बीएफ वीडियो सेक्सी डांस

छवि स्रोत,पूनम पांडे xxx

तस्वीर का शीर्षक ,

बिहारी भाभी सेक्स वीडियो: बीएफ वीडियो सेक्सी डांस, भाभी मुझे चूमती हुई नीचे लंड तक पहुँच गई और बड़े प्यार से मेरे लंड को सहलाने लगी जिससे मेरा लंड अपने विशाल रूप में आने लगा.

मोटू छोटू

मेरा मजे से बुरा हाल था।शायद पहली बार मेरी चूत से इतना पानी निकल रहा था।अब मेरा दिल करने लगा था कि वो मुझे अच्छी तरह से रगड़ डालें, मुझे खूब जोर जोर से चोदें।मगर तभी उन्होंने अपना लण्ड मेरी चूत से बाहर निकाल लिया…‘अह्ह्ह्ह्हाआआआ…!!!’यह क्या??कहानी जारी रहेगी।. मुसलमान लड़कियों का नामतू मुझे इस लिए मार रहा है नाक्योंकि तेरी बीवी मुझसे डरती हैऔर तुझ से नहीं !***सन्ता ने किसी मॉल में एक सुंदर लड़की को देखा तो उसे देख कर पटाने के चक्कर में मुस्कुरा दिया.

आआआह आआआह…’ वो अपना सिर इधर उधर हिला रही थी मस्ती में चूर मतवाली हो गई थी।मैंने थोड़ा सा लण्ड पीछे लिया और फिर धमाक से पूरा लंड पेल दिया कि सुपारा जाकर शिखा रानी की बच्चेदानी से ठुका।उसके मुख से एक तेज़ सीत्कार निकली, उसके नाखून मेरी कलाइयों में गड़ गये, वो हाँफने लगी और हाँफते हाँफते बोली- राजे. कार्टून xxxसुन्दर रीटा की उछलती सिल्की गाण्ड को देख राजू उत्तेजित हो निगोड़ी छोकरी की बुण्ड को और जोर से मारने लगा.

!पर उसने मुझे चुम्बन करना चालू रखा।उसने अपना टॉप निकाल दिया और ब्रा भी, क्या चूचुक थे वो… हापुस आम भी शरमा जाएं।उसने मुझसे कहा- मेरे इन चूचुकों को जैसे चाहो चूसो।मैंने उसके बोबों को पूरी तरह निचोड़ दिया। वो अब पूरी तरह से जोश में थी और सिसकारियाँ ले रही थी। धीरे से मैंने अपने हाथ को उसकी गांड पर फिराना चालू किया।वो और जोर से मचल रही थी और कह रही थी- आज छोड़ना नहीं… प्लीज मुझे चोद डालो.बीएफ वीडियो सेक्सी डांस: और फ़िर मैं वहाँ से चल दिया, मेरे दिमाग में बस वो ही औरत आ रही थी,और फ़िर जैसे ही मैं कुछ आगे गया तो मुझे एक पंकचर की दुकान दिखाई दी.

’‘अरे मेरी बुलबुल ! तुम्हें मरने कौन साला देगा। एक बार गांड मरवा लो जन्नत का मज़ा आ जाएगा तुम्हें भी। सच कहता हूँ तुम्हारी कसी हुई कुंवारी गांड के लिए तो मैं मरने के बाद ही कब्र से उठ कर आ जाऊँगा.ज़िंदगी में पहली बार मैं किसी और का वीर्य अपनी जान के चूत में जाते देखने वाला था…मगर थैंक गॉड… उसने आखरी समय में अपना लण्ड सलोनी की चूत से बाहर निकाल लिया… भक की तेज आवाज आई…और उसने शायद हमको देख लिया था… वो उठकर हमारी ओर को आया…मैंने उसके लण्ड को देखा.

रात को चोदा - बीएफ वीडियो सेक्सी डांस

रिया तो मुझे डुबकी लगवाने के लिए पहले से ही बहुत आतुर थी इसलिए जब मैंने उसे बताया कि चार दिनों के लिए मेरे घर में कोई भी नहीं होगा तो वह ख़ुशी के मारे नाचने लगी.मोहित शर्मा जयपुरमेरा नाम मोहित है, मैं जयपुर का रहने वाला हूँ। मेरी लम्बाई 6 फुट है और कसरत करने की वजह से शरीर भी अच्छा बना हुआ है। मेरा लंड 6 इंच लम्बा और 2.

मोनिका ने रीटा की चूत में उंगली करते करते रीटा के कड़े निप्पल पर कपड़े सुखाने बाली चुटकियाँ लगा दी, तो रीटा की खुशी के मारे सुरीली किलकारियाँ निकल गई. बीएफ वीडियो सेक्सी डांस मैंने जल्दी से लंड को उसकी चूत से निकाला और अन्नू के मुँह को खोल कर उसके मुँह के पास लंड ले जा कर हाथ से 3-4 बार मुठ मारा ही था कि मेरे लंड महाराज ने चौथी बार लावा निकाल दिया.

थोड़ी देर मेरी चूचियाँ चूसने के बाद रोहित खड़ा हुआ और मेरी साड़ी और पेटीकोट उतारने लगा जिसमें मैंने भी उसकी मदद की.

बीएफ वीडियो सेक्सी डांस?

मुझे सब मालूम है।मैंने कहा- अगर आपको मालूम तो भाईसाहब को मत बताना, क्योंकि कहीं वो मेरा रूम खाली ना करवा दें।तो उन्होंने बोला- नहीं बताऊँगी, पर तुम मुझे यह बताओ कि कुछ किया भी है या नहीं. तो उसने बोला- मेरी सहेली है ना रोशनी, जो मेरे साथ बस में आती है, दो दिन बाद रोशनी के मम्मी-पापा उसके भाई को कोटा में कोचिंग के लिए छोड़ने जा रहे हैं, पर वो रात को जायेंगे और दूसरी रात तक आयेंगे. शाम हो गई मगर बारिश नहीं रुकी। ऑफिस से छुट्टी होने के बाद सबकी तरह मैं भी अपनी बाइक लेकर घर जाने लगा कि अर्चना मेरे पास आई.

पढ़ाई के समय तो वह पूरा ध्यान लगा कर पढ़ती और कोई इधर उधर की बात नहीं करती लेकिन उसके घर पहुँचते ही हम दोनों देर रात तक अश्लील बातें करने लगते. उन्होंने कहा- प्लीज ये कॉन्डोम निकाल देता हूँ बिल्कुल मजा नहीं आ रहा है।मैंने मना किया, पर कुछ देर के सम्भोग में लगने लगा कि वो पूरे मन से नहीं कर रहे हैं।फिर उन्होंने मुझसे कहा- कॉन्डोम निकाल देता हूँ जब स्खलन होने लगूंगा तो लिंग बाहर निकाल लूँगा।मैंने उनसे पूछा- क्या खुद पर इतना नियंत्रण कर सकते हो?तो उन्होंने मुझसे कहा- भरोसा करो. !मैंने उससे कुत्ते की तरह से चोदना शुरू किया, उनको बहुत मज़ा आ रहा था। वो हिल-हिल कर मज़ा ले रही थी और बोल रही थी ‘लण्ड को पूरा अन्दर पेल दो’ और बीच में ही वो झड़ भी गई, पर मेरा लण्ड अभी मस्त था। मैं भाभी को मस्त चोद रहा था। मेरा पानी नहीं निकल रहा था।वो कह रही थी ‘बस राज.

पापाजी मेरी तकलीफ को समझते हुए रुक गए थे और अपना दाहिना हाथ मेरी चूत के ऊपर उगे हुए बालों के उपर रखा और थोड़ा दबाया और मेरे ऊपर लेट गए. कभी कभी मोनिका अपना मुँह टेढा कर रीटा की रसीली फांक दांतों में दबा कर जोर जोर से चूस कर रीटा की ना नाऽऽ करवा देती थी. रोनू अईए बस ऐसे ही धीरे-धीरे डालना दर्द तो हो रहा है, पर मज़ा भी आ रहा है।रेहान 3″ लौड़े को आगे-पीछे करने लगा, जैसे ही जूही मस्ती में आती, वो थोड़ा और अन्दर कर देता। फिर उतने से चोदता फिर थोड़ी देर बाद जूही का दर्द कम होता गया। वो और आगे डाल देता, ऐसा करते-करते पूरा 9″ लौड़ा चूत में समा गया। अब रेहान आराम से आगे-पीछे हो रहा था।जूही- आ आ…हह.

मैं पूरे दिन सोता रहा।उम्मीद है कि आप सबको मेरी कहानी अच्छी लगी होगी, मैं आपकी प्रतिक्रियाओं का इंतजार करूँगा।मेरी फेसबुक आईडी है।https://www. मैंने थोड़ा सा सख्त होते हुए कहा- ठीक है मैं शर्त हार चुकी हूँ पर इसका मतलब यह नहीं है कि मैं सरेआम सबके सामने अपने कपड़े उतार दूँ, शर्म नाम की भी चीज होती है कुछ, मैं अपनी जींस नहीं उतारूँगी.

!यह हेमा की आवाज थी जो कृपा को लिंग योनि में घुसाने को कह रही थी।कुछ देर की हरकतों के बाद फिर से आवाज आई- नहीं घुस रहा है, कहाँ घुसाना है.

मैंने अपने लंड की तरफ ध्यान किया तो वो अभी भी अपने रंग में था, फिर मैंने सोचा कि पेशाब कर आता हूँ जिससे यह शांत हो जायेगा.

मुझे अब अच्छा लग रहा था। मैं बाथरूम से बाहर आया तो देखा श्याम बाहर आ गया था और राज अन्दर जा चुका था।राज भी 5 मिनट में बाहर आ गया ओर बोला- यार लड़की की बहुत कसी है. मैं कभी एक चूचि को अपने मुँह में लेता और दूसरी को अपने हाथ से दबाता, और कभी दूसरी को मुँह में लेता और पहली को हाथ से दबाता. ओह…” और चचाजी झड़ गये। जब वे हांफ़ते हांफ़ते मेरी पीठ पर लस्त पड़े थे तो मैं सिर घुमाकर उनके होंठ चूसने लगा। बड़ा मजा आ रहा था, अच्छा लग रहा था कि चचाजी को मैंने इतना सुख दिया।कहानी चलती रहेगी।.

और फिर एक दिन वो हुआ जिसकी मुझे सपने में भी उम्मीद तो नहीं थी, लेकिन इच्छा जबरदस्त थी…कहानी अगले भाग में![emailprotected]mail. बस ऐसे ही साथ देती रहो… आज मैं तुम्हें पूरी औरत बना दूँगा…मैं अपना लण्ड वैसे ही लगातार उसकी चूत पर रगड़ रहा था।वो फिर बोलने लगी- हाय… आआआअहाहह. मेरे राजा…’मैं सांड की तरह हुंकार रहा था। मैंने उसके नितम्बों को बुरी तरह मसल दिया था। उसके गुप्तांग के होंठ इस आक्रमण से लाल हो उठे थे.

उसको मैं भूल नहीं सकती। अब काम वाले आने वाले हैं तुम तैयार हो जाओ।मैंने जल्दी से नहाया और कपड़े पहन कर निकल आया और अपने रास्ते चला गया। उसके पति ने मेरे खाते में पैसे एडवांस में डाल दिए थे।लेकिन श्री ने मुझे दो हज़ार अलग से दिए और बोली- जैसा मन होगा तो फिर बताऊँगी।मैं अपने घर आ गया।आप सब को मेरी कहानी कैसी लगी अवश्य बताएं, मेरा ईमेल है।[emailprotected].

जब मुझे लगा कि मैं आगे के झटके सह लूंगी तब मैंने पापाजी से कहा- मैं आपकी देने वाली बाकी कि सजा अब काटने को तैयार हूँ. बस’ कहती रही।हेमा ने फिर कहा- अब ऐसे ही धकेलते रहोगे या चोदोगे भी?कृपा ने उसके स्तनों को दबाते हुआ कहा- हाँ. मैं मतलब की बात हो भूल ही गई … हाँ … वो किसी चिकने लौंडे का फ़ोन नंबर और आई डी भी जरुर देना … अब मुझ से देरी सहन नहीं हो रही है। मुझे इन नौसिखिए और चिकने लौंडों का रस निचोड़ना बहुत अच्छा लगता है।”ठीक है मेरी मैना बाय….

!मैंने तुरंत पूछा- आप कौन हैं?मेरी आईडी कहाँ से मिली, तो उत्तर में उन्होंने कहा- अन्तर्वासना पर आपकी कहानी पढ़ी थी/ वहाँ से पता लगा और हम लोग मैसेंजर पर आ गए और बात करने लगे।उनसे पूछा- आप लोग कौन हैं अपने बारे में बताएं. !’मार्क ने मुझे कस कर बाँहों में पकड़ लिया, मुझे नीचे लिटा कर खुद मेरे ऊपर चढ़ गया। मैं उसका लिंग अपने पेट पर महसूस कर रही थी। उसने अपने होंठ मेरे होंठों पर रखे और हमने शुरुआत ही एक-दूसरे की जीभ चूसने से की। मैंने अपनी बाँहें उसके गिर्द कस कर जकड़ लीं। उसने दोनों हाथों से मेरे मम्मों को पकड़ लिया और ज़ोर-ज़ोर से दबाने लगा।‘संजू, मैं तुम्हें बिल्कुल नंगी देखना चाहता हूँ, अपने कपड़े उतारो, प्लीज़. । कितने बजे आऊँ तुम्हारे पास?मैंने मस्ती के मूड में कहा- सुबह 4 बजे आ जाना!तो उसने कहा- ज्यादा मस्ती में मत आओ, मैं 4 बजे ही पहुँच जाउँगी।मैंने ऐसे ही कहा- यह हो ही नहीं सकता!वो कुछ नहीं बोली, मैंने समझा कि नाराज हो गई।लेकिन उसने कहा- छोड़ो यह बात!मैं मुस्कुरा दिया।फिर धीरे से बोली- अभी सीधे मेडिकल स्टोर जाकर कंडोम और आईपिल खरीद लेना।मैंने कहा- कितने कंडोम लूँ.

मैंने बोला- साली तू लौड़े रोज खाती है तेरा पेट नहीं भरता क्या??? हमारे साथ आज थोड़ा प्यार-मुहब्बत से बातें भी कर ले.

मुझे चोद कर हेमंत चला गया, अब मुझे काटो तो खून नहीं! रमेश नशे की हालत में मुझे गालियाँ देता रहा- मादरचोद! छिनाल! आदिवो नशे और नीँद में सो गया, पर मुझे रात भर नींद नहीं आई. !वाह यार इतना मज़ा आ रहा था दोस्तो, कि मैं इस अहसास को शब्दों के द्वारा बता नहीं सकता।खैर मैं उसके दूध चूसता रहा, फिर मैंने उसके दूध उसके कुर्ते से बाहर निकाले और उसकी चूचियों को दबा-दबा कर चूसने लगा।वो दर्द से चिल्लाने लगी तो मैंने डर के मारे छोड़ दिया तो बोली- अरे करो ना!तो मैंने कहा- तुम चिल्ला रही थी, मैंने सोचा दर्द हो रहा है!तो बोली- पागल… मुझे मज़ा आ रहा है.

बीएफ वीडियो सेक्सी डांस मुझे रोज चोदे बिना उनको सुकून कहाँ था और क्या पता आज वो भी मेरे मुँह से ही खुश हो जाएँ।पापा- अरे क्या बात है. वह जो कुछ कर रहे थे, केवल ऊपर-ऊपर से कर रहे थे !‘तू अभी बच्ची है और नासमझ है। मैं दो साल से उस हरामी की आँखों में तुझे चोदने की हवस देख रहा हूँ, तेरा हरामी अंकल कल नहीं तो आज तेरी चूत ज़रूर फाड़ देता.

बीएफ वीडियो सेक्सी डांस उसके बाद हम दोनों ने जम कर चुदाई की, वो अपनी गांड उठा उठा कर चुदवा रही थी और मैं भी उसे जोर-शोर से चोद रहा था. और इसे ही लंड और तेरे वाली को चूत कहते हैं।अंजलि ने कहा- अर्पित, तुम इसे मेरी चूत में डालोगे तो यह फट नहीं जाएगी?मैंने कहा- जान कुछ नहीं होगा.

’ मैंने हाथ मिलाया।निभा मादरचोदी उसे देखने ही फूल की तरह खिल गई थी।मैं और सुनील साथ में बैठ कर बातें करने लगे।सुनील की शादी हो चुकी थी।मैं काम की बात करना ठीक समझा।‘तुम्हारी बीवी की सील बंद थी??’ मैंने पूछा।‘नहीं, खुली थी।’ उसने कहा।‘अच्छा.

सेक्सी वीडियो सुपरस्टार

तो मैं बहुत खुश हुआ और इस तरह हमारी दोस्ती प्यार में बदल गई।फिर एक दिन उसने कहा- फिल्म देखने चलते हैं. मेरी रानी ! मेरी जान !”फिर मैं अपना लंड उसकी बुर में घुसाने लगा। वह भी अपना कमर को ऊपर नीचे कर के चुदवाने लगी। मैंने भी उसकी बुर की खूबचुदाई की।लगभग आधा घंटे में मेरे लंड से गर्म-गर्म रस से उसकी बुर भर गई। उस रात हम लोगों ने दो बार चोदा-चोदी का खेल खेला।सुबह उठ कर मैं अपने घर आ गया।कहानी जारी रहेगी।अन्तर्वासना की कहानियाँ आप मोबाइल से पढ़ना चाहें तो एम. सच, मैं कुछ नहीं कहूँगी… मुझे अच्छा ही लगेगा।नलिनी भाभी- कितनी बेशर्म होती जा रही है तू?सलोनी- अरे इसमें बेशर्मी की क्या बात है… अगर मेरे प्यारे पति को और मेरी प्यारी भाभी… दोनों को अच्छा लगे तो मैं तो खुद उनका डंडा आपकी इस मुनिया में डाल दूँ… हा हा…नलिनी भाभी- चल दूर हट मेरे से… मुझे ये सब पसंद नहीं… तू ही डलवा… अलग अलग डंडे… चल ये सब बातें छोड़.

शादी के बाद तो होगा ही। कम से कम मुझे पता तो चले कि मेरी होने वाली दुल्हन मुझे कितना सुख दे पाएगी।उसने नाराज़ होते हुए कहा- सभी लड़कियां शादी के पहले यह सब करती हैं क्या?वो आगे और कुछ बोलती. यह नजारा मेरे इतने पास चल रहा था कि उसका हर प्रयास और हरकत मुझे साफ़ साफ़ दिख रही थी…जैसे ही लण्ड चूत के मुख को छूता था सलोनी अपनी पूरी ताकत लगा फिर ऊपर हो जाती थी. वरना घर से फोन आने वाला है।हम जल्दी से बाथरूम में जा कर फ्रेश हुए और गीता को मैं बस-स्टैंड छोड़ कर, फोन पर बात करेंगे.

’ जैसे अल्फ़ाज़ निकल रहे थे।तभी उन्होंने दायें हाथ की एक उंगली मेरी चूत में डाल दी, मैं एकदम से उछल सी गई, तो उन्होंने मेरे बाल पकड़ लिए।ससुर जी- बहू.

’उन्होंने टीवी चला दी, कोई मूवी आ रही थी। तभी उसमें गाना आया, हीरो हेरोइन चुम्मी करते बिल्कुल कम कपड़े में थे।मुझे शर्म आ रही थी।‘सुरेश भाईसा चैनल बदलिए ना. तब वो रात को घर पर रुके थे और बातों ही बातों में उनसे सैटिंग हो गई, तब से जब भी मौका मिलता है इनको कॉल करके बुला लेती हूँ. !मुझे समझ नहीं आया आखिर हेमा ऐसा क्यों बोली।तभी फिर से आवाज आई- प्लीज बस एक बार और!हेमा ने कहा- इतनी जल्दी नहीं होगा तुमसे… काफी रात हो गई है.

सभी लड़कियों के नाम डिब्बे में डाल दिये! अब भाभी ने आदिल को एक पर्ची उस डिब्बे में से निकालने को कहा. अब मार ले मेरी गांड !”उसने गांड के नीचे तकिया लगाया। छेद सामने रख कर उसने थूक से गीला करके लौड़ा अन्दर पेल दिया।हाय मेरी तो फटने लगी थी… क्यूंकि उसका सच बहुत बड़ा था।हाय साली. बदमाश बिल्लो, गुन्डी गुलाबो, जालिम जुबेदा, चिकनी चमेली, लरजाती लाजो, रन्डी रानी, सुडौल सबीना, छुईमुई छमिया, शानदार शिल्पा, निगोड़ी निम्मो, अनाड़ी अनारो और शरारती शब्बो आदि कई लड़कियाँ अब भी बहादुर के लण्ड के गुनगान गाते नहीं थकती थी.

मुझे भी ऐसा ही पसंद है, पर मुझे सम्भोग से ज्यादा जिस्म के साथ खेलना पसंद है !‘जिस्म के साथ तब तक खेलो जब तक की तुम्हारा जिस्म खुद सेक्स के लिए न तड़पने लगे, फिर सेक्स का मजा ही कुछ और होता है !’बातों-बातों में हम नदी के किनारे पहुँच गए, पर हम ऐसी जगह की तलाश करने लगे, जहाँ कोई नहीं आता हो और हम नदी में नहा भी सकें।कहानी जारी रहेगी।मुझे आप अपने विचार यहाँ मेल करें।[emailprotected]. क्या बला की खूबसूरत लग रही थी मेरी दीदी !दीदी गुलाबी रंग की साड़ी में थी, पेट के काफ़ी नीचे बाँधी हुई थी साड़ी ! ओह ! हल्का भूरा…एकदम पतला सा पेट, मुलायम, उस पर दीदी का कसा हुआ ब्लाऊज, बहुत सेक्सी लग रहा था.

मैंने सोचा कि पूजा के कमरे में जाकर उससे मिलना चाहिए, अब वो अकेली भी है, फिर मुझे लगा कि कहीं उसे इस तरह बुरा ना लगे. तभी मैंने देखा कि दीदी 69 की अवस्था में हो कर लंड चूस रही हैं और नीचे से वो आदमी दीदी की चूत में अपनी जीभ पेल रहा है. बुरा मत मानना, तुम्हें देख कर लगता नहीं कि तुम इतने पहुँचे हुए खिलाड़ी हो।मैंने उसे घूर कर कहा- अच्छा?नहीं.

रोनू अईए बस ऐसे ही धीरे-धीरे डालना दर्द तो हो रहा है, पर मज़ा भी आ रहा है।रेहान 3″ लौड़े को आगे-पीछे करने लगा, जैसे ही जूही मस्ती में आती, वो थोड़ा और अन्दर कर देता। फिर उतने से चोदता फिर थोड़ी देर बाद जूही का दर्द कम होता गया। वो और आगे डाल देता, ऐसा करते-करते पूरा 9″ लौड़ा चूत में समा गया। अब रेहान आराम से आगे-पीछे हो रहा था।जूही- आ आ…हह.

!फिर मैंने मेरा ऑर्डर मंगा लिया और एक टेबल पर जाकर बैठ गया।मुझे अकेला देख कर वो मेरे पास आई और बोली- क्या मैं आपके साथ बैठ सकती हूँ?मैंने कहा- जी, ठीक है!उसके बाद बातों-बातों में उसने बताया कि उसका नाम अंजलि है।तो मैंने कहा- अंजलि. आपी ने कहा- क्या देख रहा है?फिर उन्होंने तौलिये से अपनी छाती को ढका और बोली- मैं फ़िसल गई हूँ और तू मुझे घूर रहा है? चल मुझे उठा!मैंने आपी को बोला- पहले अपने बदन को तो ढक लो!तब उन्होंने कहा- मुझे उठा तो पहले!मैंने आपी को बोला- अपने सीने पर हाथ रख लो ताकि तौलिया दुबारा न गिरे!मैंने उनकी कमर में हाथ डाल कर उन्हें उठाया तब मेरा लण्ड उनकी गांड में सैट गया. पूजा मेरे मुँह के उपर टांगें चौड़ी करके अपनी चूत दिखाने लगी- देखो समीर, तुमने मेरी चूत का क्या हाल बना दिया है, बेचारी कितनी रो रही है अब इसे पुचकार तो दो…इतना कहकर पूजा ने अपनी चूत मेरे मुँह पर रख दी और रगड़ने लगी.

बाथरूम में अन्दर घुस गया और बोला- आंटी मुझे भी नहाना है।आंटी डर गई और बोली- तुम्हें दरवाजा खटखटाना चाहिए था।मैंने कहा- मैंने ड्रिंक ज्यादा कर ली है मुझे अब कुछ भी नहीं सूझ रहा है. एक दिन बड़ी मुश्किल से मैंने उसके सामने अपने प्यार का इजहार किया कि मैं उससे बहुत प्यार करता हूँ पर उसने मना कर दिया और कहा कि यह नामुमकिन है.

ठीक हो जाएगा।और वो चली गई। मगर मुझे पता था वो आएगी और मुझे अपने दस साल का अनुभव जो कुछ मैंने देखा था. अन्तर्वासना के सभी पढ़ने वालों को मेरा तहे दिल से नमस्कार!मेरा नाम अरमान है और मैं जयपुर का रहने वाला हूँ, उम्र 23 साल है, रंग गोरा और लम्बाई 5’4″ है और मेरा लंड 7″ लम्बा 3″ मोटा एकदम लोहे की तरह कड़क!मैं अन्तर्वासना का बहुत बड़ा फैन हूँ इस में आई हर कहानी मैं नियमित रूप से पढ़ता हूँ. बावली रीटा पटाक की अवाज़ से चुम्बन तोड़ती और हाँफते हुई राजू के कान में फुसफुसाती बोली- भईया आपको छोटी-छोटी स्कूल गर्ल्स से ऐसी बाते करते शर्म नहीं आती?‘बेबी अब तुम जवान और समझदार हो गई हो!’ राजू रीटा के नंगे मम्मों पर चुम्बन ठोकता और स्कर्ट के नीचे हाथ आगे बढ़ाता बोला.

www.com हिंदी सेक्सी वीडियो एचडी

ज़ालिम राजू ने आखिरी कमरा हिला देने वाले आटोमिक धक्के रीटा सम्भाल ना पाई और दोनों चूदाई करते करते कारपेट पर ढेर हो गए.

हाँ चलो, सब्जी मंडी जाना है।”कहकर मैं रिक्शा में बैठ गई।रिक्शा चलने लगा तो उसने धीरे से गुनगुनाना शुरू किया, ध्यान से सुना तो पता चला वह कोई लोक गीत गुनगुना रहा था, उसकी आवाज़ मर्दाना होते हुए भी मीठी और सुरीली थी।मैंने कहा, बहुत अच्छा गा लेते हो, नाम क्या है तुम्हारा?”वह बोला, मेमसाब मेरा नाम विनायक है पर लोग विक्की कह कर बुलाते हैं. लेकिन दोपहर को खाना बनाने के समय बेटा तंग कर रहा था तो मुझे मजबूर हो कर उसे उनको देने के लिए जाना पड़ा, तब वह बिल्कुल सामान्य तरीके से पेश आए. कर लो मेरे साथ अपने मन की…इंस्पेक्टर मुँह खोले उसको देख रहा था…हवलदार- वाह साब, अब तो यह अपनी मर्जी से चुदवायेगी.

भाभी ने पास आकर कहा- तुम दोनों मज़े करो, मैं तो बस तुम्हें देख कर ही काम चला लूंगी और मुझे पहरा भी तो देना है कहीं कोई आ गया तो?इतना कहकर मेरे होठों पे चुम्बन दिया और बाहर की तरफ चली गईं. मेरे लिंग का अपनी योनि के ऊपर होने का एहसास इशानी को मदमस्त कर रहा था और उसकी आँखें उत्तेजना से बोझिल हुए जा रही थी…हम दोनों एक दूसरे को बेतहाश चूमे जा रहे थे… उसके स्तन मेरे सीने से दबे हुए कराह रहे थे. माँ रिंगटोन डाउनलोडतो इनाम के तौर पर यह तय हुआ कि सायरा खान और सोनिया कपूर में से जो हारेगा, उसे जीतने वाली की बात माननी पड़ेगी.

यह देखते ही उस आदमी ने अपने पर्स में से एक एटीएम कार्ड निकाल कर दीदी को दे दिया और बोला- लो, आज से यह एटीएम तुम्हारा ! जो सामान खरीदना हो, खरीद लेना. घर में सब कैसे हैं?उसके बाद मामी पानी का गिलास लेकर मेरे पास आईं और जैसे ही उन्होंने मेरे हाथ में पानी का गिलास पकड़ाया मैंने गिलास पकड़ने के बहाने से उनका हाथ भी पकड़ लिया।थोड़ी देर तो मामी ऐसे ही खड़ी रहीं, फिर उन्होंने मुस्कुरा कर अपना हाथ पीछे खींच लिया और थोड़ी देर बाद मेरे लिए चाय बना कर लाईं। मेरे चाय पीते-पीते उन्होंने सारे कपड़े भी धो लिए थे।फिर वो बोलीं- तू थोड़ी देर बैठ.

मुझसे अब ज़्यादा देर तक बर्दाश्त नहीं होगा।अजय की बात सुनकर मैंने लौड़ा मुँह से निकाला और अजय के बाल पकड़ कर उसको भी विजय के पास खड़ा कर दिया।रानी- साला हरामी 5 मिनट हुआ नहीं कि अपनी औकात पर आ गया. सभी दोस्तों को मेरा हार्दिक प्रणाम।मैं अपनी प्रथम सच्ची कहानी को आपके सामने प्रस्तुत करते हुए बड़ी प्रसन्नता का अनुभव कर रहा हूँ।साथियों मेरा नाम अंकित सिंह है, मेरी उम्र उन्नीस साल है। मैं बागपत (उ. जब तक मैं कुछ खा लेता हूँ। आप मेरा नम्बर रख लो, जब आपका काम हो जाए, तो कॉल कर देना, मैं आ जाऊँगा !नम्बर देते हुए मैं घर की ओर निकल गया।तभी मेरे सर का फोन आ गया, उनसे बातें करते हुए दस मिनट कब हो गए, मुझे पता ही नहीं चला।तभी गीता जी का फोन आ गया- प्रेम जी, आप आ जाइए.

’‘अरे नहीं भईया आप ने अभी तो देखी कि मेरी अभी बिल्कुल गीली है- हरामी रीटा हल्के से आँख दबा मुस्कुरा कर बोली. वो इस चुदाई से काफ़ी थक गई थी तो वो सीधा बिस्तर पर जाके लेट गई, और मैं अपने आप को साफ़ करने के लिये बाथरूम की तरफ़ बढ़ा. अरे चाची… जीभ मत लगाइये ना… मैं अभी झड़ जाऊँगा !और टटोल कर मैंने फ़िर चाची की चूचियाँ पकड़ लीं।‘अरे स्वाद चख रही थी। दबा ना और जोर से, बचपन में तुझे गोद में बिठा कर खिलाती थी तब तो जोर से पकड़ लेता था बदमाश, अब बड़ा हो गया तो और जोर से दबा। पसंद आईं कि नहीं?’‘चाची… बहुत मुलायम और बड़ी हैं.

कहिए।’‘मुझे नींद नहीं आ रही, क्या हम मैसेज पर बात कर सकते हैं, अगर आप ठीक समझो।’एक मिनट तो वो सोचती रही, फिर बोली- आपका सेल नंबर?मेरा दिल बाग-बाग हो गया। मैंने तुरंत अपना नंबर बोला और अपने रूम में चला गया।अभी बिस्तर पर लेटा ही था कि ‘हैलो’ का मैसेज आ गया।मैंने ‘हाय’ में जवाब दिया।रजनी ने बताया, ‘उसके पति टूर पर रहते हैं। उसने बी.

दस मिनट बाद आशा का पानी निकल गया, मैं उसे चोदता रहा और 10 मिनट बाद मैंने भी अपना माल उसकी चूत से लंड निकाल कर बाहर गिरा दिया, कुछ उसके पेट पर गिरा तो कुछ चूचियों पे और एक दो बूँद मुँह पर भी चला गया. मुझसे अब ज़्यादा देर तक बर्दाश्त नहीं होगा।अजय की बात सुनकर मैंने लौड़ा मुँह से निकाला और अजय के बाल पकड़ कर उसको भी विजय के पास खड़ा कर दिया।रानी- साला हरामी 5 मिनट हुआ नहीं कि अपनी औकात पर आ गया.

जीन्स में लंड काफ़ी तंग लग रहा था मानो मेरा लंड मुझसे कह रहा हो, यार समीर अंदर मेरा दम घुट रहा है प्लीज मुझे बाहर निकाल. मुझ पर रहम करो… बहुत दुख रहा है, प्लीज़ मत मारो!ससुर जी- बेटा थोड़ी देर और सहन कर ले, फिर तुझे अपने आप अच्छा लगेगा. मैं झट उठ कर बैठ गया और अंडरवियर पहन लिया, मोनिका ने तुरंत ही अपनी पतली सी चुनरी अपने वक्ष पर ओढ़ ली.

पहले अमन ने मेरी माँ का ज़ोर का चुम्मा लिया और उसके मम्मे दबाए। मेरी माँ की दर्द के माँरे आँखें फट गईं लेकिन मुँह बंद होने की वजह से कुछ बोल नहीं पाईं।फिर उसने मेरी माँ को साहिल के पास भेजा साहिल ने मेरी माँ की स्कर्ट में हाथ डाल कर पता नहीं क्या दबाया मेरी माँ की ज़ोर से चीख निकल पड़ी और आँख से आँसू आ गए।थोड़ी देर बाद मेरी माँ ने खुद हाथ जोड़कर कहा- प्लीज़ साहिल, हाथ निकाल लो बहुत दर्द हो रहा है. समझ गई? आज तो रात भर ‘ख्याल’ रखूँगा!शायद जब मैंने मम्मी से कुछ नहीं कहा तो उसकी हिम्मत बढ़ गई थी और वह निश्चिंत हो गया था कि मैं किसी को कुछ भी बताने वाली नहीं।‘रामू चाचा तुम बहुत बदमाश हो. !क्योंकि मैं जिम जाता था।उन्होंने मेरे सारे कपड़े उतार दिए, हम दोनों बिल्कुल नंगे थे और मेरा लंड एकदम तना हुआ था।मेरी भाभी बोली- इतना लम्बा और मोटा… और तुम्हारे भाई का बहुत छोटा और पतला है!हम दोनों बिस्तर पर लेट गए। वो मेरा लंड लॉलीपॉप की तरह चूस रही थी, तक़रीबन 15 मिनट तक चूसती रही।मैंने कहा- बस.

बीएफ वीडियो सेक्सी डांस उसके चेहरे पर नंगे खड़े होने वाली… शर्म जैसी तो कोई भावनाएँ नहीं थीं…बल्कि कुछ मासूमी और हंसी वाले भाव दिखाई दे रहे थे. उसके चेहरे पर नंगे खड़े होने वाली… शर्म जैसी तो कोई भावनाएँ नहीं थीं…बल्कि कुछ मासूमी और हंसी वाले भाव दिखाई दे रहे थे.

स्कूली लड़की का सेक्सी

!’ उसने पूछा।मैंने कहा- यहाँ सही नहीं होगा, घर खाली पड़ा है।उसके लण्ड को लुंगी और अंडरवियर से बाहर निकाला, हाथ में पकड़ा, वो फूंकारे मारने लगा। इतना भयंकर लण्ड था साले का. उसने कहा- मैं आज पीना चाहती हूँ।मैंने उसे कहा- मैं ले आता हूँ।मैं तो जैसे इसकी ही फ़िराक में था। मेरे पास पड़ी शराब की बोतल ले आया और मैंने उसका पैग बनाया।उसने कहा- आप नहीं लेंगे. पूजा मेरे मुँह के उपर टांगें चौड़ी करके अपनी चूत दिखाने लगी- देखो समीर, तुमने मेरी चूत का क्या हाल बना दिया है, बेचारी कितनी रो रही है अब इसे पुचकार तो दो…इतना कहकर पूजा ने अपनी चूत मेरे मुँह पर रख दी और रगड़ने लगी.

30 बजे मैं घर वापस आई और आते ही अपने रूम में चली गई।बाथरूम में जा कर अपने आप को शीशे में बिल्कुल नंगी देखा, पर आज मैं खुद को नई लग रही थी।क्योंकि आज मैं कुँवारी नहीं रही थी, मैंने शीशे पर खुद को किस किया और बोली- हैप्पी लव लाइफ, शेवी![emailprotected]. उ… आहः फिर मैंने एक हल्का धक्का दिया, मेरा पूरा लंड उसकी चूत में घुस गया। मैं उसके मम्मे पीता रहा, कभी उनको दबाता रहा।उसके मुँह से बस आ. कुंवारी लड़कियों की सीलमेरा फिगर 36-24-36 है और मेरी चूचियाँ मस्त गोल, सुडौल और सख्त हैं, गोरे रंग की चूचियों पर गहरे भूरे रंग की डोडियाँ बहुत सुंदर लगती हैं.

पहले तो वो कुछ छिपाते थे, पर जब उनको भी पता चल गया कि मैं जान चुकी हूँ तो मेरे सामने ही शराब चलने लगी.

मैंने मजबूती से पकड़ा और लण्ड थोड़ा बाहर निकाला, आगे-पीछे करता रहा, फिर गर्दन को बाजू में जकड़ कर और उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिए ताकि उसकी आवाज बाहर तक ना जा पाए. खफा होगी या नहीं?मैंने हंसते हुए कहा- हराम की ज़नी, सीधे सीधे नहीं कहेगी की राजे मेरी गांड मार ले… बहन चोद यह कहेगी कि लंड को गांड में महसूस करना है… रुक ज़रा अभी कराता हूँ तुझे सब महसूस… साली रंडी की गंडमरी औलाद…शिखा रानी खुश होकर बोली- राजे… तू कितनी मस्त मस्त गाली देता है साले… एक बात बता.

मैंने उसकी लाल रंग की पैन्टी भी उतार दी और 69 की अवस्था में आ गया। अब मैं उसकी चूत को चाटने लगा। दोनों ही चांदनी रात में नंगे होकर चुदाई का मजा ले रहे थे।कोमल बोली- अब रहने दो नहीं तो मैं झड़ जाऊँगी, अब जल्दी से अपना ये सात इंच का लण्ड अन्दर डालो, मुझसे बर्दाश्त नहीं हो रहा है।मैं भी जल्दी से उठा और उसकी दोनों टांगों को ऊपर किया और लण्ड को चूत पर रख कर जैसे ही अन्दर डाला वो चीख पड़ी- सुमित… रूको. रजनी- हेमंत की बीवी है, इसका रंग भी गोरा है, यह भरे भरे शरीर वाली कुछ नाटी सी औरत है, इसके स्तन बड़े बड़े हैं और भारी चूतड़ हैं. !मैं कुछ देर सोचती रही, पर उसके दोबारा कहने पर मैंने अपनी जुबान बाहर निकाल दी। उसने तुरन्त मेरी जुबान को चूसना शुरु कर दिया।कुछ देर के बाद मैं भी उसका साथ देने लगी। कभी वो मेरी जुबान चूसता और मेरी लार पी जाता, तो कभी मैं.

सुकून नहीं मिलता।अब तन को सुकून देना तो फ़ोन पर संभव नहीं था। हम और बेताब होते चले गए।कहानी जारी रहेगी।आपके विचारों का स्वागत है।.

कहानी : अनुष्का शर्मासम्पादक : अरविन्द कुमारमैं अरविन्द कुमार, आपने मेरी लम्बी कहानी ‘मेरा हंसता खेलता सुखी परिवार’ पाँच भागों में पढ़ी होगी. सब ठीक है, मेरी तबियत कुछ ठीक नहीं है, मैं आपसे बाद में बात करती हूँ!मुझसे बात नहीं हो पा रही थी, इसलिए ऐसा कह दिया।अताउल्ला- ठीक है. आ जाओ।उसे बाँहों में ले लिया और उसे लिए हुए खाने की मेज पर आ गया। खाने की मेज पर कुछ सामान रखा था।रानी ने सामान को अलग कर दिया और वहीं गोल टेबल पर बैठ गई।रणजीत ने भी उससे चिपक कर उसके बालों को सहलाते हुए कहा- बोलो डार्लिंग, क्या बात है बहुत गर्म दिख रही हो.

हनीमून video!फिर क्या था मैं और माया मेरे रूम में आ कर मेरे बेड पर बैठ गए।मैंने उसका हाथ पकड़ कर बोला- मैं तुमसे बहुत प्यार करता हूँ।तो उसने भी वही कहा, मैंने कहा- मैं तुमको चुम्बन कर लूँ. हालांकि मैं शर्म से मरी जा रही थी पर फिर भी मेरी चूत गीली होने को बेताब होने लगी थी, मैंने सोनिया से कहा- मुझे बाथरूम जाना है!सोनिया बोली- क्यों नहीं! हम सब तुझे पेशाब करते हुए देखेंगे.

कैटरीना कैफ के सेक्सी वॉलपेपर

हेमंत बाज़ार चला गया फिर लौट कर आया तो उसने मुझे पी-नॉट की गोली दी और बोला- रात को प्रीकॉशन नहीं लिया न! मैं शर्म से लाल हो गई पर सोचा कि इसे मेरा इतना तो ख्याल है. करीब 20 मिनट हो गए और मेरा लंड पानी छोड़ने का नाम नहीं ले रहा था, मैं बिल्कुल थक चुका था और पसीने से भी तरबतर हो चुका था।मैंने जल्दी जल्दी झटके लगाने चाहे पर खड़े खड़े थक गया था, मैंने कहा- यार, अब नहीं होगा मुझसे ! मैं थक चुका हूँ, मैं लेट जाता हूँ, आप दोनों आकर बारी-बारी से मेरे लंड पर बैठ कर झटके लगाओ, मेरी और हिम्मत नहीं रही अब. !सब ज़ोर-ज़ोर से हँसने लगते हैं। सब के जाने के बाद रेहान एलईडी में कुछ देखता है और बेड पर लेट जाता है। पन्द्रह मिनट में जूही फ्रेश होकर नंगी ही बाहर आ जाती है।रेहान- अबे साली कपड़े तो पहन कर आती, ऐसे ही आ गई.

! सारी रात पिए मैंने उसके दूध और वो मुझे पिलाती रही !वो दिन दोस्तो, मेरा ऐसा था कि मैं उसे कभी भूल नहीं पाया। उसकी अगली रात को तो उससे भी खतरनाक हुआ मैं सोच भी नहीं सकता कि ऐसा भी हो सकता है, पर दोस्तो, वो सब भी हुआ जो आप सोच रहे हो!इस कहानी के बाद यदि आपका प्यार मुझे मिला तो जरूर मैं अगली रात के बारे में लिखूँगा। तब तक के लिए मुझे आज्ञा दीजिए।आपका दोस्त आदित्य शुक्ला[emailprotected]. मुझे और मेरे पति को सेक्स बहुत पसंद है और शादी के बाद कोई दिन भी ऐसा नहीं था जब हम एक बार या उससे ज्यादा बार चुदाई ना करते हों. मैं आपको मेरी अगली कहानी में बताऊँगा। तब तक के लिए मेरा नमस्कार।तो मित्रो, मेरी यह कहानी आपको कैसी लगी मुझे जरुर बताना।मुझे आपके मेल का इंतजार रहेगा।[emailprotected].

मेरी बात सुन कर मोनिका ने हँसते हुए कहा- जा रे हिजड़े, तेरे जैसे दस लंड को मैं अपनी चूत में एक साथ डाल लूं तो भी मेरी चूत को कुछ नहीं होने वाला. पहले तो वो दोनों सिगरेट में भी ना ना करती रही लेकिन जब मैं सिगरेट पी रहा था और एक कश लेने के लिए अन्नू को दिया तो वो छोटी छोटी कश लेकर समूची सिगरेट ही पी गई. ।तो मैंने अपने लण्ड को दबा कर ठीक करते हुए ‘सॉरी’ बोला तो उन्होंने बोला- इस उम्र में सबके साथ ऐसा ही होता है.

बड़ी अदा से रीटा ने बहुत लाहपरवाही से अपनी सुडौल टांग को सुकौड़ कर मासूमीयत से पैर के नाखूनों पर नेलपालिश लगाने लगी. चूत को अच्छी तरह से देखने के लिये राजू ने रीटा के घुटने को पकड़ कर जबरदस्ती रीटा की कन्धों से लगा कर कुकड़ी सा बना दिया तो रीटा ने झट से अपने छोटे छोटे फूल से हाथों की कटोरियाँ बना कर अपनी टाँगों के बीच चिपका कर नाचीज़ चूत के चीरे और बुण्ड के गुलाबी सुराख को छुपाती बोली- आहऽ! नोऽऽऽ! भईया, बहुत शर्म आ रही है.

साला लोफर!’शीतल- अरे क्यों गुस्सा करती हो। थोड़ा सा अगर छेड़ ही दिया तो इस तरह क्यों बिगड़ रही है। वो तेरा होने वाला नंदोई है। रिश्ता ही कुछ ऐसा है कि थोड़ी बहुत छेड़छाड़ तो चलती ही रहती है।‘थोड़ी छेड़छाड़ माय फुट! देखेगी क्या किया उस तेरे आवारा आशिक़ ने?’ मैंने कह कर अपनी कमीज़ ऊपर करके उसे अपनी छातियाँ दिखाई। यह कहानी आप अन्तर्वासना.

!और उसकी आँखों से आँसू निकल रहे थे।तभी मैंने एक और धक्का लगाया तो लंड आधा अन्दर घुस गया और उस के मुँह से ज़ोरदार चीख निकली- उउइईईई ममाआआआ मर गई आआआआआहह. सेक्सी कहानियां अंतर्वासनारुक राण्ड मैं आता हूँ…!सचिन ने अपने लौड़े पर थूक लगाया और आरोही की गाण्ड में पीछे से धक्का मार दिया। बेचारी दर्द से तिलमिला गई। कहाँ राहुल के 6″ लौड़े से गाण्ड मरवाई थी, अब ये लौड़ा तो दर्द ही करेगा न. चुनरी के फोटोमेरे राजा…’मैं सांड की तरह हुंकार रहा था। मैंने उसके नितम्बों को बुरी तरह मसल दिया था। उसके गुप्तांग के होंठ इस आक्रमण से लाल हो उठे थे. मैंने उसके होंठों के साथ साथ उसके माथे, आँखों, नाक, गालों, ठोड़ी और गर्दन को भी चूमा जिससे वह बहुत गर्म हो गई.

बिजली गिराती मस्ताई हुई रीटा टेढ़ी दिलकश मुस्कान के साथ चहकती हुई सुरीली आवाज में बोली- हैल्लौ भईया! हाऊ आर यू?रीटा ने राजू का हाथ पकड़ कर अंदर खींच लिया.

!!”मैं दर्द से मरी जा रही थी लेकिन बाबूलाल ने इसकी कोई परवाह नहीं की और लंड पूरा चूत में पेल दिया। खून तुरंत बंद हुआ और मुझे चुदाई का मजा आने लगा।बाबूलाल चूत के अंदर लंड को धीमे धीमे पेल रहा था, यह बाबू था होशियार, उसे पता था कि कब क्या स्पीड से लंड पेलना है। पहले वह धीमे से मेरी चुदाई कर रहा था लेकिन जैसे उसने देखा कि मैं चुदाई से एडजस्ट हो चुकी हूँ, उसने झटके और तीव्र कर दिए. प्लीज बहुत दर्द हो रहा है।मैं कुछ देर हल्के-हल्के झटके देता रहा उसकी चूत से खून निकलने लगा, मगर उसने नहीं देखा।फिर जब वो पूरे जोश में आ गई तो मैंने एक तगड़ा झटका और दिया और पूरा 6′ का मेरा लंड उसकी चूत में घुस गया और वो फिर से चिल्लाई।मगर मैंने उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिए और उसे चिल्लाने नहीं दिया।कुछ देर तक उसको चूमने और चूसने के बाद वो और गरम हो गई। उसके मुँह से आवाज़ निकली- और घुसाओ. आप जब भी कहोगे, जहाँ भी कहोगे, मैं चुदने के लिए हमेशा तैयार रहूँगी…मैं उसे लगातार चोद रहा था और वो मज़े ले रही थी। काफी देर तक इस तरह मैंने उसे चोदा.

!फिर मैंने ब्रा के ऊपर से ही उसके दूध दबाने लगा। वो सिसकारियाँ भरने लगी और ‘आआआहह आआहह’ करने लगी।धीरे-धीरे मैंने उस के पेट पर हाथ फिराते हुए उसकी जाँघों पर ले गया और सहलाने लगा। उसने मेरा हाथ अपनी जाँघों में दबा लिया और अकड़ गई।अब मैंने उसकी ब्रा भी खोल दी और दूध को पीने लगा और एक हाथ से उसका दूसरा निप्पल दबाने लगा।वो तड़प उठी और बोली- उह्ह भैया रहने दो ना. मेरे अन्दर नहीं जाएगा।तब मैंने अपना अंडरवियर उतारा और अपना खड़ा हुआ लंड उसके सामने कर दिया और कहा- जान किस करो न. ये लो।यह बोलते ही मुझे उसकी चूत के दर्शन करा दिए।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !वाह… क्या चूत थी.

सेक्सी पिक्चर बताओ हिंदी

!और फिर बाथरुम में चली गईं।मैंने जा कर कम्पयूटर ऑन किया और नेट चालू कर दिया और अन्तर्वासना खोल कर पढ़ने लग गया, तभी सोचा क्यों न मैं भी कहानी लिखूँ. और बताओ, क्या कर रहे थे?रनबीर-तुझे याद कर रहा था मेरी रानी…और बताओ, फ्रेश होने का मूड है?मैं- बिल्कुल जान…पढ़ पढ़ के बोर हो गई हूँ…फ्रेश कर दो न मुझे !रनबीर- तो आ जा… बोल क्या पहना है?मैं- पजामा और टी-शर्ट…रनबीर- और अन्दर?मैं- कुछ भी नहीं यार…रनबीर- उफ्फ्फ्फ़ क्या बात है…. उसमे उंगली डाल कर उसे फैलाया फिर अपना लंड को उसकी चूत के छेद पर रखा और और धीरे धीरे लंड को उसके चूत में घुसाना चालू कर दिया.

इतना लम्बा लण्ड मैं पहली बार देख रही हूँ!उसकी बात सुन कर मैं पागल सा हो गया।उसकी चूचियाँ मेरे चूसने से बिलकुल सुर्ख लाल हो गई थीं। अब मैं उसकी पैन्टी पर मुँह रख कर चूम रहा था, फिर मैंने उसकी पैन्टी भी उतार दी।वाह.

!तो मैं रुक गया और आहिस्ता-आहिस्ता चुदाई करने लगा और उसकी पेशानी को बोसा देते हुए कहा- अब तो दर्द नहीं हो रहा!वो चीखते हुआ बोली- हाय मैं मर जाऊँ.

अंदर का नज़ारा देख के मेरे तो होश उड़ गए, पापाजी जी अपने नौ इंच लंबे और ढाई इंच मोटे लण्ड महाराज की बड़ी तस्सली से मालिश कर (मुठ मार) रहे थे. आह… आह… आह… की सिसकारियाँ निकाल रही थी और मुझसे बार बार लंड को उसकी चूत के अन्दर डालने के लिये आग्रह कर रही थी. 15 साल की लड़कियों के फोटोतो अम्बिका बोली- हिम्मत हमारी भी नहीं है।मैंने कहा- तो फिर मेरे लंड को चूस कर उसका पानी छुड़ा दो ! फिर थोड़ी देर सो जाते हैं.

” प्रिया ने मुझे खुद से अलग किया और मेरा हाथ पकड़ कर बाहर ले आई।प्रिया मेरे आगे आगे सीढ़ियों पे चढ़ने लगी और मैं उसके पीछे पीछे। मैंने एक और शरारत करी और उसके पिछवाड़े के एक चिमटी काट ली।धत्त, शैतान कहीं के…. !’मैंने आईना नीचे रख दिया, अब होंठ उसके भी काँप रहे थे और मेरे भी। हिम्मत करके होंठों को होंठों से मिलाया और हाथ को हल्के से उसकी कमर में डाला। शायद वो भी मेरे होंठ का इंतज़ार कर रही थी। हम दोनों की जीभ कब आपस में अठखेलियाँ करने लगीं कुछ पता ही नहीं चला।कहानी जारी रहेगी।आपके विचारों का स्वागत है।[emailprotected]. मगर मैं था कि शताब्दी-एक्सप्रेस की गति से उसकी टाँगें सहलाते हुए मैंने उंगली उसकी चूत में डाल ही दी।मैं एकदम मंजे हुए चोदू की तरह.

ऐसा लगता था मानो उत्तेजना में मेरा लिंग फट न जाएगा… अब हम दोनों ही बिस्तर पर लेट चुके थे और एक दूसरे की कामोत्तेजना बढ़ाने के लिए जो भी कर सकते थे कर रहे थे. मगर ऋज़ू जैसे माल ने उसमें भी संदेह पैदा कर दिया था कि क्या करूँ?मेरा लण्ड अब ऋज़ू की चूत में घुसने के लिए व्याकुल था…- मेरी जान यहाँ कहाँ चोदूँ तुम्हें? मेरा लण्ड तो तुम्हारी इस चुनिया के लिए पागल है.

!मैं यह सुन कर सुन्न रह गई, पर क्या करती उनकी डंडी से डर के मारे एक ही बार में ड्राइंग रूम में घुटनों के बल और अपने दोनों हाथ फर्श पर रख कर कुतिया स्टाइल में बैठ गई।ससुर जी- बहू, तू आज मेरी कुतिया है और मैं तेरा कुत्ता, आज मैं तुझे इसी हालत में चोदूँगा!मैंने कहा- प्लीज़ बाबूजी… आज मत करिए प्लीज़… बहुत दर्द है वहाँ पर.

आगे तो देखो… कितना मजा आने वाला है।अब मुझे उसकी आँखों में वासनामय उत्तेजना दिखने लगी थी।मैं- चलो अब तुम्हारी बारी।मेघा- बारी. भाभी अपनी चूत को पहले ही मसल चुकी थीं, इसलिए ज्यादा देर तक नहीं टिक सकीं और मेरे सिर को पकड़ कर अपनी चूत पर दबाने लगीं. गिरि!आ…ह!”मैं भी जोर से धक्के मारने लगा। फिर दोनों ही एक तेज आवाज करते हुए झड़ गए। मैंने उसकी चूत में ही अपना माल निकाल दिया। वो बोली- कितना मजा आ रहा है, गर्म-गर्म जब अन्दर गिरता है, तो कितना मजा आता है गिरि… लव यू!मैं उसके ऊपर ही लेटा रहा, फिर हम उठे एक-दूसरे को चूमा, कपड़े पहने और उसने एक लम्बा चुम्बन मुझे किया। फिर मैं उसे छोड़ने बाहर आया, तो स्टॉप पर उसने कहा- अब तुम जाओ.

गन्दा सेक्सी वीडियो दोस्तो, यह कहानी मेरी साली के साथ अधूरी चुदाई की है, मैंने उसकी चूत में लंड लगा तो दिया पर घुसा नहीं पाया. खा… मस्त खेल… काट…और आवाज़ निकालने आगी… आहह… उऊहह… अओउूच…वो आवाजें तो मुझे और बेकरार करने लगी… मैं उन्हे खाने लगा… लगभग बीस मिनट के बाद मामी तृप्त हुई और बोली- ये आज से तुम्हारे ही हैं… इन्हें बाद में भी खा सकते हो… पहले मुझे फक करो…फिर मेरी नजर मामी की जांघों पर गई… और मैं उन्हें पागलों की तरह चाटने चूमने काटने लगा, मामी अब दूसरी बार झड़ने को आई थी… वो बोली- अरे संजू मुझे फक कर.

इसीलिए मुझे ऑटो से आना-जाना पड़ता था, लेकिन अब यह सही हो गई है तो अब बाइक पर ही आऊँगा।तो उन्होंने कहा- चलो मतलब. मैंने सभी भाभीयों को नमस्ते की, मुझे देख कर मेरी सारी भाभियाँ बहुत खुश हुईं और एक ने मुझे हाथ पकड़ कर अपनी बगल में बिठा लिया और हम सभी आपस में हंसी-मजाक करने लगे. सारी की सारी गीली हो गई हूँ।मैं ‘हाँ’ में सर हिलाया और उनकी गीली देह को कामुकता से निहारता रहा।वो नहाने चली गईं थोड़ी देर बाद मुझे आवाज आई- सूरजी तौलिया लाइयो… मैं कमरे में ही भूल गई हूँ.

हिंदी में चुड़ै सेक्सी वीडियो

आ जाओ।उसे बाँहों में ले लिया और उसे लिए हुए खाने की मेज पर आ गया। खाने की मेज पर कुछ सामान रखा था।रानी ने सामान को अलग कर दिया और वहीं गोल टेबल पर बैठ गई।रणजीत ने भी उससे चिपक कर उसके बालों को सहलाते हुए कहा- बोलो डार्लिंग, क्या बात है बहुत गर्म दिख रही हो. !यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !मैंने लंड उसकी चूत पर रखा और हल्का सा धक्का लगाया, तो लंड अन्दर नहीं गया, क्योंकि उसकी चूत बहुत कसी थी।वो दर्द से कराह कर आगे को हो गई लेकिन मैंने उसे फिर से कस कर के पकड़ा और थोड़ा ज़ोर से धक्का लगाया तो लंड का टोपा अन्दर गया।वो दर्द से चिल्ला उठी- प्लीज़ निकाल लो… वरना मैं मर जाऊँगी. जाओ, मुझे भी काम है, यह घर पर ही रहेगा!मैं चली गई, उसकी नज़र अब तक मेरी कमीनी सोच में बसी थी। मेरा मन स्कूल में लग नहीं रहा था। उसका चेहरा, उसका बलशाली शरीर.

दिन भर कितनी अच्छी मूवी आती हैं।’हम दोनों हँसने लगे।‘भाभी जी आपसे एक बात पूछूँ?’‘क्या?’‘गोपाल मेरा दोस्त, आपका पति आपको प्यार नहीं करता क्या?’‘क्यों नहीं. मैं छोटे और लंबे-लंबे धक्कों का मजा लेने लगा।जब लंड चूत से बाहर आता तो उस तंग चूत की अंदरूनी गुलाबी दीवार भी लंड के साथ चिपक कर रगड़ खाती हुई बाहर खिंच जाती और जब लंड अन्दर घुसता चला जाता तब.

इसकी तो सील भी नहीं टूटी है!मैं जाग गया, मुझे देखते ही आंटी बिना बोले भाग गईं।मैं भी वहाँ से भाग गया और घर आ गया।रात को 9.

रीटा अपना सिर पकड़ कर कारपेट पर ढेर होती बोली- हायऽऽऽ भईया! अब मैं क्या करूँ?रीटा अपने चुच्चे मसलती और चूत को रगड़ती और कसमसाने लगी. ऑन्टी जी मैं ठीक हूँ।वो बोली- फिर तुम्हारा ध्यान किधर था?शायद वो सब जानते हुए भी मुझसे सुनना चाह रही थी तो मैंने उनके उरोजों की तरफ देखते हुए कहा- ऑन्टी जी आज तो आप बहुत ही हॉट लग रही हो. अब आप सोच रहे होंगे कि मैंने ऐसा क्या देख़ा…आंटी के साथ एक लड़की थी जो कि चाय की ट्रे लिये हुए हमारी तरफ़ आ रही थी.

इस हालत में तो यह चिकनी चिड़िया की गाण्ड तो दे ही देगी, ये सोच राजू ने रीट की गाण्ड को ऊपर उठा कर चूतड़ों को दाँतों से कौंचने लगा. आखिर छबीली रीटा की रसीली चूत ने छोटे छोटे पाँच छः झझाकों के साथ मूतना बंद कर, टप टप हीरे सी जगमगाती बूंदे टपकाने लगी. बाय !फिर उस रात को मैंने प्रीति की गाण्ड भी मारी। हमने पूरी रात ख़ुशी मनाई।आपको मेरी कहानी कैसी लगी। प्लीज मेल जरुर कीजिएगा।[emailprotected].

मैं बाहर निकाल लूँगा!तो वो मान गईं। फिर मैंने डाला, पर नहीं गया।वो बोलीं- अरे ऐसे नहीं जाएगा, ज़रा ये तकिया नीचे लगाओ!तो मैंने पूछा- क्यों?वो बोलीं- मोटी औरत की चूत नीचे होती है और पतली की थोड़ी ऊपर, इसलिए! मैं मोटी हूँ न.

बीएफ वीडियो सेक्सी डांस: अब मैंने उसको बैड के किनारे पर घोड़ी बनाया और अपने लंड को पकड़ कर एक बार चूत से लेकर उसकी गांड तक फ़िराया और उसकी गांड के छेद पर रखकर और थोड़ा सा दबाव बनाया. अब समझा, भैया आपको रात में क्यों बुलाते हैं।’‘चुप नालायक, ऐसा तो सभी शादीशुदा लोग करते हैं।’‘जिनकी शादी नहीं हुई वो नहीं कर सकते?’‘क्यों नहीं कर सकते? वो भी कर सकते हैं, लेकिन…!’मैं तपाक से बीच में ही बोल पड़ा- वाह भाभी, तब तो मैं भी आप पर चढ़…’भाभी ने एकदम मेरे मुँह पर हाथ रख दिया और बोलीं- चुप.

उसने कहा- तो अब आप को समय मिल गया?फ़िर हम करीब एक घण्टा ऐसे ही बात करते रहे, फ़िर अचानक ही उसने कहा- आप कल क्या कर रहे हो?मैंने कहा- जी कुछ खास नहीं!उसने कहा- तो क्या कल हम मिल सकते हैं?मैंने कहा- जी बिल्कुल मिल सकते हैं. लंड पूरी रफ्तार से चुदाई कर रहा था और उसके लिए रुकना संभव नहीं था।‘मुझे इस चुदाई का पूरा प्रसाद चाहिए. मैंने नशे में बंद होती आँखों से देखा तो उनकी उंगलियाँ सलोनी की शर्ट के नीचे उसकी चूत के ऊपर थी।अंकल- बेटा ध्यान रखना अपनी इतनी चिकनी सड़क का.

अब कोई परेशानी नहीं होगी।उनकी इस हँसी में मुझे उनकी मूक सहमति दिखी, मैंने झट से भाभी को बाँहों में भर लिया और उनको कस कर दबा लिया।‘भाभी आह्हह.

मोनिका ने एक हाथ की अुंगली और अंगूठे से मोरी बना और दूसरे हाथ की उंगली मोरी के अंदर-बाहर करती हुई बोली- ऐ भौंसड़ी की! शरमा नही़ं मौके का फायदा उठा. उसने धीरे से कहा- जीजू अब बताइए न किसकी चूची बड़ी हैं और किसकी छोटी?मैं भी कम बदमाश ना था, मैंने कहा- अंदाज़ ही नहीं मिल रहा है, दोनों बहनों की चुचियों को एक साथ छूना होगा. फिर मेरे होंठों को अपने होंठों पर लगा कर चूमने लगी।मैंने भाभी को पकड़ कर दूर किया और उनसे कहा- ये आप क्या कर रही हो? आप शादीशुदा हो.