पंजाबी देसी बीएफ सेक्सी

छवि स्रोत,सेक्सी वीडियो चुदाई सीन

तस्वीर का शीर्षक ,

नंगी पिक्चर बढ़िया वाली: पंजाबी देसी बीएफ सेक्सी, तब मुझे लगा कि इस औरत के साथ चुदाई का चान्स है!हमारे बीच फोन पर सेक्स सम्बन्धी बातें तो होती ही थी तो फिर चाय खत्म करने के बाद वो कुछ बोलती, उससे पहले ही मैंने उसको पकड़ा और किस करना चालू कर दिया.

छोटा बच्चा की सेक्सी पिक्चर

अचानक इतने मोटे लंड से चूत में हुए फैलाव को मामी बर्दाश्त नहीं कर पायीं. हैदराबाद सेक्सी बीपीउसने मेरे होंठों को छोड़ दिया और जोरों से अपने कूल्हों को उचका उचका कर अपनी चुत से मेरे लंड का स्वागत करने लगी.

मयूरी- पापा… मैं आपसे से शुरू से ही चुदना चाहती थी… आपको हमेशा माँ को चोदते हुए देखकर अपने चूत में उंगली करती थी और सोचती थी कि काश मैं आप से चुदवा पाती… आपका लंड अपने चूत में वैसे ही डलवा पाती जैसे आप माँ की चूत और गांड में डालते हैं. चुदाई वाली सेक्सी नंगी पिक्चरमैं भी आंटी की गांड को कभी ज़ोर से दबाता, तो कभी ज़ोर से थपथपाते हुए चमाट मारता.

उसने कहा- बहुत अच्छी चुदाई करते हो… और काफी देर तक तुमने किया!फिर कंडोम निकालकर वह मसाज करने लगी.पंजाबी देसी बीएफ सेक्सी: मुझे धक्का देकर नेहा ने पीछे करने की कोशिश की, पर मैंने उसे कस कर पकड़ रखा था.

सच में स्वप्न सुन्दरी सी थी लाल रंग का स्लीब लैस सूट और हाई हील्स पहने एक जबरदस्त माल मेरे सामने खड़ा था.इसके बाद मैंने पूछा कि अब भी आपको लगता है कि आपमें और हम में कोई भेद है?वो बोलीं- आपके व्यवहार ने तो मेरे दिल को ही जीत लिया है और मुझे कुछ भी कहने के लिए नहीं छोड़ा.

इंग्लिश पिक्चर खुला सेक्सी - पंजाबी देसी बीएफ सेक्सी

मेरी बात का अर्थ समझ के कम्मो का मुंह शर्म से लाल पड़ गया उसने अपना निचला होंठ दांतों से दबा कर हंसती हुई आँखों से मुझे देखा पर कहा कुछ नहीं.इस शानदार चुदाई के चलते इतना मजा आने लगा था कि मन कर रहा था कि यह गांड चुदाई कभी भी ख़त्म ना हो…लेकिन तभी नताशा के बोझ से दबे दीमा ने मेरी पत्नी के कूल्हे पकड़ कर उसे ऊपर की ओर उभारते हुए अपने लंड को बाहर कर लिया.

स्त्रियां या लड़कियां स्पर्श के मामले में ज्यादा सचेत होती हैं सो जो जैसा मुझे महसूस हुआ जरूर वैसा ही उसे जरूर हुआ होगा तभी उसका मुंह आरक्त हो गया, उसके चेहरे पर गहरी लाली छा गई और उसकी आँखें नशीलीं हो उठीं. पंजाबी देसी बीएफ सेक्सी इतना सोच के मैंने कम्मो की सलवार नीचे सरकाने की फिर से कोशिश की पर उसे दोनों हाथों से ताकत से पकड़ रखी थी.

माइक का वजन बहुत ज्यादा था, तारा बिस्तर पर पूरी तरह पेट के बल गिर पड़ी.

पंजाबी देसी बीएफ सेक्सी?

मयूरी ने बड़े जोश में आकर अपने एकदम आदमजात नंगे बाप को जाकर एक जोरदार चुम्बन दिया. जब मेरी प्रमोशन होगी, तब मैं तुमे अपने साथ ही रखूँगी और तुम्हारी रिपोर्ट किसी से कह कर बनवाया करूँगी. अपने एक हाथ की मुठ्ठी में हम दोनों का लंड पकड़ कर दूसरे हाथ से वो पास खड़े डीके का लंड हिला रहा था.

लगभग 10 मिनट की चूत चूसने के बाद मैंने महसूस किया कि उनका पानी निकलने लगा है और वे मेरे सर को जोर से दबा रही हैं. फिर मैंने अपनी तरफ से उनकी चूत में अपने लंड को फंसा कर एक जोरदार झटका मार दिया. साथ ही एक हाथ की उंगली को मैं उसकी चुत के अन्दर डाल रहा था जिससे उसको दुगना मजा मिलने लगा था.

मैं उसकी जांघों पे हाथ फिराने लगा और फिर न जाने क्या हुआ, मैं अपनी जीभ से उसके पैरों को उंगलियों से लेकर जांघों तक चाटने लगा. उसने आप एक छोटी सी स्कर्ट पहनी और ऊपर में एक काले रंग का टॉप जो बहुत ही ज्यादा ढीला था. अजीब ही लड़का है, पर उसकी यह हरकत मुझे उत्तेजित कर गयी और जाने मुझे क्या अजीब सी फीलिंग हुई.

हमेशा तुम सती सावित्री बनकर आ जाती हो कि वो मुझे डरा रहा है कि जैसे तुम्हारी कोई गलती ही नहीं है. हम दोनों के बारे में थोड़ा बहुत अफवाह भी हमारे कॉलोनी में उड़ रही थी कि हम दोनों लोग का चक्कर है.

तभी अचानक अंकित मेरे चूत में उंगली पूरी घुसा दी और उसे अंदर बाहर करने लगा, और मेरे कान में बिल्कुल पास आकर धीरे-धीरे बोलने भी लगा- वन्द्या तू बहुत मस्त माल है तेरी चूत इतनी गर्म है कि लग रहा है कि मेरी उंगली जल जाएगी, आज मैं तुझे जन्नत की सैर कराऊंगा, तू बहुत मस्त है.

हां मेरी चूत के अन्दर बहुत जलन हो रही थी, दर्द भी बहुत ज्यादा था, अब खूब मज़ा भी आने लगा था.

करीब पांच मिनट के बाद मयूरी की गांड अब चौड़ी हो चुकी थी और उसका दर्द कम चुका था. मैंने मुस्कान की एक टांग को उठा कर अपने कंधे पर रख लिया और उसकी चुदाई जारी रखी. प्रिया बोली- ये दूध पी लो और थोड़े फ्रेश हो जाओ, फिर देखती हूँ तेरे लंड की ताक़त.

तो मैंने बीच की दो उंगलियां ऊपर की तरफ पलट कर चूत में डाल दीं और जैसा नेट पे मैंने पढ़ा था, वैसे जी स्पॉट ढूंढ कर उस पर उंगलियों से हरकत करने लगा. मैं समझ गयी कि वो दोनों मेरे जन्मदिन का सरप्राइज प्लान कर रहे हैं, तो मैं ऐसे ही नंगी सो गई।फिर अचानक किसी ने जोर से मेरे चूतड़ों पर थप्पड़ मारा तो मैं अचानक से उठी तो देखा कमरे में बहुत अंधेरा था।तभी साहिल ने मेरे सामने केक रखा जिसमें मोमबत्ती भी जल रही थी उस वक़्त भी हम तीनों नंगे ही थे। आयेशा और साहिल मेरे आगे खड़े थे. उसने फिर मुझसे पूछा कि और कुछ चाहिए क्या?मैंने उसके तरफ अपनी गर्दन घुमाई वो मुझे देख कर हल्का मुस्कुरा कर पूछ रही थी- कुछ चाहिए क्या?इस वक्त उसके हाथों में वही ब्लैक पेंटी थी.

कुछ पल बाद प्रिया का दर्द कुछ कम हुआ और वो अपनी गांड को हिलाकर मेरा लंड अपनी चूत में लेने लगी और उसकी मादक सिसकारियां निकलने लगीं ‘ओह्ह हह … आहह … उहह हहहह …’कुछ ही देर में अब प्रिया अपनी गांड को जोर जोर से हिलाना शुरू कर दिया और मैंने भी अपनी चुदाई की स्पीड ओर तेज कर दी.

उस समय करीब रात के 12 बज चुके थे, रास्ते में मैंने उससे कहा कि उसे उसके रूम पर छोड़ देता हूं तो उसने मना कर दिया और बोलने लगी कि इतनी रात को घर का गेट कोई नहीं खोलेगा तो अब वो सुबह ही जा सकती हैं।अब मेरे पास भी कोई जगह नहीं थी उसे ले जाने के लिए तो मैंने उसे रात किसी होटल में गुजरने के लिए बोला और वो फट से मान गयी. मेरे मुँह से लंबी लंबी सांसें निकल रही थीं और वो बेरहमी से बुरी तरह मुझे चोदे जा रहे थे. हां मेरी चूत के अन्दर बहुत जलन हो रही थी, दर्द भी बहुत ज्यादा था, अब खूब मज़ा भी आने लगा था.

फिर उसने फोन वहीं सीट पर रख दिया और सामने वाली सीट से सिर टिका कर आँखें मूंद कर गहरी गहरी सांसें लेने लगी. मैंने देखा कि शायद दोनों ने ही 2-3 घंटे पहले ऑफिस से छुट्टी कर ली थी और सीधे यहाँ पहुंच गए थे, ताकि मेरे आने से पहले अपनी सुहागरात मना लें. कभी उनके बूब्स दबाता, कभी उनकी मोटी गांड सहलाता और फिर मुठ मारके सो जाता.

वो बोलीं- हां इस हालत में आपके घर से निकलकर अपने घर जाऊँगी, तो आस पास वाले लोग बोलेंगे कि ये बिन मौसम कहां से भीग आयी.

यहां कहीं मिले तो वही खाना है मुझे!”ठीक है गुड़िया, चलो चांदनी चौक चलते हैं वहीं खायेंगे” मैंने कहा और हम लोग चल पड़े. लेकिन मोटी होते हुए भी मन को बेचैन कर देने वाली जवानी की दुकान हैं.

पंजाबी देसी बीएफ सेक्सी अन्दर हल्का सा अंधेरा था, उसने लाइट नहीं ऑन की थी, लेकिन उस डोर से उसकी वही पुरानी जेस्मीन और गुलाब की मिक्स खुशबू आ रही थी. इसी के साथ मेरे धक्के और भी तेज होते जा रहे थे, मैं मामी जी को पूरे जोश के साथ चोद रहा था.

पंजाबी देसी बीएफ सेक्सी मेरी सफ़ेद रूसी गुड़िया ने अपना मुंह खोल कर हल्की-हल्की कराह भरते हुए अपने सीधे हाथ से नितम्ब को भरसक चीरने की चेष्ठा के साथ अपने बचपन के दोस्त और अपने पति के लंडों को अपनी गांड में घुसवाना प्रारंभ कर दिया. सच में उसके मम्मे इतने सॉफ्ट थे कि मैं खुद को रोक ही नहीं पाया और उसके टॉप के ऊपर से उसके एक चूचे को चूसने लगा.

नाम रिश्ते का चाहे कुछ भी हो,तलाश सिर्फ सुकून की होती है…”अगले किस्से तक के आज्ञा दीजिए दोस्तो!खुश रहिए, खुश रखिये.

पंजाबी सेक्स वीडियो कॉम

दो मिनट हम दोनों तक वैसे ही रुके रहे, फ़िर कुछ आखिरी झटके धीरे धीरे लगाए. उन्होंने बहुत कसी हुई सुन्दर साड़ी पहन रखी थी, जिसमें उनका बदन कुंदन सा चमक रहा था. अपने चिकने लंड को मैं उसके मुँह में डालने लगा और 69 में आके उसकी चूत को चाटने लगा.

मृदुला मेरे पास आई और बोली- बुरा लग गया?मैंने कहा- हाँ मुझे बहुत बुरा लगा. अन्तर्वासना पर यह मेरी पहली कहानी है, आशा करता हूँ कि यह सेक्स कहानी आप सभी को पसंद आएगी. इन टीचर की उम्र लगभग 35 वर्ष, देखने में अच्छी कद काठी और ये शादीशुदा हैं.

अब गाड़ी थोड़ा आगे लेकर गए और आगे सुनसान जगह देख कर फिर से गाड़ी रोक दी गई.

अंकल जी ने मेरी दोनों चूचियों को गौर से देखते हुए उन पर हल्के से हाथ फेरा, मानो चूचियों की साइज़ और कसाव नाप रहे हों. फिर हम बाथरूम में जाकर नहाये, अंगों की सफाई की और फिर बिस्तर पर चादर बदल कर एक बार और शुरू हो गए, मस्त चुदाई का दौर चल पड़ा. मैंने उन्हें पूछा- अच्छा लग रहा है?उन्होंने कहा- आज से पहले इतना अच्छा कभी नहीं लगा! तुम लाजवाब हो मेरे राजा! काश तुम पहले मिले होते तो मैं अब तक इतना नहीं तड़पती!मैंने कहा- कोई बात नहीं, अब हम मिले हैं तो हर ख्वाहिश पूरी करेंगे!फिर मैं धीरे-धीरे उनकी चूत के पास गया.

फिर मैंने जूही को नीचे उतारकर लिटा दिया और उसके पैर ऊपर करके उसकी चुत चाटने लगा. फिर खाना खाने चलते हैं… आप बड़े दिनों बाद हमारे साथ बैठी हो… बहुत अच्छा लग रहा है. मैंने होंठ जकड़ कर उसकी चूची को जोर से दबाया तो उसने एकदम से अपनी गांड उठा दी.

इतने में प्रिया ‘ओह … आह … मर गई … मैं गई …’ करते हुए झड़ गई और वहीं 20 से 25 झटके मारते हुए मुझे भी लगा कि अब मेरा निकलने वाला है. बस फिर क्या था, मैंने अपना लंड जूही की चुत पर रखा और एक शॉट मारा और लंड चुत के अंदर चला गया।मैं जूही के होठों को अपने होठों के बीच लेकर चूसने लगा और चूचियाँ पकड़ करके जोर जोर से शॉट मारके जूही की चिकनी चुत चोदने लगा.

मैं उनके सामने सिर्फ मेरी प्रिंटेड ब्रा में थी और अपनी दोनों हाथों से अपना चेहरा छिपा रही थी. फूफा जी रजनी जी चुचियों पर हाथ फिराने लगे, तभी रजनी जी ने फूफा की तरफ करवट ले ली. और माशाल्लाह, तुम तो हूर की परी हो, ऊपर वाले ने इतना बढ़िया हुस्न दिया है कि कोई भी मर-मिटेगा.

उन तीनों ने एक साथ पूरी ताकत से इतने जोर से लंड पेला और अन्दर तक घुसा दिया.

मैं उसकी चिकनी चमेली चूत को देख कर मदमस्त हो गया और एकदम से उसके ऊपर चढ़ने को हो गया. मैंने भी कस के समाली अंकल को पकड़ लिया और उनके होंठों को चूसने लगी, चूमने लगी. मयूरी ने अपने शॉर्ट्स के अंदर हाथ डाल के अपनी चूत में एक उंगली डाली और थोड़ी देर हल्के हल्के मजे लेने के बाद वो अपनी इस प्यारी माँ की तरफ बढ़ी.

जो भी आते हैं, वो मुख्य द्वार से अन्दर आते हैं और वहीं के गेस्ट हाउस में रुकते हैं. इसके बाद मैंने उसके पैरों को अपने कंधे पर रखे और पूरा लंड चुत की जड़ तक पेल कर उसकी चुदाई चालू कर दी.

फिर अंकल ने मेरे एक हाथ को अपने हाथ से पकड़ कर लंड से सटाते हुए पकड़ने के लिए कहा. मैंने उसका फेसबुक खोलकर देखा तो पायल ने अलग नाम से अकाउंट बनाया था. मयूरी चिहुँक पड़ी… हालाँकि वो इस चीज़ के लिए पहले से तैयार थी पर सेक्स को लेकर वो भी पहले से अनुभवी नहीं थी.

सेक्सी गांव की हिंदी

मैंने धीरे धीरे करते हुए अपनी दो उंगली उसकी चूत में अन्दर पेल दीं और अन्दर बाहर करने लगा.

मैं उसकी मस्त गोल गांड देखकर अपने आप पर कंट्रोल नहीं कर पाया और उसे अपनी बाँहों में उठा कर उसके रूम में ले गया. यह कहानी मेरी सच्ची हिंदी सेक्स कहानी है, इसमें कोई मिलावट नहीं है. तो मैंने कहा- लगता है, हारने से डर गई हो?वो कहने लगी- मैं डरती नहीं हूँ.

वो लड़की अब मेरे घर पर है, अगर ज़रा सी भी हरकत की तो मैं पुलिस के सबसे बड़े अधिकारी से मिल कर तुम्हें अन्दर करवा दूँगी और फिर जमानत भी नहीं मिलेगी. मैं तड़प उठी और सीधे अंकित का लन्ड कस कर पकड़ लिया और मुंह में डालने लगी. सेक्सी में ब्लूटूथउसकी चूची 34″ की थी मुलायम मुलायम… उसकी गांड भी मस्त थी पीछे से उठी हुई जो 36″ की थी और उसकी चूत पर एक भी बाल नहीं था.

चाची भी अपने दोनों हाथ से चाचा की गांड पकड़ कर उनको अपनी तरफ दबा कर बदन को ऐंठने लगीं. फिर जब हम आफिस में मिले तो वो बिल्कुल नार्मल थी और जैसे वो रोज मुझसे बाते करती थी वैसे ही बात कर रही थी।उस दिन के बाद हम 4 बार और उसी होटल में गए और उसी रात की तरह हमने बियर पी और पूरी रात चुदाई के मजे लिए।लेकिन अब वो वापस अपने गांव जा चुकी हैं शायद उसकी शादी होने वाली है, मुझे नहीं लगता कि अब हम दोबारा मिल पाएंगे।दोस्तो, ये मेरी पहली कहानी थी.

इसलिए सोचा पूछ लूँ कि कौन है?शर्मा जी- अरे ये तो मेरा भतीजा है शौर्य, दिल्ली में रहता है, छुट्टियों के लिए मुंबई घूमने आया है. थोड़ी देर बाद जब हम निकले, तो उन्होंने साड़ी पहनी हुई थी, इसमें उनकी नाभि साफ़ दिख रही थी. मैंने उनसे अपना हाथ छुड़ाया और कमरे से जाने लगी तो उन्होंने रोक के कहा- निशा, आई लव यू।मैंने कुछ भी नहीं कहा और कमरे से बाहर निकल कर रसोई में चली गई जहाँ मम्मी चाय बना रहीं थीं।भैया के लिए भी चाय ले जा!” मम्मी ने कहा.

मैं लगातार उसके गालों को, माथे को, आंखों को, गर्दन को, कानों को चूमता और हल्के होंठों से पकड़ के सहलाता रहा. अब मुझे समझते हुए ज्यादा देर नहीं लगी कि प्रीति कल रात को क्या कर रही थी. सुबह बच्चों की छुट्टी करा दी तो इस बहाने उन्हें नानी के यहां जाने का बहाना मिल गया, अब शाम को उन्हें लाना पड़ेगा। चंदा आई थी लेकिन उसके घर में पानी भर गया है तो वह भी बिना कुछ किये धरे वापस भाग गयी। सुबह से खुद ही सब कर रही हूँ।” वह कलपती हुई बोली।और मेरे मन में आया तो मैं क्या करूँ.

मैंने मुस्कान की एक टांग को उठा कर अपने कंधे पर रख लिया और उसकी चुदाई जारी रखी.

मुझे लगा कि ये मेरे भाईसाहब कैसे रहेंगे, वैसे भी सगे थोड़े हैं, पड़ोसी हैं तो अपनी छोटी बहन की चूत की भूख तो मिटा ही सकते हैं. सुनील ने उसे ड्रिंक ऑफर की लेकिन उसने ‘मैं नहीं पीती…’ बोल के टाल दिया.

मेरी बात सुनकर कर उन्होंने अपनी स्पीड बढ़ा दी और थोड़े ही देर बाद मैं भी झड़ गया. सुनील ने इतनी जोर से ब्रा खींची थी कि उसकी ब्रा के दो टुकड़े हो गए और हुक्स बिखर गए. मैं उधर बनी एक कच्ची झोपड़ी के पीछे छिप गई और उनको लंड हिलाते हुए देखने लगी.

अचानक माइक ने अपना हाथ बिस्तर से हटा कर तारा को नीचे से हाथ डाल उसके कंधों को ऐसे पकड़ लिया, जैसे वो कहीं भाग न जाए. अशोक आश्चर्य से- क्या…????मयूरी- हाँ… मैंने पहली बार अपने दोनों भाइयों से ही चुदवाया था… वो भी एक साथ. जैसा मैंने कहा था कि पिछली कहानी में अब कुछ मजेदार रहा नहीं, तो अब मैं उस कहानी को वहीं रोकता हूँ, बस इतना बताऊंगा कि वर्तमान समय में मैं चाची और मैडम दोनों के संपर्क में हूँ और वो दोनों एक दूसरे को जानने लगीं हैं.

पंजाबी देसी बीएफ सेक्सी मैंने अपना पासपोर्ट बनवाया हुआ था ताकि मैं भी अपने परिवार के साथ वहीं जा कर रहूं. बाकी लड़कियों ने पूछा- किसके साथ?तो वो थोड़ा शर्माने लग गयी और बात को टालने लगी.

न्यू गोल्डन डे सागर

भाभी मुझसे लिपटते हुए बोलीं- भैय्या, जिंदगी में पहली बार किसी ने मेरी चुत चाटी है… मेरे पति तो कुछ करते नहीं इसलिए गाजर, मूली और खीरे का सहारा लेना पड़ता है. क्योंकि यह रिश्ता दिल से दिल का है, जिसे समाज ने नहीं, हमने खुद बनाया है. उस लड़के को शायद इस बात का अंदाजा था कि किस जगह पर कार रोक कर चुदाई का मजा लिया जा सकता है, तो कुछ देर बाद कार रुक गई और वे दोनों भी अपनी मस्ती में लग गए.

कसरत करने के कारण मेरा जिस्म किसी पोर्न एक्टर की तरह गठीला और मस्त दिखता है. कभी कभी तो मैं उसके दूध इतनी ज़ोर से दबा देता कि उसकी चीख निकल जाती. बड़ी जालीदार बा तोहार कुर्तीउन भैया उनकी उम्र लगभग 23 की होगी, वो दिखने में स्मार्ट थे, बॉडी भी अच्छी थी.

पद्रह मिनट की ठुकाई के बाद मैंने अपना माल उसकी चूत में उतार दिया और उस पर गिर पड़ा.

वो हमेशा मुझसे चिपक कर बैठते थे और अपना हाथ मेरी पीठ पर रख कर सहलाते रहते थे. उसका पहली बार था तो, मैंने उसको बोला- मेरी जान मैं बहुत प्यार से करूँगा.

अतः उन्होंने मुझे आदेश दिया- रौनक, अब जल्दी से चोदो न अपनी मामी को. टॉयलेट का दरवाजा प्रीति ने अंदर से बंद नहीं किया था। और जैसे ही मैंने अंदर झांका, मैं दंग रह गयी. उसके मम्मों पर छोटे छोटे गुलाबी निप्पल थे जो मेरे चूसने से तन कर खड़े हो गए थे.

फिर अगली सुबह रमेश और सुरेश अपने ऑफिस चले गए और घर में मोहनलाल ने अपनी बहू मयूरी और बेटी काजल को अकेले में फिर से बहुत चोदा.

मामी- कैसी चाहिए?मैंने झोंक में कह दिया- आपकी जैसे मस्त मिले तो बात बने. आपको मेरी सेक्स कहानी पसंद आयी हो तो भी … और ना पसंद आए तो भी … प्लीज़ मेल जरूर कीजिये. कुछ देर बाद मेरी चुत की खुजली बढ़ गई तो मैंने उससे कहा कि अब चोद भी दे यार.

सेक्सी फिल्म एचडी में वीडियो मेंचुदाई की बातें तो नहीं होती थी पर एडल्ट जोक्स आपस में बहुत किया करते थे. मैंने रात खत्म होने तक फ़ोन पर उससे किस ले लिए और मुझसे मिलने के लिए तैयार कर लिया.

स्मार्ट गर्ल इमेज

उसके बाद उन्होंने अपना लंड मेरे मुँह से निकाल दिया और मेरी साड़ी उतारने लगे. मेरी गर्म और गंदी कहानी के पहले दो भागोंशादी में चूत चुदवा कर आई मैं-1शादी में चूत चुदवा कर आई मैं-2में आपने पढ़ा कि मैं राजस्थान के एक गाँव में शादी में आई हुयी थी और मेरी चूत की आग मुझे जीने नहीं दे रही थी. उन्होंने मुझे अपने घर बुला लिया था, इस बार मेरी छुट्टी लंबी ना होने के कारण मैंने भी सोचा और मम्मी से बात की.

जब वो अन्दर आई तो उसने धीरे से कहा- यह मैडम कौन हैं?मैंने कहा- सॉरी दीदी, मैं आप लोगों की मुलाकात करवाना भूल गई. उनसे चुदाई कर चुकी सब औरतें कहती हैं कि वो दोनों इंसान नहीं, जानवर हैं. वे मेरी गांड मारते हुए बोलने लगे- वन्द्या, मैं तेरी गांड को आज बहुत चोदूंगा.

उसने पूछा कि पीते तो हो न?मैंने कुछ नहीं कहा लेकिन मेरी आँखों में मनाही के भाव नहीं थे, जिसे महसूस करते हुए उसने दो पैग बनाए और एक गिलास मेरी तरफ बढ़ा दिया. इतनी देर में शीतल रसोई से एक कटोरी में सरसों का तेल लेकर कमरे में दाखिल हुई. मैंने मदर डेयरी पर टोकन खरीदा और लाइन में लग गया, लेकिन मैंने देखा कि मेरे आगे सरिता भी दूध की लाइन में लगी हुई थी.

एक दिन उसने मुझसे बोला- आज सिनेमा देखने का मूड है, चलो सीमा, चलते हैं. ये देखते ही वो चिल्लाने लगी- छी: कितना गंदा है ये, बदबू है इसमें, ये में बिल्कुल नहीं करूँगी, मुझे नहीं करना … प्लीज जीजू रोको इनको.

उन्होंने पूछा- आप कहां पर हो?मैंने कहा- अभी तो स्टेशन के अंदर ही हूँ.

फिर उसने अपने हाथ से मेरा लंड पकड़ कर अपनी चूत के छेद पे लगाया और बोली- अब धक्का लगाओ!मैंने जोर लगाया तो मेरे लंड का सुपारा अंदर चला गया, मुझे ऐसे लगा जैसे मैं कोई जन्नत की सैर कर रहा हूँ. सेक्सी एचडी वीडियो नंगीआंटी मेरा लंड कुल्फी की तरह चूसते हुए, गोटियों को हाथ से सहलाते लंड को अपने मुँह में अन्दर तक लेने लगी थीं. नया सील पैक सेक्सी वीडियोथोड़ी देर आराम करने के बाद हम दोनों नहाये और ऐसे ही बिना कपड़े के पड़े रहे. मयूरी की पीठ का आकार बहुत की प्रभावशाली था और उसकी गांड तो बस… कमाल की थी.

जिस जिस्म को देखने हम पिछले एक वीक से तड़प रहे थे, बिना लाइट के उस हुस्न को कैसे देखेंगे.

वैसे भी मुझे यहां कल कोई काम धाम तो है नहीं; चलो इसी के साथ टाइम पास हो जाएगा और इसी बहाने दिल्ली के बाज़ार की सैर भी हो जायेगी. मैंने भी फटाफट अपने कपड़े उतारे और बाथरूम की तरफ उनके पीछे चल दिया. इतनी सॉफ्ट इतनी मुलायम चूत थी कि मेरा पप्पू पेंट में उछाल मारने लगा.

इसके बाद मैंने उसको नीचे उतार कर मेज पकड़कर खड़ा कर दिया और पीछे से उसकी चूत चोदने लगा और वह मस्त होकर मुझसे चुदने लगी. उसने अपनी गांड को चुदाई के लिए मस्त सैट कर दी और लंड घुसने का इंतज़ार करने लगी. मेरा सामान्य से लम्बा लंड उनकी मखमली बुर में उनके गर्भाशय की दीवारों से जा टकराया था.

मराठी सेक्सी शॉट मराठी

जैसे ही मेरी बीवी के मुख से ये शब्द सुने तो कोमल भाभी के चेहरे पे मुस्कान आ गई. फिर मैं थोड़ा रुक गया और उसका एक दूध मसलने लगा और दूसरा दूध पीने लगा. वह खतरनाक शाम, जिसे मैं भूल जाना चाहती हूँ, लेकिन भूल नहीं पाती हूँ.

इसके दो प्रमुख कारण थे- एक तो उनका साइज और आकर बहुत बड़ा था और दूसरा कि मयूरी ने सपोर्ट के लिए अंदर ब्रा भी नहीं पहनी थी.

इस पर मौसी ने मेरा हाथ मेरे लंड से हटा दिया तो मेरा लंड मेरे पजामे के अन्दर एकदम से खड़ा हो गया.

उससे मिल आओ!मैं- वहां जाऊंगा भी तो भी मौका थोड़ी ना मिलेगा?भाभी- तो अब क्या करोगे?मैं- भाभी मैंने आपको भी उंगली करते देख लिया है, आपके पास तो मेरे भैया हैं, फिर आप क्यों ऐसा करती हो?भाभी ने उदास होकर कहा- तुम्हारे भाई तो रात को आते ही थक कर सो जाते हैं और मैं भी तड़पती रह जाती हूँ. भाभी ने समय न गंवाते हुए मेरे शॉर्ट को नीचे किया और लंड मुँह में लेकर चूसने लगीं. सेक्सी वीडियो खुला लड़कीतभी मैं उठकर बाहर के कमरे में जाकर लेट गया और वहां चाय पीने लग गया.

बिस्तर पर खून देख कर तो जैसे उसकी जान ही निकल गई, पर मैंने उसको समझाते हुए शांत किया. ये महक सुपारे की थी, जोकि मेरी नाक में घुसने लगी और मैं कुछ मस्त हो गयी. ही ही ही हीमाइक- हाँ सही कहा, वरना मैं हमेशा मुनीर के साथ उसको झाड़ने के प्रयास में थक के चूर हो जाता हूं.

तो मैंने उसके होंठों पर किस करना शुरू कर दिया और हाथों से कमर को पकड़कर सहलाना शुरू कर दिया. कुछ देर मिशनरी पोज में मेरी चूत में धक्के लगाने के बाद उनका गर्म गर्म माल मेरी चुत में उतर गया.

स्नेहा की आँखें बंद थीं, होंठ खुले हुए थे और चेहरे पर संतुष्टि के भाव थे.

आप लोगों के विचारों और सुझावों का स्वागत है, कृपया अपनी प्रतिक्रिया अवश्य दें. जब मौसी ने कोई हरकत नहीं की, तो हिम्मत करके उनकी सलवार का नाड़ा खोलने लगा. उसकी आँखों में अनुनय विनय का भाव आ गया और सलवार पर उसकी पकड़ स्वयमेव ढीली पड़ गयी और उसने सलवार छोड़ कर अपने हाथ ऊपर कर दिए.

सेक्सी मूवी साउथ मैंने पूछा- इसका मतलब उसका सीना और पिछवाड़ा बिलकुल भी उठा हुआ नहीं है?वे अपने मम्मे उठाते हुए बोलीं- ये देखा जैसे मेरे बूब्स हैं, ऐसे नाप में तो उस जैसी के तीन बार समा जाएंगे. मैं बदहवाश सा उस डोर के की-होल से जितना हो सकता था, देखने की कोशिश कर रहा था.

उसके 32 इंच के बोबे, 30 इंच की बलखाती कमर और 34 इंच की उभरी हुई गांड. तब देखना सभी कैसे उछलती हैं, जैसे किसी मछली को पानी से बाहर निकाल दिया गया हो. मैंने देर ना करते हुए अपने हाथ को भाभी की चूत पर लगा दिया और हल्के से उनकी चूत को सहलाने लगा.

इंग्लिश फ्री सेक्स वीडियो

वह अपने चूतड़ उठा उठा कर मेरे लंड पर पटक रही थी और पूरा मजा ले रही थी चूत चुदाई का!उसकी चोदन क्रिया देख कर मेरे मुंह से सिसकारी फूट पड़ी, कसम से इतना मजा मुझे चुदाई में कभी नहीं आया था जितना मजा मुझे नेहा मुझे ड़े रही थी. हाँ इतना ज़रूर वादा करती हूँ कि जितने दिन मैं यहाँ हूँ, तुम ही मेरे परमानेंट एस्कॉर्ट रहोगे. दोस्तो सॉरी, कहानी बहुत लंबी हो गई है, मगर सच लिखने में ऐसा ही होता है.

मौसी के यहाँ ज्यादा बड़ा घर नहीं है, एक कमरे में सब सामान था और एक कमरा छोटा था इसलिए हाल के फर्श में ही 15-16 लोग एक साथ नीचे बिछा के लेटते थे. मयूरी- ओह… मेरी सती-सावित्री माँ… अपने दो-दो जवान बेटों का लंड अपने चूत और गांड में एक साथ ले रही हो और कहती हो कि अच्छा नहीं लगता?शीतल- अरे वो बात नहीं है पर मैं… तुम समझो ना?मयूरी- अच्छा ठीक है… मैं समझ गयी… एक तुम एक अच्छे घर की औरत हो, रंडी नहीं हो… इसलिए तुम्हें अपने पति के सामने अपने बेटों से चुदवाने में अच्छा नहीं लगता.

उस रात हमने चार बार चुदाई का मजा लिया और सुबह तक मैं नंगा ही लेटा रहा.

अब प्रिया की एक टांग को अपने हाथ से पकड़ कर ऊपर किया, जिससे प्रिया की चूत साफ दिखने लगी थी. कुछ समय में वो अपने दर्द को भूलकर चुत चुदाई का मजा बंद आँखों से लेने लगी. हमारी क्लास में एक सर पढ़ाने आते थे, जो कि मेरे उन 12 वीं क्लास वाले सर की तरह थे, जिनकी कहानी मैंने पहले भी बताई थी.

वो थोड़ी देर टॉप के ऊपर से धीरे-धीरे से मेरे बूब्स दबाता रहा, अचानक उसने मेरे पीछे जो मेरी गांड में उसका लन्ड टच हो रहा था, उसे स्कर्ट के ऊपर से ही दबाना रगड़ना शुरू कर दिया, उसकी इन हरकतों से मुझे अजीब सा लगने लगा और वही सुबह बाली फीलिंग मेरे अंदर बढ़ने लगी. ”फिर भी अगर आप बताना पसंद करें तो मैं जानना चाहूँगा?”मेरे पिता जी की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं थी … तो उन्होंने इनसे कुछ कर्जा ले लिया था. क्योंकि मैं जानता था कि ये सब वो छोड़ देने की कहकर दिखावा कर रही है.

पहली बार कोई लड़की मेरा लौड़ा चूस रही थी और उसने मुझे पूरी तरह हिला कर रख दिया था.

पंजाबी देसी बीएफ सेक्सी: मैंने ज्यादा टाइम बर्बाद ना करते हुए उसे घोड़ी बना लिया और पीछे से लंड डाल दिया, शायद वो कम चुदी थी इसीलिए मुझे अपने लंड पर चुत की कसावट महसूस हो रही थी. जब थोड़ा लिंग अन्दर घुसा, तो उसने दोनों हाथों से तारा की कमर को पकड़ कर धक्के लगाने का प्रयास किया, पर लिंग फिसल कर योनि से अलग हो गया.

मुझे लगा कि मैं कोई सपना देख रहा हूँ और किसी भी टाइम मेरी आँख खुल जाएगी. अंकल के लंड की चमड़ी सुपारे के पिछले हिस्से पर से जैसे ही पीछे को हुई कि सुपारा एक मस्त टमाटर सा दिखने लगा. शीतल अब भी बिस्तर ठीक कर रही थी, मयूरी शीतल से पीछे से चिपकते हुए उसके गर्दन वाले भाग पर प्यार भरा चुम्बन देते हुए बोली बच्चों की तरह ठुमकते हुए- माँ…शीतल- हाँ बेटा, उठ गया मेरा बच्चा?मयूरी- हाँ माँ… पर…शीतल- हाँ.

मैंने उसे पकड़ लिया और उसकी तरफ होंठ बढ़ा कर चुम्मी का इशारा किया, तो उसने अपनी बांहें फैला दीं और मैं उसके करीब होकर उसे लिप किस करने लगा.

इतनी बेबाक पत्नी को देखकर मैं अवाक् रह गया था लेकिन फिर मैंने स्थिति की नाजुकता को समझते हुए दीमा के लंड के ऊपर से अपनी भार्या के छोटे से छेद को कुरेदना शुरू कर दिया. मैं एक हाथ से उसका दूध दबा रहा था और दूसरे हाथ से पैंटी के ऊपर से ही उसकी चूत सहला रहा था. इतने में जो सबसे एजेड अंकल थे, वे आए और सीधे मेरी चूत में अपना मुँह रख दिए और बोले- इसकी तो चूत बहुत बह रही है.