल्दी से बर्फ मेरी छाती और शरीर के अन्य हिस्सों पर बर्फ फेरने लगीं। वो मेरे पास बैठी हुई थीं. उसके बाद उसने मुझे नीचे उतारा और दीवार के सामने खड़ा करके मेरे पीछे आकर खड़ा हो गया और पीछे से मेरे चूत के अंदर अपना पहाड़ सा लंड डाल दिया और मेरी चुची पे हाथ रख कर उसको सहलाने लगा.

दबाया और चाटा। निशा भाभी की साँसें तेज़ हो गईं। मैं उनके बोबों को चूमते हुए नीचे की तरफ आया और उनकी नाभि पर ज़ुबान फिराने लगा। वो इससे मदहोश हो गईं और उनका जिस्म अकड़ गया, वो अपनी जांघें मसलने लगीं। मैंने भाभी की सलवार का नाड़ा खींचा.

गुलशन ने अनीता को बांहों में भर लिया और उसके बाल खींच कर एक जोरदार किस किया. मैंने भी अपनी चुची को दोनों हाथ से ऊपर की ओर सहारा दिया और गला को पीछे की ओर झुका कर अपने छाती को आगे की ओर तान दी. मैंने उन आंटी को बेड पर कपड़े उतार कर लिटा दिया और पूरे जोश के साथ मुंह से उनकी चूत पर टूट पड़ा.

सिर्फ़ दिक्कत अगर होती है भी तो सिर्फ़ प्राइवेसी और सेक्यूरिटी को लेकर ही होती है वरना कोई परेशानी नहीं होती. अन्तर्वासना सेक्सी स्टोरी पढ़ने वालों के सेवा में चूतनिवास के लंड से इकत्तीस तुनकों की सलामी!आज मैं जिस घटना का वर्णन करने जा रहा हूँ उसे पढ़ के आप लोग आश्चर्यचकित रह जायेंगे क्यूंकि यह घटना एक लड़की द्वारा अपनी स्वयं की माँ चुदवाये जाने की है. मेरा जोश बढ़ा रही थी।थोड़ी देर बाद वो झड़ गई और उसके कुछ देर बाद मैं भी निकल गया। उस रात मैंने उससे जम कर चोदा और उसके मन को खुश कर दिया।ए सी के कारण रूम पूरा ठंडा था पर इस गरम चुदाई से जिस्म गर्म थे।ये थी मेरी उसके साथ जबरदस्त चुदाई.

हिंदी सेक्सी मूवी 2 घंटे की

ऐसा एक साल चलता रहा, पर एक दिन मेरे पापा पता चल गया कि यह दोनों गलत काम करते हैं. एकदम मस्त और करारा माल।मैंने मेरे चहरे से रूमाल नीचे किया और उसे रिप्लाई दिया- हाय मैं सुहास. उसने कहा- ये बात… अब आ रहा है मज़ा…कहकर उसने पूरा लंड मेरे घुसेड़ना चाहा लेकिन इतना बड़ा लंड अंदर जाता कैसे? इसलिए मेरी सांस घुटने लगी… पूरा घुसेड़ने के बाद भी उसका रॉड जैसा लंड 3 इंच तक बाहर ही था… मेरी आँखों से पानी आना शुरु हो गया.

और थोड़ी देर बाद जमीला- आहहहहह…उम्म्म…साले अब फाड़ ना जोर जोर से अब कहाँ गया तेरा जोश ह्म्म्म…ओहहहहह…अब चोद फाड़ साली को बहूत आग लगी है साली फुद्दी में.

मैं मना नहीं करूँगी।उनकी बात सुनकर मुझे बड़ा मजा आया और दूसरी चुदाई को लेकर सपने बुनने लगा। हालांकि मुझे तो पहली बार में ही आंटी चुत का मजा आ गया था।आपक मेरी आपबीती अच्छी लगी या नहीं, मुझे प्लीज़ रिप्लाई करना।[emailprotected].

फिर खड़े होकर मैंनेआंटी को बाँहों में भर लिया और खड़े खड़े उनकी चूत और चूतड़ों को सहलाता रहा. करीब दस मिनट के बाद दूध वाले ने लंड का रस मेरे मुँह में छोड़ दिया और मैं उसे पी गई. ਸੈਕਸ ਫ਼ਿਲਮबिना ब्रा और बिना पेंटी के हमने उसे वहीं छोड़ कर वापिस अपने घर आ गए.

जब हम दोनों ही बहुत उत्तेजित हो गए तब चाची बिस्तर पर सीधी लेट गई और अपनी टांगें फैला कर मुझे उसके साथ संसर्ग करने का न्योता दे दिया. उसने कुछ देर बाद कहा- धीरे धीरे डालो!मैंने धीरे धीरे जोर लगाया और रश्मि कीछोटी सी चूत में पूरा लंडपेल दिया, रश्मि अपने दांत भींचे रही. फिर मेरा लंड खड़ा होने लगा- क्यों, भैया नहीं करते है क्या?रीना- वो सूरत में रहते है और 6 महीने में एक बार आते है.

ऐसी कमसिन कली को चोदना कौन नहीं चाहेगा? मगर ये साथ दे तो ज़्यादा मज़ा आएगा. मैं कपड़े पहन कर बाथरूम से बाहर आ गयी, मैंने सोचा कि जब उठ गयी हूँ तो रात के झूठे बर्तन धो लेती हूँ, फिर चुदाई करवा लूँगी मामा जी से ताकि चुदाई के बाद मामा जी को जल्द से चाय और नाशता दे दूँगी.

वो वहाँ से मुझे अपने घर ले गई, वहाँ उनके घर की एक नौकरानी भी थी, थोड़ी अधिक उम्र थी उस नौकरानी की… करीब 50 होगी.

दोस्तो, सभी चूत वालियों और लंड वालों का पानी इस देसी ग्रुप सेक्स स्टोरी को पढ़ कर जरूर निकलेगा इसलिए भाई लोग अपना पैन्ट उतारो और अपने लण्ड को हाथ में लेके हिलाते हुए और भाभियों और मेरी चुदक्कड़ पाठिकाओं आप भी अपनी पैंटी खोल के अपनी चूत में मेरे मस्ताना के नाम की उंगली डालते हुए मेरे इस बड़ौदा कपल के साथ की चुदाई की दास्तान का मजा लीजिये. मैं तुम्हें पसंद नहीं हूँ।मैं अपनी गलती के लिए माफ़ी मांग कर जैसे ही जाने लगा कि उसने मेरा हाथ पकड़ कर बोला- सब कुछ कहना जरूरी है क्या? बिना कहे समझ में नहीं आता कि लड़की रात में कब नहीं सो पाती है?तो मैंने कहा- मुझे क्या पता. उम्म्ह… अहह… हय… याह… मैं तो पूरा लंड अन्दर लेके मर ही जाऊंगी ऊह ऊ आह कम ऑन फक मी रोहन.

मोहन सेक्स तभी राजे ने पैंतरा बदला, अचानक से मैंने स्वयं को ऊपर उठता हुआ अनुभव किया, चूचुक में एक तेज़ खिंचाव हुआ और राजे ने बैठी हुई पोजीशन में आकर मुझे लंड पर बिठा दिया था, मेरी पीठ उसकी तरफ थी और उसने मुझे चूचियों से थाम रखा था. गुलशन- हा हा हा ऐसा कुछ नहीं होगा… तू कोशिश तो कर… फिर मज़ा आएगा तुझे.

बस अब मेरा टाइम हो गया, ये कभी भी खड़ा हो जाएगा फिर ज़रूर चोदूंगा भाभी को।काका- जो करना है बेटा. रास्ते से मैंने कुछ नाश्ता ले लिया और अरमान को काल करके बोल दिया कि वो नाश्ते न बनाएं, हम लेकर आ रहे हैं. एक बड़ी सी बिल्डिंग के बाहर गुलशन जी की गाड़ी रुकी और फिर वो बिल्डिंग में एक फ्लैट के बाहर जाकर बेल दबाने लगे.

सुहागरात वाला सेक्सी हिंदी

पूजा- क्या हुआ मामू आप मुझे ऐसे क्यों देख रहे हो?संजय- क्या मस्त है रे तू पूजा. नर्म और गोल, जिस पर बड़ा सारा निप्पल खड़ा था, मैंने उसका निपल छुआ तो उसने अपने हाथ से अपना बोबा पकड़ कर मेरे मुँह से लगा दिया, मैं किसी छोटे बच्चे की तरह उसका बोबापीने लगा. चाची की दूसरी चुदाई करने के बाद चाची की सांसें अभी भी तेज चल रही थी.

रोज़ की तरह जब मैं उनके साथ पढ़ रहा था कि उनका फोन कॉल आया और वो मुझे कुछ सवाल देकर चली गईं. इसके लिए आप बेशक हमारी पगार में से जितना चाहे वह काट लीजिये लेकिन एक असहाय को आसरा जरूर दे दीजिये.

थोड़ी देर बाद उनके मुंह से हल्की हल्की आवाज आने लगी उम्म्ह… अहह… हय… याह… और उन्होंने धीरे से पैरों को खोल दिया.

रेलवे स्टेशन पर उतर कर रफीक को फोन किया तो रफीक ने बताया कि मैं एग्जिट गेट पर ही हूँ, मैं और जमीला दोनों आये हैं और गेट के बाहर बाईं तरफ हम दोनों काली स्विफ्ट डिजायर कार लेके खड़े हैं. एक पल के लिए तो मेरा मन हुआ कि ऐसे ही लेटी रहूं और फूफा जी के लंड पर अपनी चूत रगड़ दूं. मेरा नाम रजत है, मैं 25 साल का हूँ और मेरी बहन शालू 22 साल की है, अब उसकी शादी हो गई है.

कमरे में हम जमीन पर बिस्तर बिछा कर लेते, सबसे पहले बुआ की बेटी, उसके साथ मैं, मेरे साथ में मौसी की बेटी, उसके बाद मधु, पड़ोस की एक लड़की, वह बढ़िया मस्त चीज थी, वह स्मृति की दोस्त बन गई थी तो उसको स्मृति ने अपने साथ रोक रखा था, और आखिर में स्मृति लेटी हुई थी. मुझे बहुत अच्छा लगा कि तुमने कोई ज़बरदस्ती नहीं की।इतने में अन्दर से कमरे के दरवाजे की आवाज़ आई, हम थोड़ा ढंग से बैठ गए। महक आई और प्रिया को देख मुस्कुराने लगी, राजेश उसके पीछे-पीछे आके हम दोनों से मिला और बाद में वो जल्दी में निकल गया।मैं भी थोड़ी देर बाद निकल गया. उसी तरह शहर की हवा में गोपाल ऐसा हो गया, मगर मैं आज भी जवान ही हूँ.

अब हमने पोज बदलने का फैसला किया, एंड्रयू ने रशीयन रंडी की गर्दन जकड़ कर अपना लौड़ा गांड से निकाल, नर्म चूत में शिफ्ट कर दिया.

मां बेटी का बीएफ दिखाओ: मैं वहाँ से उठी और सीधा सोफे पे पीटर के दोनों तरफ पैर करके बैठी और अपने हाथ से उसका मूसल अपनी चुत में डलवा लिया. मेरा तो पहले ही बुरा हाल हो रहा था और उसकी कामुक सिसकारियाँ और गर्म साँसें मुझे और भी उत्तेजित कर रही थीं.

इधर रिया ने मुझे इस तरह लिटाया कि पीटर हमें पूरा देख सके और बिना कोई वार्निंग दिए उसने मेरा निप्पल मुँह में ले लिया. अक्षिमा और मैं बहुत अच्छे दोस्त थे लेकिन दोस्ती के साथ कब प्यार हो गया, ये न मुझे पता चला था और ना ही उसे!शाम 7 बजे मैं इंदौर पहुंचा, हमने एक दूसरे को देखा तो वो हमारी लगभग 2 साल बाद हुई मुलाकात थी. बस उसको स्वस्थ होना चाहिए, बल्कि वो तो चुत चोदने में और ज्यादा अनुभवी होता है।ब्लू-फिल्म देखते-देखते संजना कामुकता वश मेरे होंठों को चूसने लगी। मैं भी अब उसे चोदने को तैयार था।मैंने उसे नंगा किया और उसकी चुत में अपनी जीभ फेरना चाही तो देखा उसकी चुत से काफी पानी निकला हुआ है। मैं उसकी चुत को चूसने लगा।वो ‘आह.

मैं देख ही रहा था कि अचानक उस लड़के ने मुझे दोबारा देख लिया और उसने लड़की से कहा कि वो सीधी होकर बैठ जाए तो लड़की सीधी होकर आराम से पीठ लगाकर बैठ गई.

वो भाभी 25 साल की थी पर जो इसमें असली बात थी कि वो भाभी बिल्कुल स्लिम थी. अब रफीक सबीना की चूत चाटते हुए और चूसते हुए उसकी गांड का छेद भी चाटने लगा, सबीना सिसकारियाँ भरने लगी. सुमन- दीदी बात तो अपने अच्छी कही मगर इतना सब कुछ करने से मॉंटी उठ गया तो?टीना- अरे डर मत वो नहीं उठेगा, मुझे पता है ना तू शुरू हो जा बस.