बढ़िया बीएफ चुदाई

छवि स्रोत,सेक्सी पिक्चर हिंदी मधून

तस्वीर का शीर्षक ,

गांव रानी सेक्सी: बढ़िया बीएफ चुदाई, मैं आज आप सबको अपनी चुदाई की कहानी बताने जा रही हूँ कि कैसे मेरे जीजू ने मुझे चोदा.

हिंदी सेक्सी ब्लू पिक्चर चुदाई

क्योंकि मैं तुम्हारी इच्छा पूर्ण नहीं कर सकता तो फिर कोई और क्यों न करे. बिहार का सेक्सी बीएफ देहातीमेरा यह पहला मौका था सो मैं ज्यादा देर टिक नहीं पाया और आंटी के मुँह में ही अपना शरबत गिरा बैठा.

वो रो कर बोली- क्यों तड़पा रहे हो, मेरी चूत और गहरी है, पूरा घुसेड़ो ना, बुझा दे ना मेरी चूत की प्यास. एक्स एक्स एक्स फिल्म एक्स एक्समैंने उस भाभी को देखा तो आदमी ने उस भाभी को आगे अपनी गोद में बिठा लिया और उसकी चूचियां दबाने लगा.

मौसी ने तब तक मुझे पकड़ कर लंड को अपनी चुत पर आगे-पीछे करना नहीं छोड़ा, जब तक पापा के आने की आवाज़ ना आ गई.बढ़िया बीएफ चुदाई: दोगे ना!मेरा लंड 7 इंच लम्बा और 3 इंच मोटा है।मैं- हाँ स्वीटहार्ट!फिर उसने चूसना शुरू किया.

मैंने मेरा सारा सामान बाईक की डिग्गी में रख दिया और आयशा के सामान का बैग मैंने गले में टांग कर उससे बोला कि चिपक कर बैठना.इसी क्रम में उसकी नाइटी उठ गई और मेरा हाथ सीधे उसकी चूत पर चला गया.

एक्स एक्स एक्स सेक्सी फिल्म फुल एचडी - बढ़िया बीएफ चुदाई

जैसे ही मेरा कुर्ता उतरा, सब पागल की तरह देखने लगे और बहुत गंदी बात बोलने लगे.मैंने भाभी को मेरी ‘अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम’ पर 15 सितम्बर 2017 को प्रकाशित‘पड़ोसन आंटी की चूत चुदाई करके चोदना सीखा‘और 26 सितम्बर 2017 को प्रकाशित कहानी‘लेडी डॉक्टर से पहले उसकी नर्स को चोदा‘दोनों शुरुआत की कहानियों के बारे में विस्तार से मजा ले- ले कर बता दिया, जिससे भाभी पूरी तरह से चुदासी हो गई। मेरा लण्ड भी तन चुका था.

मैं अब हमेशा ही दीदी को ड्रेस बदलते देखते रहना चाहता था। वो मूतती कैसे है. बढ़िया बीएफ चुदाई लंड की मिट्टी चूचों की रगड़ से साफ़ हो चुकी थी तो मैंने तुरंत अपना लंड निकाल कर उसके मुँह में पेल दिया और वो अपने हाथ से उसे तेज हिलाने लगी.

आगे देखते हैं कि क्या मंजूर होता है, नमस्कार! फिर कभी अपनी जीवन की एक देसी सेक्स स्टोरी ले कर आऊँगा.

बढ़िया बीएफ चुदाई?

इसी क्रम में उसकी नाइटी उठ गई और मेरा हाथ सीधे उसकी चूत पर चला गया. एक दिन वंदिता ने मुझे फोन करके बताया कि उसकी मम्मी उसके मामा के घर जा रही हैं और वो 2 दिन के बाद आएंगी. पर मैं कुछ नहीं बोल सकता था क्योंकि उधर मेरी फ्रेंड भी उसके साथ थी.

सलवार कमीज़ और ऊंची हील की सैंडल में नीता का वो रूप देख कर पप्पू उसे देखता ही रह गया. जैसा कि सुबह सुबह होता ही है, मेरे लंड महाराज टनाटन तैयार खड़े थे मन तो हुआ कि नंगी बहूरानी के पैर खोल कर लंड चूत में पहना कर फिर से आँख मूंद कर पड़ा रहूँ. आप अपनी प्रतिक्रियाएं मुझे इस मेल आईडी पर अवश्य भेजें, जो मुझे नई कहानियों के लिए प्रेरित करती रहें.

दीदी ने पंडित जी को बिठाया, मैंने देखा कि पंडित के पास काफ़ी सारा सामान था. मेरा भाई और बहन जो दोनों मुझ से छोटे हैं, दोनों मेरी मम्मी के साथ मामा जी के घर चले गए. जैसे ही मैं जय के रूम में पहुँची तो मेरी आँखें खुली की खुली रह गईं.

इधर मैं अर्चना की कमसिन और स्वादिष्ट चुत चाट कर मन ही मन उसको चोदने की सोच रहा था और उधर मामी मुझे खींचकर दुबारा से अपनी चुत की आग ठंडी करने में लग गई थीं. चाचाजी ने मेरे मम्मों के निप्पलों को मुँह में लेकर चूसना काटना शुरू कर दिया.

”पापा जी मेरे बदन को आज तक सिर्फ आपके बेटे ने और आपने ही भोगा है किसी अन्य पुरुष ने कभी गलत नियत से छुआ भी नहीं है पहले.

मेरा ध्यान उसकी तरफ मुड़ गया, मुझे लगा कि वो भी अपनी सहेली की तरह मजा लेना चाहती है, उसकी आँखों में मुझे समर्पण का भाव दिखा.

अब मेरा माल निकलने वाला था कि महसूस किया कि ममता की ज्वालामुखी से लावा निकल कर मेरे जाँघों पर फैल गया. मैंने उसे कुतिया की तरह उल्टा लिटा दिया और उसकी गांड पर थूक लगा दिया. अब तो जब भी मैं और इरफान सेक्स करते, उस वक्त मैं आँखें बंद करके चाचाजी को इमेजिन करती तो ही मैं संतुष्ट हो पाती.

उन्होंने मुझे किस किया क्यूंकि उन्हें भी पता था कि मैं उनके बड़े लौड़े को बिना दर्द के नहीं ले सकती हूँ. मुझे तो जैसे जन्नत ही मिल गई थी क्योंकि नेहा दी का फिगर क्या बताऊँ… वो एकदम गोरी थी, उनका मांसल शरीर एकदम लचीला था, जब वो ठुमक कर चलती थीं, तो उनकी चुचियां और गांड ऐसे हिलते हैं कि कलेजा मुँह में आ जाता है. उसने बेल्ट छोड़ दिया, अपना एक हाथ कमर पर रखते हुए स्टाईल में और हवस के स्वर में बोला- तो ले ना जान.

अपने बारे में बताते हुए वो कहती है कि वैसे तो उसका रंग रूप साधारण ही है लेकिन उसके बदन में लड़कों को पसंद आने वाली चीजें काफी सेक्सी हैं.

कहानी का पहला भाग:मेरी जयपुर वाली मौसी की ज़बरदस्त चुदाई-1कहानी का दूसरा भाग:मेरी जयपुर वाली मौसी की ज़बरदस्त चुदाई-2अभी तक आपने पढ़ा कि मैं मौसी के घर आया हुआ था, मौसी का सेक्सी बदन देख मेरी नियत डोल गयी और किस्मत से मौसी भी मान गयी थी. लंच के बाद दोनों बैठे हुए बात कर रहे थे तो गुलशन जी ने सुमन के मम्मों को पकड़ लिया और सहलाने लगे. नीतू- अच्छा तो फिर चुदना ही पड़ेगा मगर दीदी वो बाबा का लंड कितना बड़ा है ना.

मैं बोला- ठीक है लेकिन हम लोग ऐसे ही नंगे रह कर खाना खाएंगे और तू मेरी गोद में बैठकर खाना खाएगी. इधर भाभी लंड की नोक की गर्मी से मस्त हुई और उधर मैंने एक ही बार में पूरा लंड उनकी चुत में डालने लगा. मैंने उसकी सलवार के फटे स्थान से उंगली अन्दर ले जाते हुए फांक में दो उंगलियां घुसा दीं.

मेरे सारे बदन में गुदगुदी सी होने लगी और जोश में आ कर मैं सिसकारियां भरने लगी.

ऐसा भी क्या?वो- हाँ!मैं- तो आपका बॉयफ्रेंड तो होगा ही ना?वो- नहीं रे. गुलशन जी ने लंड को बाहर निकाला और सुमन के ऊपर दोनों तरफ़ अपने पैर निकाल कर बैठ गए और लंड को चुत पे सैट करके ऊपर-नीचे रगड़ने लगे.

बढ़िया बीएफ चुदाई ड्राईवर गंगा राम बाहर खड़ा रखवाली करते हुए हम दोनों की फ्री में ब्लू फिल्म देख रहा था. चाचाजी ने किस करते हुए ही मेरी नाइटी को निकाल दिया, जो मेरे बदन पर एकमात्र कपड़ा था.

बढ़िया बीएफ चुदाई इसके बाद मैंने उसका मोबाइल नंबर लिया और हम दोनों अपने अपने रास्ते चल दिए. वैसे मेरा सीना कड़क है इसलिए तो तूने मुझे देखा ना…? रही बात मेरे बच्चों की तो पप्पू वो दोनों मेरे पति के ही बच्चे हैं.

बर्तनों के खनकने की आवाज से भाभी उठ गई और अंदर के बर्तन न देख कर समझ गई कि चंदा ने सब कुछ देख लिया है। खैर, भाभी ने मेरे ऊपर चादर डाली और बाहर गई। फिर वे चंदा से बात करके आई। औरतें आपस में खुली होती हैं.

कोलकाता की सेक्सी चुदाई

मैंने अपनी चड्डी को थोड़ा और ऊपर समेट कर लंड थोड़ा सा और बाहर निकाल लिया. उसकी झांटों के बाल अभी तक काले काले नहीं हुए थे, सुनहरे रंग के बालों से आच्छादित चूत का नजारा अत्यंत मनोरम था. भाभी की तड़फ देख कर मैं अपने मोटे लंड को भाभी की चुत पर रगड़ने लगा भाभी गांड उठा उठा कर पूरा एंजाय करने लगी.

तभी ड्राइवर बोला कि गाड़ी खराब हो गई है, दूसरी गाड़ी आएगी तभी आप आगे जा सकते हैं. मेरे अंडरवियर में मेरे खड़े हथियार को देख कर सुमन भाभी ने कहा- सैम तुम्हारा तो बहुत बड़ा है, मेरी जान निकल जाएगी. उन्हें बड़ा अफ़सोस हो रहा था उस पर की, कैसे उसने अपनी भानजी को अपनी हवस का शिकार बनाया.

उधर मनोज ने सोनिया के चूतड़ों पर एक चपत लगाई और फिर उसने सोनिया की चूत पे अपना लंड रख दिया.

बीस मिनट की लम्बी और धकापेल चुदाई के बाद अर्पिता और मैं एक साथ झड़ गए. मैंने कहा- भाभी जी की क्या लालसा है?उसने लिखा कि उसे किसी कुंवारे लड़के के साथ चुदाई करना है. उफ़फ्फ़ ये क्या यहाँ भी रात को प्रोग्राम होगा और वहां सुमन के पापा भी रात को कुछ करेंगे.

उसके बाद मैं पिचकारी की नोक को गांड के छेद पर सही तरह से टिकाने के बाद बैठने लगी, अब धीरे धीरे पिचकारी मेरी गांड को चीरती हुई समाने लगी, मुझे दर्द और गुदगुदी दोनों का अहसास होने लगा. मैंने अपनी जीभ उसकी फुद्दी में अन्दर घुसाई तो उसके मुँह से सिसकारियाँ निकलने लगीं और वो मेरे सर पकड़ कर फुद्दी पर रगड़ने लगी. मैंने भी मौके का फायदा उठाया और उनकी कमर पर हाथ फेरते हुए उनको चुप कराने लगा.

दोस्तो, यह मेरे पहली रियल सेक्स कहानी है जो मैंने आपके साथ शेयर की. मेरी गांड को उसने थूक से चिपचिपा कर दिया और अपना लंड निकाल कर बोला- इसको प्यार नहीं करोगी?मैंने झुक कर लंड मुँह में ले लिया और चूसने लगी.

वो ठहाका मारकर हंसने लगा… और बोला- तेरे यार के पास फोन की कमी है क्या… मैं तो तेरा भरोसा देख रहा था… जा तू ही रख ले… हां, लेकिन अपने चाल-चलन में सुधार कर… किसी और के हाथों में मत फंस जाइयो… सब मेरे जैसे नहीं मिलेंगे. क्या मैं ये ठीक कर रहा था?ये बात मैंने शीला से कही, तो शीला ने मुस्कुराते हुए मुझे जो जबाब दिया, उससे मेरा अपराध बोध कम हो गया. हाँ बिल्कुल नहीं थी, क्योंकि मेरी जिन्दगी की नाव में छेद करने का साहस मुझ में नहीं था.

ड्राईवर गंगा राम बाहर खड़ा रखवाली करते हुए हम दोनों की फ्री में ब्लू फिल्म देख रहा था.

वो बोलीं- बहनचोद, मेम क्यों बोलता है… अभी मैं तेरी रंडी हूँ मादरचोद… जितना गन्दा से गन्दा बोल सकता है… बोल हरामी…मेरी तो समझो निकल पड़ी थी. ”ऐसा क्यों? कल और परसों क्यों नहीं दोगी?”पापा जी, अब सुबह होने वाली है. लंड अन्दर जाते ही मैंने अपने पैरों से शिशिर की गर्दन कस ली और उसके पूरे लंड को खाने के लिए कमर को उछालने लगी.

मिन्नतें तो क्या मेरी जान… मैं तो तेरा गुलाम हूँ… चाहे तो मुझे अपनी सैंडल की नोक पे रख… और अगर मुझे अपनी सहेलियों की चूत दिलवायेगी तो तू कहेगी तो तेरे सैंडलों के तलवे तक चाटूँगा. यह सब देख के बाहर उस लड़के को भी बेचैनी और आग लग रही थी, इस का अहसास मुझे रूम तक हो रहा था.

उसके पड़ोस में जागरण था और उसको चुदास लगी थी, जो मुझको अब भी रोज चूत चोदने की लगती है. जब मैं लगातार देख रहा था तो कुछ समझ में आने लगा कि चाचा मम्मी को दीवार के सहारे खड़ा करके अपनी कमर आगे पीछे कर रहे हैं और मम्मी ‘सीइइ. फिर मैं क्यों उसे आग्रह करता कि वह अपने पति को छोड़े?मैंने एक गहरी सांस ली और फिर अपने मनपसंद काम की तरफ मुड़ गया.

पीने की सेक्सी वीडियो

अगले दिन जब सुबह सो कर उठा और छत पर गया तो देखा कि भाभी गीले कपड़े सुखा रही थीं.

फिर मैंने फिर से अपने लंड को जैसे ही उनकी गांड के छेद पर रखा, उसने डर के मारे पाद दिया. मैं उससे बोला कि बोलिए क्या लोगी?तो उसने कहा- कुछ नहीं!मैंने कहा- ये भी क्या बात हुई. मैं सेक्स स्टोरी पढ़ते हुए कामोत्तेजित हो गई और अपने एक हाथ को चुत पर ले जाकर चुत सहलाने लगी, अपने हाथ को शलवार के अन्दर डाल कर चुत सहलाते हुए दाने को मसलने लगी.

मैं उसकी गांड पर अपने लंड का अहसास कराते हुए उसकी गर्दन और कान के नीचे चूमने लगा. मैंने शीशे के सामने ही अपने दोनों हाथ उसकी चिकनी, पतली दुबली और छरहरी कमर में डाल दिए और झुककर उसके बाएं गाल पर किस कर लिया. বাসে চোদাमैंने भी साबुन उठा कर उनकी चूत पर रगड़ना शुरू किया और थोड़ी देर में ही उनकी चूत भी झाग से भर गई.

फिर मैंने अपनी पत्नी की चड्डी उसकी नंगी टांगों से पूरी निकाल कर खिड़की की तरफ ही उछाल दी. अब मैंने पूरी तरह खुद को उनके हवाले कर दिया था, वो सब मुझे चूम रहे थे, नोंच रहे थे.

वो मुझे पकड़ कर उसी कमरे मेले गया और चूमने लगा और मेरे स्तन मसलने लगा. उसका मूसल लंड बस फ्रेंची में कैद था, फ्रेंची में से खीरे जैसा मोटा ताजा लंड फूला हुआ अलग ही दिख रहा था, जो कि फ्रेंची के ऊपर की तरफ़ से थोड़ा बाहर निकल रहा था. मुझे ऐसा लग रहा था कि जैसे वो बिना मेरे सारा माल पिये नहीं रुकेंगी.

सुमन- ठीक है पापा जी, लाओ आप खड़े हो जाओ… मैं आराम से इसको चूस कर गीला करती हूँ, फिर आप भी मेरी चुत को चाट कर गीला कर देना ताकि ये मूसल आराम से अन्दर घुस जाए और मुझे तकलीफ़ ना दे. अब बस तेरी चूत में लंड डालने को दिल कर रहा है और इसको अच्छे से ठोकने का मन कर रहा है जानेमन. ”कई बार मन ही मन चाहा भी कि आप आओ और मुझ में जबरदस्ती समा जाओ; मैं ना ना करती रहूँ लेकिन आप मुझे रगड़ रगड़ के चोद डालो अपने नीचे दबा के.

उधर गोपाल भी झड़ चुका था और मोना को आज कई महीनों बाद गोपाल ने संतुष्ट किया था.

यह एक खुली चुनौती थी तो सभी लड़कों ने किलकारी मार कर हमें उठा कर उधर ही पड़े सोफे पे जा पटका और फिर शुरू हुआ हवस का नंगा नाच!हम दोनों कई मर्दों से घिरी हुई थी. क्या आप लोग मेरी इस बात से सहमत हैं?इस टॉपिक पे और भी बहुत कुछ लिखने का मन है, लेकिन में चाहता हूँ कि हर बार की तरह इस बार भी अन्तर्वासना के पाठक पाठिकाएं इस विषय पर अपने विचार और सच्चे अनुभव मुझे मेल करें.

समझ रहे हो ना आप, तो बस वैसे ही गुलशन जी की अंतरात्मा भी बाहर आकर उनसे बात कर रही है. लेकिन आप सभी से अनुरोध है कि इस कहानी के बारे में अपने बेशकीमती सुझाव जरूर मेल करें. अब हमारी ये भाई बहन सेक्स की बातें सुन कर बाहर खड़ी मीना की हालत और खराब हो गई थी.

मैंने भी जोश में आकर उनकी एक चूची को हाथ से बेदर्दी से मसलने लगा और बोला- बहन की लौड़ी मेरी रंडी… चूत की रानी… चुदक्कड़ चुदवाएगी न मुझसे… बोल कुतिया…वो बोलीं- अरे मेरे मस्त चोदू… तेरी रंडी तैयार है… घुसा लंड भोसड़ी के… मेरे लंड के राजा…मैं मेम की चूची को दांत से काटने लगा और बोला- बोल कैसे चुदेगी रंडी?वो बोलीं- कुतिया की तरह चोद मादरचोद…मैं बोला- पहले मैं तेरी चूत का रसपान करूँगा. मैंने ‘हाँ’ में सर हिलाया तो आगे कहने लगीं- प्लीज़, यह बात अपने अंकल (यानि उनके पति) को मत बताना. अब अपने को रोक पाना मुझसे मुश्किल हो गया और मैं अनाड़ी की तरह इधर उधर हाथ मारने लगा.

बढ़िया बीएफ चुदाई पहले मैं आप को अपने बारे में बता दूँ मेरी हाइट 5 फुट 8 इंच है और मेरी एथेलीट बॉडी है और दिखने में बहुत स्मार्ट हूँ. वो नशे में बोल रहा था… और उसके पीछे से और भी कई लड़कों की हंसी सुनाई दे रही थी।एक तो मैं इतनी दूर उससे मिलने के लिए आया था और वो ऐसा बिहेव कर रहा था… अपने दोस्तों के सामने ही मुझे गांडू गांडू कह कर बुला रहा था… मेरा गला रूंधने लग गया, मैंने भारी होती आवाज़ में कहा- रवि… बस एक बार मिल ले यार… मैं तुझे देख कर वापस चला जाऊंगा.

सेक्सी फिल्म देहाती हिंदी

उसने काजल की गांड को बड़े प्यार से छुआ और उसकी पैंटी को भी नीचे सरका दिया. सुमन- बस बस ज़्यादा दाँत मत निकाल… नहीं सारे तोड़ दूँगी चल अब जल्दी से लंड को घुसा भी दे… चुत में आग लगी है. तब शीतल हंस कर बोली- अभि वो तो छोटा बच्चा है, अगर तुम मुझे दोनों हाथों से उठा सकते हो तो मैं सच मानूँगी.

यह देखते ही मेरे नुन्नू… नहीं… लंड सख़्त हो गया और जोर से हिलने लगा. उधर मेरे भाई ने मम्मी का ब्लाउज फाड़ कर मम्मी की चुचियों को आजाद कर दिया. मिया खलीफा बीएफवैसे तो आपको यहाँ जो अनुभव मिलेगा वो पूरी दुनिया में कहीं नहीं मिलेगा। आप जो अनुभव अंदर लेंगी उसकी पूरी जिम्मेदारी आप की ही रहेगी। आपको ये सब बताना मेरा फर्ज था जो मैंने निभाया। अब आप तय कर लें कि आपको जाना है या नहीं।मैंने रिया की तरफ देखा, वो भी शायद सकते में थी.

उफ्फ्फ… वो अहसास उनके मस्त बड़े बड़े चूचे एकदम नर्म और मुलायम, दूध से भरे हुए.

अब मैंने चाटना बंद किया और खींच कर दीपक के लौड़े को रीना चूत के मुँह पर टिका दिया. मन तो किया कि अभी उनकी गांड में लंड डाल दूं पर अब कुछ भी करना खतरे से खाली नहीं था.

दीदी दोनों टांगों से मेरे सर को अपनी चूत के ऊपर दबाने लगीं और चिल्लाने लगीं- आह. और अब मोबाइल और नेट पे उपलब्ध विभिन्न वेबसाइट जैसे यू ट्यूब वगैरा की वजह से ये सब संभव भी होता जा रहा है अन्तर्वासना के पाठक भी ऐसी साइट देखते होंगे तो उन्होंने ऐसे फोटो और वीडियो देखे होंगे जिस में लड़किया कैमरे के आगे नग्न हो रही हों, नहा रही हों, या फिर नग्न अश्लील डांस कर रही हों. उसके बाद मैंने अपने होंठ उसके होंठ से लगा दिए और उसकी गुलाब की पंखुरियों जैसे होंठों का रस पीने लगा.

मैंने आंटी को अपनी बांहों में भरा और और अपने हाथ उनकी पीठ पर ले जाकर हुक लगा दिया.

रागिनी तन के मिलन के लिए इतना कामातुर थी कि मैं उसकी वासना को शब्दों का सही रूप नहीं दे पा रहा हूँ. रूपा की नंगी गीली चूत देख कर उस पे हाथ रख कर मसलते हुए रूपा की साड़ी कमर तक उठा दी. मैं समझ गया कि वो झड़ने वाली है, तो मैंने भी अपनी स्पीड बढ़ा दी और तेज़ी से शॉट मारने लगा.

કુવારી દુલ્હન સેક્સીथोड़ी देर बाद मॉम चिल्लाईं, मैंने पूछा- क्या हुआ?मॉम बोलीं- बेटा हिप पर दाना था, उसे तूने दबा दिया. मेरी लड़कियाँ हैं… ये सुन के तेरी आँखों में चमक क्यों आ जाती है साले पप्पू?पप्पू खड़ा हो कर नंगा हुआ और फिर रूपा को भी खड़ी करके उसका पेटीकोट और साड़ी निकाल के उसको सिर्फ़ ब्लाउज में खड़ी किया.

राजस्थान की चुदाई की सेक्सी

उस टाइम भाभी के अन्दर की रांड जाग गई थी और वो गांड उठा उठा कर चुदाई का आनन्द ले रही थी. ”मुझे तो डर के मारे ‘सूसू’ आने लगी, मैं उनके पैरों पर गिर गया और माफ़ी मांगने लगा. इस दौरान जब मैं मूतने लगा तो समीर बोला कि यह पेशाब मेरे मुंह में छोड़ो.

”पापा जी मेरे बदन को आज तक सिर्फ आपके बेटे ने और आपने ही भोगा है किसी अन्य पुरुष ने कभी गलत नियत से छुआ भी नहीं है पहले. मेरी डर से हालत ख़राब थी पर मैंने सोचा अगर आज नहीं तो फिर कभी नहीं, इसलिए मैं धीरे धीरे अपने हाथों को दी के गले तक ले गया और उनके सर को पकड़ कर उनके होंठों अपने होंठों से लगा लिया. वो उसको ध्यान से देख रहा था और बीच बीच में काजल की चूत को छेड़ रहा था.

मैंने पीछे मुड़ कर किशोर की तरफ नजर मिला कर देखा, तो उसने नजर नीची कर दी और मुँह फेर लिया. ममता जी ने दोनों हाथों से मेरी‌ कमर को पकड़ लिया और असहनीय पीड़ा से छटपटाने लगी. मेरी इस रियल सेक्स स्टोरी पर आपके विचारों भरी आपकी ईमेल का इन्तजार रहेगा.

मैं अपने हाथ उस के पीछे ले गया पर और उस के सेक्सी चूतड़ों पर फिराने लगा था. इसलिए मैं पीठ के बल सीधा लेट गया और अपने खड़े लंड पर रीना को सवार होने का संकेत दिया.

काश मैं उसको देख पाती, अपने हाथों से उसे पकड़ कर हिला पाती और आपका रस.

उधर बरखा को संजय ने गोद में उठा लिया और वहीं ज़मीन पे पड़े बिस्तर पर लेटा दिया, उसके बाद वो उसके चूचे को चूसने लगा. सेक्सी बीएफ चोदते हुए दिखाएंआंटी ने मुझे बताया- अरे डर मत… वो साली तो खुद ही अपने नौकर से चुदती है क्योंकि उसका पति हमेशा बाहर ही रहता है. सेक्सी वीडियो बीपी कामैंने उसको उस दिन बड़े स्टाइल से प्रपोज किया, आरती बिल्कुल नर्वस हो गई और वहां से चली गई. अब अंजलि नीचे से ऊपर आ गई और अंजलि मेरा लंड मुँह में लेकर चूसने लगी.

आज इतने साल बाद भी वो नजारा नहीं भूलता वो गोरा मांसल बदन, चिकनी केले के तने जैसी जाँघों में आंटी पूरी कयामत लग रही थीं.

”मैं दीदी के ऊपर लदते हुए उन्हें जोर जोर से कुतिया की तरह चोदने लगा. बोला- हाँ सन, मज़ा आ जाएगा अगर अंदर जाने का मौक़ा मिल जाए तो!मैंने कहा- तो आओ!और हम दोनों रूम में आ गये एक साथ. सुमन- नहीं दीदी, बहुत देर कर दी आपने, जो वो चाहता था वो तो हो गया है, मैं कब की रंडी बन चुकी हूँ.

दीदी मेरा लंड देखकर बोलीं- आज तो तेरा लंड और भी बड़ा और कड़क दिख रहा है. फिर मैंने उसके गले के ऊपर आ गया, वो भी बहुत गरम होने लगी थी और ‘उम्म्म… अम्म्ह उउम्म हाह…’ करने लगी. नाड़ा खुलते ही चाचाजी ने मेरी पेंटी में हाथ डाल कर मेरी गर्म चुत को थाम लिया और धीरे धीरे सहलाने लगे.

देसी मोटी आंटी की सेक्सी वीडियो

फ्लॉरा- यार मैं घर नहीं गई, वहां मॉम डैड परेशान होंगे, मैं उनको फ़ोन करके बता देती हूँ. लेकिन फिर ये भी सोचा कि अगर लड़की होता तो क्या पता इसके साथ होता या नहीं होता. मैंने राज का भी थोड़ा विरोध किया, पर मुझे भी मजा रहा था तो कुछ ही देर बाद मैं भी उसका साथ देने लगी.

चाचाजी ने मेरे होंठों को चूसते और काटते हुए चार छह धक्कों के बाद अपने गर्म लावा से मेरी चुत को भर दिया.

बहूरानी ने लंड को फिर से चूमा और फिर से इसे चूस चूस कर लाड़ प्यार करने लगी साथ में दूसरे हाथ से अपनी चूत भी सहलाती मसलती जा रही थी.

लेकिन वो तो मुझे चोदना चाहते थे इसलिए वो मेरी चूची और गांड को खूब देखते थे. प्लीज मुझे जरूर बताइएगा और अपने कमेंट्स जरूर लिखें ताकि मैं आपको अपने और गांव वालीबुआ की लड़की की चुदाईकी कहानी सुना सकूँ. बेस्ट क्सक्सक्सतभी दीदी बाथरूम में चली गईं और अंजलि मेरे पास बैठ गई और हम दोनों इधर उधर की बातें करने लगे.

वैसे तो समाज की नज़रों में इन भाई बहनों के बीच में ये बिल्कुल ही नाजायज रिश्ते स्थापित हो चुके थे, पर इन तीनों भाई बहनों के लिए ये तो एकदम पवित्र प्रेम था. मेरे बाजू में बैठते ही उसकी जांघ मेरी जांघ से लग गई, पर उसने अपनी जांघ हटाई नहीं तो मैंने भी नहीं हटाई. पर अब चाचा कहां मानने वाले थे, उन्होंने नाड़ा खोल दिया और अपना हाथ मेरी पैंटी के ऊपर ले जाकर बिल्कुल चूत में रख दिया और जोर से दबाने लगे मुंह से मेरे सिसकी निकल गई.

अन्तर्वासना की कहानियों को पढ़ने के बाद ही मैं अपनी आपबीती यादों को कहानी में पिरोकर आप लोगों के समक्ष रखने का साहस कर पा रहा हूँ. हम लोग अकसर ट्रेन बना कर स्लाइड पर सरकते हुए पानी में कूदा करते थे.

मैंने मामी की चुत से लंड निकाल कर अर्चना के मुँह में फिर से लंड का पानी झाड़ दिया.

तभी सुरैया भाभी बोली कि संदीप मेरी प्यास बुझा दो क्योंकि तुम्हारा दोस्त कुछ नहीं कर पाता है. उसने बोला- जी साहब!तभी अंकल ने बोला- बाद में तुम्हें भी कुछ ईनाम में मिल जाएगा. बहू क्यों डर रही है… चल आ मेरे पास!” दिनेश उसे बहलाने के लिए कहता।वो बाईं तरफ होती तो दिनेश दाईं तरफ से सामने आ जाता… आरुषि छत की सीढ़ियों की तरफ भागी, वो लॉबी के उत्तरी कोने से ऊपर जाती थीं… दिनेश उसके पीछे भागा… उसने अपने शिकार को पकड़ने के हाथ आगे किया.

सेक्सी होली बीएफ पूरा हुस्न देख कर पप्पू बोला- क्या हुआ नीता? तुम क्यों इतनी ज़ोर से चिल्ला कर अपनी माँ को बुला रही हो?पप्पू को अपना भीगा जिस्म देखते देख कर नीता ज़रा शरमा कर कमरे में जा कर बोली- अंकल मम्मी कहाँ है? उसको कहो ना मेरे रूम में आएं. मौसी शायद मेरे दिल की बात भांप गई थीं या मेरा खड़ा बड़ा लंड देख कर उनकी चूत में भी खलबली हो गई थी.

अब तक की इस हिंदी सेक्स स्टोरी में आपने पढ़ा था कि सुमन ने खेल खेल में अपने पापा का लंड चूस लिया था और अब वो अपने पापा जी से अपनी चुत चटवाने की फिराक में थी. थोड़ा रुक कर मैंने अपने होंठों को उसके होंठों के पास लाकर थोड़ी दूरी बनाए रखते हुए उसकी आँखों में देखते हुए कहा- आई लव यू. मैं एक हाथ नीचे लगाने जा ही रहा था कि उसने अपना स्कर्ट ऊपर को कर लिया, जिससे मेरा हाथ स्कर्ट के नीचे चला गया.

सेक्सी वीडियो दिखाइए चुदाई का

साली तूने खुद को इतना मेंटेंन कर रखा है जान, जिससे आज भी तू 30-32 साल की ही लगती है. मैं और शिशिर नीचे की बर्थ पर थे और सलमा और वह अजनबी ऊपर की बर्थ पर. लम्बा कद, रंग गोरा, मस्त चूचियाँ और सेक्सी चूतड़, जिन्हें देखते ही उसकी गांड मारने की इच्छा जागृत हो जाए.

पिछली बार प्रकाशित कहानीसोचा ना थाके बाद मुझे मिले एक नये दोस्त के साथ बिताये उन हसीन पलों को आप के साथ साझा करने के लिए मैं अपनी नई कहानी आप के लिए लेकर आया हूं. ऐसा पति किसी औरत को मिल सकता है क्या? इस एक बात के अलावा वो मेरा पूरा ख़याल रखते हैं.

उस दिन पापा घर पर ही थे, वे काम पर नहीं गए थे क्योंकि चाचा 15-20 दिनों के लिए बाहर गए थे.

इसके बाद गर्मी के मौसम के कारण मैं रोज छत पे ही सोता था और मेरा बिस्तर आंटी के बिस्तर के साथ ही बिछता था, जिससे मुझे रोज बेबी को आंटी के चूचे पकड़ के दूध पिलाने का मौका मिलने लगा. अब तो पेट निकल आने की वजह से वो फ्रॉक बहुत कसी सी हो गई थी और उनकी चूचियों के पास वाला हिस्सा भी बहुत उभरा हुआ दिख रहा था क्योंकि चूचियां भी पहले की अपेक्षा काफी बड़ी हो गई थीं, जिससे वो फ्रॉक ज़बरदस्ती उनकी चूचियों को बांधे हुए सी लग रही थी. उन्होंने मुझे किस किया क्यूंकि उन्हें भी पता था कि मैं उनके बड़े लौड़े को बिना दर्द के नहीं ले सकती हूँ.

अपनी इच्छा पूरी करने के लिए मैं कपड़े हटा कर मामी की चुत में मुँह लगा कर इस कदर से बुरी तरह चूसने चाटने लगा कि बस दो मिनट में ही मामी का लावा भलभला कर निकल गया. अरे एक ही चूत को चोदकर अगर तुम्हें कुछ अच्छा नहीं लग रहा तो मैं अपनी एक फ्रेंड को बुला लूँ?”मैं चौक गया. थोड़ी देर तक इस नज़ारे को देखने के बाद रमेश का गुस्सा हवस में बदल गया.

मैंने भी उस का टॉप और ब्रा निकाल कर उस के बड़े बड़े खड़े चुचों को आजाद कर दिया.

बढ़िया बीएफ चुदाई: उसकी जीभ लगते ही मेरे लंड को झटका सा लगा और मेरे पूरे बॉडी में करंट सा दौड़ गया. साली की गांड थी तो बहुत मस्त लेकिन अभी गांड मारनी नहीं थी, लिहाजा मैंने विनीता की गांड को चूम-चाट कर छोड़ दिया और उसे सीधे लिटा दिया.

चाचाजी ने अपने धक्के और तेज कर दिए, जिससे मैं समझ गई कि वो भी अब झड़ने वाले हैं. मैं उनको और अपने आपको संभालते हुए अपने आपसे अलग किया और धीरे से कहा- जान. हालांकि उसने कई बार ब्लू फिल्मों में इस तरह की चुदाई देखकर सोचा था कि अपने पति के साथ किसी एक का लंड अपनी गांड में भी लेकर सैंडविच बन कर चुदना चाहेगी.

सुमन- ठीक है पापा आज से आप मेरे पति भी हैं तो आपकी बात मानना ही पड़ेगा.

मैं अब भी उस नए कांटे को देख रहा था तो उसे शर्म सी आ गई, उसने अपना चेहरा पीछे कर लिया और मुस्कुरा दी. मैंने कहा कि पिछली ज़िंदगी को ‘जो बीत गया सो गया’ समझ कर उसको भूल जाओ. अब तक उसका डर सामान्य हो चुका था, वो उठा और अपने बड़े भाई से बोला- भैया?रमेश कामुक सिसकारियां भरते हुए बोला- ह.