बीएफ हिंदी के

छवि स्रोत,यो यो हनी सिंह विडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

बंगाली में बफ: बीएफ हिंदी के, ऐसे ही अब हमारे बीच प्यार की शुरूआत हो गई थी मगर उस किस के बाद दोबारा मौका नहीं मिला.

सेक्सी वीडियो बंगाली

जिसमें मुझे लड़की या औरतों की फुलबॉडी मसाज और उनकी जरूरत के हिसाब से उनकी चुदाई भी करनी पड़ती है और कभी कभी रेणुका मैडम मुझे होम सर्विस के लिए भी भेजती हैं. सेक्सी वाली फिल्म वीडियो मेंमैंने एक हाथ पिंकी की कमर कस कर पकड़ ली और दूसरे हाथ से उसका मुँह बंद कर दिया.

फिर मैं उसको गोद में उठाकर मम्मी पापा के बेडरूम में ले गया और बेड पे लेटा दिया. செக்ஸி பிக்சர் பிஎஃப்मैंने उसकी टांगें फैला कर अपना लंड उसकी चुत के छेद पे रख दिया और अन्दर घुसेड़ने लगा.

मैं रेणुका भाभी को सीधा करके उनके मोटे मोटे मम्मों से दूध पीने लगा.बीएफ हिंदी के: मेरे पास आते ही मेरे सीने से लग गई और अपनी बांहों में मुझ को जकड़ कर जितनी जोर से कल मैंने हग किया था, उसने आज उतनी ही जोर से मुझको हग किया.

जब उसने बात खत्म कर ली तो मैंने उससे पूछा- तुम अपने ब्वॉयफ्रेंड से बात कर रही थी?वो बोली- नहीं वो मेरा फ्रेंड है बस.मैं सोई ही बनी रही, तभी भाभी के पापा बोले- अरे रहने दो, लगता है आरती गहरी नींद में है.

दिव्या भारती का नंगा फोटो - बीएफ हिंदी के

इसके बाद वो मेरी ये बात जान कर बहुत खुश हुई और उसने मुझको फ़ोन पर पहली बार किस दी- ऊम्माह…मैंने भी उसे उत्तर में किस की.फिर वो मेरे दोस्त अमित से बोली- छोड़ना शुरू करो यार… मेरी चूत में धक्के मारो! चोदो मुझे!अमित मेरी बीवी की चूत में अपना लंड पेलने लगा मेरी बीवी आनन्द विभोर हो कर आहें, सीत्कारें भरने लगी.

मैंने थोड़ा इन्तजार करके फिर से जोर से धक्का मारा तो लंड आधा अन्दर चला गया. बीएफ हिंदी के वो मेरे पड़ोस में रहती थी, दिखने में वो एकदम हीरोइन काजोल जैसी है और उसका शरीर तो ऐसा मस्त था कि बस देखते ही जान निकाल लेती थी.

यह ऑडियो स्टोरी है डेल्ही सेक्स चैट की दो लड़कियों स्वाति और निकिता की आपस में सेक्सी बातचीत की.

बीएफ हिंदी के?

20 साल… पूरे बीस साल हो चुके थे उसे किसी मर्द के साथ सोए हुए।इतने सालों बाद अचानक उसका मन मर्द की कल्पना करने लगा था, जो आएगा औऱ अपने भरपूर झटकों से उसकी बरसों की प्यास मिटाएगा उसके स्तनों को निचोड़ेगा, उसकी सख्त चूचियों को चूसेगा… पर यह तो हो नहीं सकता, वो अपने पति के होते हुए भी विधवा है।रुक्मणी ने एक लम्बी आह भरी और ज़मीन पर दीवार का सहारा ले बैठ गयी. मैंने रानी के दोनों बूब्स पकड़ के लंड को बाहर तक खींच के एक पावरफुल शॉट उसकी चूत में मार दिया जैसे कि मैं अदिति बहूरानी को चोदता था. जब उन्होंने रिक्वेस्ट की तो मैंने उनकी चूत में धक्के मारने बंद किए.

मैं मॉम के रूम की तरफ बढ़ी, तो वो दोनों रूम से बाहर आते दिखे और दोनों काफी खुश नजर आ रहे थे. मैं- अपनी सखी के साथ आज कहां गई थी?मोना- आज तो उसने मुझे कई बीच दिखाए और पैदल चला चला कर बॉडी की बैंड बजा दी. फिर हम बातें करने लगे, बीच बीच में मेरी नजर उसके गोरी चुची पर जा रही थी, ये रश्मि में देख लिया था.

जब वो ऑफिस में अंदर आई तो शायद उसने बोर्ड देखा कि चप्पल बाहर उतारनी हैं और जब सैंडल उतारने को झुकी वो तो मैंने देखा कि उसने गहरे गले का ब्लाउज पहना है. मेरे मामा दिल्ली में रह कर अपना बिजनेस देखते हैं और मामी एक प्राइवेट स्कूल में टीचर हैं. टीवी देखते देखते मुझे नींद आने लगी तो मैं रीना मौसी से बोला- मैं सोने जा रहा हूँ!और जाकर बिस्तर पे लेट गया।तभी माँ का फ़ोन आया तो मैं बोला- मैं सोने जा रहा हूँ, कल बात करते हैं!तो माँ बोली- बहुत जल्दी थक गया मेरा बेटा क्या ?तो मैं बोला- माँ, बहुत ग़ुस्सा आ रहा है मुझे… यहाँ वैसा कुछ नहीं है जैसा मैंने सोचा था.

मैंने पूछा- भाई साब कैसे चोदते हैं? तुम्हें मजा आता है उन से चुद कर?वो बोली- मत पूछो. जब उन्होंने चूत शब्द कहा तो मैंने थोड़ी हिम्मत करके एक हाथ उनकी जांघ पर रख दिया.

फिर मैंने अब उसे अपनी जीभ से चाटना शुरू किया, मैं अपनी जुबान निकाल कर उसे चोद रहा था, इससे वो अपनी कमर उठा उठा कर चुदवाने लगी और कहने लगी- बस अब नहीं रुका जाता, अब प्लीज चोद दो मुझे!मैं खड़ा हुआ, मैंने उसे इशारे से कहा- तुम मेरी अंडरवीयर उतारो!तो उसने झट से मेरी अंडरवीयर उतार दी और मेरा 6 इंच का लंड बाहर निकल आया जिसे उसने झट से पकड़ लिया और कहने लगी- आज मैंने पहली बार लंड देखा है.

धीरे से मैंने अपना सुपारा उसकी चूत के अंदर किया तो उसकी सिसकी निकल गयी.

पहले तो मैं उन सभी लोगों का धन्यवाद करना चाहूँगी, जिन लोगों ने मेरी ट्रू एडल्ट स्टोरीपड़ोसी ने मुझे फंसा कर मेरी चूत की पहली चुदाई कीको पसंद किया और मेल भी करके मुझे बताया. पैंटी को उठाकर बैग में डाल दी और खुद केवल अंडरवियर पहन कर तौलिया लपेट कर कमरे का दरवाजा खोला. वो बोली- जीजा जी, मेरी चुत में डालो, मैं आपका पानी महसूस करना चाहती हूँ.

मोहन लाल ने उसकी चूत से निकले हुए पानी का एक-एक बूँद को चाट लिया था. मेडिकल स्टोर वाली भाभी का नाम शिवानी है और दूसरी ग्राहक भाभी का नाम रश्मि है. इधर अकीरा और शालिनी प्रेम रस में डूबती जा रही थीं और दूसरी तरफ विक्रान्त अपने पहले काम में बस सफल होने ही वाला था।हिंदी सेक्सी कहानिया जारी रहेगी.

इसलिए मैं उनके कमरे में किताब ढूँढने लगा, पर कोई ढंग की किताब नहीं मिली तो बेड पर लेट गया.

अब मीना सागर के एकदम पास में बैठ गई और सागर की पेन्ट पर हाथ रखकर लंड दबाने लगी. करीब 7-8 मिनट मैंने सिराज का लंड चूसा तो उसने जबरदस्ती अपना हथियार मेरे मुँह से दूर किया और कहा- हमारे दोस्त को भी कुछ मजा दो, साला मारा जा रहा है. वहाँ रोहण विदेशी गोरी और काली लड़कियों को बिकनी में देख रहा था।फिर रोहण ने अपने कपड़े उतार दिए और फिर मैंने भी अपने कपड़े निकाल दिए, मैं ब्रा पैंटी में आ गयी और फिर हम पानी में खेलने लगे.

मेरा रस निकलने वाला था, मैंने उसके मम्मों को ज़ोर से पकड़ा और सारा माल उसके हाथ और मम्मों पर गिरा दिया. हामरे स्कूल के ही स्टाफ में से एक टीचर थी झलक मैडम।वे लगभग 40 साल की थी, लंबाई लगभग 5 फीट 3 इंच, थोड़ी मोटी थी, रंग भी सामान्य था। कुल मिला कर सामान्य सा चेहरा था. मैंने कहा- ओके ले लो!फिर पापा बोले- अरे ऐसे नहीं पगली… कपड़े उतार के लेने होंगे!मैं एकदम शॉक में चली गई.

एक दिन मैं सुरेश भैया के घर गया, तो देखा कि घर का दरवाजा हल्का सा टिकाया हुआ था, तो मैं सीधा अन्दर चला गया और स्नेहा भाभी को आवाज देने लगा.

वो अन्दर आकर अपनी बहू को नंगी चुदाई करवाते देख कर एकदम शॉक हो गया क्योंकि मेरा लंड शिवानी की चूत में था और उनका एक दूध मेरे मुँह में था. गांड गीली होने की वजह से थप्पड़ की आवाज़ बहुत मस्त आई और फिर मैंने उनकी टी-शर्ट को खींच कर फाड़ दिया और सिलेक्स को भी एक झटके में नीचे खींच दिया.

बीएफ हिंदी के ससुर जी अपनी जीभ को मेरी मम्मी की चूत पर रख कर चाटने लगे।मम्मी बे काबू होने लगी, वो अपने चूतड़ उछालने लगी, सिसकारियां भरने लगी- आआह… ज़्ज़ज़्ज़्ज़… हां… ससीईई… हां… अपनी समधन को आज खुश कर दो! आआह… धीरे… मैं गयी!फिर मम्मी ससुर जी के मुँह में झड़ गयी, ससुर जी उनका नमकीन अमृत पीने लगे. मैंने कहा- मामी अभी कुछ देर तो रुको! दम तो लेने दो!आधे घंटे तक हम दोनों नंगे ही लेटे रहे प्यार भरी बातें करते रहे.

बीएफ हिंदी के उसके शरीर की खुशबू से और उसके छूने से मेरा मन उछल रहा था, मैं उत्तेजित हो रहा था. भाभी के मस्त रसीले मम्मों को देखते ही मैं ब्रा के ऊपर से ही उनके मम्मों को चाटने चूमने लगा.

उसके 10 मिनट के बाद मैं भी बाहर आ गई तो मुझे हॉल में दोनों दिखाई नहीं दिए.

अहमदाबाद रंडी बाजार

मैंने वहां एक रूम लिया और हम उस रूम में चल दिए और रूम में जाने के बाद मैंने दरवाजा लॉक कर दिया और लॉक कर के मैंने पूनम से बोला कि पूनम तुम मुझे ये बताओ कि तुम मुझसे कितना प्यार करती हो?तो पूनम ने कहा- शेखर ये भी कोई पूछने की बात है, आप मेरे हज़्बेंड हो और मैं आपको दिल ओ जान से प्यार करती हूँ. मैं आपको बता दूँ महेश और उसके सभी दोस्तो ने एक फ्लैट रेंट पर लिया हुआ था, जिसमें 2 कमरे, हॉल और किचन थे बाथरूम अटॅच्ड थे. मैं रायपुर के एक मॉल में ऐसे ही एक दोस्त के साथ यह सोच कर गया था कि कुछ कुछ खाना पीना हो जाए, सैर सपाटा हो जाएगा.

अब तक आपने देखा कि कैसे विवेक ने मेरी चुदाई की और अब मैं और विवेक चुदाई की सारी हदें पार कर चुके थे. लेकिन थोड़ी देर बाद मेरी मॉम अपने कपड़े और बाल सही कर वापस मंडप में आ गईं. उसने तुरंत अपने पैर अकड़ा लिए, इतने में ही उसकी चुत से एक फव्वारा सा उड़ गया और माला ख़ुशी से पागल सी होने लगी.

दूसरे दिन मैं मेरी पसंदीदा शर्ट पहन कर ठीक टाइम पर उसके बताये कैफे में पहुँच गया.

उसने भी अपनी पेन्ट उतार दी, वो बोला- माया, मेरे लंड को थोड़ा थूक से गीला तो करो. तुम्हारा लौड़ा कितना बड़ा है?इस बार उसकी माँ ने उसे डाँटा और उदास हो गई तो छोटी ने मिमयाते और रोते हुए कहा- बहुत दर्द होता है माँ. मैंने उसका हाथ फिर से रखा, इस बार उसने नहीं हटाया और लंड हिलाने लगी.

पर तुम्हें चोदेंगे।इस तरह से वो अपने रूम में अपना ड्रिंक करने लगे, मैं थोड़ा खाना खाकर अपने कमरे में जो ऊपर उनके कमरे से बीच का छोड़ कर तीसरा था, जाकर लेट गई।वह मेरा ही रूम था. और मेरे साथ भी यही हुआ, कोई भी भाई अगर वो जवान है तो कभी मना नहीं करेगा. तभी एक अंकल बोले- यार, आरती के नीचे मैं हो जाता हूं और इसकी मस्त गांड में मैं अपना लंड डाल देता हूं, आरती तुझे बहुत मजा आयेगा अगर एक साथ चूत और गांड चुदवाओगी.

वो थोड़ी डर गई थी, पर मैं उसको समझा दिया कि पहली बार में ऐसे ही होता है. उसने अन्दर ब्रा भी नहीं पहनी थी और उसकी नाईटी चूंकि सिल्की कपड़े की थी तो उसके मम्मों का पूरा आकार उसके निप्पल समेत दिख रहा था.

अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज पर मेरी यह पहली गन्दी कहानी है, उम्मीद करता हूँ आपको मेरी कहानी पसंद आएगी. जैसे ही वो थोड़ा शांत हुईं, मैंने उन्हें धीरे से किस करना शुरू किया. बोला- लग तो नहीं रही?मैंने कहा- रगड़ दो, कितना दम है!वह चालू हो गया, लगा कि गांड फाड़ ही डालेगा.

माया अमित से लगभग लिपटते हुए बोली- अमित प्लीज वो फाइल मुझे दे दो, बदले में तुमको क्या चाहिए मैं दे दूंगी.

राखी ने वो देख लिया, फिर भी उसने अनदेखा किया और बोली- जब तक विधि आती है, मैं आपके और मेरे लिए चाय बनाती हूँ. उनकी इस हरकत से मेरे रोम रोम में सिहरन पैदा हो गई, मैं इंजॉय कर रही थी. करीब 5 मिनट तक हम ऐसे ही किस करते रहे, उसके बाद विवेक ने अपनी पेंट खोल कर अंडरवियर नीचे कर दिया.

मैंने किचन में ही वर्षा की सब्जी में एक कैप्सूल कूट कर पावडर करके मिला दिया, फिर थोड़ा सोच कर एक और कैप्सूल और कूट कर मिला दिया. वह मेरे नीचे लेटी लेटी बोली- अहह हाह मर गई! धीरे धीरे!और अब मैं जोर जोर से उसकी चूत में धक्के देने लग गया, दो ही मिनट बाद वो भी नीचे से अपने चूतड़ उछाल कर मेरा साथ दे रही थी और अपने मुंह से आह आह की आवाज निकाल रही थी.

मुझे पता था कि कभी भी उसने ऐसा नहीं करवाया है तो बहुत समझदारी दिखा रहा था. मैंने सबसे पहले ये फ़ैसला किया पहले देखूं कि मेरा भाई भी मेरे शरीर का कुछ दीवाना है या नहीं. रोज किसी ना किसी बहाने स्नेहा भाभी के घर जाने लगा और कभी उन्हें नहाते या कभी कपड़े बदलते देखने लगा.

सेक्सी वीडियो सलमान की

मैंने देखा कि पेटीकोट के ऊपर ही कुछ गीला गीला चिपचिपा सा पानी आ गया.

उसके बाद उसी दिन मैंने उसे एक बार फिर चोदा और अब तो मैं रानी को जब भी मौका मिलता. शुरू शुरू में तो मैंने रूप आंटी की तरफ कुछ ख़ास ध्यान नहीं दिया। लेकिन दो ही महीने के बाद एक दिन ऐसा आया. वो बोलीं- ये क्या कर रहा है?मैंने कहा- चुप रहो नहीं तो हल्ला मचा दूँगा कि तुम मुझसे गांड मारने के लिए कह रही हो.

लड़कों के लिए वहीं पास में एक हॉस्टल था लेकिन मैं बाहर ही एक कमरा लेकर रहता और अपनी पढ़ाई किया करता था. कुछ देर बाद हम दोनों 69 पोजीशन में आ गए, मैंने पहले अंजलि की चूत पर पैंटी के ऊपर से ही किस किया, उसमें से हल्की सी खुशबू आ रही थी जो मुझे उत्तेजित करने के लिए काफी थी. इंग्लैंड की सेक्सी पिक्चरसबको खाना देने के बाद बोलीं- बेटा, आप कुछ खाओगे?हम लोग सीधे हॉस्टल से आए थे, सो कुछ केले और संतरे खरीद कर रख लिए थे.

मैं जब भी भाभी का चुम्बन लेने के लिए आगे बढ़ता तो भाभी अपने दोनों हाथ अपने गालों पर रख लेती. लेकिन मैंने अपना कार्यभार जयों का त्यों संभाल रखा था औ र कुछ समय की धक्का पेली के बाद ममता ने जैसे ही दोबारा अपना पानी छोड़ा, मैंने भी अपना स्पर्म उसकी चूत की गहराई में छोड़ दिया.

मेरी पहली गर्लफ़्रेंड भी कहती थी कि तुम्हारी आँखों में आँखें डाल के बात करने की अदा से सामने वाला तुरंत इम्प्रेस हो जाता है. दो साल तक उसके साथ खूब मजे से चुदाई की, फिर अब अचानक उसने मुझे मिलने से मना कर दिया, पता नहीं क्या हुआ उसे. मैंने कहा- करो तो?वो बोली- ओके लाओ… क्या तुम्हारे सामने ही चेक करूँ!मैंने दोनों ब्रा उसे दे दी उसे और वो अन्दर रूम में लेकर चली गई और कुछ देर बाद बाहर आई मैंने गौर से देखा तो शर्ट से उसके बूब्स साफ दिख रहे थे.

मैं उसकी बहती हुई चुत से मेरे वीर्य को लेके उसकी चुत पर मालिश करने लगा. राखी दिखने में नॉर्मल दुबली पतली सी है, पर उसका बदन 36-30-36 का है. शायद मुझे ये सब अच्छा लग रहा था क्योंकि मेरी चुत इतनी गीली हो चुकी थी कि स्कर्ट भी मेरे चुत के पानी से भीग गई थी.

उनका साइज होगा करीब 34 30 36… हाईट भी अच्छी थी पांच फुट साढ़े चार इंच.

वो मज़े से लंड ले रही थी, मैंने थोड़ा स्पीड बढ़ा दी, वो और सेक्सी आवाजें निकालने लगी. मगर जैसे ही मेरे होंठ ममता जी के होंठों के पास जाते वो अपना चेहरा घुमा ले रही थी.

एक हाथ से मैं उसके बूब्ज़ दबा रहा था और वो भी बहुत प्यार से मेरे सिर पर हाथ फिरा रही थी और मेरे लिप्स चूसने में मेरा साथ दे रही थी. फिर उसने एकदम से पलट कर मुझे गले से लगा लिया, मुझे चिपक गया और मेरे चूचे दबाने लगा. मैं अपनी बहन से बोला- अब कैसे होगा? ये तो जा ही नहीं रहा?वो भी बहुत उतावली हो रही थी, तो मैं उससे बोला- अब जिस छेद में जाता है, तो जाने दो उसी में!और मैंने उसे घोड़ी बना कर उसकी चूत के छेद में ट्राई किया लेकिन मेरा लंड बार बार फिसल कर उसकी गांड पर ही लग रहा था.

फिर धीरे से मैंने उस की साड़ी को उतार दिया और ब्लाउज के हुक भी खोल दिए. बीस मिनट की जबरदस्त चुदाई के बाद मेरा वीर्य उनकी गांड में निकल गया और मुझे बहुत आनन्द का अनुभव प्राप्त हुआ. ”अंकल बोले- आरती अगर मम्मी आ गई तब?तो मैं बोली- जब तक गेट में मम्मी ना आ जाए तब तक चोदना!अंकल ने कहा- गेट बंद कर दें?मैं बोली- कर दीजिए अंदर से लॉक अभी, देरी मत करो!ओके…” सुरेश अंकल भाभी के पापा को बोले- अंदर से गेट बंद कर दो, जैसे ही आरती की मम्मी खटखटायेगी, तभी हम आरती को चोदना छोड़ देंगे.

बीएफ हिंदी के मैं उसका मुँह बंद करना भूल गया था, मुझे लगा कहीं पड़ोसियों ने आवाज ना सुन ली हो. दो घंटे बाद दरवाजा खुला और देखा तो आनन्द अपना बड़ा बैग लेकर बाहर आया और उसकी आंख में भी आंसू थे.

मीरा की सेक्सी

मेरे सपने कुछ ज़्यादा बड़े थे, मैंने उनको पूरा करने के लिए अपनी पढ़ाई में एक साल का अंतराल दिया. मैंने तिवारी सर का लंड अपने मुँह में ले लिया तो तिवारी और नायडू दोनो खुश हो गए।थोड़ी देर लंड चूसने के बाद तिवारी सर नीचे लेट गये और मैं उनके ऊपर लेट गयी फिर तिवारी ने अपना लंड नीचे से मेरी चूत में डाल दिया और पीछे से नायडू ने अपना लंड मेरी गांड में डाल दिया. यह पहला चुम्बन इतना लम्बा था कि मेरे होंठों ने उनके होंठों के हर हिस्से को इत्मीनान से महसूस किया.

फ़िर शिशिर ने अपनी जीभ सलमा की चुत में अन्दर पेल दी और सलमा को जीभ से फ़क करने लगा. फिर ससुर मोहन लाल ने अपनी जुबान बहू मयूरी की गांड के छेद पर रख दी और जुबान गांड के छेद पर चलाने लगा. कूकू वेब सीरीजवो शांत लेटी रही और पुलकित उसे फिर किसी वहशी की तरह नोचे जा रहा था.

उस लड़के ने मार्किट में कहीं मिलने के लिए कहा तो कॉलेज से आते टाइम ये मिली भी.

और मेरी दूसरी चूची उसके हाथ में थी, वो उसे मसल रहा था, जोर से हाथ में दबा रहा था।फिर मैंने अपनी चूची अपने बेटे के मुंह से निकाली, उसके हाथ से अपनी दूसरी चूची छुड़वाई और फ्रेश होने बाथरूम में चली गयी।और जब मैं बाथरूम से बाहर आई तब तक रोहण भी उठ कर बैठ गया था. एक दिन मैंने भाभी जी से पूछ ही लिया कि भाभी जी आपकी भी सुहागरात मनी होगी?वो मुझे अजीब सी निगाहों से देखने लगीं और हंस कर बोलीं- हां.

मैंने उसे हेलो किया और पूछा कि क्या आप अभी अभी सिल्वर रंग की गाड़ी से उतरी हो?उसने हां में जवाब दिया तो मैंने अपना हाथ उठा कर उसकी ओर हिलाया, उसने मुझे देख लिया, मैं उसकी ओर बढ़ा और वो मेरी ओर बढ़ने लगी. अब जहां तक पैंटी रहती थी वहां तक तो दो कपड़े थे लेकिन इससे नीचे बहुत हल्का जाली की तरह का कपड़ा लगा था. मेरे लंड ने भी मुंडी हिला कर तुनकी सी मारी, इससे वो जोर से हँस पड़ीं और बेड पर जाकर अपनी टांगें उठा के लेट गईं.

पहले मैं समझ नहीं पाई कि ये ऊपर नीचे क्यों हो रहा है, लेकिन उसके ऊपर नीचे होने से उसका मोटा लम्बा लंड भी ऊपर नीचे हो रहा और जब वह ऊपर आता तो उसका लंड मेरी गांड में लगता और नीचे जाने पर पैरों को रगड़ता हुआ नीचे चला जाता.

सारी रात हमारी चुदाई का खेल चलता, ऐसे फ़िर मैंने उसे लगातार 3 साल तक हर स्टाइल में चोदा और इतना चोदा कि उसका पति उसे सारी उम्र नहीं चोद पाएगा. मैंने कहा- भाभी, कॉलेज में मुझे कोई लड़की पसंद नहीं है, मुझे तो बस आप ही बहुत अच्छी लगती हो और सेक्सी भी. उन्होंने मेरी चूत की फांकों में अपने सुपारे को रखा और एक ही धक्के में मेरी पनियाई हुई चूत के अन्दर कर दिया.

फीलिंग हॉर्नी मीनिंगसन्नी- नहीं सर, वो बात नहीं करनी… और दफ़ा करो उस करण को, अब मेरा कोई दोस्त नहीं करण नाम का… मेरा कोई रिश्ता नहीं उसके साथ, साला जहाँ मरता है मरे, अच्छा किया जो आपने उसको अपनी टीम में नहीं लिया, और मैं सॉरी बोलना चाहता हूँ कि मैंने उस हरामी करण की वजह से आप लोगों से झगड़ा किया था, सॉरी सर. मैंने कहा- भाभी, कॉलेज में मुझे कोई लड़की पसंद नहीं है, मुझे तो बस आप ही बहुत अच्छी लगती हो और सेक्सी भी.

नंगा चित्र

दो साल बाद एक बार भाई अपने दोस्तों के साथ टूर पर गए, तब मैंने निश्चय किया कि अब जो भी हो, मैं भाभी को अपने दिल की बात बोल कर रहूँगा. पर मैंने उसे नहीं छोड़ा और उसकी सलवार का नाड़ा खोल दिया और उसे नीचे से नंगी कर दिया. जब वह लड़कियों के पीछे पैसा खर्च करता, तो उस वक्त मुझे भी फ़ायदा मिल जाता था.

वो घुटने मोड़ कर जांघें खोल कर अपने दोनों हाथों से अपनी चूत खोल कर लेट गई और मैंने अपना लंड उसकी चूत पर सैट किया और एक झटका दे दिया तो उसकी गीली हुई पड़ी चूत में मेरा पूरा का पूरा लंड जड़ तक समां गया. मॉम ने उस वक्त श्वेत रंग की पेंटी और क्रीम रंग की ब्रा पहनी हुई थी. दूसरी ड्रेस थोड़ा ज्यादा नीचे तक थी, घुटनों से थोड़ा ऊपर और इसकी खासियत यह थी कि इसमें बाईं तरफ वाला हाथ पूरी तरह से कपड़े दे ढका हुआ था.

खुशबू कपड़े धोकर ऊपर जा रही थी, तो मुझे देख कर सेक्सी अंदाज़ में बोली- ऊपर चल. फिर सुबह 5 बजे मेरी आँख खुली, मैंने उस को अपनी तरफ पलटा और मैं उस के दूध को मुँह में लेकर चूसने लगा. अब तो हम दोनों उससे बिल्कुल सट गयी और फिर से गिड़गिड़ाने लगी- सर, आप जो कुछ बोलो वो हम करेंगी मगर थाने नहीं जाना है सर!दो हॉट सी लड़किया चिपकने के बाद कौन नहीं पिघलेगा?और वैसे ही हुआ.

मेरी कामवासना पुनः जागृत होने लगी, मेरे लंड में भी उत्थान आने लगा और मामी की चूत में अपना लंड डाल के फिर से चोदा. मेम से आगे बातचीत में जानकारी हुई कि उनका और उनके पति का तलाक 2 महीने पहले ही हुआ था; उनके पति का क़िसी दूसरी औरत के साथ अफेयर था, ये बात मेम को बहुत बाद में पता चली.

वो रमेश की तरफ देखते हुए पूछने लगी- भैया?रमेश- हाँ…काजल- भाभी ने ये क्यों कहा कि उनको ख़ुशी है कि हमारे ‘इस घर में भी…’ इतना खुलापन आ गया है? क्या उनका ‘इस घर में भी…’ का मतलब ये तो नहीं कि उनके पुराने घर यानि कि मायके में भी ये सब होता है?रमेश को काजल की ये बात एकदम सही लगी, पर मयूरी ने कभी अपने मायके के बारे में ऐसा कुछ बताया तो नहीं था.

मेरे सामने अनुष्का शावर के नीचे पूरी नंगी खड़ी थी, उसके चूचे एकदम टाइट एक मीडियम साइज़ खरबूजे जैसे थे, जिसको दबाने का मन कर रहा था. non veg डबल मीनिंग जोक्सपाठको, आपको मेरी हिन्दी सेक्सी कहानी कैसी लगी, मेरी स्टोरी पर अपने कमेंट्स जरूर कीजिएगा. दुबई सेक्सी व्हिडिओजैसे ही मेरा मुँह मम्मों पर आया, पूनम ने झट से मुझे धक्का देकर दूर कर दिया और झोपड़ी से बाहर आकर उसने अपने ब्लाउज का हुक़ लगा लिया. मैंने कोमल को उसी तरह ही रहने दिया क्योंकि वो संतुष्टि का अनुभव कर रही थी.

मगर जैसे ही पुलकित स्खलित हुआ, मंजरी बोली- थोड़ी देर और करो यार, मेरा भी होने वाला है.

ऊं हूं… आप लंड बाहर निकाल लोगे!” वो बोली जैसे उसने इसी बात के डर से मुझे अपने से बांध लिया था. मैं मूर्ख उनके मम्मों में ही डूबा रहा जबकि जन्नत मेरा इंतजार कर रही थी. फिर दूसरे एग्जाम में मैं थोड़ा सेक्सी बन के गई तो उन्होंने देखा और कहा- अच्छी लग रही हो.

वो ऐसे मस्ती से लंड चुसाई कर रही थीं, बिल्कुल लॉलीपॉप की तरह से जोर जोर से चूस रही थीं. लेकिन बहूरानी की बातों का अर्थ समझ कर मेरे दिमाग की बत्ती झक्क से जल उठी. कुछ देर बाद मेरा दर्द कम हुआ और मजा आना शुरू हुआ, तो मैं नीचे से गांड उचकाने लगी.

भोसड़ी चूत

जब उसकी बॉडी टच से मेरा बुरा हाल हो गया था और मेरा लंड लोवर फाड़ने लगा था, तो इसका भी ये ही हाल हुआ होगा. बस अब मैंने मन में ही सोच लिया था कि लाइफ में दुबारा शायद ऐसा मौका पता नहीं कब आए. उसके बाद रवि थोड़ा लेटकर अपना लंड को मेरी चुत में अन्दर बाहर करने लगा.

मेरा मन तो कर रहा था कि बाहर गेट पर ही उसको चोद डालूँ, पर उसकी एक बड़ी बहन और छोटा भाई भी था.

कुणाल गरम हो गया लंड अन्दर से पेंट में तंबू बना कर उभर कर दिखने लगा.

फिर रिया मेरी सास की चूत चाटने लगी और कुछ देर चूत चाटने के बाद रिया ने अपना लंड मेरी सास की चूत के छेद रखा और जोरदार झटका मारते हुये पूरा लंड सास की चूत में घुसा दिया. सलमा मदहोशी में कराह रही थी और कमर को हवा में लहराते हुए शिशिर से चुदवा रही थी. हद सेक्सी मूवीअच्छी सेक्स कहानी कैसे लिखें?पहली बात तो यह कि कहानी लिखने के लिए कल्पना शक्ति का प्रबल होना पहली आवश्यकता है; इसके बाद अपनी कल्पना को शब्दों में परिवर्तित करके साकार कर देना ही मूल आवश्यकता है.

मुझे देख कर वो लेट गईं और फोन रखकर बोलने लगीं- मेरे सर में दर्द है मुझे सोने दे. उन लोगों ने देखा कि मैंने ब्रा नहीं पहनी, तब सुरेश अंकल बोले- साली चुदने के हिसाब से ही लेटी है, बस थक गई होगी इंतजार में तो चूत में उंगली करके सो गई. ये बहुत अच्छा तरीक़ा है, अगर वो चुदवाना नहीं चाहती तो भी आपके पास बहाना होगा ही कि जानबूझ कर नहीं किया.

एक दिन मुझे आकांक्षा नज़र आई, मैंने उसे रोका और गाड़ी में बैठने के लिए कहा तो पहले उसने मना किया लेकिन मेरे बार बार कहने पर वो मान गई और मेरी गाड़ी में मेरे साथ बैठ गई. मैं अपनी मॉम की खूबसूरती से पहले से ही आकर्षित था, वो बहुत सुंदर और आकर्षक हैं.

मैं खुद भी गर्म होती जा रही थी, मैंने कब अपने कपड़े उतार फैंके, मुझे खुद नहीं पता चला.

मेरा शेर अभी तक डटा हुआ था और एड्रिआना शायद समझ गई थी तो उसने मुझसे कहा कि वो मुझे मुँह से डिस्चार्ज कर देगी, लेकिन मेरा इरादा कुछ और ही था. मगर मेरे मन में शरारत थी तो मैंने उसको बोल दिया- तुम फट्टू लड़के ऐसे ही होते हो. थोड़ी देर बाद भी उनकी कुछ हरकत नहीं हुई तो मैंने भी थोड़ा उनके ब्लाउज के हुक को खोला और ऊपर से ही जोर से एक चूचे को दबाया.

booba बढ़ाने की दवा राजेंद्र अंकल की कान में आवाज आई- आरती उठो, हम लोग आ गए तुम्हें चोदने! तुम्हारे पापा आये नहीं, हम ने बाहर का गेट बंद कर दिया है पर लॉक नहीं किया। जल्दी करो, अब हम लोगों से बर्दाश्त नहीं होता. आज तुम्हें सब कुछ मिलेगा और इतना मिलेगा कि तुम्हें किसी बात का कोई पछतावा नहीं रहेगा.

दीपिका को भी मजा आ रहा था- आह… हराम की औलाद बस इतना ही दम है तेरे में? एक चूत का पानी नहीं झाड़ सकता… आह… आह!दीपिका की बातों ने अपना असर दिखाया और केविन ने और तेज़ी से चुदाई शुरू कर दी. दोस्त कहते थे कि ‘अबे एक जाएगी नहीं तो दूसरी कैसे आएगी, भूल जा उसे!’पर मैं उसको प्यार करता था. मैं आकांक्षा के इस लंड चूसने की कलाकारी को मुस्कुराते हुए देख रहा था और उसके बालों में हाथ भी फिरा रहा था.

जीजाजी पर शायरी

अब मैं ये सोच रही थी कि 4 बजे क्या होगा? फिर मैं दरवाजा बंद करके अन्दर आ गई और सारे काम छोड़ कर उस पैक को खोलने लगी और जब मैंने पैक खोल कर देखा तो मेरी ख़ुशी का ठिकाना नहीं रहा क्योंकि ड्रेस बहुत अच्छी थी. दीदी झड़ने को थी, एक लम्बी सांस के साथ मैंने भी अपना पानी दीदी की झड़ रही चूत में निकाल दिया. कुणाल- जरूर दीदी को घर का केला खिलाना बाकी है, क्यों दीदी खाओगी ना?उसने सर हिलाया और धीरे से कुणाल के कान में कहा- माँ ने चख ही लिया है, अब मेरी बारी है.

तू सही कह रहा था, मैं पहले भी चुद चुकी हूं पर आज मुझे बहुत मजा आ रहा है, और मेरी चूत को फाड़ दो और जोर से चोद!उसकी इन आवाजों को सुन कर मुझे और ज्यादा मजा आने लगा, मैंने उसको उठाया और बेड के किनारे उसका सर नीचे लटका कर लिटा दिया और उसकी गांड के नीचे तकिया लगा कर उसे चोदने लगा. उनका बैग दरवाजे में अटक गया और खुल गया, जिससे सारा सामान बाहर बिखर गया.

मैंने अपने पापा के साथ सेक्स किया, पापा से चुदवाया, पापा ने मुझे चोदा, पापा का लंड चूत में लिया मैंने! पापा से चुदवा कर चूत की प्यास बुझवाई.

मैं घर आकर पैन्ट उतारने लगा तो अंडरवीयर नीचे खिसक गया, जीजाजी का लंड खड़ा हो गया, उन्होंने मुझे फिर अंडरवीयर नहीं पहनने दिया. मॉम की चुदाई की इस कहानी के पिछले भागसेक्सी विधवा मॉम की चुदाई का मजामें आपने पढ़ा कि मेरी मॉम विधवा है, बहुत सेक्सी है. सलमा गाल पर चुम्बन पाकर मस्त हो गई और खड़ी होकर शिशिर से चिपक कर उसके होंठ चूमने लगी.

वो काजल की चूत में लंड डाले हुए वैसे ही थोड़ी देर तक उसके ऊपर पड़ा रहा. मैंने बहुत ही मेहनत से पढ़ाई की और अपनी 11 वीं की परीक्षा बहुत ही अच्छे नंबर से पास की. मैं- मिनी के साइज़ की एक अच्छी सी ड्रेस लेना होगा और उसे देना होगा, जब मैं अगले सन्डे को घर जाऊँगी तो मैं उसे दे दूंगी.

एक दिन मोनिका अपने भाई का फ़ोन अपनी फ्रेंड्स से बात करने के लिए यूज़ कर रही थी.

बीएफ हिंदी के: अंजलि थोड़ा मुस्कुरा कर बोली- मैं नहीं जा रही कहीं…अंजलि दीदी को मुस्कुराती देख मेरी जान में जान आई मैं कुछ बोल पाता कि वो फिर बोल पड़ी- देखो… घबराओ मत, मुझे भी आज किसी की जरूरत है… कितने समय से बस इस डिल्डो से मास्टरबेट कर रही हूँ. ओह्ह्ह… फिर क्या बताऊँ दोस्तो, मेरी बहन उछल उछल कर चुदवाने लगी, उसके मुँह से आअह आआह आआअह उम्म्ह… अहह… हय… याह… उफ्फ्फ.

तो मुझे ये महसूस होने लगा कि शायद भाभी कहीं मेरी वजह से तो भैया से नहीं लड़ रही हैं. एक दिन मैं सुरेश भैया के घर गया, तो देखा कि घर का दरवाजा हल्का सा टिकाया हुआ था, तो मैं सीधा अन्दर चला गया और स्नेहा भाभी को आवाज देने लगा. मैं वहाँ पर अच्छा महसूस नहीं कर रहा था क्योंकि वहाँ बहुत गर्मी थी तो मैंने कहा- चलो अंदर कमरे में चलते हैं.

मेरा लंड बार बार उसकी गांड को छू रहा था और शायद अब उसे भी इस बात का अहसास हो गया था.

मैं अपना लंड उसके मुँह के पास ले गया तो उसने बिना देर किए मेरा लंड पूरा का पूरा अपने मुँह में ले लिया. अमित- तू तो सच में बच्चा है सन्नी… अगर मोबाइल पर वीडियो नहीं बनाने देती तो मोबाइल को कहीं ऐसी जगह छुपा दो जहाँ उसको पता नहीं चले, या कोई छोटा हॅंडीकॅम यूज़ करो इस काम के लिए, फिर सब ठीक हो जाता है. उसके टॉप के अन्दर की ब्रा साफ साफ दिख रही थी और उसने जो जीन्स पहनी थी, वह पानी के प्रेशर की वजह से थोड़ा नीचे खिसक गई थी, जिससे उसकी स्काई ब्लू कलर की पैंटी दिख रही थी.