सेक्सी बीएफ गांव का

छवि स्रोत,देहाती लौंडिया की सेक्सी

तस्वीर का शीर्षक ,

मैसेज सेक्सी: सेक्सी बीएफ गांव का, मैं भी समझ गया कि आज वो ऋतु की गांड मारने की फिराक़ में आया है … क्योंकि इतनी बार ऋतु की चुत मार कर शायद वो बोर हो गया था और कुछ नया एक्सपेरिमेंट करना चाहता था.

समाज में सेक्सी वीडियो

यहां तो वैसे ही तरसी हुई चूत में आग लगी हुई थी। डर लगा कि नया लड़का है, कहीं उतावलेपन में फिर जल्दी न झड़ जाये तो यह सोच कर उठ गयी और नीचे हो कर उसके लंड को चूत से सटाया और उस पर बैठती चली गयी। एकदम गीली चूत थी और लंड भी गीला. देहाती सेक्सी वीडियो ऑडियो के साथमेरी? … क्या बताऊं? आज तो कुछ नहीं आता … मैं तो पक्का फेल हो जाऊंगी आज के पेपर में!” मैंने बुरा सा मुँह बनाकर कहा।कुछ नहीं होता … रिलेक्स होकर पेपर देना … जो क्वेस्चन अच्छे आते हों उनका जवाब पहले लिखना … एक्जामीनर पर इंप्रेशन बनेगा … ऑल द बेस्ट!” उसने कहा और सीधा देखने लगा।सिर्फ़ ऑल द बेस्ट से काम नहीं चलेगा.

इनके पूरे खानदान में मे ही एक मात्र जीजा हूँ, इसलिए सभी मेरी बहुत इज्जत करते हैं. जापानी सेक्सी वीडियो मारवाड़ीहम दोनों एक दूसरे से लिपट कर लुढ़क गए और कब नींद लगी कुछ होश ही नहीं था.

फ़िर उसके बाद कब तुमसे मुलाकात हो पता नहीं, इसलिये मैं जल्दी से मूड बनाना चाहती हूँ.सेक्सी बीएफ गांव का: मैंने सोचा जब तक कोई काम नहीं है तब तक ड्राईवर का काम ही कर लेता हूँ.

ड्रिंक ले कर मैं जब पलटा तो डॉली ने मुझे अपने पास बुला लिया और फिर अपनी जान पहचान वालों से मिलवाने लगी.इस कहानी को मैं पाठिका के शब्दों में आप सब के सामने प्रस्तुत कर रहा हूँ.

सेक्सी वीडियो पिक्चर भोजपुरी में - सेक्सी बीएफ गांव का

उसकी तेज आवाज निकली, लेकिन मैंने अनसुना करके एक बार फिर प्रयास किया.मेरे पतिदेव बहुत व्यस्त थे इसलिए उन्होंने कहा- तुम अकेले ही चली जाओ.

अब डिल्डो तो घर पर नहीं ला सकती थी, तो घर पर पड़ी गाजर, मूली या बैगन ही ट्राय करने का सोचा. सेक्सी बीएफ गांव का मैं- ठीक है, पर कितने टाइम के लिए मिलना है आपको?कल्पना- पता नहीं, सिचुएशन पर डिपेंड करेगा.

ऐसे झटके मारेगा तो चूत के चिथड़े उड़ जाएंगे। मैं कहीं भागी नहीं जा रही हूँ कमीने, धीरे-धीरे नहीं कर सकता है क्या?मैंने कहा- सॉरी डार्लिंग, मुझे पता नहीं था कि तुम झेल नहीं पाओगी, अब धीरे-धीरे चोदूँगा।फिर मैं थोड़ा स्लो हो गया और धीरे-धीरे करने लगा थोड़ी देर बाद मैंने स्पीड बढ़ा दी.

सेक्सी बीएफ गांव का?

जैसे-जैसे मैं भाभी की चूत पर जीभ चला रहा था वैसे-वैसे भाभी का सेक्स के लिए पागलपन बढ़ता ही जा रहा था. फिर तय शुदा प्लान के मुताबिक़ मैं ठीक समय पर वहां पार्क के पास जाकर खड़ा हो गया. मैंने अब उसकी तरफ ध्यान दिया, तो वो एक बड़ी सेक्सी सी टी-शर्ट और टाईट कैपरी पहने हुए थी.

रंजना बोली- अभी नहीं … बैठ जा पगली तू तो बिल्कुल पागल हुई जा रही है. मैंने भाभी के गाउन को उतार दिया और उनको बिल्कुल नंगी करके बेड पर लिटा दिया. अब पापा का कॉल आया, तो मैंने आने की जिद की, तो बोले कि कह दिया, चुप रह … सुबह आना.

उनके हाथ और पाँव की नाजुक पतली और गुदाज उंगलियों में बहुत सुन्दर नेल पोलिश लगी हुई थी. ” मैंने मीशा को समझाया और बिना समय गंवाए मैंने चूत में लंड का और जोर से धक्का मार कर पूरा लंड पेल दिया. अब उसने कहा- मुझे नीचे जाना होगा, मेरी बहन मेरा इंतज़ार कर रही होगी.

जब उसने मुझे बहुत देर तक किस किया, तो मैं भी गरम हो गई और उसको किस करने लगी. अब मैंने अपने होठों को उसकी चूत पर रख दिया और उसकी क्लिट को अपनी ज़बान से रगड़ने लगा.

उसने कहा- यह तो ख़ुशी की बात है, नाम बताओ कौन है, मैं बात करती हूँ उससे.

मैं दिखने में भी ठीक ठाक हूँ और साथ ही मेरे लंड में इतना दम है कि किसी भी चूत का पानी निकाल दूँ.

तभी मामा बोले- बंध्या, तेरी चूत की महक बहुत मस्त है, तू बहुत चिकनी है. मैं दूसरी सिगरेट सुलगा कर आराम से लेटे लेटे लंड चुसाई का मज़ा लेता रहा. मुझे ऐसा लग रहा था, जैसे मेरी चूत की खुजली को मिटाने में उसका लंड बड़ा ही मस्त मजा दे रहा था.

मैंने अपने हाथ को भाभी की कमर से ले जाकर उनके पेट पर फिराना शुरू कर दिया. मैं यही सोचता रहा कि वह ऐसा क्यों बोल कर गई?इसी तरह चार-पांच दिन बीत गए. अब देखना यह था कि मेरे लंड को किसकी चुत मिलती है, बुआ की या फिर बहन रिंकी की.

यह सुनते ही मेरी गांड बिना लंड डाले ही फट गयी और मैं डर गई, मैंने उससे ‘नो नो …’ कहा, तो इससे उसकी हिम्मत बढ़ गयी और वो सीधे मेरे मम्मों को अपने हाथों में ले कर मसलने लगा और मेरे गले को अपनी जीभ से चाटने लगा.

मुझे खुद पर बहुत भरोसा था कि मेरा गे होना किसी को पसंद हो न हो लेकिन मैं अपने आपको बहुत पसंद करता था. उसने यह कहते हुए अपनी टांग उठा कर मेरी कमर पर रख दी, जिससे उसकी नंगी चूत का गीलापन मुझे महसूस होने लगा. जब वो कुछ सामान्य हुई, तो मैंने एक ही झटके में अपना पूरा लंड उसके चूत के सागर में डाल दिया.

मैं बस गिरने ही वाली थी कि जग ने मुझे गोद में उठा लिया और बाथरूम तक ले गया. भाभी- अच्छा है, तुम कल फ्री हो क्या?मैं- नहीं फ्री तो नहीं हूँ, वहीं ट्रैनिंग पे जाना है. अब वह मेरे लंड को सुपारे से ले कर टट्टों तक उछल-उछल कर चुदवा रही थी.

इसके साथ ही उसे नीना के चेहरे पर कातिल मुस्कान दिखाई पड़ी तो उसने एक झटके में ब्रा का हुक खोल दिया, जिससे दोनों आजाद कबूतर हवा में उड़ने लगे.

तभी वाणी भी आ गयी और बोली- अरे इतनी देर से आये क्या … अभी तक काफ़ी भी नहीं पी?हम दोनों मुस्करा दिये और बोले- समय नहीं मिला बनाने का. उसकी गर्म चुम्मियों और चूची दबाने से मैं मादक सिस्कारियां लेने लगी.

सेक्सी बीएफ गांव का दूध लेने के बहाने मैं उसके मोटे-मोटे और बड़े चूचों को देखकर अपनी आंखें सेंक लिया करता था. फिर मैं थोड़ी देर सास के पैर दबा कर आपके पास आती हूँ तब तक आप संतरा और अंगूर खा लो.

सेक्सी बीएफ गांव का मैंने सोनू की बात नहीं सुनी और धीरे-धीरे अपना हाथ उसकी चूत के ऊपर फिराता रहा. उसने अगले ही पल मेरा पूरा लंड अपने गले तक नीचे उतार लिया और डीप सकिंग करने लगी.

भगवान का शुक्र और सर की मेहरबानी से मैं परीक्षा में फर्स्ट क्लास से पास हुई। घरवाले बहुत खुश थे। पिंकी भी सेकेंड क्लास से पास हुई थी। मेरी अधिकतर सहेलियाँ जल भुन गई थीं.

सेक्सी नंगी बीएफ दिखाओ

संजीव देखने में बिल्कुल वैसा ही था जैसा मैंने उसको फोटो में देखा था. उनके झड़ने के बाद मैं उनकी जाँघों को चूमने लगा जिससे पूषी और कसमसाने लगीं और फिर से दोबारा मैंने अपना ध्यान उनके चुचों पर लगा दिया. मुझे उसकी ये सब बातें सुनाई तो दे रही थीं, पर मेरी समझ में कुछ नहीं आ रहा था … क्योंकि एक तो मैं नशे में थी, ऊपर से निक और नामित मुझे इस तरह चाट और मसल रहे थे कि उनकी वजह से मैं कामवासना में डूबती जा रही थी.

मैं नीरू के चूतड़ों को बेहताशा चाट रहा था और इधर नीरू की चूत भी पानी छोड़ रही थी. तो बोला- बहुत प्यारा नाम है, तू कहां की रहने वाली है?मैं बोली- इसी गांव की हूं, यह मेरी सहेली सोनम की दीदी की शादी है. लेकिन वह रोने लगा।बड़ी मुश्किल से मैंने उसे चुप करवाया और लगातार समझाने की कोशिश करती रही कि इस उम्र में ऐसा आकर्षण सहज स्वाभाविक प्रतिक्रिया है, इसमें ज्यादा ध्यान देने की जरूरत नहीं। मेरे लगातार नकार ने शायद उसमें झुंझलाहट पैदा कर दी.

अब मुझे उसकी गांड मारे बिना चैन नहीं आने वाला था, मैंने उससे कहा कि डबल चार्ज कर लेना.

तो शायद इससे वह समझ गया कि मुझे यह अच्छा लग रहा है इससे वह अब सीधे लहंगे के ऊपर से मेरी जहां चूत थी, वहां मुट्ठी से पकड़ कर निहाल दबाने लगा. बेल बजाई तो दरवाज़ा एक आदमी ने खोला- मुझे समझ आ गया कि ये संध्या का पति होगा. अब मैं और डेविड झड़ने वाले थे और फच्च फच्च की आवाज़ बदल कर अब लिक लिक लिक की आवाज आने लगी.

लेकिन हम दोनों इस पोजीशन में ज्यादा देर तक चुदाई नहीं कर सकते थे, तो मैंने वाणी को ऊपर खींचा और अपनी गोद में बैठा लिया. उसके लिंग ने एक तेज़ धार छोड़ दी, जो सीधा मेरी बच्चेदानी से जा टकराई. नीचे डेविड ने मेरी चुत में अपना मुँह लगा दिया था और वो मेरी चूत चूस रहा था.

मेरी चूत साफ करने के बाद डेविड उठकर कपड़े पहनने लगा, तो निक ने भी मेरी गांड से अपना लंड निकालकर मेरी चूत में घुसेड़ दिया और धक्के मारने लगा. उसने कहा कि मतलब आज आप घर पर अकेली हो?मैंने कहा- पीयूष भी घर पर है, पर वो अभी स्कूल गया हुआ है और शाम को आएगा.

उसने तेल की बोतल पकड़ी और थोड़ा सा तेल अपने लंड पर लगा दिया और उंगली से मेरी गांड पर भी लगवा दिया. तो मैंने पूछा- तुम कहाँ हो?तो अनामिका बोली- मैं अपनी सहेली के घर उससे मिलने आयी हूँ शाम को घर आऊँगी।मैं भी डर रहा था कि अकेले में उन्होंने मुझे क्यों बुलाया है. मैं भी रंजना दीदी के दूधों को जोर जोर से दबाने लगी और रंजना दीदी के होंठों को भी चूमने लगी.

फिर तुमने एड का हवाला दिया, तब मुझे तुम्हारी किस्मत पर बड़ा रश्क हुआ और मैंने तुमको खुद लेने के लिए बोल दिया.

ब्लू कुरती और टाइट लैगैंग्स में, जिसमें उसकी चिकनी जांघें और सुडौल टांगें दिख रही थीं. मैंने आँखे मूंदीं हुई थीं और कब उसके होंठ मेरे लबों से चिपक गए पता ही नहीं चला. उसने मुझे हग किया, जिससे उसके टाईट बूब्स मेरी छाती में गड़ गए और मेरे जिस्म का भी उसने नाप ले लिया.

पैंटी के ऊपर से ही बहुत तेजी से आशीष अपनी उंगली चुत पर डालने लगा, चलाने लगा. ऐसा कहकर उन्होंने अपने लंड को आहिस्ता आहिस्ता मेरी चूत में पेलना शुरू किया.

मुझे भू दर्द हो रहा था मेरे लंड पर … ऐसा लगा कि मेरा लंड छिल गया है. आज तक जितनी बार मैं चुदी, उसमें से इस चुदाई से मुझे फुल सेटिस्फेक्शन मिला, इसलिए मुझे बहुत अच्छा लग रहा था. घर पर हर एक चीज़ बहुत अच्छे से सज़ा कर रखी हुई थी। जब मैंने सन्जना की तारीफ की तो वह थोड़ा शरमा गई।मैंने उनको और उनके बेटे को अच्छी तरह से सब पढ़ाई के बारे में बताया तो वो मुझे शुक्रिया कहने लगी कि मैंने उनके बेटे की हेल्प की और मुझसे बार-बार वापस आने की ज़िद करने लगी.

नंगी सीन के वीडियो

मैं अपने दोनों हाथ से उसकी कमर पकड़ कर जोर जोर से उसकी चुत चुदाई करने लगा.

उसके बाद मैं मकान के पीछे की तरफ गया और मैंने देखा वहाँ पर पीछे की तरफ एक खिड़की बनी हुई थी. मुझे कल्पना ने जिस बिल्डिंग का नाम बताया था, वो 21 मंजिल की एकदम शानदार बिल्डिंग थी. वो दिखने में बहुत सुन्दर थी, जो भी उस औरत को एक बार देख ले, उसका लंड खड़ा हो जाए और उसे चोदने की सोचने लगी.

मैं उन्हें मॉडर्न लेकिन अपने दायरे में रहने वाली मान रहा था, लेकिन वो तो सब बोलना जानती थीं. मैंने सीधे ही अपना मुँह उसकी मरमरी चूत पर लगा दिया और रसदार चूत का रस पीने लगा. बंगाली मूवी सेक्सी वीडियोलेकिन कुछ देर बाद मुझे एक लड़की ने बुलाया और कहा कि दुल्हन को आपसे मिलना है.

तब मैंने उसे अपना नाम बंध्या बताया, तो वह खुश हो गया और मुझसे बोला कि मेरा नंबर लिख लो और अपना नंबर बता दो. कल की बात से भी कोई नाराज़गी नहीं है और मैं भी गुस्सा खत्म कर दूंगा.

4-5 धक्कों के बाद जब मेरा माल गिरने वाला था तो मैंने अपना लौड़ा उसके मुंह के पास ले जाकर उसके मुंह में झाड़ दिया। वो सारा माल पी गई।फिर हम थक कर वहीं लेट गए।कुछ देर बाद ही मैं उसके बूब्स को पी रहा था, वो मेरा लंड हाथ में लेकर सहला रही थी. अगले दिन मैंने आरती से फिर पूछा- यार, एक बात सच सच बता … यह प्रसंग कैसे लड़का है? जब भी मैं उसे देखती हूँ तो वो तुमको कुछ अजीब नज़रों से देखता है. मैंने ऋतु की तरफ देखा, वो असहज महसूस कर रही थी और डर भी रही थी क्योंकि उसने कभी गांड नहीं मरवाई थी.

मैं इंदु के स्वेटर को फिर से मोमे वाली जगह पर पकड़ कर लूज करने की कोशिश के बहाने इंदु की चुची टच कर रहा था. मैंने उसे बाद में फ़ोन लगा कर पूछा- क्या तुम प्रीति हो?उसने कहा- नहीं, प्रीति मेरी बड़ी बहन है. आअअह्ह … बस जल्दी … करो … ओओ … ह्ह … मैंने उसके सिर को अपने लंड पर दबा दिया और मेरे पूरा बदन ऐंठने लगा.

एक बार मेरे सभी रूममेट्स फिल्म देखने बाहर गए हुए थे और रात के समय मैं अकेला बैठकर शराब पी रहा था.

वैसे तो मुझमें पेशेंस बहुत है लेकिन पहली मुलाकात थी उससे तो ज्यादा भरोसा करने का मन भी नहीं कर रहा था. तब मैंने उसे अपना नाम बंध्या बताया, तो वह खुश हो गया और मुझसे बोला कि मेरा नंबर लिख लो और अपना नंबर बता दो.

अब मैंने उसे किस करना प्रारम्भ कर दिया और अपने एक हाथ से उसके एक उरोज दबाने लगा. नैना मुझे किस करते हुए बोली- तुम लिप्स पे बहुत अच्छी तरह किस करते हो. मैंने बारी बारी उसके दोनों चूचे चूसे और उनको दबा दबा कर काटता भी रहा.

मैं भी हंसने लगा- साली तू ये सब जानती थी कि मुझे एक बार झड़ना है, तभी तो तूने मुझे लंड बाहर नहीं निकालने दिया. मैंने उसकी पैन्ट में लंड के पास देखा, तो उधर मुझे लगभग 9 से 10 इंच का कड़ा लंड का उभार नज़र आ रहा था. उसकी बातें सुनकर मुझे भी चुदास चढ़ जाती थी, तो हम दोनों लोग कभी कभी लेस्बो भी कर लेते थे.

सेक्सी बीएफ गांव का ऐसे तो मुझे कोई कमी नहीं है, ना ही कभी किसी गैर मर्द की मुझे जरूरत पड़ी है. जबकि नीना शादी से पहले ही सौ फीसदी खेली-खाई बिंदास चुदैल लड़की रही, इस बात की जानकारी मुझे बाद में हुई.

सेक्स करते वीडियो हिंदी में

मैंने तुरंत अपना बैग पैग किया और उसके घर की तरफ चल दिया जो कि पैदल की दूरी पर था. जैसे ही उस औरत ने कहा ‘एक्सक्यूस मी …’ मैं चिल्लाकर उससे बोला- क्या है?वो औरत थोड़ा डर गयी और वहां से चली गयी. मैंने भी थोड़ी कामुक सी नज़रों से सुनील की तरफ देख कर बोला- जो आप दोगे, वही ले लूंगी.

थोड़ी देर बाद मेरा मूड बनने लगा और मैंने कहा- यदि तुम बुरा ना मानो, तो एक बात बोलूँ?उसने कहा- हां बोल?मैंने कहा- आज मुझे तेरी चुत देखनी है. हमने वहीं गांव में एक पहचान के मित्र हैं, उनके घर पर इंतजाम कर लिया है. सेक्सी वीडियो साड़ी वाली कोसच बता रहा हूं, उसकी चुचिया दबाने से गांड दबाने में ज्यादा मजा आ रहा था.

थोड़ी देर बाद वो भी मजे लेने लगीं और बोलने लगीं- और जोर से चोद दो … ज़ोर से चोदो मेरे राजा.

तभी वर्षा गुस्से में बोली- पापा, आप उस तिवारी अंकल की बातों में आ गए. मैंने उनसे बोला कि ये क्या यार … केवल ऊपर ऊपर ज़ोर लगा रही हो, नीचे भी तो उंगली करो.

अबकी बार गांड पर लंड लगाने के बाद मैं उसके ऊपर लेट गया और लंड को थोड़ा थोड़ा आगे पीछे करने लगा. मेरी उंगलियाँ उनकी चूत के रस से लिपटी हुई थीं। दो मिनट के बाद मम्मी ने मुझे रुकने को कहा। मेरी उंगलियाँ उनकी चूत के रस से ढक चुकी थी।मैंने अपनी एक उंगली को चाटा. मैं सोचने लगा कि मुझे यह अचानक से हो क्या रहा है?कुछ ही पल बाद मुझे याद आया कि सुषी ने जो टेबलेट मुझे दी थी यह उसी का असर हो सकता है.

पहले तो मुझे फिर लगा कि साला कोई लड़का न हो, कोई लड़की ऐसे कैसे नंबर मांग सकती है.

मेरी और उस लड़के की एक दूसरे से बहुत अच्छी दोस्ती हो गयी और हम दोनों लोग एक दूसरे से बात करने लगे. यह कहानी मेरी और मेरी बुआ जी की है जो आपको एक खूबसूरत सफर पर ले जाएगी. लेकिन ठीक 6:10 पर सोनू अपनी किताब और नोटबुक के साथ मेरे कमरे में आई.

सेक्सी स्कूल गर्ल कीमैंने अपने बॉयफ्रेंड को कॉल किया और पूछा कि कहां हो आप?तो उसने कहा- मैं अपने दोस्तों के साथ घूमने आया हूं. उसने तभी एक उंगली से योनि की ऊपर की दीवार की तरफ रगड़ना शुरू किया और बस पल भर में ही मेरे सब्र का बांध टूट पड़ा.

দেশি বৌদি চুদা

मैं भी खड़ा हुआ और दोनों को अपने लंड ले सामने घुटनों पर बिठाकर दोनों के मुँह पास में चिपका लिए. शाम के करीब 7 बजे का वक्त था जब मैं अपने कमरे में अंदर था और दरवाजा बस ढाल दिया था मैंने. मैं यहीं खड़े खड़े ही डाल दूंगा, तू समझ ले तेरा भी तो मूड बन गया है.

आपको मेरी यह कहानी पसंद आई तो आपके लिए मैं अपने साथ हुई और भी घटनाएँ साझा करना चाहूँगा. ये सारी बातें जानकर मैं हैरान रह गया और फिर मैंने याद किया कि सामने वाले घर के आंगन में से एक बहुत ही सुंदर छोटी लड़की हर वक्त मेरे कमरे के ऊपर की ओर देखती रहती थी. यहां पर एक तरफ ऐसी बिल्डिंग खड़ी हुई दिखाई देती हैं कि लगता है कहीं विदेश में घूम रहे हैं और दूसरी तरफ बीच-बीच में छोटे-छोटे पुराने गांव बसे हैं जो केवल नाम के ही गांव रह गए हैं.

उसका सर कुर्सी में टकरा जा रहा था, तब भी पर वह मुझे पकड़े हुए मेरी चूत को चाटे जा रहा था. बॉस ने मेरी बीवी के भोसड़ी की फांकों को फैलाकर अपना 8 इंच का लंड टिका दिया. फिर मैं उसके होंठों को चूमने लगा।कभी ऊपर वाले होंठ को चूम रहा था तो कभी नीचे वाले होंठ को चूम रहा था.

स्स … और ज़ोर से … चूसो … रॉकी मसल डालो मेरे दोनों चुचे … आह … कितने सालों से ब्रा मैं क़ैद थे …”मैंने जल्दी से अपने आपको नंगा किया और मेरा सात इंच का मोटा विकराल लंड उसके हाथों में थमा दिया. उसी वक़्त उसकी सलवार का नाड़ा खोल कर उसकी पैंटी के ऊपर ही उसकी योनि को रगड़ने लगा.

भाभी ने बताया कि उन्होंने किस तरह दूधवाले को पटाया और कितनों का लंड लिया.

अब मेरी गांड और चूत दोनों में निहाल ने एक एक उंगली घुसा दी थी और वो अन्दर बाहर करने में लगा था. लंड घुसाने वाला सेक्सीउसे तेज उछलता देख कर रमेश जी भी उसकी चुदाई करने के लिए काफ़ी तेज झटके मारने लगे. सेक्सी डर्टी पिक्चरमैं एक बार फिर से उछल गई और फिर चीखी- उम्म्ह… अहह… हय… याह…इस बार मैंने कसके कुर्सी सहित दीदी को जमके पकड़ लिया और उनके दूधों को जोर से अपने हाथों से दबा दिया. इसलिए जब रात को राहुल कमरे में आएगा, तो मैं उसे नींद की गोली दे दूंगी, ताकि हम दोनों अपने दिल के अरमान पूरे कर सकें.

खैर, मैंने बात को टालते हुए कहा- नहीं भाभी जी! ऐसी कोई बात नहीं है, दरअसल मैं आपसे शरमाता हूँ और झिझकता हूँ.

वह एक गंदा लव लेटर था। मैंने देखा कुछ अश्लील बातें उसमें लिखी हुई थी। नीचे मेरा नाम भी लिखा था. मैंने भी कह दिया- अगर आप मुझे किस करती हो, तो मैं समझूँगा आपको भी मुझसे कोई शिकायत नहीं है. तब उन्होंने पूछा- कैसा स्वाद लगा तुझे वन्द्या?मैं बोली- बहुत मस्त लग रहा है राजा जी … क्या कमाल है कि अभी 5 मिनट पहले मैं आपको जानती नहीं थी और पांच छह मिनट में आपके कितने करीब आ गई हूँ.

मेरी सेक्स कहानी के दूसरे भाग में अब तक आपने पढ़ा कि पटेल के लड़के और उसके दोस्त ने मुझे झाड़ियों में खींच लिया और मेरी चूत चाटने लगे. जब मैंने कॉलोनी के बाहर जाकर देखा तो वही लड़का बाहर बुलेट बाइक लेकर खड़ा हुआ था. गीता बोली- क्या इरादा है?तो मैंने कहा- इसने तुझे चोदा था ना … अब तू इसे बिस्तर पर पूरे जोर से चोद.

सेक्सी मराठी बीएफ

काफी देर तक चोदने और हम दोनों के दो दो बार और झड़ने के बाद मेरा लंड उनकी चूत से बाहर आया. मैंने उनके होंठों से सरक कर उनके गालों को चूमना चाटना शुरू किया और उनके गले से होकर जैसे ही उनके कंधों पर पहुंचा, तो उनके बदन में एक सिहरन सी दौड़ गयी. अब कल मेरा भाई आएगा, वो तेरी सवारी करेगा, अगली बार तेरी मम्मी उसका लंड अपने अन्दर घुसवायेगी, फिर तेरी बहन है, मेरे डैडी हैं.

मैं अपना लंड निकालने लगा, तो दीदी ने आपने हाथों से मेरी गांड पकड़ ली और कहा- अन्दर ही डाल दे अपना पानी मेरे छेद में … ओह मजा आ रहा है … प्लीज़ अन्दर ही सिंचाई कर दे.

आप तो बस आज रात को 11 बजे दुल्हन की वो ड्रेस जो आपनी सुहागरात पर पहनी थी, वो पहन कर आ जाना।इसके बाद मैं भी चली गई और प्रीति उस कमरे को सजाने लगी.

जब वहां पहली बार रहने आया था, तब उसको देखकर मुझे वो अपनी हम उम्र ही लगी. तेरी गांड मुझसे निराश होके गई, ये मुझसे बर्दाश्त नहीं हुआ और खुद को रोक ना सका. सेक्सी कहानीयॉएक बात जरूर लिखना चाहूंगी कि मेरे साथ जिस तरह से घटनाएं हुईं और कुछ वारदातों को छोड़ दें, तो ज्यादातर चीजें मेरी ही सहमति और मर्जी से हुई हैं.

अगर तुम्हें ज्यादा दर्द हुआ तो?वो कामज्वर से पीड़ित होकर बोली- कोई बात नहीं भैया आप करो! मुझे बहुत बेचैनी लग रही है … आप अंदर डालो, मैं दर्द सह लूंगी. तुमने जहाँ पर रुक कर सिगरेट पी थी, मेरा योग सेंटर उसके ठीक सामने है, वहां तुमको देखकर मुझे यहाँ आने का ख्याल आया और तुम्हें ऐसे लुंगी में नंगे बदन देखकर मुझमें कामवासना हावी हो गयी है. सुबह करीब 11 बजे उन्होंने कॉल किया और बोलीं- तुमसे मिलना है, कुछ बात करनी है, मैं बैंक आ रही हूँ.

अब उसने कहा- मुझे नीचे जाना होगा, मेरी बहन मेरा इंतज़ार कर रही होगी. साथ ही उनकी नाइट कंधे से उतार कर नीचे कर दी और उनकी चुचियों को दबाने लगा.

रात को जब वो आए तो मैंने उन्हें बताया कि भैया का फोन आया था और वो ऐसे पूछ रहे थे.

मुझे और भी मजा आने लगा ‘आह्ह मर गयीईई आह्ह …’फिर उसने मेरी जीन्स पेन्ट उतारी और बोला- वाह … आज अन्दर कुछ नहीं पहना मेरी जान … तू तो बिल्कुल तैयार होके आई थी मेरे पास. कहानी पर अपनी राय देने के लिए आप नीचे दिए गए मेल आई-डी का प्रयोग कर सकते हैं. मैं बोली- आपको क्या … एक तो मैं ऊपर से पूरी नंगी हूँ और आप बोल रहे हैं … तो क्या?भैया हंस कर बोले- अच्छा ये बात है … मेरी बहना तू एक काम कर.

क्या भाभी सेक्सी वीडियो मैंने पूछा- खाना किधर है?वो बोले- इसको तुमने गर्म किया है ना … अब इसको ठंडा भी तो करो. मैंने पूछा- अब दुबारा निकाह के बाद कैसे होगा … तुम कैसे मान गईं?वह बोली- अब वह इलाज कराने को मान गया है.

वो पहले से ही चुदाई के लिए चुदासी थी, मेरे दूध चूसने और मसलने से वो हीट पर आ गई और मादक सिसकारी भरने लगी. हम दोनों लोग मस्ती से सेक्स कर रहे थे, जिससे मेरी चूचियां हौले हौले हिल रही थीं. रमीज ने मेरे बाल खींचकर कूल्हों में थप्पड़ मारते हुए बहुत जोर जोर से चोदने लगा.

भोजपुरी हॉट वीडियो सेक्सी

फिर उसने नज़रें नीचे की और फिर बोलने लगा- एक बात और कहूंगा, शायद आपको अच्छी ना लगे … काश कि आप मेरी फूफी ना होतीं. अब भाभी जोर से बोलीं- ये क्या कर रहा है तू?मैं बोला- चुप रह साली … मुझे सेक्स करना ऐसे ही पसंद है. ये सब बातें मुझे जब पता चलीं तो मैं उसकी दर्द से नाटक करने की हरकत को याद करते हुए मन ही मन में हंस पड़ा.

मेरे बॉयफ्रेंड ने खाने का आर्डर दिया और हम दोनों रात का खाना खाकर घर आ गए. ‘पहले अपनी चुचियों पे साबुन लगा ले, फिर चुचियों से मेरे चूतड़ों पर लगाना.

फिर उन्होंने आज के पेपर का आंसर मुझे दे दिया और मैं अपने क्लास रूम में चली गई.

फ़िर मैंने बात बदलते हुए कहा- अच्छा अब सच कौन बताएगा?तो फ़िर से दोनों ने साथ में बोला- कौन सा?मैंने कहा कि आप दोनों का क्या प्लान है?और वाणी से बोला कि गीता कौन है. फिर उसका हाथ पकड़ कर अपने लण्ड के ऊपर रख दिया और उसकी आँखों में देखता रहा. अब तुम इसे भी एक बार पकड़ कर ज़रूर चोद दो, वर्ना यह कहीं भी हमारी बात बता सकती है.

सच बता रहा हूं, उसकी चुचिया दबाने से गांड दबाने में ज्यादा मजा आ रहा था. इसके चलते वो एक बार को तो जोर से चीख उठी और डॉगी स्टाइल से हट कर वापस बैठी सी हो गयी. मेरी सहेली की बातों पर मेरे घर वालों को विश्वास हो गया और मैं अपने बॉयफ्रेंड के साथ होटल में चली गयी.

दो दिन में दस हजार मिल रहे हैं और क्या बच्ची की जान लेगा? मेरी वह पहली ग्राहक थी और पहली ग्राहक से दस हजार मिलना बहुत बड़ी बात थी.

सेक्सी बीएफ गांव का: मैं पिछले 10 साल से तड़प रही हूँ और तुम भी पिछले तीन साल से अकेले हो. सुषी ने कहा- क्या हम फिर से मिल सकते हैं?मैंने कहा- हाँ, मिल तो सकते हैं, मगर …मगर क्या?” सुषी ने उत्सुकता भरे लहजे में पूछा.

उसने आँख मारते हुए कहा- बात करने में कोई इतना थक जाता है क्या?प्रीति बोली- चुप बदमाश. फिर कुछ समय बाद मेरे हस्बैंड चले गए और बस में उसके ख्यालों में खो गई, जो उसने मुझे अपनी और अपने खड़े लंड की पिक भेजी थी. अब मैं और डेविड झड़ने वाले थे और फच्च फच्च की आवाज़ बदल कर अब लिक लिक लिक की आवाज आने लगी.

मैंने बिना देर किए मामी जी डॉगी स्टाइल में करके उनकी गांड पर अपने लंड का सुपारा धर दिया और मामी की गांड के फूल जैसे छेद को लंड की नोक से टहोकने लगा, रगड़ने लगा.

उनमें जो नई उम्र का लड़का था, वो फिर से मुझसे बोला कि मैडम आपकी पीछे स्कर्ट पूरी खराब हो रही है, थोड़ा सा देख लीजिए … चेंज करना हो तो कर लीजिए … अच्छा रहेगा. मदन की मां थोड़ा मायूस हो कर बोलीं- मर्द … और वो …! काश उनकी सोच भी आप जैसी होती. अंदर जाकर अपना सारा सामान रखा और चूंकि सितम्बर का महीना था तो गर्मी भी थी तो मै पंखा चला कर हवा में लेट गया.