बीएफ पिक्चर गांव की

छवि स्रोत,हिंदी बीएफ ब्लू ब्लू

तस्वीर का शीर्षक ,

अंग्रेजी सेक्सी वीडियो: बीएफ पिक्चर गांव की, मैं भी उन्हें रोज देखने के लिए उनके कॉलेज टाइम पर रोड पर चला जाता था.

देवर की बीएफ

धीरे धीरे मेरी हिम्मत बढ़ी और मैंने चाची के मम्मों को सहलाना शुरू कर दिया. लड़की की चुदाई सेक्सी बीएफआंटी कराहने लगीं- आह्हह!जैसे ही मैं आंटी के बोबे को मुँह में लेता था, तो उनकी एक मस्त सीत्कार निकल जाती थी.

फिर एक दिन क्लास में कुसुम को छेड़ते हुए मेरा हाथ उसके मम्मों में जोर से लगा गया. ब्लू फिल्म हिंदी में सेक्सी बीएफयदि वह मुझे समय पर नहीं छोड़ते तो मुझे बहुत देर हो जाती क्योंकि उस दिन कॉलेज में मीटिंग थी इसलिए सब छात्र कॉलेज में आए हुए थे और उनके माता पिता भी कॉलेज में आए हुए थे।मेरा हमेशा की तरह वही रूटीन चल रहा था और एक दिन मैं बैंक में चली गई। उस दिन मुझे बैंक में अकाउंट खुलवाना था क्योंकि मेरा जो पुराना अकाउंट था वह मुझे बंद करवाना पड़ा था.

मैंने धक्के जारी रखे और अगले कुछ धक्कों में मुझे महसूस हुआ कि जैसे मेरा लंड पूरी तरह से निचोड़ लिया गया हो.बीएफ पिक्चर गांव की: तभी उन्होंने गद्दे के नीचे से एक कंडोम निकाला और मेरे लंड पर पहना दिया.

फिर मैं उसके बूब्स चूसने लगा।भाभी बोलने लगी- आहह आहह और तेज़ तेज़ चूसो राज आहह आहह!मैं जोश में आकर और तेज़ तेज़ चूसने लगा.मैंने भी अपने हाथ उसकी कमर में डालकर उसे जोर से स्मूच करना चालू कर दिया।हम दोनों पल भर में ही उत्तेजना से भर गये.

बीएफ टोल फ्री नंबर - बीएफ पिक्चर गांव की

फिर से अंकल ने एक धक्का मारा और पूरा लंड मॉम की गांड में घुसा दिया.आप लोगों को यह फ्री फैमिली सेक्स कहानी कैसी लगी इस बारे में अपनी राय जरूर दें.

मेरे घर का दरवाजा खुला हुआ था और मेरी छोटी बहन अपने कमरे में सो रही थी. बीएफ पिक्चर गांव की मुझे रिंकी से लगाव ज्यादा था, तो मैं उसे गोद में उठा कर बाथरूम में ले गया और उसे चोदने लगा.

सर- अब कब मिलोगी अगली बार चुदने के लिए?प्रिया- बहुत जल्द मिलूंगी सर … अब आपके बिना तो मुझे भी चैन नहीं आएगा.

बीएफ पिक्चर गांव की?

थोड़ी देर बाद भाभी ने लंड को मुँह से बाहर निकाला और उसपर रेड वाइन डाल दी. आखिर में मैंने लंड का पानी उनके चुचों पर डाला और थोड़ी देर हम एक दूसरे को चूमने लगे. यूँ तो मैंने इसके पहले भी नंगी औरतें देखी थीं, मगर जो बात कुसुम में थी, वो मुझे आज तक किसी और में नहीं मिली.

मैंने मुस्कुरा कर उससे अपने प्यार का इजहार किया और उसको अपनी गोद में उठाकर बाथरूम ले गया. आंटी की चुदाई और भाभी की चुदाई भी करके देखी लेकिन पहला सेक्स पहला ही होता है. डांस करने से उनकी कमर और मम्मे बड़ी ही अदा से हिलते हैं, जो आग लगा देने में काफी हैं.

वो अम्मी से इतना घुल मिल गयी कि अपनी सारी बातें अम्मी को बताने लगी. उसकी आह निकली और वो बोली- क्यों मजे ले रहे हो … जरा रुक जाओ न जानू. उस दिन मैंने 3 बार चुत की हरियाणवी चुदाई की और अगले एक हफ्ते तक, उसके पति के आने तक उसकी चुत को खूब पेला.

मैं उसके बगल से निकल रही थी तभी उसने कमेंट किया- क्या रसदार माल है, कसम से एक बार मिल जाये तो मजा आ जाये. उसके मुंह से अब तेज तेज आवाजें आ रही थीं उम्म्ह… अहह… हय… याह… जिनमें दर्द और आनंद का मिला जुला सा रूप था.

चाची बस वासना से ओतप्रोत आवाजें निकाल रही थी और मजा लिये जा रही थी.

क्योंकि सोनल मुझसे प्यार करने लगी थी और मैंने उससे उसी की कजिन सिस्टर काजल की चूत चुदाई के लिए बोल कर उसका दिल तोड़ दिया था.

बीच बीच में मैं भाभी की गांड के दो भाग में से एक ऊपर ओर एक नीचे करके जोर से हिला देता था और गांड के अन्दर उंगली कर देता. मौसी- क्या देखा तूने?मैं- मौसी, सब कुछ जो आप मनीष जी के साथ कर री थी!मौसी- आयुष बेटा, यह बात तू किसी को मत बताना वरना हमारी इज्जत मिट्टी में मिल जाएगी. मैं सोच रही थी कि आज संजय अंकल तो है नहीं … तो क्या हुआ … मैं तनिष्क को भी मौका दे देती हूँ.

इस पर टीना ने कहा- अच्छा जी!मैंने कहा- जी … हम तो पहले भी आपको बोल चुके हैं, अगर आप हां करें तो!उसने कहा- जॉगिंग के समय मिलना … फिर बताती हूँ. चूंकि उन लड़कियों को मेरे ही रास्ते की तरफ जाना था इसलिए मैं उन जवान सेक्सी लड़कियों की चुदाई के बारे में सोच रहा था. निकाल ले एक बार।मगर मैं नहीं माना और उसको दुलारते हुए किस करने लगा लेकिन लंड को अंदर ही रखा.

मगर राजीव यीशा के होंठ पकड़ कर चूसने लगा, इससे यीशा को थोड़ी राहत मिल गई और वो चुप हो गई.

मैं नींद में था तो रोज की आदत की तरह मैंने उसे अपनी पत्नी का हाथ समझ कर पकड़ लिया और साथ ही मेरी आंख खुल गयी। अपने हाथ में मीनाक्षी का हाथ देख मैं तो डर ही गया कि भाभी मुझे गलत समझ कर मेरी मम्मी से मेरी शिकायत करेगी लेकिन वो तो मुझे देख कर मुस्कुरा दी।मेरी पत्नी सुषमा को मायके गए हुए अभी तीन दिन ही हुए थे और चुदाई के बिना मेरा हाल खराब था. फिर कुछ देर बाद उसका लंड फिर से खड़ा हो गया और उसने मुझे अपना लंड चूसने को कहा. मैं भाभी की चूची एक हाथ से दबा रहा था और दूसरी को मुंह में लेकर चूस रहा था.

साली की इतनी उम्र होने के बावजूद भी ये आज किसी कच्ची कली की तरह मजा दे रही थी. अब चुदाई की बारी थी और हम दोनों एक दूसरे के जिस्म में डूब जाना चाहते थे. हम दोनों की आग ऐसी थी कि जितना चोदते जाते थे, उतनी ही आग बढ़ती जाती थी.

फिर मैंने पूरी ताकत लगाकर एक के बाद एक तीन चार झटके दे दिये और ठोक ठोककर उसकी गांड में लंड को उतार दिया.

पार्टी खत्म होने के बाद कुसुम ने खुद ही मुझसे कहा- मुझे रूम तक छोड़ दो. फिर जब मुझसे रुका नहीं गया तो मैंने रानी की चूत पर लंड को लगा दिया और एक धक्का दे मारा.

बीएफ पिक्चर गांव की मैंने उसकी चूत को उंगली से छेड़ा तो उसकी चूत एकदम से गीली लग रही थी. हम लोगों को बहुत मज़ा आ रहा था, उसने अपने हाथ मेरी नेक से हटाये और मेरी कोमल और गोल गोल गांड को दबाने लगा। उसने अपनी चड्डी उतार दी और अपने लंड पर मेरा हाथ रखवा दिया.

बीएफ पिक्चर गांव की लेकिन बाद में फिर हम उसकी ज्यादा जिद करने पर मैं मान गई और हम दोनों साथ में एक होटल में गए. श्रुति का एक बड़ा भाई था जिसकी शादी हो चुकी थी और वो अपनी बीवी के साथ शहर में रहता था.

आधा घंटे की इस मस्त सेक्सी चैट में मैंने भाभी जी को स्खलित करवा दिया था.

इंडियन सेक्सी जंगली

अम्मी ने कहा- तुम दोनों बैठ कर बात करो, मैं तुम्हारे लिए चाय बना कर लाती हूं. इशा- राजीव, नहीं करो यार … अगर उन्हें पता चल गया, तो मेरा क्या होगा. लेकिन पीछे मुड़कर आंटी ने एक कातिल स्माइल दे दी और अपनी गांड को भी हिलाते हुए कहा- थैंक्यू.

और सपना के बाद सब से ज़्यादा कुंवारी चूत मामी की ही थी।कुछ देर सागर ने उनके गांड के छेद को चाटा. वो तड़प उठी और मुझे गालियां देने लगी- कुत्ते हरामी छोड़ मुझे … साले मेरा मन तो है मगर तूने मुझे परेशान किया तो मैं नहीं चुदूंगी. धीरे धीरे करके मैंने अपने हाथ उसके चूतड़ों पर जमा दिए और उन्हें भी अपनी हथेलियों में भरकर मसलना शुरू कर दिया.

अब समीर मेरे पीछे आ गया और अज़ीम के वीर्य से लथपथ मेरी गांड में उसने अपना लंड डाल दिया और मेरी गांड मारने लगा।इतने में अज़ीम मेरे आगे आ गया.

यहां तक कि जब उसकी शादी हुई थी तो उसने मेरे पहुंचने से पहले दुल्हन के गले में जयमाला भी नहीं डाली. मज़ा आ गया।फिर मैंने करवट बदल कर उसको अपने ऊपर ले लिया उसकी टाँगों में टांगें फंसाकर उसकी चूतड़ों और कमर को सहलाते हुए उससे बातें करने लगा।लगभग चालीस मिनट के बाद मेरे लन्ड ने फिर से अंगड़ाई लेनी शुरू की. कुछ दिन उधर रुक कर मैंने अपनी बहन की चुत को भोसड़े में तब्दील कर दिया था.

वैसे भी मेरे बुआ और फूफा उस पर काफी सख्ती रखते थे।शायद वो अब तक चुदी नहीं थी. अब सिसकारी लेने की बारी मेरी थी, क्योंकि जिस तरह से वो मेरा लंड चूस रही थी, कोई भी नहीं कह सकता था कि ये लड़की पहली बार लंड चूस रही है. फिर मैंने उसको उल्टा किया और उसके मुलायम कूल्हों पर निरंतर किस करता रहा.

कुछ देर क़िस करने के बाद उन्होंने मुझे अपनी गोद में उठा लिया और अपने बेडरूम में ले गए. लगभग 15 मिनट में उस फौजी ने दीदी की चुचियों को पूरा निचोड़ कर पिया.

अगर तेरी मां तुझे डांटे या कुछ और नौटंकी करे तो उसके नाक में ये चुदाई वाली वीडियो की बात वाली नकेल डाल देना तू भी, फिर वो कुछ नहीं बोलेगी. मैंने लड़की की ओर इशारा करके कह दिया- ये मेरे साथ है और टिकट मेरे पास है. वो बोली- साहब मैं अकेली हूँ, बेसहारा हूँ, मैं क्या करूँ?अब ये सब सुनते-सुनते शाम हो गयी थी.

मुझे उस दिन कोई जल्दी नहीं थी, मुझे सिर्फ़ होटल में रूम लेकर रुकना था.

वो एकदम मस्त माल थी कि कोई भी देखे तो उसके नाम की मुठ मारे बिना नहीं रह पाए।मोबाइल नंबर लेने के बाद हमारी सामान्य बातें व्हाट्सएप्प पर होती रही. पर जब से उसने मेरे सामने अपने मामा की लड़की काजल का नाम लिया था, तब से ही मुझे उसके सपने आते थे. उस रात मैंने उस लेडी को तीन बार चोदा और तीनों बार उसने मेरा वीर्य पिया.

मैंने एक बार मैम की आंखों में झांका, तो मुझे अपने लंड के नीचे एक चुदासी औरत नजर आई जो लंड लेने के लिए मरी जा रही थी. हैलो फ्रेंड्स, मैं विहान एक बार फिर से अपनी हॉट भाभी स्टोरी हिन्दी में अपनी पड़ोसन निशा भाभी की चुत चुदाई का मजा देने आ गया हूँ.

हमने एक लम्बा स्मूच किया और फिर अलग हो गये।वो बोली- तेरा स्टेमिना तो बहुत अच्छा है. वो मेरे कान में दर्द में कराहते हुए बोली- आराम से नहीं कर सकता है क्या? इतनी जोर से दबा दी. मेरी बुर को भी पेलो न… जल्दी।मैंने कहा- ठीक है मेरी जान, आज मैं तेरी बुर का उद्घाटन कर ही दूंगा.

छोटे बच्चों के गर्म कपड़े

मैंने एक हाथ उसके बोबे पर रखा और दूसरे हाथ से उसकी गांड को मसलने लगा ताकि वो भी गरम होने लगे.

जैसे भी मैंने गुडबाइ बोला और नीचे तक आया, तभी भाभी का मैसेज आया- मैं एक बात कहूँ?मैंने बोला- हां जी बोलिए ना. कोई 20 मिनट तक मैं उन्हें धकापेल चोदता रहा और छोटी बुआ की चूत चाटता रहा. मित्रो, एक बात तो है … जब कोई स्त्री आपके मन में घर कर जाती है तो आपको बस उसका ही ख्याल रहता है.

थोड़ी देर लंड चूसने के बाद मैंने अपना लंड उसके मुँह में अन्दर की ओर धकेल दिया, जिसकी वजह से आधा लंड उसके मुँह में चला गया. हम दोनों ने हामी भर दी। तभी मेरी दूसरी मामी आयी और बोली कि तुम दोनों में से कोई एक हमारे कमरे में चले आओ, जगह तो खाली है ही और आराम से सो भी सकोगे। इसी बात पर मेरे भैया ने मुझे कमरे में सोने के लिए भेज दिया।मैंने भी हामी भरी और मन ही मन खुश हो गया।मैं तो यही चाहता था कि मामी के साथ किसी न किसी तरह टाइम बिताने का मौका मिले और मैं उनके बदन को देखकर मुठ मारूं. बीएफ वीडियो वीडियो बीएफउसका एकदम गोरा बदन, इस समय ब्रा पैंटी में वो किसी ब्लू फिल्म की रंडी से कम नहीं लग रही थी.

फिर पांचवें दिन भाभी हमारे घर आईं और उन्होंने मेरी मम्मी से कहा- आज मेरे पति 3 दिन के लिए बाहर गए हैं … मैं घर पर अकेली हूँ. मैंने सिर्फ हंस कर उनकी पढ़ाई करने की आदत को तारीफ़ की निगाहों से सराहा.

थोड़ी देर में ही शनाज़ को नींद आ गई क्योंकि दिन भर की दौड़धूप से वह थकी हुई थी. दिल्ली की भाभी की हरियाणवी चुदाई कीक्सक्सक्स स्टोरीआपको कैसे लगी कमेंट्स करके बताइएगा जरूर और आप मुझे मेरी मेल आईडी पर मेल कर भी बता सकते हैं. मैंने छत पर जाकर इधर उधर देखा, मुझे अंधेरे में कुछ दिखाई ही नहीं दे रहा था.

मैं भी शादी में गया लेकिन मुझे भाभी के साथ चुदाई भी करनी थी इसलिए मैं ज्यादा देर रुका नहीं और तबियत ठीक न होने का बहाना करके वापस घर आ गया. जब तक उसने पूरा चूस चाट कर साफ़ नहीं किया, मैंने उंगलियां उसके मुँह से बाहर नहीं निकालीं. मेरे यार के मुख से सिसकारियाँ निकल रही थी ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’उसके आधे कपड़े निकले हुए थे, पूरे भी अभी नहीं उतरे थे।लेकिन मैं पूरी नंगी थी.

लेकिन टाइम नहीं मिल पाने के कारण मैं अपनी कहानी शेयर नहीं कर पा रहा था.

ज़ोहरा कुछ समझ पाती, उससे पहले मेरा लंड ज़ोहरा आपा की चूत को फाड़ कर 3 इंच तक अंदर घुस चुका था. एक दिन मैं अपनी चचेरी बहन सोनल कि चूत चुदाई उसी के घर में कर रहा था तो मैंने मेरी कजिन से चुदाई के वक्त कहा- यार सोनल, मुझे तेरे मामा की लड़की काजल को भी चोदना है.

साथ ही में मैंने धक्कों की स्पीड बढ़ा दी और उसकी चूत में ही अपना वीर्य छोड़ दिया।फिर निशा ने मेरे लंड को अच्छे से चाटकर साफ कर दिया। इस बीच वो दो बार झड़ चुकी थी।उस दिन हमने दो बार और अलग अलग पोज़ में चुदाई की, मैंने उसे बगल में लेटाया और हम वहीं पर सो गए. 30 बजे के करीब उसकी कॉल आई तो मैंने उसके साथ सेक्स की बातें करना शुरू कर दिया. कामवाली की चुदाई का मजा पहली बार ले रहा था इसलिए हर पल को लूटना चाह रहा था.

रमेश ने बाबा से पानी मांगा और कहा कि हमारी गाड़ी खराब हो गयी है, मैं गाड़ी में पानी डालने जा रहा हूं. जैसा मैंने सोचा था, कुछ ही देर में वो लड़का मेरे घुटनों को सहलाने लगा. उसके छोटे छोटे सन्तरे मेरी छाती से टकराने लगे।मेघा के बूब्स मेरे हाथ में आ जाएं इतने ही बड़े थे।मैं दोनों हाथों से दोनों बूब्स को दबा रहा था। मैं उसके गले पर लव बाइट देने लगा और उसके फूले हुए गालों को काटने लगा।नीचे से मेरा लौड़ा मेघा की चूत में जाने को तैयार हो गया।उसको मैं किस करता जा रहा था.

बीएफ पिक्चर गांव की फिर उसने मुझे दोबारा से घोड़ी बना दिया और पीछे से मेरी गांड को चाटने लगा. तो उसने बताया कि जब लड़की पैदा हुई तब ऑपरेशन से हुई थी और भैया का लंड एकदम पतला और छोटा है।वो बोली- तुम्हारे लंड को थोड़ा एडजस्ट होने दो.

काजल हीरोइन के सेक्सी पिक्चर

उन्होंने मुझे 15 मिनट बाद में आने को बोला।थोड़ी देर बाद में मैंने अपना घर लॉक किया और भाभी के घर चला गया. मैंने भी ज्यादा टाइम ना लगाते हुए अपना मूसल आराम से उसकी चुत में उतारने लगा. कुछ देर बाद मैंने दोनों बुआओं की गांड में तीन तीन उंगली करके देखीं, उन्हें दर्द नहीं हो रहा था.

मैंने अपना एक हाथ लंड पर रखा तो लंड के अगले हिस्से में चिकनाई लगी हुई थी, शायद उत्तेजना वाला पानी निकल आया था. आप लोगों को तो पता ही होगा कि अकेले रूम में इंजीनियरिंग का स्टूडेंट रहता है, तो क्या होता है. प्रियंका चोपड़ा का वीडियो बीएफमेरा मन था उसके मुंह में लंड देने का लेकिन हमारा ये पहली बार था इसलिए मैं बने बनाये माहौल को बिगाड़ना नहीं चाह रहा था.

अब दीदी भी पूरी गर्म हो गई थीं, तो दीदी ने उठ कर उसका लंड पकड़ लिया.

उसने कहा- हो गया? निकल गई होशियारी? चल अब बाहर आ और घुटनों के बल बैठ कर मेरा लण्ड चूस, फिर मैं तेरी गांड मारूंगा और फिर इत्मिनान से चोदूंगा तेरी मस्त सी चूत को बहुत ही मस्ती से. मेरी कमर को भैया ने एक हाथ से पकड़ा और मेरी पैंट को एक झटके में खोल दिया.

मैं अब उनका बायां दूध टॉप के ऊपर से दबाने लगा और उस मम्मे को तेजी से मसलने लगा. आपबीती सुनने के बाद मैंने उससे पूछा- अब कहाँ जाओगी?वो बोली- पता नहीं. मेरी उसके साथ शुरू से ही अच्छी बनती थी और वो मेरे बातें बहुत करती थी.

दूसरे दिन मम्मी पापा के जाने के बाद मैं सीधा उन दोनों के रूम में गया.

मैंने पूछा तो उसने बताया कि वो अपने फ्रेंड के साथ पहले भी चुद चुकी है. मित्रो, आपको मेरी यहहॉट सेक्स कहानीकैसी लगी? आपके कमेंट्स की मुझे प्रतीक्षा रहेगी. फिर हम दोनों अगल होकर ऐसे ही पढ़ाई की बात कर रहे थे तो अंकल पूछने लगे- घर में सब कैसे हैं?मैंने बोला- सब ठीक हैं अंकल.

नेपाली वाला सेक्सी बीएफआंह … आप औरतें भी गजब की माल होती हो यार … मेरा तो लंड रुक ही नहीं रहा है. बाबा बोले- बाहर जाकर देख, कोई है तो नहीं पास में?मैं गांड मटकाते हुए बाहर गयी और देखने लगी.

सेक्सी भेजो वीडियो में सेक्सी वीडियो

कुछ देर के बाद मैंने ध्यान दिया कि वो दोनों बातें करते हुए बाहर निकल रहे थे. मैंने पहले जब उसे देखा था तब वो छोटी सी थी, लेकिन अब वो पूरी जवान हो गई थी और एकदम से गदरा गई थी. मेरी तो चीख निकल गयी ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ क्योंकि उसका लंड बहुत मोटा था.

तभी पीछे से टीचर ने मेरी साड़ी को उठाया और अपना लंड मेरी गांड में डाल दिया और चोदने लगा. मगर बारिश से बचने के लिए उस समय उससे अच्छी जगह और नहीं मिल सकती थी. गांड की दरार के अंदर बिल्कुल बीच में हल्का काले रंग का छोटा सा छेद था और उसके आजू-बाजू सुनहरे रंग के छोटे छोटे बाल थे.

उनको चोदने के बाद मैं अपने कमरे में वापस आ गया और 2 घंटे तक सोता रहा. आपबीती सुनने के बाद मैंने उससे पूछा- अब कहाँ जाओगी?वो बोली- पता नहीं. मैं भी शनाज़ समझ कर ज़ोहरा आपा की चूची के निप्पल को अपने मुँह में लेकर आपा की जवान चिकनी नर्म चूची का रस पीने लगा.

मैं दोनों हाथों से उसकी चूची भींचने लगा और उसके होंठों को चूमता रहा. मैंने मैम से कहा कि मैम यह स्कूटी अभी ठीक नहीं हो सकती, आप इसे किसी गैराज में दे दें.

वो मुझसे बोले- तुमको चलेगी?मैंने कहा- नहीं अंकल, मैंने पहले से दो पैग लिए हुए हैं.

उनको चोदने के बाद मैं अपने कमरे में वापस आ गया और 2 घंटे तक सोता रहा. बीएफ फिल्म सेक्सी हिंदी बीएफअब जब भी बात होती, तो मैं भाभी के साथ फ्लर्ट करने लगता; उनकी तारीफ करता. हिंदी बीएफ व्हिडिओ मेंमेरी रियल सेक्स स्टोरी में पढ़ें कि कैसे हम दोनों के जिस्म रोमांस और सेक्स की राह पर बढ़ कर एक हुए. फिर मैं धीरे से खुद से बोला- अगर काल रात मेरे लंड के नीचे शनाज़ नहीं थी तो फिर किसको मैंने 3 बार चोदा था?मुझे कुछ समझ नहीं आ रहा था कि शनाज़ नहीं तो कौन?घर में शनाज़ के अलावा ज़ोहरा आपा ही हैं.

फिर उस रात मैंने 3 बार ज़ोहरा आपा को अपनी बीवी शनाज़ समझ कर उनकी बच्चेदानी में अपना माल डाला.

थोड़ी देर की मेहनत और मॉम की आंखों से निकले आंसू के बाद आखिरकार मेरा लंड अन्दर चला ही गया. साथ ही महिला पाठकों की जानकारी के लिए लिख रहा हूँ कि मेरा औजार भी अच्छा खासा है. वो झुक कर कुछ काम कर रही थीं, जिससे उनका पल्लू गिरा हुआ था और उनके चुस्त ब्लाउज से उनकी आधी से ज्यादा चूचियां मुझे दिख रही थीं.

तभी नीता दरवाजे में से आई और जोर से हंसने लगी।मेरी तो कुछ समझ में नहीं आ रहा था. मैं हंस दिया और उसे अपने साथ लेकर उसके रूम तक छोड़ने के लिए चल दिया. उसके हाथों में चूड़ी थी और सूट पुराना सा काले रंग का था, जिसके नीचे उसने सफेद सलवार पहनी हुई थी.

ब्लू फिल्म सेक्सी भाभी की चुदाई

मैंने उसकी दोनों टांगों को उठा कर अपने कंधों पर रख लीं और उसके मम्मों को सहलाने लगा. आकांक्षा संग मेरी चुदाई की कहानी का विवरण मैं अपनी इस सेक्स कहानी के अगले भाग में लिखूँगा. उसके बाद भी मैंने उनको कॉन्टेक्ट करने की कोशिश की लेकिन वो दोनों फिर कहीं जैसे गायब सी हो गयीं.

जब मैं कॉलेज में प्रथम वर्ष में था तो जया अपनी बारहवीं पास करने वाली थी.

उसका हाथ मेरी लोअर पर आ चुका था और वो मेरे लंड को बार बार दबा रही थी.

उम्मीद है कि मेरी आपबीती आप लोगों को ज़रूर पसंद आएगी।कहानी आगे बढ़ाने से पहले मैं अपने बारे में बता देता हूं. एक दिन बुआ घर आई हुई थीं, तो उन्होंने पापा को बोला कि मयूर को बोल दो कि वो हमारे घर ही रह ले. बीएफ वीडियो रोमांटिकवे दोनों मेरे कमरे में अपनी चूत की झांटें साफ़ करवाने के लिए एकदम नंगी हो गई थीं.

उसके बाद रमेश चला गया और मैंने बाबा से कहा- मेरी लैगी खराब हो गयी है, आप थोडा़ सा पानी डालकर इसको भी धुलवा दो. मैं अब अपने आप से बात कर रहा था- कल रात मुझे शनाज़ की चूत की खुशबू भी अलग सी लगी थी. शकील का चेहरा चमकने लगा और उसने अम्मी से कहा- तो अच्छी बात है … नेकी और पूछ पूछ.

आखिरकार एक चरम पर पहुंच कर उसने मेरी चूत में रस भर दिया और मुझसे अलग हो गया. फिर मैंने अपने दिल को समझाया कि मुर्गी को अंडा देने तक का इंतजार करना ठीक रहेगा.

यह सब विचार कर मैंने निर्णय किया कि क्यों न अपने ननदोई से अपनी चूत चुदा ली जाये और एक बच्चा कर लिया जाए।जब मेरे पति विदेश से आ गए तो 2-3 हफ्ते उनके साथ बिताने के बाद मैंने अपने पति से कहा- मैं कुछ दिन के लिए दीदी के यहाँ जा रही हूँ.

उनके बदन का जितना भी हिस्सा बाहर दिखता था वो ऐसे लगता था जैसे कि मलाई हो. उनका मोटा लण्ड मेरे मुँह नहीं घुस रहा था, केवल सुपारा ही जा रहा था. वैसे मुझे श्रुति भाभी ने पहले ही बता दिया था कि आप मुझे बुलाने वाली हो!भाभी बोली- कोई बात नहीं!और भाभी ने मुझे तारीख बतायी कि किस दिन आना है.

सेक्सी आंटी बीएफ वीडियो मैंने अब धीरे से अपनी एक उंगली को उसकी योनि की दरार के बीच में हल्का सा अंदर किया. उसने मुझसे कहा- बधाई तो ठीक है, मगर तुमको मेरे घर शादी के लिए थोड़ा जल्दी आना है.

उन तीन दिनों में ना जाने कितनी बार हमने सेक्स किया, कितनी बार खाया, कितनी बार पिया. हमने कपड़े से अपने अपने यौन अंगों को साफ किया और एक दूसरे से बहुत देर तक ऐसे ही नंगे चिपके रहे. माँ सेक्स कहानी में पढ़ें कि कैसे मैंने अपनी विधवा और सीधी सादी माँ को एक गैर मर्द से सेक्स करते देखा.

गुजरात वस पंजाब

आंटी की चुत चुदाई से मेरे लंड की नसें फूल गई थी … जिससे आंटी की चुत में लंड की रगड़ और मस्त होने लगी थी. फिर हम दोनों अगल होकर ऐसे ही पढ़ाई की बात कर रहे थे तो अंकल पूछने लगे- घर में सब कैसे हैं?मैंने बोला- सब ठीक हैं अंकल. जब वह वापस ऊपर जाने लगीं तो मैंने उनका हाथ पकड़कर उनको सीढ़ियों के नीचे ले गया.

वो सागर के झटके झेलने लगी और उनकी मुंह से कामुक कराहने की आवाज़ उफ़ हह ओह्हआह आह आह हह आ रही थी. इस वेबसाइट मेरी यह पहली कहानी है जो मैं आप लोगों को बताने जा रहा हूं.

आंटी ने मुझसे कहा- क्या तुम्हारी कोई गर्लफ्रेंड है?मैं- नहीं, मैंने तो अभी तक किसी लड़की को हाथ भी नहीं लगाया.

मैम के कान को मजे से चाटने लगा, जिससे उसकी सिसकारियां और तेज हो गईं. अभी 21 साल की जवान लड़की और मेरी गर्लफ्रैंड हो आप तो?सुधा- कितनी देर के लिए माना है?सागर- अभी तो पूरी रात पड़ी है. अम्मी कह रही थीं- आजकल तू जल्दी क्यों झड़ जाता है … मेरी तो प्यास ही नहीं बुझी.

मैंने एक दूध को मुँह में भरा और बहुत ही जोर से निप्पल खींचते हुए चूसा. फिर मैंने उससे अपना रूमाल मांगा, तो बोली- मरो मत … मैं नया ला दूंगी. अब वह भी गांड हिला हिला कर मेरे धक्कों को रिफ्लेक्ट कर रही थी।थोड़ी देर धक्के लगाने के बाद मुझे ऐसा लगा कि उसकी चूत ने मेरे लंड को जकड़ लिया है और उसका शरीर अकड़ गया था.

उसने मेरा सिर पीछे को किया और मेरे गालों पर किस करके मेरे गले को चूमा.

बीएफ पिक्चर गांव की: मैंने छिप कर देखा कि दीदी दरवाज़े से चिपक कर खड़ी थीं और वो आदमी अपने दोनों हाथों को उनके कंधे के पास रख कर खड़ा था. उनकी गांड के नीचे तकिया लगा होने की वजह से मुझे भी ज्यादा मेहनत नहीं करनी पड़ रही थी.

जैसे लोगों को शराब का नशा होता है, ऐसा ही नशा होता है चूत का और मुझे भी बस यही नशा था- बस चूत ही चूत।इंसान की जिन्दगी में सेक्स का अत्यंत ही सुन्दर अहसास होता है. उसकी गांड के छेद को सहलाने का मन कर रहा था लेकिन अभी मैं पूरा आश्वस्त नहीं था कि मौसी उनकी गांड को छूने पर मुझे कुछ नहीं कहेगी।इसलिए मैंने मौसी के चूतड़ों को दबाकर देखा. जैसे ही उसने अपना हाथ मेरी चूत पर रखा, मैंने अपने दोनों पैरों को सटा लिया.

”लेकिन मामू, कुछ गड़बड़ हो गई तो?”गड़बड़ क्या होगी? कल तो रोहित भी बिना कॉण्डोम के चोदेगा.

खुशबू हल्के स्वर में कहे जा रही थी- आह विक्की … तेरी नजरों ने मेरी चूचियों को क्या ताड़ा, साले चुत में आग लग गई. मेरा मन था उसके मुंह में लंड देने का लेकिन हमारा ये पहली बार था इसलिए मैं बने बनाये माहौल को बिगाड़ना नहीं चाह रहा था. उन्होंने मुझे 15 मिनट बाद में आने को बोला।थोड़ी देर बाद में मैंने अपना घर लॉक किया और भाभी के घर चला गया.