बीएफ सेक्सी हिंदी बढ़िया

छवि स्रोत,सेक्स करते हुए वीडियो में दिखाइए

तस्वीर का शीर्षक ,

हॉट शॉट्स: बीएफ सेक्सी हिंदी बढ़िया, उसकी सेक्सी वाइफ को देख मन ललचाया कि काश ये इस फ्लैट में रहने लगें तो …अन्तर्वासना के सभी पाठकों को मेरा नमस्कार। मेरा नाम राजेश्वर शर्मा है और आप मेरी कहानियाँ ‘राजू शर्मा जी’ के नाम से पढ़ते आये हैं.

ভাই বোনের সেক্স

मैं- तुम्हारे साथ?वो- क्यों मेरे साथ कोई प्राब्लम है?मैं- मुझे तो अब दिल्ली की बसों में भी जाने में डर लगता‌ है और फिर तुम्हारे साथ तो बिल्कुल भी नहीं. हिंदी सेकसअभी भी मेरा मुँह बन्द था, पर होंठ ढीले थे … जिसे कविता बड़े चाव से चूस रही थी और बार बार अपनी जीभ मेरे मुँह के अन्दर डालने का प्रयास कर रही थी.

इसके बाद थ्रीसम चुदाई की कहानी का क्या हुआ … वो सब मैं आपको इस देसी भाभी गांड कहानी के अगले भाग में लिखूंगा. तमिल मदरासी हिरानी भाभी हॉट न्यूड फोटोबाथरूम में जाकर वो खड़े होकर मूत रही थी, मूतने के बाद पानी से उसने अपनी चूत को गीला किया और वापिस आ गयी.

पर जब जोर से‌ चुदाई करने‌ की बात आई, तो मेरा ध्यान फिर से खिड़की पर चला गया.बीएफ सेक्सी हिंदी बढ़िया: जैसे पंछी पिंजरे से बाहर आने को फड़फड़ाता है … वैसे ही ब्रा में कैद शायरा के दोनों उभार भी ब्लाउज और ब्रा की कैद से निकल कर अपनी आज़ादी का पूरा मज़ा लेना चाहते थे.

मगर मैं झड़ना नहीं चाहता था इसलिए पांच मिनट के बाद ही मैंने उसको रोक दिया.किस करता हुआ मैं उसके पेट पर चूमने लगा, उसकी नाभि में जीभ डाल कर घुमाने लगा.

बहु ने ससुर को चोदा - बीएफ सेक्सी हिंदी बढ़िया

मैंने तुरंत टोका- ऐसे ही तो नई लौंडिया ने भी चोदा मुझे … फिर तुम्हारे अनुभवी होने का क्या फायदा मिला मुझे?अनीता ने कहा- अच्छा तो सर जी अनुभव देखना चाहते हैं!ये कहते हुए उसने लंड को हाथ में पकड़ा और कमर थोड़ी ऊपर उठा कर लंड अपनी गांड में सैट करके बैठने लगी.शराब पीने के बाद आदमी बिंदास हो जाता है और कभी भी झूठ नहीं बोलता है.

इस सबके साथ ही ट्विंकल को नए-नए दोस्त बनाना, उनके साथ मस्ती करना भी बहुत पसंद था. बीएफ सेक्सी हिंदी बढ़िया आह्ह … फक यू … आह्ह चुद साली रंडी … फाड़ दूंगा तेरी गांड के छेद को मैं.

मेरी साली इस दौरान मुझसे काफी खुल गई थी और हम दोनों सारे दिन कोई न कोई गेम खेलते हुए आपस में लड़ते झगड़ते और चुहलबाजी करते रहते थे.

बीएफ सेक्सी हिंदी बढ़िया?

रश्मि मेरे लंड को, अंडों को, जांघों को यहां तक की गांड तक चाट-चाट कर मेरी हालत खराब कर चुकी थी. इससे मेरा पूरा लंड भाभी की गांड को चीरता हुआ अन्दर गहराई में घुस गया. बाद में आंटी कहने लगी- तुम्हारी यह बात भी मुझे अच्छी लगी कि तुम अपने अंदर की बातें किसी को नहीं बता रहे हो.

जबकि पहले ऐसा कभी नहीं होता था और दर्द हर रोज बढ़ता ही जा रहा था।मैं डर गयी और मैंने फोन पर दीदी को बता दिया. उन्हें क्या पता था कि उनकी साली उनके साथ चुदने का प्लान बना चुकी है. फिर हम दोनों की नजरें मिलीं, तो एक पल का सन्नाटा छाया और अगले ही पल भाभी एक हाथ में साबुन लेकर मेरे शरीर पर मलने लगीं.

मैं- तो फिर मैं उसकी चूत चोदूं या गांड?अन्जना- नॉटी ब्वॉय। अपनी विधवा आंटी की सीधा ही गांड मत मारना. सुमित- यार मत तरसा यार, पूरा दिन बिता दिया तेरी गोल-गोल चूची, फूली हुयी चूत और उभारदार गांड देखने को बड़ा जी कर रहा है. वो- हां … हां … आपको होटल से नाश्ता भी करना होगा?मुझे भी अब हंसी आ गयी और मैं ‘वो … म्.

मैं मामी को जोर जोर से किस किए जा रहा था और धीरे धीरे उनकी चुचियों को भी दबा रहा था. मैं किसी ना किसी बहाने से उससे रोज़ मिलने लगी और हमारी दोस्ती गहरी होती चली गयी.

मैंने भी दूसरा पेग खत्म कर बोतल एक तरफ रख दी और अब नीरा को देखने लगा.

वो- लेकिन हम एक दूसरे को अपने घर का या गांव का एड्रेस बता देना चाहिए … कहीं हम आस पास के निकल आये तो!मैंने कहा- वैसे भी मेरा नंबर तुम्हें कैसे मिला!वो- अभी बताया तो!मैं- ओ हां.

उसका खड़ा रहना मुश्किल हो रहा होगा … और वो भी ये सब देख कर अपनी चुत में उंगली करने को मज़बूर हो गयी थी, शायद इसीलिए वो अब फिर से नीचे बैठ गयी थी. तभी मैंने उसके ऊपर के होंठ को अपने होंठ में लेकर उसे एक किस की जिसका जवाब उसने अपनी जीभ को मेरी जीभ पर टच करके दिया. फिर भी ऊपर वाले ने मुझमें नारी को वश में करने की अद्भुत क्षमता दी है जो मेरी चूत की तलाश पूरी करने में कामयाब होती है.

बिना भावना की कदर किए जानवरों वाला प्यार तो कोई भी जानवर कर लेता है, पर इंसानों का प्यार अलग ही होता है. मैं उनकी वेशभूषा से किसी नतीजे में पहुंचता … इससे पहले ही नेहा आ गई. भले ही मैं सम्भोग में बहुत अनुभवी हूँ, पर इतना मोटा लंड अपनी योनि में लेना मेरे लिए असम्भव सा था.

उसने आँखें बंद कर रखी थीं।मैंने उसकी टीशर्ट को ऊपर उठा दिया और उसकी ब्रा खोलकर उसके मम्मे पीने लगा.

मैंने सलोनी भाभी से विनती की- भाभी, आप मुझे अपनी चुत चूसने दो, आपको मजा आएगा. इसके बाद भी मौसी की चुत में उंगली करता रहा और उनके मम्मे और होंठों को चूसता रहा. वो बार-बार अपनी योनि को मेरे योनि के ऊपर दबाव दे रही थी … साथ ही गोल-गोल घुमा कर अपनी योनि मेरी योनि से रगड़ रही थी.

शायरा तो मुझसे अब नज़र ही नहीं मिला रही थी मगर मैं अब थोड़े मज़ाक के मूड में आ गया था. दीदी बोलीं- मेरी छिनाल बहन आज तो तेरी भी सारी गर्मी मेरे पति तेरी गांड से निकाल देंगे. रवि ने दरवाजा खोला और बोला- आ गयी रंडी!रिया- सेठ बुलाये और रंडी न आये, ऐसा कैसे हो सकता है?वो दोनों अंदर गये और साथ में बैठ गये.

एक दिन की बात है कि दोपहर के समय एक गदराये जिस्म की भारी भरकम इंडियन लेडी हमारे स्टोर पर आई.

मैंने पूछा- अब क्या?वो बोला- मालकिन अभी तो केवल चूत की मालिश हुई है. इससे कविता की सिसकियां कराह में बदल गईं और वो मेरे सिर के बालों को खींचने लगी.

बीएफ सेक्सी हिंदी बढ़िया इधर तो मामला ही चुदाई का था, तो मैडम ने एकदम पतले कपड़े की स्किन कलर की कुर्ती पहनी हुई थी और उसी रंग की ब्रा पैंटी थी. अब वे दोनों हाथों से मेरी चूत और गांड में उंगली अंदर बहार कर रहे थे.

बीएफ सेक्सी हिंदी बढ़िया भाभी ने झट से नाइट गाउन पहना और बेडरूम में जाकर व्हाट्सैप पर वीडियो चैट करने लगीं. अब मैं झड़ने वाला था, तो मैं रूक गया क्योंकि मैं उसके अन्दर नहीं झड़ना चाहता था.

दोनों साथियों को चाहिए कि वो अपने आनन्द के साथ साथ अपने साथी के आनन्द और खुशी का ख्याल रखें.

सेक्सी बच्ची का

मैं उनसे मीठी मीठी सेक्सी बातें करते हुए भाभी के पांवों और हाथों की हल्के हाथ से मालिश कर रहा था. एक दिन बात करते करते गुड्डी ने कहा- मैं आज रोहतक आ रही हूँ … तुम भी आ जाना. अब जो रोज़ सांवले से छोटे छोटे मम्मों को दबाता हो, उसके सामने गोरे गोरे और बड़े बड़े मम्मे आ जाएं, तो उसकी आंखें फटी की फटी रह जाएंगी.

वे इतनी जोर जोर से धक्के दे रहे थे जैसे कि अभी अपना लंड मेरी चूत से फाड़कर मेरे मुंह से बाहर निकाल देंगे. मैं थोड़ा सो गया क्योंकि मैं पहली रात को भी कम सोया था और मुझे पता था आने वाली रात को सरोज के साथ जागना था और उसको चोदना था. ओल्ड लेडी सेक्स स्टोरी में पढ़ें कि मेरा दोस्त मेरे घर के पास रहता था.

इसी बीच यूं ही उसने मेरे बारे में भी पूछा, तो मैंने भी अपने बारे में सब कुछ बता दिया.

वो बूढ़ा मेरे सामने खड़ा होकर मेरे बालों को सहलाने लगा और अपने लंड के हल्के हल्के झटके मेरे मुँह में मारने लगा,बूढ़े का लंड उस लड़के जितना लंबा और मोटा तो नहीं था, मगर फिर भी पूरा तना हुआ और पूरा हार्ड था. कॉर्नर की होने की वजह से कोठी में मेरा आने जाने के लिए अलग से पीछे वाला दरवाज़ा था. दीदी बोलीं- तो तूने मेरे आने की पूछी क्यों … तू तो आराम से चुदना, हम लोग 8 बजे के बाद ही घर आएंगे.

मेरा लंड पूरा कसाव में था और सख्त होकर एकदम कठोर डंडे जैसा हो गया था. मैंने पूछा- और तुम!उसने कहा- मेरा नाम गुड़िया है, मैं नबाव गंज की हूँ. उसकी आंखें लाल हो गयी थीं जैसे उसके बदन का सारा खून उसकी आंखों में चला गया हो.

मैं निशु को कुर्सी पर बैठने को बोला और मैं और रोहन उसका मेकअप करने लगे. ये तौलिया इतनी छोटी थी कि इसमें मेरे आधे चुचे ढक पा रहे थे और नीचे से तौलिया मेरी गांड तक आ रही थी.

तभी नैना बैठी हुई और मुझे अपने ऊपर खींचने लगी, मेरे होंठों को चूमने लगी. मेरा 8 इंच का लंड उसकी चूत को रगड़ रहा था, मैं उसके मम्मों को चूस रहा था, निप्पलों को काट रहा था. मैंने नेहा को किस करते हुए कहा- दिल करता है कि आज तेरी जवानी को चोद दूँ.

मगर जब आस पास नजर दौड़ाई तो देखा कि हर दूसरे मरीज के साथ उनके घर का सदस्य हाजिर था.

आपका अमित[emailprotected]हॉट साली की चूत कहानी का अगला भाग:लॉकडॉउन में साली की चूत की सेवा- 2. मेरी साली इस दौरान मुझसे काफी खुल गई थी और हम दोनों सारे दिन कोई न कोई गेम खेलते हुए आपस में लड़ते झगड़ते और चुहलबाजी करते रहते थे. मैंने गीतिका से पूछा- तुम्हारे हसबैंड का लण्ड कितना बड़ा है? और तुम्हारी सेक्स लाइफ कैसी है?गीतिका कहने लगी- यदि मेरे हसबैंड का लण्ड किसी काम का होता या मेरी सेक्स लाइफ रंगीन होती, तो क्या तुम्हें मेरी चूत इतनी साफ और चमकीली मिलती? मेरे हसबैंड का लण्ड नहीं है, उसकी तो लुल्ली है और वह भी मौके पर काम नहीं आती.

उन्होंने मेरे लंड को अपने दोनों हाथों की मुट्ठियों को आगे पीछे करके पकड़ लिया और कहने लगी- यह तो दो मुट्ठियों के बाद भी आधा बचा हुआ है और मोटा भी इतना है कि मुट्ठी में नहीं आ रहा है. तभी बड़े चाचा ने मुझे आवाज दी- साहिल, तुम अभी हमारे साथ एयरपोर्ट छोड़ने चलना.

संजय बोला- आये भी क्यों न, ये साली आजकल अंग्रेजों के लौड़े चूसती है. मेरे लंड को सहला कर देखा और बोली- बुड्डे हो गए हो … पर सामान अभी भी तगड़ा है. वो एक बार मेरे लंड को देख रही थी और दूसरी बार मेरे मुंह को देख रही थी.

कुंवारी सेक्सी फिल्म वीडियो

वो ये तुम्हारे साथ ही चाहती है और सोच रही है कि किसी को भी पता भी न चले.

हॉस्पिटल सेक्स कहानी में पढ़ें कि कोरोना ग्रस्त होकर मैं अस्पताल में था. मुझे काफी दर्द हो रहा था लेकिन इसमें थोड़ा बहुत मजा भी था।फिर इसके बाद वह कुर्सी पर बैठ गया और मुझे लंड पर बैठाकर चोदने लगा. उसकी टाँगें कांपने लगी और फिर उसकी चूत से झरना फूट पड़ा।उसका शरीर ढीला पड़ गया।मैं बैठ गया बाजू में … और उसकी ओर देखने लगा.

मुझे बहुत मजा आ रहा था क्योंकि मैंने पहली बार दीदी की गांड को छुआ था. मुझे किसी पाठिका ने अन्तर्वासना की साइट पर मेरी मादक कहानियां पढ़ कर मुझे मेल की थी. सेक्सी ब्लू पिक्चर वीडियोअब्बू और चाचा को ऑफिस के काम से फ़ुर्सत ही नहीं मिलती है, इसलिए अम्मी और चाचियां अपने काम या खरीदी के लिए खुद ही अपनी कार लेकर बाज़ार चली जाती हैं.

मजबूरी थी, इसलिए शायरा ने स्कूटी का हैंडल पकड़ लिया और मैं पीछे से धक्के लगाने लगा. गीत मेरे पैरों की तरफ मुंह करके मेरे लंड पर अपनी गांड रख कर बैठ गयी और मैंने उसके कंधे पकड़ रखे थे और धीरे धीरे गीत मेरे पूरे लंड को गांड में समा गयी.

ये सब मेरे साथ पहली बार था, इसलिए कुछ भी दिमाग से काम नहीं चल रहा था, बस हुए जा रहा था. फिर एक दिन उन्होंने खुद ही मुझे एक एडल्ट जोक भेज दिया, तो मेरी तरफ से भी इसी तरह से एडल्ट जोक्स उनको जाने लगे. शायरा को भी इस बात का अहसास था इसलिए उसने अब अपने दुपट्टे को सही से करके अपनी चूचियों को छुपा लिया.

मैंने उसे अपने से दूर हटाया और कहा- क्या तुम पागल हो गई हो … ये क्या कर रही हो?सोनम बोली- रुचिका बेबी, यही तो उम्र होती है ये सब करने की. संजय ने बिना देर किये गीत के आगे होकर उसकी चूत में अपना लंड डाल दिया और अब गीत को थोड़ा ऊपर को करके संजय गीत को चोदने में लग गया. घोष बाबू मना करने लगे तो दीपिका ने उन्हें इशारे से चुप करवा दिया और कहने लगी- जी सर, हम चाय पीकर ही जाएंगे.

बल्कि वो मेरे हाथ से अपने गाल सहलवा कर ये भी कहने लगीं- जरा ठीक से देखो क्या मेरा शरीर बुखार से गर्म लग रहा है?मैंने कहा- नहीं भाभी, ऐसा तो नहीं लगा रहा है.

मैंने कभी दीवार के साथ खड़ी करके, कभी अपने ऊपर चढ़ा कर, कभी उसे करवट से लिटा कर, एक टांग को अपने कंधे पर रखकर और भी जितने भी संभोग के आसन मुझे आते थे, मैंने गीतिका को पूरी रात चोद कर पूरा संतुष्ट कर दिया और फिर हम दोनों नंगे ही सुबह 9 बजे तक सोते रहे. सेक्स की हिंदी कहानी में पढ़ें कि मैं पार्क में घूम रहा था कि कुछ लोग एक प्रेमी जोड़े को डांट रहे थे.

प्रकृति ने लड़कियों को चूचे दिए ही इसलिए हैं कि उनके प्रेमी चूस सकें. मैंने उसे कुछ देर बेड के नीचे सोने को कहते हुए कहा कि वार्ड में एक बार शान्ति हो जाएगी तो मैं तुम्हें उठा कर बाथरूम ले जाऊंगा. पर जब मैंने उन्हें चुप कराने की कोशिश की तो वो खड़ी होकर खुद ही मेरे सीने से लग कर रोने लगीं.

भाभी का सेक्स प्ले कहानी में पढ़ें कि मेरे पड़ोस की भाभी की अपने पति से बनती नहीं थी. मैं संभाल लूंगा।रिया फिर बहाना बनाते हुए बोली- मगर मेरे पीरियड्स के टाइम?समस्या देख कर रमेश बोला- हम्म … उस समय तू सिर्फ एक छोटी सी पैंटी पहन लेना और उन दिनों की भरपाई तू अगले कुछ दिनों में कर देना। वैसे भी तेरे पास तेरा मुंह और गांड भी तो है, मैं उससे भी काम चला लूंगा. उस वक्त मुझे दीदी के रूप में केवल एक चूत दिख रही थी जिसको मेरा लौड़ा चोदना चाहता था बस!मैं दीदी के ऊपर चढ़ गया और उसको बेड पर पीठ के बल गिरा दिया.

बीएफ सेक्सी हिंदी बढ़िया वे मुझे इस तरह से चोदने या काटने से बिल्कुल भी मना नहीं कर रही थीं. वो इतनी तेजी से उंगलियां अन्दर बाहर कर रही थी कि मेरी दर्द वाली आवाज कामुक सिसकारियों और मादक कराहों में बदल गयी.

पूरी ओपन सेक्सी

उससे पहले तेरे पति के सामने तुझे चोद सकूं, तू ऐसी कोई तरकीब निकाल!अनीता- उसकी चिंता आप बिल्कुल भी न करो फूफा जी. इस बीच उसके चूत ने मेरे लंड को अपनी कैद से मुक्त कर दिया और वो फिसलकर बाहर आ गया. अब आगे:रिया गार्डन की बेन्च पर बैठ कर सोच में पड़ी गयी- हे भगवान, डैड रेहाना तक भी पहुँच गए। यह तो बहुत बुरा हुआ। रेहाना जैसी मिडिल क्लास रंडियों पर डैड कहीं अपनी सारी दौलत ही ना लुटा दें। हे भगवान अब मैं क्या करूं, कैसे डैड को रोकूँ?उधर रमेश अपने कमरे से फ्रेश होकर निकला.

दीदी को गाली देते हुए मैंने लंड को अंदर बाहर करना शुरू कर दिया- आह्ह … ले साली … तेरी मां की चूत … आज तेरी चूत का भोसड़ा बनाऊंगा. ”हाँ कुत्ते … ज़रा सी भी बहस मत कर … अपनी औकात में रहना सीख एक अच्छे गुलाम की तरह … ख़बरदार जो अपनी मालकिन से ज़ुबान लड़ाई … अब से तू मुझे मेमरानी कहा करेगा. सेक्सी वीडियो चोदी चोदा वालाजब भी वो फार्म हाउस पर जाती है, ननद और देवरानी के साथ मिलकर उनसे ही चुदवाती है.

मैं अपनी पढ़ाई करता हूँ और थोड़ा बहुत अब्बू के ऑफिस का काम भी कर लेता हूँ.

देसी सुहागरात कहानी में पढ़ें कि कैसे मैंने कॉलेज की एक नाजुक लड़की की बुर की सील अपने घर में अपने बेडरूम में तोड़ी. पहले तो मोहन मेरे होंठ गाल, कंधे मम्मे पेट पीठ, कमर जांघें सब चाट गया और उसके बाद मेरी चूत से मुँह लगा कर चाटने लगा.

Facebook id – Vivaan SrivastavaEmail id –[emailprotected]कहानी का अगला भाग:गर्लफ्रेंड की सहेलियों संग रासलीला- 2. मैंने भी निशी की बात को ध्यान से सुना और सिक्के के दूसरे पहलू को देखना शुरू किया. वो- वो क्यों?मैं- अब बस में तो एक दूसरे से थोड़ा बहुत छू भी जाते हैं, क्या पता तुम कब मेरा गाल सुजा दो.

मुझे बहुत मजा आ रहा है साले … हरामी मार ना! रुक क्यों गया मादरचोद?यह सुनकर अंकल को भी जोश आ गया.

दोस्तो, मेरे पास करीब सौ से ज्यादा भाभियों और लड़कियों के मेल आए थे, जिसमें उन्होंने मेरी अब तक की सभी कहानियों को काफी सराहा और अगली सेक्स कहानी के लिए रिक्वेस्ट की. मैं मन ही मन सोच रही थी कि सूरज कब जाएगा और कब मैं उसके चाचा से चुदवाऊँगी. मैं तुझसे जो बोलूंगा वह तुझे करना पड़ेगा।रमेश- चल अपने कपड़े उतार और कुतिया बन जा.

सेक्सी सेकसलेकिन दो-तीन दिन बात करने के बाद जब उन्हें विश्वास हो गया कि मैं उनके विश्वास के लायक आदमी हूं. फिर देखा कि अब भाभी भी अपनी गांड को आगे पीछे करके चुदाई का मज़ा ले रही है तो मैंने भी देर न करते हुए अपनी स्पीड बढ़ा दी.

जवान लड़कों की सेक्सी

[emailprotected]omखुला सेक्स कहानी का अगला भाग:कोरोना काल में सामूहिक चुदाई- 2. तभी एकता ने अन्नू और डॉली को कहा कि अगर वो दोनों बुरा न मानें तो वो उनको कुछ फोटो दिखाना चाहती है. फीमेल फीमेल सेक्स पसंद करने वाली मेरी एक सहेली मेरे ही घर में मुझे समलैंगिक सेक्स के लिए उकसा रही थी.

मैंने अपना लंड बाहर निकाला और दोबारा गीतिका की चूत के ऊपर पोजीशन लेकर एक ही झटके में उसकी मुलायम, फूली हुई गोरी चूत के अंदर लण्ड दे मारा. मैं तौलिया बांधे उसी के सामने अपने बाल झड़ाने लगी और वो लगातार मुझे देख रहा था. करीब पंद्रह मिनट के धकापेल पब्लिक सेक्स में अनीता का शरीर अकड़ चुका था.

शायद उसने सोचा होगा कि मैं अब सैनिटरी पैड लेने बाजार जाऊंगा और वो पकड़ी जाएगी, इसलिए वहां से वो चुपचाप जल्दी से निकल गयी. नेहा गीत की बात सुन कर मुझसे मम्में मसलवाती हुई बोली- साली कुतिया इनको याद करके क्या चूत में उंगली लेती है?फिर गीत संजय के पूरी तरह खड़े हो चुके लौड़े को पकड़ कर बोली- अगर ले भी लूँ तो इसमें क्या बुरा है?मैंने नेहा को घुमा कर उसके मम्मे पर किस करके कहा- अरे साली डार्लिंग, अभी ये लौड़े आपके हाथों में हैं, अभी उंगली की जरूरत नहीं पड़ेगी, इनका मज़ा लो सालियों. मैंने उसको गर्म करते हुए कहा- श्यामू, मेरी चूत की भी मालिश कर दो ना!अब वो भी समझ चुका था कि मेरी गर्म चूत एक टाइट लंड को खोज रही है.

जब तुम्हारी ये बड़ी बड़ी चूचियां किसी मर्द की छाती के नीचे रगड़ा खाएंगीं तब देखना कितना मजा आएगा!हाय भाभी पता नहीं मुझे कब लंड नसीब होगा? लेकिन अभी मुझे तो इस खीरे में भी बहुत मजा आया है. उसके बाद हमने दोनों लड़कियों की चूत और गांड डिल्डो और लंड से कैसे चोदी?दोस्तो, मैं रवि स्मार्ट एक बार फिर से आपके सामने हाजिर हूं अपनी कहानी का तीसरा भाग लेकर.

अगर किसी भी व्यक्ति की जीवन शैली इस कहानी से प्रभावित होती है तो यह महज़ एक इत्तेफ़ाक़ होगा.

मैंने धीरे धीरे उसके पैर चूमते हुए उसकी जाँघों को चूमा और धीरे से उसकी पेंटी उतार दी. एक्सएक्सएक्स वीडियोयह भी समझ आ गया कि पिंकी का मासिक धर्म अभी ताज़ा ताज़ा ही पूरा होकर चुका है. मोटी गांड की फोटोऐसी ही बात निकली, तो मैंने पूछ लिया कि तुम ऐसे ही अकेली बोर नहीं होती हैं. आज मैं भी अपनी एक सच्ची मैरिड गर्लफ्रेंड सेक्स स्टोरी आप लोगों के लिए लिख रहा हूँ.

मुझे अपने से बड़ी उम्र की लड़कियां बहुत पसंद हैं इसलिए मैं अपनी बड़ी बहन को चोदने में भी पूरा मजा लेता हूं.

मैं भाभी की चूत को चूसने लगा, उनकी दोनों टांगों के बीच में लेटकर मैं अपनी जीभ को भाभी की चूत के अन्दर तक डालने लगा. जब भी कोई फ्लैट को खाली करता था तो मैं दोबारा उस पर टू-लेट (किराये के लिए खाली) लिख कर लगा देता था. दीपिका ने उस समय घुटनों तक की स्कर्ट और ऊपर बिना ब्रा के स्लीवलेस टॉप पहन रखा था.

मैं धीरे धीरे अपने लंड को पकड़ कर उनकी चुत में अन्दर घुसेड़ने की कोशिश करने लगा. भीगी पैंटी देख उसकी चुत की महक लेने को अपने आप ही मेरा सिर उसकी जांघों के बीच झुक गया. इसके बाद भी हमने 3-4 बार सेक्स के लिए कोशिश की, पर हर बार सूरज शुरू में झड़ जाता था … और मुझ तक जवानी की धूप पहुंच ही नहीं पा रही थी.

पहली बार लड़की की चुदाई सेक्सी

तुम इतनी खुल कर चुदवा रही थी।”तुम्हारी चुदाई से पता चल रहा था कि तुम कितनी प्यासी थी और अभी तक तुम्हारी अच्छे से चुदाई नहीं हुई थी। मगर अब चिंता मत करो तुमको चुदाई का पूरा मजा मिलेगा।”ऐसा कहते हुए उन्होंने मेरे निप्पलों को मसलना शुरू कर दिया. हम दोनों बार बार मोबाइल के सामने देख देख कर जोर जोर से बड़बड़ा रहे थे. क्या आप देखिएगा?भाभी ने कहा- क्या!मैंने एक ब्लू-फिल्म लगा कर भाभी के सामने मोबाइल कर दिया.

अब मैंने भाईजान के बॉक्सर के अंदर हाथ डाल लिया और उनके लंड को सहलाने लगी.

आप मेरी खुशी के लिए आ रहे हैं, तो मैं आपको किसी भी तरह की तकलीफ नहीं होने दूंगी.

रति- जी अभी लायी।थोड़ी देर के बाद रति दो कप चाय ले कर आई और रमेश और रिया को दे दी. मगर बूढ़े ने कहा- मैंने तो तुम्हारी चुदाई अंधेरे में ही की है, तुम्हारी फुद्दी के दर्शन तो मुझे हुए ही नहीं … मैं देखना चाहता हूँ कि जिस फुद्दी को मैंने चोदा है, वो दिखती कैसी है. মা ছেলের xxxमगर 2017 में उनके ही एक बेटे को मैंने जन्म दिया।हमारा मिलना आज भी जारी है और हम दोनों एक दूसरे से काफी खुश हैं।उम्मीद है आपको मेरी जिंदगी का ये अहम हिस्सा पसंद आया होगा। हिन्दी फुल सेक्सी कहानी पर अपने विचार जरूर बताएं.

वैसे राज, मुझे तुमसे मिलने के बाद ही पता चला है कि असली मज़ा क्या होता है. इसलिए उसके पेटीकोट के ऊपर से ही चूत पर किस करने से मेरे होंठों पर चुतरस की नमकीन खरिश जम गयी. मैं पास पहुंचा, तो फिल्म में देख कर दोनों अपनी अपनी पेन्टी में हाथ डाल कर खुद को उत्तेजित कर रही थीं.

सरिता आँटी ने मेरी चाची रश्मि की चुदाई की कहानी एक दिन पूरा रस लेकर सुनी, मेरा वायदा है अगली बार आपको भी सुनाऊँगा. वो बोलीं- यार, रात में ये दोनों भी थीं तो हम तुम्हारे लंड का पूरा मजा नहीं ले पायीं.

मैंने तुरंत मेरे मुंह से चुद रही नेहा, जो अभी पूरी तरह चुदाई के लिए तैयार हो चुकी थी, को बेड पर पटका और उसकी दोनों टांगों को अपने कन्धों पर रखकर उसकी चूत में अपना लौड़ा उतार दिया.

अब आगे भाभी की बुर की कहानी:जब भाभी जी ने मुझे देखा तब मेरी हालत एक कुंवारे जवान लड़के जैसी ही थी. मैं- वही वीणा न … जो बजाई जाती है!वो खिलखिला पड़ी- बजाना आना जरूरी होता है सा. जब मैं घर पहुँची तो पाँच बज चुके थे।ये बात मैंने किसी को नहीं बतायी.

एचडी एक्स एक्स एक्स मूवी उनमें से किसी ने मुझे देख कर शॉकिंग रिएक्शन नहीं दिया, ये मुझे समझ नहीं आया. शायरा की आंखें, जो प्यार की गर्मी से जल रही थीं, उसे अपने होंठों से ठंडा करने के लिए मैं अब उसकी आंखों पर किस करने लगा.

आंटी एकदम से तड़प गई और जैसे ही मैंने अपनी जीभ से आंटी के क्लीटोरियस को छुआ, आंटी की तेज सिसकारी निकल गई. उसने नैपकिन उठाकर अपनी गांड साफ की फिर मेरा लंड भी साफ किया और बाथरूम में जाकर अपनी गांड धोकर मेरे पास आ लेटी!हमने एक-दूसरे को आगोश में भर लिया और ऐसे ही सो गये. फिर भैया बोले- तुम तो कभी मेरे घर आते ही नहीं हो, तो तुम्हें कैसे पता चलेगा कि मेरे घर में कौन कौन है.

सेक्सी वाला एचडी

मुझे थोड़ी सी जलन हुई, तो मैंने उससे कहा कि लंड के ऊपर थोड़ा सा थूक लगा दो. मैंने उसकी हथेलियां छोड़ कर दोनों मम्में दबोच लिए और उन्हें कुर्ते के ऊपर से ही मसलने लगा और उसके दोनों गाल चाटने लगा. वे बहुत ध्यान से मेरी चूत को देख रहे थे।फिर उस नर्स ने कुछ दवाइयाँ लिखी.

मैंने कहा- भाभी जी!भाभी- सिर्फ कविता कहो … तुम और मैं लगभग एक ही उम्र के हैं. गीतिका उत्तेजित तो सारा दिन से ही थी, लेकिन मेरी उंगलियों का स्पर्श अपनी चूत के ऊपर पाकर उसकी चूत गीली होने लगी.

कपिल ने डॉक्टर की सलाह मानते हुए मनीषा भाभी को गुड़गांव के ही एक हस्पताल में एडमिट करवा दिया.

क्या भाभी का सेक्स करने का दिल कर रहा है?मैंने पूछा- अब सर का दर्द कैसा है आपका?भाभी बोलीं कि अभी हो रहा है. उनका जवाब आ गया- बस हो गई आपकी पसंद खत्म!मैं- नहीं भाभी, मैं आपको हमेशा पसंद करता था … और करता रहूँगा पर आपको मंज़ूर नहीं है, तो मैं कर भी क्या सकता हूँ. मैंने फिर पूछा- जो जो मैं पूछ रही हूँ उसका जवाब दो, नहीं तो अभी मम्मी को बताती हूँ.

बात आगे कैसे बढ़ी? मैंने कैसे उसे प्रोपोज़ किया?दोस्तो, मेरा नाम निलेश है, मैं इंदौर से हूँ. उसके बाद अभिषेक मेरी फ्रेंड के सामने ही मेरे पास आकर बोला- क्या बात है आजकल बहुत सज-संवर कर आती हो, कोई मिल गया है क्या!मैंने हंस कर बोला- नहीं यार … मैं तो पहले से ही स्मार्ट हूँ. यह कहकर उसने मुझे एक जोर से किस किया, जोर से थैंक्यू बोला और कपड़े पहन कर नीचे चली गई.

[emailprotected]भाभी का सेक्स कहानी का अगला भाग:भाभी का सेक्स करने का मन था-2.

बीएफ सेक्सी हिंदी बढ़िया: मगर उसके धकेलने से पहले ही मैंने अपने चूतड़ों को उठाया और लपक कर मेरी फुद्दी ने उसके लंड का सुपारा अपने भीतर समा लिया. मम्मी ने मेरी कमीज़ निकाल दी तो मैंने ब्रा पर दोनों हाथ रख लिए और कहा- मम्मी, मैं ये नहीं उतारूँगी.

इस गर्म सेक्स कहानी के दूसरे भागदो लड़कियों के साथ ओरल सेक्स कियामें आपने पढ़ा था कि कैसे संजय और मैंने गीत और नेहा की चूत को चूस चूस कर उनको पागल कर दिया और वो दोनों बुरी तरह से झड़ गयीं. दोस्तो, इस बार जो किस हुई थी, वैसी किस तो कभी मुस्कान के साथ भी नहीं हुई थी. हमने मिलने का ज़्यादा प्रयास नहीं किया क्योंकि हमें पता था कि हम दोनों एक ही कॉलेज में जाने वाले हैं.

फिर मैंने उससे कहा- तू ऐसा कर … अपने बेड पर जा, मैं अपने बेड पर जाकर सो जाता हूँ.

भाभी ने प्यार से लोवर के ऊपर से ही लंड को सहला कर लंबा कर दिया और मेरे बदन से चिपक गईं. मगर मेरे मन में एक उम्मीद जरूर थी कि भाभी हमारी दुकान पर दोबारा वापस जरूर आयेगी. ये हिंदी चुदाई स्टोरी अभी एक साल पहले की है, जब मैं उन्नीस साल की थी और ग्यारवीं कक्षा में थी, तो मेरी सहेली और हम दोनों साथ में ही पढ़ते थे.